Showing posts with label jaidev. Show all posts
Showing posts with label jaidev. Show all posts

Thursday, March 1, 2018

होली विशेष:: श्रीदेवी पर फ़िल्माया संभवत: एकमात्र होली गीत


होली विशेष: श्रीदेवी पर फ़िल्माया एकमात्र होली गीत


"होली आयी रे, आयी रे, रंग बरसे.."





’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का नमस्कार! आप सभी को होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।

इस अवसर पर अभिनेत्री श्रीदेवी को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए आइए सुनें उन पर फ़िल्माया हुआ सम्भवत: एकमात्र होली गीत। यह गीत है 1979 की फ़िल्म ’सोलवाँ सावन’ का, जो श्रीदेवी की बतौर नायिका पहली हिन्दी फ़िल्म रही। इस गीत को गाया है वाणी जयराम और साथियों ने, गीत लिखा है नक्श ल्यालपुरी ने, और संगीतबद्ध किया है जयदेव ने।




प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 



रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

Sunday, February 2, 2014

बसन्त ऋतु की दस्तक और वाणी वन्दना

  
स्वरगोष्ठी – 153 में आज

पण्डित भीमसेन जोशी के स्वरों में ऋतुराज बसन्त का अभिनन्दन 

‘फगवा ब्रज देखन को चलो री...’



‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के मंच पर ‘स्वरगोष्ठी’ के एक नए अंक के साथ मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-रसिकों का हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ। मित्रों आज संगीत-प्रेमियों की इस गोष्ठी में चर्चा के लिए दो उल्लेखनीय अवसर हैं। आज से ठीक दो दिन बाद अर्थात 4 फरवरी को बसन्त पंचमी का पर्व है। यह दिन कला, साहित्य और ज्ञान की देवी माँ सरस्वती की आराधना का दिन है। इसी दिन प्रकृति में ऋतुराज बसन्त अपने आगमन की दस्तक देते हैं। इस ऋतु में मुख्य रूप से राग बसन्त का गायन-वादन अनूठा परिवेश रचता है। आज के अंक में हम आपके लिए राग बसन्त की एक बन्दिश- ‘फगवा ब्रज देखन को चलो री...’ लेकर उपस्थित हुए हैं। यह रचना आज इसलिए भी महत्त्वपूर्ण हो जाती है, क्योंकि इसे पण्डित भीमसेन जोशी ने अपना स्वर दिया है। यह तथ्य भी रेखांकन योग्य है कि 4 फरवरी को इस महान संगीतज्ञ की 93वीं जयन्ती भी है। चूँकि इस दिन बसन्त पंचमी का पर्व भी है, अतः आज हम आपको वर्ष 1977 की फिल्म ‘आलाप’ से लता मंगेशकर, येशुदास, दिलराज कौर और मधुरानी का गाया और राग भैरवी में निबद्ध सरस्वती वन्दना भी प्रस्तुत करेंगे। 
 



भारतीय संगीत की मूल अवधारणा भक्ति-रस है। इसके साथ ही इस संगीत में समय और ऋतुओं के अनुकूल रागों का भी विशेष महत्त्व होता है। विभिन्न रागों के परम्परागत गायन और वादन में समय और मौसम का सिद्धान्त आज वैज्ञानिक कसौटी पर खरा उतरता है। बसन्त पंचमी के अवसर पर ऋतुराज बसन्त अपने आगमन की आहट देते हैं। इस ऋतु में मुख्य रूप से राग बसन्त का गायन-वादन हमें प्रकृति के निकट ले जाता है। हमारे परम्परागत भारतीय संगीत में ऋतु प्रधान रागों का समृद्ध भण्डार है। छः ऋतुओं बसन्त और पावस ऋतु मानव जीवन को सर्वाधिक प्रभावित करते हैं। आज के अंक से हम बसन्त ऋतु के राग बसन्त की चर्चा कर रहे हैं। इस मनभावन ऋतु में कुछ विशेष रागों के गायन-वादन की परम्परा है, जिनमें सर्वप्रमुख राग बसन्त है।

यह भी एक सुखद संयोग ही है कि भारतीय संगीत के विश्वविख्यात कलासाधक और सर्वोच्च राष्ट्रीय सम्मान ‘भारतरत्न’ से अलंकृत पण्डित भीमसेन जोशी का जन्म भी बसन्त ऋतु में 4 फरवरी, 1922 को हुआ था। दो दिन बाद उनका 93वाँ जन्मदिवस है। सात दशक तक भारतीय संगीताकाश पर छाए रहने वाले पण्डित भीमसेन जोशी का भारतीय संगीत की विविध विधाओं- ध्रुवपद, खयाल, तराना, ठुमरी, भजन, अभंग आदि सभी पर समान अधिकार था। उनकी खरज भरी आवाज़ का श्रोताओं पर जादुई असर होता था। बन्दिश को वे जिस माधुर्य के साथ बढ़त देते थे, उसे केवल अनुभव ही किया जा सकता है। तानें तो उनके कण्ठ में दासी बन कर विचरती थी। संगीत-जगत के सर्वोच्च स्थान पर प्रतिष्ठित होने के बावजूद स्वयं अपने बारे में बातचीत करने के मामले में वे संकोची रहे। आइए भारत के इस अनमोल रत्न की जयन्ती के अवसर पर उन्हीं के गाये राग बसन्त की एक रचना के माध्यम से उनका स्मरण करते हैं, साथ ही ऋतुराज बसन्त का अभिनन्दन भी। लीजिए, आप भी सुनिए- पण्डित भीमसेन जोशी के स्वर में राग बसन्त की तीनताल में निबद्ध यह मनोहारी प्रस्तुति। तबला पर पण्डित नाना मुले और हारमोनियम पर पुरुषोत्तम वलवालकर ने संगति की है।


राग बसन्त : ‘फगवा ब्रज देखन को चलो री...’ : स्वर – पण्डित भीमसेन जोशी




आइए, अब थोड़ी चर्चा राग बसन्त के बारे में कर ली जाए। राग बसन्त ऋतु प्रधान राग है। बसन्त ऋतु में इसे किसी भी समय गाया-बजाया जा सकता है। अन्य अवसरों पर इस राग को रात्रि के तीसरे प्रहर में गाने-बजाने की परम्परा है। पूर्वी थाट के अन्तर्गत आने वाले इस राग की जाति औडव-सम्पूर्ण होती है, आरोह में पाँच स्वर और अवरोह में सात स्वर प्रयोग किये जाते हैं। आरोह के स्वर हैं- स ग म॑ ध (कोमल) नि सं, तथा अवरोह के स्वर हैं- सं नि ध प म॑ ग रे स । इस राग में ललित अंग से दोनों मध्यम का प्रयोग होता है। आरोह में ऋषभ और पंचम स्वर वर्जित है। राग बसन्त का वादी स्वर षडज और संवादी स्वर पंचम होता है। कभी-कभी संवादी स्वर के रूप में मध्यम का प्रयोग भी होता है। यह एक प्राचीन राग है। ‘रागमाला’ में इसे हिंडोल का पुत्र कहा गया है।

आज का यह अंक हम बसन्त पंचमी पर्व को दृष्टिगत करते हुए प्रस्तुत कर रहे हैं, अतः अब हम आपको राग भैरवी में निबद्ध एक सरस्वती वन्दना सुनवा रहे हैं। वर्ष 1977 में एक फिल्म ‘आलाप’ प्रदर्शित हुई थी। फिल्म के संगीत निर्देशक जयदेव ने राग आधारित कई गीतों का समावेश इस फिल्म में किया था। फिल्म का कथानक संगीत-शिक्षा और साधना पर ही केन्द्रित था। संगीतकार जयदेव ने एक प्राचीन सरस्वती वन्दना- ‘माता सरस्वती शारदा...’ को भी फिल्म में शामिल किया। राग भैरवी में निबद्ध यह वन्दना इसलिए भी रेखांकन योग्य है कि यह युगप्रवर्तक संगीतज्ञ, और भारतीय संगीत के उद्धारक पण्डित विष्णु दिगम्बर पलुस्कर द्वारा स्वरबद्ध परम्परागत सरस्वती वन्दना है, जिसे फिल्म में यथावत रखा गया था। पलुस्कर जी का जन्म 1872 में हुआ था। उन्होने भक्तिगीतों के माध्यम भारतीय संगीत को समाज में प्रतिष्ठित किया था। आइए, सुनते हैं, राग भैरवी, तीनताल में निबद्ध यह वन्दना गीत। इस गीत को लता मंगेशकर, येशुदास, दिलराज कौर और मधुरानी ने स्वर दिया है। आप यह वन्दना गीत सुनिए और मुझे इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग भैरवी : ‘माता सरस्वती शारदा...’ : फिल्म आलाप : लता मंगेशकर, येशुदास, दिलराज कौर और मधुरानी





आज की पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ की 153वीं संगीत पहेली में हम आपको एक पुराने ग्रामोफोन रेकार्ड से वायलिन वादन का एक अंश प्रस्तुत कर रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 160वें अंक तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला का विजेता घोषित किया जाएगा।





1 – संगीत के इस अंश को सुन कर राग पहचानिए और हमें राग का नाम लिख भेजिए।

2 – किस ताल में यह रचना निबद्ध है?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 155वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ की 151वीं संगीत पहेली में हमने आपको गायन और सितार-वादन की जुगलबन्दी रचना का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग खमाज और दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- भजन- ‘वैष्णव जन तो तेने कहिए...’। इस अंक के दोनों प्रश्नो के सही उत्तर जबलपुर से क्षिति तिवारी, जौनपुर से डॉ. पी.के. त्रिपाठी, चंडीगढ़ से हरकीरत सिंह और हैदराबाद की डी. हरिणा माधवी ने दिया है। लखनऊ के चन्द्रकान्त दीक्षित ने केवल दूसरे प्रश्न का ही उत्तर दिया है और वह सही है, अतः उन्हें एक अंक मिलेगा। श्री दीक्षित ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘सिने-पहेली’ के नियमित प्रतिभागी हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ की पहेली में पहली बार भाग लेने पर हम उनका हार्दिक अभिनन्दन करते हैं। पाँचो प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात


   
मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर आज का हमारा यह अंक बसन्त पंचमी पर्व के प्रति समर्पित था। इस श्रृंखला की आगामी कड़ियों के लिए आप अपनी पसन्द के रागों या रचनाओं की फरमाइश कर सकते हैं। आप हमें एक नई श्रृंखला के विषय का सुझाव भी दे सकते हैं। हम आपके सुझावों और फरमाइशों का स्वागत करेंगे। अगले अंक में रविवार को प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इस मंच पर आप सभी संगीत-रसिकों की हमें प्रतीक्षा रहेगी। 


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र


Tuesday, August 9, 2011

आपकी याद आती रही...."अलाव" में जलते दिल की कराह

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 718/2011/158



'एक पल की उम्र लेकर' - सजीव सारथी की लिखी कविताओं की इस शीर्षक से किताब में से चुनकर १० कविताओं पर आधारित 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की इस लघु शृंखला की आठवीं कड़ी में आप सभी का स्वागत है। हमें आशा है कि अब तक इस शृंखला में प्रस्तुत कविताओं और गीतों का आपने भरपूर स्वाद चखा होगा। आज की कविता है 'अलाव'।



तुम्हारी याद

शबनम

रात भर बरसती रही

सर्द ठंडी रात थी

मैं अलाव में जलता रहा

सूखा बदन सुलगता रहा

रूह तपती रही

तुम्हारी याद

शबनम

रात भर बरसती रही



शायद ये आख़िरी रात थी

तुमसे ख़्वाबों में मिलने की

जलकर ख़ाक हो गया हूँ

बुझकर राख़ हो गया हूँ

अब न रहेंगे ख़्वाब

न याद

न जज़्बात ही कोई

इस सर्द ठंडी रात में

इस अलाव में

एक दिल भी बुझ गया है।




बाहर सावन की फुहारें हैं, पर दिल में आग जल रही है। कमरे के कोने में दीये की लौ थरथरा रही है। पर ये लौ दीये की है या ग़म की समझ नहीं आ रहा। बाहर पेड़-पौधे, कीट-पतंगे, सब रिमझिम फुहारों में नृत्य कर रहे हैं, और यह क्या, मैं तो बिल्कुल सूखा हूँ अब तक। काश मैं भी अपने उस प्रिय जन के साथ भीग पाती! पर यह क्या, वह लौ भी बुझी जा रही है। चश्म-ए-नम भी बह बह कर सूख चुकी है, बस गालों पर निशान शेष है। जाने कब लौटेगा वो, जो निकला था कभी शहर की ओर, एक अच्छी ज़िंदगी की तलाश में। जाने यह दूरी कब तक जान लेती रहेगी, जाने इंतज़ार की घड़ियों का कब ख़ातमा होगा। शायर मख़्दूम महिउद्दीन नें नायिका की इसी बेकरारी, बेचैनी और दर्द को समेटा था १९७९ की फ़िल्म 'गमन' की एक ग़ज़ल में। जयदेव के संगीत में छाया गांगुली के गाये इस अवार्ड-विनिंग् ग़ज़ल को आज की इस कविता के साथ सुनना बड़ा ही सटीक मालूम होता है। लीजिए ग़ज़ल सुनने से पहले पेश है इसके तमाम शेर...



आपकी याद आती रही रातभर,

चश्म-ए-नम मुस्कुराती रही रातभर।



रातभर दर्द की शमा जलती रही,

ग़म की लौ थरथराती रही रातभर।



बाँसुरी की सुरीली सुहानी सदा,

याद बन बन के आती रही रातभर।



याद के चाँद दिल में उतरते रहे,

चांदनी जगमगाती रही रातभर।



कोई दीवाना गलियों में फ़िरता रहा,

कोई आवाज़ आती रही रातभर।







और अब एक विशेष सूचना:

२८ सितंबर स्वरसाम्राज्ञी लता मंगेशकर का जनमदिवस है। पिछले दो सालों की तरह इस साल भी हम उन पर 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की एक शृंखला समर्पित करने जा रहे हैं। और इस बार हमने सोचा है कि इसमें हम आप ही की पसंद का कोई लता नंबर प्ले करेंगे। तो फिर देर किस बात की, जल्द से जल्द अपना फ़ेवरीट लता नंबर और लता जी के लिए उदगार और शुभकामनाएँ हमें oig@hindyugm.com के पते पर लिख भेजिये। प्रथम १० ईमेल भेजने वालों की फ़रमाइश उस शृंखला में पूरी की जाएगी।



और अब वक्त है आपके संगीत ज्ञान को परखने की. अगले गीत को पहचानने के लिए हम आपको देंगें ३ सूत्र जिनके आधार पर आपको सही जवाब देना है-



सूत्र १ - लता जी की आवाज़ है.

सूत्र २ - गीतकार ही खुद निर्देशक है.

सूत्र ३ - "शाख" शब्द मुखड़े की पहली दोनों पंक्तियों में आता है.



अब बताएं -

फिल्म के नायक कौन हैं - ३ अंक

संगीतकार बताएं - २ अंक

गीतकार बताएं - २ अंक



सभी जवाब आ जाने की स्तिथि में भी जो श्रोता प्रस्तुत गीत पर अपने इनपुट्स रखेंगें उन्हें १ अंक दिया जायेगा, ताकि आने वाली कड़ियों के लिए उनके पास मौके सुरक्षित रहें. आप चाहें तो प्रस्तुत गीत से जुड़ा अपना कोई संस्मरण भी पेश कर सकते हैं.



पिछली पहेली का परिणाम -

कल क्षिति जी ने ३ अंकों पर कब्ज़ा किया, इस शृंखला में पहली बार अमित जी से ये हक छीना है किसी ने बधाई



खोज व आलेख- सुजॉय चट्टर्जी






इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Tuesday, November 16, 2010

हौले हौले रस घोले....महान महदेवी वर्मा के शब्द और जयदेव का मधुर संगीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 528/2010/228

हिंदी साहित्य छायावादी विचारधारा के लिए जाना जाता है। छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में एक स्तंभ का नाम है महादेवी वर्मा। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार, और स्वागत है हिंदी साहित्यकारों की फ़िल्मी रचनाओं पर आधारित लघु शृंखला 'दिल की कलम से' की आठवीं कड़ी में। महादेवी वर्मा ना केवल हिंदी की एक असाधारण कवयित्री थीं, बल्कि वो एक स्वाधीनता संग्रामी, नारीमुक्ति कार्यकर्ता और एक उत्कृष्ट शिक्षाविद भी थीं। महादेवी वर्मा का जन्म २६ मार्च १९०७ को फ़र्रुख़ाबाद में हुआ था। उनकी शिक्षा मध्यप्रदेश के जबलपुर में हुआ था। उनके पिता गिविंदप्रसाद और माता हेमरानी की वो वरिष्ठ संतान थीं। उनके दो भाई और एक बहन थीं श्यामा। महादेवी जी का विवाह उनके ९ वर्ष की आयु में इंदौर के डॊ. स्वरूप नारायण वर्मा से हुआ, लेकिन नाबालिक होने की वजह से वो अपने माता पिता के साथ ही रहने लगीं और पढ़ाई लिखाई में मन लगाया। उनके पति लखनऊ में अपनी पढ़ाई पूरी। महादेवी जी ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा प्राप्त की और १९२९ में बी.ए की डिग्री लेकर १९३३ में सम्स्कृत में एम.ए कर लीं। महादेवी वर्मा और उनके पति दांपत्य जीवन में ज़्यादातर अलग अलग ही रहे अपनी अपनी रुचियों के चलते। १९६६ में स्वरूप जी के निधन के बाद महादेवी स्थायी रूप से इलाहाबाद में रहने लगीं और आजीवन वहीं रहीं। महात्मा बुद्ध के विचारों का उन पर गहरा असर हुआ और एक समय उन्होंने एक बौध भिक्षुणी बनने की भी कोशिश की थी। इलाहाबाद महिला विद्यापीठ की वो प्रथम मुख्यशिक्षिका बनीं, जिसका मुख्य उद्येश्य था हिंदी माध्यम से लड़कियों को शिक्षा देना। आगे चलकर वो इस विद्यापीठ की चांसेलर भी बनीं। ११ सितंबर १९८७ के रात ९:२७ मिनट पर महादेवी वर्मा चिरनिद्रा में सो गईं।

महादेवी वर्मा द्वारा लिखित कविता संग्रह 'यामा' को बेहद सराहना मिली थी, जिसे ज्ञानपीठ पुरस्कर से सम्मानित किया गया था। १९५६ में भारत सरकार ने साहित्य में उत्कृष्ट योगदान के लिए महादेवी वर्मा को पद्म भूषण से सम्मानित किया था। इसके अलावा १९७९ में देश के सर्वोच्च साहित्य सम्मान 'साहित्य अकादमी पुरस्कार' से उन्हें सम्मानित किया जा चुका है। १९८८ में मरणोपरांत उन्हें पद्मविभुषण से सम्मानित किया गया था। महादेवी वर्मा की लिखी कविताएँ और कहानियाँ स्कूल कालेजों के पाठ्यपुस्तकों में स्थान पाते हैं। महादेवी वर्मा को एक फ़िल्मी गीतकार के रूप में पाना फ़िल्म जगत का सौभाग्य है। १९८६ की फ़िल्म 'त्रिकोण का चौथा कोण' में उनका लिखा एक गीत शामिल किया गया था। छाया गांगुली की आवाज़ में यह गीत एक अद्भुत रचना है जिसे जयदेव ने स्वरबद्ध किया था। दोस्तों, मैं कोई साहित्यकार नहीं जो इस गीत के साहित्यिक पक्ष पर कोई टिप्पणी कर सकूँ, लेकिन इतना ज़रूर महसूस कर सकता हूँ कि यह एक उत्कृष्ट रचना है। इस कमचर्चित फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे विजयेन्द्र घाटगे, स्वरूप सम्पत, प्रियदर्शिनी, प्रमुख। जैसा कि फ़िल्म के शीर्षक से ही प्रतीत होता है, विवाह से बाहर के संबंधों का ताना बाना बुना गया होगा इस फ़िल्म की कहानी में। आइए इस गीत को सुनते हैं,

हौले हौले रस घोले बोले मुझसे जिया,
पिया पिया पे क्या जादू पर मैंने क्या किया।

इठलाये, इतराये, इतराये, इठलाये, पूछे मुझसे जिया,
पिया पिया पे क्या जादू पर मैंने क्या किया।

ज़रा देखिए कि किस तरह से "इठलाये" और "इतराये" शब्दों को दूसरी बार आपस में बदल कर गीत के सौंदर्य को और भी बढ़ा दिया है। लीजिए यह गीत सुनिए और महसूस कीजिए कि छाया गांगुली ने कैसा ख़ूबसूरत अंजाम दिया है इस गीत को। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' का आज का यह अंक समर्पित है महान कवयित्री और साहित्यकार महादेवी वर्मा की पुण्य स्मृति को।



क्या आप जानते हैं...
कि छायावादी विचारधारा के चार स्तंभों में महादेवी वर्मा के अलावा बाकी तीन स्तंभ कौन से हैं? ये हैं सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला', जयशंकर प्रसाद, और सुमित्रानंदन

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०९ /शृंखला ०३
ये प्रिल्यूड है गीत का -


अतिरिक्त सूत्र - ये कवि पिता भी हैं इंडस्ट्री के एक महानायक के.

सवाल १ - कवि / गीतकार का नाम बताएं - १ अंक
सवाल २ - गायक बताएं - २ अंक
सवाल ३ - फिल्म का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
श्याम कान्त जी ने काफी अच्छी बढ़त बना ली है, लगता है एक और मुकाबला उनके नाम रहेगा. शरद जी और अमित को भी बधाई, अवध जी का आभार

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Wednesday, November 10, 2010

नफ़रत की एक ही ठोकर ने यह क्या से क्या कर डाला...बालकवि बैरागी का रचा, जयदेव का स्वरबद्ध ये अमर गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 524/2010/224

'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार और बहुत बहुत स्वागत है आप सभी का इस महफ़िल में। इन दिनों 'ओल्ड इज़ गोल्ड' महक रहा है हिंदी साहित्यकारों की फ़िल्मी रचनाओं से। लघु शृंखला 'दिल की कलम से' की चौथी कड़ी में आज बातें बालकवि बैरागी की। कविता पाठ के रसिक बैरागी जी को अपने ओजपूर्ण स्वरों मे मंच पर कविता पाठ करते सुना होगा। उनके साहित्य में भारतीय ग्राम्य संस्कृति की सोंधी सोंधी महक मिलती है। और यही महक फ़िल्म 'रेशमा और शेरा' के लिए उनके लिखे इस गीत में मिलती है - "तू चंदा मैं चांदनी, तू तरुवर मैं शाख रे"। इसी फ़िल्म में उद्धव कुमार का लिखा "एक मीठी सी चुभन" गीत भी उल्लेखनीय है। दोस्तों, ये दोनों ही गानें हम 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर बजा चुके हैं क्रम से २२८ और ३१३ वीं कड़ियों में। तो फिर कौन सा गाना आपको सुनवाएँ? 'रेशमा और शेरा' में ही बालकवि बैरागी जी ने एक और गीत लिखा था, जिसे मन्ना डे ने गाया था। इस गीत को बहुत कम सुना गया। याद है आपको इस गीत के बोल? यह गीत है "नफ़रत की एक ही ठोकर ने यह क्या से क्या कर डाला"। चलिए आज इसी कमसुने गीत को सुना जाए। इस फ़िल्म के संगीतकर थे जयदेव, फ़िल्म की तमाम जानकारी आप उपर लिखे कड़ियों के आलेखों से प्राप्त कर सकते हैं। आज बातें बालकवि बैरागी जी की करते हैं। 'रेशमा और शेरा' के अलावा उपलब्ध जानकारी के अनुसार बैरागी जी ने फ़िल्म 'जादू टोना' में गीत लिखे थे जिसके संगीतकार थे आशा भोसले के सुपुत्र हेमन्त भोसले। इसके अलावा वसंत देसाई के संगीत में फ़िल्म 'रानी और लालपरी' में भी दिलराज कौर का गाया एक बच्चों वाला गीत लिखा था "अम्मी को चुम्मी पप्पा को प्यार"। गायिका शारदा ने कुछ फ़िल्मों में संगीत भी दिया था। ऐसी ही एक फ़िल्म थी 'क्षितिज' और इस फ़िल्म में भी बैरागी जी ने कुछ गीत लिखे थे। कुछ और फ़िल्मों के नाम हैं 'दो बूंद पानी', 'गोगोला', 'वीर छत्रसाल', 'अच्छा बुरा'। १९८४ में एक फ़िल्म आई थी 'अनकही' जिसमें तीन गानें थे। एक गीत तुल्सीदास का लिखा हुआ तो दूसरा गीत कबीरदास का। और तीसरा गीत पता है किन्होने लिखा था? जी हाँ, बैरागी जी ने। आशा भोसले की आवाज़ में यह सुंदर गीत था "मुझको भी राधा बना ले नंदलाल"। इसमें भी संगीत जयदेव का ही था।

बालकवि बैरागी किस स्तर के कवि थे, इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनके नाम पर 'बालकवि बैरागी कॊलेज ऒफ़ एडुकेशन' की स्थापना हुई है नीमुच के कनावती में। आइए आज हम बालकवि बैरागी जी का ही लिखा हुआ एक लेख यहाँ प्रस्तुत करते हैं "जब मैंने पहली कविता लिखी"।

"यह घटना उस समय की है जब मैं कक्षा चौथी का विद्यार्थी था। उम्र मेरी नौ वर्ष थी। आजादी नहीं मिली थी। दूसरा विश्वयुद्ध चल रहा था। मैं मूलत: मनासा नगर का निवासी हूँ, जो उस समय पुरानी होलकर रियासत का एक चहल-पहल भरा कस्बाई गाँव था। गरोठ हमारा जिला मुख्यालय था और इंदौर राजधानी थी। मनासा में सिर्फ सातवीं तक पढ़ाई होती थी। सातवीं की परीक्षा देने हमें 280 किलोमीटर दूर इंदौर जाना पड़ता था।

स्कूलों में तब प्रार्थना, ड्रिल, खेलकूद और बागवानी के पीरियड अनिवार्य होते थे। लेकिन साथ ही हमारे स्कूल में हर माह एक भाषण प्रतियोगिता भी होती थी। यह बात सन 1940 की है। मेरे कक्षा अध्यापक श्री भैरवलाल चतुर्वेदी थे। उनका स्वभाव तीखा और मनोबल मजबूत था। रंग साँवला, वेश धोती-कुर्ता और स्कूल आते तो ललाट पर कुमकुम का टीका लगा होता था। हल्की नुकीली मूँछें और सफाचट दाढ़ी उनका विशेष श्रृंगार था।

मूलत: मेवाड़ (राजस्थान) निवासी होने के कारण वे हिन्दी, मालवी, निमाड़ी और संस्कृत का उपयोग धड़ल्ले से करते थे। कोई भी हेडमास्टर हो, सही बात पर भिड़ने से नहीं डरते थे।

एक बार भाषण प्रतियोगिता का विषय आया 'व्यायाम'। चौथी कक्षा की तरफ से चतुर्वेदी जी ने मुझे प्रतियोगी बना दिया। साथ ही इस विषय के बारे में काफी समझाइश भी दी। यूँ मेरा जन्म नाम नंदरामदास बैरागी है। ईश्वर और माता-पिता का दिया सुर बचपन से मेरे पास है। पिताजी के साथ उनके चिकारे (छोटी सारंगी) पर गाता रहता था। मुझे 'व्यायाम' की तुक 'नंदराम' से जुड़ती नजर आई। मैं गुनगुनाया 'भाई सभी करो व्यायाम'। इसी तरह की कुछ पंक्तियाँ बनाई और अंत में अपने नाम की छाप वाली पंक्ति जोड़ी - 'कसरत ऐसा अनुपम गुण है/कहता है नंदराम/ भाई करो सभी व्यायाम'। इन पंक्तियों को गा-गाकर याद कर लिया और जब हिन्दी अध्यापक पं. श्री रामनाथ उपाध्याय पं. श्री रामनाथ उपाध्याय को सुनाया तो वे भाव-विभोर हो गए। उन्होंने प्रमाण पत्र दिया - 'यह कविता है। खूब जियो और ऐसा करते रहो।'

अब प्रतियोगिता का दिन आया। हेडमास्टर श्री साकुरिकर महोदय अध्यक्षता कर रहे थे। प्रत्येक प्रतियोगी का नाम चिट निकालकर पुकारा जाता था। चार-पाँच प्रतियोगियों के बाद मेरा नाम आया। मैंने अच्छे सुर में अपनी छंदबद्ध कविता 'भाई सभी करो व्यायाम' सुनाना शुरू कर दिया। हर पंक्ति पर सभागार हर्षित होकर तालियाँ बजाता रहा और मैं अपनी ही धुन में गाता रहा। मैं अपना स्थान ग्रहण करता तब तक सभागार हर्ष, उल्लास और रोमांच से भर चुका था। चतुर्वेदी जी ने मुझे उठाकर हवा में उछाला और कंधों तक उठा लिया।

जब प्रतियोगिता पूरी हुई तो निर्णायकों ने अपना निर्णय अध्यक्ष महोदय को सौंप दिया। सन्नाटे के बीच निर्णय घोषित हुआ। हमारी कक्षा हार चुकी थी। कक्षा छठी जीत गई थी। इधर चतुर्वेदी जी साक्षात परशुराम बनकर निर्णायकों के सामने अड़ गए। वे भयंकर क्रोध में थे और उनका एक मत था कि उनकी कक्षा ही विजेता है।

कुछ शांति होने पर बताया गया कि यह भाषण प्रतियोगिता थी, जबकि चौथी कक्षा के प्रतियोगी नंदराम ने कविता पढ़ी है, भाषण नहीं दिया है। कुछ तनाव कम हुआ। इधर अध्यक्षजी खड़े हुए और घोषणा की - 'कक्षा चौथी को विशेष प्रतिभा पुरस्कार मैं स्कूल की तरफ से देता हूँ।' सभागार फिर तालियों से गूँज उठा। चतुर्वेदी जी पुलकित थे और रामनाथजी आँखें पोंछ रहे थे। मेरे लिए यह पहला मौका था जब मुझे माँ सरस्वती का आशीर्वाद मिला और फिर कविता के कारण ही आपका अपना यह नंदराम बालकवि हो गया।"

और अब आज का गीत सुनिए मन्ना डे की आवाज़ में, फ़िल्म 'रेशमा और शेरा' से।



क्या आप जानते हैं...
कि मूलत: पंजाबी, जयदेव का जन्म अफ़्रीका के नाइरोबी में ३ अगस्त १९१८ को हुआ था।।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०५ /शृंखला ०३
ये है गीत का पहला इंटर ल्यूड -


अतिरिक्त सूत्र - एक एवर ग्रीन नायक पर फिल्माया गया है ये कवितामय गीत.

सवाल १ - गीतकार कवि का नाम बताएं - २ अंक
सवाल २ - संगीतकार बताएं - १ अंक
सवाल ३ - फिल्म का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
बहुत अच्छे श्याम कान्त जी, पहली बार शरद जी को कोई असली टक्कर मिल रही है. रोमेंद्र जी भी सही जवाब लाये हैं. "भारतीय नागरिक" जी और रोमेंद्र जी हौंसला अफजाई के लिए आभार. एक पुस्तक के रूप में इन्हें संजोना हम भी चाह रहे हैं. जिसके लिए इन दिनों आर्थिक मदद जुटाई जा रही है

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Thursday, October 28, 2010

बदरा छाए रे, कारे कारे अरे मितवा...कभी कभी खराब फिल्मांकन अच्छे खासे गीत को ले डूबते हैं

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 515/2010/215

'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों, नमस्कार! इन दिनों जारी है लघु शृंखला 'गीत गड़बड़ी वाले', और इसमें अब तक हमने आपको चार गानें सुनवा चुके हैं जिनमें कोई ना कोई भूल हुई थी, और उस भूल को नज़रंदाज़ कर गाने में रख लिया गया था। दोस्तों, अभी दो दिन पहले ही हमने 'बाप रे बाप' फ़िल्म का गीत सुनवाते वक़्त इस बात का ज़िक्र किया था कि किस तरह से फ़िल्मांकन के ज़रिए आशा जी की ग़लती को गीत का हिस्सा बना दिया था किशोर कुमार ने। लेकिन दोस्तों, अगर फ़िल्मांकन से इस ग़लती को सम्भाल लिया गया है, तो कई बार ऐसे भी हादसे हुए हैं कि फ़िल्मांकन की व्यर्थता की वजह से अच्छे गानें गड्ढे में चले गए। अब आप ही बताइए कि अगर गीत में बात हो रही है काले काले बादलों की, बादलों के गरजने की, पिया मिलन के आस की, लेकिन गाना फ़िल्माया गया हो कड़कते धूप में, वीरान पथरीली पहाड़ियों में, तो इसको आप क्या कहेंगे? जी हाँ, कई गानें ऐसे हुए हैं, जो कम बजट की फ़िल्मों के हैं। क्या होता है कि ऐसे निर्माताओं के पास धन की कमी रहती है, जिसकी वजह से उन्हें विपरीत हालातों में भी शूटिंग् कर लेनी पड़ती है और समझौता करना पड़ता है फ़िल्म के साथ, फ़िल्मांकन के साथ। आज हम आपको एक ऐसा ही गीत सुनवाने जा रहे हैं जिसके फ़िल्मांकन में गम्भीर त्रुटि हुई है। यह गीत है फ़िल्म 'मान जाइए' का, लता मंगेशकर का गाया, नक्श ल्यालपुरी का लिखा, और जयदेव का स्वरबद्ध किया, "बदरा छाए रे, कारे कारे अरे मितवा, छाए रे, अंग लग जा ओ मितवा"। बेहद सुंदर गीत, और क्यों ना हो, जब जयदेव के धुनों को लता जी की आवाज़ मिल जाए, तो इससे सुरीला, इससे मीठा और क्या हो सकता है भला! 'मान जाइए' १९७२ की बी. डी. पाण्डेय की फ़िल्म थी जिसके निर्देशक थे बी. आर. इशारा। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे राकेश पाण्डेय, रेहाना सुल्तान, असीत सेन, लीला मिश्र, जलाल आग़ा प्रमुख।

और अब बात करते हैं इस गीत के फ़िल्मांकन के बारे में। मेरा मतलब है फ़िल्मांकन में हुई त्रुटि के बारे में। मैं क्या साहब, ख़ुद नक्श ल्यालपुरी साहब से ही जानिए, जो बहुत नाराज़ हुए थे अपने इस गीत के फ़िल्मांकन को देखने के बाद। बातचीत का जो अंश हम यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं, वह हुई थी नक्श साहब और विविध भारती के कमल शर्मा के बीच 'उजाले उनकी यादों के कार्यक्रम' में।

नक्श: गाने के पिक्चराइज़ेशन पर भी बहुत कुछ डीपेण्ड करता है। एक खराब पिक्चराइज़ेशन गाने को नुकसान पहुँचा सकता है, गाने को बरबाद कर सकता है।

कमल: क्या ऐसा कोई 'बैड एक्स्पीरिएन्स' आपको हुआ है?

नक्श: एक नहीं, बल्कि बहुत सारे हुए। बहुत बार मेरे साथ हुआ है कि ग़लत पिक्चराइज़ेशन ने मेरे गाने को ख़तम कर दिया है। एक गाना था जिसकी शूटिंग् शिमला में होनी थी। गीत के दो अंतरे थे, जिनमें से एक बगीचे में फ़िल्माया जाना था और दूसरा अंतरा बर्फ़ के उपर जिसमें नायक नायिका को स्केटिंग् करते हुए दिखाये जाना था। तो मैंने उसी तरह से ये दो अंतरे लिखे। लेकिन जब फ़िल्म पूरी हुई और मैंने यह गाना देखा, तो मैं तो हैरान रह गया यह देख कर कि दोनों अंतरों का फ़िल्मांकन बिलकुल उल्टा हुआ है। जो अंतरा बगीचे में फ़िल्माया जाना चाहिए था, उसे बर्फ़ के उपर फ़िल्मा लिया गया। बर्फ़ वाले अंतरे के लिए मैंने लिखा था "पर्वत के दामन में चाँदी के आंगन में डोलते बोलते बदन", लेकिन यह निर्देशक के सर के उपर से निकल गई।

कमल: इस तरह के गड़बड़ी की कोई और मिसाल दे सकते हैं आप?

नक्श: एक गाना था "बदरा छाये रे", जिसके पिक्चराइज़ेशन में ज़रूरत थी बारिश की, हरियाली की। लेकिन फिर वही बात, जब मैंने फ़िल्म देखी, तो मुझे सिवाय सूखी घाँस के चारों तरफ़ और कुछ नज़र नहीं आया। अगर मैं आउटडोर के लिए कोई गाना लिखता हूँ तो आप उसे इनडोर में पिक्चराइज़ नहीं कर सकते। मेरे गीतों में पिक्चराइज़ेशन का बहुत बड़ा हाथ होता है।

दोस्तों, आप भी यू-ट्युब में इस गीत का विडियो देखिएगा, सच में बेहद अफ़सोस की बात है कि चिलचिलाती धूप में, नीले आसमान तले, रूखे वीरान पथरीले पहाड़ों में एक ऐसे गीत की शूटिंग हुई है जिसके बोल हैं "बदरा छाये रे कारे कारे अरे मितवा"। अगर ऐसे फ़िल्मांकन को देख कर गीतकार नाराज़ होता है, तो यह उसका हक़ है नाराज़ होने का। चलिए, फ़िल्मांकन को अब छोड़िए, और सुनिए यह सुमधुर रचना फ़िल्म 'मान जाइए' से।



क्या आप जानते हैं...
कि हिंदी फ़िल्मों में गीत लिखने के अलावा नक्श ल्यालपुरी ने कुल ४६ पंजाबी फ़िल्मों के लिए भी गीत लिखे हैं।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०६ /शृंखला ०२
ये धुन गीत के लंबे प्रील्यूड की है-


अतिरिक्त सूत्र - इस गीत में ये प्रिल्यूड जिसका कुछ हिस्सा हमने सुनवाया, लगभग आधे गीत के बराबर है यानी कि गीत की लम्बाई का करीब आधा हिस्सा प्रिल्यूड में चला जाता है.
सवाल १ - इस फिल्म के नाम जैसा आजकल एक चेवनप्राश भी बाजार में है, नाम बताएं फिल्म का- १ अंक
सवाल २ - आशा किशोर और साथियों के गाये इस गीत के संगीतकार बताएं - १ अंक
सवाल ३ - गीतकार बताएं - २ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
श्याम कान्त जी दूसरी शृंखला का आधा सफर खतम हुआ है आज, और अभी तक आप आगे हैं ७ अंकों से, अब अगली कड़ी रविवार को होगी. उम्मीद है तब तक आप परीक्षाओं से निपटकर आ पायेंगें, हमारी शुभकामनाएँ लेते जाईये. अमित जी और बिट्टू जी भी बहुत बढ़िया चल रहे हैं. अवध जी गलत हो गए आप इस बार, इंदु जी, तभी तो कहते हैं हमेशा दिल की सुना कीजिये

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Tuesday, September 28, 2010

अल्लाह तेरो नाम ईश्वर तेरो नाम.....जब अल्लाह और ईश्वर एक हैं तो फिर बवाल है किस बात का, शांति का सन्देश देता लता जी का ये भजन

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 493/2010/193

ज २८ सितंबर, यानी सुरों की मल्लिका लता मंगेशकर का जन्मदिन। लता जी को उनके ८२-वें वर्षगांठ पर हम अपनी ओर से, 'आवाज़' की ओर से और 'आवाज़' के सभी पाठकों व श्रोताओं की ओर से दे रहे हैं जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ। जिस तरह से उन्होंने अपनी आवाज़ के ज़रिए हम सब की ज़िंदगी को मधुरता से भर दिया है, ईश्वर उन्हें दीर्घायु करें और उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करें, ऐसी हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं। 'रस माधुरी' शृंखला की आज तीसरी कड़ी में बारी है शांत रस की। शांत रस मन का वह भाव है, वह स्थिति है जिसमें है सुकून, जिसमें है चैन, जिसमें है शांति। किसी भी तरह का हलचल मन को अशांत करती है। इसलिए यह रस तभी जागृत हो सकती है जब हम ध्यान और साधना के द्वारा अपने मन को काबू में रखें, हर चिंता को मन से दूर कर एक परम शांति का अनुभव करें। आजकल मेडिटेशन की तरफ़ लोगों का ध्यान बढ़ गया है। जिस तरह की भागदौड़ की ज़िंदगी आज का मनुष्य जी रहा है, एक दूसरे से आगे बढ़ने की होड़, जीवन में सफल बनने का प्रयास, और उस प्रयास में अगर किसी चीज़ को बलिवेदी पर चढ़ाया जा रहा है तो वह है शांति और सुकून। इसलिए आज लोग मेडिटेशन के द्वारा इस विचलित मनस्थिति से उबरने का प्रयास कर रहे है। दोस्तों, शुरु शुरु में हमने यह सोचा था कि इस रस पर आधारित हम आपको फ़िल्म 'रज़िया सुल्तान' का गीत "ऐ दिल-ए-नादान" सुनवएँगे। इस गीत का जो संगीत है, जो ठहराव है, उससे मन शांत तो हो जाता है, लेकिन अगर इसके लफ़्ज़ों पर ग़ौर करें तो यह मन की व्याकुलता, और हलचल का ही बयान करता है। गाने का रीदम भले ही शांत हो, लेकिन ये शब्द एक अशांत मन से निकल रहे हैं। इसलिए शांत रस के लिए शायद यह गीत सटीक ना हो। इसलिए हमने गीत बदलकर फ़िल्म 'हम दोनों' का सुकूनदायक "अल्लाह तेरो नाम ईश्वर तेरो नाम" कर दिया। आज भी बहुत से लोग समझते हैं कि यह एक ग़ैर फ़िल्मी पारम्परिक भजन है। बस यही है इस भजन की खासियत और साहिर लुधियानवी की भी, जिन्होंने इस अमर भजन की रचना की। यह भजन नंदा पर फ़िल्माया गया है जो मंदिर में बैठकर अन्य भक्तजनों के साथ गाती हैं।

'हम दोनों' १९६१ की फ़िल्म थी जिसका निर्माण किया था देव आनंद ने अपने नवकेतन के बैनर तले। फ़िल्म का निर्देशन किया अमरजीत ने। निर्मल सरकार की कहानी पर इस फ़िल्म के संवाद व पटकथा को साकार किया विजय आनंद ने। देव आनंद, नंदा और साधना अभिनीत इस फ़िल्म में संगीत था जयदेव का। इस फ़िल्म में लता जी के गाए दो भजन ऐसे हैं कि जो फ़िल्मी भजनों में बहुत ही ऊँचा मुक़ाम रखते हैं, जिनमें एक तो आज का प्रस्तुत भजन है और दूसरा भजन है "प्रभु तेरो नाम जो ध्याये फल पाए"। लता जी ने कुछ ऐसे डूब कर इन्हें गाया है कि इन्हें सुनकर ही मन पावन हो जाता है। "अल्लाह तेरो नाम ईश्वर तेरो नाम" भजन की ख़ासीयत है इसकी धर्मनिरपेक्षता। राग गौड़ सारंग पर आधारित यह गीत जब भी सुनें तो मन शांत हो जाता है, सुकून से भर जाता है दिल। बाहर की तेज़ रफ़्तार भरी ज़िंदगी के बीच भी जैसे यह गीत आज भी हमें एक अलग ही चैन-ओ-सुकून की दुनिया में लिए जाता है। १९६२ के चीनी आक्रमण के समय दिल्ली में आयोजित सिने कलाकारों की विशाल मंचीय आयोजन का आरम्भ लता ने इसी भजन से किया था। इस गीत की रेकॊर्डिंग् की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है। श्री पंकज राग की किताब 'धुनों की यात्रा' से हमें पता चला कि जिस तरह से उन दिनों लता और सचिन दा के बीच मनमुटाव चल रहा था, तो सचिन दा के सहायक होने की वजह से जयदेव साहब भी इसमें चाहे अनचाहे शामिल हो गए थे। शुरु शुरु में इस रचना को एम. एस. सुब्बूलक्ष्मी से गवाने की योजना थी, पर बाद में लता का नाम तय हुआ। अब लता जयदेव के लिए कैसे गातीं जिनके साथ घोर मनमुटाव चल रहा था! जब रशीद ख़ान को लता के पास भेजा गया तो उन्होंने साफ़ इंकार कर दिया। पर फिर जब लता को यह संदेश पहुँचाया गया कि यदि इस गीत को आप नहीं गाएँगी तो इस फ़िल्म से ही जयदेव को हटाकर किसी और को ले लिया जाएगा, तो लता हिचकीं। वे यह कभी नही चाहती थीं कि उनके कारण किसी का मौका छिन जाए। साथ ही यह भी लता सुन चुकी थीं कि जयदेव ने इस गाने की अलौकिक सी कम्पोज़िशन की है। बहरहाल कारण जो भी हो फ़िल्म संगीत को एक मीलस्तम्भ जैसी रचना तो मिल ही गई। पंडित जसराज ने स्वयं स्वीकार किया है कि इस भजन को रात में सुनकर उनकी आँखों में आँसू आ गए और अभिभूत होकर वे आधी नींद से जाग गए। और लता ने भी १९६७ में घोषित अपने दस सर्वश्रेष्ठ गीतों में तो इसे शामिल किया। तो लीजिए दोस्तों, आप भी सुनिए और हमें पूरा विश्वस है कि अगर आपका मन अशांत है तो इसे सुन कर आपको शांति मिलेगी, सुकून मिलेगा। लता जी को एक बार फिर से जनमदिन की ढेरों शुभकामनाएँ। कल फिर मिलेंगे, नमस्कार!



क्या आप जानते हैं...
कि 'हम दोनों' फ़िल्म श्याम-श्वेत फ़िल्म थी, लेकिन जून २००७ में इसका रंगीन वर्ज़न जारी किया गया है।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. हास्य रस की बात हो और इस हरफ़नमौला फ़नकार की बात हो, एक ही बात है। किस गायक की आवाज़ में है कल का गीत? १ अंक।
२. गीत के मुखड़े में दो पक्षियों के नाम आते हैं। गीत के बोल बताएँ। २ अंक।
३. यह उस फ़िल्म का गीत है जिसके शीर्षक के दोनों शब्द अंग्रेज़ी के हैं। फ़िल्म का नाम बताएँ। ३ अंक।
४. गीतकार और संगीतकार के नाम बताएँ। दोनों नाम सही होने पर ही अंक मिलेंगे। ४ अंक।

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह सब तीरंदाज़ कामियाब रहे हमारे....बहुत बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Wednesday, April 28, 2010

तमाम बड़े संगीतकारों के बीच रह कर भी जयदेव ने बनायीं अपनी खास जगह अपने खास अंदाज़ से

ओल्ड इस गोल्ड /रिवाइवल # ०८

ज 'ओल्ड इज़ गोल्ड रिवाइवल' में जयदेव का संगीत, साहिर लुधियानवी के बोल, फ़िल्म 'हम दोनो' का वही सदाबहार गीत "अभी ना जाओ छोड़ कर के दिल अभी भरा नहीं", जिसे आज भी सुन कर मानो दिल नहीं भरता और बार बार सुनने को जी करता है। दोस्तों, यह गीत उस दौर का है जब जयदेव साहब की धुनों पर बर्मन दादा यानी कि सचिन दा के धुनों का असर साफ़ सुनाई देता था। बाद में सचिन दा के ही कहने पर जयदेव जी ने अपनी अलग शैली बनाई और अपनी मौलिकता का परिचय दिया। जयदेव जी के परम भक्त और सुप्रसिद्ध पार्श्वगायक सुरेश वाडेकर उन्हे याद करते हुए कहते हैं - "पापाजी ने बहुत मेलडियस काम किया है, ख़ूबसूरत ख़ूबसूरत गानें दिए श्रोताओं के लिए। मैं भाग्यशाली हूँ कि मैने उनको ऐसिस्ट किया ६/८ महीने। 'सुर सिंगार' प्रतियोगिता जीतने के बाद मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिला। वो मेरे गुरुजी के क्लोज़ फ़्रेंड्स में थे। मेरे गुरुजी थे पंडित जियालाल बसंत। लाहौर से वो उनके करीबी दोस्त थे। पापाजी ने मेरे गुरुजी से कहा कि इसे मेरे पास भेजो, एक्स्पिरीयन्स हो जाएगा कि गाना कैसे बनता है, एक अच्छा अनुभव हो जाएगा। मैं गया उनके पास, वहीं पे मेरी लता जी से जान पहचान हो गई, उस समय वो फ़िल्म 'तुम्हारे लिए' का गाना "तुम्हे देखती हूँ तो लगता है ऐसे" के लिए आया करती थीं। मुझे वहाँ मज़ा आता था। कभी रीदम सेक्शन, कभी सिटिंग्स् में जाया करता था, तबला लेकर उनके साथ बैठता, कैसे गाना बनता है, शायर भी होते थे वहाँ, फिर गाना बनने के बाद 'ऐरेंजमेंट' कैसे किया जाता है, ये सब मैने देखा और सीखा। जयदेव जी के गीतों में फ़ोक का एक रंग होता था मीठा मीठा सा, गीत क्लासीक़ी और मेलडी भरा होता था, गाने में चैलेंज हमेशा होता था। पापाजी की साँस थोड़ी कम थी, इसको ध्यान में रख कर गाना बनाते थे कमाल का। "मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया" में छोटे छोटे टुकड़ों में इतना अच्छा लगता है। गाना शुरु होते ही लगता है कि ये तो पापाजी का गाना है। उनकी पहचान, उनका स्टैम्प उनके गानों में होता था। मैं बहुत भाग्यशाली रहा, उनसे बहुत कुछ सीखने को मिला।"

ओल्ड इस गोल्ड एक ऐसी शृंखला जिसने अंतरजाल पर ४०० शानदार एपिसोड पूरे कर एक नया रिकॉर्ड बनाया. हिंदी फिल्मों के ये सदाबहार ओल्ड गोल्ड नगमें जब भी रेडियो/ टेलीविज़न या फिर ओल्ड इस गोल्ड जैसे मंचों से आपके कानों तक पहुँचते हैं तो इनका जादू आपके दिलो जेहन पर चढ कर बोलने लगता है. आपका भी मन कर उठता है न कुछ गुनगुनाने को ?, कुछ लोग बाथरूम तक सीमित रह जाते हैं तो कुछ माईक उठा कर गाने की हिम्मत जुटा लेते हैं, गुजरे दिनों के उन महान फनकारों की कलात्मक ऊर्जा को स्वरांजली दे रहे हैं, आज के युग के कुछ अमेच्युर तो कुछ सधे हुए कलाकार. तो सुनिए आज का कवर संस्करण

गीत - अभी न जाओ छोड के...
कवर गायन - रश्मि नायर/ हेमंत बदया




ये कवर संस्करण आपको कैसा लगा ? अपनी राय टिप्पणियों के माध्यम से हम तक और इस युवा कलाकार तक अवश्य पहुंचाएं


रश्मि नायर
इन्टरनेट पर बेहद सक्रिय और चर्चित रश्मि मूलत केरल से ताल्लुक रखती हैं पर मुंबई में जन्मी, चेन्नई में पढ़ी, पुणे से कॉलेज करने वाली रश्मि इन दिनों अमेरिका में निवास कर रही हैं और हर तरह के संगीत में रूचि रखती हैं, पर पुराने फ़िल्मी गीतों से विशेष लगाव है. संगीत के अलावा इन्हें छायाकारी, घूमने फिरने और फिल्मों का भी शौक है

हेमंत बदया
हेमंत एक संगीतमय परिवार से हैं. बैंगलोर के श्री लक्ष्मी केशवा से इन्होने ललित संगीत और पंडित परमेश्वर हेगड़े से हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के गुर सीखे. टोरोंटो में रहने वाले हेमंत जी टीवी के अन्ताक्षरी और मस्त मस्त शोस में शान के साथ नज़र आये और कन्नडा संघ आईडल भी बने


विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड के ४०० शानदार एपिसोड आप सब के सहयोग और निरंतर मिलती प्रेरणा से संभव हुए. इस लंबे सफर में कुछ साथी व्यस्तता के चलते कभी साथ नहीं चल पाए तो कुछ हमसे जुड़े बहुत आगे चलकर. इन दिनों हम इन्हीं बीते ४०० एपिसोडों के कुछ चर्चित अंश आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं इस रीवायिवल सीरीस में, ताकि आप सब जो किन्हीं कारणों वश इस आयोजन के कुछ अंश मिस कर गए वो इस मिनी केप्सूल में उनका आनंद उठा सकें. नयी कड़ियों के साथ हम जल्द ही वापस लौटेंगें

Friday, April 9, 2010

पीतल की मेरी गागरी....लोक संगीत और गाँव की मिटटी की महक से चहकता एक 'सखी सहेली' गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 399/2010/99

कुछ आवाज़ें ऐसी होती हैं जिनमें इस मिट्टी की महक मौजूद होती हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो ऐसी आवाज़ें इस मिट्टी से जुड़ी हुई लगती है, जिन्हे सुनते हुए हम जैसे किसी सुदूर गाँव की तरफ़ चल देते हैं और वहाँ का नज़ारा आँखों के सामने तैरने लगता है। जैसे दूर किसी पनघट से पानी भर कर सखी सहेलियाँ कतार बना कर चली आ रही हों गाँव की पगडंडियों पर। आज हमने जिस गीत को चुना है उसे सुनते हुए शायद आपके ज़हन में भी कुछ इसी तरह के ख्यालात उमड़ पड़े। जी हाँ, 'सखी सहेली' शृंखला की आज की कड़ी में प्रस्तुत है मिनू पुरुषोत्तम और परवीन सुल्ताना की आवाज़ों में फ़िल्म 'दो बूंद पानी' का एक बड़ा ही प्यारा गीत "पीतल की मेरी गागरी"। इसमें वैसे मिनू जी और परवीन जी के साथ साथ उनकी सखी सहेलियों की भी आवाज़ें मौजूद हैं, लेकिन मुख्य आवाज़ें इन दो गायिकाओं की ही हैं। संगीतकार जयदेव की इस रचना में इस देश की मिट्टी का सुरीलापन कूट कूट कर समाया हुआ है। लोक गीत के अंदाज़ में बना यह गीत कैफ़ी आज़मी साहब के कलम से निकला था। आपको याद होगा कि सन्‍ १९७१ में ख़्वाजा अहमद अब्बास ने यह फ़िल्म बनाई थी 'दो बूंद पानी' जिसमें राजस्थान में पानी की समस्या को केन्द्रबिंदु में रखा गया था। एक तरफ़ पानी की समस्या पर बना फ़िल्म और दूसरी तरफ़ यह गीत जिसमें पानी भर कर लाने का दृश्य, क्या कॊन्ट्रस्ट है! यह एक बड़ा ही दुर्लभ गीत है जो आज कहीं से सुनाई नहीं देता। आख़िरी बार मैंने इसे विविध भारती पर कई महीने पहले सुना था, शायद यूनुस ख़ान द्वारा प्रस्तुत 'छाया गीत' कार्यक्रम में। आज यह दुर्लभ गीत ख़ास आप के लिए 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर।

'दो बूंद पानी' के मुख्य कलाकार थे घनश्याम, जलाल आग़ा, सिमि गरेवाल और किरण कुमार। दोस्तों, यह ज़रूरी नहीं कि अच्छे गानें केवल कामयाब फ़िल्मों में ही मौजूद हों। ऐसे असंख्य फ़िल्में हैं जिसने बॊक्स ऒफ़िस पर भले ही झंडे ना गाढ़ें हों, लेकिन संगीत के मामले में उत्कृष्ट रहे हैं। "पीतल की मेरी गागरी" एक ऐसा कर्णप्रिय गीत है जिसे बार बार सुन कर भी जैसे मन नहीं भरता और इसे बार बार पूरे चाव से सुना जा सकता है। पीतल के गगरी की धुने, सखी सहेलियों की खिलखिलाती हँसी, राजस्थानी लोक धुन, कुल मिलाकर एक ऐसा ग्रामीण समां बांध देता है कि शहर के सारे तनाव और परेशानियाँ भूल कर दिल जैसे कुछ पल के लिए एक सुकूनदायक ज़मीन की ओर निकल पड़ता है। वैसे आपको बता दें कि इस गीत में कुल तीन अंतरे हैं, लेकिन रिकार्ड पर केवल दो ही अंतरों को रखा गया है। फ़िल्म के पर्दे पर जो तीसरा अंतरा है इस गीत का, उसे हम नीचे लिख रहे हैं:

इक दिन ऐसा भी था पानी था गाँव में,
लाते थे गागरी भर के तारों की छाँव में,
कहाँ से पानी लाएँ कहाँ ये प्यार बुझाएँ,
जल जल के बैरी धूप में कम ना आया रंग दुहाई रे,
पीतल की मेरी गागरी दिलदी से मोल मंगाई रे।

तो आइए इस गीत को सुनें और हमें पूरा विश्वास है कि इस गीत को सिर्फ़ एक बार सुन कर आपका दिल नहीं भरेगा, आप बार बार इसे सुनेंगे। और ख़ास कर आप में से जो भाई बहन राजस्थान के निवासी हैं और इन दिनों विदेश में हैं, उनकी तो यह गीत सुन कर आँखें ज़रूर नम हो जाएँगी! आइए सुनते हैं।



क्या आप जानते हैं...
कि 'दो बूंद पानी' फ़िल्म के लिए ख़्वाजा अहमद अब्बास को १९७२ में 'नरगिस दत्त अवार्ड' से सम्मानित किया गया था। अब्बास साहब को यही पुरस्कार १९७० में भी मिला था 'सात हिंदुस्तानी' फ़िल्म के लिए।

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. शृंखला का ये अंतिम गीत है हिंदी फिल्म संगीत जगत की दो सबसे सफल गायिकाओं की आवाजों में इनके नाम बताएं-३ अंक.
2. इस मधुर गीत के गीतकार बताएं - २ अंक.
3. फिल्म की प्रमुख अभिनेत्री के साथ अनुराधा पटेल ने इसे परदे पर निभाया है, किस प्रमुख अभिनेत्री ने इस फिल्म में काम कर खूब वाह वाही लूटी है -२ अंक.
4. एल पी का है संगीत, फिल्म के निर्देशक कौन हैं -२ अंक.

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम-
मुबारकबाद शरद जी, बस अब आप शतक से मात्र २ अंक पीछे हैं, पदम जी ने भी बहुत कम समय में अर्ध शतक पूरा किया है, इंदु जी और अवध जी को भी बधाई...पुरस्कार ?....इस बार ये एक सरप्रायिस है :)

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Tuesday, March 16, 2010

आपकी याद आती रही...छाया गांगुली की आवाज़ और जयदेव का संगीत गूंजता रहा रात भर

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 375/2010/75

मानांतर सिनेमा की बात चल रही हो तो ऐसे में फ़िल्मकार मुज़फ़्फ़र अली का ज़िक्र करना बहुत ज़रूरी हो जाता है। मुज़फ़्फ़र अली, जिन्होने 'गमन', 'उमरावजान', 'अंजुमन' जैसी फ़िल्मों का निर्माण व निर्देशन किया, पटकथा और संवाद में भी मह्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके अलावा समानांतर सिनेमा के दो और प्रमुख स्तंभ जिनके नाम मुझे इस वक़्त याद आ रहे हैं, वो हैं गोविंद निहलानी और श्याम बेनेगल। वैसे आज हम ज़िक्र मुज़फ़्फ़र अली साहब का ही कर रहे हैं, क्योंकि आज जिस गीत को हमने चुना है वह है फ़िल्म 'गमन' का। १९७८ की इस फ़िल्म को लोगों ने ख़ूब सराहा था। अपनी ज़िंदगी को सुधारने संवारने के लिए लखनऊ निवासी ग़ुलाम हुसैन (फ़ारुख़ शेख़) बम्बई आकर काम करने का निश्चय कर लेता है, अपनी बीमार माँ और पत्नी (स्मिता पाटिल) को पीछे लखनऊ में ही छोड़ कर। बम्बई आने के बाद उसका करीबी दोस्त लल्लुलाल तिवारी (जलाल आग़ा) उसके टैक्सी धोने के काम पर लगा देता है। काफ़ी जद्दोजहद करने के बाद भी ग़ुलाम इतने पैसे नहीं जमा कर पाता जिससे कि वह लखनऊ एक बार वापस जा सके। उधर लल्लुलाल भी अपनी परेशानियों से परेशान है। कई सालों से बम्बई में रहने के बावजूद वह अपनी प्रेमिका यशोधरा (गीता सिद्धार्थ) के लिए कोई ढंग का मकान किराए पे लेने में असमर्थ है, और वह एक ऐसी चाली में रहता है जिसे बम्बई नगर निगम तोड़ने वाली है। क्या होता है ग़ुलाम और लल्लुलाल के साथ, यही है 'गमन' की कहानी। महानगर की ज़िंदगी को बहुत ही सच्चाई के साथ चित्रित किया गया है इस फ़िल्म में और इसी फ़िल्म का तो एक गीत ही यही कहता है कि "सीने में जलन आँखों में तूफ़ान सा क्यों है, इस शहर में हर शख़्स परेशान सा क्यों है?" ख़ैर, आज हम इस ग़ज़ल को तो नहीं सुनने जा रहे, लेकिन ऐसा ही एक ख़ूबसूरत गीत जिसे गाया है छाया गांगुली ने। ग़ुलाम हुसैन बम्बई आ जाने के बाद उसकी पत्नी स्मिता पाटिल रात की तन्हाई में उदास बैठी हुई है, और पार्श्व में यह गीत गूंज उठता है। गीत को इतने असरदार तरीक़े से गाया गया है कि सुन कर जैसे लगता है कि वाक़ई किसी की याद में दिल रो रहा हो! मख़दूम मोहिउद्दिन के बोल है और जयदेव का संगीत।

फ़िल्म 'गमन' के इस गीत के लिए गायिका छाया गांगुली को सर्वश्रेष्ठ गायिका का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार मिला था। इसी से जुड़ी यादें बता रही हैं छाया जी विविध भारती के एक कार्यक्रम में - "इससे पहले मुझे ग़ज़ल गाने का कोई तजुर्बा नहीं था। इस अवार्ड से मुझे प्रोत्साहन मिला और अच्छे से अच्छा गाने का। यह उन्ही (जयदेव) की मेहनत और कोशिश का परिणाम है। उसी साल १९७९ को 'गमन' के लिए 'बेस्ट म्युज़िक डिरेक्टर' का अवार्ड भी मिला उनको। मैंने कभी सोचा नहीं था कि एक दिन फ़िल्म में गाउँगी क्योंकि उस तरह से कभी सोचा नहीं था। जयदेव जी बहुत ही उदार और मृदुभाषी थे। नए कलाकारों का हौसला बढ़ाते थे। उन्हे साहित्य, संगीत और कविता से बहुत लगाव था। गीत की एक पंक्ति को लेकर सिंगर से अलग अलग तरह से उसे गवाते थे। उनके पास जाने से ऐसा लगता है कि नर्वस हो जाउँगी। उनका घर मेरे ऒफ़िस के नज़दीक ही था। मैं ऒल इंडिया रेडियो में काम करती थी। तो उनका जब बुलावा आया तो पहले दिन तो मैं गई भी नहीं। फिर दूसरे दिन उनके सहायक प्यारेलाल जी बुलाने आए थे। तब मैं गई। वो सामनेवाले से इस तरह से बात करते थे 'that he will make you feel very much at ease'. उनके संगीत में भारतीय संगीत की मेलडी भी है, साथ ही मांड की लोक शैली भी झलकती है। कहीं ना कहीं उनके गीतों में भक्ति रस भी मिल जाता है। मेरा एक ऐल्बम निकला था 'भक्ति सुधा' के नाम से, जिसमें उनके भजन थे। उच्चारण सीखने के लिए वो मुझे पंडित नरेन्द्र शर्मा के पास ले गए। उन्हे साहित्य का ज्ञान था, पर फिर भी वो मुझे पंडित जी के पास ले गए ताकि मुझे उनसे कुछ सीखने का मौका मिले। उनसे बहुत कुछ सीखने का मौका मिला।" तो चलिए दोस्तों, इस ख़ूबसूरत गीत को सुना जाए!



क्या आप जानते हैं...
कि गीतकार अंजान का असली नाम लालजी पान्डेय था और उनका जन्म बनारस में २८ अक्तुबर १९३० को हुआ था।

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. मुखड़े में शब्द है -"हिलोर", गीत पहचानें-३ अंक.
2. किस महान साहित्यकार की कृति पर आधारित है ये फिल्म- २ अंक.
3. जिस गीतकार ने इसे रचा है उनके पुत्र भी इंडस्ट्री के नामी गीतकारों में हैं, मूल गीतकार का नाम बताएं-२ अंक.
4. फिल्म के संगीतकार भारतीय शास्त्रीय संगीत के शिरोमणी है, कौन हैं -२ अंक.

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम-
शरद जी स्वागत है फिर आपका, इंदु जी, संगीता जी और पदम जी को बधाई
खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Sunday, March 14, 2010

तुम्हें हो न हो मुझको तो इतना यकीं है....रुना लैला की आवाज़ में गुलज़ार -जयदेव का रचा एक चुलबुला गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 373/2010/73

'१० गीत समानांतर सिनेमा के' लघु शृंखला के लिए आज हमने जिस गीत का चुनाव किया है, वह केवल फ़िल्म की दृष्टि से ही लीग से बाहर नहीं है, बल्कि इस गीत को जिस गायिका ने गाया है, वो भी हिंदी फ़िल्मी गीतों में बहुत कम सुनाई दी हैं। आज ज़िक्र गायिका रुना लैला की, और रुना जी की याद आते ही सब से पहले ज़हन में जो चुनिंदा गीत आ जाते हैं वे हैं "फुलोरी बिना चटनी कैसे बनी", "मेरा बाबू छैल छबीला मैं तो नाचूँगी", "दे दे प्यार दे", "दो दीवानें शहर में" और "तुम्हे हो ना हो मुझको तो इतना यक़ीं है"। जी हाँ, यही आख़िरी गीत आज हम सुनने ज रहे हैं। १९७७ की फ़िल्म 'घरोंदा' का यह गीत है। ७० के दशक से इस तरह की 'पैरलेल सिनेमा' या समानांतर सिनेमा मज़बूती पकड़ रही थी, जिनमें आम जनता के जीवन से जुड़ी सामाजिक मुद्दों को उठाया जाने लगा। समाज की सच्चाइयों पर से पर्दा उठाया जाने लगा। 'घरोंदा' एक ऐसी ही हक़ीक़त दर्शाने वाली फ़िल्म थी एक जोड़े की जो बम्बई में अपना फ़्लैट ख़रीदने के सपने देखा करते हैं। लेकिन उन्हे किन किन खट्टे-मीठे पड़ावों से गुज़रनी पड़ती है, वही सब इस फ़िल्म में दिखाया गया है। फ़िल्म में जयदेव जी का उम्दा संगीत था और गानें लिखे गुलज़ार साहब ने। भुपेन्द्र और रुना लैला की आवाज़ें थीं। रुना जी की आवाज़ एक ताज़े हवा के झोंके की तरह इस फ़िल्म में आई। ज़रीना वहाब पर फ़िल्माए गए इस फ़िल्म के गानें लोगों को ख़ूब पसंद आए। इस गीत के बोल भी लीग से हट के ही है क्यों कि इसमें प्यार का इक़रार बड़े ही अनोखे तरीक़े से हो रहा है कि "तुम्हे हो ना हो मुझको तो इतना यक़ीं है, मुझे प्यार तुमसे नहीं है नहीं है"। आगे नायिका गाती हैं कि "मुझे प्यार तुमसे नहीं है नहीं है, मगर मैंने ये राज़ अब तक न जाना, कि क्यों प्यारी लगती हैं बातें तुम्हारी, मैं क्यों तुमसे मिलने का ढूंढू बहाना, कभी मैंने चाहा तुम्हे छू के देखूँ, कभी मैंने चाहा तुम्हे पास लाना, मगर फिर भी इस बात का तो यक़ीं है मुझे प्यार तुमसे नहीं है"। देखा आपने, किस तरह की ख़ूबसूरती से गुलज़ार साहब ने शब्द पिरोये हैं. किस तरह के विरोधाभास के ज़रिए नायिका के दिल के भावों को उभारा है! यही सब बातें तो गुलज़ार साहब को दूसरे गीतकारो से अलग करती हैं।

आज रुना लैला की कुछ बातें की जाए। बंगलादेश के सील्हेट में जन्मीं रुना लैला के संगीत की शुरुआती तालीम पाक़िस्तान के कराची में हुई थी क्योंकि उनका परिवार वहाँ स्थानांतरीत हो गया था। उस्ताद क़ादर, जो बाद में पिया रंग के नाम से जाने गए, उनके गुरु थे। रुना लैला ने छोटी उम्र से शास्त्रीय संगीत की तालीम लेनी शुरु कर दी थी और उस्ताद हबीबुद्दिन ख़ान साहब से इस विधा की बारिक़ियाँ सीखीं। ६ साल की उम्र में रुना जी ने अपना पब्लिक परफ़ॊर्मैंस दिया और १२ साल की उम्र में एक पाक़िस्तानी फ़िल्म 'जुगनु' में अपना पहला गाना रिकार्ड करवाया। रुना लैला का गायिका बनना एक हादसा ही था। उनकी ब़ई बहन दीना को पहले ब्रेक मिला था, लेकिन परफ़ॊर्मैंस के दिन उनका गला ख़राब हो गया और रुना को उनकी जगह पर गवाने का निर्णय लिया गया। उस समय रुना इतनी छोटी थी कि उनसे तानपुरा भी संभाला नहीं जा रहा था। तानपुरे को सीधे ज़मीन पर रख कर उन्होने एक ख़याल प्रस्तुत किया था। उसके बाद रुना कराची टीवी के 'ज़िआ मोहिउद्दिन शो' में दिखाई दीं और उसके बाद बहुत सारी पाक़िस्तानी फ़िल्मों में गानें गाईँ ७० के दशक में। बड़ी बहन दीना रुना की तरह गायिका बनना चाहती थीं लेकिन शादी के बाद सब कुछ छोड़ना पड़ा। कर्कट रोग से दीना की मृत्यु हो जाने के बाद उनकी याद में रुना ने बंगलादेश में ६ कॊनसर्ट्स आयोजित किए और उससे प्राप्त धनराशी को ढाका के एक बच्चों के अस्पताल में कैन्सर वार्ड बनवाने के लिए डोनेट कर दिया। जहाँ तक फ़िल्मी गीतों का सवाल है, जिन पाक़िस्तानी फ़िल्मों में उनके गानें मशहूर हुए वे हैं 'कमांडर', 'फिर सुबह होगी', 'हम दोनों', 'अंजुमन', 'मन की जीत', 'अहसास' और 'दिलरुबा'। यहाँ भारत में 'घरोंदा', 'एक से बढ़कर एक', 'यादगार', 'अग्निपथ', 'घरद्वार' और 'शराबी' जैसी फ़िल्मों में उनके गाए गानें बेहद लोकप्रिय हुए। चलिए दोस्तों, अब आज का गीत सुना जाए। यह एक ऐसा गीत है जिसे बार बार सुनने पर भी बोरीयत नहीं होती। जो ख़ास बातें है इस गीत में आप ख़ुद ही सुनते हुए महसूस कीजिए, और पता लग जाए तो हमें भी बताइएगा।



क्या आप जानते हैं...
कि युं तो रुना लैला ने बंगलादेश और पाक़िस्तान में बहुत से पुरस्कार जीते, लेकिन भारत में उनको 'सहगल अवार्ड' से सम्मानित किया गया था।

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. गीत में एक शब्द है -"निशिगंधा", जो शायद इसी गीत में पहली और आखिरी बार इस्तेमाल हुआ है, गीत पहचानें-३ अंक.
2. व्यवसायिक सिनेमा के सबसे सफल संगीतकारों में से एक ने इस लीक से हट कर बनी फिल्म में शानदार संगीत दिया, बताएं इस जोड़ी का नाम- २ अंक.
3. इस फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ गीतकार का पुरस्कार पाने वाले गीतकार का नाम बताएं-२ अंक.
4. ये गीत इस गायक ने गाया है -२ अंक.

विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

पिछली पहेली का परिणाम-
बस दो ही जवाब ????, इंदु जी और पदम जी को बधाई
खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Saturday, February 27, 2010

देख ली तेरी खुदाई...न्याय शर्मा, जयदेव और तलत ने रचा निराशा का एक संसार

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 358/2010/58

'दस महकती ग़ज़लें और एक मख़मली आवाज़', इस शृंखला की आज है आठवीं कड़ी, और पिछले सात ग़ज़लों की तरह आज की ग़ज़ल भी ग़मज़दा ही है। १९६३ की फ़िल्म 'किनारे किनारे' तो फ़िल्म की हैसियत से तो नहीं चली थी, लेकिन इस फ़िल्म के गीत संगीत ने लोगों के दिलों में अच्छी ख़ासी जगह ज़रूर बनाई, जो जगह आज भी बरक़रार है। न्याय शर्मा के लिखे गीत और ग़ज़लें थीं, तो जयदेव का संगीत था। मन्ना डे और मुकेश के साथ साथ इस फ़िल्म में तलत महमूद साहब ने भी एक ऐसी ग़ज़ल गाई जो उनके करीयर की एक बेहद लोकप्रिय और कामयाब ग़ज़ल साबित हुई। याद है ना आपको "देख ली तेरी खुदाई बस मेरा दिल भर गया"? आज इसी ग़ज़ल को यहाँ सुनिए और हमें यक़ीन है कि एक लम्बे समय से आपने इस ग़ज़ल को नहीं सुना होगा। वैसे हमने इस फ़िल्म से मुकेश की आवाज़ में "जब ग़म-ए-इश्क़ सताता है तो हँस लेता हूँ" ग़ज़ल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में सुनवा चुके हैं और इस फ़िल्म से संबंधित जानकारी भी दे चुके हैं और न्याय शर्मा से जुड़ी कुछ बातें भी आपके साथ बाँटा हैं। आज करते हैं तलत महमूद साहब की ही बातें। पुरस्कारों की बात करें तो तलत साहब को जिन प्रमुख पुरस्कारों से नवाज़ा गया है, वो कुछ इस प्रकार हैं - भारत सरकार का पद्मभूषण, महाराष्ट्र राज्य सरकार फ़िल्म पुरस्कार, आशिर्वाद पुरस्कार, मध्य प्रदेश शासन का लता मंगेशकर पुरस्कार, अलामी उर्दू कॊन्फ़्रेन्स पुरस्कार, बॊम्बे फ़िल्म क्रिटिक्स अवार्ड, ग़ालिब अवार्ड, नौशाद अली अवार्ड, फ़िल्म जर्नलिस्ट्स अवार्ड, सिने-गोअर ऐसोसिएशन अवार्ड, बेग़म अख़्तर अवार्ड, ई.एम.आई. लाइफ़ टाइम अचीवमेण्ट अवार्ड, लायन क्लब अवार्ड, और रोटरी कल्ब अवार्ड प्रमुख। लेकिन दोस्तों, इनसे भी बढ़कर जो पुरस्कार तलत साहब को मिला, वह है लाखों, करोड़ों लोगों का प्यार, उनके चाहनेवालों की मोहब्बत, जो उन्हे बेशुमार मिली और आज भी उनके जाने के इतने सालों के बाद भी उन्हे मिल रही है। इससे बढ़कर और क्या पुरस्कार हो सकता है किसी कलाकार के लिए!

तलत महमूद अनेक बार विदेश यात्रा की हैं और हर बार उनके शोज़ में हज़ारों की संख्या में उनके चाहने वाले जमा हुए, हर जगह भीगी आँखों से लोगों ने उनके गाए गीतों को स्वीकारा, खड़े होकर उन्हे सम्मान दिया। सन् १९५६ में तलत पहले भारतीय पार्श्वगायक बने जो किसी दूसरे देश में जाकर व्यावसायिक कॊन्सर्ट में हिस्सा लिया। वह एक ६ शोज़ का टूर था ईस्ट अफ़्रीका क। लेकिन उनकी लोकप्रियता का यह नतीजा हुआ कि केवल ६ शोज़ से बात नही बनी, पब्लिक डीमाण्ड को देखते हुए उन्हे २५ शोज़ करने पड़े। १९६१ में कराची स्टेडियम में ५८,००० की भीड़ जमा हो गई, जिनमें से ज़्यादातर महिलाएँ थीं, केवल तलत साहब को सुनने के लिए। ई.एम.आई कराची ने तलत साहब को सम्मान स्वरूप एक सिल्वर डिस्क भेंट की, और इस तरह से तलत साहब भारत के पहले डिस्क पाने वाले गायक बनें। १९६८ में तलत साहब की वेस्ट इंडीज़ के त्रिनिदाद में ज़बरदस्त स्वागत हुआ उनके कॊन्सर्ट तो बाद की बात थी, उनके स्वागत में एयरपोर्ट पर ही हज़ारों की भीड़ जमा हो गई थी। तलत फ़ैन कल्ब की बैज लगाए हुए लोग सड़क के दोनों तरफ़ कतार में खड़े हो गए थे एयरपोर्ट से लेकर शहर तक। एक खुली लिमोसीन गाड़ी ने तलत को एयरपोर्ट से होटल तक पहुँचाया और तलत साहब गाड़ी से अपने चाहनेवालों के लिए हाथ हिला रहे थे। स्थानीय समाचार पत्रों ने तलत साहब के कॊन्सर्ट का मुख्य पृष्ठ पर जगह दी। उस देश में जहां बॊक्सिंग् बेहद लोकप्रिय खेल है, कभी बॊक्सिंग् को भी इस तरह का कवरेज नहीं मिला था। यहीं बात ख़तम नहीं हुई, वहाँ का बेहद पॊपुलर ग्रूप 'वेस्ट इंडीज़ स्टील बैण्ड' ने एक कैलीप्सो शैली का गीत बनाया "तलत महमूद वी आर प्राउड ऐण्ड ग्लैड, टू हैव अ पर्सोनलिटी लाइक यू हेयर इन त्रिनिदाद"। इस गीत को रेडियो पर बार बार बजाया गया, एयरपोर्ट पर बजाया गया, और सभी म्युज़िक दुकानों पर लगातार बजाया गया। दोस्तों, ये थी तलत साहब की विदेशों में लोकप्रियता की कुछ बातें। और आइए अब सुना जाए आज की ग़ज़ल, जिसके कुल तीन शेर इस प्रकार हैं।

देख ली तेरी ख़ुदाई बस मेरा दिल भर गया,
तेरी रहमत चुप रही मैं रोते रोते मर गया।

मेरे मालिक क्या कहूँ तेरी दुआओं का फ़रेब,
मुझ पे युं छाया कि मुझको घर से बेघर कर गया।

वो बहारें नाचती थी झूमती थी बदलियाँ,
अपनी क़िस्मत याद आते ही मेरा जी डर गया।



क्या आप जानते हैं...
कि तलत महमूद साहब के गीतों पर आधारित एक बैले (नृत्यनाटिका) की रचना की थी न्यु यॊर्क की The Joel Jay Fisher Ballet Company ने।

चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम आपसे पूछेंगें ४ सवाल जिनमें कहीं कुछ ऐसे सूत्र भी होंगें जिनसे आप उस गीत तक पहुँच सकते हैं. हर सही जवाब के आपको कितने अंक मिलेंगें तो सवाल के आगे लिखा होगा. मगर याद रखिये एक व्यक्ति केवल एक ही सवाल का जवाब दे सकता है, यदि आपने एक से अधिक जवाब दिए तो आपको कोई अंक नहीं मिलेगा. तो लीजिए ये रहे आज के सवाल-

1. मतले में ये दो शब्द है - "सहारा" और "दर्द", बताईये ग़ज़ल के बोल.-३ अंक.
2. फिल्म के निर्देशक ने ही इस गज़ल को लिखा है, उनका नाम बताएं - ३ अंक.
3. गज़ल के संगीतकार का नाम बताएं- २ अंक.
4. फिल्म के नाम में ३ अक्षर हैं जिसमें से एक है- "ख्वाब", फिल्म का नाम बताएं- सही जवाब के मिलेंगें २ अंक.

विशेष सूचना - यदि आप ओल्ड इस गोल्ड में कोई विशेष गीत सुनना चाहते हैं या पेश करने के इच्छुक हैं, या कोई भी अन्य जानकारी हमारे साथ बांटना चाहते हैं तो हमें oig@hindyugm.com पर भी संपर्क कर सकते हैं

पिछली पहेली का परिणाम-
पाबला जी आने का शुक्रिया, प्रेम और आशीर्वाद बनाये रखियेगा, पर ये क्या आपके चक्कर में हमारी इंदु जी जवाब देते देते रह गयी खैर शरद जी ने तीन अंक कमाए, हमारे पास जो रिकॉर्डिंग हैं उसमें ये शेर पहला ही है, सुनकर देखिये, अवध जी आपका भी अनुमान एकदम सही है, बधाई...
खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Wednesday, January 13, 2010

एक मीठी सी चुभन...सहमे सहमे प्यार के स्वर लता के, संगीत से सँवारे जयदेव ने

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 313/2010/13

'स्वरांजली' में आज हम उस संगीतकार को श्रद्धांजली अर्पित कर रहे हैं जिनका ज़िक्र हमने इसी शृंखला की पहली कड़ी में किया था। जी हाँ, जयदेव जी। उनका स्वरबद्ध गीत यशुदास जी के जन्मदिन पर आप ने सुना था। जयदेव जी का देहावसान हुआ था ६ जनवरी के दिन। आज १३ जनवरी हम दे रहे हैं उन्हे अपनी श्रद्धांजली। जयदेव जी के बारे मे क्या कहें, इतने सुरीले थे वो कि उनका हर गीत उत्कृष्ट हुआ करता था। उनका कोई भी गीत ऐसा नहीं जो कर्णप्रिय ना हो। जयदेव जी की धुनों के लिए उत्कृष्टता से बढ़कर कोई शब्द नहीं है, ऐसा विविध भारती के यूनुस ख़ान ने भी कहा था जयदेव जी पर 'आज के फ़नकार' कार्यक्रम प्रस्तुत करते हुए। चाहे शास्त्रीय संगीत हो या लोक संगीत, जयदेव के गीतों में कुछ भी अनावश्यक नहीं लगता। गीत के अनुरूप धुन की पूर्णता का अहसास कराता है उनका संगीत, ना कुछ कम ना कुछ ज़्यादा। विविध भारती के ही एक अन्य कार्यक्रम में वरिष्ठ उद्‍घोषक कमल शर्मा ने कहा था कि "धुन रचने से पहले जयदेव गीतकार की रचना को सुनते थे, उसकी वज़न को परखते थे। उनका विचार था कि शब्द पहले आने चाहिए, गीत का अर्थ गड़बड़ाना नहीं चाहिए। फिर उसके बाद वो अपने असरदार संगीत से गीत को पूर्णता तक पहुँचाते थे।" जयदेव जी अपने गीतों में स्थान, काल और पात्र का पूरा पूरा ख़याल रखते थे। तभी तो राजस्थान की पृष्ठभूमि पर बनी फ़िल्म 'रेशमा और शेरा' के संगीत में उन्होने राजस्थान का रंग भरा। मांड और ख़ास राजस्थानी लोक संगीत और शास्त्रीय संगीत का ऐसा ब्लेंडिंग् किया कि इस फ़िल्म के गानें अमरत्व को प्राप्त हो गए। ख़ास कर लता जी के गाए दो गानें, जिनमें से एक ("तू चंदा मैं चांदनी") हम आपको 'दस राग दस रंग' शृंखला के अन्तर्गत सुनवा चुके हैं। और दूसरा गीत है "एक मीठी सी चुभन, एक हल्की सी अगन मैं आज पवन में पाऊँ", जिसे आज हम लेकर आए हैं।

'रेशमा और शेरा' १९७१ की फ़िल्म थी जिसका निर्माण किया था सुनिल दत्त ने। सुनिल दत्त साहब ने फ़िल्म का ना केवल निर्माण किया बल्कि फ़िल्म को निर्देशित भी किया और पर्दे पर 'शेरा' की भूमिका में छा भी गए। 'रेशमा' की भूमिका मे थीं वहीदा रहमान। यह एक मल्टि-स्टारर फ़िल्म थी, और अन्य महत्वपूर्ण किरदारों में शामिल थे राखी, विनोद खन्ना, और अमिताभ बच्चन। इस फ़िल्म में संजु बाबा, यानी कि हमारे संजय दत्त साहब बतौर बाल कलाकार एक क़व्वाली में नज़र आए थे। जैसा कि फ़िल्म के शीर्षक से प्रतीत होता है कि यह रेशमा और शेरा की प्रेम कहानी है, लेकिन दोनों के परिवारों में ज़बरदस्त दुश्मनी है, जिसे अंग्रेज़ी में feudal conflict कह सकते हैं। ऐसे में कई क्रूर हादसों से गुज़रती हुई एस. अली. रज़ा की कहानी आगे बढ़ती है। इस फ़िल्म ने समीक्षकों की बहुत तारीफ़ें बटोरी और कई पुरस्कारों से फ़िल्म को सम्मानित भी किया गया। १९७२ में बर्लिन फ़िल्म महोत्सव में इस फ़िल्म का नामांकन हुआ 'गोल्डन बर्लिन बीयर' पुरस्कार के लिए। इस फ़िल्म के मधुर संगीत के लिए जयदेव जी को राष्ट्रीय पुरस्कार (सिल्वर लोटस) से सम्मानित किया गया। फ़िल्म में गानें लिखे कवि नीरज, बालकवि बैरागी, राजेन्द्र कृष्ण और उद्धव कुमार ने। आज का गीत उद्धव कुमार का लिखा हुआ है। ये बड़े ही कमचर्चित गीतकार रहे, जिन्होने इस फ़िल्म के अलावा संगीतकार रोशन के लिए 'हमलोग' और 'शीशम' जैसी फ़िल्मों में गीत लिखे हैं। दोस्तो, विविध भारती के 'संगीत सरिता' में जब अनिल बिस्वास जी तशरीफ़ लाए थे, उन्होने कई संगीतकारों की रचनाओं का ज़िक्र किया था जो उनके दिल के बेहद क़रीब थे। जयदेव जी के जिन तीन गीतों का उन्होने उल्लेख किया था वे थे फ़िल्म 'गमन' के दो गीत "सीने में जलन" और "आपकी याद आती रही रात भर", तथा तीसरा गीत था "एक मीठी सी चुभन"। इस गीत को बजाते हुए उन्होने इस तरह से कहा था कि "मैं जयदेव का वही चीज़ सुनाना चाहता हूँ जिसने मेरे दिल में एक चुभन डाल दिया है, समझ गए ना?" चलिए, जयदेव जी की इस मीठी चुभन का अनुभव हम भी करते हैं लता जी की आवाज़ में।



चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम रोज आपको देंगें ४ पंक्तियाँ और हर पंक्ति में कोई एक शब्द होगा जो होगा आपका सूत्र. यानी कुल चार शब्द आपको मिलेंगें जो अगले गीत के किसी एक अंतरे में इस्तेमाल हुए होंगें, जो शब्द बोल्ड दिख रहे हैं वो आपके सूत्र हैं बाकी शब्द बची हुई पंक्तियों में से चुनकर आपने पहेली सुलझानी है, और बूझना है वो अगला गीत. तो लीजिए ये रही आज की पंक्तियाँ-

वो परी थी आसमानी कोई,
जिसके होने सा था चमन गुलज़ार,
अब तो बस फिजा में गूंजती है कोई याद,
उजड़ी महफ़िलों को क्यों रोये दिले नाशाद...

अतिरिक्त सूत्र - १४ जनवरी १९९१ में इस संगीतकार ने अंतिम सांसे ली थी

पिछली पहेली का परिणाम-
अरे आप गलत कैसे हो सकती हैं इंदु जी, बिलकुल सही जवाब और इस बार मिलते हैं २ अंक भी बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Monday, January 11, 2010

चाँद अकेला जाए सखी री....येसुदास की मधुर आवाज़ और जयदेव का संगीत, इससे बेहतर क्या होगा...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 311/2010/11

नवरी का महीना फ़िल्म संगीत जगत के लिए एक ऐसा महीना है जिसमें अनेक कलाकारों के जन्मदिवस तथा पुण्यतिथि पड़ती है। इस साल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की शुरुआत हमने की पंचम यानी कि राहुल देव बर्मन के पुण्यतिथि को केन्द्रित कर उन पर आयोजित लघु शृखला 'पंचम के दस रंग' के ज़रिए, जो कल ही पूर्णता को प्राप्त हुई है। पंचम के अलावा जनवरी के महीने में और भी बहुत सारे संगीतकारों, गीतकारों और गायकों के जन्मदिन व स्मृतिदिवस हैं, तो हमने सोचा कि क्यों ना दस अंकों की एक ख़ास लघु शृंखला चलाई जाए जिसमें ऐसे कलाकारों को याद कर उनके एक एक गीत सुनवा दिए जाएँ और उनसे जुड़ी कुछ बातें भी की जाए। तो लीजिए प्रस्तुत है आज, यानी ११ जनवरी से लेकर २० जनवरी तक 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की ख़ास शृंखला 'स्वरांजली'। दोस्तों, आज है ११ जनवरी। और कल, यानी कि १० जनवरी को था हिंदी और दक्षिण भारत के सुप्रसिद्ध पार्श्वगायक यशुदास जी का जनमदिन। जी हाँ, यशुदास, जिनका नाम कई जगह बतौर जेसुदास भी दिखाई दे जाता है। तो हम यशुदास जी को कहते हैं 'बिलेटेड हैप्पी बर्थडे'!!! पद्मभूषण डॊ. कट्टास्सरी जॊसेफ़ यशुदास (Kattassery Joseph) का जन्म १० जनवरी १९४० को कोचिन में पिता Augustine Joseph और माँ Alicekutty के घर हुआ था। यशुदस के बारे में विस्तृत जानकारी आप उनकी वेबसाइट पर प्राप्त कर सकते हैं। हम यहाँ बस इतना ही कहेंगे कि उन्होने भारतीय और विदेशी भाषाओं में कुल ४०,००० से उपर गानें गाए हैं। उन्हे ७ बार सर्वश्रेष्ठ पार्श्वगायक के राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं जो किसी पार्श्वगायक के लिए सब से अधिक बार है। मलयालम के कई फ़िल्मों में उन्होने बतौर संगीतकार भी काम किया है और उन्हे वहाँ 'गान गधर्व' के नाम से संबोधित किया जाता है।

दोस्तों, यशुदास एक ऐसे गायक हैं जिनका स्तर बहुत ऊँचा है। ७० के दशक के अंतिम भाग से लेकर ९० के दशक के शुरआती सालों तक उन्होने हिंदी फ़िल्म जगत में बेहतरीन से बेहतरीन गानें गाए हैं। दक्षिण में उनके गाए गीतों की संख्या तो भूल ही जाइए। और सब से बड़ी बात यह कि हिंदी फ़िल्मों के लिए उन्होने जितने भी गानें गाए हैं, उनका स्कोर १००% रहा है। यानी कि उनका हर गीत सुरीला है, कभी भी उन्होने कोई सस्ता गीत नहीं गाया, कभी भी व्यावसायिक्ता के होड़ में आकर अपने स्तर को गिरने नहीं दिया। आज जब हम उनके गाए गीतों को याद करते हैं, तो हर गीत लाजवाब, हर गीत बेमिसाल पाते हैं। शास्त्रीय और लोक संगीत पर आधारित गानें उनसे ज़्यादा गवाए गये हैं। और आज के लिए हमने एक बहुत ही ख़ूबसूरत सा गीत चुना है शास्त्रीय रंग में ढला हुआ। फ़िल्म का नाम है 'आलाप' और गाने के बोल हैं "चांद अकेला जाए सखी री"। फ़िल्म 'आलाप' १९७७ की फ़िल्म थी जिसका निर्माण किया था ऋषिकेश मुखर्जी और एन. सी. सिप्पी ने। ऋषि दा की ही कहानी थी और उन्ही का निर्देशन था। अमिताभ बच्चन, रेखा, छाया देवी और ओम प्रकाश जैसे स्टार कास्ट के होते हुए, और ऋषि दा जैसे निर्देशक और कहानीकार के होने के बावजूद यह फ़िल्म बुरी तरह से फ़्लॊप हुई। ऐसा सुनने में आता है कि फ़िल्म के रिलीज़ होने के बाद 'मोहन स्टुडियो' में १५ अप्रैल १९७७ के दिन फ़िल्म के कुछ अंश दोबारा फ़िल्माए गए, लेकिन फिर भी वो फ़िल्म के क़िस्मत को नहीं बदल सके। आज अगर यह फ़िल्म याद की जाती है तो बस इसके गीतों की वजह से। संगीतकार जयदेव का सुरीला संगीत इस फ़िल्म में सुनाई देता है जो शास्त्रीय संगीत पर आधारित है। दोस्तों, जयदेव जी की भी पुण्य तिथि इसी महीने की ६ तारीख़ को थी। आगे चलकर इस शृंखला में हम उन्हे भी अलग से अपनी स्वरांजली अर्पित करेंगे। डॊ. राही मासूम रज़ा ने फ़िल्म 'आलाप' के संवाद लिखने के साथ साथ फ़िल्म के गानें भी लिखे, सिवाय एक गीत के ("कोई गाता मैं सो जाता") जिसे डॊ. हरिवंशराय बच्चन ने लिखा था। फ़िल्म के ज़्यादातर गानें यशुदास ने ही गाए, एक गीत भुपेन्द्र की आवाज़ में था। गायिकाओं में लता मंगेशकर, दिलराज कौर, और शास्त्रीय गायिकाएँ कुमारी फ़य्याज़ और मधुरानी की आवाज़ें शामिल थीं। फ़िल्म की कहानी पिता पुत्र के आपस के मतभेद को लेकर था। जहाँ पुत्र को गीत संगीत का शौक है और उसी दिशा में आगे बढ़्ना चाहता है, वहीं उद्योगपति पिता चाहता है कि बेटा उन्ही की राह पर चले। बस इसी के इर्द गिर्द घूमती है कहानी। तो आइए, अब इस सुमधुर गीत का आनंद उठाया जाए। चलते चलते आपको यह बता दें कि फ़िल्म 'आलाप' समर्पित किया गया था गायक मुकेश की पुण्यस्मृति को जिनका इस फ़िल्म के रिलीज़ के कुछ महीनें पहले अमरीका में निधन हो गया था। तो दोस्तों, आज यशुदास जी को उनकी ७१ वीं वर्षगांठ पर बधाइयाँ देने के साथ साथ स्वर्गीय मुकेश जी को भी हम अर्पित कर रहे हैं हमारी स्वरांजली।



चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम रोज आपको देंगें ४ पंक्तियाँ और हर पंक्ति में कोई एक शब्द होगा जो होगा आपका सूत्र. यानी कुल चार शब्द आपको मिलेंगें जो अगले गीत के किसी एक अंतरे में इस्तेमाल हुए होंगें, जो शब्द बोल्ड दिख रहे हैं वो आपके सूत्र हैं बाकी शब्द बची हुई पंक्तियों में से चुनकर आपने पहेली सुलझानी है, और बूझना है वो अगला गीत. तो लीजिए ये रही आज की पंक्तियाँ-

बिछड गयी खुशबू पवन से,
रूखी धूल उड़े रे,
मुरझे फूल करे क्या गुजारा,
हंसना भूल गए रे....

अतिरिक्त सूत्र- इस गीत के माध्यम से हम याद करेंगें उस संगीतकार को जिनकी पुण्यतिथि इस माह की ५ तारीख को थी.

पिछली पहेली का परिणाम-
इंदु जी, फिर एक बार आपको एक ही अंक मिलेगा, आज की पहेली में मौका दीजिए किसी और को जीतने का ताकि अगले जवाब के साथ आपको फिर २ अंक मिले, वैसे आपकी याददाश्त का जवाब नहीं, इस पहेली को सुलझाना आसान नहीं था, बधाई...

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ