Showing posts with label sangeet samraat taansen. Show all posts
Showing posts with label sangeet samraat taansen. Show all posts

Wednesday, January 20, 2010

गजरा बना के ले आ... एक मखमली नज़्म के बहाने अफ़शां और हबीब की जुगलबंदी

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #६७

भी-कभी यूँ होता है कि आप जिस चीज से बचना चाहो, जिस चीज से कन्नी काटना चाहो, वही चीज आपकी ज़िंदगी का एक अहम हिस्सा हो जाती है, आपकी पहचान बन जाती है। यह ज्यादातर इश्क़ में होता है और वो भी हसीनाओं के साथ। हसीनाएँ पहले-पहल तो आपको नज़र-अंदाज करती हैं, लेकिन धीरे-धीरे आप उनकी नज़र में बस जाते हैं। क्या आपने भी कभी यह महसूस किया है? किया हीं होगा... इश्क़ का यह नियम है। वैसे यहाँ पर मैं जिस कारण से इस मुद्दे को उठा रहा हूँ, उसकी जड़ में इश्क़ या हसीनाएँ नहीं हैं, बल्कि "आलस्य" है। अब आप सोचेंगे कि महफ़िल-ए-गज़ल में आलस्य की बातें.. तो जी हाँ, पिछली मर्तबा मैंने आलेख की लंबाई कम होने की वज़ह समय की कमी को बताया था, जो कि तब के लिए सच था, लेकिन वही ४५ मिनट वाला किस्सा आज फिर से दुहराया जा रहा है... और इस बार सबब कुछ और है। लेखक ने सामग्रियाँ समय पर जुटा लीं थीं, लेकिन उसी समय उसे(मुझे) आलस्य ने आ घेरा.. महसूस हुआ कि आलेख तो ४५ मिनट में भी लिखा जा सकता है और अच्छा लिखा जा सकता है, (जैसा कि सजीव जी की टिप्पणी से मालूम पड़ा) तो क्यों न सुबह उठकर हीं गज़ल की महफ़िल सजाई जाए....रात की नींद बरबाद करने का क्या फायदा। और फिर इस तरह आलस्य ने भागता फिरने वाला एक इंसान आलस्य की चपेट में आ गया। क्या कीजिएगा... ठंढ के मौसम में आलस्य का कोहरा कुछ ज्यादा हीं घना हो जाता है। है ना? लेकिन अगली मर्तबा से ऐसा न होगा... इस वादे के साथ हम आज की महफ़िल की शुरूआत करते हैं। इस महफ़िल में हम जो नज़्म लेकर हाज़िर हुए हैं, उसमें गाँव की सोंधी-सोंधी खुशबू छुपी है, शादी-ब्याह की अनगिनत यादें दर्ज हैं और सबसे बढकर एक नवविवाहिता की कोमल भावनाएँ अंकुरित हो रखी हैं। प्रेमिका/नवविवाहिता मालिन से यह गुहार कर रही है कि वह गजरा बना के ले आए, क्योंकि उसका प्रेमी/साजन उसे देखने आ रहा है। वह ऐसा गजरा पहनना चाहती है, जो उसके साजन की सुंदरता को टक्कर दे सके.... गजरे में वह ऐसी कलियाँ देखना चाहती हैं जिसका सारा चमन हीं दीवाना हो.. उन कलियों में उसके साजन के लबों की लाली हो..... वैसे इन पंक्तियों तक आते-आते इस बात का भी आभास होने लगता है कि कहीं एक प्रेमी तो नहीं मालिन से फरियाद कर रहा है। हो सकता है कि उसके मिलन की पहली रात हो और वह अपनी नूर-ए-जिगर, अपनी शरीक-ए-हयात यानि कि अपनी पत्नी के बालों में गजरा सजाना चाहता हो। यह नज़्म प्रेमिका के बजाय प्रेमी पर ज्यादा सटीक बैठती है क्योंकि कोई भी शायर किसी पुरूष के लबों की प्रशंसा नहीं करता.. आखिरकार एक पुरूष (शायर) दूसरे पुरूष की सुन्दरता पर क्योंकर टिप्पणी करे। हाँ किसी शायरा से इस बात की उम्मीद की जा सकती है कि वह पुरूष के लबों की, पुरूष की सूरत की प्रशंसा में कुछ कसीदे पढ दे.. लेकिन ऐसा भी कम हीं देखने को मिलता है। आपने कहीं ऐसा पढा है कि "मेरे महबूब की सूरत चाँद से मिलती-जुलती है"... नहीं ना? अरे भाई, चाँद से नहीं तो तारा से हीं मिलती-जुलती कहने में कोई हर्ज़ है क्या....लेकिन कोई नहीं कहता। हाय रे पुरूष की सुन्दरता भी.. किसी काम की नहीं!!

हमने यह तो मान लिया कि किसी पुरूष की प्रशंसा कोई शायरा हीं कर सकती है.. नहीं तो कोई नहीं तो इस लिहाज से आज की नज़्म को किसी शायरा ने हीं लिखा होना चाहिए। और यहीं पर आकर हमारी गाड़ी रूक जाती है। अंतर्जाल पर हर जगह नगमानिगार के तौर पर "अफ़शां राणा" जी का नाम दर्ज है.. सुनने पर तो यह नाम किसी महिला का हीं लगता है लेकिन चूँकि इनका परिचय कहीं भी मौजूद नहीं, इसलिए ठीक-ठीक कहा नहीं जा सकता। फिर भी बस यह पता करने के लिए कि इनके लिए "श्रीमान" लिखा जाए या "श्रीमति" हमने घंटों अपना समय गूगल के नाम कर दिया। अंततोगत्वा हमें मालूम चला कि अस्सी के दशक में एक संगीतकार खासे लोकप्रिय हुआ करते थे जिनका नाम था "सोहैल राणा"। सोहैल राणा ने अफ़शां राणा के साथ कई सारे कार्यक्रम दिए जो कि इनकी बीवी थीं(हैं)। अगर यहाँ उसी अफ़शां राणा की बात की जा रही है तो हम सही रास्ते पर हैं..यानि कि अफ़शां राणा किसी शायर का नहीं बल्कि एक शायरा का नाम है। हमें इस खोज पर यकीन करने के अलावा कोई और चारा नहीं दिख रहा..फिर भी अगर आपको अफ़शां के बारे में कोई और जानकारी हासिल हो तो हमें जरूर बताईयेगा.. बस नाम जान लेना हीं काफ़ी नहीं है.... सबसे अजीब बात तो यह है कि अंतर्जाल पर इनके नाम के सामने बस एक हीं नज़्म दर्ज है और वह है आज की नज़्म "गजरा बना के ले आ"। आखिर इन्होंने कुछ और भी तो लिखा होगा। अब चूँकि इनकी लिखी कोई और रचना हमें मिली नहीं, इसलिए इस बार कई महिनों के बाद अपना हीं एक शेर कहने पर मैं आमादा हो रहा हूँ। पसंद न आए तब भी दाद जरूर दीजिएगा:
मैं तुम्हारे वास्ते कुछ और हीं हो जाऊँगा,
तू एक दफ़ा निहार ले मैं आदमी हो जाऊँगा|


शायरा के बाद अब वक्त है आज की नज़्म के गायक से रूबरू होने का। आज इनके संक्षिप्त परिचय से हीं काम चला लेते हैं। कुछ हीं हफ़्तों में हम ग़ालिब की एक ग़ज़ल लेकर हाज़िर होने वाले हैं जिनमें आवाज़ "हबीब वली मोहम्मद" साहब की हीं हैं। तब इनके बारे में विस्तार से बातें करेंगे। (सौजन्य: सुखनसाज़)हबीब वली मोहम्मद (जन्म १९२१) विभाजन पूर्व के भारतीय उपमहाद्वीप के प्रमुख लोकप्रिय ग़ज़ल गायकों में थे. कालेज के दिनों में उनके दोस्त उन्हें संगीत सम्राट तानसेन कहा करते थे. एम बी ए की डिग्री लेने के बाद वली मोहम्मद १९४७ में बम्बई जाकर व्यापार करने लगे. दस सालों बाद वे पाकिस्तान चले गए. वहीं उन्होंने बेहद सफल कारोबारी का दर्ज़ा हासिल किया. अब वे कैलिफ़ोर्निया में अपने परिवार के साथ रिटायर्ड ज़िन्दगी बिताते हैं. बहादुरशाह ज़फ़र की 'लगता नहीं है दिल मेरा' उनकी सबसे विख्यात गज़ल है. भारत में फ़रीदा ख़ानम द्वारा मशहूर की गई 'आज जाने की ज़िद न करो भी उन्होंने अपने अंदाज़ में गाई है. उस वक़्त के तमाम गायकों की तरह उनकी गायकी पर भी कुन्दनलाल सहगल की शैली का प्रभाव पड़ा. उनका एक तरह का सूफ़ियाना लहज़ा 'बना कर फ़क़ीरों का हम भेस ग़ालिब, तमाशा-ए-अहल-ए-करम देखते हैं' की लगातार याद दिलाता चलता है. हबीब साहब ज्यादातर ज़फ़र की हीं गज़लें गाते हैं। मेरे ख्याल से आज की नज़्म बड़ी हीं अनोखी है क्योंकि एक तो हबीब साहब की ऐसी कोई दूसरी नज़्म हमें सुनने को नहीं मिली और दूसरा यह कि ऐसी नज़्में आजकल बनती कहाँ है..। आप खुद हीं इस बात से इत्तेफ़ाक़ रखते होंगे.. । तो पेश है आज की नज़्म:

गजरा बना के ले आ मलनिया,
वो आए हैं घर में हमारे
देर न अब तू लगा।

सारा चमन हो जिनका दीवाना
ऐसी कलियाँ चुने के ला,
लाली हो जिन में उनके लबों की
उनको पिरो के ले आ,
गजरा बना के ले आ...मलनिया..

जो भी देखे उनकी ______
झुकी झुकी अंखियों से प्यार करे,
चंदा जैसा रूप है उनका
आंखों में रस है भरा,
गजरा बना के ले आ...मलनिया..




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की... ऊपर जो गज़ल हमने पेश की है, उसके एक शेर में कोई एक शब्द गायब है। आपको उस गज़ल को सुनकर सही शब्द की शिनाख्त करनी है और साथ ही पेश करना है एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली!

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -

पिछली महफिल का सही शब्द था "पयाम" और शेर कुछ यूं था -

कोई तो आए नई रूतों का पयाम लेकर,
अंधेरी रातों में चाँद बनना कोई तो सीखे।

इस शब्द की सबसे पहले सही पहचान की सीमा जी ने। आपने ये सारे शेर पेश किए जिसमें "पयाम" शब्द का इस्तेमाल हुआ था:

पयाम आये हैं उस यार-ए-बेवफ़ाके मुझे
जिसे क़रार न आया कहीं भुला के मुझे (अहमद फ़राज़)

सितारों के पयाम आये बहारों के सलाम आये
हज़ारों नामा आये शौक़ मेरे दिल के नाम आये (अली सरदार जाफ़री)

उम्र भर साथ निभाने का पयाम आया था
आपको देख के वह अहद-ए-वफ़ा याद आया (साहिर लुधियानवी)

सजीव जी और पी सिंह जी(माफ़ कीजिएगा, आपका पूरा नाम हमें मिल न सका), ग़ज़ल और ग़ज़ल पेश करने की अदा को पसंद करने के लिए आप दोनों का तहे-दिल से शुक्रिया। कभी कोई शेर भी महफ़िल में पेश करें!!!

शरद जी, बहुत खूब!! इस बार आप खुद के लिखे शेरों के साथ भले हीं नज़र नहीं आएँ, लेकिन हमें लता हया जी की गज़ल से मुखातिब करा गए... इस मेहरबानी के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। यह रहा वह शेर:

सुबह का पहला पयाम उर्दू
ढ्लती हुई सी जैसे शाम उर्दू (लता हया)

नीलम जी, यह क्या कह रही हैं आप? अगर दिग्गजों की हम सोचने लगें तब तो हमारी भी बिसात खतरे में आ जाएगी। अभी हममें भी ऐसी क्षमता नहीं आई कि दिग्गजों के सामने खड़े हो सकें.. लेकिन यही तो ज़िंदगी है.. हमें इन सब की परवाह नहीं करनी चाहिए.. और वैसे भी आप अपने आपको किसी दिग्गज से कम कैसे आँक सकती हैं..ज़रा हमारी नज़रों से देखें :)

मंजु जी और रजनीश जी... आप दोनों ने महफ़िल में स्वरचित शेरों का सूखा नहीं होने दिया.. यह बड़ी हीं खुशी की बात है। ये रहे आप दोनों के शेर. क्रम से:

कभी हवाओं से ,कभी मेघदुतों से वियोग का पयाम भेजा है ,
बेखबर -रूखे महबूब !रुसवाई की भनक भी हुई क्या ?

पयाम ज़िन्दगी ने दिया हज़ार बार संभल जाने का...
पर एक दिल था हमारा कि हर बात पर मचल गया...

अवध जी, "ज़फ़र" साहब को आपने महफ़िल में पुन: जिंदा कर दिया... क्या बात है!!

पयाम ले के सबा वां अगर पहुँच जाती
तो मिस्ले-बू-ए-गुल उड़ कर खबर पहुँच जाती.

आगे की महफ़िल को अकेले संभाला शामिख जी ने। चलिए हर बार की तरह आप देर से आए, लेकिन यह कह सकते हैं कि इस बार आप दुरूस्त आए (पिछली बार की तुलना में)। यह रही आपकी पेशकश:

ये पयाम दे गई है मुझे बादे- सुबहशाही
कि ख़ुदी के आरिफ़ों का है मक़ाम पादशाही (इक़बाल)

एक रंगीन झिझक एक सादा पयाम
कैसे भूलूँ किसी का वो पहला सलाम (कैफ़ी आज़मी)

हमारे ख़त के तो पुर्जे किए पढ़ा भी नहीं
सुना जो तुम ने बा-दिल वो पयाम किस का था (दाग दहलवी)

सबा यह उन से हमारा पयाम कह देना
गए हो जब से यहां सुबह-ओ-शाम ही न हुई (जिगर मुरादाबादी)

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए अलविदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा


ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर बुधवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Tuesday, August 25, 2009

झूमती चली हवा याद आ गया कोई...संगीतकार एस एन त्रिपाठी के लिए भी गाये मुकेश ने कुछ बेहरतीन गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 182

'१० गीत जो थे मुकेश को प्रिय', इस शृंखला की दूसरी कड़ी में मुकेश और शैलेन्द्र की जोड़ी तो बरकरार है, लेकिन आज के गीत के संगीतकार हैं एस. एन. त्रिपाठी, जिनका नाम ऐतिहासिक और पौराणिक फ़िल्मों में सफल संगीत देने के लिए श्रद्धा से लिया जाता है फ़िल्म जगत में। त्रिपाठी जी के अनुसार, "मुकेश जी ने मेरे गीत बहुत ही कम गाए हैं, मुश्किल से १५ या २०, बस! मगर यह बात देखने लायक है कि उन्होने मेरे लिए जो भी गीत गाये हैं, वो सब 'हिट' हुए हैं, जैसे "नैन का चैन चुराकर ले गई" (चंद्रमुखी), "आ लौट के आजा मेरे मीत" (रानी रूपमती), "झूमती चली हवा याद आ गया कोई" (संगीत सम्राट तानसेन), इत्यादि इत्यादि।" दोस्तों, इन्ही में से फ़िल्म 'संगीत सम्राट तानसेन' का गीत आज हम आप को सुनवा रहे हैं, जो मुकेश जी को भी अत्यंत प्रिय था। १९६२ के इस फ़िल्म का निर्माण व निर्देशन स्वयं एस. एन. त्रिपाठी ने ही किया था। बैनर का नाम था 'सुर सिंगार चित्र'। भारत भूषण और अनीता गुहा अभिनीत यह फ़िल्म अपने गीत संगीत की वजह से आज भी लोगों के दिलों में बसा हुआ है। शास्त्रीय रागों का व्यापक इस्तेमाल फ़िल्म के हर एक गीत में त्रिपाठी जी ने किया है। प्रस्तुत गीत आधारित है राग सोहानी पर। एस. एन. त्रिपाठी के संगीत की खासियत यह थी कि पीरियड और पौराणिक फ़िल्मों में वो इस तरह से संगीत देते थे कि वह ज़माना जीवंत हो उठता था उनके संगीत के माध्यम से। हमारी संस्कृति, हमारे इतिहास को अपने फ़िल्मों में सही तरीके से दर्शाने में उनका बहुत बड़ा योगदान रहा है और अपने इस काम के साथ उन्होने पूरा पूरा न्याय भी किया है। जहाँ तक प्रस्तुत गीत में मुकेश की आवाज़ का ताल्लुख़ है, क्या ख़ूब उभारा है उन्होने विरह की वेदना को!

और अब आइए दोबारा मुड़ते हैं मुकेश के सुपुत्र नितिन मुकेश के उस जयमाला कार्यक्रम पर जिसमें उन्होने अपने पिता से जुड़ी कई बातें बताई थी. "मेरे बहुत से दोस्त मुझसे प्रश्न करते हैं कि क्या मुकेश जी मेरे गुरु थे? क्या उन्होने मुझे गाना सीखाया? तो मैं यह कहना चाहता हूँ कि यूं तो वो मेरे आदर्श रहे हैं, लेकिन उन्होने कभी मुझे गाना सिखाया नहीं। मैने उन्हे सुन सुन के गाना सीखा है। वो तो चाहते ही नहीं थे कि मैं गायक बनूँ। उन्होने एक बार मुझसे कहा था कि 'Singing is a beautiful hobby but a painful profession'. यह उनकी मेरे लिए एक चेतावनी थी। उन्हे डर था कि क्या मैं संघर्ष कर पाऊंगा? उन्होने मुझे पढ़ने के लिए लंदन भेजा, पर मैं वहाँ से भी लौट कर वापस आ गया क्योंकि मेरा मन तो गीत संगीत में ही था। मैं ९ वर्ष की आयु से ही उनके साथ हर शो पर जाता था और उनके साथ गाने की भी ज़िद करता। और जब कभी मुझे औडिएन्स की तरफ़ से वाह वाह मिलती, वो तो मुझे कुछ नहीं कहते, पर रात को मेरी माँ को टेलीफ़ोन पर मेरी ख़ूब तारीफ़ करते। आज मेरी माँ कहती है कि वो हमेशा चाहते थे कि मैं एक सिंगर बन जाऊं।" दोस्तों, अपने पिता के नक्श-ए-क़दम पर चलते हुए नितिन मुकेश तो एक अच्छे गायक बन गये, अब मुकेश जी के पोते नील नितिन मुकेश भी जवाँ दिलों पर राज कर रहे हैं। और अब यह भी सुनने में आया है कि नील अपनी अगली फ़िल्म में गीत भी गाने वाले हैं। तो चलिए, याद करते हैं मुकेश जी का गाया यह रूहानी गीत "झूमती चली हवा याद आ गया कोई, बुझती बुझती आग को फिर जला गया कोई"।



हमारे एक श्रोता बी एस पाबला जी ने गीत के बोल हमें भेजे हैं...आप भी आनंद लें -

झूमती चली हवा, याद आ गया कोई
बुझती बुझती आग को, फिर जला गया कोई
झूमती चली हवा ...

खो गई हैं मंज़िलें, मिट गये हैं रास्ते
गर्दिशें ही गर्दिशें, अब हैं मेरे वास्ते
अब हैं मेरे वास्ते
और ऐसे में मुझे, फिर बुला गया कोई
झूमती चली हवा ...

चुप हैं चाँद चाँदनी, चुप ये आसमान है
मीठी मीठी नींद में, सो रहा जहान है
सो रहा जहान है
आज आधी रात को, क्यों जगा गया कोई
झूमती चली हवा ...

एक हूक सी उठी, मैं सिहर के रह गया
दिल को अपना थाम के आह भर के रह गया
चाँदनी की ओट से मुस्कुरा गया कोई
झूमती चली हवा...


और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. मुकेश की पसंद का अगला गीत है ये.
२. गीतकार हैं शमीम जयपुरी साहब.
३. मुखड़े की पहली पंक्ति में आपके इस प्रिय ब्लॉग का नाम है :)

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी बधाई १२ अंक हुए आपके. पाबला जी आशा है आज आप बाज़ी मारेंगें. आपने पूरे गीत के बोल जो दिए हैं वो हमने सभी श्रोताओं के लिए पेश कर दिया है. यदि आप ये काम नियमित रूप से कर पायें तो बहुत बढ़िया रहेगा. मनु जी के मार्फ़त पता लगा की स्वप्न जी का जन्मदिन था कल, भई देर से ही सही हमारी तरफ (समस्त आवाज़ परिवार) से भी संगीतमय शुभकामनाएँ. पराग जी आपकी अदा दिल छू गयी. विनोद जी आपका भी आभार.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ