Showing posts with label kishore kumar series. Show all posts
Showing posts with label kishore kumar series. Show all posts

Thursday, August 13, 2009

मुसाफिर हूँ यारों...न घर है न ठिकाना...हमें भी तो किशोर दा को गीतों को बस सुनते ही चले जाना है....

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 170

दोस्तों, पिछले ९ दिनों से लगातार किशोर दा की आवाज़ में ज़िंदगी के नौ अलग अलग रूपों से गुज़रते हुए आज हम आ पहुँचे हैं 'दस रूप ज़िंदगी के और एक आवाज़' शृंखला की अंतिम कड़ी में। जिस तरह से एक मुसाफ़िर निरंतर चलते जाता है, ठीक वैसे ही हम भी 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के सुरीले मुसाफ़िर ही तो हैं, जो हर रोज़ एक नया सुरीला मंज़िल तय करते हुए आगे बढ़ते चले जा रहे हैं। जी हाँ, आज इस शृंखला की आख़िरी कड़ी में बातें उस यायावर की जिसकी ज़िंदगी का फ़लसफ़ा किशोर दा की आवाज़ में ढ़लकर कुछ इस क़दर बयाँ हुआ कि "दिन ने हाथ थाम कर इधर बिठा लिया, रात ने इशारे से उधर बुला लिया, सुबह से शाम से मेरा दोस्ताना, मुसाफ़िर हूँ यारों न घर है न ठिकाना, मुझे चलते जाना है, बस चलते जाना"। यह फ़िल्म 'परिचय' का गीत है। फ़िल्म १८ अक्टुबर सन् १९७२ में प्रदर्शित हुई थी जिसे लिखा व निर्देशित किया था गुलज़ार साहब ने। फ़िल्म की कहानी आधारित थी अंग्रेज़ी फ़िल्म 'द साउंड औफ़ म्युज़िक' पर, जिसका गुलज़ार साहब ने बहुत ही उन्दा भारतीयकरण किया था। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे जीतेंद्र, जया बच्चन और संजीव कुमार। इस फ़िल्म के गीतों के लिए लता मंगेशकर को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। गुलज़ार साहब और राहुल देव बर्मन की उन दिनों नयी नयी जोड़ी बनी थी, और इसके बाद तो इस जोड़ी ने एक से एक कामयाब म्युज़िकल फ़िल्में हमें दी।

किशोर कुमार के गाये फ़िल्म 'परिचय' के प्रस्तुत गीत को राहुल देव बर्मन ने अपने विशेष जयमाला कार्यक्रम में बजाया था यह कहते हुए - "दोस्तों, अब मैं अपने एक प्रिय दोस्त के लिए कुछ कहूँगा। गुलज़ार। वो मेरे घर गाना लिखने आता है, 'डिरेक्शन' भी देता है, उसके साथ मेरा बहुत जमता है। लेकिन जब वो गाना लिखने बैठता है तो हमारी दुश्मनी शुरु हो जाती है क्योंकि उसके गीत को समझने के लिए मुझे एक या डेढ़ घंटे लगते हैं और मैं जब उसके धुन बनाता हूँ तो उसे समझने में उन्हे दो दिन लग जाते हैं। २/३ दिन के बाद जब दोनों को एक दूसरे का काम समझ में आ जाता है तो दुश्मनी ख़तम होती है। बहुत दिन पहले फ़िल्म 'परिचय' के समय एक दिन मैं किसी कारण से बहुत दुखी था। गुलज़ार आये और कहा कि 'अगर 'मूड' हो तो यह गाना बना देना'। गाना पढ़ते ही एक मिनट के अंदर मैने धुन बना दिया क्योंकि मैं दुखी था और गाने का 'मूड' भी कुछ ऐसा ही था। दो दिन के अंदर गाना रिकार्ड भी कर लिया।" दोस्तों, हर इंसान यहाँ एक मुसाफ़िर है, जो अपना सफ़र तय कर के एक दिन हमेशा के लिए यहाँ से चला जाता है। ठीक वैसे ही जैसे किशोर दा हम से जुदा हो गये थे। आज किशोर दा के गाये तमाम गानें हर रोज़ हमें उनकी याद दिलाते हैं। उनके गाये तमाम गानें सहारे हैं हम सब के, जो हमारे साथ में हर वक़्त चलते हैं, चाहे ख़ुशी हो या ग़म, चाहे जुदाई हो या मिलन। 'दस रूप ज़िंदगी के और एक आवाज़', इस लघु शृंखला के ज़रिये हम ने श्रद्धांजली अर्पित की इस अनूठे हरफ़नमौला फ़नकार को, कला के इस अद्वितीय पुजारी को!



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. जन्माष्ठमी पर एक विशेष गीत है ये.
2. आवाज़ है किशोर कुमार की.
3. मुखड़े में शब्द है -"जनम".

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी मुबारक बाद...४ अंक हो गए आपके और आप भी अब मनु जी के बराबर आ गए...हमें लगता है कि अपने तीसरे विजेता के लिए हमें लम्बा इंतज़ार करना पड़ेगा. रोहित जी जोर आजमाइश जारी रखिये....

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Wednesday, August 12, 2009

रूप तेरा मस्ताना...प्यार मेरा दीवाना...रोमांस का समां बाँधती किशोर की आवाज़

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 169

हाल ही में एक गीत आया था "कभी मेरे साथ कोई रात गुज़ार तुझे सुबह तक मैं करूँ प्यार", जिसमें सेन्सुयसनेस कम और अश्लीलता ज़्यादा थी। अगर हम आज से ४० साल पीछे की तरफ़ चलें, तो फ़िल्म 'आराधना' में आनंद बक्शी साहब ने एक गीत लिखा था "रूप तेरा मस्ताना प्यार मेरा दीवाना, भूल कोई हम से न हो जाए"। यह गीत भी मादक और कामोत्तेजक था लेकिन अश्लील कदापि नहीं। दोस्तों, हमने इन दोनों गीतों का एक साथ ज़िक्र यह कहने के लिए किया कि उस पुराने दौर में भी इस तरह के सिचुयशन बनते थे, लेकिन उस दौर के फ़िल्मकार, गीतकार व संगीतकार इन पर ऐसे गानें बनाते थे जो स्थान काल व पात्रों का भी न्याय करे और साथ ही साथ इस बात का भी ध्यान रखें कि उसका फ़िल्मांकन रुचिकर हो, न कि अश्लील। आज 'दस रूप ज़िंदगी के और एक आवाज़' के अंतर्गत सुनिए किशोर दा की आवाज़ में इसी मादक नशीले गीत को, जिसे सुनकर दिल में हलचल सी होने लगती है। गीत के बोल और संगीत मादक और उत्तेजक तो हैं ही, किशोर दा ने भी उसी अंदाज़ में इसे गाया जिस अंदाज़ की इस गीत को ज़रूरत थी।

फ़िल्म 'आराधना' के बारे में विस्तृत जानकारी हम ने आप को शक्ति सामंत पर केन्द्रित शृंखला में दी थी, आप उस पूरे शृंखला को यहाँ क्लिक कर के पढ़ सकते हैं। प्रस्तुत गीत उस ज़माने के लिहाज़ से काफ़ी 'बोल्ड' गीत था। सचिनदा ने इस गीत के लिए पहले जो धुन बनाई थी, उसमें किशोर कुमार को कुछ कमी सी लग रही थी, यानी कि जिस नशीले अंदाज़ की ज़रूरत थी वह नहीं आ पा रही थी। तब किशोरदा ने ही इसकी धुन को थोड़ा सा 'मॊर्डन' बना दिया जो बर्मन दादा को भी पसंद आया। अब बारी थी इस गाने के फ़िल्मांकन की। शक्तिदा साधारणतः अपने फ़िल्मों के रिकार्ड किए हुए गाने रात के वक़्त सुना करते थे और उनके फ़िल्मांकन के बारे में योजनाएँ बनाया करते थे। इस गीत के लिए उनके दिमाग़ में एक ख़याल आया कि क्यों ना इस गीत को एक ही 'शॉट' में फ़िल्माया जाए! उन्होने एक काग़ज़ का पन्ना लिया और उस पर तीन अक्षर लिखे - ए, बी, सी। 'ए' नायक के लिए, 'बी' नायिका के लिए, और 'सी' कैमरे के लिए। और इस तरह से वो अपने मन ही मन में गाने का पूरा फ़िल्मांकन क़ैद कर लिया। उन्होने एक गोलाकार 'ट्राली' का इंतज़ाम किया और फ़िल्मालय स्टुडियो में इस गीत को फ़िल्मा लिया गया। शुरु शुरु में कई लोगों ने उनके इस एक शॉट वाले विचार का विरोध किया था। किसी ने यहाँ तक कहा भी था कि "इसका दिमाग़ ख़राब हो गया है जो इतना अच्छा गाना एक ही शॉट में ले रहा है"। उस समय सभी के सवालों का शक्तिदा ने एक ही जवाब दिया था कि "जब रात को गाना सुन रहा था तो समझ ही नहीं आया कि कहाँ 'कट' करूँ"। और इस तरह से यह गीत हिंदी फ़िल्म जगत का पहला गाना बन गया जिसे केवल एक ही शॉट में फ़िल्माया गया था। तो चलिए हम भी इस गीत की मादकता और नशीलेपन का आनंद उठाते हैं।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. बेफिक्री के आलम में खुले आसमान में गूंजती किशोर की आवाज़.
2. कल के गीत का थीम है - "यायावरी, सफ़र, आदि".
3. एक अंतरा शुरू होता है इस शब्द से -"दिन".

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह वाह रोहित जी आप के हुए ८ अंक, मात्र एक जवाब पीछे हैं आप दिशा जी के स्कोर से. वाकई मुकाबला दिलचस्प है. सुमित जी, मंजू जी, और मनु जी ने सहमती की मोहर लगा दी है. शरद जी और स्वप्न जी आप बाकी सब से मीलों आगे हैं इसमें कोई शक है क्या :)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Tuesday, August 11, 2009

हम मतवाले नौजवान मंजिलों के उजाले...युवा दिलों की धड़कन बनी किशोर कुमार की आवाज़

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 168

न्म से लेकर मृत्यु तक आदमी की ज़िंदगी उसे कई पड़ावों से पार करवाता हुआ अंजाम की ओर ले जाती है। इन पड़ावों में एक बड़ा ही सुहाना, बड़ा ही आशिक़ाना, और बड़ा ही मस्ती भरा पड़ाव होता है, जिसे हम जवानी कहते हैं। ज़िंदगी में कुछ बड़ा बनने का ख़्वाब, दुनिया को कुछ कर दिखाने का इरादा, अपने परिवार के लिए बेहतर से बेहतर ज़िंदगी की चाहत हर जवाँ दिल की धड़कनों में बसी होती है। साथ ही होता है हला-गुल्ला, ढ़ेर सारी मस्ती, और बिन पीये ही चढ़ता हुआ नशा। नशा आशिक़ी का, प्यार मोहब्बत का। जी हाँ, जवानी के जस्बों की दास्तान आज सुनिए किशोर दा की सदा-जवाँ आवाज़ में। यह है फ़िल्म 'शरारत' का गीत "हम मतवाले नौजवाँ मंज़िलों के उजाले, लोग करे बदनामी कैसे ये दुनियावाले". सन् १९५९ में बनी फ़िल्म 'शरारत' के निर्देशक थे हरनाम सिंह रावल और मुख्य कलाकार थे किशोर कुमार, मीना कुमारी, राजकुमार और कुमकुम। आप को याद होगा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में इससे पहले हमने आप को किशोर कुमार और मीना कुमारी पर फ़िल्माया हुआ फ़िल्म 'नया अंदाज़' का "मेरी नींदों में तुम" सुनवाया था। इस फ़िल्म 'शरारत' में भी एक और बड़ा ही ख़ूबसूरत युगल गीत है इस जोड़ी पर फ़िल्माया हुआ, जिसे किशोर दा और गीता दत्त ने गाये हैं और गीत है "तूने मेरा दिल लिया, तेरी बातों ने जादू किया"। इस गीत को हम फिर कभी आपको सुनवायेंगे।

'शरारत' में शंकर जयकिशन का संगीत था। आम तौर पर शंकर जयकिशन ने मुकेश और मोहम्मद रफ़ी से ही ज़्यादा गानें गवाये, लेकिन उन फ़िल्मों में जिनमें किशोर कुमार ख़ुद नायक थे, उनमें किशोर कुमार से गानें गवाना ज़रूरी था। ऐसी ही एक फ़िल्म थी 'करोड़पति' जिसमें किशोर कुमार और शशीकला थे। यह फ़िल्म शशीकला की होम प्रोडक्शन फ़िल्म थी और इस वजह से उन्हे किशोर दा के साथ काफ़ी समय बिताने का मौका भी मिला। किशोर की यादों के उजालों को कुछ इस तरह से शशीकला जी ने विविध भारती पर बिखेरा था - "'करोड़पति' हमारे घर की फ़िल्म थी। उसमें मैं थी, और हमारे किशोर कुमार थे। 'म्युज़िक' था शंकर जयकिशन का। लेकिन फ़िल्म बिल्कुल नहीं चली। गानें भी नहीं चले। शंकर जयकिशन म्युज़िक डिरेक्टर थे, फिर भी नहीं चले। हम कहते थे कि 'करोड़पति' बनाते बनाते हम कंगालपति बन गये। उन दिनों में, मेरा ख़याल है सिर्फ़ ३ या ४ आर्टिस्ट्स टॊप में थे - दिलीप कुमार, राज कपूर, देव आनंद और किशोर कुमार। उनको मिलना मुश्किल था। किशोर दा 'टाइम' देते थे, मिलते नही थे। 'टाइम' देते थे, कभी नहीं आते थे। आप को मैं उनका आख़िरी क़िस्सा सुनाती हूँ। फ़िल्म तो बन गयी, फ्लॉप भी हो गयी, चली भी नहीं, ये सब हुआ, एक दिन मुझे फ़ोन आता है उनका कि 'शशी, तुम मुझे मिलने आओ'। तो मैं गयी अपने 'फ़्रेन्ड' के साथ मिलने के लिए। तो बात कर रहे हैं, 'मुझे 'हर्ट अटैक' हो गया, ऐसा हुआ, वैसा हुआ'। और 'सडेन्ली' मुझे आवाज़ आती है 'टाइम अप, टाइम अप, टाइम अप '। मैं तो घबरा गयी, मैने कहा 'अरे ये कहाँ से आवाज़ आ रही है?' हँसने लगे 'हा हा हा हा हा... पता है मैं 'हर्ट' का 'पेशंट' हूँ ना, इसलिए यहाँ पे एक 'रिकॉर्डिंग' करके रखी है, ५ मिनट से ज़्यादा किसी से बात नहीं करनी है'। मैने कहा 'किशोर दा, आप ने मुझे डरा ही दिया बिल्कुल!' और बहुत 'ईमोशनल' थे मेरा ख़याल है, 'very emotional person'। उनके तो कितने क़िस्से हैं, जितना सुनायें कम है, पर बहुत ही अच्छे, बहुत ही कमाल के 'आर्टिस्ट', 'जीनियस' भी कहना चाहिए, देखिए गाने भी उन्होने कितने अच्छे लिखे, 'म्युज़िक' भी कितना अच्छा दिया, 'सिंगिंग' तो अच्छा करते ही थे।" दोस्तों, हमने आज के गीत को थोड़ी देर के लिए अलग रख कर आप को शशीकला जी के एक साक्षात्कार के एक अंश से अवगत करवाया जिसमें उन्होने किशोर दा के बारे में बातें कहीं थीं। आशा है आप को अच्छा लगा होगा। तो अब वापस आ जाते हैं आज के गीत पर, और सुनते हैं जवानी के क़िस्से, हसरत जयपुरी के शब्दों में, जो शंकर जयकिशन के संगीत में रच कर किशोर दा की आवाज़ में ढल कर आप तक पहुँच रहा है।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. किशोर दा का गाया एक बेहद "सेन्शुअस" गीत.
2. कल के गीत का थीम है - "रोमांस".
3. एक अंतरा शुरू होता है इस शब्द से -"रात".

पिछली पहेली का परिणाम -
रोहित जी बधाई ६ अंक हुए आपके अब आप तीसरे स्थान पर हैं. पराग जी (१२), दिशा जी (१०), मनु जी हैं ठीक आपके पीछे ४ अंकों के साथ. लगता है मुकाबला दिलचस्प होने वाला है.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Monday, August 10, 2009

बड़ी मुश्किल से मगर दुनिया में दोस्त मिलते है...कितना सही कहा था शायर ने किशोर में स्वरों में बसकर

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 167

"फूलों से ख़ूबसूरत कोई नहीं, सागर से गहरा कोई नहीं, अब आप की क्या तारीफ़ करूँ, दोस्ती में आप जैसा प्यारा कोई नहीं"। जी हाँ, आज 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में दोस्त और दोस्ती की बातें। एक अच्छा दोस्त जहाँ एक ओर आप की ज़िंदगी को सफलता में बदल सकता है, वहीं बुरी संगती आदमी को बरबादी की तरफ़ धकेल देती है। इसलिए हर आदमी को अपने दोस्त बहुत सावधानी से चुनने चाहिए। वो बड़े क़िस्मत वाले होते हैं जिन्हे ज़िंदगी में सच्चे दोस्त नसीब होते हैं। कुछ इसी तरह का फ़लसफ़ा आज किशोर दा हमें सुना रहे हैं 'दस रूप ज़िंदगी के और एक आवाज़' के अंतर्गत। "दीये जलते हैं, फूल खिलते हैं, बड़ी मुश्किल से मगर दुनिया में दोस्त मिलते हैं". यूँ तो दोस्ती पर किशोर दा ने कई हिट गीत गाये हैं जैसे कि फ़िल्म 'शोले' में "ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे", फ़िल्म 'दोस्ताना' में "बने चाहे दुश्मन ज़माना हमारा, सलामत रहे दोस्ताना हमारा", फ़िल्म 'याराना' मे "तेरे जैसा यार कहाँ", आदि। लेकिन इन सभी गीतों को पीछे छोड़ देता है फ़िल्म 'नमक हराम' का प्रस्तुत गीत। बड़े ही ख़ुबसूरत बोलों में पिरो कर गीतकार आनंद बक्शी साहब ने ख़ूब लिखा है कि "दौलत और जवानी एक दिन खो जाती है, सच कहता हूँ सारी दुनिया दुश्मन हो जाती है, उम्र भर दोस्त लेकिन साथ चलते हैं, दीये जलते हैं..."। बक्शी साहब इस गीत के ज़रिये दुनिया को यह बता गये हैं कि एक आम आदमी की बोलचाल जैसी भाषा में भी बेहतरीन गीत लिखे जा सकते हैं। राहुल देव बर्मन के संगीत की तारीफ़ भी शब्दों में संभव नहीं।

'नमक हराम' सन् १९७३ की हृषिकेश मुखर्जी की फ़िल्म थी। उपलब्ध जानकारी के अनुसार फ़िल्म रिलीज़ हुई थी १९ नवंबर को। फ़िल्म 'आनंद' के बाद राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन फिर एक बार साथ साथ आये इस फ़िल्म में, और फिर एक बार वही कामयाबी की कहानी का दोहराव हुआ। बीरेश चटर्जी की कहानी कुछ इस तरह से थी कि सोमू (राजेश खन्ना) एक ग़रीब घर का लड़का है, और विक्की (अमिताभ बच्चन) एक उद्योगपति का बेटा। दोनों में दोस्ती होती है। विक्की के पिता के अस्वस्थ होने की वजह से विक्की को कारखाने का ज़िम्मा अपने उपर लेना पड़ता है, लेकिन युनियन लीडर से भिड़ जाने की वजह से कारखाने में हड़ताल हो जाती है। पिता के अनुरोध पर विक्की माफ़ी तो माँग लेता है, लेकिन बदले की आग में झुलसने लगता है। सोमू के साथ मिलकर वो युनियन लीडर को सबक सीखाने की ठान लेता है। सोमू कारखाने में नौकरी कर लेता है और जल्द ही मज़दूरों को प्रभावित कर ख़ुद युनियन लीडर बन जाता है। विक्की के पिता को विक्की और सोमू की दोस्ती ख़ास पसंद नहीं आती क्योंकि उन्हे लगता है कि सोमू अपने मध्यम वर्गीय विचारों से विक्की को प्रभावित कर रहा है। आख़िर में दोस्ती की जीत होती है या पिता के उसूलों की, यह तो आप ख़ुद ही इस फ़िल्म में कभी देख लीजिएगा। बहरहाल, आप को यह बता दें कि प्रस्तुत गीत के अलावा भी इस फ़िल्म में किशोर कुमार ने कम से कम दो और ऐसे गीत गाये हैं जिन्हे उनके सदाबहार गीतों की फ़ेहरिस्त में शामिल किया जाता है। ये गानें हैं "मैं शायर बदनाम" और "नदिया से दरिया, दरिया से सागर"। ये सभी गीत राजेश खन्ना ने परदे पर गाये थे। फ़िल्म की नायिकायें थीं रेखा और सिमी गरेवाल। फ़िल्म दो-नायक प्रधान फ़िल्म होने की वजह से नायिकाओं को ज़्यादा स्पेस नहीं मिल पाया और शायद इसीलिए इस फ़िल्म में किसी गायिका का गाया कोई गीत ज़्यादा चर्चित नहीं हुआ। तो दोस्तों, सुनिए आज का यह गीत और याद कीजिए अपने सच्चे दोस्तों और अपनी दोस्ती को। लेकिन 'ओल्ड इज़ गोल्ड' को भी अपने दोस्तों की लिस्ट में शामिल करना ना भूलिएगा!



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. एक जोशीला गीत किशोर का.
2. कल के गीत का थीम है - "जवानी, यूथ".
3. मुखड़े में शब्द है -"बदनामी".

पिछली पहेली का परिणाम -
हा हा हा...भाई कल की पहेली में हमें खूब मज़ा आया....सभी धुरंधर जहाँ चूक गए वहां मनु जी ने संशय से भरा ही सही, मगर एकदम सही जवाब देकर बाज़ी मारी. देखा मनु जी, अपने पर विश्वास रखिये आप कमाल कर सकते हैं. ४ अंक हुए आपके. सभी श्रोताओं ने जिन्होंने कोशिश की उनकी हम दाद देते हैं.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Saturday, August 8, 2009

समाँ है सुहाना सुहाना नशे में जहाँ है....जहाँ किशोर की आवाज़ गूंजे वहां ऐसा क्यों न हो

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 165

पिछ्ले तीन दिनों से आप किशोर दा की आवाज़ में सुन रहे हैं जीवन के कुछ ज़रूरी और थोड़े संजीदे किस्म के विषयों पर आधारित गानें। आज माहौल को थोड़ा सा हल्का बनाते हैं और आज चुनते हैं ज़िंदगी का एक ऐसा रूप जिसमें है मस्ती, रोमांस और नशा। ऐसे गीतों में भी किशोर दा की आवाज़ ने वो अदाकारी दिखायी है कि ये गानें हर प्रेमी के दिल की आवाज़ बन कर रह गये हैं। आनंद बक्शी का लिखा और कल्याणजी-आनंदजी का स्वरबद्ध किया एक ऐसा ही गीत आज पेश है फ़िल्म 'घर घर की कहानी' से। जी हाँ, "समा है सुहाना, नशे में जहाँ है, किसी को किसी की ख़बर ही कहाँ है, हर दिल में देखो मोहब्बत जवाँ है"। कभी जवाँ दिलों की धड़कन बन कर गूँजा करता था यह नग़मा। इसमें कोई शक़ नहीं कि यह गीत समा को सुहाना बना देता है, इसकी मंद मंद रीदम से मन नशे में डूबता सा चला जाता है, और हर दिल में मोहब्बत की लौ जगा देती है। १९७० की फ़िल्म 'घर घर की कहानी' के मुख्य कलाकार थे राकेश रोशन और भारती। यह एक लो बजट फ़िल्म थी जिसकी बाकी सभी चीज़ों को लोग क्रमश: भूलने लगे हैं सिवाय एक चीज़ के, और वह है फ़िल्म का प्रस्तुत गीत। यह दक्षिण के फ़िल्मकारों की फ़िल्म थी, निर्माता थे नागा रेड्डी और निर्देशक थे टी. प्रकाश राव। यूं तो, जैसा कि हमने कहा कि फ़िल्म के नायक थे राकेश रोशन, लेकिन प्रस्तुत गीत फ़िल्माया गया है जलाल आग़ा पर। यह एक पिकनिक में गाया गया गीत है, जिस पर कालेज के छात्र छात्राओं को नृत्य करते हुए दिखाया गया है।

आज कल्याणजी-आनंदजी और किशोर कुमार की एक साथ बात चली है तो यहाँ पर मैं आप को विविध भारती के 'उजाले उनकी यादों के' कार्यक्रम से आनंदजी की यादों के कुछ उजाले पेश कर रहा हूँ, जिनमें उन्होने किशोर दा के बारे में कई बातें कहे थे-

प्र: अच्छा आनंदजी, किशोर कुमार ने कोई विधिवत तालीम नहीं ली थी, इसके बावजूद भी कुछ लोग जन्मगत प्रतिभाशाली होते हैं, जैसे उपरवाले ने उनको सब कुछ ऐसे ही दे दिया है। उनकी गायकी की कौन सी बात आप को सब से ज़्यादा अपील करती थी?

देखिये, मैने बतौर संगीतकार कुछ ४०-५० साल काम किया है, लेकिन इतना कह सकता हूँ कि 'it should be a matured voice', और यह कुद्रतन होता है। और यहाँ पर क्या है कि कितना भी अच्छा गाते हों आप, लेकिन 'voice quality' अगर माइक पे अच्छी नहीं है तो क्या फ़ायदा! फ़िल्मी गीतों में ज़्यादा मुड़कियाँ लेने की ज़रूरत नहीं पड़ती। हमारे यहाँ कुछ गायक हैं जो समझते हैं कि दो मुड़कियाँ ले लूँ तो मेरा गाना चलेगा, लेकिन फिर क्या होता है कि फिर हर वक़्त वो वैसा ही लगते हैं। सिर्फ़ गाना ही होगा, 'एक्टिंग' नहीं। लेकिन एक भोला भाला सीधा सादा आदमी खड़े खड़े ही गाना गा रहा है तो उसी तरह का गाना होना चाहिए। आप को मुड़कियाँ लेने की ज़रूरत नहीं है।

प्र: किशोर कुमार एक हरफ़नमौला, हर फ़न में माहिर एक कलाकार। एक खिलंदरपन था उनमें और बचपना भी। लेकिन जब वो सीरियस गाना गाते थे तो रुला देते थे। और जब वो हास्य का गाना गाते थे तो हँसी के फ़व्वारे छूटने लगते थे।

नहीं नहीं, जैसे आप स्विच बदलते हैं, वो वैसी ही थे। किसी को सीखाने से ये सब आयेगी नहीं। ये अंदर से ही आता है। उनकी 'voice quality' बहुत अच्छी थी। 'ultimate judgement' तो आप को ही लेना है, कि 'मैं सुर में गाऊँ कि नहीं', ये मुझे ही मालूम है। ये जो मैने 'सरगम' की कैसेट निकाली है उसमें यही कहा गया है कि आप अपने बच्चों में अभी से आदत डालेंगे।

प्र: आनंदजी, किशोर दा को जो समय आप देते थे उसमें वो आ जाते थे?

हम लोग उनको दोपहर का 'टाइम' ही देते थे। वो कहते थे कि 'आप के गाने में मुझे कोई प्रौब्लेम नहीं होती'. "ख‍इके पान बनारस वाला" वो दोपहर को गा कर चले गये थे, हम को याद ही नहीं था, क्योंकि पिक्चर के चार गानें बन गये थे, 'रिकार्ड' भी बन कर आ गयी थी, बाद में यह गाना डाला गया 'सिचुयशन' बनाकर।


तो दोस्तों, ये थी कुछ बातें आनंदजी के शब्दों में किशोर दा के बारे में। आगे चलकर समय समय पर इस साक्षात्कार से कई और अंश हम आप तक ज़रूर पहुँचायेंगे। तो आइए अब समा को ज़रा सुहाना बनाया जाये किशोर दा के गाये आज के प्रस्तुत गीत को सुनकर।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. कल सुनेगें दर्द में डूबी किशोर दा की सदा.
2. कल के गीत का थीम है - "दर्द, पीडा, उपेक्षा आदि".
3. एक अंतरा शुरू होता है इन शब्दों से -"तुझे क्या..".

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी बनी है एक और नयी प्रतिभागी....बधाई २ अंकों के लिए. रोहित जी ज़रा से पीछे रह गए. दिशा जी और प्राग जी दोनों नादारादा रहे कल. लगता नहीं कि २०० अंक पूरे होने से पहले हमें तीसरे विजेता मिल पायेंगें :(

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Friday, August 7, 2009

रुक जाना नहीं तू कहीं हार के...चिर प्रेरणा का स्त्रोत रहा है, दादा का गाया ये नायाब गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 164

ल हमने बात की थी सपनों की। दोस्तों, सपने तभी सच होते हैं जब उनको सच करने के लिए हम निरंतर प्रयास भी करें। लेकिन सफलता हमेशा हाथ लगे ऐसा जरूरी नहीं है. कई पहाड़ों, जंगलों, खाइयों से गुज़रने के बाद ही नदी का मिलन सागर से होता है। कहने का आशय यह है कि एक बार की असफलता से इंसान को घबरा कर अपनी कोशिशें बंद नहीं कर देनी चाहिए। काँटों पर चलकर ही बहारों के साये नसीब होते हैं। जी हाँ, 'दस रूप ज़िंदगी के और एक आवाज़' के अंतर्गत आज हमारा विषय है 'प्रेरणा', जो दे रहे हैं किशोर कुमार किसी राह चलते राही को। यह राही ज़िंदगी का राही है, यानी कि हर एक आम आदमी, जो ज़िंदगी की राह पर निरंतर चलता चला जाता है। किशोर कुमार ने बहुत सारे इस तरह के राही और सफ़र से संबंधित जीवन दर्शन के गीत गाये हैं, उदाहरण के तौर पर फ़िल्म 'तपस्या' का गीत "जो राह चुनी तूने उसी राह पे राही चलते जाना रे", फ़िल्म 'नमकीन' का गीत "राह पे रहते हैं, यादों पे बसर करते हैं, ख़ुश रहो अहल-ए-वतन, हो हम तो सफ़र करते हैं", फ़िल्म 'आप की कसम' का गीत "ज़िंदगी के सफ़र में गुज़र जाते हैं जो मकाम, वो फिर नहीं आते", फ़िल्म 'सफ़र' का गीत "ज़िंदगी का सफ़र है ये कैसा सफ़र कोई समझा नहीं, कोई जाना नहीं", फ़िल्म 'काला पत्थर' का गीत "एक रास्ता है ज़िंदगी जो थम गये तो कुछ नहीं", फ़िल्म ख़ुद्दार' का गीत "ऊँचे नीचे रास्ते और मंज़िल तेरी दूर, राह में राही रुक न जाना होकर के मजबूर", फ़िल्म 'दोस्त' का गीत "गाड़ी बुला रही है सीटी बजा रही है, चलना ही ज़िंदगी है, चलती ही जा रही है", इत्यादि। लेकिन किशोर दा के गाये इन तमाम गीतों में हम ने जिस गीत को आज चुना है वह है फ़िल्म 'इम्तिहान' का - "रुक जाना नहीं तू कहीं हार के, काँटों पे चल के मिलेंगे साये बहार के"। मजरूह सुल्तानपुरी के दार्शनिक बोलों को संगीत से सँवारा है संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने।

'इम्तिहान' सन् १९७४ की फ़िल्म थी। बी. ए. चंडीरमणी के इस फ़िल्म को मदन सिन्हा ने निर्देशित किया था तथा इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे विनोद खन्ना और तनुजा। प्रस्तुत गीत फ़िल्म का सब से महत्वपूर्ण गीत है जो फ़िल्म में टुकड़ों में कई बार सुनाई देता है। ग्रामोफोन रिकार्ड पर इस गीत की कुल अवधि है लगभग ७ मिनट। किसी किसी रिकार्ड और कैसेट्स पर केवल ३ मिनट में ही गीत को समाप्त कर दिया गया है। लेकिन हम आप के लाये हैं पूरे ७ मिनट वाला वर्ज़न। इन दोनों वर्ज़नों का अंतर आप को बताना चाहेंगे। ३ मिनट वाला वर्ज़न शुरु होता है सैक्सोफ़ोन के पीस से, उसके बाद कोरल हमिंग से शुरु होता है गीत और केवल एक ही अंतरे के साथ गीत समाप्त हो जाता है। जब कि ७ मिनट वाले वर्ज़न में कुल तीन अंतरे हैं। तीसरा अंतरा लोगों ने बहुत कम ही सुना है, इसलिए इस अंतरे के बोल हम यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं-

"नैन आँसू जो लिए हैं, ये राहों के दीये हैं,
लोगों को उनका सब कुछ देके,
तू तो चला था सपने ही लेके,
कोई नहीं तो तेरे अपने हैं सपने ये प्यार के,
ओ राही ओ राही ओ राही ओ राही"

गीटार का बड़ा ही सुंदर इस्तेमाल पूरे गीत में सुनने को मिलता है। दोस्तों, यह एक संजीदा गीत है, लेकिन इस संजीदे गीत को सुनने से पहले हम आप के दिल में थोड़ी सी गुदगुदी डालना चाहते हैं, तो क्यों न प्यारेलाल जी की कुछ बातें हो जाये अपने किशोर दा के बारे में - "किशोर दा बहुत ही मस्त आदमी थे। हम लोग उनके घर जाते थे, उनका 'फ़र्स्ट क्लास' बंगला था। बहुत बड़ा सा हौल था जहाँ पे हम बैठते थे। बहुत अच्छे ढंग से सजाया हुआ था। बस बीच में एक पीलर था जिस पर केवल सीमेंट लगा हुआ था। हम में से किसी को समझ नहीं आता था कि ऐसा क्यों है कि पूरा हौल इतनी अच्छी तरह से सजाया हुआ है सिवाय उस पीलर के। एक बार लक्ष्मी जी ने उनसे पूछा कि 'यह बताइये कि यह बीच वाला पीलर आप क्यों नहीं ठीक करवाते?' किशोर दा ने जवाब दिया 'इसीलिए ठीक नहीं करवाता कि आप यह बात मुझसे पूछें'।" तो दोस्तों, ऐसे थे हमारे किशोर दा। अब आनंद उठाइए इस गीत का और अपने आप से यह प्रण भी करें कि जीवन में चाहे कितनी भी परेशानी और तकलीफ़ों का सामना क्यों न करना पड़े, आप हिम्मत नहीं हारेंगे, और यही एक इंसान का कर्तव्य भी है।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. कल होगी ओल्ड इस गोल्ड पर किशोर दा के साथ मस्ती भरी पार्टी.
2. कल के गीत का थीम है - "मिलना जुलना, नशीले समां में झूमना".
3. मुखड़े की दूसरी पंक्ति में शब्द है -"खबर".

कौन सा है आपकी पसंद का गीत -
अगले रविवार सुबह की कॉफी के लिए लिख भेजिए (कम से कम ५० शब्दों में ) अपनी पसंद को कोई देशभक्ति गीत और उस ख़ास गीत से जुडी अपनी कोई याद का ब्यौरा. हम आपकी पसंद के गीत आपके संस्मरण के साथ प्रस्तुत करने की कोशिश करेंगें.

पिछली पहेली का परिणाम -
लगता है रोहित राजपूत जी, पराग जी और दिशा जी को जबरदस्त टक्कर देने वाले हैं. ४ अंक हुए आपके. अब आप सुमित जी से आगे हैं. मनु जी के hnm का मतलब तो अब शरद जी और स्वप्न जी समझ ही गए होंगें, वैसे बड़ा ही दिलचस्प abbreviation था ये तो. पराग जी कहते हैं जब जागो तभी सवेरा, तो जब भी आप उठें तब भी देख लेंगें तो बात बन सकती हैं :) सुमित जी और मंजू जी हमें उम्मीद है कि आज के गीत ने आपको भी एक नयी प्रेरणा दी होगी.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Thursday, August 6, 2009

छोटा सा घर होगा बादलों की छाँव में....सपनों को पंख देती किशोर कुमार की आवाज़

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 163

प्रोफ़. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ने कहा है कि "Dream is not something that we see in sleep; Dream is something that does not allow us to sleep"| इस एक लाइन में उन्होने कितनी बड़ी बात कही हैं। सच ही तो है, सपने तभी सच होते हैं जब उसको पूरा करने के लिए हम प्रयास भी करें। केवल स्वप्न देखने से ही वह पूरा नहीं हो जाता। ख़ैर, आप भी सोच रहे होंगे कि मैं किस बात को लेकर बैठ गया। दरअसल इन दिनों आप सुन रहे हैं किशोर कुमार के गीतों से सजी लघु शृंखला 'दस रूप ज़िंदगी के और एक आवाज़', जिसके तहत हम किशोर दा की आवाज़ के ज़रिये ज़िंदगी के दस अलग अलग पहलुओं पर रोशनी डाल रहे हैं, और आजका पहलू है 'सपना'। जी हाँ, वही सपना जो हर इंसान देखता है, कोई सोते हुए देखता है तो कोई जागते हुए। किसी को ज़िंदगी में बड़ा नाम कमाने का सपना होता है, तो किसी को अर्थ कमाने का। आप यूं भी कह सकते हैं कि यह दुनिया सपनों की ही दुनिया है। आज किशोर दा की आवाज़ के ज़रिये हम जो सपना देखने जा रहे हैं वह मेरे ख़याल से हर आम आदमी का सपना है। हर आदमी अपने परिवार को सुखी देखना चाहता है, वह चाहता है अपने परिवार के लिए एक सुंदर सा घर बनायें, छोटी सी प्यारी सी एक दुनिया बसायें, जिसमें हों केवल ख़ुशियाँ ही ख़ुशियाँ, मिलन ही मिलन। जी हाँ, आज ज़िक्र है फ़िल्म 'नौकरी' के गीत का, "छोटा सा घर होगा बादलों की छाँव में, आशा दीवानी मन में बंसुरी बजाए, हम ही हम चमकेंगे तारों के इस गाँव में, आँखों की रोशनी हरदम ये समझाये"।

'दो बीघा ज़मीन' के बाद बिमल राय और सलिल चौधरी का साथ एक बार फिर जमा १९५४ की दो फ़िल्मों में। एक थी 'बिराज बहू' और दूसरी 'नौकरी'। जहाँ 'दो बीघा ज़मीन' की कहानी ग्रामीण समस्या पर आधारित थी, 'नौकरी' का आधार था शहरों में बेरोज़गारी की समस्या। बिमल राय प्रोडक्शन्स के बैनर तले बनी इस फ़िल्म के नायक थे किशोर कुमार, और उनके साथ थे शीला, निरुपा राय एवं बलराज साहनी। दुर्भाग्यवश 'नौकरी' वह कमाल नहीं कर सकी जो कमाल 'दो बीघा ज़मीन' ने दिखाया था। लेकिन सलिल चौधरी के स्वरबद्ध कम से कम एक गीत को श्रोताओं ने कालजयी करार दिया। और वह गीत है आज का प्रस्तुत गीत। गीतकार शैलेन्द्र के सीधे सरल शब्दों की एक और मिसाल यह गीत बड़े ही प्यारे शब्दों में एक आम आदमी के सपनों की बात करता है। पहले अंतरे में भाई अपनी छोटी बहन के लिए चांदी की कुर्सी और बेटा अपनी माँ के लिए सोने के सिंहासन का सपना देखता है, तो दूसरे अंतरे में भाई अपनी बहन की शादी करवाने का सपना देखता है। तथा तीसरे अंतरे में माँ के अपने बेटे का घर बसाने के सपने का ज़िक्र हुआ है। कुल मिलाकर यह गीत एक आम आदमी और एक आम घर परिवार के सपनों का संगम है। गीत के अंत में आप को एक लड़की की आवाज़ भी सुनाई देगी, क्या आप जानते हैं यह किसकी आवाज़ है? यह आवाज़ है लता और आशा की बहन उषा मंगेशकर की। जी हाँ, उनका गाया यह पहला पहला गीत था। इसी साल उन्होने 'चांदनी चौक' व 'सुबह का तारा' में भी गानें गाये और इस तरह से अपनी बड़ी दो बहनों की तरह वो भी फ़िल्म संगीत के क्षेत्र में अपने पाँव बढ़ा ही दिये। दोस्तों, आज का यह गीत सुनने से पहले आप को यह बता दें कि इस गीत का एक सैड वर्ज़न भी है जिसे हेमन्त कुमार ने गाया है, और इस गीत की धुन पर सलिल दा ने एक ग़ैर फ़िल्मी बंगला गीत भी रचा है जिसे उन्ही की बेटी अंतरा चौधरी ने गाया था जिसके बोल हैं "एक जे छिलो राजा होबुचंद्र ताहार नाम..."। हेमन्त दा और अंतरा चौधरी के गाये इन गीतों को आप फिर कभी सुन लीजियेगा दोस्तों, फिलहाल किशोर दा के गाये गीत की बारी। और हाँ, एक और बात, सपने देखिये लेकिन सोती आँखों से नहीं, बल्कि जागती हुई आँखों से। बड़े बड़े सपने देखिये, उन्हे पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत कीजिये। यकीन मानिए, एक दिन आप को अपनी मेहनत का सिला ज़रूर मिलेगा, और आप भी कहेंगे कि "सच हुए सपने तेरे, झूम ले ओ मन मेरे" !



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. दादा के गाये इस गीत के क्या कहने, शायद ही कोई ऐसा होगा जो इसे सुनकर प्रेरणा से न भर जाए.
2. कल के गीत का थीम है - "प्रेरणा".
3. एक अंतरा शुरू होता है इस शब्द से -"नैन".

कौन सा है आपकी पसंद का गीत -
अगले रविवार सुबह की कॉफी के लिए लिख भेजिए (कम से कम ५० शब्दों में ) अपनी पसंद को कोई देशभक्ति गीत और उस ख़ास गीत से जुडी अपनी कोई याद का ब्यौरा. हम आपकी पसंद के गीत आपके संस्मरण के साथ प्रस्तुत करने की कोशिश करेंगें.

पिछली पहेली का परिणाम -
चलिए पराग जी नींद से जागे, और सही जवाब देकर दिशा जी से २ अंकों की बढ़त ले ली..१२ अंकों के लिए बधाई जनाब. मनु जी आपकी कशमकश कब दूर होगी...स्वप्न जी और दिलीप जी आपका भी आभार, शरद जी नहीं दिखे कल :)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Wednesday, August 5, 2009

एक हजारों में मेरी बहना है...रक्षा बंधन पर शायद हर भाई यही कहता होगा...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 162

"कभी भ‍इया ये बहना न पास होगी, कहीं परदेस बैठी उदास होगी, मिलने की आस होगी, जाने कौन बिछड़ जाये कब भाई बहना, राखी बंधवा ले मेरे वीर"। रक्षाबंधन के पवित्र पर्व के उपलक्ष्य पर हिंद युग्म की तरफ़ से हम आप सभी को दे रहे हैं हार्दिक शुभकामनायें। भाई बहन के पवित्र रिश्ते की डोर को और ज़्यादा मज़बूत करता है यह त्यौहार। राखी उस धागे का नाम है जिस धागे में बसा हुआ है भाई बहन का अटूट स्नेह, भाई का अपनी बहन को हर विपदा से बचाने का प्रण, और बहन का भाई के लिए मंगलकामना। इस त्यौहार को हमारे फ़िल्मकारों ने भी ख़ूब उतारा है सेल्युलायड के परदे पर। गानें भी एक से बढ़कर एक बनें हैं इस पर्व पर। क्योंकि इन दिनों 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर चल रहा है किशोर कुमार के गीतों से सजी लघु शृंखला 'दस रूप ज़िंदगी के और एक आवाज़', जिसके तहत हम जीवन के अलग अलग पहलुओं को किशोर दा की आवाज़ के ज़रिये महसूस कर रहे हैं, तो आज महसूस कीजिए भाई बहन के नाज़ुक-ओ-तरीन रिश्ते को किशोर दा के एक बहुत ही मशहूर गीत के माध्यम से। यह एक ऐसा सदाबहार गीत है भाई बहन के रिश्ते पर, जिस पर वक्त की धुल ज़रा भी नहीं चढ़ पायी है, ठीक वैसे ही जैसे कि भाई बहन के रिश्ते पर कभी कोई आँच नहीं आ सकती। 'हरे रामा हरे कृष्णा' फ़िल्म के इस गीत को आप ने कई कई बार सुना होगा, लेकिन आज इस ख़ास मौके पर इस गीत का महत्व कई गुणा बढ़ जाता है। हमें पूरी उम्मीद है कि आज इस गीत का आप दूसरे दिनों के मुक़ाबले ज़्यादा आनंद उठा पायेंगे।

फ़िल्म 'हरे रामा हरे कृष्णा' सन् १९७१ की फ़िल्म थी जिसके मुख्य कलाकार थे देव आनंद, ज़ीनत अमान और मुमताज़। दोस्तों, यह फ़िल्म उन गिने चुने फ़िल्मों में से है जिनकी कहानी नायक और नायिका के बजाये भाई और बहन के चरित्रों पर केन्द्रित है। भाई बहन के रिश्ते पर कामयाब व्यावसायिक फ़िल्म बनाना आसान काम नहीं है। इसमें फ़िल्मकार के पैसे दाव पर लग जाते हैं। लेकिन देव आनंद ने साहस किया और उनके उसी साहस का नतीजा है कि दर्शकों को इतनी अच्छी भावुक फ़िल्म देखने को मिली। इस फ़िल्म को देख कर किसी की आँखें नम न हुई हो, ऐसा हो ही नहीं सकता। माँ बाप के अलग हो जाने की वजह से बचपन में एक दूसरे से बिछड़ गये भाई और बहन। भाई तो ज़िंदगी की सही राह पर चला लेकिन बहन भिड़ गयी हिप्पियों के दल में और डुबो दिया अपने को नशे और ख़ानाबदोशी की ज़िंदगी में। नेपाल की गलियों में भटकता हुआ भाई अपनी बहन को ढ़ूंढ ही निकालता है, लेकिन शुरु में बहन बचपन में बिछड़े भाई को पहचान नहीं पाती है। तब भाई वह गीत गाता है जो बचपन में वह उसके लिए गाया करता था (लता मंगेशकर और राहुल देव बर्मन की आवाज़ों में बचपन वाला गीत है)। भाई किस तरह से ग़लत राह पर चल पड़ने वाली बहन को सही दिशा दिखाने की कोशिश करता है, इस गीत के एक एक शब्द में उसी का वर्णन मिलता है। गीत को सुनते हुए बहन भाई को पहचान लेती है, गीत के इन दृश्यों को आप शायद ही सूखी आँखों से देखे होंगे। बहन अपने भाई को अपना परिचय देना तो चाहती है, लेकिन वो इतनी आगे निकल चुकी होती है कि वापस ज़िंदगी में लौटना उसके लिए नामुमकिन हो जाता है। इसलिए वो अपना परिचय छुपाती है और अंत में ख़ुदकुशी कर लेती है। प्रस्तुत गीत फ़िल्म का सब से महत्वपूर्ण गीत है। आनंद बक्शी, राहुल देव बर्मन और किशोर कुमार की तिकड़ी ने एक ऐसा दिल को छू लेनेवाला गीत तैयार किया है कि चाहे कितनी भी बार गीत को सुने, हर बार आँखें भर ही आती हैं। देव आनंद साहब ने ख़ुद इस फ़िल्म की कहानी लिखी और फ़िल्म को निर्देशित भी किया। इस फ़िल्म के लिए देव साहब की जितनी तारीफ़ की जाये कम ही होगी। इसके बाद शायद ही इस तरह की कोई फ़िल्म दोबारा बनी हो! इस फ़िल्म को बहुत ज़्यादा पुरस्कार तो नहीं मिला सिवाय आशा भोंसले के ("दम मारो दम" गीत के लिए फ़िल्म-फ़ेयर पुरस्कार), लेकिन असली पुरस्कार है दर्शकों का प्यार जो इस फ़िल्म को भरपूर मिला, और साथ ही इस फ़िल्म के गीत संगीत को भी। तो लीजिए, रक्षाबंधन के इस विशेष अवसर पर सुनिये किशोर दा की आवाज़ में एक भाई के दिल की पुकार। आप सभी को एक बार फिर से रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. किशोर दा के गाये बहतरीन गीतों में से एक.
2. कल के गीत का थीम है - "सपने".
3. मुखड़े की तीसरी पंक्ति में शब्द है -"गाँव".

कौन सा है आपकी पसंद का गीत -
अगले रविवार सुबह की कॉफी के लिए लिख भेजिए (कम से कम ५० शब्दों में ) अपनी पसंद को कोई देशभक्ति गीत और उस ख़ास गीत से जुडी अपनी कोई याद का ब्यौरा. हम आपकी पसंद के गीत आपके संस्मरण के साथ प्रस्तुत करने की कोशिश करेंगें.

पिछली पहेली का परिणाम -
रोहित राजपूत जी रूप में हमें मिले एक नए प्रतिभागी...२ अंकों के लिए बधाई रोहित जी, पराग जी अपना ख्याल रखियेगा, सभी श्रोताओं को एक बार फिर इस पावन पर्व की ढेरों शुभकामनायें...

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Tuesday, October 7, 2008

देखा न हाय रे सोचा न...यही था किशोर का मस्तमौजी अंदाज़

दोस्तों,
१९७० -१९८० के दशक में किशोर कुमार को एक लेख में पेश करना बहुत मुश्किल है | इस महान शख्सियत की कुछ यादें -

किशोर का हॉलीवुड प्रेम -

कोई भी सच्चा कलाकार भाषा या देश की सीमा में नही बंधता है और अपने को मुक्त रखते हुए आगे चलता रहता है | किशोर इसका एक अच्छा नमूना पेश कर गए | किशोर कुमार अपने बेटे अमित कुमार के साथ हॉलीवुड की फिल्मे देखना पसंद किया करते थे | कुछ विशेष फिल्मों और कलाकारों के प्रति उनका काफी रुझान रहा | जैसे गोड फादर (God Father) फ़िल्म को उन्होंने १७-१८ बार देखा | हॉलीवुड अभिनेता जॉन वायने ( John Wayne) और मार्लोन (Marlon) उन्हें बेहद पसंद थे | उनकी फिल्में देखने के बाद किशोर उन कालाकारों के अभिनय के विषय में वे अमित से चर्चा करते | यह सब बातें उनके भीतर अभिनय की समझ को दर्शाता है | हॉलीवुड फिल्मो से प्रभावित होकर उन्होंने १९७१ में एक यादगार फ़िल्म भी बनायी - "दूर का राही " |




कलाकार पिता और कलाकार पुत्र -

यदि ऐसा कहे कि किशोर कुमार ने ही अमित कुमार के भीतर के कलाकार को संवारा और प्रोत्साहित कर प्रस्तुत किया, तो कोई गलत नही होगा | अमित शुरू के बरसों में अपनी माँ के साथ पश्चिम बंगाल में रहते थे और छुट्टियों में मुम्बई आते रहते थे | अपने पिता की गायकी उनकी प्रेरणा रही | किशोर कुमार को जब पता चला कि अमित को गाने में रूचि है तो उसे मुम्बई ले आए | १९ बरस के उम्र में अब पिता के साथ रहना अमित को खूब भाया | १९७१ में दूर का रही फ़िल्म में अमित कुमार से अभिनय करवा कर पिता ने अमित को कला के मैदान में उतार दिया | किशोर के साथ अमित भी स्टेज शो में जाते रहे और सीखते रहे | एक समय आया, जब लोगों ने स्टेज शो में दोनों को एक साथ गाते देखा और सूना | नौजवान अमित कुमार ने फिल्मों में गाने गाये और अभिनय भी किया |आज भी जब कभी भी हो, अमित कुमार अपने प्रेरक पिता को याद कर लोगों से उनके बातों को बड़े आदर से बाँटते हैं |

इस दशक में किशोर कुमार और आर.डी.बर्मन याने सबके चाहिते पंचम दा की युगल जोड़ी कामयाब रही |
१९७१ में आयी राजेश खन्ना के अभिनय से अलंकृत फ़िल्म "अमर प्रेम" इसका बेहतरीन नमूना है |
उसी दशक एक नौजवान कलाकार उभर रहा था,कभी बढ़ता तो कभी गिरता | उस नए कलाकार के लिए पहला हिट गाना पंचम दा ने किशोर कुमार से ही गवाया | यह फ़िल्म थी- "Bombay to Goa" और गीत था "देखा ना हाय रे सोचा ना ..." | उस नए तरुण अभिनेता याने अमिताभ बच्चन के शुरुवाती दिनों में उनके गाये गीत हिट हुए और अमिताभजी को लोकप्रिय बनाने में बड़े मददगार साबित हुए |

कुछ सुपर सुपर हिट फिल्मे जिनमे किशोर कुमार ने आज के बिग बी के लिए गाने गाये थे -

१९७३ - अभिमान,
१९७५ - शोले , मिली ,
१९७७ - अमर अकबर अन्थोनी ,
१९७८ - डॉन, मुकद्दर का सिकंदर,
१९७९ - मिस्टर नटवरलाल आदि ...

हमेशा की तरह राजेश खाना के लिए किशोर कुमार की आवाज़ इस दशक भी पहचान रही |कटी पतंग, अमर प्रेम, अनुरोध, महबूबा जैसी फिल्मों में गाये गाने आज भी पसंद किए जाते हैं |महबूबा फ़िल्म का एक गीत है - "मेरे नैना सावन भादो ..." इस गीत से किशोर कुमार की शैली और हुनर दोनों को परखा जा सकता है | धूम धडाके और मस्ती से गाने वाले किशोर कुमार के इतने भावुक होकर गाये गीतों से उनके बहु आयामी होने का पता चलता है |

मोहम्मद रफी और मुकेश जैसे मंझे हुए गायकों की मौजूदगी में भी किशोर कुमार ने अपनी जगह बना ली थी | लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल और कल्याणजी-आनंदजी जैसे संगीतकारों के लिए किशोर कुमार का नाम एक पसंद बन गया था |




गुरु का साथ छूटा -

१९७५ में हृषिकेश मुखर्जी की फ़िल्म "मिली",सचिन देव बर्मन और किशोर की अन्तिम फ़िल्म बनी | बीमारी में होते हुए भी बर्मन दा जाते जाते इतिहास रच गए | "आए तुम याद मुझे" और "बड़ी सूनी सूनी है" ये दो गीत इतने लोकप्रिय हुए की आज भी हिट हैं | किशोर कुमार ने बिछड़ते अपने गुरु के लिए अपनी भावनाओं में डूबे ये दो गीत गाकर अपनी श्रद्धांजली दी | एस. डी. बर्मन के साथ उन्होंने २७ फिल्मों में १०० से ज्यादा गीत गायें | हिन्दी फ़िल्म इतिहास में यह जोड़ी हमेशा याद की जाती रहेगी |

पुरस्कार -

१९७६ - अमानुष के गीत "दिल ऐसा किसी ने मेरा तोडा" और १९७९ - डॉन फ़िल्म के हिट गाने "खैके पान बनारस वाला" के लिए उनको फ़िल्म फेयर पुरस्कार मिले |

किशोर की तीसरी शादी अभिनेत्री योगिता बाली से हुयी | १९७६ से १९७८ तक यह कामयाब नही हो सका | १९७९ में किशोर कुमार ने अपने इस उम्र में शादी के विषय से मिलती जुलती एक फ़िल्म बनाई - " शाब्बास डैडी " (Shabas Dady) | इसमे किशोर कुमार, अमित कुमार , योगिता बाली और महमूद ने अभिनय किया | संगीत और आवाज़ किशोर कुमार की रही |

मजाकिया किशोर कुमार के किस्से बड़े मशहूर थे | स्टूडियो में धूम मचाना, किसी पर अचानक कुछ कह हँसी करना, ख़ुद पर ही चुटकले करना, तरह तरह के रूप बनाकर रहना, लोगों को उनके ओर आकर्षित करता रहा | यदि उनके उस अनोखे शख्सियत की बातें करूँ तो सारा लेख सिर्फ़ उसी पर होगा |

कहने को बहुत कुछ है , लेकिन ठहरना तो होगा ही | इस बार के लिए किशोर के लिए मेरे चंद लफ्ज़ -

तुम्हारी धुन आज भी बजती है,
तुम्हारे सुर आज भी सजते हैं,
कभी आकर कोई नग़मा सुना जाओ...दुबारा |


इसी दौर के मशहूर,किशोर दा कुछ बेमिसाल गीत भी सुन लेते हैं -



-- अवनीश तिवारी

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ