Showing posts with label timir baran. Show all posts
Showing posts with label timir baran. Show all posts

Sunday, August 24, 2014

‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ : SWARGOSHTHI – 182 : THUMARI JHINJHOTI


स्वरगोष्ठी – 182 में आज

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी - 1 : ठुमरी झिंझोटी


जब सहगल ने उस्ताद अब्दुल करीम खाँ की गायी ठुमरी को अपना स्वर दिया 




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ हो रही श्रृंखला का शीर्षक है- ‘फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’। दरअसल यह श्रृंखला लगभग दो वर्ष पूर्व ‘स्वरगोष्ठी’ में प्रकाशित / प्रसारित की गई थी। हमारे पाठकों / श्रोताओं को यह श्रृंखला सम्भवतः कुछ अधिक रुचिकर प्रतीत हुई थी। अनेक संगीत-प्रेमियों ने इसके पुनर्प्रसारण का आग्रह भी किया था। सभी सम्मानित पाठकों / श्रोताओं के अनुरोध का सम्मान करते हुए और पूर्वप्रकाशित श्रृंखला में थोड़ा परिमार्जन करते हुए हम इसे पुनः प्रस्तुत कर रहे हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के कुछ स्तम्भ केवल श्रव्य माध्यम से प्रस्तुत किये जाते हैं तो कुछ स्तम्भ आलेख, चित्र और गीत-संगीत श्रव्य माध्यम के मिले-जुले रूप में प्रस्तुत होते हैं। आपका प्रिय स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ इस दूसरे माध्यम से प्रस्तुत होता आया है। इस अंक से हम एक नया प्रयोग कर रहे हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के परम्परागत रूप के साथ-साथ पूरे आलेख और गीत-संगीत को हम सुप्रसिद्ध उद्घोषिका और ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की प्रमुख सहयोगी संज्ञा टण्डन की आवाज़ में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमारे इस प्रयोग पर आप अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दीजिएगा।




भी संगीत-प्रेमी श्रोताओं का आज से शुरू हो रही हमारी नई लघु श्रृंखला 'फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ में कृष्णमोहन मिश्र और संज्ञा टण्डन की ओर से हार्दिक स्वागत है। आपको शीर्षक से ही यह अनुमान हो गया होगा कि इस श्रृंखला का विषय फिल्मों में शामिल की गई उपशास्त्रीय गायन शैली ठुमरी है। सवाक फिल्मों के प्रारम्भिक दौर से फ़िल्मी गीतों के रूप में तत्कालीन प्रचलित पारसी रंगमंच के संगीत और पारम्परिक ठुमरियों के सरलीकृत रूप का प्रयोग आरम्भ हो गया था। विशेष रूप से फिल्मों के गायक-सितारे कुन्दनलाल सहगल ने अपने कई गीतों को ठुमरी अंग में गाकर फिल्मों में ठुमरी शैली की आवश्यकता की पूर्ति की थी। चौथे दशक के मध्य से लेकर आठवें दशक के अन्त तक की फिल्मों में सैकड़ों ठुमरियों का प्रयोग हुआ है। इनमे से अधिकतर ठुमरियाँ ऐसी हैं जो फ़िल्मी गीत के रूप में लिखी गईं और संगीतकार ने गीत को ठुमरी अंग में संगीतबद्ध किया। कुछ फिल्मों में संगीतकारों ने परम्परागत ठुमरियों का भी प्रयोग किया है। इस श्रृंखला में हम आपसे ऐसी ही कुछ चर्चित-अचर्चित फ़िल्मी ठुमरियों पर बात करेंगे।

आज के ठुमरी गीत पर चर्चा से पहले भारतीय संगीत की रस, रंग और भाव से परिपूर्ण ठुमरी शैली पर चर्चा आवश्यक है। ठुमरी उपशास्त्रीय संगीत की एक लोकप्रिय गायन शैली है। यद्यपि इस शैली के गीत रागबद्ध होते हैं, किन्तु ध्रुवपद और खयाल की तरह राग के कड़े प्रतिबन्ध नहीं रहते। रचना के शब्दों के अनुकूल रस और भाव की अभिव्यक्ति के लिए कभी-कभी गायक राग के निर्धारित स्वरों के साथ अन्य स्वरों का प्रयोग करने के लिए स्वतंत्र होते हैं। ऐसी ठुमरियों में जिस राग की प्रमुखता होती है, उसमें ‘मिश्र’ शब्द जोड़ दिया जाता है; जैसे 'मिश्र खमाज', 'मिश्र पहाडी', 'मिश्र काफी’ आदि। ठुमरियों में श्रृंगार और भक्ति रसों की प्रधानता होती है। कुछ ठुमरियों में इन दोनों रसों का अनूठा मेल भी मिलता है। ठीक उसी प्रकार जैसे सूफी गीतों और कबीर के निर्गुण पदों में उपरी आवरण तो श्रृंगार रस से प्रभावित रहता है, किन्तु आन्तरिक भाव आध्यात्म और भक्तिभाव की अनुभूति कराता है।

आइए, अब आज के ठुमरी गीत पर थोड़ी चर्चा कर ली जाए। इस श्रृंखला की पहली फ़िल्मी ठुमरी के रूप में हमने 1936 की फिल्म ‘देवदास’ का चयन किया है। यह फिल्म सुप्रसिद्ध उपन्यासकार शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय के इसी शीर्षक के उपन्यास पर बनाई गई थी। शरत बावू का यह उपन्यास 1901 में लिखा गया और 1917 में पुस्तक रूप में प्रकाशित हुआ था। देवदास पर सबसे पहले 1928 में 'इस्टर्न फिल्म सिंडिकेट' ने मूक फिल्म बनाई थी, जिसमे देवदास की भूमिका नरेश चन्द्रा ने निभाई थी। सवाक फिल्मों के युग में देवदास उपन्यास पर अब तक सात फ़िल्में बन चुकी हैं। अकेले 'न्यू थिएटर्स' ने ही चार विभिन्न भाषाओं में इस फिल्म का निर्माण किया था। 1935 में पी.सी. बरुआ (प्रथमेश चन्द्र बरुआ) के निर्देशन में देवदास का निर्माण बांग्ला भाषा में हुआ था। 1936 में श्री बरुआ के निर्देशन में ही हिन्दी में और 1937 में असमी भाषा में यह फिल्म बनी थी। 1936 में ही 'न्यू थिएटर्स' के बैनर से पी.वी. राव के निर्देशन में इस फिल्म के तमिल संस्करण का निर्माण भी किया गया था, किन्तु दक्षिण भारत में यह फिल्म बुरी तरह असफल रही। 1953 में तमिल और तेलुगु में ‘देवदास’ के निर्माण का पुनः प्रयास हुआ और इस बार दक्षिण भारत में यह द्विभाषी प्रयोग सफल रहा। 1955 में एक बार फिर विमल राय के निर्देशन में देवदास का निर्माण हुआ, जिसमें दिलीप कुमार देवदास की भूमिका में थे। इसके बाद 2002 में शाहरुख़ खाँ अभिनीत फिल्म देवदास का निर्माण हुआ था।

आज हम आपके लिए फिल्म देवदास के जिस गीत को लेकर उपस्थित हुए हैं वह 1936 में हिन्दी भाषा में निर्मित फिल्म देवदास का है। फिल्म के निर्देशक पी.सी. बरुआ थे और देवदास की भूमिका में कुन्दनलाल सहगल, पारो की भूमिका में जमुना बरुआ और चन्द्रमुखी की भूमिका में राजकुमारी ने अभिनय किया था। फिल्म के संगीतकार तिमिर वरन (भट्टाचार्य) थे। तिमिर वरन उस्ताद अलाउद्दीन खाँ के शिष्य और संस्कृत के प्रकाण्ड विद्वानों के कुल से थे। साहित्य और संगीत में कुशल तिमिर वरन को 'न्यू थियेटर्स' में प्रवेश करने पर पहली फिल्म देवदास का संगीत निर्देशन सौंपा गया। यद्यपि चौथे दशक का फिल्म संगीत प्रारम्भिक प्रयोगशील रूप में था किन्तु इस फिल्म के गीत आज आठ दशक के बाद भी श्रोताओं को मुग्ध कर देते हैं। फिल्म में ठुमरी शैली के दो गीत विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। ठुमरी शैली पर आधारित पहला गीत है- ‘बालम आय बसो मोरे मन में...’। प्राकृतिक परिवेश में प्रणय निवेदन के प्रसंग में फिल्माया गया यह गीत राग काफी के स्वरों में है। दूसरी ठुमरी है- ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ जो वास्तव में राग झिंझोटी की एक परम्परागत ठुमरी है जिसका स्थायी और एक अन्तरा सहगल साहब ने अत्यन्त संवेदनशीलता के साथ गाया है।



राग - झिंझोटी : फिल्म - देवदास 1936 : ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ : कुन्दनलाल सहगल : संगीत – तिमिर वरन






राग झिंझोटी की यह विशेषता होती है कि यह श्रृंगार रस प्रधान, चंचल प्रवृत्ति का होते हुए भी अद्भुत रस, भ्रम, बेचैनी और आश्चर्य भाव की अभिव्यक्ति में पूर्ण सक्षम होता है। राग झिंझोटी की यह ठुमरी 1925 -26 में महाराज कोल्हापुर के राजगायक उस्ताद अब्दुल करीम खाँ के स्वरों में अत्यन्त लोकप्रिय थी। खाँ साहब किराना घराने के विलक्षण गायक थे। उन्हें उत्तर और दक्षिण भारतीय संगीत के बीच सेतु के रूप में जाना जाता था। दक्षिण भारत के कर्नाटक संगीत के कई रागों को उन्होने उत्तर भारतीय संगीत में प्रचलित किया था। फिल्म ‘देवदास’ के लिए इस गीत की रिकार्डिंग के बाद सहगल साहब की आवाज़ में इस ठुमरी को खाँ साहब ने सुना और सहगल साहब की गायन शैली की खूब तारीफ़ करते हुए उन्हें बधाई का एक सन्देश भी भेजा था। सहगल साहब ने परदे पर शराब के नशे में धुत देवदास की भूमिका में इस ठुमरी का स्थायी और एक अन्तरा गाया था। गायन के दौरान ठुमरी में किसी ताल वाद्य की संगति नहीं की गई है। पार्श्व संगीत के लिए केवल वायलिन और सरोद की संगति है। के.एल. सहगल की आवाज़ में राग झिंझोटी की इस फिल्मी ठुमरी के बाद हम इसी ठुमरी का पारम्परिक रूप उस्ताद अब्दुल करीम खाँ के स्वरों में प्रस्तुत कर रहे हैं।



राग - झिंझोटी : पारम्परिक ठुमरी : ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ : उस्ताद अब्दुल करीम खाँ






'स्वरगोष्ठी' की इस श्रृंखला में अब हम आपको आज के इस आलेख और गीतों का समन्वित रूप श्रव्य माध्यम से प्रस्तुत कर रहे हैं, जिसे 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' परिवार की सक्रिय सदस्य संज्ञा टण्डन ने अपनी आवाज़ से सजाया है। आप इस प्रस्तुति का आनन्द लीजिए और हमे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।



ठुमरी राग झिंझोटी : ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन...’ : फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी : वाचक स्वर – संज्ञा टण्डन







आज की पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 182वें अंक की पहेली में आज हम आपको कण्ठ संगीत की एक पुरानी रचना का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। 190वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।




1 – कण्ठ संगीत की इस रचना का अंश सुन कर बताइए कि यह किस राग में निबद्ध है?

2 – इस संगीत रचना में किस ताल का प्रयोग हुआ है?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 184वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली और श्रृंखला के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ की 180वीं कड़ी की पहेली में हमने आपको उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ द्वारा शहनाई पर प्रस्तुत बनारसी कजरी का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- (क) वाद्य शहनाई और (ख) कजरी धुन तथा पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल दादरा और कहरवा। इस अंक के दोनों प्रश्नों के सही उत्तर पेंसिलवानिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, जबलपुर से क्षिति तिवारी, चण्डीगढ़ के हरकीरत सिंह, और हैदराबाद की डी. हरिणा माधवी ने दिया है। चारो प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।

180वीं कड़ी की पहेली के उत्तरों के साथ ही इस वर्ष की तीसरी श्रृंखला (सेगमेंट) भी पूर्ण हुई। इस श्रृंखला में निम्नलिखित प्रतिभागियों ने प्राप्तांकों के आधार पर प्रथम तीन स्थान प्राप्त किया है। सभी विजेताओं को 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' की ओर से हार्दिक बधाई।

1- सुश्री विजया राजकोटिया, पेंसिलवानिया, अमेरिका - 20 अंक - प्रथम 
2- सुश्री क्षिति तिवारी, जबलपुर - 20 अंक -प्रथम 
3- सुश्री डी. हरिणा माधवी, हैदराबाद - 18 अंक - द्वितीय 
4- श्री हरकीरत सिंह, चण्डीगढ़ - 12 अंक - तृतीय


अपनी बात


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के इस अंक से हमने एक नया प्रयोग किया है। ‘स्वरगोष्ठी’ के परम्परागत आलेख, चित्र और गीत-संगीत के आडियो रूप के साथ-साथ सम्पूर्ण आलेख, गीतों के साथ श्रव्य माध्यम से भी प्रस्तुत कर रहे हैं। आपको हमारा यह प्रयोग कैसा लगा? हमें अवश्य लिखिएगा। आगामी अंक में हम एक और परम्परागत ठुमरी और उसके फिल्मी रूप पर चर्चा करेंगे। आप भी अपनी पसन्द के विषय और गीत-संगीत की फरमाइश हमें भेज सकते हैं। हमारी अगली श्रृंखलाओं के लिए आप किसी नए विषय का सुझाव भी दे सकते हैं। अगले रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर सभी संगीतानुरागियों की हम प्रतीक्षा करेंगे।


वाचक स्वर : संज्ञा टण्डन   
आलेख व प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र   

Wednesday, March 30, 2011

दुख के दिन अब बीतत नाहीं.....सहगल की आवाज़ और दर्द की रिश्ता भी काफी गहरा था

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 624/2010/324

गर हम "पैथोस" शब्द का पर्यायवाची शब्द "सहगल" कहें तो शायद यह जवाब बहुत ग़लत नहीं होगा। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार और बहुत बहुत स्वागत है कुंदन लाल सहगल को समर्पित इस लघु शृंखला 'मधुकर श्याम हमारे चोर' की चौथी कड़ी में। न्यु थिएटर्स के संगीतकारों में एक नाम तिमिर बरन का भी है। १९३३ में 'पूरन भगत' और १९३४ में 'चंडीदास' के कालजयी गीतों के बाद १९३५ में तो सहगल साहब ने जैसे तहलका ही मचा दिया। सहगल साहब की फ़िल्मों की फ़ेहरिस्त में शायद सब से हिट फ़िल्म रही है १९३५ की पी. सी. बरुआ निर्देशित फ़िल्म 'देवदास'। तिमिर बरन को इस फ़िल्म में संगीत देने का ज़िम्मा सौंपा गया और किदार शर्मा नें गीत लिखे। इस गीतकार-संगीतकार जोड़ी के कलम और साज़ों पे सवार होकर सहगल साहब के गाये इस फ़िल्म के नग़में पहूँचे घर घर में। फ़िल्म 'देवदास' के बंगला वर्ज़न में सहगल साहब ने कविगुरु रबीन्द्रनाथ ठाकुर की एक रचना को स्वर दिया था, जिसके बोल थे "गोलाप होये उठुक फूले"। 'देवदास' की अपार कामयाबी ने के.एल. सहगल को सुपरस्टार बना दिया। इसी साल, यानी १९३५ में आशा रानी से सहगल साहब का विवाह सम्पन्न हुआ और वो अपने परिवार के साथ हँसी ख़ुशी दिन बिताने लगे। लेकिन 'देवदास' में उनका निभाया किरदार बिलकुल इसके विपरीत था। दर्द और शराब में डूबा देवदास का किरदार सहगल साहब नें जैसे पर्दे पर जीवंत कर दिया। इस फ़िल्म का "बालम आये बसो मोरे मन में" हम 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर सुनवा चुके हैं; इसलिए आज इस फ़िल्म का एक दर्दीला गाना सुनिए, "दुख के दिन अब बीतत नाहीं"। इस गीत को सुनते हुए महसूस कीजिएगा कि किस तरह से वायलिन की धुन सहगल साहब की आवाज़ से आवाज़ मिलाकर साथ साथ चलती है। तिमिर बरन के संगीत में १९३६ में सहगल साहब की एक और फ़िल्म आयी थी 'पुजारिन', जिसमें उनका गाया "जो बीत चुकी सो बीत चुकी" फ़िल्म का सब से लोकप्रिय गीत था।

और कल की तरह आज भी कुछ उद्गार सहगल साहब की शान में फ़िल्म जगत की एक प्रसिद्ध अभिनेता के मुख से। ये हैं के. एन. सिंह जिन्होंने सहगल साहब के बारे में बताया था विविध भारती के 'जयमाला' कार्यक्रम में बरसों पहले- "अंग्रेज़ी स्कूल में पढ़ने की वजह से मुझे वेस्टर्ण म्युज़िक में ज़्यादा दिलचस्पी थी। मगर भारतीय संगीत के जादू ने मुझ पर असर पहली बार तब किया जब सन् १९३० में लखनऊ में मैं कुंदन लाल सहगल से मिला। उस वक़्त न वो फ़िल्मों में आये थे और न ही मैं। कुछ सालों के बाद कलकत्ता में फिर हमारी मुलाक़ात हुई, तब वो फ़िल्मों में थे, और उनके गानें का असर धीरे-धीरे फैल रहा था। कुछ सालों बाद मैं भी फ़िल्मों में आ गया, और फिर सहगल साहब से मेल-जोल बढ़ा, और एक लम्बी, गहरी दोस्ती में बदल गई, जो उनके देहांत तक रही। सहगल न केवल एक बेमिसाल गायक थे, बल्कि एक बेमिसाल दोस्त भी थे। वो अपनी आवाज़ पीछे छोड़ गये हैं। दौर बदलते रहे हैं और बदलते रहेंगे। मगर सहगल का संगीत आज भी पुराना नहीं हुआ है। फ़िल्म संगीत को उन्होंने ही सब से पहले पापुलर बनाया था। तो उन्हीं का एक गाना सुन लें?" दोस्तों, के. एन. सिंह साहब की तरह बहुत से कलाकार अपनी अपनी 'जयमाला' में सहगल साहब के लिए कुछ न कुछ बोला करते और उनका गाया अपनी पसंद का एक गीत सुनवाया करते। तो आइए अब आज का गीत सुना जाये।



क्या आप जानते हैं...
कि 'देवदास' फ़िल्म का "बालम आये बसो मोरे मन में" गीत वह पहला ग्रामोफ़ोन रेकॊर्ड था जो लता मंगेशकर नें ख़रीदा था।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 4/शृंखला 13
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - सहगल साहब का गाया एक और क्लास्सिक गीत.

सवाल १ - फिल्म का नाम बताएं - २ अंक
सवाल २ - संगीतकार कौन हैं इस गीत के - ३ अंक
सवाल ३ - फिल्म के निर्देशक बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
बहुत दिनों बाद टाई हुआ है कल...बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ