Showing posts with label neeraj. Show all posts
Showing posts with label neeraj. Show all posts

Thursday, November 11, 2010

फूलों के रंग से दिल की कलम से....जब भी लिखा नीरज ने, खालिस कविताओं और फ़िल्मी गीतों का जैसे फर्क मिट गया

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 525/2010/225

"फूलों के रंग से, दिल की कलम से,
तुझको लिखी रोज़ पाती,
कैसे बताऊँ किस किस तरह से,
पल पल मुझे तू सताती,
तेरे ही सपने लेकर के सोया,
तेरी ही यादों में जागा,
तेरे ख़यालों में उलझा रहा युं,
जैसे कि माला में धागा,
बादल बिजली, चंदन पानी जैसा अपना प्यार,
लेना होगा जनम हमें कई कई बार,
इतना मदिर, इतना मधुर, तेरा मेरा प्यार,
लेना होगा जनम हमें कई कई बार"।

दोस्तों, जहाँ पर कविता और फ़िल्मी गीत का मुखड़ा एकाकार हो जाए, उस अनोखे और अनूठे संगम का नाम है गोपालदास नीरज। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों नमस्कार और एक बार फिर स्वागत है लघु शृंखला 'दिल की कलम से' की आज की कड़ी में। जी हाँ, आज हमने चुना है प्रेम कवि गोपाल दास नीरज को, जिन्हें साहित्य और फ़िल्मी दुनिया नीरज के नाम से पहचानती है। फ़िल्म 'प्रेम पुजारी' के गीत का मुखड़ा जो उपर हमने लिखा, उसे पढ़ते हुए आपको यह ज़रूर लगा होगा कि आप कोई शृंगार रस की कविता पढ़ रहे हैं। साहित्य जगत के चमकीले सितारे कवि गोपालदास नीरज पहले साहित्य गीतकार हैं, फिर फ़िल्मी गीतकार। उनकी लिखी कविताएँ और साहित्य जितनी प्रभावशाली हैं, उतने ही लोकप्रिय हैं उनके रचे फ़िल्मी गीत। फ़िल्मों में गानें लिखते हुए किसी गीतकार को कई बार बेड़ियों में बाँध दिया जाता है, उनसे सारे अस्त्र-शस्त्र छीन लिए जाते हैं, और कहा जाता है कि गीत लिखो। पर नीरज ने किसी भी सिचुएशन के गाने को बड़े ही सुंदर शब्दों से ऐसे व्यक्त किया है कि आम जनता से लेकर शेर-ओ-शायरी व काव्य में रुचि रखने वाले श्रोताओं को उन्होंने एक ही समय संतुष्ट कर दिया है। साथ ही दुनिया को यह भी दिखा है कि चाहे कितनी भी बंदिशें हों गीतकार के सामने, प्रतिभावान गीतकार हर बार अच्छा गीत लिखकर निकल सकता है। इसके लिए ज़रूरी है कि गीतकार भाषा और विषय में पारदर्शी हो, जो कि नीरज जी थे। उन्होंने फ़िल्मी गीतों में भी ऐसा लालित्य प्रदान किया है कि यह सचमुच एक आश्चर्य की बात है।

नीरज ने युं तो कई संगीतकारों के साथ काम किया है, लेकिन सचिन देव बर्मन के साथ उनकी ट्युनिंग कुछ और ही जमी। 'शर्मिली', 'प्रेम पुजारी', 'कन्यादान', 'गैम्ब्लर', 'तेरे मेरे सपने', 'छुपा रुस्तम' जैसी फ़िल्मों में बर्मन दादा और नीरज ने साथ साथ काम किया और एक से बढ़कर एक गीत हमें उपहार स्वरूप दिए। शैलेन्द्र के गुज़र जाने के बाद शंकर जयकिशन हसरत साहब के अलावा और भी कई गीतकारों से गानें लिखवाने लगे थे, जिनमें एक नीरज भी थे। आज हम १९७० की फ़िल्म 'प्रेम पुजारी' का वही गीत सुनने जा रहे हैं किशोर कुमार की आवाज़ में। इसमें किसी तरह के कोई शक़ की गुंजाइश ही नहीं है कि इस गीत की लोकप्रियता और कालजयिता का मुख्य कारण है इसके असाधारण अद्भुत बोल, जिनके लिए श्रेय जाता है नीरज जी को। आइए आपको नीरज जी के बारे में कुछ बातें बतायी जाएँ। उनका जन्म ४ जनवरी १९२४ को उत्तर प्रदेश के ईटावा के पूरावली में हुआ था। उनकी लेखनी की विशेषता यह है कि उनके लिखे साहित्य और कविताओं के अर्थ आसानी से समझ में आ जाते हैं, लेकिन स्तरीय हिंदी का ही वो प्रयोग अपनी रचनाओं में किया करते थे। साहित्य जगत में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए उन्हें सन् २००७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया जा चुका है। लिखने के अलावा वो पेशे के लिहाज़ से कॊलेज में अध्यापक रह चुके हैं, और हिंदी साहित्य के एक विख्यात प्रोफ़ेसर भी रहे हैं अलिगढ़ विश्वविद्यालय में। उनकी लिखी कविताओं को ही नहीं फ़िल्मी गीत का जामा पहनाया गया, बल्कि उनके लिखे नज़्मों को भी फ़िल्मी दुनिया ने सरमाथे पर बिठाया। फ़िल्म 'नई उमर की नई फ़सल' में "कारवाँ गुज़र गया ग़ुबार देखते रहे" उनके लिखे फ़िल्मी नज़्मों में सब से उपर आता है। तो आइए नीरज जी की प्रतिभा को समर्पित आज के इस अंक का गीत सुना जाए। शृंगार रस की एक अद्भुत रचना है यह किशोर दा की आवाज़ में।



क्या आप जानते हैं...
कि सचिन दा के संगीत में नीरज जी का लिखा पहला गीत था फ़िल्म 'प्रेम पुजारी' का - "रंगीला रे"। इस गीत में "शराब" के लिए "जल" का उपमान प्रस्तुत कर नीरज ने सचिन दा को चमत्कृत कर दिया था।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली ०६ /शृंखला ०३
ये है गीत का पहला इंटर ल्यूड -


अतिरिक्त सूत्र - मुखड़े में शब्द है -"सुराही"

सवाल १ - साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित होने वाली वो पहली महिला हैं इस कवियित्री का नाम बताएं - २ अंक
सवाल २ - १९७६ में आई इस फिल्म के संगीतकार बताएं - १ अंक
सवाल ३ - शबाना आज़मी अभिनीत इस फिल्म का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
शरद जी २ अंक, और श्याम कान्त जी और अमित जी को १-१ अंक की बधाई, जी अवध ये गीत हमने शृंखला के बीचों बीच इस्तेमाल कर लिए, यूहीं एक बदलाव स्वरुप :). भारतीय नागरिक जी, कभी अपना नाम तो बताईये

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Wednesday, October 7, 2009

मेघा छाए आधी रात बैरन बन गयी निंदिया....गीतकार नीरज का रचा एक बेहतरीन गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 225

संगीत चाहे कोई भी हो, यह बना है सात स्वरों से। जी हाँ, सा रे गा मा पा धा नि। ये तो केवल अब्रीवियशन्स हैं जिनके पूरे नाम हैं शदज, रिशभ, गंधार, मध्यम, पंचम, धैवत और निशाद। एक साथ मिलकर इन्हे कहा जाता है सप्तक। सप्तक तीन प्रकार के होते हैं - मंद्र (धीमी ध्वनि), मध्यम (साधारण ध्वनि), और तार (उच्च ध्वनि)। जब हम राग की बात करते हैं तो किसी भी राग के तीन dimensions होते हैं। पहला यह कि सात स्वरों में से कितने स्वरों का इस्तेमाल किया जाना है। जो राग पाँच स्वरों पर आधारित है उसे ओडव राग कहते हैं, छह स्वरों के साथ उसे शडव कहते हैं, और अगर सभी सात स्वर उसमें शामिल हैं तो उसे सम्पूर्ण राग कहते हैं। किसी राग में जिस स्वर पर ज़्यादा ज़ोर दिया जाता है उसे वादी कहते हैं और उसके अगले ज़ोरदार स्वर को कहते हैं सम्वादी। जिस स्वर का इस्तेमाल नहीं हो सकता, उसे विवादी कहते हैं। तो दोस्तों, ये तो थीं रागदारी की कुछ मौलिक बातें, आइए अब आपको बताएँ कि आज हम किस राग पर आधारित गीत आपको सुनवाने के लिए लाए हैं। आज का राग है पटदीप। कुछ राग ऐसे हैं जिनका बहुत ज़्यादा इस्तेमाल संगीतकारों ने किया है, और कुछ राग ऐसे रह गए जिनकी तरफ़ फ़िल्मी संगीतकारों ने बहुत ज़्यादा ध्यान नहीं दिया। पटदीप ऐसा ही एक राग है। संगीतकार नौशाद, शंकर जयकिशन और सचिन देव बर्मन उन गिने चुने संगीतकारों में से थे जिन्होने सब से ज़्यादा रागों के साथ खेला है। तभी तो इन तीनों संगीतकारों का रेज़ल्ट हमेशा १००% हुआ करता था। राग पटदीप पर नौशाद ने फ़िल्म 'साज़ और आवाज़' के लिए एक गीत की रचना की थी "साज़ हो तुम आवाज़ हूँ मैं", और बर्मन दादा ने फ़िल्म 'शर्मिली' में लता जी से गवाया था "मेघा छाए आधी रात बैरन बन गई निंदिया"। आज इसी दूसरे गीत की बारी 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में। इन दो गीतों के अलावा अगर आप के ज़हन में कोई और गीत है राग पटदीप पर आधारित तो हमारे साथ ज़रूर बाँटिएगा।

'शर्मिली' १९७१ की फ़िल्म थी शशि कपूर और राखी के अभिनय से सजी हुई। राखी का इस फ़िल्म में डबल रोल था। कंचन और कामिनी दो जुड़वां बहनें हैं, लेकिन स्वभाव में एक दूसरे के विपरीत। जहाँ कंचन बहुत ही शर्मिली, प्रकृति प्रेमी, घरेलु और बड़ी ही सीधी सादी सी, साड़ी पहनने वाली लड़की है, वहीं दूसरी ओर कामिनी पाश्चात्य रंग ढंग वाली एक खुले मिज़ाज की लड़की। दोनों को एक ही पुरुष से प्यार हो जाता है। कई पड़ावों से गुज़रते हुए अंत में कंचन को मिलता है अपना प्यार और कामिनी मर जाती है। कामिनी के अंदाज़ में हमने आपको 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर ही आशा भोसले का गाया "रेश्मी उजाला है मख़मली अंधेरा" सुनवा चुके हैं। आज है कंचन की बारी। जैसा कि हमने बताया कंचन को प्रकृति से लगाव है, वो बाग़ बगीचों में समय बिताती है, तो उनके किरदार को और ज़्यादा सशक्त करते हुए गीतकार नीरज और संगीतकार सचिन देव बर्मन ने राग पटदीप पर एक गाना तैयार किया "मेघा छाए आधी रात बैरन बन गई निंदिया"। गीत का संगीत संयोजन बड़ा ही कमाल का है, गाने का प्रील्युड पाश्चात्य है, फिर धीरे धीरे सितार के तानों और तबले के थापों के साथ साथ शास्त्रीय संगीत में परिणत हो जाता है। और इंटर्ल्युड म्युज़िक में फिर वही पाश्चात्य रंग। फ़्युज़न किसे कहते हैं बर्मन दादा ने सन्'७१ के इस गीत में ही दुनिया को दिखा दिया था, आज इसी फ़्युज़न का हम एक बार फिर से आनंद उठाएँ, सुनते हैं "मेघा छाए आधी रात"।



मेघा छाए आधी रात बैरन बन गई निदिया
बता दे मैं क्या करूं ।

सबके आँगन दिया जले रे मोरे आँगन जिया
हवा लागे शूल जैसी ताना मारे चुनरिया
कैसे कहूँ मैं मन की बात बैरन बन गई निदिया
बता दे मैं क्या करूं ।

टूट गए रे सपने सारे छूट गई रे आशा
नैन बह रे गंगा मोरे फिर भी मन है प्यासा
आई है आँसू की बारात बैरन बन गई निदिया


और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. अगला गीत जिस राग पर आधारित है वो है राग सारंग.
२. भारत व्यास ने लिखा इस गीत को इस एतिहासिक पृष्ठभूमि पर बनी मशहूर फिल्म के लिए.
३. एक अंतरा शुरू होता है इस शब्द से -"बरसे".

पिछली पहेली का परिणाम -

शरद जी बहुत जल्दी आप डबल फिगर यानी १० अंकों पर पहुँच गए हैं, आश्चर्य है इस बार स्वप्न जी ने खाता भी नहीं खोला है अब तक....:) शरद जी को बधाई

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Saturday, September 5, 2009

रे मन सुर में गा...फ़िल्मी गीतों में भी दिए हैं मन्ना डे और आशा ने उत्कृष्ट राग गायन की मिसाल

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 193

फ़िल्म संगीत के सुनहरे दौर के पार्श्वगायकों में एक महत्वपूर्ण नाम मन्ना डे साहब का रहा है। भले ही उन्हे नायकों के पार्श्व गायन के लिए बहुत ज़्यादा मौके नहीं मिले, लेकिन उनकी गायकी का लोहा हर संगीतकार मानता था। शास्त्रीय संगीत में उनकी मज़बूत पकड़ का ही नतीजा था कि जब भी किसी फ़िल्म में शास्त्रीय संगीत पर आधारित, या फिर दूसरे शब्दों में, मुश्किल गीतों की बारी आती थी तो फ़िल्मकारों और संगीतकारों को सब से पहले मन्ना दा की ही याद आ जाती थी। आज '१० गायक और एक आपकी आशा' की तीसरी कड़ी में आशा भोंसले का साथ निभाने के लिए हमने आमंत्रण दिया है इसी सुर गंधर्व मन्ना डे साहब को! युं तो मन्ना दा ने लता मंगेशकर के साथ ही अपने ज़्यादातर लोकप्रिय युगल गीत गाए हैं, लेकिन आशा जी के साथ भी उनके गाए बहुत सी सुमधुर रचनाएँ हैं। आज 'ओल्ड इस गोल्ड' में छा रहा है शास्त्रीय संगीत का रंग मन्ना दा और आशा जी की आवाज़ों में। फ़िल्म 'लाल पत्थर' का यह गीत है "रे मन सुर में गा"। क्या गाया है इन दोनों ने इस गीत को! कोई किसी से कम नहीं। इस जैसे गीत को सुन कर कौन कह सकता है कि फ़िल्मी गायक गायिकाएँ पारंपरिक शास्त्रीय गायकों के मुक़ाबले कुछ कम है! शास्त्रीय गायन की इस पुर-असर जुगलबंदी ने फ़िल्म संगीत के मान सम्मान को कई गुणा बढ़ा दिया है। 'लाल पत्थर' एफ़. सी. मेहरा की एक मशहूर और चर्चित फ़िल्म रही है जिसमें राज कुमार, हेमा मालिनी, राखी और विनोद मेहरा जैसे बड़े सितारों ने जानदार भूमिकाएँ निभायी। निर्देशक थे सुशील मजुमदार। फ़िल्म की कहानी प्रशांत चौधरी की थी, संवाद लिखे ब्रजेन्द्र गौड़ ने, और स्कीनप्ले था नबेन्दु घोष का। १९७१ में जब यह फ़िल्म बनी थी तब जयकिशन इस दुनिया में नहीं थे। शंकर ने अकेले ही फ़िल्म का संगीत तैयार किया, लेकिन 'शंकर जयकिशन' के नाम से ही। जयकिशन के नाम को हटाना उन्होने गवारा नहीं किया। इस फ़िल्म के गानें लिखे हसरत जयपुरी, नीरज और नवोदित गीतकार देव कोहली ने। देव कोहली ने इस फ़िल्म में किशोर कुमार का गाया "गीत गाता हूँ मैं" लिख कर रातों रात शोहरत की बुलंदी को छू लिया था। वैसे आज का प्रस्तुत गीत नीरज जी का लिखा हुआ है। इस गीत के लिए आशा जी और मन्ना डे की तारीफ़ तो हम कर ही चुके हैं, शंकर जी की तारीफ़ भी हम कैसे भूल सकते हैं, शुरु से ही वो शास्त्रीय रंग वाले ऐसे गीतों को इसी तरह का सुखद सुरीला अंजाम देते आ रहे हैं।

'लाल पत्थर' १९७१ की फ़िल्म थी। इसके ठीक एक साल बाद १९७२ में बंबई के एक होटल के एक शानदार हौल में मनाया गया था आशा भोंसले के फ़िल्मी गायन के २५ वर्ष पूरे हो जाने पर एक जश्न। बड़े बड़े सितारे आए हुए थे उस 'सिल्वर जुबिली' की पार्टी में, और उस मौके के लिए देश के कई महान संगीतकारों ने बधाई संदेश रिकार्ड किए थे आशा जी के लिए। इनमें से कई ऐसे हैं जो ख़ुद अब ज़िंदा नहीं हैं, मगर उनका संगीत हमेशा हमेशा रहेगा। ऐसे ही एक संगीतकार थे शंकर जयकिशन की जोड़ी। तो उस आयोजन में शंकर जी ने क्या कहा था आशा जी के बारे में, ज़रा आगे पढ़िए - "आशा जी की आवाज़ में इतना रस है, इतना सेक्स है, कि कोई भी दिलवाला झूम जाए, कि जब आवाज़ में इतना सेक्स है तो आवाज़वाली तो बहुत ख़ूबसूरत होंगी! आशा जी ख़ुद भी ख़ूबसूरत हैं और इनका दिल भी इतना ख़ूबसूरत है जैसे भोले बच्चे का होता है। गाने का कमाल ऐसा कि दादरा, ठुमरी, ग़ज़ल, गीत, क्लासिकल और माडर्न, किस स्टाइल की तारीफ़ करें! बिल्कुल १००% सोना। मेरी भगवान से यही प्रार्थना है कि आशा जी की एक नहीं कई 'जुबिली' हों, हर 'जुबिली' पर मुझे बड़ी ख़ुशी होगी।" दोस्तों, शंकर जी की ये बातें हमें अमीन सायानी द्वारा प्रस्तुत 'संगीत के सितारों की महफ़िल' कार्यक्रम के सौजन्य से प्राप्त हुई। तो लीजिए शंकर जयकिशन, आशा भोंसले और मन्ना डे के नाम करते हैं आज का यह गीत जो कि आधारित है राग कल्याण पर। खो जाइए मधुरता के समुंदर में, और ज़रा सोचिए कि क्या इससे ज़्यादा मधुर कोई और चीज़ हो सकती है!



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. कल के गीत में आशा के सहगायक हैं "जगमोहन बख्शी".
२. इस फिल्म में आशा जी ने पहली बार बर्मन दा सीनियर के लिए गाया था.
३. मुखड़े में शब्द है - "हसीना".

पिछली पहेली का परिणाम -
रोहित जी बिलकुल सही जवाब देकर आपने कमाए दो अंक और और आपका कुल स्कोर हुआ २०. बधाई...मनु जी सर मोहर ही न लगते रहिये...कभी समय से भी आ जाया कीजिये.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Saturday, August 15, 2009

ताक़त वतन की हमसे है, हिम्मत वतन की हमसे है.....जय भारत के वीर जवान,जय जय हिंदुस्तान...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 172

मारा देश आज अपना ६३-वाँ स्वाधीनता दिवस मना रहा है। इस ख़ास पर्व पर हम सभी श्रोताओं व पाठकों का हार्दिक अभिनंदन करते हैं। आज ही के दिन सन् १९४७ में दिल्ली के लाल क़िले की प्राचीर पर नेहरु जी ने पहली बार स्वतंत्र भारत में तिरंगा लहराया था। जिस तरह से तिरंगे की तीन रंगों, गेरुआ, सफ़ेद और हरा, का अपना अपना अर्थ है, महत्व है, इन्ही तीन रंगों के महत्व को उजागर करते हुए आज से अगले तीन दिनों की 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल सजेगी। पहला रंग है गेरुआ, यानी कि वीरता का, या वीर रस का। इतिहास गवाह है हम भारतीयों की वीरता का। जब जब देश पर विपदा आन पड़ी है, इस देश के वीर जवानों ने तब तब अपनी जान की परवाह किए बग़ैर देश को हर संकट से उबारा है। फिर चाहे वह दुश्मनों का आक्रमण हो या कोई प्राकृतिक विपदा। ज़्यादा पीछे जाने की ज़रूरत नहीं, हाल ही में मुंबई आतंकी हमलों के दौरान हमारे जवानों ने जो वीरता दिखायी है कि हमारा सर श्रद्धा से उनके आगे झुक जाता है। तो दोस्तों, वीरता हमारे देश की परंपरा रही है, लेकिन वीर होने का अर्थ हमारा कदापि यह नहीं कि दूसरों पर हम वार करें। इतिहास इस बात का भी गवाह है कि कभी भी हमने किसी मुल्क पर पहले वार नहीं किया है। अक्सर दुश्मनों ने हमारी इस प्रथा को हमारी कमज़ोरी समझने की ग़लती की है, और मात खायी है। ख़ैर, वीर रस पर आधारित हमने जिस गीत को चुना है आज की इस महफ़िल के लिए, वह है फ़िल्म 'प्रेम पुजारी' का। कवि नीरज का लिखा यह गीत है "ताक़त वतन की तुम से है, हिम्मत वतन की तुम से है, इज़्ज़त वतन की तुम से है, इंसान के हम रखवाले"। जहाँ एक ओर वीर रस कूट कूट कर भरा हुआ है गीत के एक एक शब्द में, वहीं दूसरी ओर इस बात पर भी ज़ोर दिया गया है कि चाहे उपर से कितने भी कठोर हम दिखें, हमारे अंदर एक कोमल दिल भी बसता है - "देकर अपना ख़ून सींचते देश के हम फुलवारी, बंसी से बंदूक बनाते हम वो प्रेम पुजारी"। पूरा गीत कुल ७ मिनट और २३ सेकन्ड्स का है, गीत दो भागों में बँटा हुआ है, दोनों भागों में तीन तीन अंतरें हैं, कौन सा अंतरा सब से बेहतर है, यह बताना संभव नहीं।

'प्रेम पुजारी' फ़िल्म आयी थी सन् १९७० में जिसका निर्माण व निर्देशन किया था देव आनंद ने। देव आनंद, वहीदा रहमान व नासिर हुसैन अभिनीत इस फ़िल्म के संगीतकार थे सचिन देव बर्मन। प्रस्तुत गीत मूलतः एक समूह गान है, लेकिन 'लीड सिंगर्स' हैं मोहम्मद रफ़ी और मन्ना डे। फ़िल्म में इस गीत की ख़ास जगह है। जैसे कि फ़िल्म के शीर्षक से ही प्रतीत होता है कि फ़िल्म का नायक शांति प्रिय पात्र होगा, जो दुनिया भर में प्यार लुटायेगा। तो फिर ऐसी कहानी में वीर रस और युद्ध पर जानेवाले फ़ौजियों का गीत क्यों? दरअसल कहानी कुछ ऐसी थी कि दुर्गाप्रसाद बक्शी (नासिर हुसैन) आर्मी के रिटायर्ड जनरल हैं जिन्होने अपने ज़माने में बहादुरी के कई झंडे गाढ़े और कई वीरता पुरस्कारों से सम्मानित हुए। लेकिन एक बार पड़ोसी मुल्क के साथ युद्ध में उन्हे अपनी एक टांग गवानी पड़ी और उन्हे नौकरी से रिटायर होना पड़ा। उधर उनके एकलौते बेटे रामदेव बक्शी (देव आनंद) अपने पिता के स्वभाव के बिल्कुल विपरीत है। वो है तो आर्मी में ही, लेकिन वो है प्रेम का पुजारी। किसी पर बंदूक चलाने से उसका हाथ कांपता है। ऐसी ही किसी कारण से वो गिरफ़तार हो जाता है और उसका 'कोर्ट-मार्शल' हो जाता है। अपने पिता को मुँह दिखाने के क़ाबिल नहीं रह जाता। युद्ध में विजय के बाद जहाँ एक तरफ़ दूसरे फ़ौजी जवान जश्न मनाते हुए प्रस्तुत देश भक्ति गीत गा रहे होते हैं, वहीं झाड़ियों के पीछे छुपकर रामदेव रो रहा होता है। इस फ़िल्म की कहानी भी देव साहब ने ही लिखी है, जिसमें उन्होने यही बताने की कोशिश की है कि वीरता का मतलब यह नहीं कि दुश्मनों को बंदूक की गोलियों से उड़ा दिया जाये। हमारी परंपरा, हमारी संस्कृति हमें यही सिखाती है कि हम दूसरों से प्यार करें और प्यार ही प्यार दुनिया में फैलायें। वीर वो है जो पहले प्रेम से दुश्मनों को जीतने का प्रयास करता है, अगर फिर भी दुश्मन न मानें, तो फिर हमें दूसरे तरीके भी आते हैं। लीजिए, आज का गीत सुनिए और सदैव यह याद रखें कि वीर होने का अर्थ जंग पे जाकर बंदूक से लोगों को मारना नहीं, बल्कि वीरता का अर्थ है लोगों की जानें बचाना। याद रखें कि हम प्रेम के पुजारी हैं।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. कल के गीत का थीम है "जय विज्ञान".
2. प्रेम धवन है गीतकार इस गीत के.
3. एक अंतरा शुरू होता है इस शब्द से -"आज".

पिछली पहेली का परिणाम -
दिशा जी माफ़ी चाहेंगें कि अंतरे की जगह मुखडा लिखा गया...पर भूल सुधार कर दिया गया था, और आपको सूचित भी इसलिए रोहित जी को अंक मिलेंगें. रोहित जी अब आपके बराबर यानी १० अंकों पर आ चुके हैं. वैसे जो बाकी गीत आप लोगों ने सुझाये वो "जय जवान" थीम पर सटीक नहीं बैठते. वीरता और शौर्य का प्रदर्शन केवल इसी गीत में है...बहरहाल इस छोटी सी बहस से मज़ा दुगना ही हुआ...:)

और हाँ हमारी नियमित श्रोता स्वप्न मंजूषा जी ने देशभक्ति गीतों वाले रविवार विशेष जो कि दिशा जी के संचालन में हुआ था के लिए कुछ लिख भेजा था जो हमें बहुत देर में मिला...पर चूँकि उनके आलेख में आज के हमारे इस गीत का जिक्र था तो हमें लगा कि उसे हम आप सब के साथ आज बाँटें. स्वप्न जी लिखती हैं -

बात उन दिनों की है जब हम कनाडा आये ही थे ...हम अपना पहला १५ अगस्त कनाडा में मना रहे थे. ओटावा की छोटी सी इंडियन कम्युनिटी ने भी १५ अगस्त मनाने थी, एक हाल में सांस्कृतिक कार्क्रम का आयोजन किया गया था, क्योंकि सबको पता था कि मैं भी गाती हूँ इसलिए मुझसे गाने का अनुरोध किया गया था....जैसे ही नाम बुलाया गया स्टेज पर मेरे तीनो बच्चे, मैं और मेरे पति गिटार, और सुरेन जी तबले पर, आ गए...छोटे छोटे बच्चों को देखते ही तालियों की गड़गडाहट से हॉल गूँज उठा...हमने वो गीत गया 'ताक़त वतन की हमसे हैं हिम्मत वतन की हमसे है' मेरे दोनों बेटे सुर में और तन्मयता से गारहे थे, मात्र ६ साल और ७ साल के बच्चे बिटिया मात्र ३ साल की, इतना जोश था के पूरा हॉल गा रहा था और लोग फूट-फूट कर रो रहे थे आज भी सोचती हूँ तो रोमांच से रोंगटे खड़े हो जाते हैं गीत के ख़त्म होते ही मेरे बच्चे न जाने कितनो की गोद में समां गए... उसके बात परंपरा सी बन गयी हर १५ अगस्त और २६ जनवरी को हमारा परिवार ज़रूर ही गाता है, लेकिन इस बार यह नहीं हो पायेगा मेरा छोटा बेटा मेडिकल कॉलेज चला गया है...और बड़े बेटे की परीक्षा उसी दिन है.....
सिर्फ मेरी बेटी दोनों देशों के राष्ट्रीय गीत गाने वाली है...और हम साथ खड़े होंगे अपने तिरंगे को सलामी देने के लिए...
जय हिंद....

इस गीत को गाने के बाद मैंने 'वन्दे-मातरम' आनंद -मठ का गाया.....मुझे नहीं लगता की मैंने उस दिन जैसा गाया वैसा जीवन में फिर कभी गाया...लोग आज भी याद करते हैं मेरा परफॉर्मेंस......शायद देश से बिछड़ने का पहला-पहला अहसास था वो जो आह बन का निकला और वहां बैठे श्रोताओं के ह्रदय मैं समां गया...

आप की इच्छा में जो भी गीत हो सुना दीजियेगा... देशभक्ति का हर गीत सुहाना है मेरे लिए..


हमें यकीन है स्वप्न जी आज इस गीत को यहाँ सुनकर आपने इन सुहाने पलों को फिर से जी लिया होगा

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Tuesday, August 4, 2009

धीरे से जाना खटियन में...किशोर दा की जयंती पर एक बहुत ही विशेष गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 161

वि नीरज ने लिखा था कि "खिलते हैं गुल यहाँ खिल के बिखरने को, मिलते हैं दिल यहाँ मिलके बिछड़ने को"। संसार के एक शाश्वत सत्य को उजागर किया था नीरज ने अपने इस गीत में। पर आत्मा कहती है कि इस संसार में कुछ चीज़ें ऐसी भी हैं जो शाश्वत हैं। विज्ञान कहती है कि आवाज़ शाश्वत होती है। आज से लेकर अगले दस दिनों तक 'आवाज़' के इस मंच पर ऐसी ही एक शाश्वत आवाज़ को नमन। ये वो आवाज़ है दोस्तों जिसने जब हमें हँसाया तो हम हँस हँस कर लोट पोट हो गये, दर्द भरा कोई अफ़साना सुनाया तो दिल को रुलाकर छोड़ दिया, ज़िंदगी की सच्चाई बयान कि तो लगा जैसे जीवन का सही अर्थ पता चल गया हो, मस्ती भरे नग़में गाये तो दिल झूम उठा, और दिल के तराने छेड़े तो जैसे किसी रिश्ते की डोर और मज़बूत हो गयी। ये आवाज़ सिर्फ़ एक आवाज़ ही नहीं है, इनके तो कई कई आयाम हैं। ये हरफ़नमौला कलाकार एक गायक भी हैं और संगीतकार भी, अभिनेता भी हैं और एक संवेदनशील लेखक भी, फ़िल्म निर्माता और निर्देशक भी रहे हैं ये शख्स। हर दिल पर राज करनेवाला ये फ़नकार हैं आभास कुमार गांगुली, यानी कि हमारे, आपके, हम सभी के प्यारे किशोर कुमार। आज, ४ अगस्त, किशोर दा की ८०-वीं जयंती के उपलक्ष पर हम आज से 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर शुरु कर रहे हैं किशोर दा को समर्पित विशेष लघु शृंखला 'दस रूप ज़िंदगी के और एक आवाज़'। इसके तहत किशोर दा आप का परिचय करवायेंगे जीवन के दस अलग अलग रूपों से, अलग अलग भावों से, अलग अलग सौग़ातों से। किशोर दा ने हर रंग के गानें गाये हैं, ज़िंदगी का कोई भी पहलू ऐसा नहीं जो किशोर दा की आवाज़ से बावस्ता न हो। लेकिन किशोर दा के जिस अंदाज़ की वजह से लोग सब से पहले उन्हे याद करते हैं, वह है उनका खिलंदरपन, उनका मज़ाकिया स्वभाव, उनके हास्य रस में डूबे नग़में। शायद इसीलिए, इस शृंखला का पहला गीत भी हमने कुछ इसी रंग का चुना है। सन् १९७३ में बनी फ़िल्म 'छुपा रुस्तम' का गीत "धीरे से जाना खटियन में ओ खटमल"।

'छुपा रुस्तम' फ़िल्म का निर्माण व निर्देशन किया था विजय आनंद ने, और फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे देव आनंद और हेमा मालिनी। सचिन देव बर्मन के संगीत में ढलकर इस फ़िल्म का सब से लोकप्रिय गीत किशोर कुमार ने गाया था। जी हाँ, हम प्रस्तुत गीत की ही बात कर रहे हैं। यह फ़िल्म संगीत के इतिहास का शायद एकमात्र गीत होगा जो खटमल पर बना है। बर्मन दादा की इस धुन में बंगाल के लोकसंगीत की झलक है, लेकिन किशोर दा ने अपनी निजी अंदाज़ से गीत को कुछ ऐसी शक्ल दे दी है कि गाना बस किशोर दा का ही बनकर रह गया है। अगर आप को याद हो तो १९५८ की फ़िल्म 'चलती का नाम गाड़ी' में एक गीत था "मैं सितारों का तराना.... पाँच रुपया बारह आना", जिसके हर अंतरे में किशोर दा कुछ अजीब-ओ-ग़रीब सी हरकत कर जाते हैं। ऐसे एक अंतरे में वो सचिन दा की आवाज़ को नकल कर गा उठते हैं "धीरे से जाना बगियन में रे भँवरा, धीरे से जाना बगियन में"। दरसल यह सचिन दा का बनाया और उन्ही का गाया हुआ एक ग़ैर फ़िल्मी लोक गीत है। सचिन दा की आवाज़ में इस औरिजिनल गीत को भी आज हम आपको सुन्वायेंगें, तभी आज पहली बार आप ओल्ड इस गोल्ड पर दो प्लेयर पायेंगें। अब वापस आते हैं किशोर दा पर। तो 'चलती का नाम गाड़ी' के उस गीत में बर्मन दा के इस ग़ैर फ़िल्मी गीत की एक छोटी सी झलक मिलती है, और उसके बाद, करीब करीब १५ साल बाद, जब फ़िल्म 'छुपा रुस्तम' के गीत संगीत की बात चली तो इसी धुन पर 'बगियन' को 'खटियन' बना दिया गया और 'भँवरे' को 'खटमल'। वैसे गीत के आख़िर में किशोर दा 'बगियन' और 'भँवरे' पर आ ही जाते हैं, और फिर से उसी सचिन दा वाले अंदाज़ में। गीतकार नीरज ने भी बड़ी दक्षता का परिचय देते हुए इस गीत को शीर्षक गीत बना दिया है यह लिख कर कि "क्यों छुप छुप के प्यार करे तू, बड़ा छुपा हुआ रुस्तम है तू, ले ले हमको भी शरण में ओ खटमल, धीरे से जाना खटियन में"। तो सुनिए इस गीत को और आनंद उठाइए किशोर दा के उस अंदाज़ का जो उन्हे दूसरे सभी गायकों से अलग करती है।



अब ये भी सुनिए वो मूल गीत बर्मन दा (सीनीयर) की आवाज़ में -



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. किशोर दा एक भावपूर्ण गीत.
2. कल के गीत का थीम है - रिश्ते.
3. मुखड़े में शब्द है -"उमर'.

कौन सा है आपकी पसंद का गीत -
अगले रविवार सुबह की कॉफी के लिए लिख भेजिए (कम से कम ५० शब्दों में ) अपनी पसंद को कोई देशभक्ति गीत और उस ख़ास गीत से जुडी अपनी कोई याद का ब्यौरा. हम आपकी पसंद के गीत आपके संस्मरण के साथ प्रस्तुत करने की कोशिश करेंगें.

पिछली पहेली का परिणाम -
दिशा जी बधाई आप पराग जी के बराबर अंकों पर आ गयी हैं अब, पराग जी कहाँ हैं आप, जागिये ज़रा....मनु जी आप भी फुर्ती दिखाईये अब तनिक...:) स्वप्न जी और शरद यकीन मानिये हम भी आप दोनों की हाजिरजवाबी को बहुत "मिस" कर रहे हैं. दिलीप जी, पोस्ट तो शाम ६.३० भारतीय समयानुसार आ चुकी थी, पता नहीं आप क्यों नहीं देख पाए....

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Thursday, July 30, 2009

लिखे जो ख़त तुझे वो तेरी याद में...शशि कपूर का रोमांस और रफी साहब का अंदाज़-ए-बयां

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 156

भी दो दिन पहले हम ने आप को प्रेम-पत्र पर लिखा एक मशहूर गीत सुनवाया था फ़िल्म 'संगम' का। रफ़ी साहब का गाया एक और ख़त वाला मशहूर गीत है फ़िल्म 'कन्यादान' का "लिखे जो ख़त तुझे वह तेरी याद में हज़ारों रंग के नज़ारे बन गये"। यह गीत भी उतना ही लोकप्रिय हुआ जितना कि फ़िल्म 'संगम' का गीत। इन दोनों गीतों में कम से कम दो बातें सामान थी, एक तो रफ़ी साहब की आवाज़, और दूसरा शंकर जयकिशन का संगीत। "ये मेरा प्रेम-पत्र" फ़िल्माया गया था राजेन्द्र कुमार पर और फ़िल्म 'कन्यादान' का यह गीत है शशी कपूर के अभिनय से सजा हुआ। जी हाँ, 'दस चेहरे एक आवाज़ - मोहम्मद रफ़ी' के अंतर्गत आज हम जिस चेहरे पर फ़िल्माये गीत से आप का रु-ब-रु करवा रहे हैं, वो शशी कपूर ही हैं। फ़िल्म 'कन्यादान' बनी थी सन् १९६८ में जिसमें शशी कपूर के साथ नायिका की भूमिका में थीं आशा पारेख। मोहन सहगल की यह फ़िल्म एक पारिवारिक सामाजिक फ़िल्म थी जिसका आधार था शादी, झूठ, तथा पुराने और नये ख़यालातों में द्वंद। फ़िल्म तो कामयाब थी ही, उसका गीत संगीत भी ज़बरदस्त कामयाब रहा। इस फ़िल्म के गीतों को हसरत जयपुरी और कवि नीरज ने लिखे हैं। आज का प्रस्तुत गीत नीरज का लिखा हुआ है। नीरज की फ़िल्मी रचनायें संख्या में बहुत ही सीमित हैं, लेकिन उनके लिखे हर एक गीत का असर इतना व्यापक हुआ करता था कि गीत सीधे दिल में बस जाता था। तभी तो आज ४० सालों के बाद भी इस गीत को सुनते हुए उसी ताज़गी का अहसास होता है।

मोहम्मद रफ़ी साहब ने इस गीत को रुमानीयत के सजीले रंग से कुछ इस क़दर भर दिया है कि हर एक प्यार करनेवाले की ज़ुबाँ पर चढ़ गया था यह गीत उस ज़माने में। रफ़ी साहब की आवाज़ कुदरत की देन है, पर जो बात उन्हे दूसरे गायकों से अलग करती है वह है उनकी गायकी जो बेहद निराली थी और यही अदायगी दूसरे गायकों को उनसे मीलों पीछे छोड़ देती थी। उनकी गायकी का अंदाज़ ऐसा था कि सरगम के सौ धारे निकल पड़े, मंद मंद पुरवाई चलने लग जायें, बाग़ों में सैंकड़ों गुंचे खिल उठे, समां शराबी शराबी हो जाये! बाबुल गाया तो आँखें गीली कर दी, भजन गाया तो मन को श्रद्धा और भक्ति भाव से भर दिया, और ग़ज़ल गाया तो रुमानी लम्हात से भर दिया दिल को। उनकी अदायगी हर गीत में अपना ख़ास हस्ताक्षर छोड़ देती थी। उनके गाये किसी भी गीत को सुन कर फ़िल्म के नायक का चेहरा ख़ुद ब ख़ुद ज़हन में आ जाता है। फिर चाहे वो शम्मी कपूर हो या दिलीप कुमार, धर्मेन्द्र हो या फिर शशी कपूर। यहाँ तक कि ऐसा भी कहा गया है कि हास्य अभिनेता जौनी वाकर का अगर कोई नकल कर सकता है तो वो हैं केवल रफ़ी साहब, और वह भी गीतों के ज़रिये। सच, रफ़ी साहब सही मायने में एक पार्श्व-गायक रहे हैं। असरदार और सफल पार्श्व-गायक वही है जिसके गाये गीत को सुनकर आप परदे पर अभिनय करते हुए नायक की कल्पना कर सकें। रफ़ी साहब के गाये गीतों को सुनते हुए फ़िल्म का नायक आँखों के सामने आ ही जाता है। जैसे कि फ़िल्म 'कन्यादान' के इस गीत को सुनते हुए शशी कपूर के वो 'मैनरिज़्म्स' यकायक आँखों के सामने तैरने लग जाते हैं। तो लीजिए, फिर देर किस बात की, शशी कपूर के सजीले अंदाज़ को कीजिए याद रफ़ी साहब की आवाज़ के साथ। गीत के बोल इतने अच्छे हैं कि इनके बारे में कुछ कहने की ज़रूरत नहीं, बस सुनते जाइये।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा दूसरा (पहले गेस्ट होस्ट हमें मिल चुके हैं शरद तैलंग जी के रूप में)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. एक बेहद दर्द भरा नगमा रफी साहब का गाया.
2. कलाकार हैं -"धर्मेन्द्र".
3. मुखड़े में शब्द है -"चिंगारी".

सुनिए/ सुनाईये अपनी पसंद दुनिया को आवाज़ के संग -
गीतों से हमारे रिश्ते गहरे हैं, गीत हमारे संग हंसते हैं, रोते हैं, सुख दुःख के सब मौसम इन्हीं गीतों में बसते हैं. क्या कभी आपके साथ ऐसा नहीं होता कि किसी गीत को सुन याद आ जाए कोई भूला साथी, कुछ बीती बातें, कुछ खट्टे मीठे किस्से, या कोई ख़ास पल फिर से जिन्दा हो जाए आपकी यादों में. बाँटिये हम सब के साथ उन सुरीले पलों की यादों को. आप टिपण्णी के माध्यम से अपनी पसंद के गीत और उससे जुडी अपनी किसी ख़ास याद का ब्यौरा (कम से कम ५० शब्दों में) हम सब के साथ बाँट सकते हैं वैसे बेहतर होगा यदि आप अपने आलेख और गीत की फरमाईश को hindyugm@gmail.com पर भेजें. चुने हुए आलेख और गीत आपके नाम से प्रसारित होंगें हर माह के पहले और तीसरे रविवार को "रविवार सुबह की कॉफी" शृंखला के तहत. आलेख हिंदी या फिर रोमन में टंकित होने चाहिए. हिंदी में लिखना बेहद सरल है मदद के लिए यहाँ जाएँ. अधिक जानकारी ये लिए ये आलेख पढें.


पिछली पहेली का परिणाम -

दिशा जी बहुत बहुत मुबारक आखिर आप का भी खाता खुल ही गया २ अंकों के साथ. एरोशिक (?) जी आपके जवाब सही होते हैं पर थोडा और जल्दी अगर आयेंगें तो टक्कर दे पायेंगें दिग्गजों को. मनु जी, सुमित जी, शरद जी, मंजू जी, शमिख जी, और अन्य सभी श्रोताओं का आभार.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ