Showing posts with label ye jawani hai deewani. Show all posts
Showing posts with label ye jawani hai deewani. Show all posts

Monday, May 13, 2013

चुलबुले गीतों का चुटीला अंदाज़ खनक रहा है नए दौर की जवानी दीवानी में

प्लेबैक वाणी -45 - संगीत समीक्षा - ये जवानी है दीवानी


हमारे फिल्मकारों की राय में जवानी हमेशा से ही दीवानी रही है, फिर चाहे ज़माना राज कपूर का हो, ऋषि कपूर का या फिर आज के रणबीर कपूर का, जवानी की दीवानगी में मोहब्बत की नादानियाँ फ़िल्मी परदे पर दर्शकों को लुभाती रहीं हैं. निर्देशक आयन मुखर्जी की नयी पेशकश ये जवानी है दीवानी में संगीत है प्रीतम का और गीतकार हैं अमिताभ भट्टाचार्य. बर्फी की आपार सफलता के बाद प्रीतम और रणबीर का संगम क्या नया गुल खिला रहा है, आईये देखें फिल्म की एल्बम को सुनकर.

पहला गीत बदतमीज़ दिल एक रैप गीत है, रेट्रो अंदाज़ का. इस पे भूत कोई चढा है ठहराना जाने न....गीत की इन पंक्तियों की ही तरह ये गीत भी कहीं रुकता हुआ प्रतीत नहीं होता. एक सांस में इसे गाया है बेनी दयाल ने और उनके साथ है शेफाली अल्वारिस, पर गीत पूरी तरह बेनी का कहा जाना चाहिए. तेज रिदम और चुटकीले शब्द गीत को मजेदार बनाते हैं. पर कहीं न कहीं कुछ कमी से खलती है शायद नयेपन की, जो गीत पूरी तरह दिल को छू नहीं पाता.

अगला गीत बालम पिचकारी की शुरुआत बहुत दिलचस्प अंदाज़ में देसी ठाठ से होती है. ये एक होली गीत है जैसा कि नाम से ही जाहिर है. मस्त नशीला ये गीत विशेषकर अमिताभ के चुलबुले शब्दों की वजह से भी श्रोताओं को खूब पसंद आना चाहिए. ढोलक की थाप कदम थिरकाने वाली हैं. विशाल ददलानी और श्यामली खोलगडे की आवाज़ में ये शरारती गीत आने वाली होली में सबकी जुबाँ पे चढ सकता है.

दो नटखट अंदाज़ के गीतों के बाद एल्बम का तीसरा गीत इलाही एक बेहद अलहदा मिजाज़ का है. गिटार की सुरीली तान पर मोहित की आवाज़ जादू सी उतरती है, बड़ा ही दिलचस्प गीत है ये और सफर में निकले किसी मुसाफिर के लिए तो जैसे एकदम सटीक है. फिल्म के तेज ताल वाले गीतों से परे इस गीत की एक अलग ही पहचान है. प्रीतम और अमिताभ की ये जुगलबंदी जबरदस्त रही है.

कबीरा गीत के दो मुक्तलिफ़ संस्करण हैं. रेखा भारद्वाज की रेतीली आवाज़ के साथ तोचि रैना की बेस भरी आवाज़ अच्छा आकर्षण पैदा करती है. ऑंखें बंद करके सुनिए इस गीत को तो बड़े ही शानदार विजुअल जेहन में उभरते हैं. इस थीम पर कोई गीत बहुत दिनों बाद किसी एल्बम में सुनाई दिया है (याद कीजिये फकीर चल चला चल और एक रास्ता है जिंदगी आदि). दूसरा संस्करण अधिक भारतीय है, कह सकते हैं, जिसमें हर्षदीप के लोक स्वरों को अरिजीत सिंह की आवाज़ का सुन्दर साथ मिलता है. बस यहाँ किरदारों के चेहरे बदल गए हैं. दोनों ही संस्करण अपनी अपनी खास पहचान बनाने कामियाब हैं. अमिताभ के शब्द एक बार फिर प्रभावी रहे हैं. अरिजीत की आवाज़ में आत्मविश्वास बढ़ता जा रहा है.

अरिजीत और सुनिधि की आवाज़ में दिल्ली वाली गर्लफ्रेंड गीत फिर से तेज रिदम का है, पर ऊपर बताये गीतों को सुनने के बाद ये गीत प्रीतम के चिरपरिचित अंदाज़ का सा लगता है. बस इतना कहेंगें की बुरा नहीं है ये गीत भी और डिस्को शादियों में जम कर बज सकता है.

सुभान अल्लाह एक प्रीतम मार्का रोमांटिक गीत है श्रीराम की आवाज़ में. सुन्दर और सुरीला भी है ये गीत मगर एक बार फिर हमें प्रीतम के इमरान हाश्मी सरीखे प्रेम गीतों की बरबस की याद आ जाती है. लंबे समय तक ये गीत श्रोताओं को याद रहेगा ऐसा होना मुश्किल ही है.

अंतिम गीत घाघरा रेखा भारद्वाज और विशाल ददलानी का गाया नौटंकी सरीखा है. देसी कलेवर के इस गीत में हारमोनियम के स्वरों का गजब इस्तेमाल है. गीत के अंतरे बहुत खूबसूरत बुने गए हैं (कहीं कहीं अनजाना के वो कौन है गीत की याद आती है पर फिर भी कानों को बेहद सुरीला लगता है). एक और हिट चार्टबस्टर की तमाम खूबियां है इस गीत में.

ये जवानी...एल्बम एक चुटकीली पेशकश है जिसमें प्रीतम ने अपने सभी चिर परिचित रंगों के साथ साथ कुछ बेहद नए जलवे भी समेटे हैं. अमिताभ के शब्द एल्बम की जान हैं, गायकों का चुनाव भी उत्तम है. रेडियो प्लेबैक दे रहा है एल्बम को ४ की रेटिंग ५ में से.    


संगीत समीक्षा
 - सजीव सारथी
आवाज़ - अमित तिवारी
यदि आप इस समीक्षा को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ