Showing posts with label prashn pratiyogita. Show all posts
Showing posts with label prashn pratiyogita. Show all posts

Friday, October 2, 2009

ये खेल होगा नहीं दुबारा...बड़ी हीं मासूमियत से समझा रहे हैं "निदा" और "जगजीत सिंह"

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #५०

हफ़िल-ए-गज़ल की जब हमने शुरूआत की थी, तब हमने सोचा भी नहीं था कि गज़लों का यह सफ़र ५०वीं कड़ी तक पहुँचेगा। लेकिन देखिए, देखते हीं देखते वह मुकाम भी हमने हासिल कर लिया। यह आप सबके प्यार और हौसला-आफ़ज़ाई के कारण हीं मुमकिन हो पाया है, नहीं तो हर बार कुछ नया लाना इतना आसान नहीं होता। उम्मीद है कि हम आपकी उम्मीदों पर खड़े उतर रहे हैं। हर बार आपके लिए कुछ नया लाने में हमारा भी बड़ा फ़ायदा है। न जाने ऐसे कितने नगीने हैं जो मिट्टी-तले दबे रहते हैं और उनका हक़ बनता है कि हम उन्हें जानें, पहचानें और हमारा भी हक़ बनता है कि हम उन नगीनों से नावाकिफ़ नहीं रहें। बस इसी फ़ायदे के लिए हम हर बार आपके सामने आते रहते हैं। आपने जिस तरह हमारा आज तक साथ दिया है, बस यही इल्तज़ा है कि आगे भी साथ बने रहिएगा। इसी दुआ के साथ पिछली कड़ी के अंकों का खुलासा करते हैं। तो हिसाब कुछ यूँ बनता है: सीमा जी: ४ अंक, शामिख जी: २ अंक और शरद जी: १ अंक। अब बारी है आज के प्रश्नों की| ये रहे प्रतियोगिता के नियम और उसके आगे दो प्रश्न: हम आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब आज के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। इन सवालों का सबसे पहले सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। पिछली नौ कड़ियों और आज की कड़ी को मिलाकर जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) गानों में सरगम तकनीक का इस्तेमाल करने वाले एक फ़नकार जिसे टाईम मैगजीन ने २००६ में "एशियन हीरोज़" की फ़ेहरिश्त में शुमार किया था। उस फ़नकार के नाम के साथ यह भी बताएँ कि हमने उनकी जो गज़ल सुनाई थी उसे वास्तव में किस रिकार्ड लेबल के लिए रिकार्ड किया गया था?
२) उस फ़नकारा का नाम बताएँ जो हिंदी के प्रख्यात समीक्षक की पौत्री और एक क्रिकेट कमेंटेटर की पुत्री हैं और जिनका संगीत की सभी विधिओं पर एकसमान अधिकार है। साथ हीं यह भी बताएँ कि हमने उस कड़ी में जिस समारोह की बातें की थी उस समारोह की शुरूआत का श्रेय किसे दिया जाता है?

महफ़िल-ए-गज़ल की स्वर्ण जयंती पर पेश है यह बोनस प्रश्न जिसका उत्तर देकर आप एक बार में ५ अंकों की बढोतरी ले सकते हैं। ध्यान रखिएगा कि जो भी इस प्रश्न का सबसे पहले सही उत्तर देगा बस उसी को ये अंक मिलेंगे यानि कि अंक बंटेंगे नहीं।

३) ४०-५० के दशक की जानीमानी संगीतकार-जोड़ी जिनके बड़े भाई की संगीतबद्ध एक गज़ल हमने आपको सुनवाई थी। उस कड़ी में हमने उस फ़नकार की भी बातें की थी जो महज़ १४ साल की उम्र में ५ जून १९४२ को सुपूर्द-ए-खाक हो गया। उन सबका नाम बताएँ जिनका ज़िक्र इस प्रश्न में आया है।


तुम्हारी कब्र पर मैं
फ़ातेहा पढ़ने नही आया,

मुझे मालूम था, तुम मर नही सकते
तुम्हारी मौत की सच्ची खबर
जिसने उड़ाई थी, वो झूठा था,
वो तुम कब थे?
कोई सूखा हुआ पत्ता, हवा मे गिर के टूटा था।

मेरी आँखे
तुम्हारी मंज़रो मे कैद है अब तक
मैं जो भी देखता हूँ, सोचता हूँ
वो, वही है
जो तुम्हारी नेक-नामी और बद-नामी की दुनिया थी।

कहीं कुछ भी नहीं बदला,
तुम्हारे हाथ मेरी उंगलियों में सांस लेते हैं,
मैं लिखने के लिये जब भी कागज कलम उठाता हूं,
तुम्हे बैठा हुआ मैं अपनी कुर्सी में पाता हूं|

बदन में मेरे जितना भी लहू है,
वो तुम्हारी लगजिशों नाकामियों के साथ बहता है,
मेरी आवाज में छुपकर तुम्हारा जेहन रहता है,
मेरी बीमारियों में तुम मेरी लाचारियों में तुम|

तुम्हारी कब्र पर जिसने तुम्हारा नाम लिखा है,
वो झूठा है, वो झूठा है, वो झूठा है,
तुम्हारी कब्र में मैं दफन तुम मुझमें जिन्दा हो,
कभी फुरसत मिले तो फातहा पढनें चले आना|

आज हम जिस शायर की नज़्म सुनने और सुनाने जा रहे हैं, ये पंक्तियाँ उन्होंने हीं लिखी थी और वो भी अपने अब्बा की मौत पर। किसी कारणवश वे अपने अब्बा की मैय्यत में शरीक़ नहीं हो पाए थे। अब्बा उनके दिल के कितने करीब थे, यह तो नहीं पता, लेकिन इतना पता है कि जो किसी अपने की मौत में अपनी मौत को देख लेता है, उससे फिर कोई भी भावना अछूती नहीं रह जाती। वह शायर वह सबकुछ लिख सकता है, जिसे लिखने में बाकी लोग कतराते हैं। वही शायर जब बच्चों की मार्फ़त यह कहता है तो बवाल खड़े हो जाते हैं:

बच्चा बोला देख के मस्जिद आलीशान
मालिक तेरे एक को इतना बड़ा मकान।

वह शायर,जिसे लोग "निदा फ़ाज़ली" कहते हैं और जिसका असल नाम "मुक़तदा हसन" है, हिन्दुस्तानियों के लिए "बर्तोल्त ब्रेख्त" हो जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि ब्रेख्त हिटलर के समकालीन थे। हिटलर ने जब बहुत से तत्कालीन लेखकों की किताबों को अपने खिलाफ पाकर बैन किया तो पता नहीं कैसे ब्रेख्त की किताब छूट गई। ब्रेख्त ने हिटलर को खत लिखा और कहा कि मैं भी आपके बहुत खिलाफ हूँ, मेरी भी किताबें आप बैन कीजिए, वरना इतिहास यही समझेगा कि मैं या तो आपके पक्ष में था या इतना महत्वपूर्ण नहीं था कि आप मेरी किताबें बैन करें। अपने विचारों, अपनी नज्मों के कारण निदा ने भी बहुत दिन तक बाल ठाकरे का अघोषित प्रतिबंध झेला है। ब्रेख्त की तरह निदा भी अपने मन के शायर हैं, गजलें उन्होंने कही जरूर हैं, पर जिन विषयों पर वो शायरी करते हैं, वो विषय गजल का नहीं है। (सौजन्य: वेबदुनिया) निदा साहब से जब यह पूछा गया कि उनकी शायरी की शुरूआत कैसे हुई तो उनका जवाब कुछ यूँ था: मेरे वालिद अपने ज़माने के अच्छे शायर थे। नाम था 'दुआ डबाइवी'। उनके अशआर मुझे ज़ुबानी याद थे। यही अशआर सुना-सुनाकर मैं क़ॉलेज में अपने दोस्तों से चाय पिया करता था। कभी-कभी तो नाश्ते का इंतिज़ाम भी हो जाया करता था। उनके अशआर सुनाते-सुनाते ख़ुद भी शे'र कहने लगा।

निदा साहब यूँ तो क्रांतिकारी विचारों के शायर थे और हैं भी लेकिन आज हम उनसे वह किस्सा सुनना चाहेंगे जिसके कारण उनका फिल्मों में आना हुआ। आप सब सुजाय जी को तो ज़रूर हीं जानते होंगे(आवाज़ पर प्रसारित होने वाले "ओल्ड इज गोल्ड" के मेजबान)। उन्हीं की बदौलत हमें रेडियो पर आने वाले "आज के मेहमान" कार्यक्रम की वह रिकार्डिंग हासिल हुई है, जिसमें निदा साहब मौजूद थे। उस मज़ेदार घटना को याद करते हुए वे कहते हैं: जब मैं मुंबई आया तो मैने धर्मवीर भारती के "धर्मयुग" में लिखना शुरू कर दिया, उसके बाद मै "ब्लिट्ज़" में लिखने लगा। उसी दौरान कभी "धर्मयुग" में तो कभी "ब्लिट्ज़" में तो कभी किसी रेडियो स्टेशन में मुझे मैसेज़ मिलने लगे कि "मैं आप से मिलना चाहता हूँ- कमाल अमरोही"। मैंने सोचा कि मेरा कमाल अमरोही से क्या काम हो सकता है। मैं कमाल अमरोही से मिलने चला गया। कमाल साहब मिले करीब २ बजे, वो स्टाईलिश आदमी थे, वो एक लफ़्ज़ भी अंग्रेजी का बोलते नहीं थे और वो भाषा बोलते थे जो आज से ५० साल पहले अमरोहा में बोली जाती थी। मैं वो भाषा बंबई आकर भूल गया था। मैंने कहा "कमाल साहब, आदाब अर्ज़ है, मेरा नाम निदा फ़ाज़ली है"। तो वो बोले- "तशरीफ़ रखिए, मैंने आपको इसलिए याद फ़रमाया है"- ये उनका स्टाईल था, "मैंने आपको इसलिए याद फ़रमाया है कि मुझे एक मुक़म्मल शायर की ज़रूरत है", मैंने कहा कि मैं हाज़िर हूँ और इस इज़्ज़त आफ़ज़ाई के लिए शुक्रिया कि आप मुझे मुक़म्मल शायर समझ रहे हैं। बोले- "जी, मुझे आपसे कुछ नगमात तहरीर करवाने हैं"। मैने कहा कि मैं हाज़िर हूँ साहब, आप बताईये कि कैसा गाना है, क्या लिखना है, तो वो बोले कि "इससे पहले कि आप गाना लिखें, एक बात मैं ज़ाहिर कर देना चाहता हूँ कि इल्मी शायरी और फिल्मी शायर अलग होती है। इल्मी शायरी लिखने के लिए आपको मेरे मिज़ाज़ की शिनाख्त बहुत ज़रूरी है, जाँ निसार अख्तर मेरे मिज़ाज को पहचान गए थे, लेकिन वो अल्लाह को प्यार हो गए। इतना कहने के बाद उन्होंने सिचुएशन सुनाई- "हमारी दास्तान उस मुकाम पर आ गई जहाँ मल्लिका-ए-आलिया रज़िया सुल्तान, यानि हमारी हेमा मालिनी, सियाहा लिबास में खरामा-खरामा चली आ रही है, जिसे देखकर हमारा आलया कासी खैरमक़दम के लिए आगे बढता है।" मेरे कुछ भी पल्ले नहीं पड़ा, मैं कुछ देर बैठा रहा, फिर उनके असिस्टेंट ने कहा कि इसका मतलब है कि हेमा मालिनी सफ़ेद घोड़े पर काले लिबास पहने आ रही हैं और आलया कासी मतलब कैमरा उनकी तरफ़ बढ रहा है। इसके बाद मैंने उस फिल्म के आखिरी दो गाने लिखे। लेकिन उस फिल्म के बनने में इतना वक्त लगा कि कमाल साहब के गुडविल ने फिल्म-इंडस्ट्री में मुझे मशहूर कर दिया कि कोई ऐसा है जिससे कमाल अमरोही गाने लिखवा रहे हैं।

निदा साहब के बारे में और भी बहुत कुछ है कहने को, लेकिन आज बस इतना हीं। वैसे हीं स्वर्ण जयंती के कारण आज हमारी मुलाकात का दौर कुछ ज्यादा हीं चला। इसलिए वक्त है अब आज की नज़्म सुनवाने का। यह नज़्म मेरी पसंदीदा नज़्मों में से एक है। जहाँ एक तरह निदा साहब के मासूम अल्फ़ाज़ हैं तो वही दूसरी तरह जगजीत सिंह जी की मखमली आवाज़। आप खुद देखिए:

ये ज़िन्दगी,
आज जो तुम्हारे
बदन की छोटी-बड़ी नसों में
मचल रही है
तुम्हारे पैरों से चल रही है
तुम्हारी आवाज़ में ग़ले से निकल रही है
तुम्हारे लफ़्ज़ों में ढल रही है।

ये ज़िन्दगी
जाने कितनी सदियों से
यूँ ही शक्लें
बदल रही है।

बदलती शक्लों
बदलते जिस्मों में
चलता-फिरता ये इक शरारा
जो इस घड़ी
नाम है तुम्हारा
इसी से सारी चहल-पहल है
इसी से रोशन है हर नज़ारा।

सितारे तोड़ो या घर बसाओ
क़लम उठाओ या सर झुकाओ,
तुम्हारी आँखों की रोशनी तक
है खेल सारा,
ये खेल होगा नहीं दुबारा।

ये खेल होगा नहीं दुबारा॥




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

इतना ___ न हो ख़िलवतेग़म से अपनी
तू कभी खुद को भी देखेगा तो ड़र जायेगा


आपके विकल्प हैं -
a) मायूस, b) मानूस, c) हैरान, d) बेज़ार

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -

पिछली महफिल का सही शब्द था "ख़ुदकुशी" और शेर कुछ यूं था -

ख़ुदकुशी करने की हिम्मत नहीं होती सब में
और कुछ दिन यूँ ही औरों को सताया जाये

एक बार फिर से महफ़िल में पहली हाज़िरी लगी सीमा जी की। कमाल देखिए कि पिछली महफ़िल का शेर निदा फ़ाज़ली साहब का था और आज की महफ़िल हमने पूरी की पूरी उन्हीं के सुपूर्द कर दी। निदा साहब का यह शेर जिस गज़ल से है, उसमें एक ऐसा शेर भी है जो बच्चे-बच्चे की जुबान पर मौजूद रहता है और हो भी क्यों न, जबकि उसमें बच्चे का हीं ज़िक्र किया गया है। इस शेर को सुनकर और पढकर "तमन्ना" फिल्म का वह गाना याद आ जाता है जिसकी शुरूआत इसी शेर के साथ होती है। आप भी देखिए:

घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाये।

पूरी गज़ल मुहैय्या कराने के लिए सीमा जी का शुक्रिया। "ख़ुदकुशी" शब्द पर आपने कुछ शेर भी कहे:

मेरी गुड़िया-सी बहन को ख़ुदकुशी करनी पड़ी
क्या ख़बर थी दोस्त मेरा इस क़दर गिर जाएगा। (मुनव्वर राना)

ग़म-ए-हयात से बेशक़ है ख़ुदकुशी आसाँ
मगर जो मौत भी शर्मा गई तो क्या होगा। (अहसान बिन 'दानिश')

मेरा मकान शायद है ज़लज़लों का दफ़्तर
दीवारें मुतमइन हैं हर वक़्त ख़ुदकुशी को। (ज्ञान प्रकाश विवेक)

मंजु जी, आपकी बात सही है,लेकिन मुझे "चिन्नी" का अर्थ समझ नहीं आ रहा था,इसलिए मुझे अपना दिमाग लगाना पड़ा। आईंदा ऐसा नहीं होगा....ये खेल होगा नहीं दुबारा :) । ये रहा आपका आज का शेर:

ए मेरे रुस्तम! कैसे बयाँ करूं हाल दिल
खुदकुशी करने को जी चाहता है।

शामिख जी ने कई शेरों के बीच गुलज़ार साहब की एक त्रिवेणी भी पेश की। बानगी देखिए:

कैसे लोग हैं क्या खूब मुन्सुफी की है,
हमारे क़त्ल को कहते हैं खुदखुशी की है. (प्रकाश अर्श)

कितने तारो ने यहाँ टूटकर ख़ुदकाशी की है
कब से बोझ से हाँफ़ रहा था बेचारा।

चलो आसमान को कुछ मुक्ति तो मिली (गुलज़ार)

निर्मला जी, महफ़िल में आपका स्वागत है। आप अगर कोई शेर भी साथ ले आएँ तो महफ़िल में चार चाँद लग जाए।
शरद जी, कोई बात नहीं, देर आए दुरूस्त आए...पर आए तो सही :)। आपका स्वरचित शेर कमाल का है:

दर्द के साथ दोस्ती कर ली
इसलिए मैने खुदकुशी कर ली
ज़िन्दगी को सवांरने के लिए
हमने बरबाद ज़िन्दगी कर ली।

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए विदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा


ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Tuesday, September 29, 2009

घायल जो करने आए वही चोट खा गए........"गुमनाम" के शब्द और "रेशमा" आपा का दर्द

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४९

ड़े दिनों के बाद ऐसा हुआ कि महफ़िल में हाज़िरी लगाने के मामले में सीमा जी पिछड़ गईं और महफ़िल का मज़ा कोई और लूट गया। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं पिछली महफ़िल की प्रश्न-पहेली की। वैसे अगर शरद जी के लिए कुछ कहना हो तो हम यही कहेंगे कि "बड़े दिनों के बाद उन बेवतनों को याद वतन की मिट्टी आई है।" यूँ तो आप महफ़िल से कभी भी गायब नहीं हुए लेकिन ऐसा आना भी क्या आना कि आने की खबर न हो। वैसे तो हम सीधे-सादे गणित में अंकों का हिसाब लगाया करते हैं, लेकिन इस बार हमने सोचा कि क्यों न अंकों के मायाजाल में थोड़ा उलझा जाए। तो अगर हम ४७वीं कड़ी की प्रश्न-पहेली के अंकों को देखें तो हिसाब कुछ यूँ था: सीमा जी: ४ अंक, शरद जी: २ अंक और शामिख जी: १ अंक। अब हम इन अंकों को एक चक्रीय क्रम में आगे की ओर सरका देते हैं। फिर जो हिसाब बनता है, वही पिछली कड़ी की अंक-तालिका है यानि कि सीमा जी: १ अंक, शरद जी: ४ अंक और शामिख जी: २ अंक। अब बारी है आज के प्रश्नों की| तो ये रहे प्रतियोगिता के नियम और उसके आगे दो प्रश्न: ५० वें अंक तक हम हर बार आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब उस दिन के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। अगर आपने पिछली कड़ियों को सही से पढा होगा तो आपको जवाब ढूँढने में मुश्किल नहीं होगी, नहीं तो आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी। और हाँ, हर बार पहला सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। इन १० कड़ियों में जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) एक शायर जिसे जीते-जी अपना एक हीं गज़ल-संग्रह "बर्ग-ए-नै" देखना नसीब हुआ और जिसने पूरी की पूरी छंद में एक नाटिका की रचना की थी। उस शायर और उसकी उस नाटिका के नाम बताएँ।
२) "तीसरा मिसरा कहीं पहले दो मिसरों में गुप्त है"- इस पंक्ति में किस फ़ार्म, किस विधा की बात की जा रही है। और उस फ़ार्म की तख़्लीक़ का श्रेय किसे दिया जाता है?


इन सवालों के बाद चलिए अब रूख करते हैं आज की गज़ल की ओर। आज की गज़ल की खासियत यह है कि इसके शायर गुमनाम हैं तो इसकी गायिका के बारे में लोगों को ज़्यादा कुछ मालूंम नहीं है। यूँ तो इनकी आवाज़ हिन्दुस्तान के कोने-कोने में रवाँ-दवाँ है, लेकिन कितनों को इनकी शख्सियत की जानकारी है, यह पक्के यकीन से नहीं कहा जा सकता। बरसों पहले सुभाष घई साहब की एक फिल्म आई थी "हीरो" जिसका एक गाना बड़ा हीं मक़बूल हुआ। उस गाने की मक़बूलियत का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि अभी पिछले साल हीं रीलिज हुई "ज़न्नत" में एक नगमा उसी गाने पर आधार करके तैयार किया गया था। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं "चार दिनों का प्यार ओ रब्बा, बड़ी लंबी जुदाई" गाने की। इस गाने का असर ऐसा हुआ कि चाहे किसी को फिल्म की कहानी या फिल्म के कलाकार याद हों न हों, लेकिन इस गाने और इस गाने में छिपी कशिश की छाप मिटाए नहीं मिटती। कहते है कि जब "रेशमा" जी (यह नाम याद है ना?) को इस गाने के लिए संपर्क किया गया तो वो इस हालत में नहीं थीं कि इसे गा सकें। मतलब कि इन्हें अपनी "पश्तो" ज़बान छोड़कर और कोई भी ज़बान सही से नहीं आती थी और हिंदी/उर्दू के लफ़्ज़ों का सही तलफ़्फ़ुज़ तो इनके लिए दूर की कौड़ी के समान था। लेकिन सुभाष घई साहब और एल०पी० साहबान जिद्द पर अड़े थे कि गाना इन्हीं को गाना है। कई दिनों की मेहनत और न जाने कितने रिहर्सल्स के बाद यह गाना तैयार हो पाया। और जैसा कि कहते हैं कि "रेस्ट इज हिस्ट्री"। वैसे हम भारतीयों और हिंदी-भाषियों के लिए इनकी पहचान यहीं तक सीमित है लेकिन जिन्होंने इनके पंजाबी गाने सुने हैं उन्हें "रेशमा" आपा का सही मोल मालूम है। "शाबाज़ कलंदर" ,"गोरिये मैं जाना परदेस" और "कित्थे नैन न जोरीं" जैसे नज़्मों को सुनने के बाद और कुछ सुनने का दिल हीं नहीं होता। पाकिस्तान के एक अखबार "न्युज लाईन" के संवाददाता "आयेशा जावेद अकरम" के साथ "आपा" ने अपनी ज़िंदगी कुछ यूँ शेयर की: मेरा जन्म राजस्थान के बीकानेर में सौदागरों के एक परिवार में हुआ था। जन्म की सही तारीख मालूम नहीं क्योंकि घरवालों ने इसे याद रखना जरूरी नहीं समझा। वैसे मुझे इतना मालूम है कि देश के बंटवारे के समय मैं एक या दो महीने की थी और उसी दौरान मेरे परिवार का हिन्दुस्तान से पाकिस्तान जाना हुआ था। जब मेरा परिवार हिन्दुस्तान में था तो हम बीकानेर से देश के दूसरे कोनों में ऊँट ले जाया करते थे(क्योंकि हमारे यहाँ के ऊँट बड़े मशहूर थे) और उन जगहों से गाय-बकरियाँ लाकर अपने यहाँ व्यापार करते थे। हमारा समुदाय बहुत बड़ा था और हम खानाबदोशों की ज़िंदगी जिया करते थे। आपस में हममे बड़ा प्यार था। पाकिस्तान जाने के बाद भी यही सब चलता रहा। वैसे हममें से बहुत सारे अब लाहौर और करांची में बस गए हैं।

बहुत कम लोगों को यह मालूम होगा कि "आपा" को नाक की हड्डी का कैंसर हुआ था। लेकिन उनके आत्म-विश्वास और उनके प्रशंसकों की दुआओं ने उन्हें वापस ठीक कर दिया। इस बारे में वो कहती हैं: क्या मैं आपको बीमार लगती हूँ? नहीं ना? फिर क्यों मेरे बारे में लोग लिखते रहते हैं कि मैं मर रही हूँ। हाँ, मुझे कैंसर था, लेकिन भला हो इमरान खान का, जिनके अस्पताल के डाक्टरों के इलाज से मेरा रोग जाता रहा। लेकिन मुझे मालूम नहीं कि इन अखबार वालों के साथ क्या दिक्कत है कि वे हमेशा मेरे खराब स्वास्थ्य के बारे में छापते रहते हैं और इसी कारण अब मेरे पास गाने के न्योते नहीं आते। अब आप बताएँ, बस ऐसे गुजारा होता है? मैं आपको यकीन दिलाती हूँ कि मैं दुनिया की किसी भी भाषा में गा सकती हूँ। इस खूबी में मेरा कोई योगदान नहीं है। सब ऊपर वाले का करम है, उसी ने मुझे ऐसी आवाज़ दी है। संगीत के सफ़र की शुरूआत कैसे हुई, यह पूछने पर उनका जवाब था: मैं हमेशा दरगाहों, मज़ारों और मेलों में गाया करती थी। एक बार इसी तरह मैं अपने किसी संबंधी की शादी में गा रही थी तो सलीम गिलानी साहब ने मुझे सुना और मुझे रेडियो पर गाने की सलाह दी। उस समय मेरी उम्र कोई ११-१२ साल की होगी। फिर तो मेरी नई कहानी हीं शुरू हो गई। "ओ रब्बा, दो दिनां दा मेल, ओथे फिर लंबी जुदाई"(यह गाना आपको सुना-सुना नहीं लग रहा, हीरो की "लंबी जुदाई" कहीं इसी की नकल तो नहीं है?) जैसे गाने घर-घर में सुने जाने लगे और इस तरह मैं धीरे-धीरे आगे बढती गई। भले हीं मेरा बहुत नाम था और अब भी है लेकिन इस दौरान मैने अपनी हया कायम रखी है और किसी भी तरह का कोई समझौता नहीं किया है। दैनिक भास्कर में "आपा" से जुड़ा एक बड़ा हीं अनोखा किस्सा छपा था। आप भी देखें: यूं तो मलिका पुखराज को काफ़ी आत्म-केंद्रित व्यक्ति माना जाता था, मगर उनकी ज़िंदगी की कुछ ऐसी मार्मिक घटनाएं हैं, जिनसे उनके अंदर का इंसान उभरकर बाहर आ जाता है। अपने पति शब्बीर शाह की मृत्यु के बाद मलिका अंदर से ही टूट गईं। एक दिन उन्होंने गायिका रेशमा का गाया एक गीत "हैयो रब्बा! दिल लगदा नैयों मेरा" सुन लिया। रेशमा ख़ुद मलिका जी की बहुत भक्त थीं। मलिका जी ने उन्हें बुलवा भेजा। कहा कि वे एक ह़फ्ते उनके साथ उनके घर रुक जाएं और उन्हें यही गीत गा-गाकर सुनाएं। रेशमा ने इसे अपना सम्मान माना और ठहर गईं। अब दिन में कई बार रेशमा से गाने की फरमाइश होती। रेशमा गातीं और मलिका फूट-फूटकर रोना शुरू कर देतीं। इस क्रम से रेशमा डर गईं। हाथ जोड़े कि अब बस भी करें। मगर मलिका रोना चाहती थीं। सो रेशमा ने ख़ूब गाया और वे भी ख़ूब रोईं। यह आपा की आवाज़ में बसे दर्द का हीं असर था कि आँसू बरबस निकल पड़े। "आपा" के बाद अब बात करते हैं आज की गज़ल के गज़लगो की। सुरेन्द्र मलिक "गुमनाम" साहब के बारे में अंतर्जाल पर ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है। इसलिए अभी हम इन दो शेरों के अलावा कुछ और कह नहीं सकेंगे। वैसे यह तो ज़ाहिर है कि इन शेरों को लिखने वाला शायर "गुमनाम" हीं रहा और इसे गाकर जगजीत सिंह जी कहाँ से कहाँ पहुँच गए। है ना?:

काँटों की चुभन पाई, फूलों का मज़ा भी,
दिल दर्द के मौसम में रोया भी हँसा भी।

आने का सबब याद ना जाने की खबर है,
वो दिल में रहा और उसे तोड़ गया भी।


और यह रही आज़ की गज़ल, जिसे हमने "दर्द" एलबम से लिया है। तो आनंद लीजिए हमारी आज की पेशकश का:

लो दिल की बात आप भी हमसे छुपा गए,
लगता है आप गैरों की बातों में आ गए।

मेरी तो इल्तजा थी रक़ीबों से मत मिलो,
उनके बिछाए जाल में लो तुम भी आ गए।

ये इश्क़ का सफ़र है मंज़िल है इसकी मौत,
घायल जो करने आए वही चोट खा गए।

रोना था मुझको उनके दामन में ज़ार-ज़ार,
पलकों के मेरे अश्क उन्हीं को रूला गए।

"गुमनाम" भूलता नहीं वो तेरी रहगु़ज़र,
जिस रहगुज़र से प्यार की शम्मा बुझा गए।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

____ करने की हिम्मत नहीं होती सब में
और कुछ दिन यूँ ही औरों को सताया जाये


आपके विकल्प हैं -
a) ख़ुदकुशी, b) बेदिली, c) दिल्लगी, d) बेरुखी

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -

पिछली महफिल का सही शब्द था "तेशे" और शेर कुछ यूं था -

मुसीबत का पहाड़ आख़िर किसी दिन कट ही जायेगा
मुझे सर मार कर तेशे से मर जाना नहीं आता...

यगाना चंगेजी साहब के लिखे इस शेर को सबसे पहले सही पहचाना शामिख जी ने। आप बहुत दिनों के बाद समय पर हाज़िर हुए हैं। वैसे महफ़िल में पहली हाज़िरी तो निर्मला जी ने लगाई थी। निर्मला जी, आपको हमारी महफ़िल पसंद आ रही है, इसके लिए हम आपका तहे-दिल से शुक्रिया अदा करते हैं। लेकिन यह क्या, आपने तो शब्द/शेर-पहेली में हिस्सा हैं नहीं लिया। हमारी महफ़िल में कोई ऐसे खाली हाथ नहीं आता, आगे से इस बात का जरूर ध्यान रखिएगा :) । शरद जी, आपसे भी यही शिकायत है।

तो हाँ, हम बात कर रहे थे शामिख जी के शेरों की, तो यह रही आपकी पेशकश:

हमसुख़न तेशे ने फ़रहाद को शीरीं से किया
जिस तरह का भी किसी में हो कमाल अच्छा है। (चचा ग़ालिब)

हाँ इश्क़ मेरा दीवाना ये दीवाना मस्ताना
तेशे को बना कर अपना क़लम लिखेगा नया फ़साना (अनाम)

जहाँ शरद जी इस बार स्वरचित शेरों के मामले में पिछड़ गए, वहीं मंजु जी ने अपना पलड़ा हल्का नहीं होने दिया। बानगी देखिए:

सैकड़ों तेशे चलाए थे नींव के लिए ,
चिन्नी थी दीवार इमारत के लिए . (हमारे हिसाब से यहाँ चुननी थी, होना चाहिए था)

इस बार हमारी महफ़िल बड़ी जल्दी हीं सिमट गई। शायद इसे किसी की नज़र लग गई है। तो हम चले नज़र उतारने का इंतजाम करने। तब तक आप महफ़िल में सबसे आखिर में हाज़िर होने वालीं सीमा जी के शेरों का मज़ा लें। खुदा हाफ़िज़!

एक हुआ दीवाना एक ने सर तेशे से फोड़ लिया
कैसे कैसे लोग थे जिनसे रस्म-ए-वफ़ा की बात चली (मुनिर नियाज़ी)

तेशे बग़ैर मर न सका कोह्‌कन असद
सर्‌गश्‌तह-ए ख़ुमार-ए रुसूम-ओ-क़ुयूद था! (अनाम)

कोह-ए-गम और गराँ, और गराँ और गराँ
गम-जूड तेशे को चमकाओ कि कुछ रात कटे (मखदूम मुहीउद्दीन)

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा


ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Friday, September 25, 2009

क्या टूटा है अन्दर अन्दर....इरशाद के बाद महफ़िल में गज़ल कही "शहज़ाद" ने...साथ हैं "खां साहब"

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४८

पिछली कड़ी में पूछे गए दो सवालों में से एक सवाल था "गुलज़ार" साहब के उस मित्र का नाम बताएँ जिसने गुलज़ार साहब के बारे में कहा था कि "कहीं पहले मिले हैं हम"। जहाँ तक हमें याद है हमने महफ़िल-ए-गज़ल की ३६वीं कड़ी में उन महाशय का परिचय "मंसूरा अहमद" के रूप में दिया था। जवाब के तौर पर सीमा जी, शरद जी और शामिख जी में बस सीमा जी ने हीं "मंसूरा अहमद" लिखा, बाकियों ने "मंसूरा" को शायद टंकण में त्रुटि समझकर "मंसूर" कर दिया। चाहते तो हम "मंसूर" को गलत उत्तर मानकर अंकों में कटौती कर देते, लेकिन हम इतने भी बुरे नहीं। इसलिए आप दोनों को भी पूरे अंक मिल रहे हैं। लेकिन आपसे दरख्वास्त है कि आगे से ऐसी गलती न करें। वैसे अगर आपने कहीं "मंसूर अहमद" पढ रखा है तो कृप्या हमें भी अवगत कराएँ ताकि हमें उनके बारे में और भी जानकारी मिले। अभी तो हमारे पास उन कविताओं के अलावा कुछ नहीं है। हाँ तो इस बात को मद्देनज़र रखते हुए पिछली कड़ी के अंकों का हिसाब कुछ यूँ बनता है: सीमा जी: ४ अंक, शरद जी: २ अंक, शामिख जी: १ अंक। अब बारी है आज के प्रश्नों की| तो ये रहे प्रतियोगिता के नियम और उसके आगे दो प्रश्न: ५० वें अंक तक हम हर बार आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब उस दिन के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। अगर आपने पिछली कड़ियों को सही से पढा होगा तो आपको जवाब ढूँढने में मुश्किल नहीं होगी, नहीं तो आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी। और हाँ, हर बार पहला सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। इन १० कड़ियों में जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) अपनी बहन "दिना" की जगह पर एक कार्यक्रम पेश करके संगीत की दुनिया में उतरने वाली एक फ़नकारा जिसे १९७४ में रीलिजे हुई एक फ़िल्म के टाईटल ट्रैक ने रातोंरात स्टार बना दिया। फ़नकारा के साथ-साथ उस फिल्म की भी जानकारी दें।
२) दो गायक बंधु जिनकी प्रसिद्धि के साथ भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का भी नाम जुड़ा है और जिनके बारे में कई लोगों को लगता है कि हसरत जयपुरी उनके पिता है। उन दोनों के साथ-साथ उनके पिता का भी नाम बताएँ।


आज हम जिस गज़ल को लेकर इस महफ़िल में हाज़िर हुए हैं, उस गज़ल को अपनी सधी हुई आवाज़ से सजाने वाले फ़नकार की तबियत आजकल कुछ नासाज़ चल रही है। यूँ तो इस फ़नकार की एक गज़ल हम आपको पहले हीं सुनवा चुके हैं, लेकिन उस समय हमने इनके बारे में ज्यादा बातें नहीं की थी या यूँ कहिए कि हम उस कड़ी में बस उनका जीवन-वृंतात हीं समेट पाए थे। हमने सोचा कि क्यों न आज कुछ हटकर बातें की जाए। इस लिहाज़ से उनके स्वास्थ्य के बारे में बात करना सबसे जरूरी हो जाता है। २९ मार्च २००९ को उनके बारे में नवभारत टाईम्स में यह खबर आई थी: १९२७ में राजस्थान के लूना में जन्मे मेहदी हसन नौ बरस पहले पैरलाइसिस के चलते मौसिकी से दूर हो गए थे। फिलहाल, वह फेफड़ों के संक्रमण के कारण पिछले डेढ़ महीने से कराची के आगा खान यूनिवर्सिटी अस्पताल में भर्ती हैं, लेकिन जल्दी ही उन्हें छुट्टी मिलने वाली है क्योंकि उनका परिवार मेडिकल बिल भरने में असमर्थ है। उनके बेटे आरिफ हसन ने कराची से को दिए इंटरव्यू में कहा, एक बार हिन्दुस्तान आना चाहते हैं। लता से लेकर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भी गजल के इस बादशाह के मुरीदों में शामिल हैं। आरिफ ने बताया, लताजी को उनकी बीमारी के बारे में पता चला तो उन्होंने मुंबई आकर इलाज कराने की पेशकश की। उन्होंने खुद सारा खर्च उठाने की भी बात कही। उनके भतीजे आदिनाथ ने हमें फोन किया था। उन्होंने बताया कि २००२ में तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी ने भी पत्र लिखकर हसन के जल्दी ठीक होने की कामना की थी। उन्होंने भी हिन्दुस्तान सरकार की ओर से हरसंभव मदद का प्रस्ताव रखा था। आरिफ ने कहा, हसन साहब ने फन की सौदेबाजी नहीं की लिहाजा पैसा कभी जोड़ नहीं पाए। रेकॉर्डिंग कंपनियों से मिलने वाला पैसा ही आय का मुख्य जरिया था जो उस समय बहुत कम होता था। शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचने पर भी उन्हें सीखने का जुनून रहा। उनका कहना है कि संगीत तो एक समंदर की तरह है जितना इसमें उतरा, उतना ही अपने अज्ञान का पता चलता है। अफज़ल सुभानी ,जो अपने बारे में कहते हैं कि "पाकिस्तान से बाहर का मैं पहला शागिर्द हूं, जिसे मेहदी हसन साहब ने गंडा बांध कर विधिवत शिष्य बनाया है", मेहदी साहब की हालत से बड़े हीं परेशान नज़र आते हैं। मेहदी साहब की बात चलने पर कुछ याद करके वो कहते हैं: मुझे आज भी याद है, जब हमने उनके लकवाग्रस्त होने के बाद फोन पर बात की थी। मैं उनकी महान आवाज़ नहीं पहचान पाया। मैं रो पड़ा। लकवा ने उनके वोकल कॉर्डस पर असर डाला था. पर बहुत ही कम समय में वो समय भी आया जब उन्होंने अपनी उसी आवाज़ में घोषणा की “मेरी आवाज़ वापस आ गई है”, मैंने उन्हें इतना खुश कभी नहीं सुना।" आखिर कौन होगा जिसे मेहदी साहब की फ़िक्र न होगी। हमारे हिन्दुस्तान, पाकिस्तान या यूँ कहिए कि पूरे विश्व के लिए वे एक धरोहर के समान हैं। हमारी तो यही दुआ है कि वे फिर से उसी रंग में वापस आ जाएँ, जिसके लिए उन्हें जाना जाता है।

आकाशवाणी से प्रकाशित एक भेंटवार्ता के दौरान मन्ना डे साहब से जब यह पूछा गया कि "इतनी अधिक सफलता, लोकप्रियता, पुरस्कार, मान-सम्मान सभी कुछ मिलने के बाद भी क्या आपके मन में कोई इच्छा ऐसी है जो अभी भी पूरी नहीं हुई है"। तो उनका उत्तर कुछ यूँ था: हां! दो इच्छाएं अभी भी मेरे मन में हैं। एक तो यह कि मैं अपने अंतिम समय में मोहम्मद रफ़ी के गाये गीतों को सुनता रहूं, और दूसरी यह कि मैं कभी मेहदी हसन की तरह ग़ज़ल गा सकूं| संगीत की देवी के दो लाडले बेटों को इस कदर याद करना खुद मन्ना दा की संगीत-साधना को दर्शाता है। इसी तरह की एक भेंटवार्ता में मेहदी साहब से जब यह पूछा गया था कि "क्या मुल्कों को बाँटने वाली सरहदें बेवजह हैं?" तो उन्होंने कहा था कि "हाँ बेकार की चीज़े हैं ये सरहदें, पर जो अल्लाह को मंज़ूर होता है वही होता है"। वैसे भी संगीत-प्रेमियों के लिए सरहद कोई मायने नहीं रखती और यही कारण है कि हम भी फ़नकारों से यही उम्मीद रखते हैं कि उनकी गायकी में सरहदों की सोच उभरती नहीं होगी। यूँ तो कई जगहों पर और कई बार मेहदी साहब ने यह तमन्ना ज़ाहिर की है कि वे हिन्दुस्तान आना चाहते हैं(क्योंकि हिन्दुस्तान उनकी सरजमीं है, उनका अपना मुल्क है जिसकी गोद में उन्होंने अपना बचपन गुजारा है), फिर भी कुछ लोग यह कहते हैं कि मेहदी साहब तरह-तरह के विवादास्पद बयान देकर हिंदुस्तान के कुछ श्रेष्ठतम कलाकारों की बेइज्जती का प्रयास करते रहे हैं। हम यहाँ पर कोई निष्कर्ष नहीं निकालना चाहते लेकिन उन घटनाओं को लोगों के सामने रखनें में कोई बुराई नहीं है। "शहंशाहे-गज़ल - मेहदी हसन" शीर्षक से प्रकाशित एक आलेख में ऐसे हीं कुछ वाक्यात जमा हैं(सौजन्य: सृजनगाथा): उनका एक बयान कि "हिंदुस्तान में किसी को गाना ही नहीं आता है", विश्व प्रसिद्ध गायक मोहम्मद रफ़ी को आहत कर गया था; जबकि उनका दूसरा बयान कि "हिंदुस्तान की गायिकाएं कोठेवाली गायिकाएं हैं", स्वर-सम्राज्ञी लता मंगेश्कर को भी दुखी कर गया था। प्रख्यात संगीतकार निर्देशक ख़्य्याम से तो मेहदी हसन की ज़बरदस्त झड़प अनगिनत प्रतिष्ठित कलाकारों के सामने ही हो गयी थी। मेहदी हसन ने ख़य्याम से मशहूर गायक मुकेश के बारे में कह दिया था कि "ख़य्याम साहब, आप जैसे गुणी म्यूज़िक डायरेक्टर को एक बेसुरे आदमी से गीत गवाने की क्या ज़रूरत है"। ख़य्याम ने सरेआम मेहदी हसन को बहुत बुरी तरह डांट दिया था और बात बिगड़ती देखकर कुछ महत्वपूर्ण कलाकारों ने ख़य्याम और मेहदी हसन को एक-दूसर से काफ़ी दूर हटा दिया।" हमारा मानना है कि हर फ़नकार के साथ अच्छी और बुरी दोनों तरह की बातें जुड़ी होती हैं। फ़नकार का व्यक्तित्व जिस तरह का भी हो, हमें बस उसकी फ़नकारी से मतलब रखना चाहिए। अगर फ़नकार दिल से अच्छा हो तो वह एक तरह से अपना हीं भला करता है, नहीं तो सभी जानते हैं कि प्रशंसकों की याद्दाश्त कितनी कम होती है! चलिए, हसन साहब (खां साहब) के बारे में बहुत बातें हो गईं। हम अब आज की गज़ल के गज़लगो को याद कर लेते हैं। इस गज़ल को लिखा है "फ़रहत शहज़ाद" ने, जिनकी कई सारी गज़लें मेहदी हसन साहब ने गाई हैं। हम जल्द हीं इनके बारे में भी आलेख लेकर हाज़िर होंगे। आज बस उनके लिखे इस शेर से काम चला लेते हैं:

फ़ैसला तुमको भूल जाने का,
एक नया ख्वाब है दीवाने का।


और यह रही आज़ की गज़ल। "नियाज़ अहमद" के संगीत से सनी इस गज़ल को हमने लिया है "कहना उसे" एलबम से। तो आनंद लीजिए हमारी आज की पेशकश का:

क्या टूटा है अन्दर अन्दर क्यूँ चेहरा कुम्हलाया है
तन्हा तन्हा रोने वालो कौन तुम्हें याद आया है

चुपके चुपके सुलग़ रहे थे याद में उनकी दीवाने
इक तारे ने टूट के यारो क्या उनको समझाया है

रंग बिरंगी इस महफ़िल में तुम क्यूँ इतने चुप चुप हो
भूल भी जाओ पागल लोगो क्या खोया क्या पाया है

शेर कहाँ है ख़ून है दिल का जो लफ़्ज़ों में बिखरा है
दिल के ज़ख़्म दिखा कर हमने महफ़िल को गर्माया है

अब 'शहज़ाद' ये झूठ न बोलो वो इतना बेदर्द नहीं
अपनी चाहत को भी परखो गर इल्ज़ाम लगाया है




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

मुसीबत का पहाड़ आखिर किसी दिन कट ही जायेगा
मुझे सर मार कर ___ के मर जाना नहीं आता ...


आपके विकल्प हैं -
a) दीवार , b) पत्थर, c) तेशे, d) आरी

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -

पिछली महफिल का सही शब्द था "आईना" और शेर कुछ यूं था -

वो मेरा आईना है मैं उसकी परछाई हूँ,
मेरे ही घर में रहता है मुझ जैसा ही जाने कौन....

निदा फ़ाज़ली साहब के इस शेर को सबसे पहले सही पहचाना सीमा जी ने। सीमा जी, आप पिछली न जाने कितनी कड़ियों से हमारी महफ़िल की शान बनी हुई हैं। आगे भी ऐसा हीं हो, यही दुआ है। आपने कुछ शेर महफ़िल के सुपूर्द किए:

हर एक चेहरे को ज़ख़्मों का आईना न कहो|
ये ज़िन्दगी तो है रहमत इसे सज़ा न कहो| (राहत इन्दौरी)

यही कहा था मेरे हाथ में है आईना
तो मुझपे टूट पड़ा सारा शहर नाबीना। (अहमद फ़राज़)

क्या कोई नई बात नज़र आती है हम में
आईना हमें देख के हैरान सा क्यूँ है। (शहरयार)

सीमा जी के बाद महफ़िल में हाज़िरी लगाई शरद जी ने। आपने अपने विशेष अंदाज में दो शेर पेश किए:

पुराने आइने में शक्ल कुछ ऐसी नज़र आई
कभी तिरछी नज़र आई कभी सीधी नज़र आई
लुटी जब आबरु उसकी तो मैं भी चुप लगा बैठा
मग़र फिर ख्वाब में अपनी बहन बेटी नज़र आई। (आह!!!)

शामिख जी, आपकी पेशकश भी कमाल की रही। ये रही बानगी:

बस उसी दिन से खफा है वो मेरा इक चेहरा
धूप में आइना इक रोज दिखाया था जिसे। (कुँवर बेचैन)

अब मोहब्बत की जगह दिल में ग़मे-दौरां है
आइना टूट गया तेरी नज़र होने तक। (कृष्ण बिहारी नूर)

मंजु जी, वाकई चेहरा ज़िंदगी का सच बतलाता है। आप अपनी बात कहने में सफ़ल हुई हैं:

चेहरा है आईना जिन्दगी का ,
सच है बतलाता जिन्दगी का।

अवध जी, आपने महफ़िल में पहली मर्तबा तशरीफ़ रखा, इसलिए आपका विशेष स्वागत है। आपने "अनवर" और "आशा सचदेव" के बारे में जो कुछ हमसे पूछा है, उसका जवाब देने में हम असमर्थ हैं। कारण यह कि अनवर साहब के व्यक्तिगत साईट पर भी ऐसा कुछ नहीं लिखा। आप यहाँ देखें। साथ हीं पेश है आपका यह शेर:

आइना देख अपना सा मुंह ले कर रह गए.
साहेब को दिल न देने पे कितना गुरूर था.

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए विदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा


ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Tuesday, September 22, 2009

ये बात मैं कैसे भूल जाऊँ कि हम कभी हमसफ़र रहे हैं....."बख्शी" साहब और "अनवर" की अनोखी जुगलबंदी

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४७

मूमन तीन या चार कड़ियों से हमारी प्रश्न-पहेली का हाल एक-सा है। तीन प्रतिभागी (नाम तो सभी जानते हैं) अपने जवाबों के साथ इस पहेली का हिस्सा बनते हैं, उनमें से हर बार "सीमा" जी प्रथम आती हैं और बाकी दो स्थानों के लिए शामिख जी और शरद जी में होड़ लगी होती है। भाईयों बस दूसरे या तीसरे स्थान के लिए हीं होड़ क्यों है, पहले पर भी तो नज़र गड़ाईये। इस तरह तो बड़े हीं आराम से सीमा जी न जाने कितने मतों (यहाँ अंकों) के साथ विजयी हो जाएँगी और आपको बस दूसरे स्थान से हीं संतोष करना होगा। अभी भी ४ कड़ियाँ बाकी हैं (आज को जोड़कर),इसलिए पूरी ताकत लगा दीजिए। इस उम्मीद के साथ कि आज की पहेली में काँटे की टक्कर देखने को मिलेगी, हम पिछली कड़ी के अंकों का खुलासा करते हैं: सीमा जी: ४ अंक, शामिख जी: २ अंक और शरद जी: १ अंक। अब बारी है आज के प्रश्नों की, तो कमर कस लीजिए। ये रहे प्रतियोगिता के नियम और उसके आगे दो प्रश्न: ५० वें अंक तक हम हर बार आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब उस दिन के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। अगर आपने पिछली कड़ियों को सही से पढा होगा तो आपको जवाब ढूँढने में मुश्किल नहीं होगी, नहीं तो आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी। और हाँ, हर बार पहला सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। इन १० कड़ियों में जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) एक शायर जिसने अपने एक मित्र के लिए कहा था "आज तेरी एक नज़्म पढी"। जवाब में उस मित्र ने भी उस शायर से अपना पहचान जन्मों का बताया और कहा "कहीं पहले मिले हैं हम"। शायर के साथ-साथ उसके मित्र का भी नाम बताएँ।
२) एक गायिका जिसके साथ ८ जुलाई १९९० को कुछ ऐसा हुआ कि उसने गायकी से तौबा कर ली। उस गायिका का नाम बताएँ और यह भी बताएँ कि हमने उसकी जो गज़ल सुनवाई थी(साथ में एक और गायक थे), उसे किसने लिखा था?


आज हम जिस गज़ल को लेकर आप सबके सामने हाज़िर हुए हैं, उस गज़ल के गायक को पहचानने में कई बार लोग गलती कर जाते हैं। ज्यादातर लोगों का यह मानना है कि इस गज़ल को मोहम्मद रफ़ी साहब ने अपनी आवाज़ से सजाया है और लोगों का यह मानना इसलिए भी जायज है क्योंकि एक तो आई०एम०डी०बी० पर उन्हीं का नाम दर्ज है और फिर इस गज़ल के गायक की आवाज़ मोहम्म्द रफ़ी साहब से हुबहू नहीं भी तो कमोबेश तो जरूर मिलती है। वैसे बता दें कि यह गज़ल जिस फ़िल्म (हाँ यह गैर-फ़िल्मी रचना नहीं है, लेकिन चूँकि यह गज़ल इतनी खुबसूरत है कि हमें इसे अपनी महफ़िल में शामिल करने का फ़ैसला करना पड़ा) से ली गई है वह रीलिज़ हुई थी १९८४ में और रफ़ी साहब १९८० में सुपूर्द-ए-खाक हो गए थे, इसलिए इस गज़ल के साथ उनका नाम जोड़ना इस तरह भी बेमानी साबित होता है। तो चलिए, हम इतना तो जान गए कि इसे रफ़ी साहब ने नहीं गाया तो फिर कौन है इसका असली गायक? आप लोगों ने फिल्म "नसीब" का "ज़िंदगी इम्तिहान लेती है" या फिर "अर्पण" का "मोहब्बत अब तिज़ारत बन गई है" तो ज़रूर हीं सुना होगा...तो इस गज़ल को भी उन्होंने हीं गाया है जिन्होने उन गीतों में अपनी आवाज़ की जान डाली थी यानि कि अनवर (पूरा नाम: अनवर हुसैन)। "मेरे ख्यालों की रहगुजर से" - इस गज़ल को लिखा है हिन्दी फिल्मी गीतों के बेताज़ बादशाह "आनंद बख्शी" ने तो संगीत से सजाया है उस दौर की जानी मानी संगीतकार जोड़ी "लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल" ने। एल०-पी० के बारे में "ओल्ड इज गोल्ड" पर तो बातें होती हीं रहती हैं, इसलिए उनके बारे में हम यहाँ कुछ भी नया नहीं कह पाएँगे। बक्शी साहब के बारे में हम पिछली दो कड़ियों में बहुत कुछ कह चुके हैं। हमें मालूम है कि उतना पर्याप्त नहीं है,लेकिन चूँकि अनवर हमारे लिए नए हैं, इसलिए आज हम इन्हें मौका दे रहे हैं। अनवर का जन्म १९४९ में मुंबई में हुआ था। उनके पिता जी संगीत निर्देशक "गुलाम हैदर" के सहायक हुआ करते थे। अनवर बहुत सारे कंसर्ट्स में गाया करते थे। ऐसे हीं एक कंसर्ट में जनाब "कमल राजस्थानी" ने उन्हें सुना और उन्हें फिल्म "मेरे ग़रीब नवाज़" के लिए "कसमें हम अपनी जान की" गाने का अवसर दिया। कहते हैं कि इस गाने को सुनकर रफ़ी साहब ने कहा था कि "मेरे बाद मेरी जगह लेने वाला आ गया है"। अनवर ने इसके बाद आहिस्ता-आहिस्ता, हीर-राँझा, विधाता, प्रेम-रोग, चमेली की शादी जैसी फ़िल्मों के लिए गाने गाए। यह सच है कि अनवर के नाम पर बहुत सारे सफ़ल गाने दर्ज हैं लेकिन अफ़सोस इस बात का है कि रफ़ी साहब की बात सच न हो सकी।

कहा जाता है कि जनता हवलदार और अर्पण के गीतों से मिली अपार लोकप्रियता ने उन्हें न केवल घमंडी बना दिया था, बल्कि वे नशे के आदी भी हो गए थे, इसलिए म्यूजिक डायरेक्टरों ने उनसे किनारा करना शुरू कर दिया। हालांकि अनवर इन आरोपों को सिरे से नकारते हैं। इस बारे में वे कहते हैं(सौजन्य: जागरण): न तो कामयाबी ने मुझे मगरूर बनाया, न ही मैं नशे का आदी हुआ! इसे मेरी बदकिस्मती कह सकते हैं कि तमाम सुरीले गीत गाने के बावजूद प्लेबैक में मेरा करियर बहुत लंबा नहीं खिंच सका! जहां तक मेरे घमंडी और शराबी होने की बात है, तो इसके लिए मैं एक अखबार नवीस को जिम्मेदार ठहराता हूँ। हुआ ये कि एक बार एक मित्र ने हमारा परिचय एक फिल्म पत्रिका के वरिष्ठ पत्रकार से कराया। उसके काफी समय बाद सॅलून में उस पत्रकार से मेरी मुलाकात हुई, तो उन्हें मैं नहीं पहचान सका। बस, इसी बात का उन्हें बुरा लग गया और उन्होंने अपनी पत्रिका में मेरे बारे में अनाप-शनाप लिखना शुरू कर दिया। चूंकि उस दौर में उस पत्रिका का काफी नाम था, इसलिए उस लेख के प्रकाशन के बाद लोगों के बीच मेरी खराब इमेज बन गई। सच बताऊं, तो काफी हद तक उस पत्रकार महोदय ने भी मेरा काफी नुकसान किया। मेरे कैरियर में उतार-चढ़ाव के लिए इन अफवाहों के साथ म्यूजिक इंडस्ट्री में आया बदलाव भी एक हद तक जिम्मेदार है। महेश भट्ट की फिल्म आशिकी ने फिल्म म्यूजिक को एक अलग दिशा दी, लेकिन उसके बाद कॉपी वर्जन गाने वाले गायकों को इंडस्ट्री सिर पर बिठाने लगी और इसीलिए मौलिक गायक हाशिये पर चले गए। ऐसे में मुझे भी काम मिलने में दिक्कत हो रही थी। अच्छे गीत नहीं मिल रहे थे, जबकि विदेशों में शो के मेरे पास कई ऑफर थे। कुछ अलग करने के इरादे से ही मैं कैलीफोर्निया (अमेरिका) चला गया और वहां शो करने लगा। वहां के लोगों ने मुझे इतना प्यार दिया कि मैं वहीं का हो गया। मैं व्यवसाय के कारण भले ही अमेरिका में रहता हूं, लेकिन दिल हमेशा अपने देश में ही रहता है। ऐसे में जब यहां के लोग कुछ अलग और नए की फरमाइश करते हैं, तो मन मारकर रह जाता हूं। म्यूजिक कंसर्ट और शो में ही काफी बिजी रहने के कारण मेरी रुचि अब प्लेबैक में नहीं रही। हालांकि अच्छे ऑफर मिलने पर मैं प्लेबैक से इंकार नहीं करूँगा, लेकिन खुद इसके लिए पहल मैं कतई नहीं करने वाला। पहले भी काम मांगने किसी के पास नहीं गया था और आज भी मैं उस पर कायम हूं। हां, यदि पहले की तरह अच्छे गीत मिलें और म्यूजिक डायरेक्टर मेरे साथ काम करना चाहें, तो उन्हें निराश नहीं करूंगा। तो इस तरह हम वाकिफ़ हुए उन घटनाओं से जिस कारण अनवर को फिल्मों में गायकी से मुँह मोड़ना पड़ा। चलिए अब हम आगे बढते हैं आज की गज़ल का लुत्फ़ उठाते हैं। उससे पहले "आनंद बख्शी" का लिखा एक बड़ा हीं खुबसूरत शेर पेश-ए-खिदमत है:

ज़िक्र होता है जब क़यामत का तेरे जलवों की बात होती है,
तू जो चाहे तो दिन निकलता है तू जो चाहे तो रात होती है।


और यह रही आज़ की गज़ल:

मेरे ख़यालों की रहगुज़र से वो देखिए वो गुज़र रहे हैं,
मेरी निगाहों के आसमाँ से ज़मीन-ए-दिल पर उतर रहे हैं।

ये कैसे मुमकिन है हमनशीनो कि दिल को दिल की ख़बर न पहुंचे,
उन्हें भी हम याद आते होंगे कि जिन को हम याद कर रहे हैं।

तुम्हारे ही दम क़दम से थी जिन की मौत और ज़िंदगी अबारत,
बिछड़ के तुम से वो नामुराद अब न जी रहे हैं न मर रहे हैं।

इसी मोहब्बत की रोज़-ओ-शब हम सुनाया करते थे दास्तानें,
इसी मोहब्बत का नाम लेते हुए भी हम आज डर रहे हैं।

चले हैं थोड़े ही दूर तक बस वो साथ मेरे 'सलीम' फिर भी,
ये बात मैं कैसे भूल जाऊँ कि हम कभी हमसफ़र रहे हैं।


इस गज़ल के "मकते" में तखल्लुस के रूप में "सलीम" को पढकर कई लोग इस भ्रम में पड़ सकते हैं कि इस गज़ल को किसी "सलींम" नाम के शायर ने लिखा है। लेकिन सच ये है कि "ये इश्क़ नहीं आसान" फिल्म में "ऋषि कपूर" का नाम "सलींम अहमद सलीम" था। अब चूँकि नायक शायर की भूमिका में था, इसलिए उसकी कही गई गज़ल में उसके नाम को "तखल्लुस" के रूप में रखा गया है। यह बात अच्छी तो लगती है, लेकिन हमारे अनुसार ऐसा और कहीं नहीं हुआ। यह तो "बख्शी" साहब का बड़प्पन है कि उन्होंने ऐसा करना स्वीकार किया। क्या कहते हैं आप?



चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

वो मेरा ___ है मैं उसकी परछाई हूँ,
मेरे ही घर में रहता है मुझ जैसा ही जाने कौन....


आपके विकल्प हैं -
a) अक्स, b) सरमाया, c) हमसाया, d) आईना

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -

पिछली महफिल का सही शब्द था "इम्तिहाँ" और शेर कुछ यूं था -

न हुई गर मेरे मरने से तसल्ली न सही,
इम्तिहाँ और भी बाकी हो तो ये भी न सही..

जनाब मिर्ज़ा ग़ालिब के इस शेर को सबसे पहले सही पकड़ा सीमा जी ने। सीमा जी ने ग़ालिब के शेरों से महफ़िल को खुशगवार बना दिया, लगता है कि आप कई दिनों से ग़ालिब का हीं इंतज़ार कर रहीं थीं। ये रहे आपके पेश किए शेर:

मय वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ए-ग़ैर में यारब
आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहाँ अपना (ग़ालिब )

यही है आज़माना तो सताना किस को कहते हैं
अदू के हो लिये जब तुम तो मेरा इम्तिहाँ क्यों हो (ग़ालिब )

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं (मोहम्मद इक़बाल) यह तो बड़ा हीं मशहूर शेर है...शुक्रिया कि आपने इसे यहाँ रखा।

सीमा जी के बाद महफ़िल में इंट्री हुई शामिख जी की। आपने भी कुछ लुभावने शेर पेश किए। ये रही बानगी:

थक गये थे तुम जहाँ, वो आख़िरी था इम्तिहाँ
दो कदम मंज़िल थी तेरी, काश तुम चलते कभी (श्रद्धा जी..मतलब कि हमारी दीदी)

इम्तिहाँ से गुज़र के क्या देखा
इक नया इम्तिहान बाक़ी है (राजेश रेड्डी)

यह है इब्तदा-ए-सहर-ए-मोहब्बत
इन्तहाने-इम्तिहाँ के लिए मरता हूँ

इनके बाद महफ़िल में एक तरतीब में हाज़िर हुए शरद जी, शन्नो जी और मंजु जी। आप तीनों के नाम हम एक साथ इसलिए लिखते हैं क्योंकि जब भी स्वरचित शेरों की बात आती है तो आपका हीं नाम आता है। ये रहे आपके पेश किए हुए शेर(क्रम से):

किसी राह चलती को छेडो न यारो
अभी इस के आगे जहाँ और भी हैं
ये जूतों की बारिश तो है पहली मन्ज़िल
अभी इश्क के इम्तिहाँ और भी हैं । (क्या बात है!! )

कितने ही इम्तहान ले चुकी है जिन्दगी
खुदा जाने और भी कितने बाकी हैं.

जीवन इम्तहाँ का है नाम,
कोई होता फ़ेल तो कोई पास।

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए विदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा


ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Friday, September 18, 2009

ये बाज़ी इश्क़ की बाज़ी है जो चाहो लगा दो.... महफ़िल में पहली मर्तबा "नुसरत" और "फ़ैज़" एक साथ

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४६

पिछली कड़ी में जहाँ सारे जवाब परफ़ेक्ट होते-होते रह गए थे(शरद जी अपने दूसरे जवाब के साथ कड़ी संख्या जोड़ना भूल गए थे), वहीं इस बार हमें इस बात की खुशी है कि पहली मर्तबा किसी ने कोई गलती नहीं की है। खुशी इस बात की भी है कि जहाँ हमारे बस दो नियमित पहेली बूझक हुआ करते थे(सीमा जी और शरद जी), वहीं इसी फ़ेहरिश्त में अब शामिख जी भी शामिल हो गए हैं। उम्मीद करते हैं कि धीरे-धीरे और भी लोग हमारी इस मुहिम में भाग लेने के लिए आगे आएँगे। अभी भी ५ कड़ियाँ बाकी हैं, इसलिए कभी भी सारे रूझान बदल सकते हैं। इसलिए सभी प्रतिभागियों से आग्रह है कि वे जोर लगा दें और जो अभी भी किसी शर्मो-हया के कारण खुद को छुपाए हुए हैं,वे पर्दा हटा के सामने आ जाएँ। चलिए अब पिछली कड़ी के अंकों का हिसाब करते हैं। इस बार का गणित बड़ा हीं आसान है: सीमा जी: ४ अंक, शरद जी: २ अंक, शामिख जी: १ अंक। और हाँ, शरद जी आपकी यह बहानेबाजी नहीं चलेगी। महफ़िल-ए-गज़ल में आपको आना हीं होगा और जवाब भी देना होगा। चलिए, अब बारी है आज के प्रश्नों की| तो ये रहे प्रतियोगिता के नियम और उसके आगे दो प्रश्न: ५० वें अंक तक हम हर बार आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब उस दिन के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। अगर आपने पिछली कड़ियों को सही से पढा होगा तो आपको जवाब ढूँढने में मुश्किल नहीं होगी, नहीं तो आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी। और हाँ, हर बार पहला सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। इन १० कड़ियों में जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) "महाराष्ट्र प्राईड अवार्ड" से सम्मानित एक फ़नकार जिन्होंने अपने शुरूआती दिनों में "गमन" फ़िल्म का एक गीत गाकर प्रसिद्धि पाई। उस फ़नकार का नाम बताएँ और यह भी बताएँ कि वह कौन-सा गीत है जिसकी हम बातें कर रहे हैं।
२) आज से करीब २३ साल पहले चिट्ठी लेकर आने वाला एक फ़नकार जिसके बड़े भाई ने फिल्म "अभिमान" में लता मंगेशकर के साथ एक दोगाना गया था। उस फ़नकार के नाम के साथ अभिमान फ़िल्म का वह गाना भी बताएँ।


यूँ तो महफ़िल में किसी एक बड़े फ़नकार का आना हीं हमारे लिए बड़े फ़ख्र की बात होती है, इसलिए जब भी "नुसरत फतेह अली खान" साहब या फिर "फ़ैज़ अहमद फ़ैज़" साहब की हमारी महफ़िल में आमद हुई है, हमने उस दिन को किसी जश्न की तरह जिया है, लेकिन उसे क्या कहिएगा जब एक साथ ये दो बड़े फ़नकार आपकी महफ़िल में आने को राज़ी हो जाएँ। कुछ ऐसा हीं आज यहाँ होने जा रहा है। आज हम आपको जो गज़ल सुनवाने जा रहे हैं उसे अपने बेहतरीन हर्फ़ों से सजाया है "फ़ैज़" ने तो अपनी रूहानी और रूमानी आवाज़ से सराबोर किया है "बाबा नुसरत" ने। हम बता नहीं सकते कि इस गज़ल को पेश करते हुए हमें कैसा अनुभव हो रहा है। लग रहा है मानो एक दिन के लिए हीं सही लेकिन जन्नत ने आज अपने दरवाजे हम सब के लिए खोल दिए हैं। चलिए तो फिर, आज की महफ़िल की विधिवत शुरूआत करते हैं और बात करते हैं सबसे पहले "नुसरत फतेह अली खान" की। बहुत ढूँढने पर हमें जनाब राहत फतेह अली खान का एक इंटरव्यु हाथ लगा है। हमारे लिए यह फ़ख्र की बात है कि "राहत" साहब से यह बातचीत हिन्द-युग्म की हीं एक वाहिका "रचना श्रीवास्तव" ने की थी। तो पेश हैं उस इंटरव्यु के कुछ अंश: मैं नुसरत फ़तेह अली खान साहब का भतीजा हूँ और मेरे वालिद फार्रुख फतेह अली खान साहेब को भी संगीत का शौक था बस समझ लीजिये की इसी कारण पूरे घर में ही संगीत का माहौल था। ७ साल की उमर में मैने अपना पहला कार्यक्रम किया था। खाँ साहेब ने मुझे सुना और बहुत तारीफ़ की। उनका कोई बेटा नही था तो उन्होंने मुझे गोद ले लिया था। मैं आज जो कुछ भी हूँ उन्ही की बदौलत हूँ, संगीत के रूह तक पहुँचना उन्हीं से सीखा है। १९८५ में वो मुझे बहर भी ले कर गए। जब भी कभी मै गाता था उनकी तरफ़ ही देख कर गाता था। सभी कहते थे सामने देख कर गाओ, पर मै यदि उनको न देखूँ तो गा ही नहीं सकता था। वो स्टेज पे गाते गाते हीं मुझे बहुत कुछ सिखा देते थे। आप सब तो राजीव शुक्ला को जानते हीं होंगे। जनाब कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य हैं। उनके पास भी नुसरत साहब की कुछ यादें जमा हैं। वे कहते हैं: मैं एक बार लाहौर में प्रसिद्ध गायक नुसरत फतेह अली खान का इंटरव्यू करने गया था, शायद वह उनका आखिरी टेलीविजन इंटरव्यू था। नुसरत ने तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से पुरजोर मांग की थी कि पाकिस्तान के दरवाजे भारतीय कलाकारों के लिए खोल दिए जाने चाहिए। नुसरत शायद पहले ऐसे पाकिस्तानी कलाकार थे जिन्होंने ईमानदारी से यह बात कही थी, वरना नूरजहां से लेकर आबिदा परवीन तक किसी को भी मैंने यह कहते नहीं सुना कि भारतीय कलाकारों को पाकिस्तान में आमंत्रित किया जाना चाहिए। तो इस कदर खुले दिल के थे हमारे "बाबा नुसरत"। बस गम यही है कि ऐसा साफ़-दिल का इंसान अब हमारे बीच नहीं है..लेकिन उनकी आवाज़ तो हमेशा हीं रवां रहेगी।

"बाबा" के बाद अब समय है शायरी की दुनिया के बेताज़ बादशाह "फ़ैज़ अहमद फ़ैज़" की यादें जवां करने की। फ़ैज़ के बारे में अपनी पुस्तक "पाकिस्तान की शायरी" में "श्रीकान्त" कहते हैं: किसी देश की पहचान यदि किसी साहित्यकार के नाते की जाए तो इससे बढ़कर मसिजीवी का सम्मान और क्या हो सकता है ! फ़ैज़ ऐसे ही शायर हुए, जिनकी वजह से लोग पाकिस्तान को जानते थे। वे जेल के बन्द सीख़चों से भी सारी दुनिया के दमित, दलित, शोषित लोगों को जगाते रहे। उर्दू शायरी में प्रगतिवाद की चर्चा बिना फ़ैज़ के अपूर्ण मानी जाती है। फ़ैज़ नज़्मों और ग़ज़लों दोनों के शायर हैं। उनकी रचनाओं में जज़्बाती ज़िंदगी फैली हुई है। फ़ैज़ की शायरी में वर्तमान की व्यथा, विडम्बनाएँ तथा उससे मुक्ति की छटपटाहट स्पष्ट-अस्पष्ट दृष्टव्य हैं। फ़ैज़ के सम्पूर्ण का निर्माता भले न हो, वर्तमान को यथोचित दिशा देने का यत्न अवश्य करता है, ताकि आगामी पल स्वस्थ तथा सुन्दर हो। फ़ैज़ ने शिल्प तथा विषयगत क्रान्तिकारी परिवर्तन किए, जिसका प्रभाव आज तक कुछ उर्दू कवियों में देखा जा सकता है। फ़ैज़ की शायरी में विचार और कला का अनूठा सामंजस्य मिलता है। किसी का परिचय देते समय कोई इससे ज्यादा क्या कहेगा! फ़ैज़ के बारे में किसी लेखक का यह कहना किसी भी लिहाज़ से गलत नहीं है(सौजन्य: भारतीय साहित्य संग्रह): उर्दू शाइरी में फ़ैज़ को ग़ालिब और इक़बाल को पाये का शाइर माना गया है, लेकिन उनकी प्रतिबद्ध प्रगतिशील जीवन-दृष्टि सम्पूर्ण उर्दू शाइरी में उन्हें एक नई बुलन्दी सौंप जाती है। फूलों की रंगो-बू से सराबोर शाइरी से अगर आँच भी आ रही हो तो मान लेना चाहिए कि फ़ैज़ वहाँ पूरी तरह मौजूद हैं। यही उनकी शाइरी की ख़ास पहचान है, यानी रोमानी तेवर में खालिस इन्क़लाबी बात। उनकी तमाम रचनाओं में जैसे एक अर्थपूर्ण उदासी, दर्द और कराह छुपी हुई है, इसके बावजूद वह हमें अद्भुत् रूप से अपनी पस्तहिम्मती के खिलाफ़ खड़ा करने में समर्थ है। कारण, रचनात्मकता के साथ चलने वाले उनके जीवन-संघर्ष। उन्हीं में उनकी शाइरी का जन्म हुआ और उन्हीं के चलते वह पली-बढ़ी। वे उसे लहू की आग में तपाकर अवाम के दिलो-दिमाग़ तक ले गए और कुछ इस अन्दाज़ में कि वह दुनिया के तमाम मजलूमों की आवाज़ बन गई। समय-समय पर हम इसी तरह फ़ैज़ के बारे में बाकी लेखकों और शायरों के विचार आपसे बाँटते रहेंगे। अभी आगे बढते हैं गज़ल की ओर। उससे पहले "फ़ैज़" का लिखा एक बड़ा हीं खुबसूरत शेर पेश-ए-खिदमत है:

तुम आये हो न शब-ए-इन्तज़ार गुज़री है,
तलाश में है सहर बार बार गुज़री है।


वैसे जानकारी के लिए बता दें कि इस गज़ल को "मुज़फ़्फ़र अली" की फ़िल्म "अंजुमन" में भी शामिल किया गया था, जिसमें आवाज़ें थीं संगीतकार खैय्याम और जगजीत कौर की। वह फ़िल्म अपने-आप में हीं अजूबी थी, क्योंकि उसके एक और गाने को शबाना आज़मी ने गाया था। खैर छोड़िये उन बातों को, अभी हम नुसरत साहब की आवाज़ में इस गज़ल का लुत्फ़ उठाते हैं:

कब याद में तेरा साथ नहीं,कब हाथ में तेरा हाथ नहीं,
सद शुक्र के अपनी रातों में अब हिज्र की कोई रात नहीं।

मुश्किल हैं अगर हालात वहाँ दिल बेच आयेँ जाँ दे आयेँ,
दिल वालो कूचा-ए-जानाँ में क्या ऐसे भी हालात नहीं।

जिस धज से कोई मक़्तल में गया वो शान सलामत रहती है,
ये जान तो आनी जानी है इस जाँ की तो कोई बात नहीं।

मैदान-ए-वफ़ा दरबार नहीं, याँ नाम-ओ-नसब की पूछ कहाँ,
आशिक़ तो किसी का नाम नहीं कुछ इश्क़ किसी की ज़ात नहीं।

ये बाज़ी इश्क़ की बाज़ी है जो चाहो लगा दो डर कैसा,
गर जीत गए तो क्या कहना हारे भी तो बाज़ी मात नहीं।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

न हुई गर मेरे मरने से तसल्ली न सही,
___ और भी बाकी हो तो ये भी न सही


आपके विकल्प हैं -
a) आजमाईश, b) इम्तहां, c) तन्हाई, d) बेकरारी

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -

पिछली महफिल का सही शब्द था "तन्हाई" और शेर कुछ यूं था -

मैं बहुत जल्दी ही घर लौट के आ जाऊँगा,
मेरी तन्हाई यहाँ कुछ दिनों पहरा दे दे...

राहत इंदौरी के इस शेर को सबसे पहली सही पहचाना "सीमा" जी ने। सीमा जी ने वह गज़ल भी पेश की जिससे यह शेर लिया गया है। उस गज़ल का मतला और मक़ता दोनों हीं बड़े हीं शानदार हैं। आप भी देखिए:

शहर में ढूँढ रहा हूँ के सहारा दे दे
कोई हातिम जो मेरे हाथ में कासा दे दे

तुमको राहत की तबीयत का नहीं अंदाज़ा
वो भिखारी है मगर माँगो तो दुनिया दे दे।

इस गज़ल के बाद सीमा जी ने कुछ शेर महफ़िल के सुपूर्द किए। ये रही बानगी:

जब भी तन्हाई से घबरा के सिमट जाते हैं
हम तेरी याद के दामन से लिपट जाते हैं (सुदर्शन फ़ाकिर)

तन्हाई की ये कौन सी मन्ज़िल है रफ़ीक़ो
ता-हद्द-ए-नज़र एक बयाबान सा क्यूँ है (शहरयार)

कावे-कावे सख़्तजानी हाय तन्हाई न पूछ
सुबह करना शाम का लाना है जू-ए-शीर का (मनु जी के बड़े अंकल यानि कि मिर्ज़ा ग़ालिब)

निर्मला जी, आपको हमारी पेशकश पसंद आई, इसके लिए आपका तहे-दिल से शुक्रिया। आगे भी हमारा यही प्रयास रहेगा कि गज़लों का यह स्तर बना रहे।

शरद जी, मंजु जी और शन्नो जी ने अपने-अपने स्वरचित शेर पेश किए। शन्नो जी, हौसला-आफ़जाई के लिए आपका किन लफ़्ज़ों में शुक्रिया अदा करूँ। आप तीनों इसी तरह महफ़िल में आते रहें और शेर सुनाते रहें, यही दुआ है। ये रहे आपके पेश किए हुए शेर(क्रम से):

मेरी तन्हाई मेरे पास न आती है कभी,
जब भी आती है तेरी याद भी आ जाती है।

मेरी तन्हाई के गरजते -बरसते बादल हो ,
यादों के आंसुओं से समुन्द्र बन जाते हो।

तन्हाई के आलम में तन्हाई मुझे भाती
कुछ ऐसे लम्हों में हो जाती हूँ जज्बाती।

अंत में अपने लाजवाब शेरों के साथ महफ़िल में नज़र आए शामिख जी। कुछ शेर जो आपकी पोटली से निकलकर हमारी ओर आए:

शब की तन्हाई में अब तो अक्सर
गुफ़्तगू तुझ से रहा करती है (परवीन शाकिर)

कुछ न किसी से बोलेंगे
तन्हाई में रो लेंगे (अहमद फ़राज़)

अंगड़ाई पर अंगड़ाई लेती है रात जुदाई की
तुम क्या समझो तुम क्या जानो बात मेरी तन्हाई की (क़तील शिफ़ाई)

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए विदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा


ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Tuesday, September 15, 2009

एक कोने में गज़ल की महफ़िल, एक कोने में मैखाना हो..."गोरखपुर" के हर्फ़ों में जाम उठाई "पंकज" ने

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४५

पूरी दो कड़ियों के बाद "सीमा" जी ने अपने पहले हीं प्रयास में सही जवाब दिया है। इसलिए पहली मर्तबा वो ४ अंकों की हक़दार हो गई हैं। "सीमा" जी के बाद हमारी "प्रश्न-पहेली" में भागेदारी की शामिख फ़राज़ ने। हुज़ूर, इस बार आपने सही किया. पिछली बार की तरह ज़ेरोक्स मशीन का सहारा नहीं लिया, इसलिए हम भी आपके अंकों में किसी भी तरह की कटौती नहीं करेंगे। लीजिए, २ अंकों के साथ आपका भी खाता खुल गया। आपके लिए अच्छा अवसर है क्योंकि हमारे नियमित पहेली-बूझक शरद जी तो अब धीरे-धीरे लेट-लतीफ़ होते जा रहे हैं, इसलिए आप उनके अंकों की बराबरी आराम से कर सकते हैं। बस नियमितता बनाए रखिए। "शरद" जी, यह क्या हो गया आपको। एक तो देर से आए और ऊपर से दूसरे जवाब में कड़ी संख्या लिखा हीं नहीं। इसलिए आपका दूसरा जवाब सही नहीं माना जाएगा। इस लिहाज़ से आपको बस .५ अंक मिलते हैं। कुलदीप जी, हमने पिछली महफ़िल में हीं कहा था कि सही जवाब देने वाले को कम से कम १ अंक मिलना तो तय है, इसलिए जवाब न देने का यह कारण तो गलत है। लगता है आपने नियमों को सही से नहीं पढा है। अभी भी देर नहीं हुई, वो कहते हैं ना कि "जब जागो, तभी सवेरा"। ये तो हुई पिछली कड़ी की बातें, अब बारी है आज के प्रश्नों की| तो ये रहे प्रतियोगिता के नियम और उसके आगे दो प्रश्न: ५० वें अंक तक हम हर बार आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब उस दिन के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। अगर आपने पिछली कड़ियों को सही से पढा होगा तो आपको जवाब ढूँढने में मुश्किल नहीं होगी, नहीं तो आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी। और हाँ, हर बार पहला सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। इन १० कड़ियों में जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) ‘रावलपिंडी कांस्पिरेसी केस’ के सिलसिले में गिरफ़्तार किए गए एक शायर जिन्होंने अपने परम मित्र की मौत के बाद उनके एक शेर के जवाब में कहा था "चाँदनी दिल दुखाती रही रात भर"। उस शायर का नाम बताएँ और यह भी बताएँ कि उनके उस मित्र ने किस आँदोलन में हिस्सा लिया था?
२) १९७६ में अपने संगीत-सफ़र की शुरूआत करने वाले एक फ़नकार जिनकी उस गज़ल को हमने सुनवाया था जिसे "हस्ती" ने लिखा था। उस फ़नकार का नाम बताएँ और यह भी बताएँ कि वह गज़ल किस एलबम में शामिल है?


आज हम जिस गज़ल को पेश करने जा रहे हैं उसके शायर और गज़ल-गायक दोनों हमारी महफ़िल में पहले भी आ चुके हैं या यूँ कहिए कि इनकी जोड़ी हमारी महफ़िल में तशरीफ़ ला चुकी है। वह नज़्म थी "एक तरफ़ उसका घर, एक तरफ़ मयकदा"। जी हाँ हम शायर "ज़फ़र गोरखपुरी" और गज़ब के गज़ल-गायक "पंकज उधास" की बातें कर रहे हैं। पंकज उधास का नाम आते हीं लोगों को शराब, साकी, मैखाना की हीं यादें आती हैं और इसलिए उन पर आरोप भी लगाया जाता है कि कच्ची उम्र के श्रोताओं को इनकी ऐसी नज़्में/गज़लें रास्ते से भटकाती हैं। लेकिन इस सिलसिले में पंकज जी के कुछ अलग हीं विचार हैं। "यह मेरे कैरियर से जुड़ी सबसे अहम बात है, जिसका खुलासा आज मैं करना चाहता हूं.....देखिए, मैं गायकी की दुनिया में २८ साल से हूं और पहले एलबम "आहट" से लेकर अब तक ४० से ज्यादा एलबम रिलीज हो चुके हैं और अगर सारी कंपोजीशन को आप देखें, तो पाएंगे कि सिर्फ पच्चीस के आस-पास ऎसी गजलें हैं, जिनमें शराब और साकी वगैरह का जिक्र है। लेकिन बदकिस्मती से म्यूजिक कंपनियों ने इन्हे इस तरह रिलीज किया कि मेरी ऐसी इमेज बन गई कि मैं पीने-पिलाने टाइप की गजलें ही गाता हूं।" जो भी हो, लेकिन संयोग देखिए कि हमारी आज की गज़ल में भी ऐसे हीं किसी "मैखाने" का ज़िक्र है। पंकज उधास साहब जहाँ एक तरफ़ गज़लों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए भी उसकी स्थिति को सामान्य मानते हैं, वहीं दूसरी तरफ़ हिन्दी-फिल्मी संगीत की स्थिति पर कठोर शब्दों में चिंता ज़ाहिर करते हैं। उनका कहना है कि इक्कीसवीं सदी की शुरुआत में फिल्म उद्योग में बूम आया, लेकिन फिल्म संगीत इस बूम से अछूता है। जैसा संगीत फिल्मों के लिए तैयार किया जा रहा है, उसे देखकर महसूस होता है कि म्यूजिक आगे नहीं जा रहा है। पाँच साल बाद फिल्मों में मौसिकी रहेगी ही नहीं। आजकल फिल्मों में दो-तीन आइटम सांग को ही फिल्म संगीत कहा जाने लगा है। कई फिल्में ऐसी भी आई हैं, जिनके मुख्य किरदार पर एक भी गाना नहीं फिल्माया गया। फिल्म संगीत में कहीं गंभीर काम की झलक दिखाई नहीं देती। वैसे जितने लोगों को यह लगता है कि पंकज उधास साहब अपनी गायकी की शुरूआत फिल्म "नाम" के "चिट्ठी आई है" से की थी, तो उनके लिए एक खास जानकारी हम पेश करने जा रहे हैं। १९७१ में बी० आर० इशारा की फिल्म "कामना" के लिए इन्होंने उषा खन्ना के संगीत में "नक्श लायलपुरी" की एक नज़्म गाई थी जिसके बोल कुछ यूँ थे -"-तुम कभी सामने आ जाओ तो पूछूं तुमसे/किस तरह दर्दे मुहब्बत को सहा जाता है"। बदकिस्मती से वह फिल्म रीलिज न हो पाई लेकिन इसके रिकार्ड रीलिज ज़रूर हुए। तो इतने पुराने हैं हमारे पंकज साहब।

आज से ७ साल पहले "खजाना" नाम के एक महोत्सव की शुरूआत करने वाले पंकज साहब इसके बारे में कहते हैं: सात साल पहले हमने ये सिलसिला इसलिए शुरु किया था कि साल में एक बार ग़ज़ल की दुनिया के सभी लोग एक मंच पर इकट्ठा हो सकें और हमें खुशी है कि ये कार्यक्रम हर साल कामयाबी की बुलंदियां छूता जा रहा है। इसमें दो उभरते गजल गायकों को सामने लाया जाता है। इस तरह से हम सारे स्थापित गज़ल गायक मिलकर गजल को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। इस साल यह कार्यक्रम मदन मोहन साहब को समर्पित था। गज़लों की आजकल की स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए ये कहते हैं: 'कौमी आवाज' जैसा अखबार बंद हो गया, लेकिन कहीं से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। मौसिकी और शायरी दोनों का स्तर गिरा है, मगर इसके लिए सिर्फ गायकों को दोष देना सही नहीं है।इसके लिए नगमानिगार (गीत लिखने वाले) भी उतने ही जिम्मेदार हैं, जो बेहतरीन शायरी नहीं लिख रहे। नतीजतन, नई पीढ़ी का शायरी और साहित्य के साथ लगाव कम होता जा रहा है। ऐसा माना जाता है कि शायर को मुफलिसी में जीना पड़ता है, इसीलिए शायर या कवि बनने से बेहतर है कि कुछ और किया जाए, जिसमें पैसा जल्द पैदा होता हो। दाग जैसे नामचीन शायरों को अपने परिवार की चिंता नहीं रहती थी। निजाम से उन्हें घर चलाने के लिए धन मिलता था। श्रोता भी अपना दामन बचा नहीं सकते। नई पीढ़ी के शायरों को न तो बढ़ावा मिलता है, न दाद। नए शायरों को प्रोत्साहन करने से तस्वीर बदल सकती है। आज केवल गंभीर काम पर जिंदा नहीं रहा जा सकता। आगे बढ़ना तो नामुमकिन है। आवाम को नए शायरों और गजल गायकों की हौसला अफजाई करना चाहिए। इतना होने के बावजूद पंकज उधास को इस बात की खुशी है कि गज़ल सुनने वाले आज भी उसी उत्साह के साथ महफ़िलों में आते हैं। इस बाबत इनका कहना है कि: गजल का साथ कभी नहीं छूट सकता और मेरा तो मानना है कि लोग आज भी उसी कशिश के साथ गजल सुनना पसंद करते हैं। आज भी जब कहीं हमारा कंसर्ट होता है, तो उसमें बेशुमार संगीत प्रेमी शिरकत करते हैं। अगर गजलों का दौर खत्म हो गया होता, तो इतने सारे लोग कहां से आते हैं। इतना जरूर है कि बीच में जब पॉप म्यूजिक का हंगामा था, तब थोड़े वक्त के लिए गजल पिछड़ गई थी, लेकिन जल्द ही पॉप हाशिए पर चला गया और गजल को फिर पहले वाला मुकाम हासिल हो गया। पंकज उधास के बारे में इतनी बातें करने के बाद यूँ तो हमें अब आज की गज़ल के शायर की तरफ़ रूख करना चाहिए, लेकिन समयाभाव(पढें: स्थानाभाव) के कारण हमें अपने इस आलेख को यहीं विराम देना होगा। "ज़फ़र" साहब की बातें कभी अगली कड़ी में करेंगे। आज हम उनके इस शेर से हीं काम चला लेते हैं:

वो बदगुमां हो तो शेर सूझे न शायरी
वो महर-बां हो ’ज़फ़र’ तो समझो ग़ज़ल हुई।


क्या आपको यह मालूम है कि "दिलवाले दुल्हनिया ले जाएँगे" के दो गीतों "न जाने मेरे दिल को क्या हो गया" और "तुझे देखा तो ये जाना सनम" की रचना "ज़फ़र" साहब ने हीं की थी। नहीं मालूम था ना। कोई बात नहीं, आज तो जान गए। तो चलिए शायर की उसी रूमानियत को महसूस करते हुए इस गज़ल का आनंद उठाते है:

एक ऐसा घर चाहिए मुझको, जिसकी फ़ज़ा मस्ताना हो,
एक कोने में गज़ल की महफ़िल, एक कोने में मैखाना हो।

ऐसा घर जिसके दरवाज़े बंद न हों इंसानों पर,
शेखो-बरहमन, रिंदो-शराबी सबका आना जाना हो।

एक तख्ती अंगूर के पानी से लिखकर दर पर रख दो,
इस घर में वो आये जिसको सुबह तलक न जाना हो।

जो मैखार यहाँ आता है अपना महमां होता है,
वो बाज़ार में जाके पीले जिसको दाम चुकाना हो।

प्यासे हैं होठों से कहना कितना है आसान "ज़फ़र"
मुश्किल उस दम आती है जब आँखों से समझाना हो।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

मैं बहुत जल्दी ही घर लौट के आ जाऊँगा,
मेरी ____ यहाँ कुछ दिनों पहरा दे दे...


आपके विकल्प हैं -
a) बेज़ारी, b) परछाई, c) तन्हाई, d) बेकरारी

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -
पिछली महफिल का सही शब्द था "बच्चा" और शेर कुछ यूं था -

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है ...

बशीर बद्र साहब के इस शेर को सबसे पहले सही पहचाना "सीमा जी" ने। ये रहे आपके पेश किए हुए कुछ शेर:

ज़िन्दगी की पाठशाला में यहाँ पर उम्र भर
वृद्ध होकर भी हमेशा आदमी बच्चा रहा। (कमलेश भट्ट 'कमल' )

मेरी ख़्वाहिश है कि फिर से मैं फ़रिश्ता हो जाऊं
माँ से इस तरह लिपट जाऊं कि बच्चा हो जाऊं| (मुनव्वर राना ) ..वाह! क्या बात है!

पाल-पोसकर बड़ा किया था फिर भी इक दिन बिछड़ गए
ख़्वाबों को इक बच्चा समझा मैं भी कैसा पागल हूँ (देवमणि पांडेय )

घर में वो अपनी ज़िद्द से सताता किसे नहीं
ऐ दोस्त ज़िद्दी बच्चा रुलाता किसे नहीं (प्राण शर्मा )

सीमा जी के बाद महफ़िल में नज़र आए शामिख साहब। आपने भी कुछ मनोहारी शेर पेश किए। ये रही बानगी:

आओ बच्चो तुम्हें दिखाएं झाँकी हिंदुस्तान की
इस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान की

घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाये

सुमित जी ने निदा फ़ाज़ली साहब का एक शेर महफ़िल के सुपूर्द किया:

बच्चो के छोटे हाथो को चाँद सितारे छूने दो,
चार किताबे पढ़कर वो भी हम जैसे हो जायेंगे।

मंजु जी और शन्नो जी भी अपने-अपने स्वरचित शेरों के साथ महफ़िल में तशरीफ़ लाईं। ये रहे इनके कहे हुए शेर(क्रम से):

बच्चा हूँ तो क्या,नहीं अक्ल से कच्चा,
आग -पानी सा हूँ सच्चा,इसलिए हूँ ईश्वर-सा।

एक बच्चे की तरह खाली झोली लेकर ही आते रहे
और एक कोने में दुबक तमाशाई बन हम बैठ जाते थे.

अंत में कुलदीप जी का हमारी महफ़िल में आना हुआ। आपने भी कुछ बेहतरीन शेर पेश किए:

दिल भी जिद पर अदा है किसी बच्चे की तरह
या तो सब कुछ ही इसे चाहिए या कुछ भी नहीं (राजेश रेड्डी)

गुडियों से खेलती हुई बच्ची की आंख में
आंसू भी आ गया तो समंदर लगा हमे (इफ्तिखार आरिफ)

मनु जी, क्या कहें आपको। छोड़िए..जाने दीजिए...कहने का कोई फ़ायदा नहीं।

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए विदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा



ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Friday, September 11, 2009

आज के बाद कोई खत न लिखूँगा तुझको.... "अश्क़" के हवाले से चेता रहे हैं "चंदन दास"

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४४

गर पिछली कड़ी की बात करें तो उस कड़ी की प्रश्न-पहेली का हमारा अनुभव कुछ अच्छा नहीं रहा। "सीमा" जी जवाबों के साथ सबसे पहले हाज़िर तो हुईं लेकिन उन्होंने फिर से डेढ सवालों का हीं सही जवाब दिया। हमें लगा कि इस बार भी हमें वही करना होगा जो हमने पिछली बार किया था यानि कि उधेड़बुन का निपटारा, लेकिन "सीमा" जी की खेल-भावना ने हमें परेशान होने से बचा लिया। यह तो हुई अच्छी बात लेकिन जिस बुरे अनुभव का हम ज़िक्र कर रहे हैं वह है शरद जी का देर से महफ़िल में हाज़िर होना (मतलब कि पुकार लगाने के बाद) और शामिख जी का शरद जी के जवाबों को हुबहू छाप देना। शामिख जी, यह बात हमने वहाँ टिप्पणी करके भी बता दी थी कि सही जवाबों के बावजूद आपको कोई अंक नहीं मिलेगा। हमारे प्रश्न इतने भी मुश्किल न हैं कि आपको ऐसा करना पड़े। और हाँ, आपने शायद नियमों को सही से नहीं पढा है। हर सही जवाब देने वाले को कम से कम १ अंक मिलना तो तय है। इसलिए आपका यह कहना कि चूँकि सीमा जी ने जवाब दे दिया था इसलिए मैने कोशिश नहीं की, का कोई मतलब नहीं बनता। शरद जी, आपको भी मान-मनव्वल की जरूरत आन पड़ी। आप तो हमारे नियमित पाठक/श्रोता/पहेली-बूझक रहे हैं। खैर पिछली कड़ी के अंकों का हिसाब कुछ यूँ बनता है- सीमा जी: ३ अंक , शरद जी: २.५ अंक (.५ अंक बोनस, बाकी बचे आधे सवाल का सही जवाब देने के लिए)। अब बारी है आज के प्रश्नों की| तो ये रहे प्रतियोगिता के नियम और उसके आगे दो प्रश्न: ५० वें अंक तक हम हर बार आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब उस दिन के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। अगर आपने पिछली कड़ियों को सही से पढा होगा तो आपको जवाब ढूँढने में मुश्किल नहीं होगी, नहीं तो आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी। और हाँ, हर बार पहला सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। इन १० कड़ियों में जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) "कमाल अमरोही" के शहर में अंतिम साँसें लेने वाला एक शायर जो उनकी एक फ़िल्म में असिस्टेंट डायरेक्टर भी था। उस शायर का नाम बताएँ और यह भी बताएँ कि महफ़िल-ए-गज़ल में हमने उनकी जो नज़्म पेश की थी उसे आवाज़ से किसने सजाया था?
२) एक फ़नकार जिसने महेश भट्ट के लिए "डैडी" में गाने गाए तो "खय्याम" साहब के लिए "उमराव जान" में। उस फ़नकार के नाम के साथ यह भी बताएँ कि उनकी सर्वश्रेष्ठ १६ गज़लों से लबरेज एलबम का नाम क्या है?


आज हम जिस फ़नकार जिस गायक की नज़्म लेकर इस महफ़िल में हाज़िर हुए हैं उसकी ताज़ातरीन एलबम का नाम है "जब दिल करते हैं, पीते हैं"। इस एलबम में संगीत है "जयदेव कुमार" का तो फ़ैज़ अनवर, प्याम सईदी, इसरार अंसारी और नसिम रिफ़त की नज़्मों और गज़लों को इस एलबम में स्थान दिया गया है। १२ मार्च १९५६ को जन्मे इस फ़नकार ने ८ साल की छोटी-सी उम्र में गाना शुरू कर दिया था। इन्होंने उस्ताद मूसा खान से गज़ल और पंडित मणी प्रसाद से शास्त्रीय संगीत की तालीम ली है। २६ साल की उम्र में इनकी गज़लों की पहली एलबम रीलिज हुई थी जिसमें इनका परिचय स्वयं तलत अज़ीज़ साहब ने दिया था। १९८३ में इन्हें "बेस्ट न्यु गज़ल सिंगर" के अवार्ड से नवाज़ा गया। १९९३ में इनकी एलबम "दीवानगी" के लिए "एस०यु०एम०यु०" की तरफ़ से इन्हें "बेस्ट गज़ल" और "बेस्ट गज़ल सिंगर" के दो अवार्ड मिले। आज भी इनकी गज़लों की रुमानियत और इनकी आवाज़ में बसी सच्चाई बरकरार है। अब तो आप समझ हीं गए होंगे कि हम किनकी बात कर रहे हैं। हम बात कर रहे हैं "चंदन दास" की, जिन्होंने "दिल की आवाज़", "सदा", "पिया नहीं जब गाँव में", "इनायत", "एक महफ़िल", "तमन्ना", "अरमान", "जान-ए-गज़ल", "सितम", "चाहत", "ऐतबार-ए-वफ़ा" और "गुजारिश" जैसे न जाने कितने एलबमों में न सिर्फ़ गायन किया है, बल्कि इन्हें संगीत से भी सजाया है। चंदन दास से जब यह पूछा गया कि उनके पास अपने संगीत सफ़र की कैसी यादें जमा हैं तो उनका कहना था: पिताजी नहीं चाहते थे कि मैं संगीत के क्षेत्र को अपनाऊं। वो चाहते थे कि मैं उनका मूर्शिदाबाद का व्यापार संभालूँ। घर में खूब विरोध हुआ और संगीत के लिए मैंने घर छोड़ दिया और ग्यारहवीं कक्षा के बाद अपने चाचा के पास पटना आ गया। १९७६ में फिर मैं दिल्ली चला गया जहाँ ओबराय होटल में काम करने लगा। वहीं पर काफ़ी संघर्ष के बाद जब मुझे दिल्ली दूरदर्शन में गजल पेश करने का मौका मिला तो उस कार्यक्रम को देखकर पिताजी मुझसे मिलने दिल्ली आए थे। उस वक्त लगभग १४ साल बाद पिताजी से मुलाकात हुई थी।

गज़ल पेश करने भोपाल गए "चंदन दास" से "भास्कर" की खास मुलाकात में उन्होंने आजकल के संगीत के बारे में भी ढेर सारी बातें की थी। प्रस्तुत है उनसे किए गए कुछ प्रश्न और उनके बेहतरीन जवाब: फिल्मों से गजलें एकदम गायब सी हैं? आजकल की फिल्मों में वैसी सिचुएशन नहीं रहती कि गजले शामिल हो सकें। पहले की फिल्मों में गजलों को खासी जगह मिलती थी, अब तो फिल्मों में गजलों का नामो-निशान तक नहीं रह गया है। गजल गायकी की वर्तमान हालत से संतुष्ट हैं? गजल पर फ्यूजन हावी हो रहा है। ऐसा लग रहा है कि इसके मूल स्वरूप से खिलवाड़ होने लगा है। गाने वालों को उर्दू की समझ ही नहीं। क्या गजलों से श्रोताओं की दूरी बन रही है? यह सही है कि पश्चिम के संगीत की वजह से गजलों से श्रोताओं की दूरी बनी है। गजल एक गंभीर विधा है। इसे समझने, जानने वाले श्रोता हमेशा विशिष्ट होते हैं। गजल गायकी की चाहत रखने वालों को इस विधा को सीखने में जल्दबाजी नहीं करना चाहिए। इसके लिए पहले अच्छे गुरु से तालीम हासिल करनी चाहिए और निपुण होने के बाद ही गायकी प्रारंभ करनी चाहिए। गजलों के लिए भी रिएलिटी शो होना चाहिए? गजल एक विशिष्ट विधा है। यदि गजलों के लिए रिएलिटी शो होंगे तो इसकी अहमियत खत्म हो जाएगी। फिर सभी गजल गाने लगेंगे और इसकी महत्ता खत्म हो जाएगी, इसलिए गजलों को रिएलिटी शो से नहीं जोड़ना चाहिए। आपकी पसंदीदा गजल? १९८२ में मेरा पहला एलबम आया था और मेरी पहली गजल थी ‘इस सोच में बैठा हूं, क्या गम उसे पहुंचा है..’ लेकिन मुझे पहचान ‘न जी भर के देखा, न कुछ बात की..’ से मिली। आज इसके बिना कोई कार्यक्रम पूरा नहीं होता। चंदन दास के बारे में इतनी सारी बातें करने के बाद अब वक्त है आज की नज़्म के शायर से मुखातिब होने का। शायद हीं कोई ऐसा होगा जिसने "कहो ना प्यार है", "कोई मिल गया" या फिर "क्रिश" के गाने न सुने हो और अगर सुने हों तो उन गानों ने उसे छुआ न हो और अगर छुआ हो तो वह उन्हें जानता न हो। वैसे हम अपनी महफ़िल में उस मँजे हुए गीतकार की एक गज़ल पहले हीं पेश कर चुके हैं। याद न आ रहा हो तो ढूँढ लें नहीं तो कभी न कभी उनसे जुड़ा कोई सवाल हमारी "प्रश्न-पहेली" में ज़रूर हाज़िर हो जाएगा। तो हमारी आज़ की नज़्म के गीतकार/शायर जनाब इब्राहिम अश्क़ साहब हैं। अब चूँकि आज की कड़ी हमने "चंदन दास" के हवाले कर दी है, इसलिए अश्क़ साहब की बातें आज भी नहीं हो सकती। लेकिन उनका यह शेर तो देख हीं सकते हैं। वैसे जानकारी के लिए बता दें कि यह शेर जिस गज़ल से है, उस गज़ल को भी स्वरबद्ध "चंदन दास" ने हीं किया है। ज़रा अपने जेहन पर जोर देकर यह पता लगाएँ कि वह गज़ल कौन-सी है:

इस दौर में जीना मुश्किल है, ऐ अश्क़ कोई आसान नहीं,
हर एक कदम पर मरने की अब रश्म चलाई लोगों ने।


"गज़ल उसने छेड़ी" एलबम से ली गई इस नज़्म की मिठास तब तक समझ नहीं आ सकती जब तक कि आपकी श्रवणेन्द्रियाँ खुद इसका भोग न लगा लें। इसलिए देर न करें और आनंद लें इस नज़्म का:

फिर मेरे दिल पे किसी दर्द ने करवट ली है,
फिर तेरी याद के मौसम की घटा छाई है,
फिर तेरे नाम कोई खत मुझे लिखना होगा,
तेरा खत बाद-ए-सबा लेके अभी आई है।

आखिरी खत है मेरा, जिसपे है नाम तेरा,
आज के बाद कोई खत न लिखूँगा तुझको।

भूल जाऊँगा तुझे, ये तो नहीं कह सकता,
दिल पे चलता है कहाँ जोर, मोहब्बत करके,
फिर भी इस बात की लेता हूँ कसम ऐ हमदम,
मैं न तड़पाऊँगा तुझको कभी नफ़रत करके,
बेवफ़ा तू है कभी मैं न कहूँगा तुझको,
आज के बाद कोई खत न लिखूँगा तुझको।

याद भी गए हुई लम्हों की सताएगी अगर,
आप अपने से कहीं दूर निकल जाऊँगा,
इत्तेफ़ाक़न हीं अगर तुझसे मुलाकात हुई,
अजनबी बनके तेरी राह से चल जाऊँगा,
दिल तो चाहेगा पर आवाज़ न दूँगा तुझको,
आज के बाद कोई खत न लिखूँगा तुझको।

ये तेरा शहर, ये गलियाँ, दरो-दीवार, ये घर,
मेरे टूटे हुए ख्वाबों की यही जन्नत है,
कल ये सब छोड़कर जाना है बहुत दूर मुझे,
जिस जगह धूप है, सहरा है, मेरी किस्मत है,
याद मत करना मुझे, अब न मिलूँगा तुझको,
आज के बाद कोई खत न लिखूँगा तुझको।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये ___ रात में रोता बहुत है ...


आपके विकल्प हैं -
a) पागल, b) बच्चा, c) दीवाना, d) बन्दा

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -
पिछली महफिल का सही शब्द था "बस्ती" और शेर कुछ यूं था -

बस्ती की हर-एक शादाब गली, रुवाबों का जज़ीरा थी गोया
हर मौजे-नफ़स, हर मौजे सबा, नग़्मों का ज़खीरा थी गोया...

"साहिर लुधियानवी" के इस शेर को सबसे पहले सही पहचाना "सीमा" जी ने। सीमा जी ने "बस्ती" शब्द पर कुछ ज्यादा हीं शेर और उससे भी ज्यादा गज़लें पेश की। हम उनमें से कुछ यहाँ प्रस्तुत किए देते हैं:

आँसूओं की जहाँ पायमाली रही
ऐसी बस्ती चराग़ों से ख़ाली रही (बशीर बद्र)

चूल्हे नहीं जलाये या बस्ती ही जल गई
कुछ रोज़ हो गये हैं अब उठता नहीं धुआँ (गुलज़ार) (इस शेर को आपने दो बार पेस्ट किया है। बस यह शेर हीं नहीं आपने पूरी गज़ल दुहरा दी है। क्या अर्थ निकालें इसका? :) )

छा रहा हैं सारी बस्ती में अंधेरा
रोशनी को घर जलाना चाहता हूं (क़तील शिफ़ाई)

दिल की उजड़ी हुई बस्ती,कभी आ कर बसा जाते
कुछ बेचैन मेरी हस्ती , कभी आ कर बहला जाते... (यह आपकी पंक्तियाँ... वैसे अगर आप इतनी गज़लें डालेंगी तो हम कोई भी गज़ल पूरा नहीं पढ पाएँगे और हो सकता है कि आपकी अपनी पंक्तियाँ हीं हमारी नज़रों से छूट जाएँ।)

सीमा जी के बाद इस महा-दंगल में उतरे शामिख साहब। आपने भी वही किया जो सीमा जी ने किया मतलब कि शेरों और गज़लों की बौछार। ये रहे आपकी पेशकश से चुने हुए कुछ शेर:

अब नए शहरों के जब नक्शे बनाए जाएंगे
हर गली बस्ती में कुछ मरघट दिखाए जाएंगे (आपका पसंदीदा शेर)

बस्ती के सजीले शोख जवाँ, बन-बन के सिपाही जाने लगे
जिस राह से कम ही लौट सके उस राह पे राही जाने लगे (साहिर)

कुलदीप जी दो पहलवानों के बीच फ़ँसे हुए-से प्रतीत हुए। कोई बात नहीं आपने कैसे भी करके जगह और समय निकाल हीं लिया। ये रहे आपके शेर:

सूझ रहा ना कोई ठिकाना हर बस्ती में रुसवाई है
हर हिन्दू यहाँ का कातिल है हर मुस्लिम बलवाई है (स्वरचित)

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में
तुम तरस नहीं खाते बस्तियां जलने में (बशीर बद्र)

अंत में मंजु जी ने भी अपने स्वरचित शेर पेश किए। यह रही आपकी पेशकश:

उम्मीदों की बस्ती जलाकर
बेवफा का दिल न जला

अब कुछ ज़रूरी बात.... यूँ तो हरेक मंच अपने यहाँ लोगों की उपस्थिति देखकर खुश होता है और हम भी उन्हीं मंचों में से एक हैं और यह भी है कि हमने यही सोचकर अपने यहाँ "शब्द-पहेली" की शुरूआत की थी ताकि लोगों की आमद ज्यादा से ज्यादा हो,लेकिन हमने कुछ नियम भी बना रखे हैं, जो लगता है कि धीरे-धीरे हमारे पाठकों/श्रोताओं के मानस-पटल से उतरते जा रहे हैं।

तो नियम यह था कि महफ़िल में वही शेर(बस शेर, गज़ल नहीं) पेश किए जाएँ, जिसमें उस दिन की पहेली का शब्द आता हो। गज़लों को पेश करने से दिक्कत यह आती है कि न आप उस गज़ल को समझ(पढ) पाते हैं और ना हम हीं। फिर इसका क्या फ़ायदा। एक बात और.. अगर आप २५-३० गज़लें या शेर लेकर महफ़िल में आएँगे तो सोचिए बाकियों का क्या हाल होगा। बाकी लोग तो अपनी झोली खाली देखकर निराश होकर लौट जाएँगे। हम ऐसा भी तो नहीं चाहते। इसलिए आज हम एक और नियम जोड़ते हैं कि महफ़िल में आया हरेक रसिक ज्यादा से ज्यादा १० हीं शेर पेश करे, उससे ज्यादा नहीं। उम्मीद करते हैं कि आप सभी सुधी पाठकजन हमारी इस मिन्नत का बुरा नहीं मानेंगे।

चलिए तो इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए विदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा



ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Tuesday, September 8, 2009

दीपक राग है चाहत अपनी, काहे सुनाएँ तुम्हें... "होशियारपुरी" के लफ़्ज़ों में बता रही हैं "शाहिदा"

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #४३

यूँतो पिछली महफ़िल बाकी के महफ़िलों जैसी हीं थी। लेकिन "प्रश्न-पहेली" के आने के बाद और दो सवालों के जवाब देने के क्रम में कुछ ऐसा हुआ कि एकबारगी हम पशोपेश में पड़ गए कि अंकों का बँटवारा कैसे करें। इससे पहले हमारी ऐसी हालत कभी नहीं हुई थी। तो हुआ यूँ कि सीमा जी ने प्रश्नों का जवाब तो सबसे पहले दिया लेकिन दूसरे प्रश्न में उनका आधा जवाब हीं सही था। इसलिए हमने निश्चय कर लिया था कि उन्हें ३ अंक हीं देंगे। फिर शरद जी सही जवाबों के साथ महफ़िल में हाज़िर हुए। इस नाते उनको २ अंक मिलना तय था(और है भी)। लेकिन शरद जी के बाद सीमा जी फिर से महफ़िल में तशरीफ़ लाईं और इस बार उन्होंने उस आधे सवाल का सही जवाब दिया। अब स्थिति ऐसी हो गई कि न उन्हें पूरे अंक दे सकते थे और न हीं ३ अंक पर हीं छोड़ा जा सकता था। इसलिए "बुद्ध" का मध्यम मार्ग निकालते हुए हम उन्हें आधे जवाब के लिए आधा अंक देते हैं। इस तरह सीमा जी को मिलते हैं ३.५ अंक और शरद जी को २ अंक। अब बारी है आज के प्रश्नों की| आज की कड़ी से हम नियमों में थोड़ा बदलाव कर रहे हैं। तो ये रहे प्रतियोगिता के बदले हुए नियम और उसके आगे दो प्रश्न: ५० वें अंक तक हम हर बार आपसे दो सवाल पूछेंगे जिसके जवाब उस दिन के या फिर पिछली कड़ियों के आलेख में छुपे होंगे। अगर आपने पिछली कड़ियों को सही से पढा होगा तो आपको जवाब ढूँढने में मुश्किल नहीं होगी, नहीं तो आपको थोड़ी मेहनत करनी होगी। और हाँ, हर बार पहला सही जवाब देने वाले को ४ अंक, उसके बाद २ अंक और उसके बाद हर किसी को १ अंक मिलेंगे। इन १० कड़ियों में जो भी सबसे ज्यादा अंक हासिल करेगा, वह महफ़िल-ए-गज़ल में अपनी पसंद की ५ गज़लों की फरमाईश कर सकता है, वहीं दूसरे स्थान पर आने वाला पाठक अपनी पसंद की ३ गज़लों को सुनने का हक़दार होगा। इस तरह चुनी गई आठ गज़लों को हम ५३वीं से ६०वीं कड़ी के बीच पेश करेंगे। और साथ हीं एक बात और- जवाब देने वाले को यह भी बताना होगा कि "अमुक" सवाल किस कड़ी से जुड़ा है। तो ये रहे आज के सवाल: -

१) "नेशनल ज्योग्राफ़िक" के कवर पर आने वाली वह फ़नकारा जिनकी बहन का निक़ाह एक पाकिस्तानी सीनेटर से हुआ है। उस फ़नकारा का नाम बताएँ और यह भी बताएँ कि हम किस सीनेटर की बातें कर रहे हैं।
२) "मदन मोहन" के साथ काम करने की चाहत में बंबई आने वाले एक फ़नकार जिन्होंने "भीम सेन" की एक फ़िल्म में गीत लिखकर पहली बार शोहरत का स्वाद चखा। फ़नकार के नाम के साथ उस गीत की भी जानकारी दें।


आज हम जिस फ़नकारा से आपको मुखातिब कराने जा रहे हैं उनकी माँ खुद एक गायिका रह चुकी थीं। चूँकि उनकी माँ को संगीत की समझ थी इसलिए वे चाहती थीं कि उनकी बेटी उन गुरूओं की शागिर्दगी करे जिनका नाम पूरी दुनिया जानती है और जिनसे बहुत कुछ सीखा जा सकता है। आगे बढने से पहले अच्छा होगा कि हम आपको उनकी माँ का नाम बता दें। तो हम बातें कर रहे हैं "ज़ाहिदा परवीन" जी की। ज़ाहिदा जी को संगीत की पहली तालीम मिली थी बाबा ताज कपूरथलावाले सारंगीवाज़ और हुसैन बख्श खान सारंगीवाज़ से। कुछ सालों के बाद वे उस्ताद आशिक़ अली खां की शागिर्द हो गईं जो पटियाला घराने से संबंध रखते थे। ज़ाहिदा जी यूँ तो कई तरह के गाने गाती थीं, लेकिन "काफ़ी" गाने में उनका कोई सानी न था। "काफ़ी" के अलावा गज़ल, ठुमरी, खयाल भी वो उसी जोश और जुनूं के साथ गातीं थी। "ज़ाहिदा" जी के बाद जब उनकी बेटी "शाहिदा परवीन" का इस क्षेत्र में आना हुआ तो "ज़ाहिदा" जी ने अपनी बेटी के गुरू के तौर पर उस्ताद अख्तर हुसैन खां को चुना, जो उस्ताद अमानत अली खां और उस्ताद फतेह अली खां के पिता थे। उस्ताद अख्तर हुसैन खां के सुपूर्द-ए-खाक़ होने के बाद "शाहिदा" ने उस्ताद छोटे गुलाम अली खां की शागिर्दगी की , जो "क़व्वाल बच्चों का घराना" से ताल्लुकात रखते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि "क़व्वाल बच्चों के घराने" में कबीर को गाने की परंपरा रही है। १९७५ में ज़ाहिदा परवीन की मौत के बाद शाहिदा को यह सफ़र अकेले हीं तय करना था। शाहिदा को उनके रियाज़ और उनके गायन के बदौलत वह मुकाम हासिल हो चला था कि लोग उन्हें "रोशन आरा बेगम" के समकक्ष मानने लगे थे। फिर जब "रोशन आरा" भी इस दुनिया में नहीं रहीं तब तो शाहिदा हीं एक अकेली क्लासिकल गायिका थीं जो उनकी कमी को पूरा कर सकती थीं। लेकिन ऐसा न हुआ। कुछ तो वक्त का तकाज़ा था तो कुछ शाहिदा में अकेले आगे बढने की हिम्मत की कमी। जबकि वो मुल्तानी( इस राग को गाना या कहिए निबाहना हीं बड़ा कठिन होता है क्योंकि इसमें रिखब के नुआंसेस सही पकड़ने होते हैं) बड़े हीं आराम से गा सकती थी, फिर भी न जाने क्यों मंच से वो बागेश्वरी, मेघ या मालकौंस हीं गाती थीं, जो कि अमूमन हर कोई गाता है। शाहिदा ने अपने आप को अपनी माँ के गाए काफ़ियों तक हीं सीमित रखा। इसलिए संगीत के कुछ रसिक उनसे नाराज़ भी रहा करते थे। पर जो भी उनके रहने तक यह उम्मीद तो थी कि कोई है जो "रोशन आरा" की तरह गा सकती है, लेकिन १३ मार्च २००३ को उनके दु:खद निधन के बाद यह उम्मीद भी खत्म हो गई।

"शाहिदा" के बारें में कहने को और भी बहुत कुछ है, लेकिन वो सब बातें कभी अगली कड़ी में करेंगे। अब हम आज की गज़ल के शायर "हफ़ीज़ होशियारपुरी" की तरफ़ रूख करते हैं। यूँ तो अभी हम जिन बातों का ज़िक्र करने जा रहे हैं उनका नाता सीधे तौर पर हफ़ीज़ साहब से नहीं है, फिर भी चूँकि उन बातों में इनका भी नाम आता है, इसलिए इसे सही वक्त माना जा सकता है। "बाज़ार की एक रात" के लेखक और एक समय में पेशावर रेडियो स्टेशन के स्क्रीप्ट राईटर रह चुके मुशर्रफ़ आलम ज़ौकी साहब सआदत हसन "मंटो" को याद करते हुए अपने एक लेख "इंतक़ाल के पचास बरस बाद मंटो ज़िंदा हो गया" में लिखते हैं: रेडियो पाकिस्तान से मंटो का अफ़साना ‘नया क़ानून’ सुनकर मैं आश्चर्यचकित रह गया कि ये वही हमारी कौमी रेड़ियो सर्विस है जिसने अपने यहाँ मंटो की रचनाओं को बन्द कर रखा था। क़यामे-पाकिस्तान के बाद जब मंटो लाहौर गया तो उसे विश्वास था कि उसकी साहित्यिक ख़िदमत में कोई कमी नहीं होगी। लेकिन इस ख़ुशफ़हमी का अन्त होते देर न लगी। लाहौर आकर उसने रोज़ी-रोटी के सिलसिले में काफ़ी मेहनत की लेकिन ‘अश्लील लेखक मंटो’ किसी भी मरहले में सफल न हो सका। मैं भी 1948 में पेशावर छोड़ कर लाहौर आ गया और मंटो से करीब-करीब रोज़ाना मुलाक़ात रही। लेकिन मैं भी उसी की तरह बेरोज़गार था। एक बेरोज़गार दूसरे बेरोज़गार की क्या मदद करता। उन्हीं दिनों मर्कज़ी हुकूमत के वजीर इत्तलाआत व नशरियात और प्रसिद्ध लेखक एस. एम. एकराम साहब लाहौर आए और जनाब हफ़ीज़ होशियारपुरी को, जो स्टेशन डायरेक्टर या असिस्टेंट डायरेक्टर थे, मेरे पास भेजा कि शाम की चाय मेरे साथ पियो। मुझे आश्चर्च अवश्य हुआ लेकिन पैग़ाम लाने वाले मेरे दोस्त और मशहूर शायर हफीज़ होशियारपुरी थे। और निमत्रण देने वाले अनेक श्रेष्ठ ऐतिहासिक पुस्तकों के लेखक थे। मैं हाज़िर हुआ तो एकराम साहब बड़ी मुहब्बत से मिले। मुझे इस मुहब्बत पर कुछ आश्चर्य भी हुआ कि मुझको तो दूसरे बहुत से लेखकों के साथ उनके विभाग ने "बैन" कर रखा था। उन्होंने गुफ़्तुगू का आग़ाज़ ही इस बात से किया कि मेरे सम्मान में केवल मुझ पर से पाबन्दी हटा रहे हैं। मैं उठ खड़ा हुआ और अर्ज़ किया कि आप जैसे विद्वान व्यक्ति से मुझे इस तरह की पेशकश की आशा नहीं थी। मैं अपने दोस्तों को धोखा देने के बारे में सोच भी नहीं सकता जबकि मेरे दोस्तों में मंटो जैसे महान रचनाकार भी मौजूद हैं। मैं ये कहकर वहाँ से चला आया। बाद में हफीज़ साहब से इस ज़्यादती का शिकवा किया तो उन्होंने क़समें खाकर बताया कि उन्हें एकराम साहब के प्रोग्राम का पता नहीं था। अब आज का हाल देखिए कि जब मंटो नहीं रहा तो उसकी किस तरह से कद्र बढ गई है। मेरी समझ में एक बात कभी नहीं आई कि जो दुनिया छोड़ कर चले गए, उनके बारे में सिर्फ़ अच्छा क्यों लिखा जाता है। उनके ज़िंदा रहते में तो कोई उन्हें पूछने तक नहीं आता। इस तरह से "मंटो" के बहाने हीं सही, लेकिन ज़ौकी साहब ने बड़ा हीं महत्वपूर्ण प्रश्न उठाया है। कभी आप भी इस पर विचार कीजिएगा। उससे पहले हफ़ीज़ साहब के इस शेर पर जरा गौर फ़रमा लिया जाए:

आज उन्हें कुछ इस तरह जी खोलकर देखा किए,
एक हीं लम्हे में जैसे उम्र-भर देखा किए।


कुछ बड़ी हीं ज़रूरी बातों के बाद अब वक्त है आज की गज़ल का। तो लीजिए पेश है "शाहिदा" की मधुर आवाज़ में यह गज़ल:

दीपक राग है चाहत अपनी, काहे सुनाएँ तुम्हें,
हम तो सुलगते हीं रहते हैं, क्यों सुलगाएँ तुम्हें।

तर्क-ए-मोहब्बत, तर्क-ए-तमन्ना कर चुकने के बाद,
हम पे ये मुश्किल आन पड़ी है, कैसे बुलाएँ तुम्हें।

सन्नाटा जब तन्हाई के ज़हर में बुझता है,
वो घड़ियों क्यों कर कटती हैं, कैसे बताएँ तुम्हें।

जिन बातों ने प्यार तुम्हारा नफ़रत में बदला,
डर लगता है वो बातें भी भूल न जाएँ तुम्हें।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

___ की हर-एक शादाब गली, रुवाबों का जज़ीरा थी गोया
हर मौजे-नफ़स, हर मौजे सबा, नग़्मों का ज़खीरा थी गोया


आपके विकल्प हैं -
a) शहर, b) वतन, c) बस्ती, d) मोहल्ले

इरशाद ....

पिछली महफिल के साथी -
पिछली महफिल का सही शब्द था "बाम" और शेर कुछ यूं था -

तुझ पे भी बरसा है उस बाम से मेह्ताब का नूर
जिस में बीती हुई रातों की कसक बाक़ी है..

"फ़ैज़" की इस नज़्म को सबसे पहले सही पहचाना सीमा जी ने। आपने फ़ैज़ की वह नज़्म भी महफ़िल में पेश की जिससे ये दो मिसरे लिए गए हैं। शरद जी ने सही फ़रमाया था कि आपने शेरों और नज़्मों की वह दीवार खड़ी कर दी थी कि किसी और का सेंध लगाना नामुमकिन था। शायद यही वज़ह है कि हम भी निश्चित नहीं कर पा रहे कि कौन-सा शेर यहाँ पेश करें और कौन-सा छोड़ें। फिर भी कुछ शेर जो हमारे दिल को छू गएँ:

जब भी गुज़रा वो हसीं पैकर मेरे इतराफ़ से,
दी सदा उसको हर एक दर ने हर एक बाम ने

ज़रा सी देर ठहरने दे ऐ ग़म-ए-दुनिया
बुला रहा है कोई बाम से उतर के मुझे (नासिर काज़मी)

माँगे है फिर किसी को लब-ए-बाम पर हवस
ज़ुल्फ़-ए-सियाह रुख़ पे परेशाँ किये हुए (मिर्ज़ा ग़ालिब)

ये हिन्दियों के फ़िक्र-ए-फ़लक रस का है असर
रिफ़त में आसमाँ से भी ऊँचा है बाम-ए‍-हिन्द (इक़बाल)

हवा के ज़ोर से पिंदार-ए-बाम-ओ-दार भी गया
चिराग़ को जो बचाते थे उन का घर भी गया (अहमद फ़राज़)

सीमा जी की किलाबंदी को भेदते हुए महफ़िल में हाज़िर हुए "शामिख फ़राज़"। आपने न सिर्फ़ उर्दू/हिंदी के शेर कहे बल्कि ब्रजभाषा (जहाँ तक मुझे मालूम है) की भी एक रचना पेश की। यह रही आपकी पेशकश:

मुरली सुनत बाम काम-जुर लीन भई (देव)

हर बाम पर रोशन काफ़िला - ए - चिराग़
हर बदन पर कीमती चमकते हुए लिबास

बाम-ऐ-मीना से माहताब उतरे
दस्त-ए-साकी में आफताब आये

सुमित जी महफ़िल में आए तो लेकिन चूँकि उन्हें बाम का अर्थ मालूम न था तो वो सही से कुछ सुना न सके। मंजु जी ने न सिर्फ़ सुमित जी का कुतूहल शांत किया बल्कि कुछ स्वरचित पंक्तियाँ(दोहा) भी पेश की:

हिमालयराज की पुत्री ,ने सहा खूब ताप .
हुयी थी शादी शिव की, पाया शिव का बाम।

आप दोनों के बाद महफ़िल में हाज़िरी लगाई कुलदीप जी ने। ये रहे आपकी तरकश के तीर:

कितना सितमज़रीफ़ है वो साहिब-ऐ-जमाल
उस ने दिया जला के लब-ऐ-बाम रख दिया

देख कर अपने दर -ओ -बाम लरज़ उठाता हूँ
मेरे हमसाये में जब भी कोई दीवार गिरे

अंत में हमारी महफ़िल में नज़र आईं रचना जी। यह रहा आपका पेश किया हुआ शेर:

बाम-ऐ-शोहरत से एक शाम चुरा के देखो
दर्द किसी और का दिल में उठा के देखो

मनु जी इतने से काम नहीं चलेगा। आपके शेर को तभी उद्धृत करूँगा जब आप थोड़ा वक्त यहाँ गुजारेंगे। हमारी तरफ़ एक कहावत है कि "हड़बड़ का काम गड़बड़ हीं होता है"। सोचिए..यह आप पर कितना फिट बैठता है!

चलिए इन्हीं बातों के साथ अगली महफिल तक के लिए विदा कहते हैं। खुदा हाफ़िज़!

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा



ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर मंगलवार और शुक्रवार एक अनमोल रचना के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ