अनुराग शर्मा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
अनुराग शर्मा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 2 जून 2020

ऑडियो: विदेह (अनुराग शर्मा)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने देवेंद्र पाठक के स्वर में राजेंद्र देवधरे 'दर्पण की कथा "एक मज़दूर की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं अनुराग शर्मा की एक लघुकथा "विदेह", अनुराग शर्मा ही के स्वर में।

कहानी "विदेह" का कुल प्रसारण समय 3 मिनट 45 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

इस कथा "विदेह" का गद्य  बर्ग वार्ता पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



मरेंगे हम किताबों में सफ़े होंगे कफ़न अपना
किसी ने न हमें जाना न पहचाना सुखन अपना
~ अनुराग शर्मा

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

हमारे घर के सब कमरे ग़ायब हो गये हैं, बस यह एक बैडरूम बचा है, यह भी कितना सिकुड़ गया है।
(अनुराग शर्मा की "विदेह" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
विदेह MP3

#Thirteenth Story, Videh: Anurag Sharma/Hindi Audio Book/2020/13. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 12 मई 2020

ऑडियो: क्वारंटीन (राजिंदर सिंह बेदी)

इस साप्ताहिक स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको हिन्दी में मौलिक और अनूदित, नई और पुरानी, प्रसिद्ध कहानियाँ और छिपी हुई रोचक खोजें सुनवाते रहे हैं। पिछली बार आपने दीपक शर्मा की कथा "ऊँट की पीठ" का पाठ अनुराग शर्मा के स्वर में सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, उर्दू के प्रसिद्ध साहित्यकार, निर्माता, निर्देशक, संवाद व पटकथा लेखक राजिंदर सिंह बेदी की कथा क्वारंटीन जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी "क्वारंटीन" का कुल प्रसारण समय 24 मिनट 36 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

इस कहानी का गद्य सेतु पत्रिका पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


राजिंदर सिंह बेदी (1सितम्बर 1915 - 11 नवम्बर 1984); उर्दू के प्रसिद्ध साहित्यकार, फ़िल्म निर्माता, निर्देशक, संवाद व पटकथा लेखक

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

नगर में जितनी मृत्यु क्वारंटीन से हुईं, उतनी प्लेग से न हुईं।
(राजिंदर सिंह बेदी रचित "क्वारंटीन" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
क्वारंटीन MP3

#Eleventh Story, Quarantine: Rajinder Singh Bedi / Hindi Audio Book / 2020/11. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 7 अप्रैल 2020

ऑडियो: ऊँट की पीठ (दीपक शर्मा)

इस साप्ताहिक स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको हिन्दी में मौलिक और अनूदित, नई और पुरानी, प्रसिद्ध कहानियाँ और छिपी हुई रोचक खोजें सुनवाते रहे हैं। पिछली बार आपने दीपक शर्मा की कथा "ताई की बुनाई" का पाठ अनुराग शर्मा के स्वर में सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, हिंदी की प्रसिद्ध साहित्यकार दीपक शर्मा की कथा ऊँट की पीठ जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी "ऊँट की पीठ" का गद्य साहित्य कुञ्ज पर उपलब्ध है। इस कथा का कुल प्रसारण समय 12 मिनट 7 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


लखनऊ क्रिश्चियन कॉलेज की अंग्रेज़ी विभागाध्यक्ष रह चुकीं मिताक्षरी लेखिका दीपक शर्मा के कथा-क्षेत्र का विस्तार, संवेदनाओं की गहराई, शिल्प की सहजता और वर्णन की प्रामाणिकता उन्हें अपने समकालीन लेखकों से अलग धरातल प्रदान करते हैंं। उनकी 200 से अधिक कहानियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं जिन्हें 19 कथा-संग्रहों में संकलित किया गया है।

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

मेरे अन्दर एक अनजाना साहस जमा हो रहा है, एक नया बोध।
(दीपक शर्मा रचित "ऊँट की पीठ" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
ऊँट की पीठ MP3

#Tenth Story, Oont kee Peeth: Deepak Sharma/Hindi Audio Book/2020/10. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 17 मार्च 2020

ऑडियो: ताई की बुनाई (दीपक शर्मा)

इस साप्ताहिक स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको हिन्दी में मौलिक और अनूदित, नई और पुरानी, प्रसिद्ध कहानियाँ और छिपी हुई रोचक खोजें सुनवाते रहे हैं। पिछली बार आपने दीपक शर्मा की कथा "मेंढकी" का पाठ पूजा अनिल और अनुराग शर्मा के स्वर में सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, हिंदी की प्रसिद्ध साहित्यकार दीपक शर्मा की कथा ताई की बुनाई जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी "ताई की बुनाई" का गद्य अटूट बंधन पर उपलब्ध है। इस कथा का कुल प्रसारण समय 12 मिनट 39 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


लखनऊ क्रिश्चियन कॉलेज की अंग्रेज़ी विभागाध्यक्ष रह चुकीं मिताक्षरी लेखिका दीपक शर्मा के कथा-क्षेत्र का विस्तार, संवेदनाओं की गहराई, शिल्प की सहजता और वर्णन की प्रामाणिकता उन्हें अपने समकालीन लेखकों से अलग धरातल प्रदान करते हैंं। उनकी 200 से अधिक कहानियाँ प्रकाशित हो चुकी हैं जिन्हें 19 कथा-संग्रहों में संकलित किया गया है।

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

अब अपने लिए एक स्वेटर बुनना, अम्मा, तुम्हारे पास एक भी स्वेटर नहीं।
(दीपक शर्मा रचित "ताई की बुनाई" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
ताई की बुनाई MP3

#Ninth Story, Taai Ki Bunaai: Deepak Sharma/Hindi Audio Book/2020/09. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 18 फ़रवरी 2020

ऑडियो: लघुकथा मोड़ (अनुराग शर्मा)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने हंसा दीप के स्वर में दीपक शर्मा की कथा "चम्पा का मोबाइल" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं अनुराग शर्मा की एक लघुकथा "मोड़", अनुराग शर्मा ही के स्वर में।

कहानी "मोड़" का कुल प्रसारण समय 2 मिनट 19 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

इस कथा "मोड़" का गद्य  बर्ग वार्ता पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



मरेंगे हम किताबों में सफ़े होंगे कफ़न अपना
किसी ने न हमें जाना न पहचाना सुखन अपना
~ अनुराग शर्मा

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

उसने ध्यान से देखा, आदमी के सर के ठीक ऊपर दीवार पर लिखा था, "दलालों से सावधान।"
(अनुराग शर्मा की "मोड़" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
मोड़ MP3

#Seventh Story, Mod: Anurag Sharma/Hindi Audio Book/2020/7. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 19 नवंबर 2019

ऑडियो: तीस साल बाद (रवींद्र कालिया)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में बसंत त्रिपाठी की कथा अंतिम चित्र का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं रवींद्र कालिया की कथा "तीस साल बाद", जिसे स्वर दिया है, स्पेन से पूजा अनिल, और अमेरिका से अनुराग शर्मा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 10 मिनट 52 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

रवींद्र कालिया 
(11 नवंबर 1939 :: 9 जनवरी 2016)
हिंदी के सर्वप्रिय लेखक और सम्पादक

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"इस एक कागज के टुकड़े के कारण तुम मेरे बहुत करीब रहे, हमेशा। मगर इसे गलत मत समझना।"
(रवींद्र कालिया की "तीस साल बाद" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
तीस साल बाद mp3

#Thirtieth Story: 30 saal baad; Author: Ravindra Kalia; Voice: Pooja Anil, Anurag Sharma; Hindi Audio Book/2019/30.

मंगलवार, 5 नवंबर 2019

ऑडियो: अंतिम चित्र (बसंत त्रिपाठी)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में पांडेय बेचन शर्मा उग्र की कथा मूर्खा का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं बसंत त्रिपाठी की कथा "अंतिम चित्र", जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 6 मिनट 23 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

बसंत त्रिपाठी - जन्म: 25 मार्च 1972, भिलाई नगर, छत्तीसगढ़
मुख्य कृतियाँ: शब्द, सहसा कुछ नहीं होता, मौजूदा हालात को देखते हुए, उत्सव की समाप्ति के बाद, प्रसंगवश

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"जेलर साहब का विशेष हुकुम न होता तो वह कान में रुई ठूँस कर सो गया होता।"
(बसंत त्रिपाठी की "अंतिम चित्र" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
अंतिम चित्र mp3

#Twenty Ninth Story: Antim Chitra; Author: Basant-Tripathi; Voice: Anurag Sharma; Hindi Audio Book/2019/29.

मंगलवार, 29 अक्तूबर 2019

ऑडियो कथा: मूर्खा (पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र')

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में रामदरश मिश्र की कथा लड़की का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं पांडेय बेचन शर्मा उग्र की कथा "मूर्खा", जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 6 मिनट 15 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

(1900 - 1967)
1900, चुनार, मिर्जापुर (उत्तर प्रदेश) में जन्मे पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र' हिंदी के प्रख्यात लेखक हैं। साहित्य की विविध विधाओं में अनेक पुस्तकें प्रकाशित। प्रमुख कृतियाँ: चंद हसीनों के खतूत, दिल्ली का दलाल, बुधुवा की बेटी, शराबी, घंटा, सरकार तुम्हारी आँखों में, कढ़ी में कोयला, जीजीजी, फागुन के दिन चार, जूहू, महात्मा ईसा, चुंबन, गंगा का बेटा, आवास, अन्नदाता माधव महाराज महान, उग्र की श्रेष्ठ कहानियाँ, ध्रुवचरित, तुलसीदास, अपनी खबर (आत्मकथा)

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"कहानी यह राजनीतिक दुभार्वना-प्रधान नहीं, सामाजिक भावना-प्रधान है।"
(पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र' की "मूर्खा" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
मूर्खा mp3

#Twenty Eighth Story: Murkha; Author: Pandey Bechan Sharma 'Ugra'; Voice: Anurag Sharma; Hindi Audio Book/2019/28.

मंगलवार, 22 अक्तूबर 2019

ऑडियो कथा: लड़की (रामदरश मिश्र)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में ज्योत्सना सिंह की लघुकथा पश्मीना का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं रामदरश मिश्र की कथा "लड़की", जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 8 मिनट 44 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

15 अगस्त, 1924 को गोरखपुर जिले के डुमरी गाँव में जन्मे डॉ. रामदरश मिश्र हिंदी के प्रख्यात लेखक हैं। साहित्य की विविध विधाओं में अनेक पुस्तकें प्रकाशित, अनेक सम्मान प्राप्त। प्रमुख रचनाएँ: बैरंग-बेनाम चिट्ठियाँ, पक गयी है धूप, कंधे पर सूरज, दिन एक नदी बन गया, जुलूस कहाँ जा रहा है, आग कुछ नहीं बोलती, बारिश में भीगते बच्चे, हँसी ओठ पर आँखें नम हैं
https://ramdarashmishra.blogspot.com/

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"उसने मेरी ओर देखा, कुछ बोली नहीं, पढ़ने लगी।"
(रामदरश मिश्र की "लड़की" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
लड़की mp3

#Twenty Seventh Story: Ladki; Author: Ramdarash Mishra; Voice: Anurag Sharma; Hindi Audio Book/2019/27.

मंगलवार, 15 अक्तूबर 2019

ऑडियो कथा: पश्मीना (ज्योत्सना सिंह)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में उदय प्रकाश की कहानी नेलकटर का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं ज्योत्सना सिंह की लघुकथा "पश्मीना", जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 4 मिनट 9 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

लघुकथा पश्मीना का गद्य 'सेतु' द्वैभाषिक पत्रिका पर उपलब्ध है। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

ज्योत्सना सिंह: इंडिया वॉच चैनल, लखनऊ पुस्तक मेला, दिल्ली विश्व पुस्तक मेला, केकेसी डिग्री कॉलेज, आदि में काव्य पाठ। नवभारत टाइम्स, दैनिक जागरण, अमर उजाला, जन ख़बर लाइव आदि दैनिक पेपर में रचनायें प्रकाशित।

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"उसकी कश्मीरी प्रिन्सिपल आसमानी साड़ी पर सफ़ेद शाल ओढ़े यूँ जान पड़ी थी जैसे नील गगन को किसी सफ़ेद बादल के टुकड़े ने ढक लिया हो।"
(ज्योत्सना सिंह की "पश्मीना" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
पश्मीना mp3

#Twenty Sixth Story: Pashmina; Author: Jyotsna Singh; Voice: Anurag Sharma; Hindi Audio Book/2019/26.

मंगलवार, 8 अक्तूबर 2019

नेलकटर (उदय प्रकाश)

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में असग़र वजाहत की 'ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ' का पाठ सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, उदय प्रकाश की मर्मस्पर्शी कथा नेलकटर, जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

इस कहानी नेलकटर का कुल प्रसारण समय 8 मिनट 7 सेकंड है। इसका गद्य हिन्दी समय पर उपलब्ध हैं। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



गांधी जी
कहते थे -
'अहिंसा'
और डंडा लेकर
पैदल घूमते थे।

(उदय प्रकाश)



हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

"माँ को बोलने में दर्द बहुत होता होगा। इसलिए कम ही बोलती थीं।।”
(उदय प्रकाश की कथा "नेलकटर" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
नेलकटर MP3

#Twenty Fifth Story, Nail Cutter; Uday Prakash; Hindi Audio Book/2019/25. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 10 सितंबर 2019

ऑडियो: बिग क्लाउड 2068 (अनुराग शर्मा)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में उषा किरण की कथा "लाल पीली लड़की" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं अनुराग शर्मा की एक विज्ञान लघुकथा "बिग क्लाउड 2068", अनुराग शर्मा ही के स्वर में।

कहानी "बिग क्लाउड 2068" का कुल प्रसारण समय 4 मिनट 43 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

इस कथा "बिग क्लाउड 2068" का टेक्स्ट ई-कल्पना पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



मरेंगे हम किताबों में सफ़े होंगे कफ़न अपना
किसी ने न हमें जाना न पहचाना सुखन अपना
~ अनुराग शर्मा

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

"किताबें तो 2043 में छपी अंतिम पुस्तक के साथ डिजिटल युग के चरमोत्कर्ष पर ही समाप्त हो गई थीं।"
(अनुराग शर्मा की "बिग क्लाउड 2068" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
बिग क्लाउड 2068 MP3

#Twenty First Story, Big Cloud 2068: Anurag Sharma/Hindi Audio Book/2019/21. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 30 जुलाई 2019

ऑडियो: पुत्रमोह (मधुदीप की लघुकथा)

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। इस शृंखला में पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में गौतम राजर्षि की मर्मस्पर्शी कहानी बर्थ नम्बर तीन का वाचन सुना था।

आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं मधुदीप गुप्ता की लघुकथा पुत्रमोह, जिसे स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने।

प्रस्तुत अंश का कुल प्रसारण समय 3 मिनट 12 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

लेखक: मधुदीप गुप्ता
जन्म: 1-5-1950; दुजाना (हरियाणा)
सम्प्रति: निदेशक, दिशा प्रकाशन
लघुकथा शृंखला ‘पड़ाव और पड़ताल’ के 20 खण्डों के सम्पादन/संयोजन


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

आपने उस समय सही कहा था मेरे दोस्त! हमारा भविष्य हमारे अपने हाथ में होता है।
 (मधुदीप गुप्ता की लघुकथा 'पुत्रमोह' से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
पुत्रमोह MP3

#Sixteenth Story, Putramoh; Madhudeep Gupta; Hindi Audio Book/2019/16. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 28 मई 2019

अंधा प्यार (अनुराग शर्मा)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने पूजा अनिल की आवाज़ में समीर लाल की लघुकथा "सागौन का पेड़" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं अनुराग शर्मा की एक लघुकथा "अंधा प्यार", पूजा अनिल व अनुराग शर्मा के स्वर में।

कहानी "अंधा प्यार" का कुल प्रसारण समय 7 मिनट 50 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

इस कथा "अंधा प्यार" का टेक्स्ट बर्ग वार्ता पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



मरेंगे हम किताबों में सफ़े होंगे कफ़न अपना
किसी ने न हमें जाना न पहचाना सुखन अपना
~ अनुराग शर्मा

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

"ज़िन्दगी पहली बार भरी-पूरी दिखाई दी। हर तरफ बहार ही बहार। जिससे प्यार किया वह विकलांग है तो क्या हुआ?"
(अनुराग शर्मा की "अंधा प्यार" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
अंधा प्यार MP3

#Thirteenth Story, Andha Pyaar: Anurag Sharma/Hindi Audio Book/2019/13. Voices: Pooja Anil; Anurag Sharma

मंगलवार, 14 मई 2019

संतोष श्रीवास्तव: बैराग के खाते में

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में अनुराग शर्मा की ही लघुकथा 'नाम का चमत्कार' का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं संतोष श्रीवास्तव की कथा 'बैराग के खाते में', अनुराग शर्मा के स्वर में।

कथा "बैराग के खाते में" का कुल प्रसारण समय 20 मिनट 26 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



जबलपुर में जन्मी संतोष श्रीवास्तव हिंदी साहित्य का एक पहचाना हस्ताक्षर हैं। वे कालिदास पुरस्कार, महाराष्ट्र राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार, साहित्य शिरोमणि पुरस्कार, प्रियदर्शनी अकादमी पुरस्कार, महाराष्ट्र दलित साहित्य अकादमी पुरस्कार, बसंतराव नाईक लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड, कथाबिंब पुरस्कार, तथा कामलेश्वर स्मृति पुरस्कार सम्मान पा चुकी हैं।

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

अतीत खुद को दोहराता है... सिद्धार्थ ने भी तो राजमहल का, पत्नी का, बच्चे का मोह, लोभ त्यागा था... कुछ पाने के लिए कुछ खोना तो पड़ता है न...
(संतोष श्रीवास्तव की कथा "बैराग के खाते में" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
बैराग के खाते में MP3

#Eleventh Story, Bairaag Ke Khaate Mein: Santosh Shrivastav /Hindi Audio Book /2019/11. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 7 मई 2019

ऑडियो: नाम का चमत्कार (अनुराग शर्मा)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में देवी नागरानी की कथा 'अतीत' का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं अनुराग शर्मा की लघुकथा 'नाम का चमत्कार', अनुराग शर्मा के ही स्वर में।

लघुकथा "नाम का चमत्कार" का कुल प्रसारण समय 9 मिनट 3 सेकंड है। इसका गद्य बर्ग वार्ता ब्लॉग पर उपलब्ध है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


आपके चरित्र पर आपका अधिकार है, छवि पर नहीं ...
- अनुराग शर्मा

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

आत्मा तो घायल नहीं हो सकती। न जल सकती है न आद्र होती है। बारिश की बूंद को छूती तो है पर फिर भी सूखी रह जाती है।
(अनुराग शर्मा की लघुकथा "नाम का चमत्कार" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
नाम का चमत्कार MP3

#Tenth Story, Naam Ka Chamatkar: Anurag Sharma /Hindi Audio Book /2019/10. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 19 मार्च 2019

ऑडियो: देवी नागरानी की कथा अतीत

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने पूजा अनिल की आवाज़ में मनीषा कुलश्रेष्ठ की कथा 'प्रश्न का पेड़' का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं देवी नागरानी की कथा 'अतीत', अनुराग शर्मा के स्वर में।

कहानी "अतीत" का कुल प्रसारण समय 11 मिनट 28 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


कहानी लिखने के लिये किसी भी बड़े काण्ड या वारदात का होना ज़रूरी नहीं।
- देवी नागरानी

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

बस एक बार फिर उस शोर में वह एकल भीड़ का हिस्सा बनकर रह गयी।
(देवी नागरानी की कहानी "अतीत" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
अतीत MP3

#Ninth Story, Ateet: Devi Nangrani /Hindi Audio Book /2019/9. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 19 फ़रवरी 2019

ऑडियो: लोग पत्थर फेंकते हैं (लघुकथा) - प्रबोध गोविल

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में जैनेंद्र कुमार की कथा 'अपना अपना भाग्य' का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं प्रबोध गोविल की हिंदी लघुकथा 'लोग पत्थर फेंकते हैं'अनुराग शर्मा के स्वर में।

कहानी "लोग पत्थर फेंकते हैं" का कुल प्रसारण समय 1 मिनट 42 सेकंड है। इसका गद्य 'कहना पड़ता है' पर उपलब्ध है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


साहित्य जीवन का दस्तावेज़ है। यदि आप अपने घर से बाहर निकल कर कुछ देखने का जोख़िम नहीं लेना चाहते,तो अपना घर ही देखिये-वहां भी एक भाग में,जहाँ आप पूजा करते हैं,आप जूते उतार देते हैं। किन्तु उसी घर के दूसरे हिस्से में जहाँ शौच के लिए जाते हैं,खोज कर चप्पल पहन लेते हैं। जीवन की यह विविधता साहित्य में भी आएगी।
- प्रबोध गोविल

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

जिसने अभी कुछ महीने पहले ही दुनिया देखी थी, अपनी माँ से जाकर कहा"
(प्रबोध गोविल की लघुकथा "लोग पत्थर फेंकते हैं " से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
लोग पत्थर फेंकते हैं MP3

#Seventh Story, Log Patthar Phenkate Hain: Prabodh Govil /Hindi Audio Book /2019/7. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 12 फ़रवरी 2019

ऑडियो: अपना अपना भाग्य (जैनेंद्र कुमार)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार से रा यात्री की कथा 'अवांतर प्रसंग' का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं प्रसिद्ध साहित्यकार जैनेंद्र कुमार की कहानी अपना अपना भाग्यअनुराग शर्मा के स्वर में।

कहानी "अपना अपना भाग्य" का कुल प्रसारण समय 15 मिनट 5 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


साहित्य अकादमी पुरस्कार, हिंदुस्तानी अकादमी पुरस्कार, हस्तीमल डालमिया पुरस्कार, तथा पद्म भूषण से सम्मानित साहित्यकार श्री जैनेंद्र कुमार का वास्तविक नाम आनंदी लाल था। उपन्यास, कहानी, तथा निबंध लेखन के अतिरिक्त उन्होंने सम्पादन कार्य भी किया है।
(जन्म: 2 जनवरी 1905 - देहांत: 24 दिसंबर 1988)

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

कुहरे की सफेदी में कुछ ही हाथ दूर से एक काली-सी मूर्ति हमारी तरफ आ रही थी। मैंने कहा - "होगा कोई"
(जैनेंद्र कुमार की "अपना अपना भाग्य" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
अपना अपना भाग्य MP3

#Sixth Story, Apna Apna Bhagya: Jainendra Kumar/Hindi Audio Book/2019/6. Voice: Anurag Sharma

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2019

से रा यात्री की कहानी "अवांतर प्रसंग"

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में  उन्हीं की लघुकथा "बलिहारी गुरु आपने" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार श्री से रा यात्री की कहानी अवांतर प्रसंगअनुराग शर्मा के स्वर में।

कहानी "अवांतर प्रसंग" का कुल प्रसारण समय 8 मिनट 26 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


भारतीय समाज की जो छद्म खुशहाली आज अजगर का आकार ग्रहण करते, मुद्रा प्रसार के समुद्र में डूबती-उतराती दीख पड़ती है, वह चार-पाँच दशक पहले तक अकल्पित थी।
~ से रा यात्री

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

"डायरी पक्की चीज़ है। कोर्ट तक में इसे शहादत की शक़्ल में पेश किया जा सकता है।"
(से रा यात्री की "अवांतर प्रसंग" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
अवांतर प्रसंग MP3

#Fifth Story, Avantar Prasang: S R Yatri/Hindi Audio Book/2019/5. Voice: Anurag Sharma

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ