Showing posts with label classical music. Show all posts
Showing posts with label classical music. Show all posts

Sunday, May 15, 2011

'सुर संगम' में आज - 'तूती' की शोर में गुम हुआ 'नक्कारा'

सुर संगम - 20 - संकट में है ये शुद्ध भारतीय वाध्य

प्राचीन ग्रन्थों में इसका उल्लेख 'दुन्दुभी' नाम से किया गया है| देवालयों में इस घन वाद्य का अन्य वाद्यों- शंख, घण्टा, घड़ियाल आदि के बीच प्रमुख स्थान रहा है| परन्तु मंदिरों में नक्कारा की भूमिका ताल वाद्य के रूप में नहीं, बल्कि प्रातःकाल मन्दिर के कपाट दर्शनार्थ खुलने की अथवा आरती आदि की सूचना भक्तों अथवा दर्शनार्थियों को देने के रूप में ही रही है|

'सुर संगम' के साप्ताहिक स्तम्भ में आज मैं कृष्णमोहन मिश्र, सभी संगीतप्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ| आज के अंक में हम आपके साथ एक ऐसे लोक ताल वाद्य के बारे में चर्चा करेंगे जो भारतीय ताल वाद्यों में सबसे प्राचीन है, किन्तु आज इस वाद्य के अस्तित्व पर ही संकट के बादल मंडरा रहे हैं| "नक्कारखाने में तूती की आवाज़"; दोस्तों, यह मुहावरा हम बचपन से सुनते आ रहे हैं और समय-समय पर इसका प्रयोग भी करते रहते हैं| ऐसे माहौल में जहाँ अपनी कोई सुनवाई न हो या बहुत अधिक शोर-गुल में अपनी आवाज़ दब जाए, वहाँ हम इसी मुहावरे का प्रयोग करते हैं| परन्तु ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आने वाले समय में यह मुहावरा ही अर्थहीन हो जाएगा| क्योंकि ऊँचे सुर वाला तालवाद्य नक्कारा या नगाड़ा ही नहीं बचेगा तो तूती (एक छोटे आकार का सुषिर वाद्य) की आवाज़ भला क्यों दबेगी?

'नक्कारा' अथवा 'नगाड़ा' अतिप्राचीन घन वाद्य है| प्राचीन ग्रन्थों में इसका उल्लेख 'दुन्दुभी' नाम से किया गया है| देवालयों में इस घन वाद्य का अन्य वाद्यों- शंख, घण्टा, घड़ियाल आदि के बीच प्रमुख स्थान रहा है| परन्तु मंदिरों में नक्कारा की भूमिका ताल वाद्य के रूप में नहीं, बल्कि प्रातःकाल मन्दिर के कपाट दर्शनार्थ खुलने की अथवा आरती आदि की सूचना भक्तों अथवा दर्शनार्थियों को देने के रूप में ही रही है| अधिकांश मंदिरों में यह परम्परा आज भी कायम है| मन्दिरों के अलावा नक्कारे का प्रयोग प्रचीनकाल में युद्धभूमि में भी किया जाता था| परन्तु यहाँ भी नक्कारा तालवाद्य नहीं, बल्कि सैनिकों के उत्साहवर्धन के लिए प्रयोग किया जाने वाला वाद्य ही था|

ताल वाद्य के रूप में नक्कारा अथवा नगाड़ा लोक संगीत और लोक नाट्य का अभिन्न अंग रहा है| हिमांचल प्रदेश से लेकर बिहार और राजस्थान तक के विस्तृत क्षेत्र के लोक संगीत में इस ताल वाद्य का प्रयोग किया जाता रहा है| अठारहवीं शताब्दी से उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश और राजस्थान में अत्यन्त लोकप्रिय लोकनाट्य शैली "नौटंकी" में नक्कारा का कोई विकल्प ही नहीं है| यह लोकनाट्य शैली विभिन्न क्षेत्रों में सांगीत, स्वांग, रहस, भगत आदि नामों से भी जानी जाती है| नौटंकी का कथानक पौराणिक, ऐतिहासिक अथवा लोकगाथाओं पर आधारित होते हैं| अधिकतर संवाद गेय और छन्दबद्ध होते हैं| नौटंकी के छन्द दोहा, चौबोला, दौड़, बहरेतबील, लावनी के रूप में होते हैं| आइए सुनते हैं स्वतंत्र नक्कारा वादन,
वादक हैं- राजस्थान के नक्कारा वादक नाथूलाल सोलंकी -



लोकगीतों के साथ तालवाद्य के रूप में आमतौर पर ढोलक और नक्कारा का प्रयोग होता रहा है, परन्तु अब तो लोक संगीत की मंच- प्रस्तुतियों से नक्कारा गायब हो चुका है| उसका स्थान अब 'आक्टोपैड' ने ले लिया है| गाँव के चौपालों पर और अन्य मांगलिक अवसरों पर भी 'सिंथसाइज़र' और 'आक्टोपैड' परम्परागत लोक वाद्यों का स्थान लेता जा रहा है| लोक वाद्य नक्कारा तो अब लुप्त होने के कगार पर है| 1962-63 में भोजपुरी की एक फिल्म बनी थी- 'बिदेशिया'| इस फिल्म के संगीतकार एस.एन. त्रिपाठी ने पूर्वांचल के लोक संगीत शैलियों का मौलिक प्रयोग फिल्म में किया था| इस फिल्म के एक नृत्य गीत में नक्कारे का अत्यन्त आकर्षक उपयोग किया गया है| इस गीत पर चर्चित नृत्यांगना हेलेन ने नृत्य किया है| आइए पहले इस गीत में नक्कारे का आनन्द लिया जाए-

भोजपुरी फिल्म - बिदेशिया : गीत - 'हमें दुनिया करेला बदनाम...'


लोक नाट्य 'नौटंकी' में तो नक्कारा अनिवार्य होता है| नौटंकी का ढाँचा पूरी तरह छन्दबद्ध होता है| इसीलिए ऊँचे स्वर वाला नक्कारा ही इन छन्दों के लिए अनुकूल संगति वाद्य है| आइए अब हम नौटंकी "लैला मजनू" में "नक्कारा" की संगति के कुछ अंश सुनवाते हैं| इन प्रसंगों को हमने 1966 की फिल्म "तीसरी कसम" से लिया है| गीतकार शैलेन्द्र की यह महत्वाकांक्षी फिल्म थी जिसमें संगीतकार शंकर जयकिशन ने लोकगीतों की मौलिकता को बरक़रार रखा| इसी फिल्म से पहले हम आपको नौटंकी "लैला मजनूँ" के प्रारम्भिक दोहा, चौबोला के साथ और उसके बाद इसी नौटंकी में बहरेतबील के साथ नक्कारा की संगति सुनवाते हैं| नौटंकी के इन छन्दों को अपने समय के चर्चित कव्वाली गायक शंकर-शम्भू ने अपना स्वर दिया है|

फिल्म - तीसरी कसम : नौटंकी के दोहा-चौबोला के साथ नक्कारा संगति


फिल्म - तीसरी कसम : नौटंकी के बहरेतबील के साथ नक्कारा संगति


खोज व आलेख- कृष्णमोहन मिश्र
प्रस्तुति- सुमित चक्रवर्ती



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, March 13, 2011

सुर संगम में आज - राजस्थान की आत्मा में बसा है माँगणियार लोक-संगीत

सुर संगम - 11 - राजस्थान का माँगणियार लोक-संगीत

लोकगीतों में धरती गाती है, पर्वत गाते हैं, नदियाँ गाती हैं, फसलें गाती हैं। उत्सव, मेले और अन्य अवसरों पर मधुर कंठों में लोक समूह लोकगीत गाते हैं। वैदिक ॠचाओं की तरह लोक-संगीत या लोकगीत अत्यंत प्राचीन एवं मानवीय संवेदनाओं के सहजतम स्त्रोत हैं।


सुप्रभात! सुर-संगम की ११वीं कड़ी में आप सबका अभिनंदन! आज से हम सुर-संगम में एक नया स्तंभ जोड़ रहे हैं - वह है 'लोक-संगीत'। इसके अंतर्गत हम आपको भारत के विभिन्न प्रांतों के लोक-संगीत का स्वाद चखवाएँगे। आशा करते हैं कि इस स्तंभ के प्रभाव से सुर-संगम का यह मंच एक 'आनंद-मेला' बन उठे। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने कहा था,"लोकगीतों में धरती गाती है, पर्वत गाते हैं, नदियाँ गाती हैं, फसलें गाती हैं। उत्सव, मेले और अन्य अवसरों पर मधुर कंठों में लोक समूह लोकगीत गाते हैं। वैदिक ॠचाओं की तरह लोक-संगीत या लोकगीत अत्यंत प्राचीन एवं मानवीय संवेदनाओं के सहजतम स्त्रोत हैं।" भारत में लोक-संगीत एक बहुमूल्य धरोहर रहा है। विभिन्न प्रांतों की सांस्कृतिक विविधता असीम लोक कलाओं व लोक संगीतों को जन्म देती हैं। प्रत्येक प्रांत की अपनी अलग शैली, अलग तरीका है अपनी कलात्मक विविधता को व्यक्त करने का। आज हम जिस प्रांत के लोक-संगीत की चर्चा करने जा रहे हैं, वह प्रांत अपनी इसी कलात्मक विविधता, रचनात्मक शैलियों तथा रंगारग व पारंपरिक लोक-कलाओं के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है - आप समझ ही गए होंगे कि मैं बात कर रहा हूँ सांस्कृतिक व ऐतिहासिक धरोहरों से परिपूर्ण - राजस्थान की। एक ऐसा प्रदेश जिसका नाम ज़हन में आते ही आँखों के आगे छा जाते हैं ऐतिहासिक किलों, राजा-महाराजाओं, रंग-बिरंगे कपड़ों, व्यंजनो तथा लोक-कलाओं के मनमोहक चित्र।

राजस्थान की उर्वर लोक-कला व संगीत कई परंपरागत शलियों का मिश्रण है। एक ओर जहाँ घरेलु काम-काज जैसे कुएँ से पानी भर लाने, संबंधों, धार्मिक प्रथाओं, त्योहारों, मेलों, घरेलु व सामाजिक अनुष्ठानों और राजाओं-महाराजाओं को समर्पित लोक-गीत हैं, वहीं ईश्वर को समर्पित मीराबाई और कबीर के गीत भी हैं। राजस्थान के लोग परिश्रम से भरे और रेगिस्तान की कठोर धूप में बीती दिनचर्या के बाद फ़ुरसत मिलते ही स्वयं को प्रसन्न चित्त करने के लिए लोक-संगीतों, नृत्यों व नाट्यों का सहारा लेते हैं। वहाँ के हर समुदाय, हर प्रांत का लोक-संगीत विविध है, यहाँ तक कि इनके द्वारा प्रयोग किये जाने वाले वाद्‍य भी भिन्न हैं। जहाँ सामुदायिक लोक-संगीत की बात आती है वहाँ पर राजस्थान के लाँघा, माँगणियार, मिरासी, भाट व भांड आदि समुदायों का उल्लेख करना अनिवार्य बन जाता है। माँगणियार और लाँघा मुस्लिम समुदाय हैं जो राजस्थान में भारत-पाकिस्तान सीमा से सटे बाड़मेर और जैसलमेर के रेगिस्तानों में पाए जाते हैं। इनकी एक महत्त्वपूर्ण संख्या पाकिस्तान के सिंध प्रांत के थापरकर व सांघार ज़िलों में भी आबाद हैं। ये वंशानुगत पेशेवर संगीतकारों का समूह है जिनका संगीत अमीर ज़मींदारों और अभिजातों द्वारा पीढ़ियों से प्रोत्साहित किया जाता रहा है। आइए इस वीडियो द्वारा माँगणियार लोक कलाकारों की इस प्रस्तुति का आनंद लें जो इन्होंने दी थी ' द माँगणियार सिडक्शन' नामक एक कार्यक्रम में जिसे विश्व भर के अनेक देशों में प्रस्तुत किया गया और बेहद सराहा भी गया।

द माँगणियार सिडक्शन


लाँघा व माँगणियार समुदाय के लोक कलाकार मूलतः मुस्लिम होते हुए भी अपने अधिकतम गीतों में हिंदु देवी-देवताओं की तथा हिंदु त्योहारों की बढ़ाई करते हैं और 'खमाचा' अथवा 'कमयाचा' नामक एक खास वाद्‍य के प्रयोग करते हैं जो सारंगी का ही एक प्रतिरूप है। इसे घोड़े के बालों से बने गज को इसके तारों पर फ़ेरकर बजाया जाता है। माँगणियार समुदाय में कई विख्यात कलाकार हुए हैं जिनमें से ३ विशिष्ट गायकों को 'संगीत नाटक अकादमी' पुरस्कार से सम्मनित किया गया है, वे हैं - सिद्दीक़ माँगणियार, सकर खाँ माँगणियार और लाखा खाँ माँगणियार। अब चूँकि ८ मार्च को 'विश्व महिला दिवस' मनाया गया, एक महत्त्वपूर्ण बात का मैं अवश्य उल्लेख करना चाहुँगा। वह ये कि माँगणियार समुदाय की रुकमा देवी माँगणियार अपने समुदाय की एकमात्र महिला कलाकार हैं और इन्हें वर्ष २००४ में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा 'देवी अहिल्या सम्मान' से पुरस्कृत किया जा चुका है। माँगणियार व लाँघा लोक कलाकार मुख्यतः जिन शैलियों को प्रस्तुत करते हैं उनमें 'माँड' सबसे ज़्याद प्रसिद्ध है। इस लोक-संगीत का प्रचलन शतकों पहले राजस्थान के ऐतिहासिक राज-दरबारों से हुआ माना जाता है। उस समय के लोक कलाकार राजा तेजाजी, गोगाजी तथा राजा रामदेवजी की गौरव गाथा का बख़ान करते हुए 'माँड' गाया करते थे। इस शैली का एक लोकगीत जो अत्यधिक लोकप्रिय हुआ वह है - 'केसरिया बालम आवो सा, पधारो मारे देस'। इसकी लोकप्रियता इतनी हुई कि आज यह गीत राजस्थान का प्रतीक बन गया है। यहाँ तक कि कई हिंदी फ़िल्मों में भी इसका खूब प्रयोग हुआ। तो चलिए सुनते हैं भुट्टे खाँ और भुंगेर खाँ माँगणियार द्वारा प्रस्तुत माँड - 'केसरिया बालम आवो सा, पधारो मारे देस'।

माँड - केसरिया बालम आवो सा, पधारो मारे देस


और अब बारी इस कड़ी की पहेली की जिसका आपको देना होगा जवाब तीन दिनों के अंदर इसी प्रस्तुति की टिप्पणी में। 'सुर-संगम' के ५०-वे अंक तक जिस श्रोता-पाठक के हो जायेंगे सब से ज़्यादा अंक, उन्हें मिलेगा एक ख़ास सम्मान हमारी तरफ़ से।

सुनिए इस गीत के हिस्से को और पहचानिए कि यह किस राग पर आधारित है।


पिछ्ली पहेली का परिणाम: कृष्‍णमोहन जी ने न केवल एक बार फ़िर सही उत्तर देकर ५ अंक और अर्जित किए बल्कि माँगणियार लोक-संगीत के बारे में जानकारी भई बाँटी। धन्यवाद एवं बधाई!

तो लीजिए, हम आ पहुँचे हैं 'सुर-संगम' की आज की कड़ी की समाप्ति पर। आशा है आपको यह कड़ी पसन्द आई। सच मानिए तो मुझे भी बहुत आनन्द आया इस कड़ी को लिखने में। आप अपने विचार व सुझाव हमें लिख भेजिए oig@hindyugm.com के ई-मेल पते पर। आगामी रविवार की सुबह हम पुनः उपस्थित होंगे एक नई रोचक कड़ी लेकर, तब तक के लिए अपने मित्र सुमित चक्रवर्ती को आज्ञा दीजिए, नमस्कार!

प्रस्तुति- सुमित चक्रवर्ती



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, March 6, 2011

शततंत्री वीणा से आधुनिक संतूर तक, वादियों की खामोशियों को सुरीला करता ये साज़ और निखरा पंडित शिव कुमार शर्मा के संस्पर्श से

सुर संगम - 10 - संतूर की गूँज - पंडित शिव कुमार शर्मा

इसके ऊपरी भाग पर लकड़ी के पुल से बने होते हैं जिनके दोनों ओर बने कीलों से तारों को बाँधा जाता है। संतूर को बजाने के लिए इन तारों पर लकड़ी के बने दो मुंगरों (hammers) - जिन्हें 'मेज़राब' कहा जाता है, से हल्के से मार की जाती है।


विवार की मधुर सुबह हो, सूरज की सुनहरी किरणे हल्के बादलों के बीच से धरती पर पड़ रही हों, हाथ में चाय का प्याला, बाल्कनी पर खड़े बाहर का नज़ारा ताकते हुए आप, और रेडियो पर संगीत के तार छिड़े हों जिनमें से मनमोहक स्वरलहरियाँ गूँज रही हों! सुर-संगम की ऐसी ही एक संगीतमयी सुबह में मैं सुमित आप सभी संगीत प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ| हम सभी ने कई अलग-अलग प्रकार के वाद्‍य यंत्रों की ध्वनियाँ सुनी होंगी| पर क्या आपने कभी इस बात पर ग़ौर किया है कि कुछ वाद्‍यों से निकली ध्वनि-कंपन सपाट(flat) होती है जैसे कि पियानो या वाय्लिन से निकली ध्वनि; जबकि कुछ वाद्‍यों की ध्वनि-कंपन वृत्त(round) होती है तथा अधिक गूँजती है। आज हम ऐसे ही एक शास्त्रीय वाद्‍य के बारे में चर्चा करेंगे जिसका उल्लेख वेदों में "शततंत्री वीणा" के नाम से किया गया है। जी हाँ! मैं बात कर रहा हूँ भारत के एक बेहद लोकप्रिय व प्राचीन वाद्‍य यंत्र - संतूर की। आइये, संतूर के बारे में और जानने से पहले आनंद लें पंडित शिव कुमार शर्मा द्वारा प्रस्तुत इस पहाड़ी धुन का।

संतूर पर डोगरी धुन - पं. शिव कुमार शर्मा


'संतूर' एक फ़ारसी शब्द है तथा शततंत्री वीणा को अपना यह नाम इसके फ़ारसी प्रतिरूप से ही मिला है| फ़ारसी संतूर एक विषम-चतुर्भुज (trapezoid) से आकार का वाद्‍य है जिसमें प्रायः ७२ तारें होती हैं। इसकी उत्पत्ती लगभग १८०० वर्षों से भी पूर्व ईरान में मानी जाती है परन्तु आगे जाकर यह एशिया के कई अन्य देशों में प्रचलित हुआ जिन्होंने अपनी-अपनी सभ्यता-संस्कृति के अनुसार इसके रूप में परिवर्तन किए। भारतीय संतूर फ़ारसी संतूर से कुछ ज़्यादा आयताकार (rectangular) होता है और यह आमतौर पर अखरोट की लकड़ी का बना होता है। इसके ऊपरी भाग पर लकड़ी के पुल से बने होते हैं जिनके दोनों ओर बने कीलों से तारों को बाँधा जाता है। संतूर को बजाने के लिए इन तारों पर लकड़ी के बने दो मुंगरों (hammers) - जिन्हें 'मेज़राब' कहा जाता है, से हल्के से मार की जाती है। इसे अर्धपद्मासन में बैठकर तथा गोद में रखकर बजाया जाता है। यह मूल रूप से कश्मीर का लोक वाद्‍य है जिसे सूफ़ी संगीत में इस्तेमाल किया जाता था। तो आइये देखें और सुनें कि फ़ारसी संतूर भारतीय संतूर से किस प्रकार भिन्न है - इस वीडियो के ज़रिये।

फ़ारसी संतूर


हमारे देश में जहाँ भी संतूर के बारे में चर्चा की जाती है - वहाँ एक नाम का उल्लेख करना अनिवार्य बन जाता है। आप समझ ही गये होंगे कि मेरा इशारा किन की ओर है? जी हाँ! आपने ठीक पहचाना, मैं बात कर रहा हूँ भारत के सुप्रसिद्ध संतूर वादक पंडित शिव कुमार शर्मा की। इनका जन्म १३ जनवरी १९३८ को जम्मू में हुआ तथा इनकी माता जी श्रीमती ऊमा दत्त शर्मा स्वयं एक शास्त्रीय गायिका थीं जो बनारस घराने से ताल्लुक़ रखती थीं। मात्र ५ वर्ष कि अल्पायु से ही पंडित जी ने अपने पिता से गायन व तबला वादन सीखना प्रारंभ कर दिया था। अपने एक साक्षात्कार में वे बताते हैं कि उनकी माँ का यह सपना था कि वे भारतीय शास्त्रीय संगीत को संतूर पर बजाने वाले प्रथम संगीतज्ञ बनें। इस प्रकार उन्होंने १३ वर्ष की आयु में संतूर सीखना शुरू कर दिया तथा अपनी माँ का सपना पूरा किया। बम्बई में वर्ष १९५५ में उन्होंने अपनी प्रथम सार्वजनिक प्रस्तुति दी। आज संतूर की लोकप्रियता का सर्वाधिक श्रेय पंडित जी को ही जाता है। उन्होंने संतूर को शास्त्रीय संगीत के अनुकूल बनाने के लिये इसमें कुछ परिवर्तन भी किये। जहाँ तक पुरस्कारों की बात है - पंडित शिव कुमार शर्मा को कई राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। वर्ष १९८५ में उन्हें अमरीका के बॊल्टिमोर शहर की सम्माननीय नागरिकता प्रदान की गई। इसके पश्चात्‍ वर्ष १९८६ में 'संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार', वर्ष १९९१ में 'पद्मश्री पुरस्कार' तथा वर्ष २००१ में 'पद्म विभूषण पुरस्कार' से उन्हें सम्मानित किया गया। अपने अनोखे संतूर वादन की कला-विरासत उन्होंने अपने सुपुत्र राहुल को भी अपना शिष्य बनाकर प्रदान की तथा पिता-पुत्र की इस जोड़ी ने वर्ष १९९६ से लेकर आज तक कई सार्वजनिक प्रस्तुतियाँ दी हैं। क्यों न हम भी इन दोनों की ऐसी ही एक मनमोहक प्रस्तुति का आनन्द लें इस वीडियो के माध्यम से।

पं. शिव कुमार शर्मा व राहुल शर्मा - जुगलबंदी



और अब बारी इस बार की पहेली की। 'सुर-संगम' की आगामी कड़ी से हम इसमें एक और स्तंभ जोड़ने जा रहे हैं - वह है 'लोक संगीत' जिसके अन्तर्गत हम भारत के भिन्न-भिन्न प्रांतों के लोक संगीत से आपको रू-ब-रू करवाएँगे। तो ये रहा इस अंक का सवाल जिसका आपको देना होगा जवाब तीन दिनों के अंदर इसी प्रस्तुति की टिप्पणी में। 'सुर-संगम' के ५०-वे अंक तक जिस श्रोता-पाठक के हो जायेंगे सब से ज़्यादा अंक, उन्हें मिलेगा एक ख़ास सम्मान हमारी तरफ़ से।

"इस समुदाय के गवैये-बजैये मुस्लिम होते हुए भी अपने अधिकतम गीतों में हिंदु देवी-देवताओं की तथा हिंदु त्योहारों की बढ़ाई करते हैं और 'खमाचा' नामक एक खास वाद्‍य क प्रगोग करते हैं। तो बताइए हम किस प्रांत के लोक संगीत की बात कर रहे हैं?"

पिछ्ली पहेली का परिणाम: कृष्‍णमोहन जी ने बिल्कुल सटीक उत्तर देकर ५ अंक अर्जित कर लिये हैं, बधाई!

हमारे और भी श्रोता व पाठक आने वाली कड़ियों को सुनें, पढ़ें तथा पहेलियों में भाग लें, इसी आशा के साथ, हम आ पहुँचे हैं 'सुर-संगम' की आज की कड़ी की समाप्ति पर। आपको हमारी यह प्रस्तुति कैसी लगी, इसपर अपने विचार व सुझाव हमें लिख भेजिए oig@hindyugm.com के ई-मेल पते पर। आगामि रविवार की सुबह हम पुनः उपस्थित होंगे एक नई रोचक कड़ी लेकर, तब तक के लिए अपने मित्र सुमित चक्रवर्ती को आज्ञा दीजिए, नमस्कार!

प्रस्तुति- सुमित चक्रवर्ती



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, February 20, 2011

सुर संगम में आज - बीन का लहरा और इस वाध्य से जुडी कुछ बातें

सुर संगम - 08

पुंगी या बीन के चाहे कितने भी अलग अलग नाम क्यों न हो, इस साज़ का जो गठन है, वह लगभग एक जैसा ही है। इसकी लम्बाई करीब एक से दो फ़ूट की होती है। पारम्परिक तौर पर पुंगी एक सूखी लौकी से बनाया जाता है, जिसका इस्तमाल एयर रिज़र्वर के लिए किया जाता है। इसके साथ बांस के पाइप्स लगाये जाते हैं जिन्हें जिवाला कहा जाता है।


सुप्रभात! 'सुर संगम' की आठवीं कड़ी में आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है। दोस्तों, पिछले सात अंकों में आप ने इस स्तंभ में या तो शास्त्रीय गायकों के गायन सुनें या फिर भारतीय शास्त्रीय यंत्रों का वादन, जैसे कि सितार, शहनाई, सरोद, और विचित्र वीणा। आज भी हम एक वादन ही सुनने जा रहे हैं, लेकिन यह कोई शास्त्रीय साज़ नहीं है, बल्कि इसे हम लोक साज़ कह सकते हैं, क्योंकि इसका प्रयोग लोक संगीत मे होता है, या कोई समुदाय विशेष इसका प्रयोग अपनी जीविका उपार्जन के लिए करता है। आज हम बात कर रहे हैं बीन की। जी हाँ, वही बीन, जिसे हम अक्सर सपेरों और सांपों से जोड़ते हैं। बीन पूरे भारतवर्ष में अलग अलग इलाकों में अलग अलग नामों से जाना जाता है। उत्तर और पूर्व भारत में इसे पुंगी, तुम्बी, नागासर, और सपेरा बांसुरी के नामों से पुकारा जाता है, तो दक्षिण में नागस्वरम, महुदी, पुंगी और पमबत्ती कुज़ल नाम प्रचलित है। पुंगी या बीन को सपेरे की पत्नी का दर्जा दिया जाता है और इस साज़ का विकास शुरु शुरु में लोक संगीत के लिए किया गया था।

पुंगी या बीन के चाहे कितने भी अलग अलग नाम क्यों न हो, इस साज़ का जो गठन है, वह लगभग एक जैसा ही है। इसकी लम्बाई करीब एक से दो फ़ूट की होती है। पारम्परिक तौर पर पुंगी एक सूखी लौकी से बनाया जाता है, जिसका इस्तेमाल एयर रिज़र्वर के लिए किया जाता है। इसके साथ बांस के पाइप्स लगाये जाते हैं जिन्हें जिवाला कहा जाता है। इनमें से एक पाइप मेलडी के लिए और दूसरा ड्रोन ईफ़ेक्ट के लिए है। सब से उपर एक ट्युब डाला जाता है लौकी के अंदर, जो एक बांसुरी की तरह है जिसमें सपेरा फूंक मारता है बजाने के लिए। लौकी के अंदर हवा भरता है और नीचे के हिस्से में लगे दो पाइपों से बाहर निकल जाता है। इन दोनों पाइपों में एक 'बीटिंग रीड' होता है जो ध्वनि उत्पन्न करता है। और जैसा कि बताया, एक पर मेलडी बजती है और दूसरे से ड्रोन ईफ़ेक्ट आता है। आधुनिक संस्करण में बांस के दो पाइपों के अलावा एक लम्बे मेटलिक ट्युब का इस्तमाल होता है। यह ड्रोन का भी काम करता है। पुंगी या बीन बजते वक़्त कोई पौज़ मुमकिन नहीं है। इसलिए इसे बजाने का जो सब से प्रचलित तरीका है, वह है गोलाकार तरीके से सांस लेने का, जिसे हम अंग्रेज़ी में 'सर्कुलर ब्रीदिंग' कहते हैं।

पुंगी या बीन साज़ का इस्तेमाल करने वालों में कालबेलिया सम्प्रदाय एक मुख्य नाम है। कालबेलिया जाति एक बंजारा जाति है जो प्राचीन काल से ही एक जगह से दूसरे जगह पर निरंतर घूमती रहती है। जीविका उपार्जन के लिए ये लोग सांपों को पकड़ते हैं और उनके ज़हर का व्यापार करते हैं। और शायद इसी वजह से इनका जो लोक नृत्य है और जो पोशाक है, उनमें भी सर्पों की विशेषताएँ देखी जा सकती हैं। कालबेलिया जाति को सपेरा, जोगिरा, और जोगी भी कहते हैं और इनका धर्म हिंदु है। इनके पूर्वज कांलिपार हैं, जो गुरु गोरखनाथ के १२-वें उत्तराधिकारी थे। कालबेलिया सब से ज़्यादा राजस्थान के पाली, अजमेर, चित्तौड़गढ़ और उदयपुर ज़िलों में पाये जाते हैं। कालबेलिया नृत्य इनकी संस्कृति का एक महत्वपूर्ण अंग है, जिसमें पुरुष संगीत का पक्ष संभालते हैं। और इस पक्ष को संभालने के लिए जिन साज़ों का वे सहारा लेते हैं, उनमें शामिल हैं पुंगी, डफ़ली, बीन, खंजरी, मोरचंग, खुरालिओ और ढोलक, जिनसे नर्तकियों के लिए रीदम उत्पन्न की जाती है। जैसे जैसे नृत्य आगे बढ़ता है, रिदम और तेज़ होती जाती है। इन नर्तकियों का शरीर इतना लचीला होता है कि देख कर ऐसा लगता है जैसे रबर के बनें हैं। जिस तरह से बीन बजाकर सांपों को आकर्षित और वश में किया जाता है, कालबेलिया की नर्तकियाँ भी उसी अंदाज़ में बीन और ढोलक के इर्द गिर्द लहरा कर नृत्य प्रस्तुत करती हैं। तो आइए किसी संगीत समारोह से प्राप्त एक विडिओ देखें और सुनें जिसमें वादक बीन बजा रहे हैं और साथ में ढोलक है संगत के रूप में।

बीन की धुन


बीन का इस्तमाल बहुत से हिंदी फ़िल्मी गीतों में होता आया है। और जब भी कभी सांप के विषय पर फ़िल्म बनी तो बीन के पीसेस बहुतायत में शामिल हुए। कभी हारमोनियम और क्लेविओलिन से बीन की ध्वनि उत्पन्न की गई, कभी कोई और सीन्थेसाइज़र से। क्योंकि मूल बीन बहुत ज़्यादा सुरीला या कर्णप्रिय नहीं होता है, इसलिए किसी और साज़ के इस्तमाल से बीन का ईफ़ेक्ट लाया गया है ज़्यादातर गीतों में। आइए फ़िल्म 'नगीना' का शीर्षक गीत सुनते हैं लता मंगेशकर की आवाज़ में; आनंद बक्शी के बोल और लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल का संगीत। गीत की शुरुआत में एक लम्बा पीस है बीन का, और यह पीस बहुत ज़्यादा लोकप्रिय हुई थी और आज भी अगर किसी संदर्भ में बीन के धुन की ज़रूरत पड़ती है, तो इसी पीस का सहारा लिया जाता है।

मैं तेरी दुश्मन, दुश्मन तू मेरा (नगीना)


सुर-संगम में आज बस इतना ही, अगले हफ़्ते फिर कुछ और लेकर हम हाज़िर होंगे, अनुमति दीजिये, नमस्कार!

प्रस्तुति-सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, February 13, 2011

सुर संगम में आज - बेगम अख्तर की आवाज़ में ठुमरी और दादरा का सुरूर

सुर संगम - 07

कुछ लोगों का यह सोचना है कि मॊडर्ण ज़माने में क्लासिकल म्युज़िक ख़त्म हो जाएगी; उसे कोई तवज्जु नहीं देगा, पर मैं कहती हूँ कि यह ग़लत बात है। ग़ज़ल भी क्लासिकल बेस्ड है। अगर सही ढंग से पेश किया जाये तो इसका जादू भी सर चढ़ के बोलता है।


"आप सभी को मेरा सलाम, मुझे आप से बातें करते हुए बेहद ख़ुशनसीबी महसूस हो रही है। मुझे ख़ुशी है कि मैंने ऐसे वतन में जनम लिया जहाँ पे फ़न और फ़नकार से प्यार किया जाता है, और मैंने आप सब का शुक्रिया अपनी गायकी से अदा किया है"। मलिका-ए-ग़ज़ल बेगम अख़्तर जी के इन शब्दों से, जो उन्होंने कभी विविध भारती के किसी कार्यक्रम में श्रोताओं के लिए कहे थे, आज के 'सुर-संगम' का हम आगाज़ करते हैं। बेगम अख़्तर एक ऐसा नाम है जो किसी तारुफ़ की मोहताज नहीं। उन्हें मलिका-ए-ग़ज़ल कहा जाता है, लेकिन ग़ज़ल गायकी के साथ साथ ठुमरी और दादरा में भी उन्हें उतनी ही महारथ हासिल है। ३० अक्तुबर १९७४ को वो इस दुनिया-ए-फ़ानी से किनारा तो कर लिया, लेकिन उनकी आवाज़ का जादू आज भी सर चढ़ कर बोलता है। आज के संगीत में जब चारों तरफ़ शोर-शराबे का माहौल है, ऐसे में बेगम अख्तर जैसे फ़नकारों की गाई रचनाओं को सुन कर मन को कितनी शांति, कितना सुकून मिलता है, वह केवल अच्छे संगीत-रसिक ही महसूस कर सकता है। और बेगम अख़्तर जी ने भी तो उसी कार्यक्रम में कहा था, "कुछ लोगों का यह सोचना है कि मॊडर्ण ज़माने में क्लासिकल म्युज़िक ख़त्म हो जाएगी; उसे कोई तवज्जु नहीं देगा, पर मैं कहती हूँ कि यह ग़लत बात है। ग़ज़ल भी क्लासिकल बेस्ड है। अगर सही ढंग से पेश किया जाये तो इसका जादू भी सर चढ़ के बोलता है।" दोस्तों, बेगम अख़्तर की गाई हुई एक बेहद मशहूर ग़ज़ल हम आपको थोड़ी देर में सुनवाएँगे, पहले आइए सुनते हैं एक दादरा "हमरी अटरिया प आओ सांवरिया"।

दादरा - हमरी अटरिया प आओ सांवरिया (बेगम अख़्तर)


बेगम अख़्तर का असली नाम अख़्तरीबाई फ़ैज़ाबादी है। उनका जन्म उत्तर प्रदेश के फ़ैज़ाबाद में ७ अक्तुबर १९१४ को हुआ था। उनके पिता अस्ग़र हुसैन, जो पेशे से एक वकील थे, ने मुश्तरी नामक महिला से अपनी दूसरी शादी की, लेकिन बाद में उन्हे तलाक़ दे दिया और इस तरह से मुश्तरी की दो बेटियाँ ज़ोहरा और बिब्बी (अख़्तरीबाई) भी पितृप्रेम से वंचित रह गए। पिता के अभाव को अख़्तरीबाई ने रास्ते का काँटा नहीं बनने दिया और स्वल्पायु से ही संगीत में गहरी रुचि लेने लगीं। जब वो मात्र सात वर्ष की थीं, तभी वो चंद्राबाई नामक थिएटर आर्टिस्ट के संगीत से प्रभावित हुईं। पटना के प्रसिद्ध सारंगी वादक उस्ताद इम्दाद ख़ान से उन्हें बाक़ायदा संगीत सीखने का मौका मिला; उसके बाद पटियाला के अता मोहम्मद ख़ान ने भी उन्हें संगीत की बारीकियाँ सिखाई। तत्पश्चात् अख़्तरीबाई अपनी वालिदा के साथ कलकत्ते का रुख़ किया और वहाँ जाकर संगीत के कई दिग्गजों जैसे कि मोहम्मद ख़ान, अब्दुल वाहीद ख़ान और सुताद झंडे ख़ान से संगीत की तालीम ली। १५ वर्ष की आयु में उन्होंने अपना पहला पब्लिक पर्फ़ॊमैन्स दिया। १९३४ में बिहार के भूकम्प प्रभावित लोगों की मदद के लिए आयोजित एक जल्से में उन्होंने अपना गायन प्रस्तुत किया जिसकी तारीफ़ ख़ुद सरोजिनी नायडू ने की थी। इस तारीफ़ का यह असर हुआ कि अख़्तरीबाई ने ग़ज़ल गायकी को बहुत गंभीरता से लिया और एक के बाद एक उनके गाये ग़ज़लों, दादरा और ठुमरी के रेकोर्ड्स जारी होते गए। तो क्यों न हम भी इन्हीं रेकॊर्ड्स में से एक यहाँ बजाएँ! ग़ज़ल तो हम सुन चुके हैं, आइए एक ठुमरी का आनंद लिया जाए।

ठुमरी - ना जा बलम परदेस (बेगम अख़्तर)


अख़्तरीबाई का ताल्लुख़ फ़िल्मी गीतों से भी रहा है। इस क्षेत्र में उनकी योगदान को हम फिर किसी दिन आप तक पहूँचाएँगे 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के ज़रिए, यह हमारा आप से वादा है। १९४५ में अख़्तरीबाई ने बैरिस्टर इश्तिआक़ अहमद अब्बासी से विवाह किया और वो बन गईं बेगम अख़्तर। लेकिन विवाह के बाद पति की सख़्ती की वजह से बेगम अख़्तर लगभग पाँच वर्षों के लिए गा नहीं सकीं और आख़िरकार बीमार पड़ गईं। उनकी बिगड़ती हालत को देखकर चिकित्सक ने उन्हें दोबारा गाने का सलाह दी. और इस तरह से १९४९ को बेगम अख़्तर वापस रेकॊर्डिंग् स्टुडिओ पहुँचीं और लखनऊ रेडिओ स्टेशन के लिए तीन ग़ज़लें गाईं और जल्द ही स्वस्थ हो उठीं। फिर उन्होंने स्टेज पर गाने का सिलसिला जारी रखा और आजीवन यह सिलसिला जारी रहा। उम्र के साथ साथ उनकी आवाज़ भी और ज़्यादा मचियोर और पुर-असर होती चली गई, जिसमें गहराई और ज़्यदा होती गई। अपनी ख़ास अंदाज़ में वो ग़ज़लें और उप-शास्त्रीय संगीत की रचनाएँ गाया करतीं। जो भी ग़ज़लें वो गातीं, उनकी धुनें भी वो ख़ुद ही बनातीं, जो राग प्रधान हुआ करती थी. वैसे दूसरे संगीतकारों के लिए भी गाया, और ऐसे ही एक संगीतकार थे हमारे ख़य्याम साहब जिन्हें यह सुनहरा मौका मिला बेगम साहिबा से गवाने का। सुनिए ख़य्याम साहब के शब्दों में (सौजन्य: संगीत सरिता, विविध भारती):

"जब मैं छोटा था, उस वक़्त बेगम अख़्तर जी की गायी हुई ग़ज़लें सुना करता था। तो आप समझ सकते हैं कि जब मुझे उनके लिए ग़ज़लें कम्पोज़ करने का मौका मिला तो कैस लगा होगा! एक बार वो मुझे मिलीं तो कहने लगीं कि 'ख़य्याम साहब, मैं चाहती हूँ कि आप मेरे लिए ग़ज़लें कम्पोज़ करें, मैं आपके लिए गाना चाहती हूँ। तो पहले तो मैंने उनसे कहा कि मैं क्या आपके लिए ग़ज़लें बनाऊँगा, आप ने इतने अच्छे अच्छे ग़ज़लें गायी हैं। लेकिन उन्होंने कहा कि 'नहीं, आप कम्पोज़ कीजिए, मैं ६ ग़ज़लों का एक पूरा ऐल्बम करना चाहती हूँ, आप बताइए कि जल्द से जल्द कब हम रिकोर्ड कर सकते हैं?'। मैंने कहा कि देखिए मुझे एक ग़ज़ल के लिए एक महीना चाहिए, ऐसे ६ ग़ज़लों के लिए ६ महीने लग जाएँगे। उन्होंने कहा 'ठीक है'। फिर मैंने ग़ज़लें कम्पोज़ करनी शुरु की। अब रिहर्सल का वक़्त आया, उस वक़्त उनकी उम्र भी हो गई थी, तो उनके गले से वो आवाज़, वो काम नहीं निकल के आ रहा था जैसा कि मैं चाह रहा था। लेकिन क्योंकि वो इतती बड़ी फ़नकारा हैं, मैं उनसे नहीं कह सकता था कि आप यहाँ ग़लत गा रही हैं, या आप से नहीं हो पा रहा है। लेकिन वो इतनी बड़ी कलाकार हैं कि वो इस बात को समझ गयीं कि उनसे ठीक से नहीं गाया जा रहा है। उन्होंने मुझसे कहा कि 'ख़य्याम साहब, मैं ठीक से गा नहीं पा रही हूँ'। हमने फिर मिल कर वो ग़ज़लें तैयार की, और ग़ज़लें रेकॊर्ड हो जाने के बाद बेग़म अख़्तर जी मुझसे कहने लगीं कि 'ख़य्याम साहब, आप ने मुझसे यह काम कैसे करवा लिया? मुझे तो लग ही नहीं रहा कि इतना अच्छा मैंने गाया है!' यह उनका बड़प्पन था।"

तो लीजिए दोस्तों, वादे के मुताबिक़ बेगम अख़्तर जी की आवाज़ में अब एक ऐसी ग़ज़ल की बारी जिसकी तर्ज़ ख़य्याम साहब ने ही बनाई है, "मेरे हमनफ़स मेरे हमनवा...", पेश-ए-ख़िदमत है।

ग़ज़ल: मेरे हमनफ़स मेरे हमनवा (बेगम अख़्तर)


अहमदाबाद में बेगम अख़्तर ने अपना अंतिम कॊन्सर्ट प्रस्तुत करते वक़्त उनकी तबियत ख़राब होने लगी और उन्हें उसी वक़्त अस्पताल पहुँचाया गया। ३० अक्तुबर १९७४ को ६० वर्ष की आयु में उन्होंने अपनी सहेली नीलम गमादिया की बाहों में दम तोड़ा, जिनकी निमंत्रण से ही बेगम अख़्तर अहमदाबाद आई थीं अपने जीवन का अंतिम पर्फ़ॊर्मैन्स देने के लिए। बेगम अख़्तर को लोगों का इतना प्यार मिला है कि वह प्यार आज भी क़ायम है, उनके जाने के चार दशक बाद भी उनकी गायकी के कायम आज भी करोड़ों में मौजूद हैं। पद्मश्री, संगीत नाटक अकादमी और मरणोपरांत पद्मभूषण से सम्मानित बेगम अख़्तर संगीताकाश की एक चमकता सितारा हैं जिनकी चमक युगों युगों तक बरकरार रहेगी।

तो दोस्तों, यह था आज का 'सुर-संगम', हमें आशा है आपको पसंद आया होगा। इस स्तंभ के लिए आप अपने विचार, सुझाव और आलेख हमें oig@hindyugm.com के पते पर लिख भेज सकते हैं। शाम ६:३० बजे 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के साथ हम फिर हाज़िर होंगे, तब तक के लिए इजाज़त दीजिए, नमस्कार!

प्रस्तुति-सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, February 6, 2011

सुर संगम में आज - उस्ताद हबीब ख़ान का बजाया विचित्र वीणा वादन

सुर संगम - 06

विचित्र वीणा का रेंज पाँच ऒक्टेव का होता है। सितार की तरह विचित्र वीणा भी उंगलियों में मिज़राब (plectrums) पहनकर बजाया जाता है, तथा मेलडी के लिए शीशे का एक बट्टा मुख्य तारों पर फेरा जाता है। दो नोट्स के बीच दो इंच का फ़ासला हो सकता है।


सुप्रभात! 'सुर-संगम' में आप सभी का बहुत बहुत स्वागत है। दोस्तों, हमारे देश में प्राचीण काल से जितने भी साज़ हुए हैं, उनमें से कुछ साज़ आज विलुप्त प्राय हो गये हैं, यानी कि जिनका आज इस्तमाल ना के बराबर हो गये हैं। रुद्र-वीणा और सुरशृंगार की तरह विचित्र-वीणा एक ऐसा ही साज़ है। प्राचीन काल में एकतंत्री वीणा नाम का एक साज़ हुआ करता था; विचित्र वीणा उसी साज़ का आधुनिक रूप है। इस वीणा में तीन फ़ीट लम्बा और ६ इंच चौड़ा एक डंड होता है, और दोनों तरफ़ दो तुम्बे होते हैं कद्दु के आकार के जिन्हें हम रेज़ोनेटर भी कह सकते हैं। डंड के दोनों छोर पर मोर के सर की आकृति बनी होती है। विचित्र वीणा वादक वीणा को अपने सामने ज़मीन पर रख कर अपनी उंगलियाँ तारों पर फेरता है।

विचित्र वीणा में मौजूद तारों (स्ट्रिंग्स) की बात करें तो इसमें चार मुख्य 'प्लेयिंग् स्ट्रिंग्स' होते हैं और पाँच 'सेकण्डरी स्ट्रिंग्स' होते हैं जिन्हें चिलकारी कहा जाता है, और जिन्हें छोटी उंगली से बजाया जाता है एक ड्रोन-ईफ़ेक्ट के लिए। इन तारों के नीचे १३ 'सीम्पैथेटिक स्ट्रिंग्स' होते हैं जिनका इस्तमाल किसी राग के सुरों को ट्युन करने के लिए किया जाता है। विचित्र वीणा का रेंज पाँच ऒक्टेव का होता है। सितार की तरह विचित्र वीणा भी उंगलियों में मिज़राब (plectrums) पहनकर बजाया जाता है, तथा मेलडी के लिए शीशे का एक बट्टा मुख्य तारों पर फेरा जाता है। दो नोट्स के बीच दो इंच का फ़ासला हो सकता है। बट्टे के फ़्रिक्शन को दूर करने के लिए स्ट्रिंग्स पर नारियल का तेल लगाया जाता है।

विचित्र वीणा का प्रयोग मुख्यत: ध्रुपद शैली के गायन के संगीत में किया जाता है। विचित्र वीणा बहुत ज़्यादा स्पष्ट सुर नहीं जगा पाता, इसलिए इसे एक संगत साज़ के तौर पर ही ज़्यादा इस्तमाल किया जाता है; वैसे एकल रूप में भी विचित्र वीणा बहुत से कलाकारों ने बजाया है। इस साज़ को गुमनामी से बाहर निकाला था डॊ. लालमणि मिश्र ने, जिन्होंने विचित्र वीणा पर मिश्रवाणी कम्पोज़िशन्स का निर्माण किया। उन्हीं के सुपुत्र डॊ. गोपाल शंकर मिश्र ने इस परम्परा को आगे बढ़ाया और दूर दूर तक फैलाया। विचित्र वीणा के प्रचार प्रसार में जो नाम उल्लेखनीय हैं, वो इस प्रकार हैं:

१. जेसिंहभाई, जिन्हे विचित्र वीणा के आधुनिक रूप के जन्मदाता होने का श्रेय दिया जाता है। उस समय इस साज़ को बट्टा-बीन कहा जाता था।

२. पंडित गोस्वामी गोकुलनाथ, जो बट्टा-बीन के प्राचीनतम उपासकों में से एक थे और जो पुश्टि सम्प्रदाय के बम्बई शाखा से ताल्लुख रखते थे।

३. उस्ताद जमालुद्दिन ख़ान, जो उस्ताद अब्दुल अज़ीज़ ख़ान के गुरु थे और वे ताल्लुख रखते थे जयपुर घराने से।

४. उस्ताद अब्दुल अज़ीज़ ख़ान, जो पहले बम्बई के एक सारंगी वादक थे, और विचित्र वीणा पर ख़याल और ठुमरी बजाने वाले पहले वादक थे। लाहौर के गंधर्व महाविद्यालय के वार्षिक संगीत सम्मेलन में पहली बार वादन प्रस्तुत करने के बाद उन्हें फिर कभी पीछे मुड़कर देखने की ज़रूरत नहीं पड़ी। संगत के तौर पर वो पखावज से ज़्यादा तबला पसंद करते थे। पटियाला के महाराजा के दरबार के वो संगीतज्ञ थे।

५. उस्ताद हबीब ख़ान, जो उस्ताद अब्दुल अज़ीज़ ख़ान के भाई व छात्र थे। (आज इन्हीं का बजाया हुआ विचित्र वीणा हम सुनेंगे)

कुछ और नाम हैं मोहम्मद शरीफ़ ख़ान पूँचावाले, पंडित गोपाल कृष्ण शर्मा, पंडित श्रीकृष्णन शर्मा, उस्ताद अहमद रज़ा ख़ान, पंडित गोपाल शंकर मिश्र (पंडित लालमणि मिश्र के सुपुत्र), डॊ. मुस्तफ़ा रज़ा, पंडित अजीत सिंह पंडित शिव दयाल बातिश, फ़तेह अली ख़ान, गियानी रिचिज़ी, विजय वेण्कट, पद्मजा विश्वरूप, डॊ. राधिका उम्देकर बुधकर आदि।

आइए आपको आज एक बेहद दुर्लभ रेकॊर्डिंग् सुनाते और दिखाते हैं (यू-ट्युब के सौजन्य से)। यह सन् १९३८ में रेकॊर्ड की हुई एक शॊर्ट फ़िल्म है जिसमें उस्ताद हबीब ख़ान नज़र आ रहे हैं विचित्र वीणा बजाते हुए। तबले पर उनका संगत कर रहे हैं उस्ताद अहमदजान थिरकवा। राग है सोहनी।

विचित्र वीणा वादन - उस्ताद हबीब ख़ान (१९३८)
न सिर्फ सुनिए मगर देखिये भी


आशा है इस दुर्लभ रेकॊर्डिंग को देख कर व सुन कर अच्छा लगा होगा। राग सोहनी की अब बात करते हैं। यह हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के मारवा ठाट का राग है। इसमेम पाँच स्वर लगते हैं आरोहन में और छह स्वर अवरोहन में। रिशभ (रे) कोमल है और मध्यम (मा) तीव्र है; बाकी सभी स्वर शुद्ध लगते हैं। पंचम (पा) का प्रयोग इस राग में नहीं होता है। वादी स्वर धा होता है तथा समवादी स्वर गा। यह एक उत्तरांग प्रधान राग है, जिसके ऊँचे सुर सप्तक तक पहूँचते हैं। राग सोहनी रात के आख़िरी या आठवें प्रहर में गाया जाता है, यानी कि सुबह ३ से ६ बजे के बीच। सोहनी राग मारवा और पूरिया रागों से मिलता जुलता राग है मारवा ठाट में ही, और पूर्वी ठाट के राग बसंत से भी मेल खाता है। उपलब्ध जानकारी के अनुसार इस राग का सब से पुराना रेकॊर्डिंग् अब्दुल करीम ख़ान साहब का है जो १९०५ में रेकॊर्ड हुई थी। लेकिन हम यहाँ पर सुनेंगे राग सोहनी पर आधारित फ़िल्म 'संगीत सम्राट तानसेन' का मुकेश का गाया "झूमती चली हवा याद आ गया कोई"। एस. एन. त्रिपाठी का संगीत है। इस गीत को हम 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर भी बजा चुके हैं, लेकिन ऐसे मीठे सुरीले गीतों का आनंद तो हर रोज़ ही लिया जा सकता है, है न? .

गीत: झूमती चली हवा याद आ गया कोई (संगीत सम्राट तान्सेन)


इसी के साथ 'सुर-संगम' से आज हमें इजाज़त दीजिए, शाम ६:३० बजे सुरैया जी के गाये एक बेहद सुरीले नग़मे के साथ पुन: वापस आयेंगे, बने रहिए 'आवाज़' के साथ। नमस्कार

प्रस्तुति-सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, January 30, 2011

सुर संगम में आज -भारतीय संगीताकाश का एक जगमगाता नक्षत्र अस्त हुआ -पंडित भीमसेन जोशी को आवाज़ की श्रद्धांजली

सुर संगम - 05

भारतीय संगीत की विविध विधाओं - ध्रुवपद, ख़याल, तराना, भजन, अभंग आदि प्रस्तुतियों के माध्यम से सात दशकों तक उन्होंने संगीत प्रेमियों को स्वर-सम्मोहन में बाँधे रखा. भीमसेन जोशी की खरज भरी आवाज का वैशिष्ट्य जादुई रहा है। बन्दिश को वे जिस माधुर्य के साथ बदल देते थे, वह अनुभव करने की चीज है। 'तान' को वे अपनी चेरी बनाकर अपने कंठ में नचाते रहे।


भारतीय संगीत-नभ के जगमगाते नक्षत्र, नादब्रह्म के अनन्य उपासक पण्डित भीमसेन गुरुराज जोशी का पार्थिव शरीर पञ्चतत्त्व में विलीन हो गया. अब उन्हें प्रत्यक्ष तो सुना नहीं जा सकता, हाँ, उनके स्वर सदियों तक अन्तरिक्ष में गूँजते रहेंगे. जिन्होंने पण्डित जी को प्रत्यक्ष सुना, उन्हें नादब्रह्म के प्रभाव का दिव्य अनुभव हुआ. भारतीय संगीत की विविध विधाओं - ध्रुवपद, ख़याल, तराना, भजन, अभंग आदि प्रस्तुतियों के माध्यम से सात दशकों तक उन्होंने संगीत प्रेमियों को स्वर-सम्मोहन में बाँधे रखा. भीमसेन जोशी की खरज भरी आवाज का वैशिष्ट्य जादुई रहा है। बन्दिश को वे जिस माधुर्य के साथ बदल देते थे, वह अनुभव करने की चीज है। 'तान' को वे अपनी चेरी बनाकर अपने कंठ में नचाते रहे।

सादे पहनावे, रहन-सहन और स्वभाव वाले भीमसेन जी को अपने बारे में कहने में हमेशा संकोच रहा। यह मेरा सौभाग्य ही है कि मुझे भीमसेनजी को लखनऊ, दिल्ली, ग्वालियर, आदि नगरों में आयोजित लगभग १०-१२ संगीत-सभाओं में प्रत्यक्ष सुनने का अवसर मिला. लगभग २५-२६ वर्ष पहले लखनऊ के भातखंडे संगीत महाविद्यालय (वर्तमान में विश्वविद्यालय) की ओर से तीन-दिवसीय भातखंडे जयन्ती समारोह में पण्डितजी आमंत्रित किये गए थे. संगीत सभा के उपरान्त 'अमृत प्रभात' दैनिक समाचार पत्र (उन दिनों इसी पत्र में मैं लिखा करता था) के लिए पण्डितजी का साक्षात्कार लेने का दुस्साहस कर बैठा. प्रस्तुति के तुरन्त बाद मैं डरते-डरते ग्रीन रूम की ओर भागा और भयभीत - कातर स्वर में उन्हें अपना मन्तव्य बताया. गायन के बाद, थकावट के बावजूद सहज भाव से उन्होंने कहा- 'पूछिए, क्या पूछना चाहते हैं?' एक विद्वान शस्त्रीय गायक को अपने सामने पाकर मेरी सिट्टी-पिट्टी पहले से ही गुम थी. उस हालत में मैंने पण्डितजी से क्या प्रश्न किया था, वह मुझे आज तक स्मरण नहीं. परन्तु उस प्रश्न का जादुई असर यह हुआ कि अगले दिन सुबह उन्होंने मुझे महाविद्यालय के छात्रावास परिसर (पण्डितजी वहीँ ठहरे थे) में बुला लिया. अगले दिन लगभग सवा घण्टे की बातचीत में पण्डितजी ने अपनी गायकी की विशेषताओं पर कम और अपने यायावरी अतीत पर अधिक चर्चा की. बचपन में अपने तैराकी के शौक के बारे में विस्तार से बताया, किन्तु अपनी संगीत साधना और विशेषताओं के सवाल को बड़ी सफाई से दूसरी ओर मोड़ देते थे. उस समय मुझे प्रतीत हुआ कि उन्होंने मुझ जैसे संगीत-अज्ञानी के कारण ऐसा किया. कुछ वर्ष पश्चात् ग्वालियर में पण्डितजी के एक शिष्य ने मुझे बताया कि वे आत्म-प्रचार से सदा दूर रहते हैं. उन्होंने यह भी बताया कि पण्डितजी अपनी गायकी और उपलब्धियों पर बात करने में सदैव संकोची रहे.

भीमसेनजी के विषय में अन्य सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उन्होंने बचपन में उस्ताद अब्दुल करीम खां साहब का एक रिकार्ड सुना. यह राग झिंझोटी में एक ठुमरी थी, जिसके बोल थे- 'पिया बिन नाहीं आवत चैन ....'. १९३३ में ११ वर्ष कि आयु वह घर से निकल पड़े, सदगुरु की खोज में. घर से निकल कर किशोर भीमसेन पहले बीजापुर, फिर पुणे पहुँचे. पुणे के बाद ग्वालियर गए, जहाँ महाराजा ग्वालियर द्वारा संचालित माधव संगीत विद्यालय में प्रसिद्ध सरोद वादक उस्ताद हाफ़िज़ अली खां से मिले और संगीत की बारीकियाँ सीखीं. अपनी यायावरी वृत्ति के कारण अगले तीन वर्षों तक वह दिल्ली, कोलकाता, लखनऊ, रामपुर आदि स्थानों पर भ्रमण करते रहे. अन्ततः उनके पिता ने जालन्धर में उन्हें खोज निकाला. वापस धारवाड़ लौट कर भीमसेनजी ने १९३६ से धारवाड़ के पण्डित रामचन्द्र गणेश कुन्दगोलकर (सवाई गन्धर्व) से विधिवत संगीत शिक्षा ग्रहण करना आरम्भ किया. इसी अवधि में सुप्रसिद्ध गायिका विदुषी गंगूबाई हंगल ने भी सवाई गन्धर्व से संगीत शिक्षा ग्रहण की. १९४३ में भीमसेनजी मुम्बई रेडिओ में बतौर गायक कलाकार के रूप में नियुक्त हो गए. १९४४ में कन्नड़ और हिन्दी में उनके गाये भजनों का पहला रिकार्ड HMV ने जारी किया. इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़ कर नहीं देखा. आइए आगे बढ़ने से पहले पंडितजी का गाया राग यमन-कल्याण सुना जाए।

गायन: राग यमनकल्याण (पंडित भीमसेन जोशी)


पण्डित भीमसेन जोशी ने जहाँ एक ओर अपनी विशिष्ट शैली विकसित करके किराना घराने को समृद्ध किया, वहीँ दूसरी ओर अन्य घरानों की विशिष्टताओं को भी अपने गायन में समाहित किया। उन्होंने राग कलाश्री और ललित भटियार जैसे नए रागों की रचना भी की। उन्हें खयाल गायन के साथ-साथ ठुमरी, भजन और अभंग गायन में भी महारत हासिल थी। यहाँ पर उनकी आवाज़ में इस भैरवी भजन को सुनने की तीव्र इच्छा हो रही है....

भजन: जो भजे हरि को सदा (पंडित भीमसेन जोशी)


भीमसेनजी ने कई फिल्मों में भी अपने कंठ-स्वर का योगदान किया हैI १९८४ में निर्मित, अमोल पालेकर द्वारा निर्देशित फिल्म 'अनकही' में पण्डितजी ने एक भक्तिपरक गीत गाया था- 'ठुमक ठुमक पग कुमत कुञ्ज मग, चपल चरण हरि आये ....'I इस फिल्म के संगीतकार जयदेव थे. फिल्म के इस गीत को १९८५ में राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के लिए वर्ष का सर्वश्रेष्ठ गीत (पुरुष स्वर) के रूप में पुरस्कृत किया गया थाI इससे पूर्व १९५६ में पण्डितजी ने फिल्म 'बसन्त बहार' में पार्श्व गायक मन्ना डे के साथ एक गीत गाया था- 'केतकी गुलाब जूही चम्पक वन फूले ....'. शंकर जयकिशन के संगीत निर्देशन में फिल्म के शीर्षक के अनुरूप यह गीत राग 'बसन्त बहार' पर आधारित है. इस गीत की एक रोचक कथा मन्ना डे ने दूरदर्शन के एक साक्षात्कार में बताया था. श्री डे के अनुसार जब उन्हें यह बताया गया कि यह गीत उन्हें पण्डित भीमसेन जोशी के साथ गाना और कथानक की माँग के अनुसार उन्हें पण्डितजी से बेहतर गाकर राज-दरबार की प्रशंसा अर्जित करनी है तो वह बहुत डर गए. वह बोले- 'कहाँ पण्डितजी, कहाँ मैं?' 'परन्तु रिहर्सल में उनके मार्गदर्शन के कारण ही मैं वह गाना गा सका. आइए इस गीत का हम भी यहाँ पर आनंद लें। गीतकार शैलेन्द्र की यह रचना है।

गीत: केतकी गुलाब जूही चंपक बनफूले (फ़िल्म: बसंत बहार)


आज पंडित भीमसेन जोशी हमारे बीच मौजूद नहीं। लेकिन उनकी दिव्य आवाज़ दुनिया कि फ़िज़ाओं में इस तरह से प्रतिध्वनित हो रही है कि जिसकी अनुगूंज युगों युगों तक सुनाई देती रहेगी और संगीतरसिकों को अपना अमृत पान कराती रहेगी। स्वरगीय पंडित भीमसेन जोशी को हम दे रहे हैं भीगी पलकों से अपनी भावभीनी श्रद्धांजली।

शोध और आलेख: कृष्णमोहन मिश्र, लखनऊ

प्रस्तुति-सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, January 23, 2011

सुर संगम में आज - पंडित बृज नारायण का सरोद वादन - राग श्री

सुर संगम - 04

राग श्री, एक प्राचीन उत्तर भारतीय राग है पूर्वी ठाट का। इसे भगवान शिव से जोड़ा जाता है। यह राग सिख धर्म में गाया जाता है गुरु ग्रंथ साहिब के तहत। गुरु ग्रंथ साहिब में कुल ३१ राग हैं और उसमें राग श्री सब से पहले आता है। गुरु ग्रंथ साहिब के १४ से लेकर ९४ पृष्ठों में जो कम्पोज़िशन है, वो इसी राग में है।


सुप्रभात! सुर-संगम स्तंभ के सभी पाठकों व श्रोताओं का स्वागत है आज के इस अंक में। आज इसमें हम चर्चा करेंगे सुप्रसिद्ध सरोद वादक पंडित बृज नारायण की, जिनका बजाया हुआ राग श्री आपको सुनवाएँगे। साथ ही एक ऐसी फ़िल्मी रचना भी सुनवाएँगे जिसमें पंडित जी ने सरोद बजाया है और उस गीत में सरोद का बड़ा ही प्रॊमिनेण्ट प्रयोग हुआ है। बृज नारायण सुप्रसिद्ध सारंगी वादक पंडित राम नारायण के बड़े बेटे हैं। उनका जन्म २५ अप्रैल १९५२ को राजस्थान के उदयपुर में हुआ था। वैसे तो पिता के ज़रिये वो सारंगी भी बजा लेते थे, लेकिन धीरे धीरे उनकी रुचि सरोद में हो गई। बहुत ही कम उम्र से सीखने की वजह से उन्होंने इस विधा में महारथ हासिल की और एक नामचीन सरोद वादक के रूप में जाने गये। बृज नारायण कुछ समय तक अपने चाचा चतुर लाल, जो एक प्रसिद्ध तबला नवाज़ थे, से संगीत सीखा, और फिर सरोद नवाज़ उस्ताद अली अकबर ख़ान साहब से भी उन्हें दिल्ली में सीखने का मौका मिला। लेकिन १९६५ में चतुर लाल के निधन हो जाने की वजह से वो अपने पिता के पास वापस चले गये और उनसे सीखने लगे। इसके दो साल बाद, यानी १९६७ में ही बृज नारायण ने राष्ट्रपति द्वारा पदत्त स्वर्णपदक अपने नाम कर लिया आकाशवाणी के सर्वश्रेषठ वादक प्रतियोगिता के ज़रिये। ६० के दशक के ही आख़िर में वो एक फ़िल्म के विषय भी बने, १९६९ में अपने पिता के साथ अफ़ग़ानिस्तान में एक सांस्कृतिक सम्मेलन में हिस्सा लेने गये, और भारत संगीत सभा के स्कॊलर भी बनें। १९७२ में नारायण बम्बई विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री प्राप्त की। इसी साल म्युनिक ऒलीम्पिक्स में उन्होंने अपना वादन प्रस्तुत किया। ७० और ८० के दशकों में उन्होंने अफ़्रीका, यूरोप और अमेरिका के बहुत सारे टूर किए और उनके कई ऐल्बम्स भी रेकॊर्ड हुए। तबला नवाज़ उस्ताद ज़ाकिर हुसैन के साथ भी उनका एक ऐल्बम बना है।

और अब थोड़ी बातें आज के राग की। जैसा कि हमने बताया आज हम पंडित बृज नारायण से सुनेंगे राग श्री, यह राग एक प्राचीन उत्तर भारतीय राग है पूर्वी ठाट का। इसे भगवान शिव से जोड़ा जाता है। यह राग सिख धर्म में गाया जाता है गुरु ग्रंथ साहिब के तहत। गुरु ग्रंथ साहिब में कुल ३१ राग हैं और उसमें राग श्री सब से पहले आता है। गुरु ग्रंथ साहिब के १४ से लेकर ९४ पृष्ठों में जो कम्पोज़िशन है, वो इसी राग में है। राग श्री को मुख्यत: धार्मिक अनुष्ठानों के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है और संगीत के प्राचीन लेखों में इस राग का उल्लेख हमें मिलता है। श्री एक दुर्लभ राग है और रोज़ मर्रा की ज़िंदगी में इस राग का ज़िक्र सुनने को नहीं मिलता। लेकिन उत्तरी भारत के शास्त्रीय संगीत का यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण राग है। पारम्परिक तौर पर इस राग को सूर्यास्त के समय गाया जाना चाहिए। राग श्री का मूड तेजस्वी अंदाज़ और प्रार्थना का मिश्रण है। गुरु नानक, गुरु अमर दास, गुरु राम दास और गुरु अर्जन ने इसी राग को आधार बनाकर कई शबद कम्पोज़ किये हैं। लगभग १४२ शबद इस राग पर गाये जाते हैं। यह अफ़सोस की ही बात है कि हमारे फ़िल्मी संगीतकारों ने इस राग पर गानें कम्पोज़ नहीं किए। तो लीजिए प्रस्तुत है सरोद पर पंडित बृज नारायण का बजाया राग श्री।

सरोद वादन - राग श्री - पंडित बृज नारायण


पंडित बृज नारायण ने १९७८ की फ़िल्म 'मैं तुलसी तेरे आंगन की' में सरोद बजाया था और १९८८ की फ़िल्म 'दि बेंगॊली नाइट' में संगीत भी दिया था जिसका निर्माण किया था निकोलास क्लोट्ज़ ने और जिसमें मुख्य भूमिका ह्यु ग्राण्ट ने निभाया था। फ़िल्म 'मैं तुलसी तेरे आंगन की' का जो शीर्षक गीत है लता जी की आवाज़ में, उसकी शुरुआत ही बृज नारायण के बजाये सरोद से होती है और इंटरल्युड्स में भी सरोद के ख़ूबसूरत पीसेस सुनने को मिलते हैं। आज जब हम बृज जी पर सुर संगम का यह अंक प्रस्तुत कर रहे हैं, ऐसे में इस गीत को सुनवाये बग़ैर अगर हम यह अंक समाप्त कर देंगे तो शायद यह अधूरा ही रह जायेगा। इस गीत को सुनवाने से पहले आपको बता दें कि इस फ़िल्म में संगीत है लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल का और गीतकार हैं आनंद बक्शी। जब यह फ़िल्म बन रही थी तो इसका शीर्षक 'मैं तुलसी तेरे आंगन की' फ़ाइनल हो चुका था, और संगीतकार जोड़ी एल.पी एक बहुत प्यारे धुन पर इस शीर्षक को बिठा भी चुके थे। लेकिन "मैं तुलसी तेरे आंगन की', इस शीर्षक के लिए दूसरी पंक्ति नहीं मिल रही थी। इस समस्या के निदान के लिए फ़िल्म के निर्देशक राज खोसला और एल.पी पहुँच गये आनंद बक्शी साहब के पास और उन्हें अपनी समस्या बतायी। पहली पंक्ति सुनते ही बक्शी साहब ने झट से दूसरी पंक्ति कह दी "कोई नहीं मैं तेरे साजन की"; और खोसला तथा एल.पी, चमत्कृत हो गये। तो आइए इस ख़ूबसूरत गीत को सुनते हैं, जिसमें सरोद के साथ साथ आपको शहनाई और सितार के भी सुरीली तानें सुनने को मिलेंगी। फ़िल्म में यह गीत अलग अलग भागों में आता है। तो आइए सुनते हैं राग पहाड़ी पर आधारित इस गीत को।

गीत - मैं तुलसी तेरे आंगन की


तो ये था आज का सुर-संगम जिसमें हमने आपको सरोद नवाज़ पंडित बृज नारायण का बजाया राग श्री सुनवाया, और साथ ही फ़िल्म 'मैं तुलसी तेरे आंगन की' का शीर्षक गीत भी सुनवाया जिसमें पंडित जी ने सरोद बजाया था। अगले सप्ताह फिर किसी नामचीन शास्त्रीय कलाकार के साथ हम उपस्थित होंगे, अब आज्ञा दीजिए, और शाम को ठीक ६:३० बजे वापस आइएगा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल में। नमस्कार!

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, January 16, 2011

सुर संगम में आज - उस्ताद अमीर ख़ान का गायन - राग मालकौन्स

सुर संगम - 03

उस्ताद अमीर ख़ान ने "अतिविलंबित लय" में एक प्रकार की "बढ़त" ला कर सबको चकित कर दिया था। इस बढ़त में आगे चलकर सरगम, तानें, बोल-तानें, जिनमें मेरुखण्डी अंग भी है, और आख़िर में मध्यलय या द्रुत लय, छोटा ख़याल या रुबाएदार तराना पेश किया।

जाड़ों की नर्म धूप और आंगन में लेट कर, आँखों पे खींच कर तेरे दामन के साये को, आंधे पड़े रहे, कभी करवट लिए हुए"। गुलज़ार के इन अल्फ़ाज़ों से बेहतर शायद ही कोई अल्फ़ाज़ होंगे जाड़ों की इस सुहानी सुबह के आलम का बयाँ करने के लिए। 'आवाज़' के दोस्तों, सर्दी की इस सुहाने रविवार की सुबह में मैं आप सभी का 'आवाज़' के इस साप्ताहिक स्तंभ 'सुर-संगम' में स्वागत करता हूँ। आज इस स्तंभ का तीसरा अंक है। पहले अंक में आपने उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ साहब का गायन सुना था राग गुनकली में, और दूसरे अंक में उस्ताद बिस्मिल्लाह ख़ान और उस्ताद विलायत ख़ान से शहनाई और सितार पर एक भैरवी ठुमरी। आज हम लेकर आये हैं उस्ताद अमीर ख़ान का गायन, राग है मालकौन्स।

उस्ताद अमीर ख़ान का जन्म १५ अगस्त १९१२ को इंदौर में एक संगीत परिवार में हुआ था। पिता शाहमीर ख़ान भिंडीबाज़ार घराने के सारंगी वादक थे, जो इंदौर के होलकर राजघराने में बजाया करते थे। उनके दादा, चंगे ख़ान तो बहादुर शाह ज़फ़र के दरबार में गायक थे। अमीर अली की माँ का देहान्त हो गया था जब वे केवल नौ वर्ष के थे। अमीर और उनका छोटा भाई बशीर, जो बाद में आकाशवाणी इंदौर में सारंगी वादक बने, अपने पिता से सारंगी सीखते हुए बड़े होने लगे। लेकिन जल्द ही उनके पिता ने महसूस किया कि अमीर का रुझान वादन से ज़्यादा गायन की तरफ़ है। इसलिए उन्होंने अमीर अली को ज़्यादा गायन की तालीम देने लगे। ख़ुद इस लाइन में होने की वजह से अमीर अली को सही तालीम मिलने लगी और वो अपने हुनर को पुख़्ता, और ज़्यादा पुख़्ता करते गए। अमीर ने अपने एक मामा से तबला भी सीखा। अपने पिता के सुझाव पर अमीर अली ने १९३६ में मध्यप्रदेश के रायगढ़ संस्थान में महाराज चक्रधर सिंह के पास कार्यरत हो गये, लेकिन वहाँ वे केवल एक वर्ष ही रहे। १९३७ में उनके पिता की मृत्यु हो गई। वैसे अमीर ख़ान १९३४ में ही बम्बई स्थानांतरित हो गये थे और स्टेज पर पर्फ़ॊर्म भी करने लगे थे। साथ ही साथ ६ ७८-आर.पी.एम रेकॊर्ड्स भी जारी करवाये। इसी दौरान वे कुछ वर्ष दिल्ली में और कुछ वर्ष कलकत्ते में भी रहे, लेकिन देश विभाजन के बाद स्थायी रूप से बम्बई में जा बसे।

उस्ताद अमीर ख़ान के गायकी का जहाँ तक सवाल है, उन्होंने अपनी शैली अख़्तियार की, जिसमें अब्दुल वाहिद ख़ान का विलंबित अंदाज़, रजब अली ख़ान के तान और अमन अली ख़ान के मेरुखण्ड की झलक मिलती है। इंदौर घराने के इस ख़ास शैली में आध्यात्मिक्ता, ध्रुपद और ख़याल के मिश्रण मिलते हैं। उस्ताद अमीर ख़ान ने "अतिविलंबित लय" में एक प्रकार की "बढ़त" ला कर सबको चकित कर दिया था। इस बढ़त में आगे चलकर सरगम, तानें, बोल-तानें, जिनमें मेरुखण्डी अंग भी है, और आख़िर में मध्यलय या द्रुत लय, छोटा ख़याल या रुबाएदार तराना पेश किया। उस्ताद अमीर ख़ान का यह मानना था कि किसी भी ख़याल कम्पोज़िशन में काव्य का बहुत बड़ा हाथ होता है, इस ओर उन्होंने 'सुर रंग' के नाम से कई कम्पोज़िशन्स ख़ुद लिखे हैं। अमीर ख़ान ने तराना को लोकप्रिय बनाया। झुमरा और एकताल का प्रयोग अपने गायन में करते थे, और संगत देने वाले तबला वादक से वो साधारण ठेके की ही माँग करते थे।

फ़िल्म संगीत में भी उस्ताद अमीर ख़ान का योगदान उल्लेखनीय है। 'बैजु बावरा', 'शबाब', 'झनक झनक पायल बाजे', 'रागिनी', और 'गूंज उठी शहनाई' जैसी फ़िल्मों के लिए उन्होंने अपना स्वरदान किया। बंगला फ़िल्म 'क्षुधितो पाशाण' में भी उनका गायन सुनने को मिला था। संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिये उस्ताद अमीर ख़ान को १९६७ में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार और १९७१ में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया। नियती के क्रूर हाथों ने एक सड़क दुर्घटना में ख़ाँ साहब को १३ फ़रवरी १९७४ के दिन हम से हमेशा हमेशा के लिए छीन लिया। तो आइए, उस्ताद अमीर ख़ान का गाया राग मालकौन्स सुनते हैं।

गायन: उस्ताद अमीर ख़ान (राग मालकौन्स)


राग मालकौन्स पर फ़िल्मी संगीतकारों की भी ख़ूब रुचि रही है। कुछ जाने-पहचाने गीत जो इस राग पर आधारित हैं - "अखियन संग अखियाँ लागी आज" (बड़ा आदमी), "आये सुर के पंछी आये" (सुर संगम), "ओ पवन वेग से उड़ने वाले घोड़े" (जय चित्तौड़), "दीप जलाये जो गीतों के मैंने" (कलाकार), "आधा है चंद्रमा रात आधी", "तू छुपी है कहाँ" (नवरंग), "मन तड़पत हरि दर्शन को आज" (बैजु बावरा), "पंख होती तो उड़ आती रे" (सेहरा), आदि। तो लीजिए आज इस राग पर आधारित सुनिये फ़िल्म 'सेहरा' का यही गीत। लता मंगेशकर की आवाज़, हसरत जयपुरी के बोल, और रामलाल चौधरी का अनूठा और अनोखा संगीत ही नहीं, संगीत-संयोजन भी।

गीत - पंख होती तो उड़ आती रे (सेहरा)


तो ये था, आज का 'सुर-संगम'। अगले रविवार किसी और दिग्गज शास्त्रीय फ़नकार को लेकर हम उपस्थित होंगे इस स्तंभ में। आपकी और मेरी फिर मुलाकात होगी आज शाम को ही 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में। तो बने रहिये 'आवाज़' के साथ और फ़िल्हाल मुझे अनुमति दीजिये, नमस्कार!

आप बताएं
फिल्म "दिया और तूफ़ान" एक गीत जो हमने हाल ही में ओल्ड इस गोल्ड पर सुनवाया था, इसी राग पर आधारित था...बूझिये तो ज़रा

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Sunday, January 2, 2011

सुर संगम में आज - गायन -उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ान, राग - गुनकली

सुर संगम - 01

अगर हर घर में एक बच्चे को हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत सिखाया गया होता तो इस देश का कभी भी बंटवारा नहीं होता

सुप्रभात! दोस्तों, नये साल के इस पहले रविवार की इस सुहानी सुबह में मैं, सुजॊय चटर्जी, आप सभी का 'आवाज़' पर स्वागत करता हूँ। युं तो हमारी मुलाक़ात नियमित रूप से 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर होती रहती है, लेकिन अब से मैं 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के अलावा भी हर रविवार की सुबह आपसे मुख़ातिब हो‍ऊँगा इस नये स्तंभ में जिसकी हम आज से शुरुआत कर रहे हैं। दोस्तों, प्राचीनतम संगीत की अगर हम बात करें तो वो है हमारा शास्त्रीय संगीत, जिसका उल्लेख हमें वेदों में मिलता है। चार वेदों में सामवेद में संगीत का व्यापक वर्णन मिलता है। सामवेद ऋगवेद से निकला है और उसके जो श्लोक हैं उन्हे सामगान के रूप में गाया जाता था। फिर उससे 'जाती' बनी और फिर आगे चलकर 'राग' बनें। ऐसी मान्यता है कि ये अलग अलग राग हमारे अलग अलग 'चक्र' (उर्जाबिंदू) को प्रभावित करते हैं। ये अलग अलग राग आधार बनें शास्त्रीय संगीत का और युगों युगों से इस देश के सुरसाधक इस परम्परा को निरंतर आगे बढ़ाते चले जा रहे हैं, हमारी संस्कृति को सहेजते हुए बढ़े जा रहे हैं। संगीत की तमाम धाराओं में सब से महत्वपूर्ण धारा है शास्त्रीय संगीत। बाकी जितनी भी तरह का संगीत है, उन सब से उपर है शास्त्रीय संगीत, और तभी तो संगीत की शिक्षा का अर्थ ही है शास्त्रीय संगीत की शिक्षा। अक्सर साक्षात्कारों में कलाकार इस बात का ज़िक्र करते हैं कि एक अच्छा गायक या संगीतकार बनने के लिए शास्त्रीय संगीत का सीखना बेहद ज़रूरी है। तो दोस्तों, आज से 'आवाज़' पर पहली बार एक ऐसा साप्ताहिक स्तंभ शुरु हो रहा है जो समर्पित है शुद्ध शास्त्रीय संगीत को। गायन और वादन, यानी साज़ और आवाज़, दोनों को ही बारी बारी से इसमें शामिल किया जाएगा। भारतीय शास्त्रीय संगीत से इस स्तंभ की हम शुरुआत कर रहे हैं, लेकिन आगे चलकर दूसरे देशों के शास्त्रीय संगीत और साज़ों को भी शामिल करने की उम्मीद रखते हैं। तो लीजिए प्रस्तुत है 'आवाज़' का नया साप्ताहिक स्तंभ - 'सुर संगम'।

'सुर संगम' के इस पहले अंक को हम समर्पित कर रहे हैं शास्त्रीय गायन के सशक्त स्तंभ उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ साहब को। उनसे हम आज की कड़ी में सुनेंगे राग गुनकली। इस राग पर हम अभी आते हैं, उससे पहले आइए ख़ाँ साहब के बारे में आपको कुछ दिलचस्प जानकारियाँ दी जाए! बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ साहब का जन्म सन् १९०२ को पराधीन भारत के पंजाब के कसूर में हुआ था जो अब पाक़िस्तान में है। उनके पिता अली बक्श ख़ान पश्चिम पंजाब प्रोविन्स के एक संगीत परिवार से ताल्लुख़ रखते थे और ख़ुद भी एक जाने माने गायक थे। बड़े ग़ुलाम अली जब ७ वर्ष के थे, तभी उन्होंने सारंगी वादन और गायन सीखना शुरु किया अपने चाचा काले ख़ान साहब से, जो एक गायक थे। काले ख़ाँ साहब के निधन के बाद बड़े ग़ुलाम अली अपने पिता से संगीत सीखते रहे। बड़े ग़ुलाम अली ने अपना करीयर बतौर सारंगी वादक शुरु किया और कलकत्ता में आयोजित अपने पहले ही कॊन्सर्ट में उन्होंने लोकप्रियता हासिल कर ली। ख़ाँ साहब ने चार धाराओं - पटियाला-कसूर, ध्रुपद के बहराम ख़ानी तत्व, जयपुर घराने की हरकतें और ग्वालियर घराने के बहलावे का मिश्रण कर एक नई परम्परा की शुरुआत की। उनके गले की मिठास, गायकी का अंदाज़, हरकतें, सबकुछ मिलकर उन्हें शीर्ष स्थान पर बिठा दिया। सन् ४७ में बटवारे के बाद वो पाक़िस्तान चले गए, लेकिन बाद में भारत वापस आ गए और आजीवन यहीं पर रहे। ख़ाँ साहब ने बटवारे को कभी स्वीकार नहीं किया, उनके अनुसार, "अगर हर घर में एक बच्चे को हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत सिखाया गया होता तो इस देश का कभी भी बंटवारा नहीं होता"। कितनी बड़ी बात उन्होंने कही थी!

आज उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ साहब की आवाज़ में हम आपको सुनवा रहे हैं राग गुनकली। यह एक प्रात:कालीन राग है जो ६ से ९ बजे के बीच गाया जाता है, ठाट है भैरव। स्वरों की जहाँ तक बात है, इस राग में गंधार और निशाद का प्रयोग नहीं होता, रिशभ और धैवत कोमल होते हैं। बाकी के सभी स्वर शुद्ध है। हर राग से किसी ना किसी मूड का रिश्ता होता है, गुनकली का रिश्ता है दर्द, ख़ालीपन और सूनेपन से। लीजिए उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ साहब से सुनिए यह राग, उसके बाद इसी राग पर आधारित एक फ़िल्मी गीत भी हम सुनेंगे।

राग गुनकली (उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ाँ)


फ़िल्मी गीतों का जहाँ तक सवाल है, बहुत ही कम गीतों में राग गुनकली का इस्तेमाल हमारे संगीतकारों ने किया है। कुछ गीतों की तरफ़ आपका ध्यान आकर्षित करते हैं। पंकज मल्लिक का गाया "ये कौन आज आया सवेरे सवेरे" (नर्तकी), परवीन सुल्ताना का गाया "बिछुरत मोसे कान्हा" (विजेयता) और लता-किशोर के युगल स्वरों में फ़िल्म 'महबूबा' का लोकप्रिय गीत "पर्बत के पीछे चम्बे दा गाँव" जैसे गानें इसी राग पर आधारित है। तो इनमें से लीजिए फ़िल्म 'महबूबा' का गीत आज यहाँ सुनिए। आनंद बक्शी के बोल, राहुल देव बर्मन का संगीत।

गीत - पर्बत के पीछे चम्बे दा गाँव (महबूबा)


तो दोस्तों, यह था 'सुर संगम' स्तंभ का पहला अंक। अगले रविवार फिर किसी कलाकार और फिर किसी राग के साथ हम हाज़िर होंगे, यह अंक आपको कैसा लगा ज़रूर बताइएगा टिप्पणी में। चाहें तो oig@hindyugm.com पर भी आप मुझसे सम्पर्क कर सकते हैं। तो अब इजाज़त दीजिए, मस्ती के मूड में सण्डे बिताइए, और शाम को ज़रूर वापस पधारिएगा 'आवाज़' पर क्योंकि आज शाम से 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर शुरु हो रही है एक नई लघु शृंखला। तो मिलते हैं शाम ६:३० बजे। तब तक के लिए नमस्कार!

आप बताएं
फिल्म "गूँज उठी शहनाई" में भी रफ़ी साहब का गाया एक गीत है इस राग पर आधारित, क्या याद है आपको ?

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



आवाज़ की कोशिश है कि हम इस माध्यम से न सिर्फ नए कलाकारों को एक विश्वव्यापी मंच प्रदान करें बल्कि संगीत की हर विधा पर जानकारियों को समेटें और सहेजें ताकि आज की पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी हमारे संगीत धरोहरों के बारे में अधिक जान पायें. "ओल्ड इस गोल्ड" के जरिये फिल्म संगीत और "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" के माध्यम से गैर फ़िल्मी संगीत की दुनिया से जानकारियाँ बटोरने के बाद अब शास्त्रीय संगीत के कुछ सूक्ष्म पक्षों को एक तार में पिरोने की एक कोशिश है शृंखला "सुर संगम". होस्ट हैं एक बार फिर आपके प्रिय सुजॉय जी.

Wednesday, July 29, 2009

लोग उन्हें "गाने वाली" कहकर चिढ़ाते थे, धीरे धीरे ये उनका उपनाम हो गया....

दुनिया में कुछ ही लोग ऐसे होते हैं जो अपनी अमिट छाप छोड़ जाते हैं, जिनके जाने के बाद भी उनकी मधुर स्मृतियाँ हमें प्रेरित करती हैं. सपने देखने और उन्हें पूरा करने का हौसला देती हैं. इसी श्रेणी में एक नाम और दर्ज हुआ है, वो है शास्त्रीय संगीत की मल्लिका गंगूबाई का. गीता में कहा है कि 'शरीर मरता है आत्मा नही'. गंगूबाई शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं. आज वो नहीं रहीं लेकिन उनकी संगीत शैली आत्मा के रुप में हमारे बीच विराजमान है.

यूँ तो आज गंगूबाई संगीत के शिखर पर विराजित थीं लेकिन उस शिखर तक पहुँचने का रास्ता उन्होंने बहुत ही कठिनाईयों से तय किया था. गंगूबाई का जन्म १९१३ में धारवाड़ में हुआ था. देवदासी कुल में जन्म लेने वाली गंगूबाई ने छुटपन से संगीत की शिक्षा लेनी शुरु कर दी थी. अक्सर उन्हें जातीय टिप्पणी का सामना करना पड़ता और उनकी गायन कला को लेकर लोग मजाक बनाया करते थे. उस समय गायन को अच्छा नहीं माना जाता था, इसलिए लोग उन्हें 'गाने वाली' कहकर चिढ़ाते थे. धीरे-धीरे यह उनका उपनाम हो गया.

गंगूबाई कर्नाटक के दूरस्थ इलाके हंगल में रहती थीं. इसी से उनकी पहचान बनी और उनके नाम के साथ गाँव का नाम हंगल जुड़ गया. गंगूबाई हंगल की माँ कर्नाटक शैली की गायिका थीं लेकिन गंगूबाई ने हिन्दुस्तानी शैली का गायन सीखने का फैसला किया. अपने गुरु सवाई गंधर्व से हिन्दुस्तानी शास्त्रीय गायन सीखने के लिये गंगूबाई कुडगोल जाया करती थीं. गंगूबाई ने कई बाधाओं को पार कर शास्त्रीय संगीत को एक मुकाम तक पहुँचाया. गंगूबाई ने गुरु-शिष्य परम्परा को बरकरार रखा. उन्होंने अपने गुरु सवाई गंधर्व की शिक्षाओं के बारे में एक बार कहा था कि -'मेरे गुरु जी ने मुझे सिखाया है कि जिस तरह एक कंजूस अपने पैसों के साथ व्यवहार करता है उसी तरह सुर का इस्तेमाल करो ताकि श्रोता राग की हर बारीकी को समझ सके'.

गंगूबाई ने भारत रत्न से सम्मानित पंडित भीमसेन जोशी जी के साथ संगीत शिक्षा ली थी. किराना घराने की परम्परा को बरकरार रखने वाली गंगूबाई ने कभी भी इससे जुड़ी शैली की शुद्धता के साथ समझौता नहीं किया. गंगूबाई को 'भैरव, असावरी, तोड़ी, भीमपलासी, पुरिया, धनश्री, मारवा, केदार और चन्द्रकौंस' रागों की गायिकी के लिये अधिक सम्मान मिला. उनका कहना था कि 'मैं रागों को धीरे-धीरे आगे बढ़ाने की हिमायती हूँ, इससे श्रोता की उत्सुकता बनी रहती है और उसमें अगले चरण को जानने की इच्छा बढ़ती है'. एक बार फ़िल्म मेकर विजया मूले से बात करते हुए गंगूबाई ने कहा था कि 'पुरुष संगीतकार अगर मुसलमान हो तो उस्ताद कहलाने लगता है, हिन्दु हो तो पंडित हो जाता है, लेकिन केसरबाई, हीराबाई और मो्गाबाई जैसी गायिकायें बाई ही रह जाती हैं उनके व्यक्तित्व में जीवन से और स्त्री होने से मिले दुखों की झलक साफ नजर आती थी. उनकी आवाज में दर्द था लेकिन उसे भी उन्होंने मधुरता से सजाया. ईश्वर के प्रति श्रद्धा होने के कारण गंगूबाई ने भक्ति संगीत को भी नई ऊँचाईयों तक पहुँचाया.

गंगूबाई एक महान गायिका थीं. उन्हें पद्म विभूषण, तानसेन पुरुस्कार, संगीत नृत्य अकादमी पुरुस्कार और संगीत नाटक अकादमी जैसे पुरुस्कारों से नवाजा गया. गंगूबाई हंगल ने हर तरह का वक्त देखा था. गंगूबाई को नौ प्रधानमंत्रियों और पाँच राष्ट्रपतियों द्वार सम्मान प्राप्त हुआ जो अपने आप में एक उपलब्धि है. उन्होंने भारत में दो सौ से अधिक स्कूलों मे भारतीय शास्त्रीय संगीत को बढ़ावा देने के लिये कार्यक्रम किये साथ ही देश के बाहर भी भारतीय शास्त्रीय संगीत को पहुँचाया.

यह सच है कि पद्म भूषण गंगूबाई हंगल नहीं रहीं लेकिन उनकी आँखे आज भी दुनिया देखेंगी. गंगूबाई हंगल अपनी आँखे दान कर गयीं हैं. कहते हैं कि एक श्रेष्ठ व्यक्ति कभी नहीं मरता है उसकी उपस्थिति उसके अनगिनत महान कार्यों से दुनिया में रहती है. गंगूबाई हंगल भी अपने संगीत और आँखों द्वारा इस दुनिया में रहेंगी. गंगूबाई हंगल एक ऐसी गायिका थीं जिन्होने अपने शास्त्रीय गायन में कभी कोई मिलावट नहीं की. उन्होंने अपना रास्ता खुद बनाया. ऐसी महान शास्त्रीय गायिका को हम श्रद्धाजंली देते हैं और सुनते हैं उनकी आवाज़ में आज राग दुर्गा, प्ले का बटन दबाईये, ऑंखें बंद कीजिये और महसूस कीजिये आवाज़ के इस तिलस्मी अहसास को-



आलेख - दीपाली तिवारी "दिशा"

Wednesday, March 11, 2009

खेलें मसाने में होरी दिगम्बर खेलें मसाने में होरी

लोकगायक छन्नूलाल मिश्रा की आवाज़ में 'होली के रंग टेसू के फूल' एल्बम के सभी गीत

होली त्योहार के साहित्य में होली का सबसे अधिक जिक्र बृजभाषा के साहित्य में मिलता है। मेरे दीमाग में यह बात थी कि इस होली पर श्रोताओं को कुछ ओरिजनल सुनाया जाय। होली की वहीं खुश्बू बिखराई जाये जो बृज गये बिना महसूस कर पाना बहुत मुश्किल है। लेकिन लोकगायक पंडित छन्नूलाल मिश्रा अपनी बेमिसाल गायकी से यह काम आसान कर देते हैं।

पिछले महीने जब मैं पश्चिम बंगाल, झारखण्ड औरे उत्तर प्रदेश की यात्रा पर था तो संयोग से बनारस जाना हुआ। विश्वप्रसिद्द शास्त्रीय गायक छन्नूलाल वहीं निवासते हैं। सोचा कि उनका इंटरव्यू लेता चलूँ और साथ ही साथ उन्हीं की आवाज़ में एक होरी-गीत की जीवंत रिकॉर्डिंग भी कर लूँ। लेकिन फिर सोचा कि पहले अपने श्रोताओं को छन्नूलाल मिश्रा से परिचय तो कराऊँ, साक्षात्कार तो कभी भी ले लूँगा। उसी दिन तय कर लिया था कि छन्नूलाल के प्रसिद्ध एल्बम 'होली के रंग टेसू के फूल' के गीत पहले श्रोताओं को सुनावाउँगा।

दोस्तो, ३ अगस्त १९३६ को उ॰ प्र॰ के आजमगढ़ जनपद के हरिहरपुर गाँव में जन्में छन्नूलाल मिश्रा भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रसिद्ध घराने 'किराना घराना' के विशेष रूप से ख्याल गायन और पूरब-अंग (ठुमरी) के कलाकार के तौर पर जाने जाते हैं। इनके दादा पंडित शांता प्रसाद (गुदाई महाराज) ए चर्चित तबलावादक थे। छन्नूलाल बिहार के तबलावादक अनोखेलाल जी महाराज के दामाद हैं। शुरूआत में इन्होंने अपने पिता पंडित बद्री प्रसाद मिश्रा से ही संगीत की शिक्षा लेनी आरम्भ की, जो कि किराना घराने के उस्ताद अब्दुल ग़नी ख़ान तक ज़ारी रही। बहुत बाद में ये ठाकुर जयदेव सिंह के भी शागिर्द रहे।

आज ये अपनी बनारसी गायकी और पंजाब गायकी के लिये लोगों में पहचाने जाते हैं। (विशेषतौर पर ख्याल, दादरा, ठुमरी, चैती, कजरी, होरी और भजन)।

आज हम इनकी गायकी की उन्हीं विविधरंगों में होरी का रंग लेकर आये हैं। 'होली के रंग टेसू के फूल' एल्बम का गीत 'खेलें मसाने में होरी दिगम्बर' इनका चर्चित होरी गीत है, जिसका लाइव कंसर्ट संस्करण हम आपको सुनवा रहे हैं।
(यह गीत एल्बम के गीत से थोड़ा सा अलग है)



'होली के रंग टेसू के फूल' एल्बम के सारे गीत यहाँ से सुनें और लोकधुनों की बयार में खुद को भुला दें।



जल्द ही छन्नूलाल जी से एक भेंटवार्ता भी सुनवाउँगा।

इससे आगे>>>>'ओल्ड इज गोल्ड' शृंखला के तहत सुजॉय-सजीव की होली विशेष प्रस्तुति सुनना न भूलें

Album: Holi Ke Rang Tesu Ke Phool, Composer & Singer: Pandit Channulal Mishra
Tracks:
01 - Aaye Khelan Hori
02 - Holi Khelat Nandkumar
03 - Rang Darungi Darungi Rang Darungi
04 - Barjori Karo Na Mose Hori Mein
05 - Holi Ke Din Dekho Aayee Re
06 - Kanhaiya Ghar Chalo Guiya
07 - Girdharilal Chhar Mori Bahiyaan
08 - Khalayn Masanay Mayn Hori Digamber

Wednesday, August 27, 2008

दर्द को सुरीलेपन की पराकाष्ठा पर ले जाने वाले अमर गायक मुकेश

आज सुबह आपने पढ़ा हृदयनाथ मंगेशकर का संस्मरण 'वो जाने वाले हो सके तो॰॰॰॰' आज हम पूरे दिन मुकेश को याद कर रहे हैं, उनके गाये गीत सुनवाकर, उनसी जुड़ी यादें बाँटकर॰॰॰॰आगे पढ़िए तपन शर्मा 'चिंतक' की प्रस्तुति 'मैं तो दीवाना, दीवाना, दीवाना'


मुकेश के साथ कल्याण जी
चित्र साभार- हमाराफोटोज
वे परिश्रम से कभी गुरेज़ नहीं करते थे. कितनी ही बार री-टेक करो,उन्हें नाराज़ी नहीं होती.कितनी ही बार रिहर्सल के लिये कॉल करो वे तैयार..बस अभी आया.उन्हें अपने परफ़ॉरमेंस से जल्द सेटिसफ़ेक्शन नहीं होता था. बता रहे थे ख्यात संगीतकार जोड़ी कल्याणजी-आनंदजी के स्व.कल्याणजी भाई. नब्बे के दशक में जब वे लता पुरस्कार लेने इन्दौर आए तो दो दिन का डेरा था मेरे शहर. आयोजन का एंकर होने की वजह से हमेशा से कलाकारों का संगसाथ आसानी से मिलता रहा है सो कल्याणजी भाई से लम्बी बात करने का मौक़ा भी मिल ही गया. एक दिन उनके संगीत सफ़र की चर्चा होती रही, दूसरे दिन गायक-गायिकाओं पर. जब मुकेशजी पर बात आई तो कल्याणजी भाई भावुक हो उठे. मुकेशजी के घर में गुजराती परिवेश भी रहा क्योंकि पत्नी सरल गुजराती थीं (अभी इसी साल सरलबेन का देहांत हुआ है) कल्याणजी भाई बोले हम गुजराती में ही बतियाते और ख़ूब ठहाके लगाते . बहुत हँसमुख थे मुकेश भाई लेकिन जब दर्द भरे गीत की पंक्तियाँ गाने लगते तो सारे आलम का दर्द अपने गायन में उड़ेल देते.

फ़िल्म हिमालय की गोद में का गीत था "मैं तो एक ख़्वाब हूँ..." की रिहर्सल लगभग पूर्णता की ओर आ गई थी. कल्याणजी भाई ने बताया हम लगभग संतुष्ट थे, लेकिन ये लगभग मुकेशजी मेरे और आनंदजी के चेहरे पर पढ़ लिया था. बोले कुछ कमी लग रही है क्या . हमने कहा हाँ गीत का स्टार्ट और बेहतर हो सकता था. मुकेशजी ने कहा तो भाई बताओ न क्या चाहते हो. कल्याणजी ने कहा आप ऐसा स्टार्ट लीजिये जैसे आप मोहम्मद रफ़ी हैं.मुकेशजी ने कहा ऐसा बोलो न .. रिकॉर्डिंग शुरू हुई और क्या लाजवाब गीत बना है याद कीजिये आप. बात यहीं ख़त्म नहीं हो जाती. गाना पूरा होने के बाद मुकेशजी ने रफ़ी साहब को फ़ोन किया रफ़ी भाई मैंने आपका कुछ चुरा लिया. रफ़ी साहब हैरान कहने लगे मैंने एक गीत में आपके स्टाइल में आमद ली है. रफ़ी साहब और मुकेशजी देर तब फ़ोन पर बतियाते रहे. बात बड़ी सादी है, लेकिन सादा तबियत और नेक इंसान मुकेशजी की महानता देखिये कि अपने समकालीन गायक का थोड़ा सा अंदाज़ भी फ़ॉलो किया तो उसे जताया,यहाँ आजकल पूरी की पूरी धुन चुराई जा रही है और फ़िर भी शर्म नहीं है किसी को.

शास्त्रीय संगीत के पेचोख़म से दूर रहने वाले गायक थे मुकेश. एक सुर पर लम्बा टिकना उनके लिये मुमकिन नहीं होता था क्योंकि हर वॉइस कल्चर की अपनी लिमिटेशन तो होती ही है लेकिन मुकेश अपनी इस मर्यादा से ख़ूब वाकिफ़ थे. उन्होनें बंधे हुए मीटर में रहते हुए भावप्रणवता और इमोशन्स पर अपना ध्यान रखा . जब नौशाद साहब के साथ मेला और अंदाज़ के गीत गाए तो आप महसूस करेंगे कि मुकेश जी ने अपने ऊपर चढ़ी सहगल अंदाज़ की केंचुली निकाल फ़ेंकी और पूरे फ़ार्म में आ गए.

मेरा मानना है कि मुकेश सर्वहारा के गायक थे.शर्तिया कह सकता हूँ कि आप-हमसब कम से कम मुकेशजी के गीत तो गुनगुनाते ही हैं. आप नोटिस लीजियेगा कि पारिवारिक अंताक्षरी में जब भी पुराने गीत गुनगुनाए जाते हैं, उसमें मुकेश का रंग गाढ़ा ही नज़र आता है. उनके गीतों की संख्या कम है लेकिन लोकप्रियता के लिहाज़ से मुकेश आज भी सर्वश्रेष्ठ कहे जा सकते हैं.

एक ख़ास बात मुकेश स्मृति-दिवस पर यह बात विशेष रूप से कहना चाहूँगा कि भारतीय रजत-पट के शो-मेन राजकपूर को जन-जन में पहुँचाने में मुकेश का गायन एक महत्वपूर्ण कड़ी है और इसके महत्व को कभी ख़ारिज न किया जा सकेगा.

इस बात का ज़िक्र बहुत कम होता है लेकिन यहाँ ज़रूर करूंगा. फ़िल्म संगीत के लिये जो कुछ मुकेशजी ने किया वह तो अदभुत है ही लेकिन फ़िल्मों से अलहदा श्री रामचरितमानस की पाँच घंटे की ध्वनि-मुद्रिका संचयन मुकेशजी का एक अनोखा कारनामा है भारतीय संस्कृति के लिये.

मुकेश जी की आवाज़ में कसक,दर्द,करूणा,हास्य,आशा-निराशा और श्रंगार रस की अभिव्यक्ति सहजता से उभरती थी लेकिन दर्द में तो वे बेमिसाल थे.वे इंसानियत के तक़ाज़ों की दृष्टि से भी विलक्षण थे.अभी पिछले दिनों उनके पुत्र नितिन से आत्मीय मुलाक़ात हुई तब उन्होने विनम्रता से बताया कि पापा अच्छाइयों का सूर्य थे .उनकी गायकी से मिली छाया से जितना कर पाया कम है लेकिन मैं संतुष्ट हूँ.क्या अगले जन्म में मुकेश बनना चाहेंगे आप, मैने नितिन भाई से पूछा था.तो भावुक होकर बोले मुकेशजी जैसे इंसान दुनिया में दोबारा नहीं आते.मैं अगले जन्म में भी उनका बेटा ही बनना चाहूँगा.

इसमें कोई शक नहीं कि नौशाद,शंकर-जयकिशन, कल्याणजी-आनंदजी,सलिल चौधरी,सचिनदेव बर्मन,रोशन,ह्सरत जयपुरी,शैलेंद्र,साहिर और इंदीवर के गीतों और संगीत को निर्वेवाद रूप से अनमोल कहा जा सकता है लेकिन इन रचनाओं को अमरत्व प्रदान करने काम तो मुकेश ने ही किया यह भी अकाट्य सत्य है.

जीवन का आना-जाना चलता रहेगा. संसार की गति थमने का नाम नहीं लेगी.फूल-पत्तियाँ खिलते रहेंगे,आवाज़े आतीं रहेंगी और संगीत बजता रहेगा लेकिन मुकेश जैसे कोमल स्वर की कमी कभी पूरी न हो सकेगी. संगीतप्रेमी मन हमेशा कहता रहेगा...

ये घाट,तू ये बाट कभी भूल न जाना
ओ जाने वाले, हो सके तो लौट के आना

सुनिए लोक-संगीत से रचा-बसा बम्बई का बाबू फिल्म का एक गीत 'चल री सजनी, अब क्या सोचे?'





पढ़िए हृदयनाथ मंगेशकर का संस्मरण 'ओ जाने वाले हो सके तो॰॰॰'

ओ जाने वाले हो सके तो ....

हृदयनाथ मंगेशकर द्वारा लिखित संस्मरण

हजारों गाने गानेवाले मुकेश दा के आखिरी शब्‍द थे – ‘यह पट्टा खोल दो’

खुशमिज़ाज मुकेश
तीस हजार फुट की ऊँचाई पर हमारा जहाज उड़ा जा रहा है। रूई के गुच्‍छों जैसे अनगिनत सफेद बादल चारों ओर छाए हुए हुए हैं। ऊपर फीके नीले रंग का आसमान है। इन बादलों और नीले आकाश से बनी गुलाबी क्षितिज रेखा दूर तक चली गई है। कभी-कभी कोई बड़ा सा बादल का टुकड़ा यों सामने आ जाता है, माने कोई मजबूत किला हो। हवाई जहाज की कर्कश आवाज को अपने कानों में झेलते हुए मैं उदास मन से भगवान की इस लीला को देख रहा हूँ।

अभी कल-परसों ही जिस व्‍यक्ति के साथ ताश खेलते हुए और अपने अगले कार्यक्रमों की रूपरेखा बनाते हुए हमने विमान में सफर किया था, उसी अपने अतिप्रिय, आदरणीय मुकश दा का निर्जीव, चेतनाहीन, जड़ शरीर विमान के निचले भाग में रखकर हम लौट रहे हैं। उनकी याद में भर-भर आनेवाली ऑंखों को छिपाकर हम उनके पुत्र नितिन मुकेश को धीरज देते हुए भारत की ओर बढ़ रहे हैं।

आज 29 अगस्‍त है। आज से ठीक एक महीना एक दिन पहले मुकेश दा यात्री बनकर विमान में बैठे थे। आज उसी देश को, जिसमें पिछले 25 वर्षों का एक दिन, एक घण्‍टा, एक क्षण भी ऐसा नहीं गुजरा था कि जब हवा में मुकश दा का स्‍वर न गूंज रहा हो; जिसमें एक भी व्‍यक्ति ऐसा नहीं था, जिसने मुकेश दा का स्‍वर सुनकर गर्दन न‍ हिला दी हो; जिसमें एक भी ऐसा दुखी जीव नहीं था, जिसने मुकेश दा की दर्द-भरी आवाज में अपने दुखों की छाया न देखी हो। सर्वसाधारण के लिए दुख शाप हो सकता, पर कलाकार के लिए वह वरदान होता है।

अनुभूति के यज्ञ में अपने जीवन की समिधा देकर अग्नि को अधिकाधिक प्रज्‍वलित करके उसमें जलती हुई अपनी जीवनानुभूतियों और संवेदनाओं को सुरों की माला में पिरोते-पिरोते मुकेश दा दुखों की देन का रहस्‍य जान गये थे। यह दान उन्‍हें बहुत पहले मिल चुका था।

उस दिन 1 अगस्‍त था वेंकुवर के एलिजाबेथ सभागृह में कार्यक्रम की पूरी तैयारियॉं हो चुकी थीं। मुकश दा मटमैले रंग की पैंट, सफेद कमीज, गुलाबी टाई और नीला कोट पहनकर आए थे। समयानुकूल रंगढंग की पोशाकों में सजे-धजे लोगों के बीच मुकेश दा के कपड़े अजीब-से लग रहे थे। पर ईश्‍वर द्वारा दिए गए सुन्‍दर रूप और मन के प्रतिबिम्‍ब में वे कपड़े भी उनपर फब रहे थे। ढाई-तीन हजार श्रोताओं से सभागृह भर गया। ध्‍वनि-परीक्षण करने के बाद मैं ऊपर के ‘साउंड बूथ’ में ‘मिक्‍सर चैनल’ हाथ में संभाले हुए कार्यक्रम के प्रारम्‍भ होने की प्रतीक्षा कर रहा था। मुकेश दा के ‘माइक’ का ‘स्‍विच’ मेरे पास था। इतने में मुकेश दा मंच पर आए। तालियों की गड़गड़ाहट से सारा हाल गुंज उठा। मुकश दा ने बोलना प्रारम्‍भ किया तो ‘भाइयो और बहनो’ कहते ही इतनी सारी तालियाँ पिटीं की मुझे हाल के सारे माइक बंद कर देने पड़े।

मुकश दा अपना नाम पुकारे जाने पर सदैव पिछले विंग से निकलकर धीरे-धीर मंच पर आते थे। वे जरा झुककर चलते थे। माइक के सामने आकर उसे अपनी ऊँचाई के अनुसार ठीक कर तालियों की गड़गड़ाहट रूकने का इंतजार करते थे। फिर एक बार ‘राम-राम, भाई-बहनों’ का उच्‍चारण करते थे। कोई भी कार्यक्रम क्‍यों न हो, उनका यह क्रम कभी नहीं बदला।

उस दिन मुकश दा मंच पर आए और बोले, “राम-राम, भाई-बाहनों आज मुझे जो काम सौंपा गया है, वह कोई मुश्किल काम नहीं है। मुझे लता की पहचान आपसे करानी है। लता मुझसे उम्र में छोटी है और कद में भी; पर उसकी कला हिमालय से भी ऊँची है। उसकी पहचान मैं आपसे क्‍या कराऊँ! आइए, हम सब खूब जोर से तालियॉं बजाकर उसका स्‍वागत करें! लता मंगेशकर ....’’

तालियों की तेज आवाज के बीच दीदी मंच पर पहुँचीं। मुकेश दा ने उसे पास खींच लिया। सिर पर हाथ रखकर उसे आशीर्वाद दिया और घूमकर वापस अन्‍दर चले गए। मंच से कोई भय नहीं, कोई संकोच नहीं, बनावट तो बि‍ल्‍कुल भी नहीं। सबकुछ बिल्‍कुल स्‍वाभाविक और शांत।

दीदी के पाँच गाने पूरे होने पर मुकेश दा फिर मंच पर आए। एक बार फिर माइक ऊपर-नीचे किया और हारमोनियम संभाला। जरा-सा खंखार कर, कुछ फुसफुसाकर (शायद ‘राम-राम कहा होगा) कहना शुरू किया, “मैं भी कितना ढीठ आदमी हूँ। इतना बड़ा कलाकार अभी-अभी यहाँ आकर गया है और उसके बाद मैं यहाँ गाने के लिए आ खड़ा हुआ हूँ। भाइयो और बहनो, कुछ गलती हो जाए तो माफ करना।’’

मुकेश दा के शब्‍दों को सुनकर मेरा जी भर आया। एक कलाकार दूसरे का कितना सम्‍मान करता है, इसका यह एक उदाहरण है। मुकेश दा के निश्‍छल और बढ़िया स्‍वभाव से हम सब मंत्रमुग्‍ध-से हो गये थे कि माइक पर सुर उठा – “जाने कहॉँ गये वो दिन ....”

गीत की इस पहली पंक्ति पर ही बहुत देर तक तालियाँ बजती रहीं। और फिर सुरों में से शब्‍द और शब्‍दों में से सुरों की धारा बह निकली। लग रहा था कि मुकश दा गा नहीं रहे हैं, वे श्रोताओं से बातें कर रहे हैं। सारा हॉल शांत था गाना पूरा हुआ। पर तालियाँ नहीं बजीं। मुकेश दा ने सीधा हाथ उठाया (यह उनकी आदत थी) और अचानक तालियों की गड़गड़ाहट बज उठी। तालियों के उसी शोर में मुकेश दा ने अगला गाना शुरू कर दिया – ‘डम-डम डिगा-डिगा’ और इस बार तालियों के साथ श्रोताओं के पैरों ने ताल देना शुरू कर दिया था।

यह गाना पूरा हुआ तो मुकेश दा अपनी डायरी के पन्‍ने उलटने लगे। एक मिनट, दो मिनट, पर मुकेश दा को कोई गाना भाया ही नहीं। लोगों में फुसफुसाहट होने लगी। अन्‍त में मुकेश दा ने डायरी का पीछा छोड़ दिया और मन से ही गाना शुरू कर दिया-‘दिल जलता है तो जलने दे’ यह मुकेश दा का तीस वर्ष पुराना सबसे पहला गना था। मैं सोचने लगा कि क्‍या इतना पुराना गाना लोगों को पसन्‍द आएगा! मन-ही-मन मैं मुकेश दा पर नाराज होने लगा। ऐसे महत्‍वपूर्ण कार्यक्रम के लिए उन्‍होंने पहले से गानों का चुनाव क्‍यों नहीं कर लिया था।

मैंने ‘बूथ’ से ही बैकस्‍टेज के लिए फोन मिलाया और मुकेश दा के पुत्र नितिन को बुलाकर कहा, “अगले कार्यक्रम के लिए गाना चुनकर तैयार रखो।’’

नितिन ने जवाब दिया, “यह नहीं हो सकता। यह पापा की आदत है।’’

गाना खत्‍म होते ही हॉल में ‘वंस मोर’ की आवाजें आने लगीं। मेरा अंदाज बिल्‍कुल गलत साबित हुआ था। मैंने झट से नितिन को दुबारा फोन मिलाया और कहा, “मैंने जो कुछ कहा था, मुकेश दा को पता न चले।’’ तभी दीदी मंच पर पहुँच गई और दो गीतों की शुरूआत हो गई। ‘सावन का महीना’, ‘कभी-कभी मेरे दिल में’, ‘दिल तड़प-तड़प के’ आदि एक के बाद एक गानों का तांता लगा रहा। फिर आखिरी दो गानों का प्रारम्‍भ हुआ – ‘आ जा रे, अब मेरा दिल पुकारा’।

इस गाने का पहला स्‍वर उठते ही मैं 1950 में जा पहुंचा। दिल्‍ली के लालकिले के मैदान में एक लाख लोग मौजूद थे ठण्‍ड का मौसम था। तरूण, सुन्‍दर मुकेश दा बाल संवारे हुए स्‍वेटर पर सूट डाले, मफलर बाँधे बाएँ हाथ से हारमोनियम बजा रहे थे और मैं दीदी के साथ गा रहा था, ‘आजा रे ...’ मेरे जीवन का वह दूसरा या तीसरा गाना था। मुकेश दा ने जबरदस्‍ती मुझे गाने को बिठा दिया था और खुद हारमोनियम बजाने लगे थे। मैं घबराना गया और कुछ भी गलत-सलत गाने लगता था। मुकेश दा मुझे सांत्‍वना देते जाते और मेरा साथ देने लग जाते। मुझे उनका यह तरूण सुन्‍दर रूप याद आने लगा, जिसे 26 वर्षों के कटु अनुभवों के बाद भी उनहोंने कायम रखा था। पर उनकी आवाज में एक नया जादू चढ़ गया था।

मिलवाकी से हम वाशिंगटन की ओर चले। हम सबों के हाथ सामानों से भरे थे। हवाई अड्डा दूर, और दूर होता जा रहा था। मैं थक गया था और रूक-रूककर चल रहा था। तभी किसी ने पीछे से मेरे हाथ से बैग ले लिया। मैंने दचककर पीछे देखा तो मुकेश दा। मैंने उन्‍हें बहुत समझाया, पर उन्‍होंने एक न सुनी। विमान में हम पास-पास बैठे। वे बोले, ‘अब खाना निकालो’। (हम दोनों ही शाकाहारी थे)। मैंने उन्हें चिवड़ा और लड्डू दिए और वे खाने लगे। तभी मैंने कहा, ‘मुकेश दा, कल के कार्यक्रम में आपकी आवाज अच्‍छी नहीं थी। लगता है, आपको जुकाम हो गया है!’

उन्‍होंने सिर हिलाया। बोले, ‘मैं दवा ले रहा हूँ। पर सर्दी कम होती ही नहीं है, इसलिए आवाज में जरा-सी खराश आ गई है’। फिर विषय बदलकर उन्‍होंने मुझसे ताश निकालने को कहा। करीब-करीब एक घंटे तक हम दोनों ताश खेलते रहे। खेल के बीच में उन्‍होंने मुझसे कहा ‘गाते समय जब मेरी आवाज ऊँची उठती है तब तू ‘फेडर’ को नीचे कर दिया कर, क्‍योंकि सर्दी के कारण ऊपर के स्‍वरों को संभालना जरा कठिन पड़ता है। फिर रमी के ‘प्‍वाइन्‍ट’ लिखने के लिए उन्‍होंने जेब से पेन निकाला। उसे मेरे सामने रखते हुए बोले, ‘बाल, यह क्रास पेन है। जब से मैंने क्रास पेन से लिखना शुरू किया है, दूसरा कोई पेना भाता ही नहीं है। तुम भी क्रास पेन खरीद लो’। और वाशिंगटन में उन्‍होंने आग्रह करके मुझे एक क्रास पेन खरीदवा ही दिया।

अनहोनी, जो होनी बन गई!

उसी शाम भारतीय राजदूत के यहाँ हमारी पार्टी थी। देश-विदेश के लोग आए हुए थे। मुकेश दा अपनी रोज की पोशाक में इधर-उधर घूम रहे थे। तभी किसी ने सुझाया कि गाना होना चाहिए। उस जगह तबला, हारमोनियम कुछ भी नहीं था, पर सबों के आग्रह पर मुकेश दा खड़े हो गए और जरा-सा स्‍वर संभालकर गाने लगे – ‘आँसू भरी है ये जीवन की राहें...’ वाद्यों की संगत न होने के कारण उनकी आवाज के बारीक-बारीक रेशे भी स्‍पष्‍ट सुनाई दे रहे थे। सहगल से काफी मिलती हुई उनकी वह सरल आवाज भावनाओं से ऐसी भरी हुई थी कि मैं उसे कभी भुला न पाऊँगा।

रात को मैंने टोका, ‘आपको पार्टी के लिए बुलाया था, गाने के लिए नहीं। किसी ने कहा और आप गाने लगे!’ वे हंसकर बाले, ‘यहाँ कौन बार-बार आता है! अब पता नहीं यहाँ फिर कभी आ पाऊँगा या नहीं!’

मुकेश दा ! आपका कहना सच ही था। वाशिंगटन से ये लोग आपके अंतिम दर्शनों के लिए न्‍यूयार्क आए थे और उस पार्टी की याद कर करके आँसू बहा रहे थे।

बोस्‍टन में मुकेश दा की आवाज बहुत खराब हो गई थी। एक गाना पूरा होते ही मैंने ऊपर से फोन किया और दीदी से कहा, ‘मुकेश दा को मत गाने देना। उनकी आवाज बहुत खराब हो रही है’।
दीदी बोलीं, ‘फिर इतना बड़ा कार्यक्रम पूरा कैसे होगा?’
मैंने सुझाया, ‘नितिन को गाने के लिए कहो’।

दीदी मान गईं। मंच पर आईं और श्राताओं से बोलीं, ‘आज मैं आपके सामने एक नया मुकेश पेश कर रही हूँ। यह नया मुकेश मेरे साथ आपका मनपसंन्‍द गाना ‘कभी-कभी मेरे दिल में...’ गाएगा।‘

लोग अनमने से हो फुसफुस करने लगे थे। तभी नितिन मंच पर पहुँचा। देखने में बिल्‍कुल मुकेश दा जैसा। उसने दीदी के पाँव छुए और गाना शुरू किया – कभी-कभी मेरे दिल में... ‘ नितिन की आवाज में कच्‍चापन था। पर सुरों की फेंक, शब्‍दोच्‍चार बिल्‍कुल पिता जैसे थे। गाना खतम होते ही ‘वंस मोर’ की आवाजें उठने लगीं। लोग नितिन को छोड़ने को तैयार ही नहीं थे। ‘विंग’ में बैठे मुकेश दा का चेहरा आनन्‍द से चमक उठा।

‘ऐंबुलेंस’ में उन्‍होंने केवल एक वाक्‍य बोला –यह पट्टा खोल दो’ (वह ह्वील चेयर का पट्टा था) फिर वे कुछ नहीं बोले। हजारों गाने गानेवाले मुकेश दा के वे आखिरी शब्‍द थे – ‘यह पट्टा खोल दो’।

कौन-सा पट्टा? कौन-सा बंधन? ह्वील चेयर का पट्टा या जीवन का बंधन? मुकेश दा को बाँधे हुए चमड़े का पट्टा या चैतन्‍य को बाँधे हुए जड़त्‍व का पट्टा? कहीं उनके कहने का आशय यही तो नहीं था!
फिर वे मंच पर आए और हारमोनियम पर हाथ रख दिया। बाप-बेटे ने मिलकर ‘जाने कहाँ गए वे दिन’ गाया। उसके बाद के सारे गाने नितिन ने ही गाए। मुकेश दा ने हारमोनियम पर साथ दिया।

अगले दिन वे मुझेसे बोले,'अब मेरे सर पर से एक और बोझ उतर गया। नितिन की चिन्‍ता मुझे नहीं रही। अब मैं मरने के लिए तैयार हूँ’।

मैने कहा, ‘अपना गाना गाए बिना आपको मरने कैसे दूँगा। पन्‍द्रह वर्ष पूर्व आपने मेरे गाने की रिहर्सल तो की थी, पर गाया नहीं था। गाना मुझे ही पड़ा था’। (वह गाना था – ‘त्‍या फुलांच्‍या गंध कोषी’)

वे हंसकर बोले, ‘मेरे कोई नया गाना तैयार कराओ। मैं जरूर गाऊँगा।
अगले दिन हम टोरन्‍टो से डेट्रायट जाने के लिए रेलगाड़ी पर सवार हुए। हमारा एनाउंसर हमें छोड़ने आया था। मुकेश दा ने उससे पूछा, ‘क्‍यों मियॉँ साहेब, आप नहीं आ रहे हमारे साथ!”

उसने जवाब दिया, मैं तो आपको छोड़ने आया हूँ।’

मुकेश दा हँसे, अरे, आप क्‍या हमें छोड़ेंगे!
हम आपको ऐसा छोड़ेंगे कि फिर कभी नहीं मिलेंगे’। मियाँ का दिल भर आया। बोला, ‘नहीं-नहीं। ऐसी अशुभ बात मुंह से मत निकालिए’।

मुकेश दा हंसे। ‘राम-राम’ कहते हुए गाड़ी में चढ़कर मेरे पास आ बैठे। ताश निकालकर हम ‘रमी’ खेलने लगे। वे तीन डॉलर हार गए। मुझे पैसे देते हुए बोले, आज रात को फिर खेलेंगे। मैं तुमसे ये तीनों डॉलर वापस जीत लूँगा’।

और सचमुच ही डेट्रायट (अमरीका) में उन्‍होंने मुझे अपने कमरे में बुला लिया और मैं, अरूण, रवि उनके साथ रात साढ़े ग्‍यारह बजे तक ‘रमी’ खेलते रहे। इस बार मुकेश दा छह डॉलर हार गए। हमने उनकी खूब मजाक उड़ाई। मुझसे बोले, ‘आज कुल मिलाकर मैं नौ डॉलर हार गया हूँ। मगर कल रात को तुमसे सब वसूल कर लूँगा।

पर ‘कल की रात’ उनकी आयु में नहीं लिखी थी। मुझे कल्‍पना भी नहीं थी कि ‘कल की रात’ मुझे मुकेश दा के निर्जीव शरीर के पास बैठकर काटनी पड़ेगी।

झूठे बंधन तोड़ के सारे .....

अपने पुत्र नितिन मुकेश के साथ
वह दिन ही अशुभ था। एक मित्र को जल्‍दी भारत लौटना था, इसलिए उसके टिकट की भागदौड़ में ही दोपहर के तीन बज गए। टिकट नहीं मिला सो अलग। साढ़े चार बजे हम होटल लौटे। मैं, दीदी और अनिल मोहिले शाम के कार्यक्रम की रूपरेखा बनाने लगे। हम सब भूखे थे, इसलिए चाय और सैण्‍डविच मंगा ली गई थी। तभी मुकेश दा का फोन आया कि हारमोनियम ऊपर भिजवा दो। (उनका कमरा बीसवीं मंजिल पर था और हमारा सोलहवीं पर)। मैंने हारमोनियम भेज दिया। कार्यक्रम की चर्चा पूरी करने के बाद मैंने अनिल मोहिले से कहा, ‘चाय पीने के बाद म्‍यूजीसियंश को तैयार करके ठीक छह बजे मंच पर पहुंच जाना’। तभी चाय आ गई। मैं चाय तैयार कर ही रहा था कि ऊपर आओ। उसकी आवाज सुनते ही मैं भागा। अपने कमरे में मुकेश दा लुंगी और बनियान पहने हुए पलंग के पीछे हाथ टिकाए बैठे थे। मैंने नितिन से पूछा, “क्‍या हुआ?”

उसने बताया, ‘पापा ने कुछ देर गाया। फिर उन्‍होंने चाय मंगाई। पीकर वे बाथरूम गए। बाथरूम से आने के बाद उन्‍हें गर्मी लगने लगी और पसीना आने लगा। इसलिए मैंने आपको बुला लिया। मुझे कुछ डर लग रहा है’।

मैं सोचने लगा-पसीना आ जाने भर से ही यह लड़का डर गया है। कमाल है। फिर मैंने मुकेश दा से कहा, ‘आप लेट जाइए’।

वे एकदम बोल पड़े, ‘अरे तुम अभी तक एक नहीं? मैं लेटूँगा नहीं। लेटने से मुझे तकलीफ होती है। तुम स्‍टेज पर जाओ। मैं इंजेक्शन लेकर पीछे-पीछे आता हूँ। लता को कुछ मत बताना। वह घबरा जाएगी।

‘अच्‍छा,’ कहकर मैंने उनकी पीठ पर हाथ रख और झटके से हटा लिया। मेरा हाथ पसीने से भीग गया था। इतना पसीना, माने नहाकर उठे हों। तभी डॉक्‍टर आ गया। ऑक्‍सीजन की व्‍यवस्‍था की गई। मैंने मुकेश से पूछा, ‘आपको दर्द हो रहा है’?

उन्‍होंने सिर हिलाकर ‘न’ कहा। फिर उन्‍हें ‘ह्वील चेयर’ पर बिठाकर नीचे लाया गया। ऑक्‍सीजन लगा हुआ था, फिर भी लिफ्ट में उन्‍हें तकलीफ ज्‍यादा होने लगी, ‘ह्वील चेयर’ को ही ‘ऐंबुलेंस’ पर चढ़ा दिया गया। यह सब बीस मिनट में हो गया।

‘ऐंबुलेंस’ में उन्‍होंने केवल एक वाक्‍य बोला –यह पट्टा खोल दो’ (वह ह्वील चेयर का पट्टा था) फिर वे कुछ नहीं बोले। हजारों गाने गानेवाले मुकेश दा के वे आखिरी शब्‍द थे – ‘यह पट्टा खोल दो’।

कौन-सा पट्टा? कौन-सा बंधन? ह्वील चेयर का पट्टा या जीवन का बंधन? मुकेश दा को बाँधे हुए चमड़े का पट्टा या चैतन्‍य को बाँधे हुए जड़त्‍व का पट्टा? कहीं उनके कहने का आशय यही तो नहीं था!

‘एमरजेन्‍सी वार्ड’ में पहुंचने से पूर्व उन्‍होंने केवल एक बार आँखे खोलीं, हंसे और बेटे की तरफ हाथ उठाया। डॉक्‍टर ने वार्ड का दरवाजा बंद कर लिया। आधे घंटे बाद दरवाजा खुला। डॉक्‍टर बाहर आया ओर उसने मेरे कंधे पर हाथ रख दिया। उसके स्‍पर्श ने मुझसे सबकुछ कह दिया था।

विशाल सभागृह खचाखच भरा हुआ है। मंच सजा हुआ है। सभी वादक कलाकार साज मिलाकर तैयार बैठे हुए हैं। इंतजार है कि कब मैं आऊँ, माइक ‘टेस्‍ट’ करूँ और कार्यक्रम शुरू हो। मैं मंच पर गया। सदैव की भाँति रंगभूमि को नमस्‍कार किया। माइक हाथ में लिया और बोला "भाइयो और बहनो, कार्यक्रम प्रारंभ होने में देर हो रही है, पर उसके लिए आज मैं आपसे क्षमा नहीं माँगूँगा। आज मैं किसी से कुछ नहीं माँगूँगा। केवल उससे बारम्‍बार एक ही माँग है – ‘ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना ...’

धर्मयुग से साभार
रूपांतर- भारती मंगेशकर
प्रस्तुति- शैलेश भारतवासी
प्रस्तुति सहयोग- सतेन्द्र झा
चित्र साभार- हमाराफोटोजडॉटकॉम(यह संस्मरण विश्व हिन्दी न्यास की त्रैमासिक पत्रिका 'हिन्दी-जगत' में भी प्रकाशित किया गया है)


इस अवसर पर हमने इस संस्मरण में उल्लेखित सभी गीतों को सुनवाने का प्रबंध किया है।


ओ जाने वाले हो सके तो॰॰
Oh Jaane Waale Ho Sake To
आ जा रे, अब मेरा दिल पुकारा॰॰
Aa Ja Re, Ab Mera Dil Pukara
आँसू भरी है ये जीवन की राहें॰॰
Aanso Bhari Hai, Ye Jeevan Ki Rahen
दिल जलता है तो जलने दे॰॰
Dil Jalta Hai To Jalane De
दिल तड़प-तड़प के दे रहा है ये सदा॰॰
Dil Tadap-Tadap Ke De Raha Hai Ye Sada
डम-डम डिगा-डिगा॰॰
जाने कहाँ गये वो दिन॰॰
Jane Kahan Gaye Woh Din
सावन का महीना॰॰
Sawan Ka Mahina
कभी-कभी मेरे दिल में॰॰
Kabhi-Kabhi Mere Dil Mein



आज अमर गायक मुकेश की ३२वीं बरसी पर हम पूरे दिन मुकेश की यादें आपसे बांट रहे हैं। पढ़िए संगीत समीक्षक संजय पटेल का "दर्द को सुरीलेपन की पराकाष्ठा पर ले जाने वाले अमर गायक मुकेश", इसी पोस्ट में आप बम्बई का बाबू का गीत 'चल री सजनी! अब क्या सोचें॰॰॰' भी सुन पायेंगे। और साथ ही पढ़िए तपन शर्मा चिंतक की प्रस्तुति "मैं तो दीवाना, दीवाना-दीवाना"। तो पूरे दिन बने रहिए आवाज़ के संगी.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ