Showing posts with label non filmy ghazals. Show all posts
Showing posts with label non filmy ghazals. Show all posts

Tuesday, January 27, 2009

रुक जा सुबह तक कि न हो ये रात आखिरी...- मन्ना डे की गैर फिल्मी ग़ज़लें

सुनिए मन्ना डे की ६ दुर्लभ गैर फिल्मी ग़ज़लें

मन्ना डे को कामयाबी आसानी से नहीं मिली। वे कहते हैं:"मैं लड़ना जानता हूँ,किसी भी हालात से जूझना सीखा है मैंने। मैंने सारी ज़िन्दगी मेहनत करी है और अब भी कर रहा हूँ। मैंने कभी हार नहीं मानी। संघर्ष में सबसे अच्छी बात होती है कि वो पल जब सब कुछ खत्म होता सा दिखाई पड़ता है उस पल ही कहीं से हिम्मत और आत्मविश्वास सा आ जाता है जो मुझे हारने नहीं देता। शास्त्रीय संगीत में रुचि रखने वाले हों या उससे अनभिज्ञ,सभी को मेरे गाने पसंद आते हैं। मेरी मेहनत, ट्रेंनिंग और अनुशासन की वजह से लोग मुझे विश्व भर में जानते हैं और सम्मान देते हैं।"

मन्ना डे को इस बात से दुख नहीं होता कि बाकी गायकों के मुकाबले उन्हें कम मौके मिले। उन्होंने लगभग सभी बड़े संगीतकारों के साथ काम किया है। वे बताते हैं कि कईं बार संगीतकार उनसे गाना गवाना चाहते थे परन्तु हर बार संगीतकार ही निर्णय नहीं लेते। फिल्मी जगत में अभिनेताओं के पसंदीदा गायक हुआ करते हैं और गायक भी उसी कलाकार से पहचाने जाते रहे हैं। जैसे,रफी हमेशा नौशाद की पसंद रहे और उन्होंने दिलीप कुमार के अधिकतर गाने गाये। उसी तरह से राजकपूर के गाने मुकेश,देव आनंद और राजेश खन्ना के गाने किशोर कुमार गाया करते थे। मन्ना डे की अद्वितीय प्रतिभा बेकार नहीं गई और उन्हें हमेशा तारीफ व सम्मान मिला। संगीतकारों ने फिल्म में स्थिति के अनुरूप मन्ना डे के लिये गाने बनाये।

मशहूर गाने "लागा चुनरी में दाग, छुपाऊँ कैसे" के लिये मन्ना डे कहते हैं कि ये मेरे मित्र रोशन द्वारा दिया गया एक बेहतरीन गाना है। ये दुर्लभ गीतों में से एक है। मैं कहीं भी जाऊँ, देश अथवा विदेश, ये गाना जरूर गाता हूँ। यह एक कठिन गीत है जिसमें शास्त्रीय संगीत का माधुर्य छिपा हुआ है। ये गीत मेरे दिल और आत्मा से जुड़ा हुआ है। मैं पिछले ६० बरस से यह गा रहा हूँ और मैंने जब भी गाया है, पूरी ईमानदारी से गाया है।

जब उनसे पूछा गया कि अब तक का सबसे कठिन गाना कौन सा लगा, जिसमें सबसे ज्यादा मेहनत और रियाज़ करना पड़ा। उनका जवाब था फिल्म काबुलीवाला से गाना : "ऐ मेरे प्यारे वतन, ऐ मेरे बिछड़े चमन"। ये गाना मुझे गले के एक ही हिस्से गाना था ताकि मैं इस गीत के द्वारा लोगों के दिलों तक इस गाने के भाव पहुँचा सकूँ।

सच में मन्ना, आप इसमें सफल हुए।
पद्मभूषण मन्ना डे भारतीय संगीत के महानतम व्यक्तित्व हैं। उनका जो योगदान भारतीय संगीत में रहा है उसे कोई नहीं भुला सकता। उनकी प्रसिद्धि केवल भारत में ही नहीं रही बल्कि विश्व के हर देश व स्थान में पहुँची जहाँ कहीं भी भारतीय रहते हैं या फिर भारतीय संगीत को चाहने वाले रहते हैं। लोग न केवल उनके संगीत का आदर करते हैं अपितु जिस तरह से वे मेलोडी और काव्य का मिश्रण करते हैं उसके सब कायल हैं।

मन्ना डे को पद्मष्री और पद्म भूषण जैसे सम्मानों से नवाज़ा गया है। मन्ना डे को दिये गये अन्य सम्मान हैं:

* १९६९ में हिन्दी फिल्म "मेरे हुज़ूर" में सर्वोत्तम पार्श्व गायन का राष्ट्रीय फिल्म अवार्ड
* १९७१ में बंगाली फिल्म "निशि पद्म" में सर्वोत्तम पार्श्व गायन का राष्ट्रीय फिल्म अवार्ड
* १९७१ में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री अवार्ड
* १९८५ में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा लता मंगेशकर अवार्ड
* १९८८ में रेनेसां सांस्कृतिक परिषद,ढाका द्वारा माइकल साहित्यो पुरस्कार
* १९९० में मिथुन फैन एसोसियेशन द्वारा श्यामल मित्र अवार्ड
* १९९१ में श्री खेत्र कला प्रकाशिका, पुरी द्वारा संगीत स्वर्णाचुर्र अवार्ड
* १९९३ में पी.सी चंद्र ग्रुप की ओर से पी.सी. चंद्र अवार्ड
* १९९९ में कमला देवी ग्रुप की ओर से कमला देवी रॉय अवार्ड
* २००१ में आनंद बाज़ार समूह द्वारा की ओर से आनंदलोक लाइफटाइम अवार्ड
* २००२ में स्वरालय येसुदास अवार्ड
* २००३ में प.बंगाल सरकार द्वारा अलाउद्दीन खान अवार्ड
* २००४ केरल सरकार द्वारा राष्ट्रीय सम्मान
* २००५ महाराष्ट्र सरकार द्वारा लाईफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड
* २००५ भारत सरकार द्वारा पद्मभूषण

आइये ज़रा देखते हैं गानों की वो फेहरिस्त जिसको पढ़ने के बाद आपको लगने लगेगा कि मन्ना डे जैसा विभिन्न शैलियों में गाने वाला कलाकार कोई नहीं है। अगर बड़े बड़े साथी कलाकार उनका सम्मान करते थे और यहाँ तक कह डाला कि यह शख्स किसी भी अन्य गायक के गाने बड़ी आसानी से गा सकता है तो यह कहना अतिश्योक्ति नहीं थी। यहाँ लिखे गानों में शायद ही कोई गाना होगा जो आपने नहीं सुना होगा। उनके द्वारा संगीतबद्ध और गाये हुए कुछ गाने निम्न प्रकाशित हैं:

उन्होंने कव्वाली (ये इश्क इश्क है, ए मेरी ज़ोहरा जबीन, यारी है ईमान मेरा), रोमांटिक (प्यार हुआ इकरार हुआ, आजा सनम मधुर, दिल की गिरह खोल दो,ये रात भीगी भीगी, सोच के ये गगन झूमे,मुड़-मुड़ के न देख,ओ चाँद मुस्कराया, शाम ढ्ले जमुना किनारे,ज़िन्दगी है खेल), शास्त्रीय संगीत में (पूछो न कैसे, सुर न सजे, लागा चुनरी में दाग, लपक झपक तू,नाचे मयूरा, केतकी गुलाब जूही,भय भंजना बंदना, भोर आई गया अँधियारा), इमोशनल(ज़िन्दगी कैसी है पहेली, कस्में वादे,दूर है किनारा, नदिया चले रे धारा) गाने तो दर्शकों को दिये ही बल्कि उस के साथ लोगों लोगों थिरकने पर मजबूर कर देने वाले गाने जैसे आओ ट्विस्ट करें,ज़िन्दगी है खेल कोई पास कोई फेल,दुनिया रंग बिरंगी,एक चतुर नार और चुनरी सम्भाल गोरी भी गाये।

देशभक्ति के गीतों की बात करें तो ऐ मेरे वतन के लोगों, जाने वाले सिपाही से पूछो, होके मजबूर, हिन्दुस्तान की कसम जैसे मशहूर गाने उनके नाम रहे। अन्य कुछ बेहतरीन गाने थे "तू प्यार का सागर है, मेरे सब कुछ मेरे गीत, तू है मेरा प्रेमदेवता, हे राम वगैरह। मेरा नाम जोकर के गाने "ऐ भाई जरा देख कर चलो" के लिये उन्हें फिल्मफेयर अवार्ड भी मिला।

मन्ना के बहुत से फिल्मी गीत हम आपको इस लेख के पहले अंक में सुनवा चुके हैं और आगे भी सुनवाते रहेंगे, पर मन्ना डे की गायकी का एक और पहलू भी है जिससे बारे में बहुत कम कहा सुना गया है. मन्ना डे के गैर फिल्मी ग़ज़लें अपनी ख़ास अदायगी के चलते अपना एक विशिष्ट ही स्थान रखती है, हमें यकीं है मन्ना की जो ग़ज़लें आज हम आपको सुन्वायेंगें उन्हें सुनकर आप भी यही कहेंगे, तो आनंद लीजिये आवाज़ और अंदाज़ के इस खूबसूरत संगम का -

दर्द उठा फ़िर हल्के हल्के....


हैरान हूँ ऐ सनम...


मेरी भी एक मुमताज़ थी...


मुझे समझाने मेरे...


ओ रंग रजवा रंग दे ऐसी चुनरिया ...


और अंत में सुनिए-
रुक जा सुबह तक न हो ये रात आखिरी...


प्रस्तुति - तपन शर्मा

Monday, December 22, 2008

सुनिए मुकेश के गाये दुर्लभ गैर फिल्मी ग़ज़लों का संकलन


महान गायक मुकेश के बारे में हम आवाज़ पर पहले भी कई बार बात कर चुके हैं. संगीतकार हृदयनाथ मंगेशकर जी का संस्मरण हमने प्रस्तुत किया था, साथ ही मशहूर संगीत विशेषज्ञ संजय पटेल जी ने उन पर एक विशेष प्रस्तुति दी थी, तो तपन शर्मा जी ने आप सब के लिए लेकर आ चुके हैं उनका जीवन परिचय और संगीत सफर की तमाम जानकारियाँ. हमारे कुछ श्रोताओं ने हमसे फरमाईश की, कि हम उन्हें मुकेश जी के गाये कुछ गैर फिल्मी गीतों और ग़ज़लों से भी रूबरू करवायें. तो आज हम अपने श्रोताओं के लिए लेकर आए हैं, मुकेश की गैर फिल्मी ग़ज़लों का एक नायाब गुलदस्ता...

सुनिए और आनंद लीजिये -

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ