Showing posts with label dhaniram. Show all posts
Showing posts with label dhaniram. Show all posts

Sunday, February 22, 2015

तराना : SWARGOSHTHI – 208 : TARANA RECITAL


स्वरगोष्ठी – 208 में आज

भारतीय संगीत शैलियों का परिचय : 6 : तराना

सार्थक शब्दों की अनुपस्थिति के बावजूद रसानुभूति कराने में समर्थ तराना शैली




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर लघु श्रृंखला ‘भारतीय संगीत शैलियों का परिचय’ की एक और नयी कड़ी के साथ मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। पाठकों और श्रोताओं के अनुरोध पर आरम्भ की गई इस लघु श्रृंखला के अन्तर्गत हम भारतीय संगीत की उन परम्परागत शैलियों का परिचय प्रस्तुत कर रहे हैं, जो आज भी पीढ़ी-दर-पीढ़ी हमारे बीच उपस्थित हैं। भारतीय संगीत की एक समृद्ध परम्परा है। वैदिक युग से लेकर वर्तमान तक इस संगीत-धारा में अनेकानेक धाराओं का संयोग हुआ। इनमें से जो भारतीय संगीत के मौलिक सिद्धांतों के अनुकूल धारा थी उसे स्वीकृति मिली और वह आज भी एक संगीत शैली के रूप स्थापित है और उनका उत्तरोत्तर विकास भी हुआ। विपरीत धाराएँ स्वतः नष्ट भी हो गईं। पिछली कड़ी से हमने भारतीय संगीत की सर्वाधिक लोकप्रिय ‘खयाल’ शैली का परिचय आरम्भ किया है। आज के अंक में हम खयाल शैली के साथ अभिन्न रूप से सम्बद्ध ‘तराना’ शैली पर सोदाहरण चर्चा करेंगे। तराना रचनाओं में सार्थक शब्द नहीं होते। परन्तु रचना से रसानुभूति पूरी होती है। आज के अंक में हम आपको सुप्रसिद्ध गायिका विदुषी परवीन सुल्ताना के स्वरों में राग हंसध्वनि के तराना का रसास्वादन कराते हैं। इसके अलावा लगभग छः दशक पुरानी फिल्म ‘लड़की’ से सुविख्यात पार्श्वगायिका लता मंगेशकर गाये एक गीत का अंश भी प्रस्तुत कर रहे हैं, जिसमें उन्होने राग चन्द्रकौंस का तराना गाया है।
 



रम्परागत भारतीय संगीत की शैलियों में खयाल शैली वर्तमान में सर्वाधिक प्रचलित है। वर्तमान शास्त्रीय संगीत से यह इतनी घुल-मिल गई है कि इसके बिना रागदारी संगीत की कल्पना भी नहीं की जा सकती। इसकी लोकप्रियता का इससे बड़ा प्रमाण और क्या हो सकता है कि वाद्य संगीत पर भी खयाल बजाया जाता है। खयाल शैली विकास अठारहवीं शताब्दी से हुआ है। खयाल शब्द फारसी भाषा का है, जो संस्कृत के ‘ध्यान’ शब्द का पर्याय है। प्राचीन ग्रन्थकार मतंग के काल में विभिन्न रागों को ध्यान शैली में गायन का उल्लेख मिलता है। सम्भव है ध्यान परम्परा से खयाल शैली का सम्बन्ध हो। खयाल शैली का सम्बन्ध सूफी संगीत से भी जुड़ता है। सूफी काव्य में भी खयाल नाम से एक प्रकार प्रचलित रहा है। कुछ विद्वान खयाल शैली पर मध्यकाल के लोक संगीत का प्रभाव भी मानते हैं। आज भी राजस्थान, ब्रज और अवध क्षेत्र में खयाल नामक लोक संगीत का एक प्रकार प्रचलित है। एक खयाल रचना के तीन भाग होते हैं; अत्यन्त संक्षिप्त आलाप, विलम्बित खयाल और द्रुत खयाल। खयाल के भी दो भाग हो जाते हैं; स्थायी और अन्तरा। स्थायी और अन्तरा के लिए एक संक्षिप्त सी पद की रचना भी होती है। भारतीय शास्त्रीय संगीत स्वर-प्रधान है। अधिकतर विद्वान शब्दों को स्वर के आरोहण का एक माध्यम ही मानते हैं और राग के स्वरों की अपेक्षा शब्दों को विशेष महत्त्व नहीं देते। परन्तु कुछ विद्वान खयाल गायन में शब्दों के उच्चारण पर विशेष बल देते हैं। इनका मानना है कि स्वरो में रस के निष्पत्ति की सीमित सम्भावना होती है, जबकि शब्दों अर्थात साहित्य को जब स्वरों का संयोग मिलता है तब सभी नौ प्रकार के रसों की सृष्टि सहज हो जाती है। विलम्बित, मध्य और द्रुत खयाल के साथ ही तराना गायकी का विशेष महत्त्व है। तराना की संरचना मध्य या द्रुत लय के खयाल जैसी होती है, अन्तर इसकी शब्द रचना में होता है। खयाल के स्थायी और अन्तरा में सार्थक शब्दों की रचना होती है, जबकि तराना मे निरर्थक शब्दों का प्रयोग किया जाता है। ये शब्द सार्थक नहीं होते किन्तु लय के प्रवाह सरलता से घुल-मिल जाते हैं। कुशल कलासाधक तराना के इन्हीं निरर्थक साहित्य के माध्यम सार्थक रसानुभूति कराने में समर्थ होते हैं। तराना के उदाहरण के लिए आज के अंक में हमने राग हंसध्वनि के एक मोहक तराना का चुनाव किया है। यह तराना सुविख्यात संगीत-विदुषी परवीन सुल्ताना प्रस्तुत कर रही हैं। हमारी यह चर्चा जारी रहेगी, पहले आप यह तराना सुनिए।


राग हंसध्वनि : आलापचारी और द्रुत तीनताल का तराना : बेगम परवीन सुल्ताना




स्वर-विस्तार की प्रधानता होने कारण खयाल में आलाप का महत्त्व सीमित हो गया है। इस शैली में ध्रुपद जैसी स्थिरता और गम्भीर गमक के अलावा छूट, मुरकी, जमजमा आदि का महत्त्व बढ़ जाता है। आरम्भिक काल के खयाल में तानों का प्रयोग नहीं होता था। बाद में जब घरानों की स्थापना हुई तो तानों का प्रयोग वैचित्र्य के लिए किया जाने लगा। यही नहीं इस शैली में सरगम का प्रयोग भी बाद में शुरू हुआ। तराना गायकी में लयकारी का विशेष महत्त्व होता है। फिल्म संगीत में कई संगीतकारों ने तराना का इस्तेमाल किया है। 1953 में ए.वी.एम. प्रोडक्शन की एक फिल्म ‘लड़की’ के एक गीत में तराना का प्रयोग किया गया था। इस फिल्म के संगीतकार धनीराम ने फिल्म के एक नृत्यगीत के अन्त में राग चन्द्रकौंस के संक्षिप्त तराना को जोड़ा था। फिल्म में यह गीत अभिनेत्री और नृत्यांगना वैजयन्तीमाला द्वारा मंच पर प्रस्तुत किये जा रहे नृत्य में शामिल किया गया था। मूल गीत के बोल हैं- ‘मेरे वतन से अच्छा कोई वतन नहीं है...’। गीतकार राजेंद्र कृष्ण की इस रचना के अन्तिम डेढ़ मिनट की अवधि में संगीतकार धनीराम ने राग चन्द्रकौंस का ताराना इस्तेमाल किया था। पूरा गीत और अन्त का तराना लता मंगेशकर ने गाया है। आप गीत का तराना वाला हिस्सा सुनिए और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


राग चन्द्रकौंस : फिल्म लड़की : गीत ‘मेरे वतन से अच्छा...’ का तराना अंश : लता मंगेशकर 





संगीत पहेली 


‘स्वरगोष्ठी’ के 208वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको कण्ठ संगीत का एक अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित तीन में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 210वें अंक की समाप्ति तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस वर्ष की पहली श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।



1 – संगीत का यह अंश सुन कर बताइए कि यह रचना किस राग में निबद्ध है?

2 – प्रस्तुति के इस अंश में किस ताल का प्रयोग किया गया है? ताल का नाम बताइए।

3 – इस रचना के गायक को पहचानिए और उनका नाम बताइए।

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर इस प्रकार भेजें कि हमें शनिवार 28 फरवरी, 2015 की मध्यरात्रि से पूर्व तक अवश्य प्राप्त हो जाए। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। इस पहेली के विजेताओं के नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 210वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रकाशित और प्रसारित गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ की 206वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको उस्ताद अब्दुल करीम खाँ की एक पुरानी रेकार्डिंग का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग बसन्त और पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल विलम्बित एकताल। इस बार पहेली के दोनों प्रश्नो के सही उत्तर पेंसिलवेनिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, जबलपुर से क्षिति तिवारी और हैदराबाद से डी. हरिना माधवी ने दिया है। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


अपनी बात


मित्रो, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इन दिनों जारी है हमारी लघु श्रृंखला- ‘भारतीय संगीत शैलियों का परिचय’। इस श्रृंखला के अन्तर्गत वर्तमान में भारतीय संगीत की जो भी शैलियाँ प्रचलन में हैं, उनका सोदाहरण परिचय प्रस्तुत कर रहे हैं। आज आपने खयाल शैली से जुड़े तराना का परिचय प्राप्त किया। अगले अंक में हम आपका परिचय संगीत की किसी अन्य प्रकार से कराएंगे। यदि आप भी संगीत के किसी भी विषय पर हिन्दी में लेखन की इच्छा रखते हैं तो हमसे सम्पर्क करें। हम आपकी प्रतिभा को निखारने का अवसर सहर्ष देंगे। आगामी श्रृंखलाओं के बारे में आपके सुझाव सादर आमंत्रित हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ स्तम्भ के आगामी अंकों में आप क्या पढ़ना और सुनना चाहते हैं, हमे आविलम्ब लिखें। अपनी पसन्द के विषय और गीत-संगीत की फरमाइश अथवा अगली श्रृंखलाओं के लिए आप किसी नए विषय का सुझाव भी दे सकते हैं। अगले रविवार को एक नए अंक के साथ प्रातः 9 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर सभी संगीतानुरागियों का हम स्वागत करेंगे। 


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र 



Sunday, June 9, 2013

पारम्परिक ठुमरी भैरवी का मोहक फिल्मी रूप


  
स्वरगोष्ठी – 124 में आज

भूले-बिसरे संगीतकार की कालजयी कृति – 4

राग भैरवी की रसभरी ठुमरी- ‘बाट चलत नई चुनरी रंग डारी श्याम...’


‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी लघु श्रृंखला ‘भूले-बिसरे संगीतकार की कालजयी कृति’ की यह चौथी कड़ी है और इस कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-रसिकों का एक बार पुनः हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज हम आपसे एक अत्यन्त लोकप्रिय पारम्परिक ठुमरी के फिल्मी स्वरूप पर चर्चा करेंगे। राग भैरवी की पारम्परिक ठुमरी- ‘बाट चलत नई चुनरी रंग डारी श्याम...’ का प्रयोग दो फिल्मों, लड़की (1953) और रानी रूपमती (1959) में किया गया था। आज के अंक में हम आपसे इस ठुमरी के पारम्परिक स्वरूप, फिल्म लड़की में गायिका गीता दत्त की प्रस्तुति और फिल्म के संगीतकार धनीराम की चर्चा करेंगे। इसके साथ ही हम सुप्रसिद्ध गायक पण्डित अजय चक्रवर्ती के स्वरों में इस ठुमरी का शास्त्रीय और उपशास्त्रीय प्रयोग भी सुनेंगे।


1953 में विख्यात फिल्म निर्माण संस्था ए.वी.एम. की फिल्म ‘लड़की’ का प्रदर्शन हुआ था। यह फिल्म उत्कृष्ठ स्तर के संगीत के कारण अत्यन्त सफल हुई थी। फिल्म में शामिल परम्परागत ठुमरी- ‘बाट चलत नई कुनरी रंग डारी श्याम...’ एक सदाबहार गीत सिद्ध हुआ। इस गीत के संगीतकार धनीराम थे। यूँ तो इस फिल्म में एक और संगीतकार आर. सुदर्शनम् भी थे, किन्तु यह माना जाता है कि राग भैरवी की इस ठुमरी का फिल्मी रूपान्तरण धनीराम ने किया था। धनीराम कभी भी विख्यात संगीतकार नहीं थे। उनके कार्यकाल में प्रथम श्रेणी की फिल्में तो दूर, उन्हें द्वितीय या तृतीय श्रेणी की अधिक फिल्में भी नहीं मिलीं। धनीराम को फिल्में बेशक कम मिलीं, किन्तु जो भी मिलीं उनका आधार रागदारी संगीत ही रहा। रागों के सुगम रूपान्तरण में वे दक्ष थे। धनीराम ने अपने सांगीतिक जीवन का आरम्भ एच.एम.वी. रिकार्डिंग कम्पनी से किया था। फिल्मों में उनका प्रवेश 1945-46 के दौरान एक गायक के रूप में हुई। फिल्म ‘धमकी’ और ‘झुमके’ में उन्होने कुछ गीत गाये, किन्तु एक पार्श्वगायक के रूप में विशेष सफलता नहीं मिली। 1948 में प्रदर्शित फिल्म ‘पपीहा रे’ में पहली बार धनीराम संगीत निर्देशक की भूमिका में सामने आए। इस फिल्म में उन्होने बेहद कर्णप्रिय गीत दिये थे। उनके संगीत से सँवारी गई दूसरी फिल्म थी ‘धुवाँ’, जिसमें लता मंगेशकर ने भी राग आधारित गीत गाये थे। इसी वर्ष प्रदर्शित फिल्म ‘लड़की’ में धनीराम के संगीतबद्ध गीत थे। भारतभूषण, मीना कुमारी, अंजली देवी और किशोर कुमार अभिनीत इस फिल्म में उन्होने राग भैरवी की पारम्परिक ठुमरी का अत्यन्त सुगम और आकर्षक रूपान्तरण किया था। गायिका गीता दत्त ने इस ठुमरी गीत को अत्यन्त मधुरता से गाया था।

गीता दत्त
उन्नीसवीं शताब्दी के अन्तिम दो दशकों में दिल्ली में ठुमरी के कई गायक और रचनाकार हुए, जिन्होंने इस शैली को समृद्धि प्रदान की। इन्हीं में एक थे गोस्वामी श्रीलाल, जिन्होंने पछाहीं ठुमरी को एक नई दिशा दी। इनका जन्म 1860 में दिल्ली के एक संगीतज्ञ परिवार में हुआ था। संगीत की शिक्षा इन्हें अपने पिता गोस्वामी कीर्तिलाल से प्राप्त हुई थी। ये सितारवादन में भी प्रवीण थे। ‘कुँवरश्याम’ उपनाम से उन्होने अनेक ध्रुवपद, धमार, खयाल, ठुमरी आदि की रचनाएँ की। इनका संगीत व्यसन स्वान्तःसुखाय और अपने आराध्य भगवान् श्रीकृष्ण को सुनाने के लिए ही था। उन्होने अपने संगीत का प्रदर्शन आजीवन किशोरीरमण मन्दिर से बाहर कहीं नहीं किया। इनकी ठुमरी रचनाएँ कृष्णलीला प्रधान तथा स्वर, ताल और साहित्य की दृष्टि से सर्वोत्तम हैं। राग भैरवी की ठुमरी- ‘बाट चलत नई चुनरी रंग डारी श्याम...’ श्यामकुँवर की सुप्रसिद्ध रचना है। उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में भी देवालय संगीत की परम्परा कहीं-कहीं दीख पड़ती थी। संगीतज्ञ कुँवरश्याम इसी परम्परा के संवाहक और पोषक थे। कुँवरश्याम की इसी बहुचर्चित ठुमरी का 1953 की फिल्म 'लड़की' में धनीराम ने रूपान्तरण किया था, जिसे गीता दत्त ने अपना मोहक स्वर प्रदान किया गया था। अब आप इसी ठुमरी गीत का रसास्वादन कीजिए।


ठुमरी भैरवी : फिल्म लड़की : ‘बाट चलत नई चुनरी रंग डारी श्याम...’ : संगीत धनीराम



पण्डित अजय चक्रवर्ती
यही ठुमरी 1957 की फिल्म 'रानी रूपमती' में भी शामिल की गई थी, जिसे कृष्णराव चोनकर और मोहम्मद रफ़ी ने स्वर दिया था। राग भैरवी की इस ठुमरी में श्रृंगार रस के साथ कृष्ण की मुग्धकारी लीला का अत्यन्त भावपूर्ण अन्दाज में चित्रण किया गया है। रचना का साहित्य पक्ष ब्रज भाषा की मधुरता से सराबोर है। गायिका गीता दत्त ने इस ठुमरी को बोल-बाँट के अंदाज़ में गाया है। अन्त के सरगम से ठुमरी का श्रृंगार पक्ष अधिक प्रबल हो जाता है। भारतीय संगीत जगत के अनेक संगीत विद्वानों ने इस ठुमरी अंग की रचना को गाकर अलग-अलग रंग भरे हैं। जिन उपशास्त्रीय गायकों ने इस ठुमरी को लोकप्रिय किया है उनमें उस्ताद मुनव्वर अली खाँ, उस्ताद मुर्तजा खाँ, उस्ताद शफकत अली खाँ आदि प्रमुख हैं। पटियाला कसूर घराने की समृद्ध गायकी के संवाहक पण्डित अजय चक्रवर्ती प्रायः अपनी संगीत सभा का समापन इसी ठुमरी से करते हैं। ऐसी ही एक संगीत सभा में उन्होने इसी ठुमरी के माध्यम से भारतीय संगीत की कुछ विशेषताओं को इंगित किया था। अब आप इसी कार्यक्रम की एक रिकार्डिंग सुनिए और मुझे आज की इस कड़ी को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।


ठुमरी भैरवी : ‘बाट चलत नई चुनरी रंग डारी श्याम...’ : स्वर - पण्डित अजय चक्रवर्ती




आज की पहेली

‘स्वरगोष्ठी’ के 124वें अंक की पहेली में आज हम आपको छठें दशक के उत्तरार्द्ध में बनी एक फिल्म के राग आधारित एक गीत का अंश सुनवा रहे है। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। 130वें अंक तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – वाद्य संगीत के इस आलाप को सुन कर पहचानिए कि यह किस राग पर आधारित है?

2 – यह किस वाद्य के स्वर हैं? वाद्य का नाम बताइए।

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 126वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से या swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता

‘स्वरगोष्ठी’ के 122वें अंक की पहेली में हमने आपको 1949 में प्रदर्शित फिल्म ‘बाज़ार’ से लिये गए गीत का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग पहाड़ी और दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल दीपचन्दी। दोनों प्रश्नो के सही उत्तर लखनऊ के प्रकाश गोविन्द, जौनपुर के डॉ. पी.के. त्रिपाठी और जबलपुर की क्षिति तिवारी ने दिया है। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


झरोखा अगले अंक का


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी लघु श्रृंखला ‘भूले-बिसरे संगीतकार की कालजयी कृति’ के आगामी अंक में हम एक बेहद लोकप्रिय राग पर आधारित एक सदाबहार फिल्मी गीत, इसके विस्मृत संगीतकार और इसी राग पर आधारित वाद्य संगीत पर एक मोहक रचना पर चर्चा करेंगे। अगले अंक में इस श्रृंखला की अगली कड़ी के साथ रविवार को प्रातः 9-30 बजे हम ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीत-रसिकों की प्रतीक्षा करेंगे।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ