Showing posts with label shashi kapoor. Show all posts
Showing posts with label shashi kapoor. Show all posts

Monday, January 1, 2018

फ़िल्मी चक्र समीर गोस्वामी के साथ || एपिसोड 21 || शशि कपूर

Filmy Chakra

With Sameer Goswami 
Episode 21
Shashi Kapoor


फ़िल्मी चक्र कार्यक्रम में आप सुनते हैं मशहूर फिल्म और संगीत से जुडी शख्सियतों के जीवन और फ़िल्मी सफ़र से जुडी दिलचस्प कहानियां समीर गोस्वामी के साथ, लीजिये आज इस कार्यक्रम के 21 वें एपिसोड में सुनिए कहानी सजीले शशि कपूर की...प्ले पर क्लिक करें और सुनें....




फिल्मी चक्र में सुनिए इन महान कलाकारों के सफ़र की कहानियां भी -

Saturday, May 2, 2015

"यह कहाँ आ गए हम..." और "हम कहाँ खो गए..." गीतों का आपस में क्या सम्बन्ध है?


एक गीत सौ कहानियाँ - 58
 

यह कहाँ आ गए हम...’




रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 58-वीं कड़ी में आज जानिये फ़िल्म ’सिलसिला’ के मशहूर गीत "ये कहाँ आ गए है..." के बारे में जिसे लता मंगेशकर और अमिताभ बच्चन ने गाया था। 


फ़िल्म ’सिलसिला’ यश चोपड़ा की एक महत्वाकांक्षी फ़िल्म थी जो बॉक्स ऑफ़िस पर असफल रही। पर फ़िल्म के गीत-संगीत का पक्ष ज़बरदस्त था। संगीतकार जोड़ी शिव-हरि ने पहली बार किसी फ़िल्म में बतौर संगीतकार काम किया इस फ़िल्म में। लता मंगेशकर और अमिताभ बच्चन के गाए इस असाधारण और अद्वितीय गीत के बारे में जानिए शिव-हरि के पंडित शिव कुमार शर्मा के मुख से - "आपने एक चीज़ पे ग़ौर किया होगा, यह एक ’अन-यूज़ुअल’ गीत है। मैं आपको इसका बैकग्राउण्ड बताऊँगा कि यह गाना कैसे बना। शुरू में यश जी ने कहा कि मैं कुछ ऐसा करना चाहता हूँ कि नायक अपने ख़यालों में बैठा हुआ है और कुछ पोएट्री लिख रहा है, या पोएट्री रीसाइट कर रहा है, शेर-ओ-शायरी कुछ, और बीच में कुछ आलाप ले आएँगे, लता जी की आवाज़ में कुछ आलाप ले आएँगे बीच बीच में, ऐसा कुछ। तो इस तरह का सोच कर के शुरू किया कि थोड़ा म्युज़िक रहेगा, थोड़ी शेर-ओ-शायरी होगी, और फिर कुछ बीच में आलाप आएगा। यह बिल्कुल नहीं सोचा था कि इस तरह का गाना बनेगा। बनते-बनते, जैसा होता है कि उस ज़माने में अमिताभ बच्चन, अभी भी उतने ही बिज़ी हैं, उस ज़माने की क्या बात कहें, कि वो बारह-एक बजे जब उनके शूटिंग्‍ की शिफ़्ट ख़त्म होती थी, तो वो आते थे, और फिर आकर के हमारे साथ बैठते थे क्योंकि उन्होंने गाने भी गाए हैं, होली का जो गाना है, और "नीला आसमाँ", तो यह गाना जब बनने लगा तो उसकी शुरुआत ऐसे ही हुई, बनते बनते कुछ उसमें धुन का ज़िक्र जब आया, तो जावेद अख़्तर इसमें गाने लिखे, जावेद अख़्तर साहब की यह पहली फ़िल्म थी बतौर गीतकार। तो वो बैठे हुए थे तो वो बीच में उनकी ही सारी नज़में हैं जो बच्चन साहब पढ़े हैं। तो जब एक धुन गुनगुना रहे थे हम लोग तो सोचा कि इसके उपर बोल आ जाएँ तो कैसा लगेगा! तो धीरे धीरे जब बोल आया तो लगा कि अस्थायी बन गई, ऐसा करते हैं कि यह जो नज़्म है, जो शेर पढ़ रहे हैं, उसको हम ऐसा इस्तमाल करते हैं जैसे इन्टरल्यूड म्युज़िक होता है, जैसे इन्ट्रोडक्शन म्युज़िक होता है। ऐसे करते करते इसकी शक्ल ऐसी बनी। और वह एक असाधारण गाना बन गया कि पोएट्री और गाना साथ में चल रहा है लेकिन वह एक के साथ एक जुड़ा हुआ है, और वह बात आगे बढ़ रही है। पोएट्री कह रही है, गाने में नायिका की जो सिंगिंग् है वह उसको आगे बढ़ाती है। तो यह इस क़िस्म से, मेरे ख़याल में इस क़िस्म का गाना फिर किसी ने दुबारा कोशिश ही नहीं की और इसमें जो इन्स्ट्रूमेन्टेशन हुआ था, कुछ कोरस आवाज़ें ली, तो वह पूरा जो उसका माहौल बना है, वह आज इस गाने को बने हुए इतने साल हो गए हैं, पर अभी भी वह फ़्रेश लगता है।"

जावेद अख़्तर का कहना है, "मैं गीतकार नहीं था, ज़बरदस्ती बना दिया गया। मैं तो फ़िल्में लिखा करता था। यश जी एक दिन मेरे घर आए, वो मुझसे उनकी फ़िल्म ’सिलसिला’ के लिए एक गीत लिखवाना चाहते थे। मैंने साफ़ इनकार कर दिया, कहा कि मैं पोएट्री सिर्फ़ अपने लिए करता हूँ, फ़िल्म के लिए नहीं लिख सकता। लेकिन वो तो पीछे ही पड़ गए। इसलिए ना चाहते हुए भी मैं एक गीत लिखने के लिए राज़ी हो गया। मैंने उनसे कहा कि मुझे इसके लिए कोई क्रेडिट नहीं चाहिए क्योंकि मैंने सोचा कि वो लोग मुझे एक ट्यून सुना देंगे और मुझसे उस पर गाना लिखने की उम्मीद करेंगे, अगर लिख ना पाया तो क्या होगा? मुझे फिर यश जीने शिव-हरि से एक दिन मिलवा दिया, वो धुन सुनाते गए और शाम तक मैं "देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए" लिख चुका था। फिर मैंने इस फ़िल्म में कुल तीन गीत लिखे, यूं कह सकते हैं कि मुंह में ख़ून लग गया था। बाक़ी के दो गीत थे "नीला आसमाँ सो गया" और "ये कहाँ आ गए हम"। शबाना जी को "यह कहाँ आ गए हैम" बहुत पसन्द है और वो अक्सर इसे गुनगुनाती हैं।"

फ़िल्म ’सिलसिला’ साल 1982 की फ़िल्म थी। इसी वर्ष एक फ़िल्म आई थी ’वक़ील बाबू’। निर्माता थे जवाहर कपूर। फ़िल्म में गीत लिख रहे थे आनन्द बक्शी और संगीतकार थे लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल। फ़िल्म की कहानी के मुताबिक तीन गीत बने और रेकॉर्ड हो चुके थे। पर ये सभी गीत बिल्कुल साधारण क़िस्म के बने। कोई ख़ास बात नहीं थी उनमें। जवाहर कपूर को इन गीतों से बहुत निराशा हुई, पर आनन्द बक्शी और लक्ष्मी-प्यारे से कहने में हिचकिचा रहे थे। पर उसी समय जैसे ही फ़िल्म ’सिलसिला’ के गाने रिलीज़ हुए, उनकी निराशा ग़ुस्सा बन कर उमड़ पड़ी। उनके मुख से निकल गया कि बेकार ही मैंने आनन्द बक्शी और लक्ष्मी-प्यारे जैसे दिग्गजों को फ़िल्म में लिया, इनसे बेहतर तो जावेद अख़्तर और शिव-हरि जैसे नए फ़नकार हैं जिन्होंने ’सिलसिला’ में कमाल का काम किया। इतना ही नहीं जवाहर कपूर ने बक्शी साहब और लक्ष्मी-प्यारे से साफ़ कह दिया कि उन्हें अपनी इस फ़िल्म में "यह कहाँ आ गए हम" जैसा एक गीत चाहिए। तब जाकर "हम कहाँ खो गए, तुम कहाँ खो गए" गीत बना जिसे लता मंगेशकर ने गाया और बीच बीच में शशि कपूर की शायरी डाली गई जिस तरह से ’सिलसिला’ के गीत में अमिताभ बच्चन पढ़ते हैं। गीत बहुत अच्छा बना और जवाहर कपूर का ग़ुस्सा ठण्डा हुआ। ’वकील बाबू’ फ़िल्म बुरी तरह असफल रही पर आज अगर इस फ़िल्म को याद किया जाता है तो सिर्फ़ इस गीत की वजह से। लीजिए, अब आप ये दोनों गीत सुनिए, पहले फिल्म 'वकील बाबू' का और फिर फिल्म 'सिलसिला' का गीत।

फिल्म - वकील बाबू : 'हम कहाँ खो गए...' : लता मंगेशकर और शशि कपूर


फिल्म - सिलसिला : 'ये कहाँ आ गए हम...' : लता मंगेशकर और अमिताभ बच्चन 




अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें cine.paheli@yahoo.com के पते पर।


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 

Thursday, July 30, 2009

लिखे जो ख़त तुझे वो तेरी याद में...शशि कपूर का रोमांस और रफी साहब का अंदाज़-ए-बयां

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 156

भी दो दिन पहले हम ने आप को प्रेम-पत्र पर लिखा एक मशहूर गीत सुनवाया था फ़िल्म 'संगम' का। रफ़ी साहब का गाया एक और ख़त वाला मशहूर गीत है फ़िल्म 'कन्यादान' का "लिखे जो ख़त तुझे वह तेरी याद में हज़ारों रंग के नज़ारे बन गये"। यह गीत भी उतना ही लोकप्रिय हुआ जितना कि फ़िल्म 'संगम' का गीत। इन दोनों गीतों में कम से कम दो बातें सामान थी, एक तो रफ़ी साहब की आवाज़, और दूसरा शंकर जयकिशन का संगीत। "ये मेरा प्रेम-पत्र" फ़िल्माया गया था राजेन्द्र कुमार पर और फ़िल्म 'कन्यादान' का यह गीत है शशी कपूर के अभिनय से सजा हुआ। जी हाँ, 'दस चेहरे एक आवाज़ - मोहम्मद रफ़ी' के अंतर्गत आज हम जिस चेहरे पर फ़िल्माये गीत से आप का रु-ब-रु करवा रहे हैं, वो शशी कपूर ही हैं। फ़िल्म 'कन्यादान' बनी थी सन् १९६८ में जिसमें शशी कपूर के साथ नायिका की भूमिका में थीं आशा पारेख। मोहन सहगल की यह फ़िल्म एक पारिवारिक सामाजिक फ़िल्म थी जिसका आधार था शादी, झूठ, तथा पुराने और नये ख़यालातों में द्वंद। फ़िल्म तो कामयाब थी ही, उसका गीत संगीत भी ज़बरदस्त कामयाब रहा। इस फ़िल्म के गीतों को हसरत जयपुरी और कवि नीरज ने लिखे हैं। आज का प्रस्तुत गीत नीरज का लिखा हुआ है। नीरज की फ़िल्मी रचनायें संख्या में बहुत ही सीमित हैं, लेकिन उनके लिखे हर एक गीत का असर इतना व्यापक हुआ करता था कि गीत सीधे दिल में बस जाता था। तभी तो आज ४० सालों के बाद भी इस गीत को सुनते हुए उसी ताज़गी का अहसास होता है।

मोहम्मद रफ़ी साहब ने इस गीत को रुमानीयत के सजीले रंग से कुछ इस क़दर भर दिया है कि हर एक प्यार करनेवाले की ज़ुबाँ पर चढ़ गया था यह गीत उस ज़माने में। रफ़ी साहब की आवाज़ कुदरत की देन है, पर जो बात उन्हे दूसरे गायकों से अलग करती है वह है उनकी गायकी जो बेहद निराली थी और यही अदायगी दूसरे गायकों को उनसे मीलों पीछे छोड़ देती थी। उनकी गायकी का अंदाज़ ऐसा था कि सरगम के सौ धारे निकल पड़े, मंद मंद पुरवाई चलने लग जायें, बाग़ों में सैंकड़ों गुंचे खिल उठे, समां शराबी शराबी हो जाये! बाबुल गाया तो आँखें गीली कर दी, भजन गाया तो मन को श्रद्धा और भक्ति भाव से भर दिया, और ग़ज़ल गाया तो रुमानी लम्हात से भर दिया दिल को। उनकी अदायगी हर गीत में अपना ख़ास हस्ताक्षर छोड़ देती थी। उनके गाये किसी भी गीत को सुन कर फ़िल्म के नायक का चेहरा ख़ुद ब ख़ुद ज़हन में आ जाता है। फिर चाहे वो शम्मी कपूर हो या दिलीप कुमार, धर्मेन्द्र हो या फिर शशी कपूर। यहाँ तक कि ऐसा भी कहा गया है कि हास्य अभिनेता जौनी वाकर का अगर कोई नकल कर सकता है तो वो हैं केवल रफ़ी साहब, और वह भी गीतों के ज़रिये। सच, रफ़ी साहब सही मायने में एक पार्श्व-गायक रहे हैं। असरदार और सफल पार्श्व-गायक वही है जिसके गाये गीत को सुनकर आप परदे पर अभिनय करते हुए नायक की कल्पना कर सकें। रफ़ी साहब के गाये गीतों को सुनते हुए फ़िल्म का नायक आँखों के सामने आ ही जाता है। जैसे कि फ़िल्म 'कन्यादान' के इस गीत को सुनते हुए शशी कपूर के वो 'मैनरिज़्म्स' यकायक आँखों के सामने तैरने लग जाते हैं। तो लीजिए, फिर देर किस बात की, शशी कपूर के सजीले अंदाज़ को कीजिए याद रफ़ी साहब की आवाज़ के साथ। गीत के बोल इतने अच्छे हैं कि इनके बारे में कुछ कहने की ज़रूरत नहीं, बस सुनते जाइये।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा दूसरा (पहले गेस्ट होस्ट हमें मिल चुके हैं शरद तैलंग जी के रूप में)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

1. एक बेहद दर्द भरा नगमा रफी साहब का गाया.
2. कलाकार हैं -"धर्मेन्द्र".
3. मुखड़े में शब्द है -"चिंगारी".

सुनिए/ सुनाईये अपनी पसंद दुनिया को आवाज़ के संग -
गीतों से हमारे रिश्ते गहरे हैं, गीत हमारे संग हंसते हैं, रोते हैं, सुख दुःख के सब मौसम इन्हीं गीतों में बसते हैं. क्या कभी आपके साथ ऐसा नहीं होता कि किसी गीत को सुन याद आ जाए कोई भूला साथी, कुछ बीती बातें, कुछ खट्टे मीठे किस्से, या कोई ख़ास पल फिर से जिन्दा हो जाए आपकी यादों में. बाँटिये हम सब के साथ उन सुरीले पलों की यादों को. आप टिपण्णी के माध्यम से अपनी पसंद के गीत और उससे जुडी अपनी किसी ख़ास याद का ब्यौरा (कम से कम ५० शब्दों में) हम सब के साथ बाँट सकते हैं वैसे बेहतर होगा यदि आप अपने आलेख और गीत की फरमाईश को hindyugm@gmail.com पर भेजें. चुने हुए आलेख और गीत आपके नाम से प्रसारित होंगें हर माह के पहले और तीसरे रविवार को "रविवार सुबह की कॉफी" शृंखला के तहत. आलेख हिंदी या फिर रोमन में टंकित होने चाहिए. हिंदी में लिखना बेहद सरल है मदद के लिए यहाँ जाएँ. अधिक जानकारी ये लिए ये आलेख पढें.


पिछली पहेली का परिणाम -

दिशा जी बहुत बहुत मुबारक आखिर आप का भी खाता खुल ही गया २ अंकों के साथ. एरोशिक (?) जी आपके जवाब सही होते हैं पर थोडा और जल्दी अगर आयेंगें तो टक्कर दे पायेंगें दिग्गजों को. मनु जी, सुमित जी, शरद जी, मंजू जी, शमिख जी, और अन्य सभी श्रोताओं का आभार.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ