Showing posts with label pankaj awasthi. Show all posts
Showing posts with label pankaj awasthi. Show all posts

Tuesday, December 14, 2010

मिर्च, ब्रेक के बाद, तेरा क्या होगा जॉनी, नो प्रोब्लम और इसी लाईफ़ में के गानों के साथ हाज़िर है इस साल की आखिरी समीक्षा

हम हरबार किसी एक या किन्ही दो फिल्मों के गानों की समीक्षा करते थे और इस कारण से कई सारी फिल्में हमसे छूटती चली गईं। अब चूँकि अगले मंगलवार से हम दो हफ़्तों के लिए अपने "ताजा सुर ताल" का रंग कुछ अलग-सा रखने वाले हैं, इसलिए आज हीं हमें बची हुई फिल्मों को निपटाना होगा। हमने निर्णय लिया है कि हम चार-फिल्मों के चुनिंदा एक या दो गाने आपको सुनवाएँगे और उस फिल्म के गाने मिला-जुलाकर कैसे बन पड़े हैं (और किन लोगों ने बनाया है), वह आपको बताएँगे। तो चलिए इस बदले हुए हुलिये में आज की समीक्षा की शुरूआत करते हैं।

आज की पहली फिल्म है "ब्रेक के बाद"। इस फिल्म में संगीत दिया है विशाल-शेखर ने और बोल लिखे हैं प्रसून जोशी ने। बहुत दिनों के बाद प्रसून जोशी की वापसी हुई है हिन्दी फिल्मों में... और मैं यही कहूँगा कि अपने बोल से वे इस बार भी निराश नहीं करते। अलग तरह के शब्द लिखने में इनकी महारत है और कुछ गानों में इसकी झलक भी नज़र आती है, हाँ लेकिन वह कमाल जो उन्होंने "लंदन ड्रीम्स" में किया था, उसकी थोड़ी कमी दिखी। बस एक गाना "धूप के मकान-सा" में उनका सिक्का पूरी तरह से जमा है। वैसे गाने में संगीत और गायकी की भी उतनी हीं ज़रूरत होती है और यह तो सभी जानते हैं कि विशाल-शेखर किस तरह का संगीत रचते हैं। यहाँ भी उनकी वही छाप नज़र आती है। जो उनका संगीत पसंद करते हैं (जैसे कि मैं करता हूँ), उन्हें इस फिल्म के गाने भी पसंद आएँगे, ऐसा मेरा यकीन है। चलिए तो आपको इस फिल्म से दो गाने सुनवाते हैं। पहला गाना है एलिस्सा मेन्डोंसा (शंकर-एहसान-लॉय की तिकड़ी में से लॉय की सुपुत्री) एवं विशाल दादलानी की आवाज़ों में "अधूरे" , वहीं दूसरा गाना है नीरज श्रीधर, विशाल, शेखर एवं रिस डिसूजा की आवाज़ों में "अजब लहर"।

अधूरे


अजब लहर


"ब्रेक के बाद" के बाद आईये सुनते हैं फिल्म "तेरा क्या होगा जॉनी" के गानों को। यह फिल्म आने के पहले हीं सूर्खियों में आ चुकी है.. क्योंकि यह कई महिने पहले हीं "लीक" हो गई थी.. कईयों ने इसे "पाईरेटेड सीडीज" पर देख भी लिया है (मैंने नहीं :) )। फिल्म के नाम और इसके मुख्य कलाकार (नील नीतिन मुकेश) को देखा जाए तो यह "जॉनी गद्दार" का सिक़्वेल लगती है, लेकिन चूँकि इन दोनों के निर्देशक अलग-अलग हैं (जॊनी गद्दार: श्रीराम राघवन, तेरा क्या होगा जॉनी: सुधीर मिश्रा) तो यह माना जा सकता है कि दोनों की कहानियों में कोई समानता नहीं होगी। इस फिल्म में संगीत है पंकज अवस्थी एवं अली अज़मत का और बोल लिखे हैं नीलेश मिश्रा ,जुनैद वसी, अली अज़मत , सुरेंद्र चतुर्वेदी, सबीर ज़ाफ़र एवं संदीप नाथ ने। अभी हम आपको जो दो गाने सुनाने जा रहे हैं, उनमें पंकज अवस्थी की "लीक से हटकर" आवाज़ है, जो गीतकारों की कविताओं में चार चाँद लगा देती है। पहला गाना है "सुरेंद्र चतुर्वेदी" का लिखा "शब को रोज़" एवं दूसरा है "नीलेश मिश्रा" का लिखा "लहरों ने कहा"। ये रहे वो दो गाने:

शब को रोज़


लहरों ने कहा


अगली फिल्म है "विनय शुक्ला" की "मिर्च"। विनय अपनी फिल्म "गॉडमदर" के कारण प्रख्यात हैं। अपनी इस नई फिल्म में विनय ने "लिंग-समानता" (जेंडर-इक़्विलटी) एवं "वुमन सेक्सुवलिटी" को केंद्र में रखा है। उनका कहना है कि उन्हें यह फिल्म बनाने की प्रेरणा पंचतंत्र की कुछ कहानियों को पढने के बाद मिली। इस फिल्म के मुख्य कलाकार हैं "कोंकणा सेन शर्मा, राईमा सेन, सहाना गोस्वामी, इला अरूण, श्रेयस तालपड़े एवं बोमन ईरानी"। जहाँ तक संगीत की बात है तो कई सालों बाद मोंटी शर्मा बॉलीवुड की मुख्य धारा में लौटे हैं। अपनी वापसी में वे कितने सफ़ल हुए हैं, यह तो आप गाने सुनकर हीं कह सकते हैं। फिल्म में गाने लिखे हैं जावेद अख्तर साहब ने। इस फिल्म का एक गाना तो ट्रेलर आते हीं मक़बूल हो चुका है। चलिए, हम आपको पहले वही गाना सुनाते हैं (कारे कारे बदरा), जिसमें आवाज़ है शंकर महादेवन की। दूसरा गाना जो हम आपको सुनवाने वाले हैं, उसे स्वर दिया है ईला अरूण, पंडित गिरीश चट्टोपाध्याय एवं चारू सेमवाल ने। जिस तरह यह फिल्म बाकी फिल्मों से कुछ हटकर है, वही बात इसके गानों के बारे में भी कही जा सकती है। आप खुद सुने:

कारे कारे बदरा


मोरा सैंयां


आज की अंतिम दो फिल्में हैं राजश्री प्रोडक्शन्स की "इसी लाईफ़ में" एवं "अनिल कपूर प्रोडक्शन्स" कि "नो प्रोब्लम"। पहले का निर्देशन किया है विधि कासलीवाल ने तो दूसरे का अनीस बज़्मी ने। फिल्म कितनी मज़ेदार है या कितनी होगी, यह तो फिल्म देखने पर हीं जाना जा सकता है, लेकिन जहाँ तक गानों की बात है तो मुझे इन दोनों के गानों में कोई खासा दम नहीं दिखा। "मीत ब्रदर्स " एवं "अंजान अंकित" "इसी लाईफ़ के" के कुछ गानों में अपनी छाप छोड़ने में सफल हुए हैं, लेकिन यह बात "नो प्रोब्लम" के "प्रीतम", "साजिद-वाजिद" या "आनंद राज आनंद" के लिए नहीं की जा सकती। चलिए तो हम सुनते हैं "मनोज मुंतसिर" का लिखा मोहित चौहान और श्रेया घोषाल की आवाज़ों में "इसी उमर में"



और "नो प्रोब्लम" से प्रीतम द्वारा संगीतबद्ध मास्टर सलीम, कल्पना एवं हार्ड कौर की आवाज़ों में कुमार का लिखा "शकीरा":



आज हमने कुछ अच्छे, कुछ ठीक-ठाक गाने सुने। आपको कौन-कौन-से गाने पसंद आए, ज़रूर लिखकर बताईयेगा। और हाँ, "ताजा सुर ताल" की अगली दो कड़ियों का ज़रूर इंतज़ार करें, आपके लिए कुछ खास हम संजोकर लाने वाले हैं। इसी वायदे के साथ अलविदा कहने का वक़्त आ गया है। धन्यवाद!

Thursday, June 18, 2009

काला ना कोई हो गोरा...एक रंग सभी का रंग दे - सार्थक गीतों के पहरूवा पंकज अवस्थी

ताजा सुर ताल (५)

नए संगीत में आज हम आपको सुनवाने जा रहे हैं, एक ऐसा गीत जो ऑस्ट्रेलिया में घटी ताज़ी घटनाओं के चलते और भी सार्थक हो गया है. इस गीत को स्वरबद्ध और संगीतबद्ध किया है एक ऐसे फनकार ने जिन्हें मुद्दों से जुड़े गीतों को रचने में महारत है. उनके हर गीत का एक मकसद होता है, या कहें कि वो संगीत को एक माध्यम की तरह इस्तेमाल करते हैं अपनी बात को दुनिया तक पहुँचाने के लिए. जी हाँ हम बात कर रहे हैं उभरते हुए संगीतकार और गायक पंकज अवस्थी की. उनका संगीत सरल और शुद्ध होते हुए भी दिल को छूता है और सबसे बड़ी बात ये कि सुनने वालों को सोचने के लिए भी मजबूर करता है. हैरी बवेजा की फिल्म "करम" के शीर्षक गीत "तेरा ही करम..." से भारतीय श्रोताओं ने उन्हें परखा. "खुदा के वास्ते..." गीत और उसके विडियो से पंकज ने जाहिर कर दिया कि वो किस तरह के संगीत को अपना आधार मानते हैं. उनकी एल्बम "नाइन" में भी उनके सूफी अंदाज़ को बेहद सराहा गया. इस एल्बम ने उन्हें देश विदेश में ख्याति दी. हिट गीत "खुदा के वास्ते..." भी इस एल्बम का हिस्सा था, जिसे बाद में जर्मन संगीतकर्मी फ्रेडल लेनोनेक ने अपने एल्बम रिफ्लेक्शन भाग २ के पहले गीत का हिस्सा बनाया.

बॉलीवुड में उन्हें असल पहचान मिली फिल्म "अनवर" के संगीत निर्देशक के रूप में. पंकज एक अंतर्राष्ट्रीय संगीत गठबंधन "मिली भगत" के अहम् घटक भी हैं. प्रस्तुत गीत "ऐ साये मेरे" में भी पंकज अपने उसी चिर परिचित अंदाज़ में हैं. जुनैद वारसी ने बहुत बढ़िया लिखा है इस गीत को तो पंकज ने भी दिल से आवाज़ दी है उनके शब्दों में छुपी गंभीरता को. हिंद युग्म परिवार के वरिष्ठ सदस्य अवनीश गौतम, पंकज अवस्थी के बेहद करीबी मित्रों में हैं, जब अवनीश जी ने उन्हें इस गीत के लिए फ़ोन कर बधाई दी तो पंकज ने इस बात का खुलासा किया कि गीत का रिदम पक्ष मशहूर संगीतकार तौफीक कुरैशी ने संभाला है, यकीनन ये गीत की गुणवत्ता में चार चाँद लगा रहा है। चूँकि अवनीश जी की पंकज से घनिष्ठता रही है, इसलिए हमने उनसे पंकज से जुड़ी और भी बातें जाननी चाहीं। खुद अवनीश जी के शब्दों में:


"जब मैं पहली बार पंकज अवस्थी जी से मिला तो लगा ही नहीं कि हम पहली बार मिल रहे हैं. तब वो दिल्ली में रहते थे और "तेरा ही करम" तथा "खुदा का वास्ता" गा कर चर्चा में आ चुके थे उन दिनों पंकज कुछ प्रयोग धर्मी गाने बनाना चाहते थे और चाहते थे कि वो गाने मैं लिखूं. पंकज के भीतर जीवन और संगीत को ले कर एक गहरा अनुराग हैं और एक गहरी बेचैनी भी वो हमेशा कुछ अर्थपूर्ण करना चाहते हैं यह बात भी पंकज बहुत अच्छी तरह जानते है कि यह आसान नहीं है. उनका जूनून और उनका काम इस बात की गवाही देता है कि उनके काम में एक सच्ची आवाज़ बची हुई है जिस पर इस खतरनाक दौर में भी भरोसा किया जा सकता है."

चलिए अब "न्यू यार्क" पर वापस आते हैं। यश राज फिल्म के बैनर पर बनी फिल्म "न्यू यार्क" इस शहर में हुए ट्विन टावर हादसे को केंद्र में रख बुनी हुई कहानी है जिसमें जॉन अब्राहिम, नील नितिन मुकेश और कैटरिना कैफ ने अभिनय किया है. फिल्म के प्रोमोस देख कर आभास होता है कि फिल्म युवाओं को पसंद आ सकती है. यूं तो फिल्म के मुख्य संगीतकार प्रीतम हैं, पर पंकज का ये सोलो गीत ऐसा लगता है जैसे फिल्म के मूल थीम के साथ चलता हो, बहरहाल ये सब बातें फिल्म के प्रदर्शन के बाद ही पता लग पायेंगीं फिलहाल तो हमें सुनना है फिल्म "न्यू यार्क" का ये दमदार गीत, मगर उससे पहले डालिए जुनैद वारसी के बोलों पर एक नज़र-

आ आजा ऐ साये मेरे,
आ आजा कहीं और चलें,
हर सोच है एक बंद गली,
हर दिल में यहाँ ताले पड़े,

गर मुमकिन हो पाता मैं अपना नाम मिटा दूं,
बस बन जाऊं इंसान मैं हर पहचान मिटा दूं,
जब बरसे पहली बारिश, सब के घर बरसे,
बस पूछे ये इंसान कि अपना नाम घटा दूं...

माथे पे सभी के लिख दे
हाथों पे सभी के लिख दे
ज्यादा ना कोई कम हो,
एक नाम सभी का रख दे....

आ आजा साये मेरे....

इस एक ज़मीन के यार तू इतने टुकड़े ना कर,
जब हो सारे इंसान फर्क फिर उनमें ना कर,
जितना चाहे उन्स मोहब्बत अपनों से रख,
नफरत तो तू यार मगर यूं मुझसे ना कर..

शक्लों को सभी की रंग दे
जिस्मों को सभी के रंग दे,
काला ना हो कोई गोरा,
एक रंग सभी का रंग दे....

आ आजा ऐ साये मेरे...



क्या आप जानते हैं ?
आप नए संगीत को कितना समझते हैं चलिए इसे ज़रा यूं परखते हैं. उपर हमने फिल्म "अनवर" में पंकज अवस्थी के संगीत की बात की है, एक और नए संगीतकार ने इसी फिल्म से अपनी शुरुआत कर धूम मचाई थी, क्या आप जानते हैं उस संगीतकार का नाम ?



अक्सर हम लोगों को कहते हुए सुनते हैं कि आजकल के गीतों में वो बात नहीं. "ताजा सुर ताल" शृंखला का उद्देश्य इसी भ्रम को तोड़ना है. आज भी बहुत बढ़िया और सार्थक संगीत बन रहा है, और ढेरों युवा संगीत योद्धा तमाम दबाबों में रहकर भी अच्छा संगीत रच रहे हैं, बस ज़रुरत है उन्हें ज़रा खंगालने की. हमारा दावा है कि हमारी इस शृंखला में प्रस्तुत गीतों को सुनकर पुराने संगीत के दीवाने श्रोता भी हमसे सहमत अवश्य होंगें, क्योंकि पुराना अगर "गोल्ड" है तो नए भी किसी कोहिनूर से कम नहीं.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ