Skip to main content

ये चमन हमारा अपना है....राज कपूर की जयंती पर सुनें शैलेन्द्र -दत्ताराम रचित ये गीत


इस कथानक पर फिल्म बनवाने के पीछे नेहरू जी के दो उद्देश्य थे। मात्र एक दशक पहले स्वतंत्र देश के सरकार की न्याय व्यवस्था पर विश्वास जगाना और नेहरू जी का बच्चों के प्रति अनुराग को अभव्यक्ति देना। फिल्म के अन्तिम दृश्यों में नेहरू जी ने स्वयं काम करने की सहमति भी राज कपूर को दी थी। पूरी फिल्म बन जाने के बाद जब नेहरू जी की बारी आई तो मोरार जी देसाई ने उन्हें फिल्म में काम करने से रोका। नेहरू जी की राजनैतिक छवि के कारण अन्य लोगों ने भी उन्हें मना किया।

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 809/2011/249

ज १४ दिसम्बर है, आज के ही दिन वर्ष १९२४ में उस महान स्वप्नदर्शी फ़िल्मकार राज कपूर का जन्म हुआ था, जिनकी स्मृति में हम ओल्ड इज़ गोल्ड की श्रृंखला ‘आधी हकीकत आधा फसाना’ प्रस्तुत कर रहे हैं। आज इस श्रृंखला की नौवीं कड़ी में, मैं कृष्णमोहन मिश्र अपने प्रिय पाठकों का स्वागत करते हुए आरम्भ करता हूँ, राज कपूर की एक और महत्त्वपूर्ण कृति पर चर्चा। राज कपूर की यह उल्लेखनीय कृति है, १९५७ में निर्मित फिल्म ‘अब दिल्ली दूर नहीं’ थी।

यह विश्वास करना कठिन होगा कि फिल्म ‘अब दिल्ली दूर नहीं’ का निर्माण देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की सलाह पर राज कपूर ने किया था, परन्तु यह सत्य है। दरअसल नेहरू जी और राज कपूर में कई समानताएँ थीं। दोनों सपनों के सौदागर थे और समाजवादी विचारधारा के पोषक थे। दोनों का व्यक्तित्व सोवियत रूस में अत्यन्त लोकप्रिय रहा है। राज कपूर नेहरू जी के अनन्य भक्त थे और प्रायः दोनों की भेंट हुआ करती थी। ऐसी ही एक भेंट में नेहरू जी ने राज कपूर से एक ऐसी फिल्म बनाने को कहा जिसमें एक बच्चे की कहानी हो और वह बच्चा अपने पिता को न्याय दिलाने के लिए दिल्ली की दुर्गम यात्रा कर देश के प्रधानमंत्री तक अपनी फरियाद करता है। अन्ततः वह बालक प्रधानमंत्री नेहरू से मिलने में सफल हो जाता है।

इस कथानक पर फिल्म बनवाने के पीछे नेहरू जी के दो उद्देश्य थे। मात्र एक दशक पहले स्वतंत्र देश के सरकार की न्याय व्यवस्था पर विश्वास जगाना और नेहरू जी का बच्चों के प्रति अनुराग को अभव्यक्ति देना। फिल्म के अन्तिम दृश्यों में नेहरू जी ने स्वयं काम करने की सहमति भी राज कपूर को दी थी। पूरी फिल्म बन जाने के बाद जब नेहरू जी की बारी आई तो मोरार जी देसाई ने उन्हें फिल्म में काम करने से रोका। नेहरू जी की राजनैतिक छवि के कारण अन्य लोगों ने भी उन्हें मना किया। असमंजस की स्थिति में नेहरू जी ने राज कपूर से अपनी असमर्थता बता दी। राज कपूर इस फिल्म को लगभग पूरी बना चुके थे। इस अप्रत्याशित स्थिति में खिन्न मन से अन्तिम प्रसंगों में फिल्म डिवीजन के ‘स्टॉक शॉट’ की सहायता से किसी प्रकार फिल्म ‘अब दिल्ली दूर नहीं’ को पूरा किया। फिल्म तो नहीं चली, परन्तु इसके गीतों को अपार सफलता मिली।

राज कपूर ने फिल्म ‘अब दिल्ली दूर नहीं’ के निर्देशन के लिए अमर कुमार को और संगीत के लिए दत्ताराम को पहली बार स्वतंत्र संगीतकार के रूप में अवसर दिया। इससे पहले तक दत्ताराम, शंकर-जयकिशन के सहायक थे। दत्ताराम का ताल-पक्ष बेहद मजबूत था। वे तबला, ढोलक और ढफ वादन में अत्यन्त कुशल थे। राज कपूर की फिल्म ‘अब दिल्ली दूर नहीं’ में जब उन्हें पहली बार स्वतंत्र रूप से संगीत निर्देशन का अवसर मिला तो उन्होने फिल्म के सभी आठ गीतों की धुने बड़े परिश्रम से कथ्य के अनुकूल तैयार कीं। चाचा नेहरू के बाल-प्रेम को रेखांकित करने के लिए राज कपूर ने शैलेंद्र का लिखा गीत- ‘चूँ चूँ करती आई चिड़िया...’ और वर्षों की गुलामी के बाद मिली स्वतन्त्रता के वातावरण में नवनिर्माण के लिए प्रेरित करते गीत- ‘ये चमन हमारा अपना है...’ को शामिल किया था। कहने की आवश्यकता नहीं कि फिल्म के यह दोनों गीत आज भी लोकप्रिय हैं। प्रत्येक वर्ष बाल दिवस पर और राष्ट्रीय पर्वों पर ये दोनों गीत सर्वत्र बजाए जाते हैं। गीत- ‘चूँ चूँ करती आई चिड़िया...’ ओल्ड इज़ गोल्ड की एक श्रृंखला में हम आपको सुनवा चुके है, आज हम इसी फिल्म का दूसरा लोकप्रिय गीत- ‘ये चमन हमारा अपना है...’ आपको सुनवाएँगे। शैलेंद्र के लिखे इस गीत को गीता दत्त, आशा भोसले और साथियों ने स्वर दिया है।



क्या आप जानते हैंदत्ताराम अपनी जिस विशेषता के लिए पहचाने जाते थे, वह एक विशेष प्रकार की ताल थी, जिसे फिल्म जगत में ‘दत्ताराम बीट’ के नाम से पहचाना जाता था। उनकी इस प्रसिद्ध ताल पर सर्वाधिक सफल गीतों का गायन मन्ना डे ने किया है।

पहचानें अगला गीत -फिल्म का शीर्षक गीत है ये मुकेश और आशा के स्वरों में, फिल्म में इस गीत का एक अन्य संस्करण भी है मुकेश की एकल आवाज़ में.
१. गीतकार बताएं इस आशावादी गीत के - २ अंक
२. संगीतकार बताएं - ३ अंक


पिछले अंक में - इंदु जी गूगल बाबा की गलतियों के लिए तहे दिल से माफ़ी, सेहत का ख़याल रखें

खोज व आलेख-
कृष्णमोहन मिश्र



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें admin@radioplaybackindia.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें +91-9871123997 (सजीव सारथी) या +91-9878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

फिर सुबह होगी? तो आप खय्याम साहब की बात तो नही कर रहे हैं कहीं? यदि हाँ तो लोक कर दीजिए और यदि नही तो......... मैं तो ये भागी हा हा हा
AVADH said…
पता नहीं क्या कारण है, आजकल टिप्पणी पोस्ट करने में कठिनाई हो रही है क्योंकि पोस्ट करने के बाद सीधे गूगलबाबा का अपना ब्लॉग बनाने का तरीका आ जाता है और टिप्पणी कहाँ गयी उसका अता पता नहीं चलता. जैसे साहिर साहेब के बारे में मैंने दो बार टिप्पणी की जो दिखती ही नहीं. खैर...
इंदु बहिन, थोड़ा उल्टा हो गया. राम गांगुली जी शंकर-जयकिशन द्वय के सहायक नहीं थे बल्कि यह दोनों ही वाद्य मंडली में उनके सहायक थे.
अवध लाल
AVADH said…
साहिर साहेब तो बरसों तलक इन्तेज़ार करते रहे और क्या हम सब भी इसी उम्मीद पर इतने दिनों से नहीं बैठे हुए हैं कि वोह सुबह कभी तो आएगी.
अवध लाल
श्रृंखला समाप्त हो गई.जिस ख़ूबसूरती से आपने इसे प्रस्तुत किया.गानों के निर्मित होने तथा अन्य समबन्धित बातों की, घटना क्रम की जानकारी दी वो आप के मेहनत का शानदार उदाहरण है और यह भी ...कि आप लोग कितना दिल से जुड़े हैं संगीत से भी और इस साईट इस ब्लॉग से भी.आप सब बधाई के पात्र हैं.और....अमित ! आप कलम के धनी हैं यह आप ने अपनी हर कड़ी मे साबित किया है.आपको इताआआआ सारा प्यार,बधाई.
मैं बहुत खुश
अब तो पार्टी दे ही दो हा हा हा
हम साथ साथ हैं आप पार्टी देने के लिए मैं खाने के लिए हा हा हा भई ऐसिच हूँ मैं तो
अवध भैया आ गये हा हा हा अरे अब तो पार्टी पक्की.अब किसी को कोई टेंशन करने की जरूरत नही.अवध भैया आ गये,शरद जी,पाबला भैया और भी है न अपनी पूरी टीम हा हा हा आ जाओ चित्तोड पार्टी क्या पार्टियां दूंगी और..........मुझसे मिलकर आप लोगों को कभी अफ़सोस नही होगा इतना जरूर कहूँगी.बहुत अच्छी नही हूँ मैं पर ऐसी जरूर हूँ जिसे आसानी से बुलाया नही जा सकता.
यकीन नही?
अरे! सचमुच ऐसिच हूँ मैं- बहुत प्यारी सी हा हा हा :P
बुलाया नही भुलाया भुलाया पढियेगा हा हा हा

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया