Skip to main content

खुशियाँ ही खुशियाँ हो....जीवन में आपके यही दुआ है ओल्ड इस गोल्ड टीम की



प्रेम किशन और श्यामली की आवाज़ बन कर येसुदास और बनश्री गीत का अधिकांश हिस्सा गाते हैं जबकि हेमलता रामेश्वरी की आवाज़ बन कर अन्तिम अन्तरा गाती हैं, वह भी थोड़े उदास या डीसेन्ट अन्दाज़ में। आइए आज गायिका बनश्री सेनगुप्ता की थोड़ी बातें की जाए। आज के इस गीत के अलावा उन्होंने किसी हिन्दी फ़िल्म में गाया है या नहीं, इस बात की तो मैं पुष्टि नहीं कर पाया, पर बंगला संगीत जगत में उनका काफ़ी नाम है और बहुत से सुन्दर गीत उन्होंने गाए हैं।

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 819/2011/259

'आओ झूमे गाएं' शृंखला के कल की कड़ी में आपनें तीन गायकों की आवाज़ों का आनन्द लिया था। आज भी मामला कुछ वैसा ही है। १९७७ में एक फ़िल्म बनी थी 'दुल्हन वही जो पिया मन भाए'। इस फ़िल्म में येसुदास, हेमलता और बनश्री सेनगुप्ता की मिली-जुली आवाज़ों में एक बड़ा ही प्यारा सा गीत था "ख़ुशियाँ ही ख़ुशियाँ हो दामन में जिसके क्यों न ख़ुशी से वो दीवाना हो जाए, ऐसे मुबारक़ मौक़े पे साथी पेश दुयाओं का नज़राना हो जाए"। रवीन्द्र जैन का गीत और उन्हीं का संगीत था इस फ़िल्म में। 'राजश्री प्रोडक्शन्स' की यह फ़िल्म बेहद कामयाब रही और कई शहरों में 'शोले' को भी अच्छी-ख़ासी टक्कर दी थी। फ़िल्म के गानें भी ख़ूब चले। इस फ़िल्म का एक गीत "ले तो आए हो हमें सपनों के गाँव में" अभी हाल ही में आपनें रवीन्द्र जैन पर केन्द्रित शृंखला में सुना होगा। रामेश्वरी, जिन्होंने इस फ़िल्म से अपना फ़िल्मी करीयर शुरु किया था, उनकी भी ख़ूब चर्चा हुई। लेकिन बाद की फ़िल्मों में वो ज़्यादा नाम न कमा सकीं। 'राजश्री' की अन्य फ़िल्मों की ही तरह यह फ़िल्म भी बड़ी साधारण सी फ़िल्म थी जिसमें बातें थी भारतीय संस्कृति की और जिसमें पाश्चात्य संस्कृति को ग़लत ठहराया जाता है; जिसमें साड़ी पहनने वाली औरत को घरेलु और अच्छी औरत का दर्जा दिया जाता है जबकि पाश्चात्य पोशाक में पार्टियों में जाने वाली आधुनिक लड़कियों पर उंगलियाँ उठाई जाती हैं।

"ख़ुशियाँ ही ख़ुशियाँ हो" गीत बड़ा ही लोकप्रिय हुआ था अपने ज़माने में, जिसके फ़िल्मांकन में नायक प्रेम किशन (प्रेम नाथ के पुत्र) अपनी गर्ल फ़्रेण्ड श्यामली वर्मा के साथ डान्स करते और गाते हुए दिखाए जाते हैं जो उसके परिवार के लोग पसन्द नहीं कर रहे होते। उदाहरण स्वरूप, गीत में लीला मिश्र के चेहरे से साफ़ झलक रही है कि उन्हें उनका डान्स और तौर तरीके पसन्द नहीं आ रहे है। प्रेम किशन और श्यामली की आवाज़ बन कर येसुदास और बनश्री गीत का अधिकांश हिस्सा गाते हैं जबकि हेमलता रामेश्वरी की आवाज़ बन कर अन्तिम अन्तरा गाती हैं, वह भी थोड़े उदास या डीसेन्ट अन्दाज़ में। आइए आज गायिका बनश्री सेनगुप्ता की थोड़ी बातें की जाए। आज के इस गीत के अलावा उन्होंने किसी हिन्दी फ़िल्म में गाया है या नहीं, इस बात की तो मैं पुष्टि नहीं कर पाया, पर बंगला संगीत जगत में उनका काफ़ी नाम है और बहुत से सुन्दर गीत उन्होंने गाए हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ ऐल्बम 'गोधुलिर आलो' (शाम की किरण) को माना जाता है जिसे 'प्राइम म्युज़िक' नें जारी किया था। बनश्री सेनगुप्ता १९८६ में सोवियत संघ में इण्डियन डेलिगेट बन कर गई थीं। एक गायिका के रूप में उन्होंने इंगलैण्ड, अमेरिका और कनाडा में कई शोज़ किए। १९९८ में 'उत्तर अमरीका बंग सम्मेलन' में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुईं और कोलकाता में आयोजित 'विश्व बंग सम्मेलन' में १९९९-२००० में भी शिरकत की। बनश्री का जन्म पश्चिम बंगाल के हुगली ज़िले में एक म्युज़िशियन के परिवार में हुआ था। पिता स्व: शैलेन्द्रनाथ रॉय एक शास्त्रीय गायक व शिक्षक थे, जिन्होंने अपनी इस बेटी को संगीत सिखाया। बाद में बनश्री नें श्री राजेन बनर्जी से भी सीखा। शान्ति सेनगुप्ता से विवाह के बाद बनश्री कोलकाता चली आईं जहाँ पर उन्हें सुप्रसिद्ध संगीतकार श्री सुधिन दासगुप्ता से सीखने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। इनके अलावा संगीत की कई अलग-अलग विधाओं में उन्हें पारंगत किया सर्वश्री प्रबीर मजुमदार, नीता सेन, सगिरुद्दीन ख़ाब्न, उषा रंजन मुखर्जी, शैलेन बनर्जी, दीनेन्द्र चौधरी, संतोष सेनगुप्ता और कमल गांगुली जैसे कलाकारों नें। तो लीजिए सुनिए बनश्री के साथ साथ येसुदास और हेमलता की भी आवाज़ें इस ख़ूबसूरत से गीत में।



मित्रों, ये आपके इस प्रिय कार्यक्रम "ओल्ड इस गोल्ड" की अंतिम शृंखला है, ८०० से भी अधिक एपिसोडों तक चले इस यादगार सफर में हमें आप सबका जी भर प्यार मिला, सच कहें तो आपका ये प्यार ही हमारी प्रेरणा बना और हम इस मुश्किल काम को इस अंजाम तक पहुंचा पाये. बहुत सी ऐसी बातें हैं जिन्हें हम सदा अपनी यादों में सहेज कर रखेंगें. पहले एपिसोड्स से लेकर अब तक कई साथी हमसे जुड़े कुछ बिछड़े भी पर कारवाँ कभी नहीं रुका, पहेलियाँ भी चली और कभी ऐसा नहीं हुआ कि हमें विजेता नहीं मिला हो. इस अंतिम शृंखला में हम अपने सभी नए पुराने साथियों से ये गुजारिश करेंगें कि वो भी इस श्रृखला से जुडी अपनी कुछ यादें हम सब के साथ शेयर करें....हमें वास्तव में अच्छा लगेगा, आप सब के लिखे हुए एक एक शब्द हम संभाल संभाल कर रखेंगें, ये वादा है.

खोज व आलेख- सुजॉय चट्टर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें admin@radioplaybackindia.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें +91-9811036346 (सजीव सारथी) या +91-9878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व