Showing posts with label bhupendra. Show all posts
Showing posts with label bhupendra. Show all posts

Saturday, July 18, 2015

"करोगे याद तो हर बात याद आएगी..." - आज यादें बशर नवाज़ के इस ग़ज़ल की

सभी पाठकों और श्रोताओं को ईद मुबारक



एक गीत सौ कहानियाँ - 63
 

'करोगे याद तो हर बात याद आएगी...' 




रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। दोस्तों, हम रोज़ाना रेडियो पर, टीवी पर, कम्प्यूटर पर, और न जाने कहाँ-कहाँ, जाने कितने ही गीत सुनते हैं, और गुनगुनाते हैं। ये फ़िल्मी नग़में हमारे साथी हैं सुख-दुख के, त्योहारों के, शादी और अन्य अवसरों के, जो हमारे जीवन से कुछ ऐसे जुड़े हैं कि इनके बिना हमारी ज़िन्दगी बड़ी ही सूनी और बेरंग होती। पर ऐसे कितने गीत होंगे जिनके बनने की कहानियों से, उनसे जुड़े दिलचस्प क़िस्सों से आप अवगत होंगे? बहुत कम, है न? कुछ जाने-पहचाने, और कुछ कमसुने फ़िल्मी गीतों की रचना प्रक्रिया, उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें, और कभी-कभी तो आश्चर्य में डाल देने वाले तथ्यों की जानकारियों को समेटता है 'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' का यह स्तम्भ 'एक गीत सौ कहानियाँ'। इसकी 64-वीं कड़ी में आज श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं जानेमाने शायर बशर नवाज़ को उनकी लिखी ग़ज़ल "करोगे याद तो हर बात याद आएगी..." के ज़रिए। बशर नवाज़ का हाल ही में निधन हो गया है। 

त 9 जुलाई 2015 को उर्दू के जानेमाने शायर बशर नवाज़ का महाराष्ट्र के औरंगाबाद में इन्तकाल हो गया है। फ़िल्मे संगीत की दुनिया में 79 वर्षीय बशर नवाज़ को 1982 की फ़िल्म ’बाज़ार’ के लिए लिखी उनकी ग़ज़ल "करोगे याद तो हर बात याद आएगी..." के लिए याद किया जाता रहेगा। इसके अलावा ’लोरी’, ’जाने वफ़ा’ और ’तेरे शार में’ जैसी फ़िल्मों के लिए भी उन्होंने गाने लिखे और उनकी गीतों व ग़ज़लों को आवाज़ देनेवाली आवाज़ों में शामिल हैं लता मंगेशकर, आशा भोसले, मोहम्मद रफ़ी, ग़ुलाम अली, भूपेन्द्र और तलत अज़ीज़। बशर नवाज़ ने कई रेडियो नाटक लिखे और दूरदर्शन के मशहूर धारावाहिक ’अमीर ख़ुसरो' की पटकथा भी लिखी। फ़िल्म और टेलीविज़न की दुनिया के बाहर बशर नवाज़ एक उम्दा शायर और आलोचक भी थे। समकालीन शायर निदा फ़ाज़ली का कहना है कि बशर नवाज़ हमेशा उनके समकालीन शायरों की रचनात्मक आलोचना के लिए जाने जाएँगे। 18 अगस्त 1935 को जन्मे बशर नवाज़ ने अपनी 80 साल की ज़िन्दगी में उर्दू साहित्य को समृद्ध करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके इस योगदान के लिए उन्हें पुलोत्सव सम्मान से समानित किया गया है। साल 2010 में फ़िल्मकार जयप्रसाद देसाई ने ’ख़्वाब ज़िन्दगी और मैं’ शीर्षक से बशर नवाज़ की जीवनी पर एक फ़िल्म का निर्माण किया था। देसाई साहब का कहना है कि "बशर" शब्द का अर्थ है आम आदमी, और बशर नवाज़ वाक़ई आम आदमी के शायर थे जिनकी शयरी में आम आदमी की ज़िन्दगी का संघर्ष झलकता है। बशर नवाज़ बहुत ही नम्र स्वभाव के थे। एक बार तो गेटवे ऑफ़ इण्डिया पर एक कार्यक्रम के दौरान एक अशिक्षित ने उन्हें न पहचानते हुए उनसे उनकी पहचान पूछ ली, जबकि वो उस कार्यक्रम के केन्द्रबिन्दु थे।


और अब यादें "करोगे याद तो..." ग़ज़ल की। फ़िल्म ’बाज़ार’ में संगीतकार थे ख़य्याम। मुस्लिम सब्जेक्ट पर बनने वाली इस फ़िल्म के लिए यह तय हुआ कि इसके गीतों को फ़िल्मी गीतकारों से नहीं बल्कि उर्दू साहित्य के शायरों से लिखवाए जाएँगे। ख़य्याम साहब के शब्दों में, "वो हमारी फ़िल्म आपको याद होगी, बाज़ार! तो उसमें सागर सरहदी साहब हमारे मित्र हैं, दोस्त हैं, तो ऐसा सोचा सागर साहब ने कि ख़य्याम साहब, आजकल का जो संगीत है, उस वक़्त भी, बाज़ार के वक़्त भी, हल्के फुल्के गीत चलते थे। तो उन्होंने कहा कि कुछ अच्छा आला काम किया जाए, अनोखी बात की जाए! तो सोचा गया कि बड़े शायरों का कलाम इस्तेमाल किया जाए फ़िल्म संगीत में। तो मैं दाद दूँगा कि प्रोड्युसर-डिरेक्टर चाहते हैं कि ऊँचा काम, शायद लोगों की समझ में ना आए। लेकिन उन्होंने कहा कि आपने बिल्कुल ठीक सोचा है। तो जैसे मैं आपको बताऊँ कि मीर तक़ी मीर साहब, बहुत बड़े शायर, इतने बड़े कि मिर्ज़ा ग़ालिब साहब ने अपने कलाम में उनका ज़िक्र किया है कि वो बहुत बड़े शायर हैं। तो उनका कलाम हमने इस्तेमाल किया, "दिखाई दिए यूं..."। फिर मिर्ज़ा शौक़, एक मसनबी है ज़हर-ए-इश्क़, बहुत बड़ी है, एक किताब की शक्ल में, तो उसमें से एक गीत की शक्ल में, ज़हर-ए-इश्क़, "देख लो आज हमको जी भर के..."। फिर मख़्दुम मोहिउद्दीन, "फिर छिड़ी रात बात फूलों की...", यह उनकी बहुत मशहूर ग़ज़ल है।" मीर तक़ी मीर और मिर्ज़ा शौक़ 18 और 19 वीं सदी के शायर थे तो मख़्दुम मोहिउद्दीन भी 20-वीं सदी के शुरुआती सालों से ताल्लुक रखते थे। इन शायरों की ग़ज़लों के साथ अगर आज के दौर के किसी शायर की ग़ज़ल का शुमार किया जाए तो मानना पड़ेगा कि इस शायर में ज़रूर कोई बात होगी। फ़िल्म ’बाज़ार’ के चौथे शायर के रूप में चुना गया बशर नवाज़ को और उनकी ग़ज़ल "करोगे याद तो हर बात याद आएगी..." को फ़िल्म के एक सिचुएशन पर ढाल दिया गया। ख़य्याम साहब के शब्दों में, "बहुत मशहूर ग़ज़ल है बशर नवाज़ साहब की, और बहुत अच्छे शायर हैं, आज के शायर हैं, और भूपेन्द्र ने बहुत अच्छे अंदाज़ में गाया है इसे"। फ़िल्म ’बाज़ार’ के रिलीज़ के 13 साल बाद इस ग़ज़ल को एक बार फिर से ’सादगी’ नामक ऐल्बम में शामिल किया गया, जिसमें ख़य्याम साहब के साथ-साथ अन्य कई कम्पोज़र्स की ग़ज़लें शामिल हैं। आज बशर नवाज़ इस फ़ानी दुनिया को छोड़ कर चले गए हैं, पर उनकी याद हमें दिलाती रहेगी यह दिल को छू लेने वाली ग़ज़ल। उनकी कमी उर्दू साहित्य जगत को खलती रहेगी। "गली के मोड़ पे सूना सा कोई दरवाज़ा, तरसती आँखों से रास्ता किसी का देखेगा, निगाह दूर तलक जा के लौट आएगी..."। बशर नवाज़ को श्रद्धासुमन। लीजिए यही ग़ज़ल आप भी सुनिए। 

फिल्म - बाज़ार : 'करोगे याद तो हर बात याद आएगी...' : भूपेन्द्र : संगीत - खय्याम : शायर - बशर नवाज़ 



अब आप भी 'एक गीत सौ कहानियाँ' स्तंभ के वाहक बन सकते हैं। अगर आपके पास भी किसी गीत से जुड़ी दिलचस्प बातें हैं, उनके बनने की कहानियाँ उपलब्ध हैं, तो आप हमें भेज सकते हैं। यह ज़रूरी नहीं कि आप आलेख के रूप में ही भेजें, आप जिस रूप में चाहे उस रूप में जानकारी हम तक पहुँचा सकते हैं। हम उसे आलेख के रूप में आप ही के नाम के साथ इसी स्तम्भ में प्रकाशित करेंगे। आप हमें ईमेल भेजें soojoi_india@yahoo.co.in के पते पर। 


खोज, आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी
प्रस्तुति सहयोग: कृष्णमोहन मिश्र 




Tuesday, August 2, 2011

दिल ढूँढता है....रोजमर्रा की आपाधापी से भरे शहरी जीवन में सुकून भरा "अवकाश" तलाशती जिंदगी

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 713/2011/153

'एक पल की उम्र लेकर' - सजीव सारथी की कविताओं से सजी इस पुस्तक में से १० चुनिंदा कविताओं पर आधारित 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की इस लघु शृंखला की तीसरी कड़ी में प्रस्तुत है कविता 'अवकाश'।

सुबह की गलियों में
अंधेरा है बहुत
अभी आँखों को मूँदे रहो
घड़ी का अलार्म जगाये अगर
रख उसके होठों पे हाथ
चुप करा दो
काला सूरज
आसमान पर लटक तो गया होगा
बाहर शोर सुनता हूँ मैं
इंसानों का, मशीनों का,
आज खिड़की के परदे मत हटाओ
आज पड़े रहने दो, दरवाज़े पर ही,
बासी ख़बरों से सने अख़बार को
किसे चाहिए ये सुबह, ये सूरज
फिर वही धूप, वही साये
वही भीड़, वही चेहरे
वही सफ़र, वही मंज़िल
वही इश्तेहारों से भरा ये शहर
वही अंधी दौड़ लगाती
फिर भी थमी-ठहरी सी
रोज़मर्रा की ये ज़िंदगी

नहीं, आज नहीं
आज इसी कमरे में
पड़े रहने दो मुझे
अपनी ही बाहों में
'हम' अतीत की गलियों में घूमेंगे
गुज़रे बीते मौसमों का सुराग ढूंढ़ेंगे
कुछ रूठे-रूठे
उजड़े-बिछड़े
सपनों को भी बुलवा लेंगे
मुझे यकीन है
कुछ तो ज़िंदा होंगे ज़रूर

खींच कर कुछ पल को इन मरी हुई सांसों से
ज़िंदा कर लूंगा फिर, ज़िंदगी को मैं।


इस कविता में कवि नें जिस अवकाश की कल्पना की है, वह मेरा ख़याल है कि हर आम आदमी करता होगा। आज की भाग-दौड़ भरी और तनावपूर्ण ज़िंदगी में कभी किसी दिन मन में ख़याल आता है कि काश आज छुट्टी मिल जाती उस गतानुगतिक ज़िंदगी से। तो फिर ख़यालों में ही सही, घूम तो आते यादों की गलियारों से; जिन गलियारों से होते हुए जाती है सड़क बर्फ़ से ढके पहाड़ों की तरफ़, वो पहाड़ें जिनमें गूंजती हुई ख़ामोशी की कल्पना कभी गुलज़ार साहब नें की थी 'मौसम' का वह सदाबहार गीत लिखते हुए। ग़ालिब के शेर "दिल ढूंढ़ता है फिर वो ही फ़ुरसत के रात दिन, बैठे रहें तसव्वुरे जाना किए हुए" को आगे बढ़ाते हुए गुलज़ार साहब नें बड़ी ख़ूबसूरती के साथ कभी जाड़ों की नर्म धूप को आंगन में बैठ कर सेंकना, कभी गरमी की रातों में छत पर लेटे हुए तारों को देखना, और कभी बर्फ़ीली वादियों में दिन गुज़ारना, इस तरह के अवकाश के दिनों का बड़ा ही सजीव चित्रण किया था। एक तरफ़ गुलज़ार साहब के ये सजीव ख़यालात और दूसरी तरफ़ सजीव जी के आम जीवन का बड़ा ही वास्तविक वर्णन, दोनों ही लाजवाब, दोनों ही अपने आप में बेहतरीन। आइए इस अवकाश की घड़ी में फ़िल्म 'मौसम' के इस गीत को सुनें। मदन मोहन का संगीत है। इस गीत के दो संस्करणों में लता-भूपेन्द्र का गाया युगल-संस्करण हमनें 'ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ाने' में सुनवाया था, आइए आज सुना जाये भूपेन्द्र का एकल संस्करण।



और अब एक विशेष सूचना:
२८ सितंबर स्वरसाम्राज्ञी लता मंगेशकर का जनमदिवस है। पिछले दो सालों की तरह इस साल भी हम उन पर 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की एक शृंखला समर्पित करने जा रहे हैं। और इस बार हमने सोचा है कि इसमें हम आप ही की पसंद का कोई लता नंबर प्ले करेंगे। तो फिर देर किस बात की, जल्द से जल्द अपना फ़ेवरीट लता नंबर और लता जी के लिए उदगार और शुभकामनाएँ हमें oig@hindyugm.com के पते पर लिख भेजिये। प्रथम १० ईमेल भेजने वालों की फ़रमाइश उस शृंखला में पूरी की जाएगी।

और अब वक्त है आपके संगीत ज्ञान को परखने की. अगले गीत को पहचानने के लिए हम आपको देंगें ३ सूत्र जिनके आधार पर आपको सही जवाब देना है-

सूत्र १ - शशि कपूर नायक है फिल्म के.
सूत्र २ - एक आवाज़ लता की है इस युगल गीत में.
सूत्र ३ - एक अंतरे में "शोख नज़रों" का जिक्र है.

अब बताएं -
गीतकार कौन हैं - ३ अंक
गायक कौन हैं - २ अंक
संगीतकार बताएं - २ अंक

सभी जवाब आ जाने की स्तिथि में भी जो श्रोता प्रस्तुत गीत पर अपने इनपुट्स रखेंगें उन्हें १ अंक दिया जायेगा, ताकि आने वाली कड़ियों के लिए उनके पास मौके सुरक्षित रहें. आप चाहें तो प्रस्तुत गीत से जुड़ा अपना कोई संस्मरण भी पेश कर सकते हैं.

पिछली पहेली का परिणाम -
सत्यजीत जी थोड़ी और फुर्ती दिखानी पड़ेगी आपको अमित जी से टक्कर लेने के लिए, आप अभी ३ अंक पीछे हैं उनसे

खोज व आलेख- सुजॉय चट्टर्जी



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Sunday, May 15, 2011

बोलिए सुरीली बोलियाँ...और पिरोते रहिये हँसी की लड़ियाँ हर पल

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 656/2011/96

'ओल्ड इज़ गोल्ड' के दोस्तों नमस्कार! आज रविवार, यानी छुट्टी का दिन, आप सभी नें अपने अपने परिवार के साथ हँसी-ख़ुशी बिताया होगा। हँसी-ख़ुशी से याद आया कि इन दिनों इस स्तंभ में जारी है लघु शृंखला 'गान और मुस्कान', जिसमें हम कुछ ऐसे गीत सुनवा रहे हैं जिनमें गायक/गायिका की हँसी सुनाई देती है। आज आप सुनेंगे गायिका-अभिनेत्री सुलक्षणा पंडित की हँसी। सिंगिंग् सुपरस्टार्स की श्रेणी में सुलक्षणा पंडित और सलमा आग़ा दो ऐसे नाम हैं जिनके बाद इस श्रेणी को पूर्णविराम सा लग गया है। ख़ैर, आज जिस गीत को लेकर हम उपस्थित हुए हैं वह है फ़िल्म 'गृहप्रवेश' का - "बोलिये सुरीली बोलियाँ"। भूपेन्द्र और सुलक्षणा पंडित की आवाज़ों में यह शास्त्रीय संगीत पर आधारित रचना है राग बिहाग पर आधारित, लेकिन इसमें हास्य का भी पुट है। अब जिस गीत के मुखड़े के ही बोल हैं "नमकीन आँखों की रसीली गोलियाँ", उसमें हास्य तो होगा ही न! और "नमकीन आँखों की रसीली गोलियाँ" कहने वाले गीतकार गुलज़ार साहब के अलावा भला और कौन हो सकता है! बासु भट्टाचार्य निर्देशित १९७९ की इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार हैं संजीव कुमार, शर्मीला टैगोर और सारिका। 'अनुभव' और 'आविष्कार' के बाद 'गृह-प्रवेश', इस तरह से वैवाहिक संबंधों पर बनी फ़िल्मों की तिकड़ी की यह तीसरी व अंतिम फ़िल्म थी बासु साहब की। फ़िल्म में संगीत था कानू रॉय का जिन्होंने 'अनुभव' और 'आविष्कार' में भी संगीत दिया था। और इस फ़िल्म के गीतों को आवाज़ दी चन्द्राणी मुखर्जी, सुलक्षणा पंडित, भुपेन्द्र, येसुदास और पंकज मित्र नें।

सुलक्षणा पंडित एक अच्छी अभिनेत्री रही हैं। वो जितनी सुंदर दिखती हैं, उतनी ही सुंदर उनकी शख्सियत है, और उनकी आवाज़ भी उतनी ही ख़ूबसूरत है। कुछ वर्ष पहले सुलक्षणा जी विविध भारती पर तशरीफ़ लायी थीं। कमल शर्मा से की हुई उनकी लम्बी बातचीत में से एक अंश निकालकर आज यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं जिसमें सुंदरता की बात कही गयी है, लीजिये पढ़िये-

कमल शर्मा: हम अभी कुछ देर पहले ब्युटी की बात कर रहे थे, सही मायने में जब तक आदमी अंदर से ख़ूबसूरत नहीं है, "इनर ब्युटी" जिसे हम कहते हैं, मेरे ख़याल से वो ज़्यादा सुंदर होती है। बहुत लम्बे समय तक लोग उसे ही याद रखते हैं और ऐसा भोलापन आपके मन में गहरा असर छोड़ता है, और स्क्रीन पर भी ज़्यादा अपना भी लगता है। आपका क्या ख़याल है इस बारे में?

सुलक्षणा पंडित: बहुत बड़ी बात कही आपनें। और बहुत सही बात है। देखिये मैं, एक बात कहती हूँ, आप जिस तरह से सौंदर्य की बात कर रहे हैं, तो वह सौंदर्य भगवान बनाता है। मैं यही कहूँगी कि जब मैं रास्ते पर चलती थी, १६/१७ साल, एक चर्च है, वहाँ मैं मोमबत्ती जलाती थी। मैं भजन गाती थी कि "भगवान मेरा अच्छा हो", सब जगह जाती थी, तो 'without my knowledge' के लोग मुझे पीछे मुड़ मुड़ के देखते थे, कि ये कौन है, ये कौन है, इतनी ख़ूबसूरत लगती थी। फिर एक बार मैं मन्ना दा के साथ कोई गाना गा रही थी, मुझे देखते ही बोले, "अरे सुलक्षणा, तू हीरोइन क्यों नहीं बनती?" मैंने कहा कि मैं गाना गाने आयी हूँ। तो बोले, "नूरजहाँ की तरह गा, और सुरैया भी गाती थीं, उनके जैसा काम भी करो"। तो मैंने कहा, "अच्छा, जैसे मिलेगा मैं करूँगी"। तो इस तरह से मन्ना दा नें, और फिर किशोर दा को जब पता चला कि सुलक्षणा इतनी टैलेण्टेड है, "इसको भी उसी तरह ईफ़ोर्ट आ रहे हैं जैसे मुझे आते थे, तो क्यों न इसको फ़िल्मों में काम कराया जाये!" उन्ही के साथ हेमन्त दा आये, उन्हीं का जो प्रोडक्शन है उसमें काम करो। अब दोनों में कहाँ हाँ कहाँ ना मुझे पता नहीं। तो अल्टिमेटली यही प्लान हुआ कि ना वो काम देंगे ना मैं काम करूँगी, और दोनों को अपनी अपनी जगह जैसे हैं वैसे ही रखेंगे।

दोस्तों, सुलक्षणा पंडित फिर अभिनेत्री कैसे बनीं, इसकी चर्चा हम फिर किसी दिन के लिए सुरक्षित रखते हुए आइए आपको सुनवाते हैं फ़िल्म 'गृहप्रवेश' का गीत और मज़ा लेते हैं सुलक्षणा जी की हँसी का भी।



क्या आप जानते हैं...
कि फ़िल्म 'गृह प्रवेश' में गुलज़ार साहब अतिथि कलाकार के रूप में पर्दे पर नज़र आये थे।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 07/शृंखला 16
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - बेहद आसान.

सवाल १ - फिल्म की दो नायिकाओं में से किस पर फिल्माया गया है ये गीत - २ अंक
सवाल २ - फिल्म के निर्देशक कौन हैं - ३ अंक
सवाल ३ - गीतकार बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
ब्लोग्गर बाबा कुछ नाराज़ रहे तो हुआ ये कि पुराने सभी कमेंट्स गायब हो गए. लेकिन हमने उससे पहले उन अंकों को जोड़ लिया, अभी भी अनजाना और अमित जी के बीच ३ अंकों का फासला है देखते हैं किसके हाथ आएगी ये बाज़ी

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Tuesday, September 14, 2010

ज़िंदगी का फलसफा समझा कर माधोलाल कीप वाकिंग की जोरदार एवं असरदार अपील की है नायब राजा ने

ताज़ा सुर ताल ३५/२०१०


सुजॊय - सभी दोस्तों को हमारा नमस्कार! दोस्तों, आज हम एक ऐसी फ़िल्म के गीतों की चर्चा करने जा रहे हैं जो पैरलेल सिनेमा की श्रेणी में आता है। कुछ फ़िल्में ऐसी होती हैं जो व्यावसायिक लाभों से परे होती हैं, जिनका उद्देश्य होता है क्रीएटिव सैटिस्फ़ैक्शन। ये फ़िल्में भले ही सिनेमाघरों में ज़्यादा देखने को ना मिले, लेकिन अच्छे फ़िल्मों के दर्शक इन्हें अपने दिलों में जगह देते हैं और एक लम्बे समय तक इन्हें याद रखते हैं।

विश्व दीपक - लेकिन यह अफ़सोस की भी बात है कि आज फ़िल्मों का हिट होना उसकी मारकेटिंग पर बहुत ज़्यादा निर्भर हो गया है। पैसे वाले प्रोड्युसर हर टीवी चैनल पर अपनी नई फ़िल्म का प्रोमो बार बार लगातार दिखा दिखा कर लोगों के दिमाग़ पर उसे बिठा देते हैं और एक समय के बाद लोगों को भी लगने लगता है कि वह हिट है। गीतों को भी इसी तरह से आजकल हिट करार दिया जाता है। लेकिन जिन प्रोड्युसरों के पास पैसे कम है, वो इस तरह के प्रोमोशन नहीं कर पाते, जिस वजह से उनकी फ़िल्म सही तरीक़े से लोगों तक नहीं पहुँच पाती। जब लोगों को मालूम ही नहीं चल पाता कि ऐसी भी कोई फ़िल्म बनी है, तो उन्हें उस फ़िल्म के ना देखने पर दोष तो नहीं दिया जा सकता।

सुजॊय - बिलकुल सही बात है। अब पिछले दिनों हमारे सजीव सारथी जी से ही मुझे पता चला कि 'माधोलाल कीप वाकिंग्‍' नाम से भी कोई फ़िल्म आई है। उन्होंने कहा कि बहुत दिनों के बाद किसी फ़िल्म ने उन्हें रुलाया है। झूठ नहीं बोलूँगा, लेकिन मैंने इस फ़िल्म का नाम सुन ही नहीं था। अब इसमें ग़लती मेरी है या इस व्यवस्था की, इस तर्क में नहीं जाउँगा, लेकिन इतना ज़रूर कह सकता हूँ कि अगर सजीव जी इस फ़िल्म की तरफ़ हमारा ध्यान आकर्षित नहीं करते तो शायद आज हम किसी और फ़िल्म के गानें लेकर उपस्थित हुए होते।

विश्व दीपक - तो दोस्तों, जैसा कि आपने पढ़ा, आज हम आपको सुनवा रहे हैं 'माधोलाल कीप वाकिंग' फ़िल्म के गानें। इस फ़िल्म की चर्चा हम आगे जारी रखेंगे, पहले इस फ़िल्म का पहला गाना सुन लेते हैं।

गीत - नैना लागे तोसे (भुपेन्द्र)


सुजॊय - हमारी यह ख़ुशक़िस्मती है कि 'ताज़ा सुर ताल' में भुपेन्द्र जैसे गायक की आवाज़ हम शामिल कर सके हैं। हम बात कर रहे थे पैरलेल सिनेमा की, इस संदर्भ में यह बताना ज़रूरी है कि 'टाइम्स म्युज़िक' समय समय पर इस तरह की फ़िल्मों के संगीत को बढ़ावा देने के लिए सामने आता रहा है, और 'माधोलाल कीप वाकिंग्‍' के गीतों को जारी करने का ज़िम्मा भी इसी कंपनी ने लिया है। इस फ़िल्म का निर्माण ड्रीमकट्स के बैनर तले हुआ है और निर्देशक हैं जय टैंक। संगीत का पक्ष सम्भाला है नवोदित संगीतकार जोड़ी नायब और राजा ने। इस पहले गीत को सुनकर ही आप ने अंदाज़ा लगा लिया होगा कि इस ऐल्बम से हम अच्छी उम्मीद रख सकते हैं। और जब भुपेन्द्र, मिताली, अल्ताफ़ राजा, और राजा हसन जैसे गायकों ने गीत गाए हों तो निश्चित रूप से आशाएँ बढ़ जाती हैं।

विश्व दीपक - बहुत दिनों के बाद भुपेन्द्र जी की आवाज़ किसी फ़िल्मी गीत में सुन कर बहुत ही अच्छा लगा, और बड़ी बात तो यह है कि ७१ वर्ष की आयु में भी कितना अच्छा उन्होंने इस गीत को निभाया है। वही मख़मली आवाज़, वही सुरीलापन, गीत को सुनते हुए जैसे वही 'किनारा' और 'परिचय' के गानें एक दम से याद आ गए। बहरर्हाल यह बता दें कि इस गीत को लिखा था सानी अस्लम ने। नवोदित संगीतकार नायब-राजा ने अच्छा कैची ट्युन सोचा है इस गीत के लिए और यक़ीनन यह गीत उन्हें बहुत आगे ले जाएगी।

सुजॊय - इस गीत के कुल तीन वर्ज़न हैं। पहला वर्ज़न भुपेन्द्र की आवाज़ में जिसका शीर्षक रखा गया है 'माधोलाल्स थीम'; दूसरा वर्ज़न है 'वाइफ़्स थीम', जिसे परवीना ने गाया है। आइए यह वर्ज़न यहाँ पर अब सुन लिया जाए।

गीत - नैना लागे तोसे (परवीना)


विश्व दीपक - और अब लगे हाथ 'डॉटर्स थीम' भी सुन लें, जिसे मिताली सिंह ने गाया है। धुन तो वही है, लेकिन इन तीनों के शब्दों में फेर बदल है। और मज़े की बात है कि भुपेन्द्र ने 'माधोलाल्स वर्ज़न' गाया था, इस हिसाब से 'वाइफ़्स थीम' मिताली से गवाया जाना था :-), लेकिन मिताली से बेटी वाला वर्ज़न गवाया गया। आइए सुन लेते हैं मिताली की आवाज़ में यह वर्ज़न।

गीत - नैना लागे तोसे (मिताली)


सुजॊय - शास्त्रीय रंग में रंगे इन तीनों गीतों को सुन कर एक अच्छी फ़ीलिंग सी आ रही है। फ़िल्म तो नहीं देखी मैंने, लेकिन इस गीत को सुन कर फ़िल्म के बारे में एक अच्छा फ़ील सा आ रहा है। मौका मिला तो ज़रूर देखूँगा। और आइए अब बढ़ते हैं आगे। भुपेन्द्र, मिताली और परवीना के बाद अब अल्ताफ़ राजा की आवाज़ की बारी। बिलकुल अल्ताफ़ साहब के अंदाज़ का गाना है "फ़लसफ़ा ये ज़िंदगी का कोई भी ना अब तक समझा"। उनके पहले के ग़ैर फ़िल्मी गीतों में वो जिस तरह से बीच बीच में शेर कहते थे, ठीक वैसे ही इस गीत के शुरु में उसी अंदाज़ में वो कहते हैं "ये मसअला ही ऐसा था कि हल ना कर सका, ऐ ज़िंदगी मैं तुझको मुकम्मल ना कर सका"।

विश्व दीपक - इस गीत को भी सानी अस्लम ने लिखा है। वैसे आपको बता दें कि इस फ़िल्म में दो गीतकार हैं, दूसरे गीतकार हैं साहिल फ़तेहपुरी। और फ़िल्म के मुख्य किरदारों में हैं सुब्रत दत्त, नीला गोखले, प्रणय नारायण, स्वर भास्कर और वर्णिता अगवाले। बहुत दिनों के बाद अल्ताफ़ राजा की आवाज़ में इस गीत को सुन कर भी उतना ही अच्छा लगेगा जितना भुपेन्द्र के गीत को सुन कर लगा है, ऐसा हमारा ख़याल है, आइए सुनते हैं।

गीत - फ़लसफ़ा ये ज़िंदगी का


सुजॊय - वाह! स्वीट ऐण्ड सिम्पल जिसे कहते हैं। साज़ों की ज़्यादा तामझाम नहीं है, हारमोनियम की विशुद्ध धुन एक अरसे के बाद सुनने को मिली है। इस दार्शनिक गीत के बोल भी विचारोत्तेजक हैं, और एक निराशावादी होते हुए भी जैसे एक संदेश दे जाते हैं जीवन के प्रति। एक आम आदमी के जीवन की कहानी को कितने सीधे सरल तरीके से कहा है गीतकार सानी अस्लम ने कि "लम्बे सफ़र की ख़ातिर युं तो सब के सब आते हैं, कई मुसाफ़िर रस्ते में ही चुप से उतर जाते हैं, उड़ जाता है रूह का पंछी मिल जाए मौका जो ज़रा सा"।

विश्व दीपक - वाक़ई एक छाप छोड़ने वाला गीत है और एक बार सुनने के बार एक और बार सुनने का दिल करता है। नायब और राजा ने भी इस गीत के लिए ऐसी धुन चुनी है जो सुनने वाले को उस पर टिकाए रखती है। बेशक़ यह गीत अल्ताफ़ राजा के असंख्य चाहनेवालों को ही नहीं, बल्कि अच्छे गीत-संगीत के क़द्रदानों को भी ख़ूब भाएगा। इस गीत की खासियत ही है अल्ताफ़ राजा का अंदाज़-ए-बयाँ। यह पूरी तरह से उन्हीं का गीत है जिसे कोई दूसरा नहीं गा सकता। आइए अब अगले गीत पर आते हैं जो कि एक क़व्वाली है अस्लम साबरी और साथियों की अवाज़ों में।

सुजॊय - इस क़व्वाली की शुरुआत अल्ताफ़ राजा के स्टाइल में एक शेर से होती है, लेकिन अल्ताफ़ राजा की आवाज़ में नहीं। ख़ुद ही सुनिए और इस क़व्वाली का मज़ा लें।

गीत - ख़ुदा के वास्ते


विश्व दीपक - "दर्द सीने में तो आँखों में समुंदर देखा, ज़िंदगी हमने तेरा कैसा मुक़द्दर देखा", इस शेर से क़व्वाली की शुरुआत होती है। अस्लम साबरी, जो एक मशहूर क़व्वाल हैं, उनके बारे में और क्या कहें, वो तो इसे ख़ूबसूरत अंजाम देंगे ही, लेकिन तारीफ़ नायब और राजा की करनी ही पड़ेगी जिन्होंने इस फ़िल्म में एक से एक उम्दा गीत रचा है।

सुजॊय - इस क़व्वाली की ख़ासियत यह है कि यह ना तो सूफ़ी या धार्मिक अंदाज़ का है और ना ही यह हुस्न-ओ-इश्क़ की कव्वाली है, बल्कि यह इंसानियत की क़व्वाली है, और यह प्रेरणा देती है कि जो पिछड़े वर्ग हैं उनके लिए हमें कुछ करना चाहिए, हर इंसान समान है, "ख़ुदा के वास्ते मिटा दे फ़ासले"। बहुत दिनों के बाद ऐसी क़व्वाली सुनने को मिली है, बल्कि ऐसा भी कह सकते हैं कि इस तरह की क़व्वाली कभी फ़िल्मों में आई ही नहीं है।

विश्व दीपक - फ़िल्म 'सरफ़रोश' में जो क़व्वाली थी "ज़िंदगी मौत ना बन जाए", उसमें भी कुछ कुछ ऐसी बात थी, लेकिन उसमें मुल्क की बात थी, इसमें इंसानियत की बात है। हैट्स ऒफ़ टू सानी अस्लम फिर से एक नायाब रचना के लिए।

सुजॊय - कुल मिलाकर अब तक जितने भी गीत हमने सुनें हैं हर के गीत के लिए मेरा "थम्प्स अप"! आइए अब अगले गीत की ओर बढ़ा जाए। यक़ीनन यह गीत भी हमें निराश नहीं करेगा।

गीत - ये धरती


विश्व दीपक - राजा की आवाज़ में यह गीत था, लेकिन इसकी धुन तो बिलकुल "सूरज की गरमी से तपते हुए तन को" गीत जैसी ही लगी। लेकिन अंतरे की धुन बिलकुल अलग है। पता नहीं उस धुन का इस्तेमाल क्यों किया गया जब कि नायब-राजा बहुत अच्छा ही काम कर रहे थे, एक और ऒरिजिनल धुन बनाना क्या बहुत ज़्यादा मुश्किल काम था?

सुजॊय - ख़ैर, राजा की आवाज़ में इस गीत को सुन कर अच्छा लगा, ३ मिनट ४५ सेकण्ड्स का यह गाना था और एक बार फिर से संदेशात्मक बोल, "ज़रा सी तुझपे मुसीबत जो आए, तो मेरी तरफ़ तुमने आँखें दिखाए, कभी ग़ौर से देखो सूरज को मेरे, जो ख़ुद को जला कर अंधेरे मिटाये"। पार्श्व में बजने वाले सीन्थेसाइज़र के बीट्स ने भी गीत को अच्छा सहारा दिया है।

विश्व दीपक - और अब इस ऐल्बम का अंतिम गीत। गीत, ग़ज़ल, क़व्वाली के बाद अब हार्ड रॊक की बारी गायक राजा हसन की आवाज़ में। जी हाँ, वही राजा हसन जो हाल में रियल्टी शो से उभरे हैं। राजा हसन ज़्यादातर दूसरे क़िस्म के गानें गाते रहे हैं, उनसे इस तरह का रॊक नंबर गवाना भी अपने आप में एक प्रयोग है। यह फ़िल्म का शीर्षक गीत है और इस बार गीतकार साहिल फ़तेहपुरी हैं। बस यही कह सकते हैं कि इस ऐल्बम का जिस तरह से एक सुरीली शुरुआत हुई थी, वैसा ही एक रॊकिंग समापन हो रहा है। लीजिए इस आख़िरी गीत को भी सुन लीजिए।

सुजॊय - इस ऐल्बम में "राजा" शब्द बार बार आया है, एक बार सिर्फ़ राजा, एक बार अल्ताफ़ राजा, और एक बार राजा हसन। अल्ताफ़ राजा की तो बात अलग है, लेकिन क्या राजा और राजा हसन भी दो अलग अलग नाम हैं? पहले पहले मुझे लगा कि संगीतकार नायब-राजा के राजा हीं राजा हसन हैं। लेकिन जब एक ही ऐल्बम पर एक बार राजा और एक बार राजा हसन के नाम से दो अलग अलग गीत आए हैं तो निश्चित ही ये अलग अलग शख्सियत होंगे। आइए यह गीत सुना जाए।

गीत - माधोलाल कीप वाकिंग


सुजॊय - अब और ज़्यादा कुछ कहने को नहीं बचा है मेरे लिए, मुझे जो गानें अच्छे लगे हैं वो हैं "नैना लागे (भूपेन्द्र), "फ़लसफ़ा ये ज़िंदगी का" तथा "ख़ुदा के वास्ते"। और मेरी तरफ़ से इस ऐल्बम को ३.५ की रेटिंग्ग।

विश्व दीपक - सुजॉय जी, गानों में जिस रूह की जरूरत होती है, मेरे हिसाब से गीतकार, संगीतकार और गायक-गायिकाओं ने अपनी तरफ़ से उसमें थोड़ी भी कमी नहीं होने दी है। आपको तो पता हीं होगा कि किसी भी गीत में मेरा सबसे ज्यादा ध्यान उसके बोलों पर होता है, और जिस गीत के बोल मुझे प्रभावित कर जाते हैं, वह गीत खुद-ब-खुद मेरा पसंदीदा हो जाता है। अमूमन हर समीक्षा में मैं शब्दों के पैमानों पर हीं गीत या एलबम को तौलता हूँ.. इसलिए तो बोल न पसंद आने पर या फिर यह महसूस होने पर कि गीतकार ने मेहनत नहीं की है, बल्कि महज़ "कन्नी काटा" है या "खानापूर्ति" की है, मैं आपके दिए हुए रेटिंग से कुछ अंक हटा भी देता हूँ। मुझे खुशी है कि इस एलबम में वैसा कुछ करने की नौबत नहीं आएगी.. इसलिए आपके दिए हुए रेटिंगे को बरकरार रखते हुए मैं एक बार फिर से सजीव जी का शुक्रिया अदा करना चाहूँगा, जिनकी बदौलत हम इस नायाब एलबम को सुन सकें। तो चलिए इन्हीं सब बातों और गानों के साथ हम आज की समीक्षा समाप्त करते हैं। अगली बार कौन-सी एलबम होगी , यह तो मुझे भी नहीं पता... लेकिन इतना यकीन दिलाता हूँ कि आप सबों के लिए हम कुछ अच्छा हीं चुन कर लाएँगे... तब तक लिए इज़ाज़त दीजिए..

आवाज़ रेटिंग्स: माधोलाल कीप वाकिंग: ***१/२

और अब आज के ३ सवाल

TST ट्रिविया # १०३- भूपेन्द्र ने एक फ़िल्म में एक युगल गीत गाया था जिसके बोल थे "मुझे प्यार से आवाज़ देना मेरा नाम लेकर"। आपको बताना है फ़िल्म का नाम और किस गायिका के साथ यह युगल गीत उन्होंने गाया था।

TST ट्रिविया # १०४- "दरसल मेरी पैदाइश नागपुर की है, मेरे पिताजी रत्नागिरि से ताल्लुख़ रखते हैं, जो कोंकण कोस्ट में हैं, जहाँ के अल्फ़ोन्सो आम बहुत मशहूर है। और हमारी माताजी फ़र्रुख़ाबाद से ताल्लुख़ रखती हैं। मम्मी का नाम है रबी रूपलता और पिताजी का नाम है इब्राहिम इक़बाल।" तो दोस्तों, बताइए कि ये कौन से फ़नकार अपने माता पिता के बारे में बता रहे हैं?

TST ट्रिविया # १०५- क़व्वाली की बात चली है आज और आवाज़ अस्लम साबरी की है, तो बताइए कि वह कौन सी क़व्वाली थी जिसे लता मंगेशकर ने फ़रीद साबरी और सईद साबरी के साथ मिल कर गाया था?


TST ट्रिविया में अब तक -
पिछले हफ़्ते के सवालों के जवाब:

१. "फ़लक तक चल साथ मेरे" (टशन)
२. 'इश्क़ क़यामत'।
३. "क्यों आगे पीछे डोलते हो भँवरों की तरह" (गोलमाल)

Sunday, August 15, 2010

सूलियों पे चढ़ के चूमें आफ़ताब को....तन मन में देश भक्ति का रंग चढ़ाता गुलज़ार साहब का ये गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 461/2010/161

'ओल्ड इज़ गोल्ड' की एक नई सप्ताह और एक नई शृंखला के साथ हम हाज़िर हैं। आज रविवार है, यानी कि छुट्टी का दिन। लेकिन यह रविवार दूसरे रविवारों से बहुत ज़्यादा ख़ास बन गया है, क्योंकि आज हम सभी भारतवासियों के लिए है साल का सब से महत्वपूर्ण दिन - १५ अगस्त। जी हाँ, इस देश की मिट्टी को प्रणाम करते हुए हम आप सभी को दे रहे हैं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ। आज दिन भर आपने विभिन्न रेडियो व टीवी चैनलों में ढेर सारे देशभक्ति के गीत सुनें होंगे जो हर साल आप १५ अगस्त और २६ जनवरी के दिन सुना करते हैं, और सोच रहे होंगे कि शायद उन्ही में से एक हम 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर भी बजाने वाले हैं। यह बात ज़रूर सही है कि आज 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर देश भक्ति का रंग ही चढ़ा रहेगा, लेकिन यह गीत उन अतिपरिचित और सुपरहिट देश भक्ति गीतों में शामिल नहीं होता, बल्कि इस गीत को बहुत ही कम सुना गया है, और बहुतों को तो इसके बारे में मालूम ही नहीं है कि ऐसा भी कोई फ़िल्मी देशभक्ति गीत है। इससे पहले कि इस गीत की चर्चा आगे बढ़ाएँ, आपको बता दें कि आज से 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर शुरु हो रही है नई लघु शृंखला जो केन्द्रित है फ़िल्म जगत के सब से अलग, सब से अनूठे गीतकार व शायर पर। ये वो गीतकार हैं जो कभी बादलों के पंख पर मोती जड़ने की बात कहते हैं, तो कभी सर से आसमाँ उड़ जाने की बात भी करते हैं; कभी रात को भिखारन और चाँद को उसका कटोरा बना देते हैं तो कभी उनका एक पल रात भर नहीं गुज़रता। जी हाँ, ग़ैर पारम्परिक शब्दों का बेहद सरलता से इस्तेमाल करने वाले इस अनोखे गीतकार, अज़ीम शायर और उम्दा लेखक व फ़िल्मकार गुलज़ार साहब के जन्मदिन के अवसर पर आज से अगले दस अंकों तक सुनिए गुलज़ार साहब के लिखे गीतों पर आधारित लघु शृंखला 'मुसाफ़िर हूँ यारों'। आज इस शृंखला की शुरुआत हम इस देश के शहीदों को समर्पित एक देशभक्ति गीत से कर रहे हैं जिसे गुलज़ार साहब ने ८० के दशक में लिखा था। फ़िल्म थी 'जलियाँवाला बाग़', संगीतकार राहुल देव बर्मन, आवाज़ भूपेन्द्र और साथियों की, और गीत के बोल "सूलियों पे चढ़ के चूमें आफ़ताब को, आवाज़ देंगे आओ आज इंकलाब को"।

यह तो आप सभी को मालूम है कि गुलज़ार साहब की फ़िल्मी यात्रा बतौर गीतकार शुरु हुआ था १९६३ की फ़िल्म 'बंदिनी' में "मोरा गोरा अंग लई ले" गीत लिखकर। ६० और ७० के दशकों में गुलज़ार साहब की फ़िल्मोग्राफ़ी पर जब हम नज़र दौड़ाते हैं तो उनमें से किसी में भी कोई देश भक्ति गीत नज़र नहीं आता। वैसे फ़िल्म 'काबुलीवाला' में उन्होंने "ओ गंगा आए कहाँ से" ज़रूर लिखा था, जिसे हम आपको इस स्तंभ में पिछले साल सुनवा चुके हैं। फिर हम आते हैं ८० के दशक में और हमारे हाथ लगता है सन् १९८७ में बनी फ़िल्म 'जलियाँवाला बाग़' जिसका निर्माण व निर्देशन किया था बलराज ताह ने, और जिसकी पटकथा, संवाद और गीत लिखे थे गुलज़ार साहब ने। फ़िल्म में शहीद उधम सिंह का किरदार निभाया था बलराज साहनी ने और अन्य मुख्य कलाकारों में शामिल थे विनोद खन्ना, शबाना आज़्मी, दीप्ति नवल, परीक्षित साहनी, राम मोहन, ओम शिव पुरी और सुधीर ठक्कर प्रमुख। उल्लेखनीय बात यह कि इस फ़िल्म में गुलज़ार साहब ने भी एक किरदार निभाया था। फ़िल्म के संगीत के लिए चुना गया गुलज़ार साहब के प्रिय मित्र पंचम को। और इन दोनों ने मिलकर रचा प्रस्तुत देश भक्ति गीत। फ़िल्म के ना चलने से यह गीत भी कहीं गुम हो गया, लेकिन गुलज़ार साहब और पंचम के अनन्य भक्त श्री पवन झा के सहयोग से यह गीत हमने प्राप्त की और आज के इस ख़ास मौके पर इसे आप तक पहुँचा रहे हैं। आज यह गीत कहीं भी सुनने को नहीं मिलता, यहाँ तक कि विविध भारती पर भी मैंने आज तक नहीं सुना इस गीत को। तो लीजिए इस देश भक्ति के जस्बे को अपने अंदर महसूस कीजिए 'जलियाँवाला बाग़' फ़िल्म के इस गीत के ज़रिए। अभी पिछले साल मैं अमृतसर की यात्रा पर गया हुआ था और जलियाँवाला बाग़ में भी जाने का अवसर मिला। सच कहूँ दोस्तों, तो आज भी वहाँ एक अजीब सी उदासी छायी हुई है। वहाँ की हर एक चीज़ याद दिलाती है उस जघन्य हत्याकाण्ड की जो हमारी स्वाधीनता संग्राम का एक बेहद महत्वपूर्ण अध्याय बन गया। रोलेट ऐक्ट के ख़िलाफ़ शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे मासूम लोगों पर जेनरल डायर की फ़ौज ने अंधाधुंद गोलियाँ चलाईं और करीब १५०० लोग उसमें शहीद हो गए। वह कुआँ आज भी वहाँ मौजूद है जिसमें गोलियों से बचने के लिए लोग कूद गए थे। उस कूयें से १२० शव बरामद हुए थे। वह दीवारें आज भी उन गोलियों की निशान अपने उपर लिए खड़े हैं जो आज भी याद दिलाते अंग्रेज़ों की क्रूरता की। वह बरगद का पेड़ आज भी उस मैदान में शांत खड़ा है जो आज एकमात्र ज़िंदा गवाह है उस भयंकर शाम की। इस हत्याकाण्ड का बदला उधम सिंह ने डायर को मार कर ले ही लिया था, और इसी कहानी पर आधारित है १९८७ की यह फ़िल्म। तो आइए अब सुनते है इस गीत को और आप सभी को एक बार फिर से स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ।



क्या आप जानते हैं...
कि सन्‍ १९५३ में 'जलियाँवाला बाग़ की ज्योति' नाम से एक फ़िल्म बनी थी जिसमें नायक थे करण दीवान, और फ़िल्म के संगीतकार थे अनिल बिस्वास।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. जगमगाती फ़िल्मी दुनिया की कहानी है ये फिल्म, नायिका बताएं - ३ अंक.
२. गायिका कौन है इस बेहद गहरे गीत की - २ अंक.
३. एक अंतरे की पहली लाइन में शब्द है -"सहारा", संगीतकार बताएं - २ अंक.
४. फिल्म का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
३ अंकों वाला जवाब मिला किशोर जी से, बहुत बधाई आपको. पवन जी, प्रतिभा जी और नवीन जी भी टेस्ट में खरे उतरे, इन दिनों कनाडा वालों का कब्ज़ा है भाई पहेलियों पर....:)

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Wednesday, August 11, 2010

किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है...हसन कमाल ने कुछ यूँ रंगा ये हिज्र और वस्ल का समां कि आज भी सुनें तो एक टीस सी उभर आती है

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 459/2010/159

'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर इन दिनों जारी है ८० के दशक के दस चुनिंदा फ़िल्मी ग़ज़लों पर आधारित लघु शृंखला 'सेहरा में रात फूलों की'। ये दस ग़ज़लें दस अलग अलग शायरों के कलाम हैं। अब तक हमने इसमें जिन शायरों के कलाम सुनें हैं, वो हैं हसरत जयपुरी, शहरयार, नक्श ल्यालपुरी, इंदीवर, आरिफ खान, जावेद अख़्तर, इफ़्तिख़ार इमाम सिद्दिक़ी और कल आपने निदा फ़ाज़ली साहब की लिखी हुई ग़ज़ल सुनी। आज इस शृंखला की नवी कड़ी में पेश है शायर और गीतकार हसन कमाल का कलाम फ़िल्म 'ऐतबार' से। आशा भोसले और भूपेन्द्र की युगल आवाज़ों में यह ग़ज़ल है। और दोस्तों, पहली बार इस ग़ज़ल के बहाने 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर सुनाई दे रहा है संगीतकार बप्पी लाहिड़ी का संगीत। युं तो बप्पी दा डिस्को किंग् का इमेज रखते हैं, और ८० के दशक में फ़िल्म संगीत का स्तर गिराने वालों में उन्हे एक मुख्य अभियुक्त करार दिया जाता है, लेकिन यह बात भी सच है कि भले ही वो डिस्को और पाश्चात्य संगीत पर आधारित गानें ही ज़्यादा बनाए, लेकिन शास्त्रीय संगीत, लोक संगीत और सुगम संगीत पर भी उनकी पकड़ मज़बूत रही है। कुछ ऐसे गीतों की याद दिलाएँ आपको? फ़िल्म - 'आँगन की कली', गीत - "सइयां बिना घर सूना सूना", फ़िल्म - 'झूठी', गीत - "चंदा देखे चंदा तो ये चंदा शरमाए", फ़िल्म - 'मोहब्बत', गीत - "नैना ये बरसे मिलने को तरसे", फ़िल्म - 'अपने पराए', गीत - "हल्के हल्के आई चल के, बोले निंदिया रानी" और "श्याम रंग रंगा रे", फ़िल्म - 'टूटे खिलौने', गीत - "माना हो तुम बेहद हसीं", फ़िल्म - 'सत्यमेव जयते', गीत - "दिल में हो तुम आँख में तुम", फ़िल्म - 'लहू के दो रंग', गीत - "ज़िद ना करो अब तो रुको" और "माथे की बिंदिया बोले"। ऐसे और भी न जाने कितने गानें हैं बप्पी दा के जो बेहद सुरीले हैं और इस देश की ख़ुशबू लिये हुए है। आज फ़िल्म 'ऐतबार' के जिस ग़ज़ल की हम बात कर रहे हैं वह है - "किसी नज़र को तेरा इंतेज़ार आज भी है, कहाँ हो तुम के ये दिल बेक़रार आज भी है"। हसन कमाल की यह एक बेहद मक़बूल फ़िल्मी ग़ज़ल है, और उनके लिखे फ़िल्म 'निकाह' के ग़ज़लों के भी तो क्या कहने! नौशाद साहब की दूसरी आख़िरी फ़िल्म 'तेरी पायल मेरे गीत' में हसन कमाल ने गीत लिखे थे जिन्हे लता जी ने गाया था। और फिर फ़िल्म 'सिलसिला' का वह ख़ूबसूरत गीत भी तो है "सर से सरकी सर की चुनरिया लाज भरी अखियों में"। इसमें हसन कमाल ने "सरकी" और "सर की" का कितनी सुंदरता से प्रयोग किया था।

'ऐतबार' सन् १९८५ की रोमेश शर्मा की फ़िल्म थी जिसका निर्देशन किया था मुकुल आनंद ने। डिम्पल कपाडिया, राज बब्बर, सुरेश ओबेरॊय और डैनी अभिनीत इस फ़िल्म में हसन कमाल के अलावा फ़ारुख़ कैसर ने भी गीत लिखे थे। यह फ़िल्म १९५४ में ऐल्फ़्रेड हिचकॊक की थ्रिलर फ़िल्म 'डायल एम फ़ॊर मर्डर' का रीमेक है। इस हिदी वर्ज़न में थोड़ी सी फेर बदल की गई है। फ़िल्म में सुरेश ओबेरॊय एक ग़ज़ल गायक हैं और उन्ही पर फ़िल्म के दो बेहतरीन गीत - प्रस्तुत ग़ज़ल और "लौट आ गईं फिर से उजड़ी बहारें" फ़िल्माया गया है। इस ग़ज़ल की बात करें तो इसके शायर हसन कमाल ने सच में कमाल ही किया है इसमें। कुल ६ शेर हैं इस ग़ज़ल में और उसके बाद ग़ज़ल को एक आख़िरी सातवें शेर से ख़त्म किया जाता है जिसका मीटर अलग है। ज़्यादातर इस तरह का शेर ग़ज़ल के शुरुआती शेर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन यहाँ ग़ज़ल के अंत में इसका प्रयोग हुआ है और वह भी फ़िल्म के शीर्षक को शेर में लाकर हसन साहब ने अपनी दक्षता का परिचय दिया है। हसन कमाल साहिर लुधियानवी के अनन्य भक्त थे और उन्हे बहुत मानते थे। हसन साहब सन् १९९९ में विविध भारती पर "मेरी यादों में साहिर लुधियानवी" शीर्षक से एक कार्यक्रम प्रस्तुत किया था और साहिर साहब से जुड़ी उनकी तमाम यादों पर से परदा उठाया था। आइए उसी कार्यक्रम में से कुछ अंश यहाँ पेश करते हैं। हसन कमाल बता रहे हैं साहिर लुधियानवी से उनकी पहली मुलाक़ात के बारे में। "साहिर लुधियानवी साहब से मेरी पहली मुलाक़ात लखनऊ में हुई थी, जब मैं लखनऊ यूनिवर्सिटी का स्टुडेण्ट था, और वो यूनिवर्सिटी के एक मुशायरे में पहली बार लखनऊ आ रहे थे। ये वो ज़माना था जब साहिर लुधियानवी का वो क्रेज़ था कि लोग कहते थे कि अगर कोई साहिर लुधियानवी का नाम नहीं जानता, तो या तो वो शायरी के बारे में कुछ नहीं जानता, या फिर वो नौजवान नहीं, क्योंकि साहिर साहब उस ज़माने में नौजवानों के मेहबूबतरीन शायर हुआ करते थे। मुझे अच्छी तरह याद है कि मैं उन्हे रिसीव करने के लिए दूसरे स्टुडेण्ट्स के साथ चारबाग़ पहुँचा, तो मेरी ख़ुशी का यह हाल था कि जैसे न जाने ये मेरी ज़िंदगी का कौन सा दिन है और किस हस्ती के दीदार होने वाले हैं कि जिसके दीदार के बग़ैर हमें यह लग रहा था कि ज़िंदगी अधूरी रहेगी। वो तशरीफ़ लाए, हम लोग उन्हे वहाँ से रिसीव करके लाए, और उन्हे एक होटल में ठहराया गया, और मेरा उनसे तारुफ़ यह कह कर करवाया गया कि 'साहिर साहब, ये हसन कमाल हैं, हमारे बहुत ही तेज़ और तर्रार क़िस्म के तालीबिल्मों में, स्टुडेण्ट्स में, और इनकी सब से बड़ी ख़ुसूसीयत यह है कि इन्हे आप की नज़्म 'परछाइयाँ', जो १९ पेजेस लम्बी नज़्म है, ज़बानी याद है'। साहिर साहब बहुत ख़ुश हुए, और शाम को जब हम उन्हे लेने गए तो वक़्त से कुछ पहले पहुँच गए थे, तो उन्होनें बात करते करते अचानक कहा कि 'भई, किसी ने मुझे बताया कि तुम्हे 'परछाइयाँ' पूरी याद है?' मैंने अर्ज़ किया कि 'जी हाँ'। कहने लगे कि 'अच्छा, सुनाओ'। और मैंने पूरी 'परछाइयाँ' नज़्म उनको एक ही नशिस्त में पढ़ कर सुना दी। और वो सुनते रहे। और जब नज़्म ख़त्म हुई तो उनका कमेण्ट यह था कि 'भई ऐसा है, कि मैं पंजाबी हूँ, और शेर बहुत बुरा पढ़ता हूँ, और आज जब तुमको अपनी नज़्म पढ़ते सुना, तो मुझे यह महसूस हो रहा है कि आज के मुशायरे में मेरे बजाए मेरी शायरी तुम ही सुनाना'।" कॊलेज स्टुडेण्ट हसन कमाल के लिए यह बहुत बड़ी बात थी कि साहिर जैसे शायर अपनी शायरी उनसे पढ़वाना चाहते थे। तो दोस्तों, आइए सुना जाए भूपेन्द्र और आशा भोसले की गाई इस जोड़े की सब से प्यारी ग़ज़ल "किसी नज़र को तेरा इंतेज़ार आज भी है"। शायद 'ओल्ड इज़ गोल्ड' को भी इस ग़ज़ल का बहुत दिनों से इंतेज़ार था।

किसी नज़र को तेरा इंतेज़ार आज भी है,
कहाँ हो तुम के ये दिल बेक़रार आज भी है।

वो वादियाँ वो फ़ज़ाएँ के हम मिले थे जहाँ,
मेरी वफ़ा का वहीं पर मज़ार आज भी है।

न जाने देख के क्यों उनको ये हुआ अहसास,
के मेरे दिल पे उन्हे इख़्तियार आज भी है।

वो प्यार जिसके लिए हमने छोड़ दी दुनिया,
वफ़ा की राह में घायल वो प्यार आज भी है।

यकीं नहीं है मगर आज भी ये लगता है,
मेरी तलाश में शायद बहार आज भी है।

ना पूछ कितने मोहब्बत के ज़ख़्म खाए हैं,
के जिनके सोच में दिल सौगवार आज भी है।

ज़िंदगी क्या कोई निसार करे, किससे दुनिया में कोई प्यार करे,
अपना साया भी अपना दुश्मन है, कौन अब किसका ऐतबार करे।



क्या आप जानते हैं...
कि बप्पी लाहिड़ी ने केवल १६ वर्ष की आयु में एक बंगला फ़िल्म 'दादू' में संगीत दिया था जिसमें तीनों मंगेशकर बहनों (लता, आशा, उषा) से उन्होने गाने गवाए थे।

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. शायर बताएं इस बेहद खूबसूरत गज़ल के - ३ अंक.
२. खय्याम साहब के संगीत से सजी इस गज़ल को किस फनकार ने अंजाम दिया है लता के साथ - २ अंक.
३. मतले में शब्द है -"बारात", फिल्म बताएं - १ अंक.
४. निर्देशक बताएं फिल्म के - २ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
३ अंक पवन कुमार जी लूट गए, शरद जी, प्रतिभा जी और किशोर जी भी सही जवाब के साथ मिले. शरद जी नेट पर डी गयी हर जानकारी सही नहीं होती. रोमेंद्र जी आप लेट हो गए. मनु जी, सुमित जी, शेयाला जी, और इंदु जी आप सब को यहाँ देख अच्छा लगा, और दिलीप जी, इंदु जी की शिकायत में हम अपनी भी आवाज़ मिलते हैं. :)

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Wednesday, December 23, 2009

ज़िंदगी मेरे घर आना...फ़ाकिर के बोलों पर सुर मिला रहे हैं भूपिन्दर और अनुराधा..संगीत है जयदेव का

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #६३

ज की महफ़िल में हम हाज़िर हैं शामिख जी की पसंद की अंतिम नज़्म लेकर। इस नज़्म को जिन दो फ़नकारों ने अपनी आवाज़ से मुकम्मल किया है उनमें से एक के बारे में महफ़िल-ए-गज़ल पर अच्छी खासी सामग्री मौजूद है, इसलिए आज हम उनकी बात नहीं करेंगे। हम ज़िक्र करेंगे उस दूसरे फ़नकार या यूँ कहिए फ़नकारा और इस नज़्म के नगमानिगार का, जिनकी बातें अभी तक कम हीं हुई हैं। यह अलग बात है कि हम आज की महफ़िल इन दोनों के सुपूर्द करने जा रहे हैं, लेकिन पहले फ़नकार का नाम बता देना हमारा फ़र्ज़ और जान लेना आपका अधिकार बनता है। तो हाँ, इस नज़्म में जिसने अपनी आवाज़ की मिश्री घोली है, उस फ़नकार का नाम है "भूपिन्दर सिंह"। "आवाज़" पर इनकी आवाज़ न जाने कितनी बार गूँजी है। अब हम बात करते हैं उस फ़नकारा की, जिसने अपनी गायिकी की शुरूआत फिल्म "अभिमान" से की थी जया बच्चन के लिए एक श्लोक गाकर। आगे चलकर १९७६ में उन्हें फिल्म कालिचरण के लिए गाने का मौका मिला। पहला एकल उन्होंने "लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल" के लिए "आपबीती" में गाया। फिर राजेश रोशन के लिए "देश-परदेश" में, जयदेव के लिए "लैला-मजनूं" और "दूरियाँ"(जिस फिल्म से आज की नज़्म है) में, कल्याण जी-आनंद जी के लिए "कलाकार" और "विधाता" में और उषा खन्ना के लिए "सौतन" और "साजन बिना सुहागन" में गाकर उन्होंने अपनी प्रसिद्धि में इजाफ़ा किया। आगे चलकर जब उन्होंने लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के लिए "हीरो" , "मेरी जंग", "बंटवारा", "नागिन", "राम-लखन" और "तेजाब" में गाने गाए तो मानो उन्हें उनकी सही पहचान मिल गई। उन्हें "लता मंगेशकर" और "आशा भोंसले" के विकल्प के रूप में देखा जाने लगा और यही उनके लिए घाटे का सौदा साबित हुआ। "मंगेशकर" बहनों के खिलाफ उनकी मुहिम उनके लिए गले का घेघ बन गई। और उसी दौरान गुलशन कुमार से उनकी नजदीकी और उनके पति अरूण पौडवाल(एस डी बर्मन के सहायक) की मौत और फिर आगे चलकर गुलशन कुमार की मौत का उनकी ज़िंदगी और उनकी गायिकी पर गहरा असर पड़ा। सारी घटनाएँ एक के बाद एक ऐसे होती गईं कि उन्हें संभलने का मौका भी न मिला। उनके इस हाल के जिम्मेवार वे खुद भी थीं। उनका यह निर्णय कि वो बस टी-सीरिज के लिए हीं गाएँगी..शुरू-शुरू में सबको रास आता रहा, लेकिन आगे चलकर इसी निर्णय ने उन्हें अच्छे संगीतकारों से दूर कर दिया। उन्होंने चाहे जैसे भी दिन देखे हों लेकिन उनकी बदौलत हिन्दी फिल्म उद्योग को कई सारे नए गायक मिले..जैसे कि सोनू निगम, कुमार शानू, उदित नारायण और अभिजीत। उन्होंने दक्षिण के भी कई सारे गायकों के साथ बेहतरीन गाने गाए हैं जिनमें से एस पी और यशुदास का नाम खासा ऊपर आता है। वह फ़नकार जो कि अनुराधा पौडवाल के नाम से जानी जाती है, भले आज कम सुनी जाती हो लेकिन उनकी आवाज़ की खनक आज भी वादियों में मौजूद है जो कभी-कभार किसी नए गाने में घुलकर हमारे पास पहुँच हीं जाती है।

अनुराधा जी के बारे में इतनी बातें करने के बाद अब वक्त है आज के नगमानिगार से रूबरू होने का। तो आज की नज़्म के रचयिता कोई और नहीं बल्कि जगजीत सिंह जी के खासमखास "सुदर्शन फ़ाकिर" जी हैं। वो क्या थे, यह उनके किसी अपने के लफ़्ज़ों में हीं जानते हैं(प्रस्तुति: वीणा विज): १८ फरवरी ‘०८ की रात के आग़ोश में उन्होंने हमेशा के लिए पनाह ले ली |वो सोच जो ज़िन्दग़ी, इश्क , दर्दो-ग़म को इक अलग नज़रिये से ग़ज़लों के माध्यम से पेश करती थी, वह सोच सदा के लिये सो गई |बेग़म अख़्तर की गाई हुई इनकी यह ग़ज़ल” इश्क में ग़ैरते जज़्बात ने रोने न दिया”–किस के दिल को नहीं छू गई? या फिर “यह दौलत भी ले लो, यह शौहरत भी ले लो|भले छीनलो मुझसे मेरी जवानी, मग़र मुझको लौटा दो वो बचपन का सावन वो क़ाग़ज़ की कश्ती वो बारिश का पानी” –जन-जन को इस क़लाम ने बचपन की यादों से सरोबार कर दिया |इनके काँलेज के साथी जगजीत सिह ने जब इनकी यह नज्म गाई, तो दोनों ही इससे मशहूर हो गए |सालों से सुनते आ रहे, गणतंत्र दिवस पर एन. सी. सी.के बैंड की धुन” हम सब भारतीय हैं” यह भी फ़ाक़िर की रचना है |इससे पूर्व जवानी में फ़ाकिर आल इंडिया रेडियो जलंधर पर ड्रामा एवम ग़ज़लों के साथ व्यस्त रहे |फिर जब एक बार मुम्बई की ओर रुख़ किया तो ये एच.एम वी के साथ ता उम्र के लिए जुड़ गए |बेग़म अख़्तर ने जब कहा कि अब मैं फ़ाक़िर को ही गाऊंगी,तो होनी को क्या कहें, वे इनकी सिर्फ़ पाँच ग़ज़लों को ही अपनी आवाज़ दे सकीं थीं कि वे इस जहान से चलता कर गईं |हृदय से बेहद जज़्बाती फ़ाकिर अपनी अनख़, अपने आत्म सम्मान को बनाए रखने के कारण कभी किसी से काम माँगने नहीं गए | वैसे उन्होंने फिल्म ‘दूरियाँ, प्रेम अगन और यलग़ार” के संवाद और गीत लिखे थे | ये काफ़ी लोकप्रिय भी हुए थे |हर हिन्दू की पसंद कैसेट’ हे राम’ भी फ़ाक़िर की रचना है |इसने तो इन्हें अमर कर दिया है |संयोग ही कहिए कि जिस शव-यान में इनकी शव-यात्रा हो रही थी , उसमें भी यही ‘हे राम’ की धुन बज रही थी |सादगी से जीवन बिताते हुए वे जाम का सहारा लेकर अपने दर्दो-ग़म को एक नया जामा पहनाते रहे | जलंधर आने पर जब भी हम इकठे बैठते तो वे अपने कलाम को छपवाने की चर्चा करते या फिर मेरी रचनाओं को पढ़कर मुझे गाईड करते थे | रिश्ते में सालेहार थी मैं उनकी ,सो कभी हँसी-मज़ाक भी हो जाता था | तेहत्तर वर्ष कि उम्र में भी वे मस्त थे |लेकिन दुनिया से अलग- थलग, इक ख़ामोशी से चेहरा ढ़ाँके हुए |फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ाकिर को बहुत बड़ा शायर मानते थे |

अब उनके बारे में कुछ उन्हीं के शब्दों में: खुद के बारे में क्या कहूं? फिरोजपुर के नजदीकी एक गांव में पैदा हुआ। पिताजी एम.बी.बी.एस. डाक्टर थे। जालंधर के दोआबा कालेज से मैंने पॉलिटिकल साइंस में १९६५ में एम.ए. किया। आल इंडिया रेडियो जालंधर में बतौर स्टाफ आर्टिस्ट नौकरी मिल गई। खूब प्रोग्राम तैयार किए। 'गीतों भरी कहानी' का कांसेप्ट मैंने शुरू किया था। लेकिन रेडियो की नौकरी में मन नहीं रमा। सब कुछ बड़ा ऊबाऊ और बोरियत भरा। १९७० में मुंबई भाग गया।' 'मुंबई में मुझे एच.एम.वी. कंपनी के एक बड़े अधिकारी ने बेगम अख्तर से मिलवाया। वे 'सी ग्रीन साउथ' होटल में ठहरी हुई थीं। मशहूर संगीतकार मदनमोहन भी उनके पास बैठे हुए थे। बेगम अख्तर ने बड़े अदब से मुझे कमरे में बिठाया। बोलीं, 'अरे तुम तो बहुत छोटे हो। मुंबई में कैसे रहोगे? यह तो बहुत बुरा शहर है। यहां के लोग राइटर को फुटपाथ पर बैठे देखकर खुश होते है।'' 'जब मैं बेगम अख्तर से मिला तो मेरी उम्र २४ साल थी, लेकिन उन्होंने मेरी हौंसला-अफजाई की। मैंने उनके लिए पहली गजल लिखी, 'कुछ तो दुनिया की इनायात ने दिल तोड़ दिया' बेगम साहब बेहद खुश हुई। १९७० से १९७४ तक मेरी लिखी कुल छह गजलें एच.एम.वी. कंपनी ने बेगम अख्तर की आवाज में रिकार्ड कीं। मुझे याद है कि उन्होंने मेरी शायरी में कभी कोई तरमीम नहीं की। यह मेरे लिए फक्र की बात थी। एक बात और जो मैं कभी नहीं भूलता। वह कहा करती थीं, फाकिर मेरी आवाज और तुम्हारे शेरों का रिश्ता टूटना नहीं चाहिए।' फाकिर का क्या अर्थ है, पूछने पर उन्होंने कहा 'यह फारसी का लफ्ज है, जिसके मायने हिंदी में चिंतक और अंग्रेजी में थिंकर है।' 'मेरा एक गीत 'जिंदगी, जिंदगी, मेरे घर आना, आना जिंदगी। मेरे घर का इतना सा पता है..' इसे भूपेन्द्र ने गाया था। इस गीत के लिए मुझे 'बेस्ट फिल्म फेयर अवार्ड मिला था।'' कम हीं लोगों को यह मालूम होगा कि प्रख्यात गजल गायक जगजीत सिंह, जाने-माने लेखक, नया ज्ञानोदय के संपादक रवीन्द्र कालिया और सुदर्शन फाकिर छठे दशक में जालन्धर के डीएवी कालेज के छात्र थे। तीनों में घनिष्ठ मित्रता थी और अपने-अपने इदारों में तरक्की के शिखर छूने के लिए उन्होंने अथक परिश्रम किया। आगे चलकर तीनों हीं सेलिब्रिटीज बने। फ़ाकिर के बारे में कहने को और भी बहुत कुछ है..लेकिन वो सब कभी बाद में। अभी तो उनके इस शेर का लुत्फ़ उठाना ज्यादा मुनासिब जान पड़ता है:

इश्क़ का ज़हर पी लिया "फ़ाकिर"
अब मसीहा भी क्या दवा देगा


वाह! क्या बात कही है "फ़ाकिर" ने। इश्क़ को ऐसे हीं नहीं लाईलाज कहते हैं।

इस शेर के बाद अब हम रूख करते हैं फिल्म "दूरियाँ" के इस नज़्म की ओर.....जिसे संगीत से सजाया ने जयदेव ने। यह नज़्म इश्क़ के नाजुक लम्हों को बयां करती है, उन्हें जीती है और हर सुनने वाले के दिल में उस कोमल भावना की घुसपैठ कराती है। यकीन नहीं आता तो आप खुद हीं सुनकर देख लें..फिर नहीं कहिएगा कि "कुछ कुछ" क्यों होता है:

भू: ज़िंदगी ज़िंदगी मेरे घर आना- आना ज़िंदगी
ज़िंदगी मेरे घर आना- आना ज़िंदगी
अ: ज़िंदगी ज़िंदगी मेरे घर आना- आना ज़िंदगी
ज़िंदगी मेरे घर आना- आना ज़िंदगी

भू: मेरे घर का सीधा सा इतना पता है
ये घर जो है चारों तरफ़ से खुला है
न दस्तक ज़रूरी, ना आवाज़ देना
मेरे घर का दरवाज़ा कोई नहीं है
हैं दीवारें गुम और छत भी नहीं है
बड़ी धूप है दोस्त
खड़ी धूप है दोस्त
तेरे आंचल का साया चुरा के जीना है जीना
जीना ज़िंदगी, ज़िंदगी

अ: मेरे घर का सीधा सा इतना पता है
मेरे घर के आगे मुहब्बत लिखा है
न _____ ज़रूरी, न आवाज़ देना
मैं सांसों की रफ़्तार से जान लूंगी
हवाओं की खुशबू से पहचान लूंगी
तेरा फूल हूँ दोस्त
तेरी भूल हूँ दोस्त
तेरे हाथों में चेहरा छुपा के जीना है जीना
जीना ज़िंदगी, ज़िंदगी

मगर अब जो आना तो धीरे से आना
यहाँ एक शहज़ादी सोई हुई है
ये परियों के सपनों में खोई हुई है
बड़ी ख़ूब है ये, तेरा रूप है ये
तेरे आँगन में तेरे दामन में
तेरी आँखों पे तेरी पलकों पे
तेरे कदमों में इसको बिठाके
जीना है, जीना है
जीना ज़िंदगी, ज़िंदगी




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की... ऊपर जो गज़ल हमने पेश की है, उसके एक शेर में कोई एक शब्द गायब है। आपको उस गज़ल को सुनकर सही शब्द की शिनाख्त करनी है और साथ ही पेश करना है एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली!

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -

पिछली महफिल का सही शब्द था "लगावट" और शेर कुछ यूं था -

कुछ उसके दिल में लगावट जरूर थी वरना
वो मेरा हाथ दबाकर गुजर गया कैसे

इस शब्द की सबसे पहले पहचान की शरद जी ने। आपने यह स्वरचित शेर भी पेश किया:

ये लगावट नहीं तो फिर क्या है
क़त्ल करके मुझे वो रोने लगा।

शरद जी के बाद महफ़िल की शोभा बनीं सीमा जी। पिछली महफ़िल में कहाँ थे आप दोनों? अब आ गए हैं तो जाईयेगा मत। नज़र-ए-करम बरकरार रखिएगा। ये रही आपकी पेशकश:

करे है क़त्ल लगावट में तेरा रो देना
तेरी तरह कोई तेग़-ए-निगाह को आब तो दे (ग़ालिब)

मस्ती में लगावट से उस आंख का ये कहना
मैख्‍़वार की नीयत हूँ मुमकिन है बदल जाना (फ़िराक़ गोरखपुरी)

शामिख जी..आपकी फरमाईशों को पूरा करना तो हमारा फ़र्ज़ है। आप इतना भी शुक्रगुजार मत हो जाया करें :) आप जो भी शेर ढूँढकर लाते हैं वे कमाल के होते हैं..बस यह मालूम नहीं चलता कि शायरों को कहाँ भूल जाते हैं। हर शायर "अंजान" हीं क्यों होता है? :) ये रहे आपके शेर:

नतीजा लगावट का जाने क्या निकले
मोहब्बत में वो आजमा कर चले (अंजान)

छूटती मैके की सरहद माँ गुजर जाने के बाद
अब नहीं आता संदेसा मान मनुहारों भरा
खत्म रिश्तों की लगावट माँ गुजर जाने के बाद (अंजान)

और अंत में महफ़िल में नज़र आईं मंजु जी। आप एक काम करेंगी? जरा यह मालूम तो करें कि हमारे बाकी साथी कहाँ सोए हुए हैं। तब तक हम आपके स्वरचित शेर का लुत्फ़ उठाते हैं:

उनकी लगावट से साँसे चल रहीं ,
नहीं तो कब के मर गये होते।

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए अलविदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा


ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर बुधवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Friday, October 9, 2009

मुझको भी तरकीब सिखा दे यार जुलाहे...कबीर से बुनकरी सिखना चाहते हैं गुलज़ार और भुपि

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #५२

की महफ़िल कुछ खास है। सबब तो समझ हीं गए होंगे। नहीं समझे?... अरे भाई, भुपि(भुपिन्दर सिंह) और गुलज़ार साहब की जोड़ी पहली बार आज महफ़िल में नज़र आने जा रही है। अब जहाँ गुलज़ार का नाम हो, वहाँ सारे बने बनाए ढर्रे नेस्तनाबूत हो जाते हैं। और इसी कारण से हम भी आज अपने ढर्रे से बाहर आकर महफ़िल-ए-गज़ल को गुलज़ार साहब की कविताओं के सुपूर्द करने जा रहे हैं। उम्मीद करते हैं कि हमारा यह बदलाव आपको अटपटा नहीं लगेगा। तो शुरू करते हैं कविताओं का दौर... उससे पहले एक विशेष सूचना: हमें सीमा जी की पसंद की गज़लों की फ़ेहरिश्त मिल गई है और हम इस सोमवार को उन्हीं की पसंद की एक गज़ल सुनवाने जा रहे हैं। शामिख साहब ने २-३ दिनों की मोहलत माँगी है, हमें कोई ऐतराज नहीं है...लेकिन जितना जल्द आप यह काम करेंगे, हमें उतनी हीं ज्यादा सुहूलियत हासिल होगी। शरद जी, कृपया फूर्त्ति दिखाएँ, आप तो पहले भी इस प्रक्रिया से गुजर चुकें हैं।

भारतीय ज्ञानपीठ की मासिक साहित्यिक पत्रिका नया ज्ञानोदय के पिछले अंक(जून २००८) में गुलज़ार साहब की कलम ने पांच शहरों की तस्वीरें उकेरी हैं, कविताओं के माध्यम से शहरों के चरित्र को पेश किया है..

प्रस्तुत हैं शहरनामे के कुछ अंश..
-----------------------------
बम्बई

बड़ी लम्‍बी-सी मछली की तरह लेटी हुई पानी में ये नगरी
कि सर पानी में और पाँव जमीं पर हैं
समन्‍दर छोड़ती है, न समन्‍दर में उतरती है
ये नगरी बम्‍बई की...
जुराबें लम्‍बे-लम्‍बे साह‍िलों की, पिंडलियों तक खींच रक्‍खी है
समन्‍दर खेलता रहता है पैरों से लिपट कर
हमेशा छींकता है, शाम होती है तो 'टाईड' में।

यहीं देखा है साहिल पर
समन्‍दर ओक में भर के
'जोशान्‍दे' की तरह हर रोज पी जाता है सूरज को
बड़ा तन्‍दरुस्‍त रहता है
कभी दुबला नहीं होता!
कभी लगता है ये कोई तिलिस्‍मी-सा जजीरा है
जजीरा बम्‍बई का...

किसी गिरगिट की चमड़ी से बना है आसमाँ इसका
जो वादों की तरह रंगत बदलता है
'कसीनो' में रखे रोले (Roulette) की सूरत चलता रहता है!
कभी इस शहर की गर्दिश नहीं रुकती
बसे 'बियेरिंग' लगे हैं
किसी 'एक्‍सेल' पे रक्‍खा है।

तिलिस्‍मी शहर के मंजर अजब है
अकेले रात को निकलो, सिया साटिन की सड़कों पर
तिलिस्‍मी चेहरे ऊपर जगमगाते 'होर्डिंग' पर झूलते हैं
सितारे झाँकते हैं, नीचे सड़कों पर
वहाँ चढ़ने के जीने ढूँढने पड़ते हैं
पातालों में गुम होकर।

यहाँ जीना भी जादू है...
यहाँ पर ख्‍वाब भी टाँगों पे चलते है
उमंगें फूटती हैं, जिस तरह पानी में रक्‍खे मूंग के दाने
चटखते है तो जीभें उगने लगती हैं
यहाँ दिल खर्च हो जाते हैं अक्‍सर...कुछ नहीं बचता
सभी चाटे हुए पत्‍तल हवा में उड़ते रहते हैं
समन्‍दर रात को जब आँख बन्‍द करता है, ये नगरी
पहन कर सारे जेवर आसमाँ पर अक्‍स अपना देखा करती है

कभी सिन्‍दबाद भी आया तो होगा इस जजीरे पर
ये आधी पानी और आधी जमीं पर जिन्‍दा मछली
देखकर हैराँ हुआ होगा!!

-----------------------------
मद्रास (चेन्नई)

शहर ये बुजुर्ग लगता है
फ़ैलने लगा है अब
जैसे बूढ़े लोगों का पेट बढ़ने लगता है

ज़बां के ज़ायके वही
लिबास के सलीके भी....
.....

ख़ुशकी बढ़ गयी है जिस्म पर, ’कावेरी’ सूखी रहती है

-----------------------------
कोलकता

कभी देखा है बिल्डिंग में,
किसी सीढ़ी के नीचे
जहां मीटर लगे रहते हैं बिजली के
पुराने जंग आलूदा...
खुले ढक्कन के नीचे पान खाये मैले दांतों की तरह
कुछ फ़्यूज़ रक्खे हैं
...
बेहया बदमाश लड़के की तरह वो
खिलखिला के हंसता रहता है!

-----------------------------
दिल्ली - पुरानी दिल्ली की दोपहर

सन्‍नाटों में लिपटी वो दोपहर कहां अब
धूप में आधी रात का सन्‍नाटा रहता था।

लू से झुलसी दिल्‍ली की दोपहर में अक्‍सर...
‘चारपाई’ बुनने वाला जब,
घंटा घर वाले नुक्‍कड़ से, कान पे रख के हाथ,
इस हांक लगाता था- ‘चार... पई... बनवा लो...!’
ख़सख़स की टट्यों में सोये लोग अंदाज़ा कर लेते थे... डेढ़ बजा है!
दो बजते-बजते जामुन वाला गुज़रेगा
‘जामुन... ठंडे... काले... जामुन...!’
टोकरी में बड़ के पत्तों पर पानी छिड़क के रखता था
बंद कमरों में...
बच्‍चे कानी आंख से लेटे लेटे मां को देखते थे,
वो करवट लेकर सो जाती थी

तीन बजे तक लू का सन्‍नाटा रहता था
चार बजे तक ‘लंगरी सोटा’ पीसने लगता था ठंडाई
चार बजे के पास पास ही ‘हापड़ के पापड़!’ आते थे
‘लो... हापड़... के... पापड़...’
लू की कन्‍नी टूटने पर छिड़काव होता था
आंगन और दुकानों पर!

बर्फ़ की सिल पर सजने लगती थीं गंडेरियां
केवड़ा छिड़का जाता था
और छतों पर बिस्‍तर लग जाते थे जब
ठंडे ठंडे आसमान पर...
तारे छटकने लगते थे!

-----------------------------
न्यूयार्क

तुम्हारे शहर में ए दोस्त
क्यूं कर च्युंटियों के घर नहीं हैं
कहीं भी चीटियां नहीं देखी मैने

अगरचे फ़र्श पे चीनी भी डाली
पर कोइ चीटीं नज़र नहीं आयी
हमारे गांव के घर में तो आटा डालते हैं, गर
कोइ क़तार उनकी नज़र आये

तुम्हारे शहर में गरचे..
बहुत सब्ज़ा है, कितने खूबसूरत पेड़ हैं
पौधे हैं, फूलों से भरे हैं

कोई भंवरा मगर देखा नहीं भंवराये उन पर

मेरा गांव बहुत पिछड़ा हुआ है
मेरे आंगन के बरगद पर
सुबह कितनी तरह के पंछी आते हैं
वे नालायक, वहीं खाते हैं दाना
और वहीं पर बीट करते हैं

तुम्हारे शहर में लेकिन
हर इक बिल्डिंग, इमारत खूबसूरत है, बुलन्द है
बहुत ही खूबसूरत लोग मिलते हैं

मगर ए दोस्त जाने क्यों..
सभी तन्हा से लगते हैं
तुम्हारे शहर में कुछ रोज़ रह लूं
तो बड़ा सुनसान लगता है..

-----------------------------

तो कैसी लगी आपको ये कविताएँ? अच्छी हीं लगी होंगी, इसमें किसी शक की गुंजाईश नहीं है। तो इन कविताओं के बाद अगर हम सीधे आज की नज़्म की ओर रूख कर लें तो महफ़िल-ए-गज़ल का उद्देश्य सफ़ल नहीं होगा। हमारी यही कोशिश रहती है कि हम फ़नकारों की ज़िंदगी के कुछ अनछुए हिस्से आपके सम्मुख प्रस्तुत करते रहें। तो उसी लहज़े में पेश हैं गुलज़ार साहब के बारे में खुद उनके और उनके साथ काम कर चुके या कर रहे फ़नकारों के ख्याल (सौजन्य:बी०बी०सी०) जब मैंने पहला गाना लिखा, उस वक़्त मैं बहुत इच्छुक नहीं था. बस एक के बाद दूसरा कदम लिया. फिर मैं शामिल हो गया बिमल रॉय के साथ असिस्टेंट के तौर पर. उन्हीं के यहां 'प्रेम पत्र' बन रही थी. उसमें मैंने सावन की रातों में ऐसा भी होता है’ लिखा. फिर 'काबुलीवाला' बन रही थी. उसमें मैंने लिखा - गंगा आए कहां से गंगा जाए कहां से – बस यही करते करते में फ़िल्म इंडस्ट्री में शामिल हो गया। शायरी का शौक़ था शेर कहने का शौक था. शायरी अच्छी लगती है. जैसे अंग्रेज़ी में कहते हैं – इट इज़ फर्स्ट लव. शायरी मेरा पहला इश्क़ है.

"क्या नुस्ख़ा है किसी गानें को हिट करने का"- इस प्रश्न के जवाब में गुलज़ार साहब ने कहा "मुझे यूं लगता है और बड़ी निजी-सी राय है ये मेरी. इसे अगर जांच-भाल के भी देखें...कि जो किसी गाने के पॉपुलर होने का सबसे अहम अंग है - वो मेरे ख़याल में धुन है. उसके बाद फिर दूसरी चीज़ें आतीं हैं – आवाज़ भी शामिल हो जाती है औऱ अल्फ़ाज़ भी शामिल हो जाते हैं. लेकिन मूलत धुन बहुत अहम है."

गुलज़ार निर्देशित 'अंगूर' की अभिनेत्री मौसमी चटर्जी बताती हैं कि "गुलज़ार एक बेहतरीन गीतकार हैं। मुझे उनका 'ख़ामोशी' के लिए लिखा गाना "प्यार को प्यार ही रहने दो" बेहद पसंद है। गुलज़ार मेरी सास को उर्दू सिखाते थे और उनसे बांग्ला सीखते थे।

गुलज़ार के साथ 'बंटी और बबली', 'झूम बराबर झूम' फ़िल्में करने वाले शंकर महादेवन ने बीबीसी को बताया- कजरारे कंपोज़ करने के बाद हम गुलज़ार साहब से मिले. उन्होंने गाना सुनने के बाद कहा कि उन्हें इसमें ख़तरा दिख रहा है. मैंने पूछा – क्या? उन्होंने कहा कि इस गाने के बहुत बड़ा हिट होने का ख़तरा है. जो उन्होंने कहा वो एकदम सही हुआ.’ महादेवन कहते हैं कि गुलज़ार से मिलना एक सुखद अनुभव है और उनके साथ काम करना का तजुर्बा ज़िंदगी भर उनके साथ रहेगा
गुलज़ार साहब के बारे में जितना भी लिखा जाए कम है। कभी मौका मिलेगा(और मिलेगा हीं) तो हम उनके बारे में और भी बातें करेंगे। अभी बस इतना हीं...

अब वक्त है आज की नज़्म का लुत्फ़ उठाने का। यूँ तो यह नज़्म बड़ी हीं सीधी मालूम पड़ती है, जिसमें गुलज़ार साहब एक जुलाहे से वह तरकीब सीखना चाहते हैं, जिससे वो भी टूटे हुए रिश्तों को बुन सकें। लेकिन अगर आप गौर करेंगे तो महसूस होगा कि गुलज़ार किसी साधारण-से जुलाहे से बात नहीं कर रहे, बल्कि "कबीर" से मुखातिब हैं। वही कबीर जिन्होंने परमात्मा से अपना रिश्ता जोड़ लिया है। है ना बड़ी अजीब-सी बात? आप खुद देखिए:

मुझको भी तरकीब सिखा दे यार जुलाहे!

अक्सर तुझको देखा है कि ताना बुनते
जब कोई तागा टूट गया या ख़तम हुआ
फिर से बाँध के
और सिरा कोई जोड़ के उसमें
आगे बुनने लगते हो

तेरे उस ताने में लेकिन
इक भी गाँठ गिरह बुनकर की
देख नहीं सकता है कोई

मैंने तो इक बार बुना था एक ही रिश्ता
लेकिन उसकी सारी गिरहें
साफ़ नज़र आती हैं
मेरे यार जुलाहे




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

शीशागर बैठे रहे ज़िक्र-ए-___ लेकर
और हम टूट गये काँच के प्यालों की तरह


आपके विकल्प हैं -
a) सनम, b) इलाही, c) मसीहा, d) खुदा

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -

पिछली महफिल का सही शब्द था "गुनाह" और शेर कुछ यूं था -

इक फ़ुर्सते-गुनाह मिली, वो भी चार दिन
देखे हैं हमने हौसले परवरदिगार के...

"फ़ैज़" साहब के इस शेर को सबसे पहले सही पहचानकर बाजी मारी सीमा जी ने। उसके बाद आपने कुछ शेर भी पेश किए:

इसे गुनाह कहें या कहें सवाब का काम
नदी को सौंप दिया प्यास ने सराब का काम (शहरयार)

अब ना माँगेंगे ज़िन्दगी या रब
ये गुनाह हम ने एक बार किया (गुलज़ार)

दिल में किसी के राह किये जा रहा हूँ मैं
कितना हसीं गुनाह किये जा रहा हूँ मैं (जिगर मुरादाबादी)

सीमा जी के बाद महफ़िल को खुशगवार किया शरद जी और शन्नो जी। ये रहे आप दोनों के स्वरचित शेर(क्रम से):

तेरी जिस पर निगाह होती है
उसे जीने की चाह होती है
दिल दुखा कर किसी को हासिल हो
कामयाबी गुनाह होती है।

निगाह भर के उन्हें देखने का गुनाह कर बैठे
सरे आम ज़माने ने फिर मचाई फजीहत ऐसी।

वैसे आप दोनों ने एक काम कमाल का किया है, अपने-अपने शेर में "निगाह" का इस्तेमाल करके आपने ५०-५० का गेम खेल लिया...मतलब कि या निगाह हो या गुनाह जवाब तो सही रहेगा :)

इनके बाद महफ़िल में नज़र आए शामिख साहब। महफ़िल की शम्मा बुझने तक आपने महफ़िल को आबाद रखा। ये रहे आपके पेश किए हुए शेर:

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है,
मां बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है (मुनव्वर राणा)

चलना अगर गुनाह है अपने उसूल पर
सारी उमर सज़ाओं का ही सिल सिला चले (अनाम)

उम्र जिन की गुनाह में गुज़री
उन के दामन से दाग़ ग़ाइब है (राजेन्द्र रहबर)

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए अलविदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा


ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Monday, May 4, 2009

नाज़ था खुद पर मगर ऎसा न था......महफ़िल-ए-गज़ल में छाया की माया

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #१०

रीब एकतीस साल पहले मुज़फ़्फ़र अली की एक फ़िल्म आई थी "गमन"। फ़ारूख शेख और स्मिता पाटिल की अदाकारियों से सजी इस फ़िल्म में कई सारी दिलकश गज़लें थीं। यह तो सभी जानते हैं कि मुज़फ़्फ़र अली को संगीत का अच्छा-खासा इल्म है, विशेषकर गज़लों का। इसलिए उन्होंने गज़लों को संगीतबद्ध करने का जिम्मा उस्ताद अली अकबर खान के शागिर्द जयदेव वर्मा को दिया। और मुज़फ़्फ़र अली की दूरगामी नज़र का कमाल देखिए कि इस फ़िल्म के लिए "जयदेव" को राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाज़ा गया। भारतीय फिल्म संगीत के इतिहास में अब तक केवल तीन हीं संगीतकार हुए हैं,जिन्हें तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार (रजत कमल पुरस्कार) पाने का अवसर मिला है: जयदेव, ए आर रहमान और इल्लैया राजा। हाँ तो हम "गमन" की गज़लों की बात कर रहे थे। इस फ़िल्म की एक गज़ल "आप की याद आती रही रात भर" ,जिसे "मक़दू्म मोहिउद्दिन" ने लिखा था, के लिए मुज़फ़्फ़र अली को एक नई आवाज़ की तलाश थी और यह तलाश हमारी आज की फ़नकारा पर खत्म हुई। इस गज़ल के बाद तो मानो मुज़फ़्फ़र अली इस नए आवाज़ के दिवाने हो गए। यूँ तो मुज़फ़्फ़र अली अपनी फ़िल्मों (गमन,उमराव जान) के लिए जाने जाते हैं,लेकिन कम हीं लोगों को इस बात की जानकारी होगी कि इन्होंने कई सारी हीं गज़लों को संगीतबद्ध किया है। "रक़्स-ए-बिस्मिल","पैगाम-ए-मोहब्बत","हुस्न-ए-जानां" ऎसी हीं कुछ खुशकिस्मत गज़लों की एलबम हैं,जिन्हें मुज़फ़्फ़र अली ने अपनी सुरों से सजाया है। बाकी एलबमों की बात कभी बाद में करेंगे, लेकिन "हुस्न-ए-जानां" का जिक्र यहाँ लाजिमी है। अमिर खुसरो का लिखा "ज़िहाल-ए-मस्कीं" न जाने कितनी हीं बार अलग-अलग अंदाज़ में गाया जा चुका है, यहाँ तक कि "गुलामी" के लिए गुलज़ार साहब ने इसे एक अलग हीं रूप दे दिया था, लेकिन कहा जाता है कि इस गाने को हमारी आज की फ़नकारा ने जिस तरह गाया है,जिस अंदाज में गाया है, वैसा दर्द वैसा गम-ए-हिज्र आज तक किसी और की आवाज़ में महसूस नहीं होता। ऎसी है मुज़फ़्फ़र अली की परख और ऎसा है इस फ़नकारा की आवाज़ का तिलिस्म....। तो चलिए मैंने तो उस फ़नकारा के बारे में इतना कुछ कह दिया; अब आप की बारी है,पता कीजिए उस फ़नकारा का नाम..

उस फ़नकारा के नाम से पर्दा हटाने के पहले मैं आज की गज़ल से जुड़े एक और हस्ती के बारे में कुछ बताना चाहूँगा। आज की गज़ल को साज़ों से सजाने वाला वह इंसान खुद एक कामयाब गज़ल-गायक है। गज़लों से परे अगर बात करें तो कई सारे फ़िल्मी-गानों को उन्होंने स्वरबद्ध किया है। एक तरह से वे गु्लज़ार के प्रिय रहे हैं। "दिल ढूँढता है फिर वही फ़ुरसत के रात-दिन", "नाम गुम जाएगा", "एक अकेला इस शहर में", "हुज़ूर इस कदर भी न इतराके चलिए" कुछ ऎसे हीं मकबूल गाने हैं,जिन्हें गुलज़ार ने लिखा और "भूपिन्दर सिंह" ने अपनी आवाज़ दी। जी हाँ,हमारी आज की गज़ल के संगीतकार "भूपिन्दर सिंह" जी ही है। तो अब तक हम गज़ल के संगीतकार से रूबरू हो चुके है, अब इस महफ़िल में बस गज़लगो और गायिका की हीं कमी है। दोस्तों...मुझे उम्मीद है कि मैने गायिका की पहचान के लिए जो हिंट दिए थे,उनकी मदद से आपने अब तक गायिका का नाम जान हीं लिया होगा। और अगर...अभी तक आप सोच में डूबे हैं तो मैं हीं बता देता हूँ। हम आज जिस फ़नकारा की बात कर रहे हैं, उनका नाम है "छाया गांगुली" । "छाया गांगुली" से जुड़ी मैने कई सारी बातें आपको पहले हीं बता दी हैं, अब उनके बारे में ज्यादा लिखने चलूँगा तो आलेख लंबा हो जाएगा। इसलिए अच्छा होगा कि मैं अब गज़ल की ओर रूख करूँ।

कई साल पहले "नाज़ था खुद पर मगर ऎसा न था" नाम से गज़लों की एक एलबम आई थी। आज हम उसी एलबम की प्रतिनिधि गज़ल आपको सुना रहे हैं.... । प्रतिनिधि गज़ल होने के कारण यह तो साफ़ हीं है कि उस गज़ल के भी बोल यही हैं..."नाज़ था खुद पर मगर ऎसा न था" । इस सुप्रसिद्ध गज़ल के बोल लिखे थे "इब्राहिम अश्क़" ने। कभी मौका आने पर "इब्राहिम अश्क" साहब के बारे में भी विस्तार से चर्चा करेंगे..अभी अपने आप को बस इस गज़ल तक हीं सीमित रखते हैं। इस गज़ल की खासियत यह है कि बस चार शेरों में हीं पूरी दुनिया की बात कह दी गई है। गज़लगो कभी खुद पर नाज़ करता है, कभी जहां की तल्ख निगाहों का ब्योरा देता है तो कभी अपने महबूब पर गुमां करता है। भला दूसरी कौन-सी ऎसी गज़ल होगी जो चंद शब्दों में हीं सारी कायनात का जिक्र करती हो। शुक्र यह है कि इश्क-वालों के लिए कायनात बस अपने इश्क तक हीं सिमटा नहीं है। वैसे इसे शुक्र कहें या मजबूरी ...क्योंकि इश्क-वाले तो खुद में हीं डूबे होते हैं, उन्हें औरों से क्या लेना। अब जब औरों को इनकी खुशी न पचे तो ये दुनिया की शिकायत न करें तो क्या करें।

इश्क-वालों ने किए जब अलहदा हैं रास्ते,
राह-भर में खार किसने बोए इनके वास्ते।


तो लीजिए आप सबके सामने पेश-ए-खिदमत है आज की गज़ल...लुत्फ़ लें और अगर अच्छी लगे तो हमारे चुनाव की दाद दें:

नाज़ था खुद पर मगर ऎसा न था,
आईने में जब तलक देखा न था।

शहर की महरूमियाँ मत पूछिये,
भीड़ थी पर कोई भी अपना न था।

मंजिलें आवाज़ देती रह गईं,
हम पहुँच जाते मगर रस्ता न था।

इतनी दिलकश थी कहाँ ये ज़िंदगी,
हमने जब तक आपको चाहा न था।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

___ से लिपटी हुई तितली को गिरा कर देखो,
आँधियों तुमने दरख्तों को गिराया होगा..


आपके विकल्प हैं -
a) दरख्त , b) गुल , c) टहनी, d) पंखुडी

इरशाद ....

पिछली महफ़िल के साथी-

पिछली महफिल का सही शब्द था "खुद", यानी कि शेर कुछ यूँ था-
दुनिया न जीत पाओ तो हारो न खुद को तुम,
थोडी बहुत तो जेहन में नाराज़गी रहे...

सबसे पहले सही जवाब देकर मैदान मारा शन्नो जी ने. मनु जी और सलिल जी ने भी सही जवाब दिया. सलिल जी ने एक सदाबहार शेर याद दिलाया -
खुदी को कर बुलंद इतना कि हर तकदीर से पहले,
खुदा बन्दे से खुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है....

वाह...
नीलम जी ने भी सही जवाब दिया, और एक फ़िल्मी गाने को याद किया, पर गीत के बोल भूल गयी, जिसे बाद में मनु जी ने याद दिलवाया पर आदत अनुसार इस बार कोई शेर नहीं सुनाया उन्होंने.

पूजा जी, पहेली का अपना अलग मज़ा है, जो भी विकल्प आपको सही लगे उस पर कुछ सुनाया भी कीजिये. आपकी और सुशील जी की पसंद का गाना भी जल्द ही सुनवाने की कोशिश रहेगी. और चलते चलते सलिल जी का एक और शेर उसी महफिल से-
खुद को खुद पर हो यकीन तो दुनिया से लड़ जाईये,
मंजिलों की फ़िक्र क्यों हो, पैर- नीचे पाईये...

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा



ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर सोमवार और गुरूवार दो अनमोल रचनाओं के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Sunday, April 19, 2009

रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत (3)

रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीतों की सौगात लेकर हम फिर से हाज़िर हैं. आज आपके लिए कुछ ख़ास लेकर आये हैं हम सबके प्रिय पंकज सुबीर जी. हमें उम्मीद ही नहीं यकीन है कि पंकज जी का ये नायाब नजराना आप सब को खूब पसंद आएगा.

असमिया संगीतकार और गायक श्री भूपेन हजारिका का गीत "ओ गंगा बहती हो क्‍यों" जब आया तो संगीत प्रेमियों के मानस में पैठता चला गया । हालंकि भूपेन दा काफी पहले से हिंदी फिल्‍मों में संगीत देते आ रहे हैं किन्‍तु उनको हिंदी संगीत प्रेमियों ने इस गाने के बाद हाथों हाथ लिया । यद्यपि 1974 में आई फिल्‍म "आरोप" जिसके निर्देशक श्री आत्‍माराम थे तथा जिसमें विनोद खन्‍ना और सायरा बानो मुख्‍य भूमिकाओं में थे उस फिल्‍म का एक गीत जो लता जी तथा किशोर दा ने गाया था वो काफी लोकप्रिय हुआ था । गीत था- "नैनों में दर्पण है दर्पण में कोई देखूं जिसे सुबहो शाम" । इस फिल्‍म के संगीतकार भी भूपेन दा ही थे । भूपेन दा और गुलजार साहब ने मिलकर जब "रुदाली" का गीत संगीत रचा तो धूम ही मच गई । रुदाली में इस जादुई जोड़ी के साथ त्रिवेणी के रूप में आकर मिली लता जी की आवाज । और फिर श्रोताओं को मिले दिल हूम हूम करे, समय ओ धीरे चलो जैसे कई सारे अमर गीत । रुदाली का संगीत बहुत पापुलर संगीत है और वो उस दौर का संगीत है जब "माया मेमसाब", "लेकिन", "रुदाली" जैसी फिल्‍मों में हट कर संगीत आ रहा था । किन्‍तु आज हम बात करेंगें एक ऐसी फिल्‍म की जिसमें यही टीम थी और संगीत भी ऐसा ही अद्भुत था लेकिन किसी कारण से न तो फिल्‍म को कोई महत्‍व मिला और संगीत भी उसी प्रकार से आकर चुपचाप ही चला गया । यहां तक कि रुदाली फिल्‍म की निर्देशिका कल्‍पना लाजमी ही इस फिल्‍म "एक पल" की भी निर्देशिका थीं । किन्‍तु जहां रुदाली आई थी 1993 में तो एक पल आई थी 1985 में । अर्थात लगभग आठ साल पहले ।

तो आइये बात करते हैं एक पल की और सुनते हैं उसके वे अद्भुत गीत ।
1985 में आई एक पल में शबाना आजमी, नसीरुद्दीन शाह और फारुख शेख जैसे कलाकार थे । जाहिर सी बात है कि ये एक आफ बीट फिल्‍म थी । 1985 में मार धाड़ की फिल्‍मों का दौर चल रहा था और शायद इसीलिये ये फिल्‍म और इसके गीत कुछ अनसुने से होकर गुज़र गये थे । संगीत भूपेन दा का था और गीत लिखे थे कैफी आजमी साहब और गुलजार साहब ने मिलकर ।

यदि अपनी बात कहूं तो मुझे लता जी का गाया तथा गुलजार सा‍हब का लिखा गीत 'जाने क्‍या है जी डरता है, रो देने को जी करता है, अपने आप से डर लगता है ' सबसे पसंद है । जाने किस मानसिकता में लिखा गया है ये गीत । शब्‍द ऐसे कि लगता है मानो किसी ने हमारे ही भावों को अभिव्‍यक्ति दे दी है । उस पर लता जी ने जिस हांटिंग स्‍वर में गाया है, ऐसा लगता है कि बार बार सुनते रहो इस गीत को ।

जाने क्‍या है जी डरता है


एक और गीत है जो लता जी, भूपेन दा तथा गुलजार साहब की ही त्रिवेणी ने रचा है । शब्‍द देखें 'चुपके चुपके हम पलकों में कितनी सदियों से रहते हैं, आ डूब के देखें नीले से सागर में कैसे बहते हैं, आ जाना डूब के देखेंगें' ये गीत भी एक ऐसा गीत है जिसे रात की ख़ामोशी में सुन लो तो नशा ही छा जाये ।' जो सोचा है वो झूठ नहीं महसूस किया वो पाप नहीं, हम रूह की आग में जलते हैं ये जिस्‍म का झूठा ताप नहीं' जैस्‍ो शब्‍दों का जादू देर तक सर पर चढ़ा रहता है ।

चुपके चुपके


कैफी आजमी साहब का लिखा हुआ एक गीत है जो कि दो स्‍वरों में है भूपेंद्र तथा आशा भौंसले जी ने अलग अलग इस गीत को अपनी तरह से गाया है । 'आने वाली है बहार सूने चमन में, कोई फूल खिलेगा प्‍यारा सा कोमल तन में' ये गीत दोनों ही बार आनंद देता है । आशा जी की खनकदार आवाज़ जो गीतों में प्राण फूंक देती है उसने इस गीत को अमर कर दिया है । भूपेंद्र ने गीत का सेड वर्शन गाया है । जाहिर सी बात है उसमें संगीत भी वैसा ही है ।

आने वाली है बहार


आने वाली है बहार (आशा)


एक और गीत जो मुझे हांट करता है वो लता जी और भूपेन दा के स्‍वरों में है तथा गुलजार साहब ने लिखा है । गीत के बोल हैं 'मैं तो संग जाऊं बनवास, स्‍वामी न करना निरास, पग पग संग जाऊं, जाऊं बनवास हे' गीत के बोल ही बता रहे हैं कि राम के बनवास गमन पर गीत है । जिसमें लता जी बनवास ग वन गमन की जिद कर रहे हैं और भूपेन दा रोकने के लिये अपनी बात कर रहे हैं । 'जंगल बन में घूमे हाथी भालू शेर और हिरना, नारी हो तुम डर जाओगी न जाओ बनवास हे '' । अनोखा सा गीत है ये ।

मैं तो संग


गुलजार साहब के एक और गीत को झूम कर गाया है नितिन मुकेश, भूपेन दा और भूपेंद्र ने । 'फूले दाना दाना फूले डालियां भंवराता आया बैसाख' इस गीत में असम के बीहू की ध्‍वनियां भूपेन दा ने उपयोग की हैं ।'बाजरे की बाली सी छोरिया, गेहूं जैसी गोरिया, रात को लागे चांदनी, ऐसी ला दे जोरुआ' । मुझे नहीं मालूम असम में बैसाख कैसा आता है किन्‍तु इस गीत में तो अद्भुत मस्‍ती है बैसाख की । और अंत में जब गीत तेज होता है तो वो पंक्तियां 'पूर्णिमा अगनी जल गई रजनी, जल्‍दी करा दे रे मंगनी, हो मैया करा दे रे' गीत देर तक मस्‍ती देता रहता है । बीच बीच में भूपेन दा का स्‍वर किसी जादू की तरह आता है ।

फूले दानादाना


गुलज़ार साहब का एक और गीत है जो दो बार है एक बार सेड है और एक हैप्‍पी है । सेड में केवल भूपेंद्र ने गाया है और हैप्‍पी वर्शन में भूपेन दा, भूपेंद्र, उषा मंगेशकर तथा हेमंती शुक्‍ला ने इसे गाया है । विवाह गीत है ये 'जरा धीरे जरा धीमे ले के जइहो डोरी, बड़ी नाज़ुक मेरी जाई मेरी बहना भोली' । गीत में भी लोक संगीत की ध्‍वनियां हैं और भरपूर हैं ।

जरा धीरे


तो ये है संगीत फिल्‍म 'एक पल' का जिसे निर्देशित किया था कल्‍पना लाजमी ने । फिल्‍म भले ही यूंही आकर यूंही चली गई हो किन्‍तु इसका संगीत अमर है । ये लोक का संगीत है ।

प्रस्तुति - पंकज सुबीर

पिछले अंक में विकास शुक्ल जी ने हमसे लता जी के गाये एक गीत की फरमाईश की थी, हमने एक बार फिर अजय जी का दरवाज़ा खटखटाया और उन्होंने ढूंढ निकला वह दुर्लभ गीत जिसे विकास जी ढूंढ रहे थे. आप भी सुनिए फिल्म "गजरे" से ये गीत "बरस बरस बदरी बिखर गयी...", संगीत है अनिल बिस्वास का -





"रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत" एक शृंखला है कुछ बेहद दुर्लभ गीतों के संकलन की. कुछ ऐसे गीत जो अमूमन कहीं सुनने को नहीं मिलते, या फिर ऐसे गीत जिन्हें पर्याप्त प्रचार नहीं मिल पाया और अच्छे होने के बावजूद एक बड़े श्रोता वर्ग तक वो नहीं पहुँच पाया. ये गीत नए भी हो सकते हैं और पुराने भी. आवाज़ के बहुत से ऐसे नियमित श्रोता हैं जो न सिर्फ संगीत प्रेमी हैं बल्कि उनके पास अपने पसंदीदा संगीत का एक विशाल खजाना भी उपलब्ध है. इस स्तम्भ के माध्यम से हम उनका परिचय आप सब से करवाते रहेंगें. और सुनवाते रहेंगें उनके संकलन के वो अनूठे गीत. यदि आपके पास भी हैं कुछ ऐसे अनमोल गीत और उन्हें आप अपने जैसे अन्य संगीत प्रेमियों के साथ बाँटना चाहते हैं, तो हमें लिखिए. यदि कोई ख़ास गीत ऐसा है जिसे आप ढूंढ रहे हैं तो उनकी फरमाईश भी यहाँ रख सकते हैं. हो सकता है किसी रसिक के पास वो गीत हो जिसे आप खोज रहे हों.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ