Showing posts with label rag des. Show all posts
Showing posts with label rag des. Show all posts

Sunday, October 12, 2014

‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ : SWARGOSHTHI – 189 : THUMARI PILU AND DES



स्वरगोष्ठी – 189 में आज

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी – 8 : ठुमरी पीलू और देस

एकल और युगल रूप में श्रृंगार रस से परिपूर्ण ठुमरी ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’




‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर मैं कृष्णमोहन मिश्र अपनी साथी प्रस्तुतकर्त्ता संज्ञा टण्डन के साथ आप सब संगीत-प्रेमियों का अभिनन्दन करता हूँ। इन दिनों हमारी जारी श्रृंखला 'फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ के आठवें अंक में आज हमने एक ऐसी पारम्परिक ठुमरी का चयन किया है, जिसे कई सुविख्यात गायक-गायिकाओं ने गाया है। इस ठुमरी को एकल और युगल, दोनों रूप में प्रस्तुत किया गया है। आमतौर पर ठुमरी एकल रूप में ही गायी जाती है। परन्तु नृत्य-प्रस्तुतियों में या युगल कलाकारों की प्रस्तुतियों में ठुमरी का युगल गायन भी परिलक्षित होता है। इस श्रृंखला में आप कुछ ऐसी पारम्परिक ठुमरियों का रसास्वादन भी कर रहे हैं जिन्हें फिल्मों में कभी यथावत तो कभी परिवर्तित अन्तरे के साथ इस्तेमाल किया गया। फिल्मों मे शामिल ऐसी ठुमरियाँ अधिकतर पारम्परिक ठुमरियों से प्रभावित होती हैं। आज की ठुमरी का फिल्मी संस्करण भी युगल गायन के रूप में है। इस श्रृंखला की अन्य कड़ियों की तरह आज के अंक भी प्रायोगिक रूप से श्रव्य माध्यम में भी प्रस्तुत किया जा रहा है। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की प्रमुख सहयोगी संज्ञा टण्डन की आवाज़ में पूरा आलेख और गीत-संगीत श्रव्य माध्यम से भी प्रस्तुत किया जा रहा है। हमारे इस प्रयोग पर आप अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दीजिएगा। आज के अंक हम आपको एक श्रृंगाररस प्रधान ठुमरी– ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ का गायन राग पीलू और देस में सुनवा रहे हैं।
 



फिल्मों में शामिल की गई पारम्परिक ठुमरियों पर केन्द्रित लघु श्रृंखला ‘फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ के आज के अंक में आप संगीत-प्रेमियों के लिए जिस ठुमरी का चयन किया गया है, वह है राग पीलू की ठुमरी ‘गोरी तोरे नैन, काजर बिन कारे...’। इसका पारम्परिक स्वरूप हम आपको सबसे पहले गायिका इकबाल बानो की आवाज़ में सुनवाते हैं। इकबाल बनो का जन्म 1935 में दिल्ली के एक सामान्य परिवार में हुआ था। बचपन में ही उनकी प्रतिभा को पहचान कर दिल्ली के उस्ताद चाँद खाँ ने उन्हें रागदारी संगीत का प्रशिक्षण देना आरम्भ किया। कुछ वर्षों की संगीत-शिक्षा के दौरान उस्ताद ने अनुभव किया कि इकबाल बानो के स्वरों में भाव और रस के अभिव्यक्ति की अनूठी क्षमता है। उस्ताद ने उन्हें ठुमरी, दादरा और गजल गायन की ओर प्रेरित और प्रशिक्षित किया। मात्र 14 वर्ष की आयु में इकबाल बानो ने दिल्ली रेडियो से शास्त्रीय और उपशास्त्रीय गायन आरम्भ कर दिया था। वर्ष 1950 में उन्हें देश की प्रख्यात गायिकाओं में शुमार कर लिया गया था। 1952 में 17 वर्ष की आयु में उनका विवाह पाकिस्तान के एक समृद्ध परिवार में हुआ और उन्होने मुल्तान शहर को अपना नया ठिकाना बनाया। पाकिस्तान के संगीत-प्रेमियों ने इकबाल बानो को सर-आँखों पर बैठाया। शीघ्र ही वह रेडियो पाकिस्तान की नियमित गायिका बन गईं। यही नहीं उन्होने अनेक फिल्मों में पार्श्वगायन भी किया। 1985 में उन्हें फैज अहमद ‘फैज’ की नज़मों पर विशेष शोध और गायन के लिए विश्वस्तर पर सम्मान प्राप्त हुआ था। 21 अप्रैल, 2009 को लाहौर में उनका निधन हो गया। इस अप्रतिम गायिका के स्वरों में ही है, राग पीलू की यह ठुमरी, लीजिए प्रस्तुत है।


पीलू ठुमरी : ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ : गायिका - इकबाल बानो




आमतौर पर ठुमरी एकल रूप में ही गाये जाने की परम्परा है। युगल ठुमरी गायन का उदाहरण कभी-कभी उस समय परिलक्षित होता है, जब युगल खयाल गायक, खयाल के बाद ठुमरी गाते है। इसके अलावा नृत्य के कार्यक्रम में भाव अंग के अन्तर्गत दो नर्तक या नृत्यांगना मंच पर जब भाव-प्रदर्शन करते हैं। बीसवीं शताब्दी के मध्यकाल में संगीत के मंच पर जिन युगल गायकों का वर्चस्व था उनमें शामचौरासी घराने के उस्ताद नज़ाकत अली (1920-1984) और सलामत अली (1934-2001) बन्धुओं का नाम शीर्ष पर था। इन्हीं के दो छोटे भाई अख्तर अली और ज़ाकिर अली हैं, जिनका ठुमरी-दादरा गायन संगीत के मंचों पर बेहद लोकप्रिय हुआ। आइए, अब हम आपको उस्ताद अख्तर अली और ज़ाकिर अली खाँ की आवाज़ में राग पीलू की यही ठुमरी सुनवाते हैं।


पीलू ठुमरी : ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ उस्ताद अख्तर अली और ज़ाकिर अली खाँ 



1964 में अजीत और माला सिन्हा अभिनीत फिल्म ‘मैं सुहागन हूँ’ प्रदर्शित हुई थी। इस फिल्म का संगीत फिल्मों के एक कम चर्चित संगीतकार लच्छीराम तँवर ने तैयार किया था। लच्छीराम की स्वतंत्र रूप से प्रथम संगीत निर्देशित 1947 की फिल्म थी ‘आरसी’। इस पहली फिल्म के संगीत ने तत्कालीन संगीत-प्रेमियों और समीक्षकों का ध्यान आकर्षित किया था। फिल्म का संगीत लोकप्रिय भी हुआ था, किन्तु 1947 से 1964 के बीच उन्हें साधारण स्तर की फिल्मों के प्रस्ताव ही मिले। इसके बावजूद उनकी प्रत्येक फिल्मों के एक-दो गीतों ने लोकप्रियता के मानक गढ़े। 1964 की फिल्म ‘मैं सुहागन हूँ’ उनकी अन्तिम फिल्म थी। इस फिल्म में लच्छीराम ने इसी परम्परागत ठुमरी को आशा भोसले और मोहम्मद रफ़ी के स्वरों में प्रस्तुत किया था। फिल्मों में प्रयोग की गई ठुमरियों में सम्भवतः पहली बार युगल स्वरों में किसी ठुमरी को शामिल किया गया था। फिल्म में नायक-नायिका अजीत और माला सिन्हा हैं, परन्तु इस ठुमरी को फिल्म के सह-कलाकारों, सम्भवतः केवल कुमार और निशी पर फिल्माया गया है। ठुमरी के अन्त में अभिनेत्री द्वारा तीनताल में कथक के तत्कार और टुकड़े भी प्रस्तुत किये गए हैं। मूलतः यह ठुमरी राग पीलू की है। परन्तु लच्छीराम ने इसे राग देस के स्वरों में बाँधा है। आशा भोसले और मोहम्मद रफ़ी ने गायन में राग देस के स्वरों को बड़े आकर्षक ढंग से निखारा है। रफ़ी ने इस गीत को सहज-सपाट स्वरों में गाया है किन्तु आशा भोसले ने स्वरों में मुरकियाँ देकर और बोलों में भाव उत्पन्न कर ठुमरी को आकर्षक रूप दे दिया है। आइए सुनते हैं, श्रृंगार रस से ओतप्रोत राग देस में यह फिल्मी ठुमरी।


फिल्म ‘मैं सुहागन हूँ’ : देस ठुमरी : ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ : आशा भोसले और मोहम्मद रफी : संगीत – लच्छीराम तँवर



और अब प्रस्तुत है, इस श्रृंखला 'फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ के आठवें अंक की ठुमरी –‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ के आलेख और ठुमरी गीतों का समन्वित श्रव्य संस्करण। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ परिवार की सक्रिय सदस्य संज्ञा टण्डन ने अपनी भावपूर्ण आवाज़ से इसे अलंकृत किया है। आप इस प्रस्तुति का रसास्वादन कीजिए और हमे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।




आज की पहेली


‘स्वरगोष्ठी’ के 189वें अंक की पहेली में आज हम आपको एक अत्यन्त लोकप्रिय ठुमरी रचना का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको निम्नलिखित दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। 190वें अंक की पहेली के सम्पन्न होने तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।




1 – कण्ठ संगीत के इस अंश को सुन कर बताइए कि यह ठुमरी किस राग में निबद्ध है?

2 – यह ठुमरी रचना किस महान गायक की आवाज़ में है?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia@live.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 191वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस मंच पर स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर अपनी प्रतिक्रिया भी व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ की 187वें अंक की संगीत पहेली में हमने आपको 1952 में प्रदर्शित फिल्म ‘रागरंग’ में शामिल लता मंगेशकर की आवाज़ में बेहद प्रचलित राग यमन के द्रुत खयाल का अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग यमन और पहेली के दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- गायिका लता मंगेशकर। इस अंक की पहेली में हमारी एक नियमित श्रोता / पाठक को प्रस्तुति में लता मंगेशकर द्वारा एक स्थान पर शुद्ध मध्यम स्वर का प्रयोग किए जाने के कारण राग यमन कल्याण का भ्रम हुआ। यहाँ हम यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि प्रायः फिल्मी गीतों में राग के स्वरों में मामूली फेर-बदल तो मिलता ही है। परन्तु पहेली में पूछी गई बन्दिश राग यमन की ही है। इसलिए इस बार की पहेली में राग यमन और यमन कल्याण, दोनों ही उत्तरों को हमने सही मान लिया है। पूछे गए दोनों प्रश्नो के सही उत्तर जबलपुर से क्षिति तिवारी, पेंसिलवानिया, अमेरिका से विजया राजकोटिया, और हैदराबाद की डी. हरिणा माधवी ने दिया है। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई।


आपकी और अपनी बात



मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर इन दिनों हम पारम्परिक ठुमरी और उसके फिल्मी प्रयोग पर चर्चा कर रहे हैं। आज के अंक में हमने ठुमरी के एकल और युगल गायन के उदाहरण प्रस्तुत किये। श्रृंखला के अगले अंक में हम एक और पारम्परिक ठुमरी और उसके फिल्मी प्रयोग पर चर्चा करेंगे। 

नई फिल्मों के प्रति रुचि रखने वाले पाठकों-श्रोताओं के लिए एक सूचना है। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ पर प्रत्येक शुक्रवार को हम आपसे नई फिल्मों और उसके गीत-संगीत की जानकारी बाँटते हैं। कुछ अपरिहार्य कारणों से पिछले कुछ समय से हम इसे जारी नहीं नहीं रख पा रहे थे। परन्तु अगले शुक्रवार, 17 अक्तूबर से हम इस साप्ताहिक श्रृंखला को पुनः आरम्भ कर रहे हैं। इस शुक्रवार के अंक में हम नई प्रदर्शित होने वाली फिल्म ‘रोर – टाइगर ऑफ सुन्दरवन’ का ट्रेलर प्रस्तुत कर रहे हैं। आप यह पृष्ठ अवश्य देखिएगा। इसके अलावा रविवार, 19 अक्तूबर को ‘स्वरगोष्ठी’ के अगले अंक भी हमें आपकी प्रतीक्षा रहेगी।



वाचक स्वर : संज्ञा टण्डन 
आलेख व प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ