Showing posts with label bees saal baad. Show all posts
Showing posts with label bees saal baad. Show all posts

Thursday, August 30, 2012

स्मृतियों के झरोखे से : भारतीय सिनेमा के सौ साल – 12




मैंने देखी पहली फ़िल्म

भारतीय सिनेमा के शताब्दी वर्ष में ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ द्वारा आयोजित विशेष अनुष्ठान में प्रत्येक गुरुवार को हम आपके लिए सिनेमा के इतिहास पर विविध सामग्री प्रस्तुत कर रहे हैं। माह के दूसरे और चौथे गुरुवार को आपके संस्मरणों पर आधारित ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ स्तम्भ का प्रकाशन प्रतियोगी रूप में प्रस्तुत करते हैं। परन्तु आज माह का पाँचवाँ गुरुवार है, इसलिए आज हम प्रस्तुत कर रहे हैं, गैर-प्रतियोगी संस्मरण। आज का यह संस्मरण, हमारे संचालक-मण्डल के किसी सदस्य का नहीं, बल्कि हमारे सम्मानित अतिथि लेखक और फिल्म-पत्रकार शिशिर कृष्ण शर्मा का है।  
शिशिर जी मूलतः देहरादून के हैं और वर्तमान में मुम्बईवासी जाने-माने कथाकार, पत्रकार और फिल्म-इतिहासकार हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी स्तम्भों को रुचि के साथ पढ़ते/सुनते हैं। शिशिर जी ने ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ के पिछले अंकों को देख कर गैर-प्रतियोगी रूप में भाग लेने की इच्छा व्यक्त की। तो लीजिए, प्रस्तुत है- शिशिर कृष्ण शर्मा की स्मृतियों में बसी फिल्म ‘बीस साल बाद’ का रोचक और रोमांचक संस्मरण।



‘फिल्म देख कर गायत्री मंत्र कण्ठस्थ किया...’ : शिशिर कृष्ण शर्मा 

‘जनता की भारी माँग पर...’न्यू एम्पायर’ में, नए प्रिंट के साथ...घटी दरों पर देखिए...’ !!!...और तांगे के दोनों तरफ़ लगे होर्डिंग्स पर नज़र पड़ते ही मेरी बांछें, बकौल श्रीलाल शुक्ल ‘वो शरीर में जहाँ कहीं भी थीं’, खिल उठीं। होर्डिंग्स पर मौजूद थे, हेट लगाए और ओवरकोट ओढ़े, शहरी बाबू विश्वजीत और लहँगा-चोली पहने और दुपट्टे का कोना मुंह में दबाए शरमाती-इठलाती ग्रामीण बाला वहीदा रहमान।...पार्श्व में था वो मशहूर ख़ूनी पंजा जिसका ज़िक़्र मैं अपने होश सम्भालने के वक़्त से बुआ-चाचा और माँ के मुंह से सुनता आ रहा था। तांगे पर लगे भोंपू ऐलान कर रहे थे...’रोज़ाना चार शो’...’ख़ून को जमा देने वाला खेल’...’बीस साल बाद’...’बीस साल बाद’ !!!

आज की पीढ़ी के लिए भले ही ये एक अजूबा हो, लेकिन 70 के दशक में फ़िल्मों का प्रचार इसी तरह से तांगों और रिक्शों पर शहरों-क़स्बों के गली-कूंचों में घूम-घूम कर किया जाता था। उस जमाने में न तो टेलीविज़न थे और न ही ऑडियो-वीडियो कैसेट। सी.डी.-डी.वी.डी.प्लेयर और कम्प्यूटर जैसी अलौकिक चीज़ों का तो ख़्याल भी किसी के ज़हन में नहीं था। मनोरंजन का सस्ता और सुलभ साधन सिर्फ़ सिनेमा था, पुरानी फ़िल्में सालों-साल बार-बार प्रदर्शित की जाती थीं और हरेक शहर और क़स्बे में कम से कम एक सिनेमाहॉल सिर्फ़ पुरानी फ़िल्मों के प्रदर्शन के लिए सुरक्षित होता था, जैसा कि मेरे शहर देहरादून का ‘न्यू एम्पायर’। बरसों के इन्तज़ार की मेरी घड़ियाँ ख़त्म हो चुकी थीं और मेरे शहर में अब फिर से दिखाया जा रहा था... ‘ख़ून को जमा देने वाला खेल’...’बीस साल बाद’...जनता की भारी माँग पर...घटी दरों पर, रोज़ाना चार शो...!!!

‘बीस साल बाद’ और मेरी पैदाईश एक ही साल, यानि 1962 की थी। और अब 15 साल की उम्र में मैं पहली बार अकेला कोई फ़िल्म देखने पहुँचा था।...मेरा ‘हमउम्र’ और बहुप्रतीक्षित ‘खेल’...’बीस साल बाद’। माँ ने दो रूपए दिए थे, बीस पैसे साईकिल स्टैंड के ख़र्च हुए और एक रूपए बीस पैसे का फ़िल्म का टिकट ख़रीदा। फ़िल्म के शुरू होते ही कलेजा घोड़े पर सवार हो गया। माथे पर पसीना, अटकती साँसें, खटमलों से भरी, फटी सीट के टूटे हत्थों पर कसती मुट्ठियाँ। हॉल में गूँजती अजीब-अजीब सी डरावनी आवाज़ें, दहशत के ग्राफ़ को चाँद के पार पहुँचा थीं। ये आवाज़ें उन ‘लौंडे-लफ़ाड़ेनुमा’ दर्शकों की थीं, जो नवरस के प्रत्येक रस को सिर्फ़ ‘मौजमस्ती-रस’ में बदलकर रख देना चाहते हैं। उधर परदे पर आदमक़द घास के बीच से गुज़रता, डरा हुआ सा आदमी, उलटे क़दमों से चलकर घने पेड़ के पास पहुँचा और इधर हॉल में गूँजती डरावनी आवाज़ें अपने चरम पर पहुँच गई...और फिर अचानक वो खूनी पंजा !...उस आदमी का क़त्ल !!...और अन्ततः हॉल में पसरा हुआ सन्नाटा !!!

मेरा दृढ़ विश्वास है कि ‘ब्लैक एंड व्हाईट’ की सी मनमोहक लाईटिंग और असरदार गहराई, रंगीन सिनेमा में और वो भी रहस्य-रोमांच वाली फ़िल्मों में हो ही नहीं सकती। हिन्दी सिनेमा के स्वर्णकाल की एक पूर्ण प्रतिनिधि उस फ़िल्म का मेरे किशोर मन पर ऐसा ज़बर्दस्त असर हुआ कि आज 35 बरस बाद भी अपनी उस ‘हमउम्र’ के साथ मेरा उतना ही क़रीबी रिश्ता बना हुआ है। क़ातिल का पता तो उस पहले शो में ही चल चुका था लेकिन इस फिल्म को देखने का मौक़ा मैं आज भी ढूँढ ही लेता हूँ।...हर बार वही आनन्द...वही नयापन। कसी हुई कथा-पटकथा, कमाल की फ़ोटोग्राफ़ी, बेमिसाल निर्देशन!...सुनसान भुतही हवेली...पैशाचिक ध्वनि के साथ खुलते-बन्द होते खिड़की-दरवाज़े... दूर कहीं किसी औरत का रूदन... घुँघरूओं की छमछम... गलियारे से गुज़रता रहस्यमय साया... ऐसे में कलेजा उछलकर आख़िर हलक़ में क्यों न आए? उधर कानों में रस घोलता गीत-संगीत, विशेषत: लता के पारलौकिक स्वर में तमाम रहस्यमयता को समेटे, दिल में उतर जाने वाला गीत ‘कहीं दीप जले कहीं दिल, जरा देख ले आकर परवाने...’, सीप के मोती की तरह बेहद ख़ूबसूरती के साथ गढ़ा गया फ़िल्म का एक-एक चरित्र... नायक-नायिका की दिलकश जोड़ी...बग्घी पर सवार ‘डॉक्टर पाण्डेय’ (मदन पुरी)...बैसाख़ी का सहारा लिए ‘मोहन त्रिपाठी’ (सज्जन)...दर्शकों के तमाम तनाव और भय को तिरोहित करने के लिए मशहूर ‘गोपीचन्द्र जासूस’ (असित सेन)...सीधे-सादे बुज़ुर्ग चाचा (मनमोहन कृष्ण)...सुनसान हवेली के पुराने नौकर ‘लक्ष्मण’ का अपने ही शब्दों को दोहराना...’समझ गया...मैं सब समझ गया’!...आज भी ये चरित्र मेरे दिल के सबसे ज़्यादा क़रीब है। ‘लक्ष्मण’ के रहस्यों से लिपटे हुए चरित्र को निभाया था अभिनेता देवकिशन ने जो इस फ़िल्म के संवाद-लेखक भी थे।

देहरादून की ‘सर्वे ऑफ़ इण्डिया’ की सरकारी कॉलोनी ‘हाथीबड़कला एस्टेट’ का 4 नम्बर ब्लॉक, जहाँ मेरी ज़िन्दगी के शुरूआती 28 साल गुज़रे, उस ज़माने में घने जंगलों से घिरा हुआ था। फ़िल्म ‘बीस साल बाद’ देखने के बाद काफ़ी अरसे तक मेरे लिए रात-बिरात उस इलाक़े की सुनसान सड़कों से गुज़रना आसान नहीं रह गया था। देर रात नाटकों की रिहर्सल से लौटते वक़्त मैं इन्तज़ार करता था कि मेरे घर की दिशा में जाने वाला जाना-अनजाना कोई तो साथी मिले। सच कहूँ तो उन दिनों कण्ठस्थ किया ‘गायत्री-मंत्र’ आज भी मुझे शक्ति देता है... ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यम........”!!!

और अब हम आपको शिशिर जी की देखी हुई फिल्म ’बीस साल बाद’ का रोमांचक किन्तु मधुर गीत- ‘कहीं दीप जले कहीं दिल, जरा देख ले आकर परवाने...’ सुनवाते हैं। इस गीत को हेमन्त कुमार ने राग शिवरंजिनी  के सुरों में संगीतबद्ध किया और लता मंगेशकर ने अपने पारलौकिक सुरों में गाया है।

फिल्म – बीस साल बाद : ‘कहीं दीप जले कहीं दिल, जरा देख ले आकर परवाने...’ : लता मंगेशकर



आपको शिशिर जी की देखी पहली फिल्म का संस्मरण कैसा लगा? हमें अवश्य लिखिएगा। आप अपनी प्रतिक्रिया radioplaybackindia@live.com पर भेज सकते हैं। आप भी हमारे इस आयोजन- ‘मैंने देखी पहली फिल्म’ में भाग ले सकते हैं। आपका संस्मरण हम रेडियो प्लेबैक इण्डिया के इस अनुष्ठान में सम्मिलित तो करेंगे ही, यदि हमारे निर्णायकों को पसन्द आया तो हम आपको पुरस्कृत भी करेंगे। आज ही अपना आलेख और एक चित्र हमे radioplaybackindia@live.com पर मेल करें। जिन्होने आलेख पहले भेजा है, उन प्रतिभागियों से अनुरोध है कि अपना एक चित्र भी भेज दें।

प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र
 

Friday, May 15, 2009

बेकरार करके हमें यूँ न जाइये....हेमंत दा का नशीला अंदाज़

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 81

'ओल्ड इज़ गोल्ड' की कड़ी नम्बर ८१ में आप सभी का हार्दिक स्वागत है। दोस्तों, कुछ रोज़ पहले हमने आपको हेमन्त कुमार की आवाज़ में फ़िल्म कोहरा का एक गीत सुनवाया था "ये नयन डरे डरे"। इस गीत को सुनकर कुछ श्रोताओं ने हमसे हेमन्त कुमार के गाए कुछ और गीत सुनवाने का अनुरोध किया था। तो आज उन सभी श्रोताओं की फ़रमाइश पूरी हो रही है क्यूंकि आज हम आप तक पहुँचा रहे हैं हेमन्तदा का गाया फ़िल्म 'बीस साल बाद' का एक बड़ा ही चुलबुला सा गाना। दोस्तों, जब हमने फ़िल्म 'कोहरा' का गीत सुनवाया था तो हमने आपको यह भी बताया था कि हेमन्तदा ने अपने बैनर 'गीतांजली पिक्चर्स' के तले कुछ 'सस्पेन्स थ्रिलर' फ़िल्मों का निर्माण किया था और इस सिलसिले की पहली फ़िल्म थी 'बीस साल बाद' जो बनी थी सन् १९६२ में। बिरेन नाग निर्देशित इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे विश्वजीत और वहीदा रहमान। विश्वजीत पर हेमन्तदा की आवाज़ कुछ ऐसी जमी कि आगे चलकर प्रदीप कुमार की तरह विश्वजीत के लिए भी दादा ने एक से बढ़कर एक पार्श्वगायन किया। यहाँ कुछ गीतों के नाम गिनाएँ आपको? "ये नयन डरे डरे" तो है ही, इसके अलावा "एक बार ज़रा फिर कहदो मुझे शर्माके तुम दीवाना", "ज़रा नज़रों से कहदो जी निशाना चूक न जाये", "जब जाग उठे अरमान तो कैसे नींद आये", "ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है आइए आप की ज़रूरत है", "तुम्हे जो भी देख लेगा किसी का न हो सकेगा", और भी न जाने कितने और ऐसे लाजवाब गीत हैं जो मुझे इस वक़्त याद आ रहे हैं। एक और ऐसा ही गीत है, जो आज हम आपको सुनवा रहे हैं फ़िल्म 'बीस साल बाद' से और वह गीत है "बेक़रार करके हमें यूँ न जाइए, आपको हमारी क़सम लौट आइए"।

'बीस साल बाद' फ़िल्म के इस गीत की खासियत यह है कि गीत का संगीत पाश्चात्य होते हुए भी इसमें इतनी ज़्यादा मेलडी है कि एक बार जिसने यह गीत सुबह को सुन लिया तो दिन भर बस इसी के बोल उसके लबों पर थरथराते रहते हैं। कहने का मतलब यह है कि इस गीत का असर इतना व्यापक है कि एक बार सुनते ही गीत होठों पर चढ़ जाता है और बहुत देर तक उतरने का नाम नहीं लेता। शक़ील बदायूनी ने भी क्या ख़ूब बोल लिखे हैं - "देखिए गुलाब की वो डालियाँ बढ़के चूम ले ना आपके क़दम, खोए खोए भँवरे भी हैं बाग़ में कोई आपको बना ना ले सनम, बहकी बहकी नज़रों से ख़ुद को बचाइए, आपको हमारी क़सम लौट आइए"। नायक का नायिका को अपनी तरफ़ आकर्षित करने का इससे बेहतर अंदाज़ कोई दूसरा शायद नहीं हो सकता। हेमन्तदा, जो गम्भीर और वज़नदार गीतों के लिए ज़्यादा जाने जाते हैं, तो उन्होने भी कुछ इस तरह के हल्के फुल्के गीत भी गाए हैं जिनका रंग उनके दूसरे गीतों से बिल्कुल अलग है, जुदा है। और इन गीतों में भी उनकी आवाज़ इतनी ज़्यादा रुमानीयत से भरपूर है कि उस ज़माने के किसी भी दूसरे लोकप्रिय मशहूर गायक को सीधी टक्कर दे दे। तो लीजिए हेमन्त कुमार के चाहनेवालों के लिए यह ख़ास नज़राना पेश-ए-ख़िदमत है आज के 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. संगीत एक बार फिर हेमंत दा का पर आवाज़ लता मंगेशकर की है.
२. राजेंदर कृष्ण का लिखा ये गाना जिस फिल्म का है उसका संगीत बरसों तक संगीतप्रेमियों को झूमने पर मजबूर करता रहा है.
३. मुखड़े में शब्द युगल है -"भीगा भीगा".

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
शरद तैलंग जी विजेता हुए हैं आप..बधाई...रचना जी भी लगतार अच्छा प्रदर्शन कर दिग्गजों के लिए चुनौती बन रही हैं...मनु जी और नीरज जी सावधान..


खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ