Showing posts with label शीतल माहेश्वरी. Show all posts
Showing posts with label शीतल माहेश्वरी. Show all posts

Tuesday, January 14, 2020

ऑडियो: फ़ैशनपरस्त (साधना वैद्य)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में गिरिजा कुलश्रेष्ठ की लघुकथा बचत का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं साधना वैद्य की लघुकथा "फ़ैशनपरस्त", जिसे स्वर दिया है, शीतल माहेश्वरी ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 4 मिनट 9 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

साधना वैद्य
आकाशवाणी पर रचनाओं का प्रसारण। प्रकाशित पुस्तकें - संवेदना की नम धरा पर; एक फुट के मजनू मियाँ; तीन अध्याय; मौन का दर्पण। अनेक साझा काव्य संग्रहों में व साहित्यिक पत्र पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"आ गयीं महारानी? सिंगार पटार से फ़ुर्सत मिले तो काम की सुध आये न!"
(साधना वैद्य की "फ़ैशनपरस्त" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
फ़ैशनपरस्त mp3

#Second Story: Fashion Parast; Author: Sadhna Vaidya; Voice: Sheetal Maheshwari; Hindi Audio Book/2020/2.

Tuesday, January 7, 2020

ऑडियो: बचत (गिरिजा कुलश्रेष्ठ)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में अनुलता राज नायर की लघुकथा लाल स्कार्फ़ वाली लड़की का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं गिरिजा कुलश्रेष्ठ की लघुकथा "बचत", जिसे स्वर दिया है, शीतल माहेश्वरी ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 7 मिनट 21 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

गिरिजा कुलश्रेष्ठ
शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में व्याख्याता। छह पुस्तकें, पचास बाल–कहानियाँ, सत्तर बाल-कविताएँ, गीत, कहानियाँ व लघुकथाएँ प्रकाशित।

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"मिस्टर ने मैरिज ऐनिवर्सरी पर डायमण्ड गिफ़्ट दिया है।"
(गिरिजा कुलश्रेष्ठ की "बचत" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
बचत mp3

#First Story: Bachat; Author: Girija Kulshreshth; Voice: Sheetal Maheshwari; Hindi Audio Book/2020/1.

Tuesday, December 31, 2019

ऑडियो: लाल स्कार्फ़ वाली लड़की (अनुलता राज नायर)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में अमित कुमार श्रीवास्तव का व्यंग्य एक मुलाक़ात प्याज़ से का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं अनुलता राज नायर की लघुकथा "लाल स्कार्फ़ वाली लड़की", जिसे स्वर दिया है, शीतल माहेश्वरी ने।

कहानी का कुल प्रसारण समय 6 मिनट 38 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

अनुलता राज नायर
भोपाल निवासी लेखिका और यादों का ईडियट बॉक्स की निर्मात्री। 250 से अधिक रेडियो रचनाएँ प्रसारित और एक पुस्तक प्रकाशित।

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"लडकी भी उसकी उपस्थिति से अभ्यस्त हो चुकी थी सो उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं की... बस अपना घरौंदा बनाती रही..."
(अनुलता राज नायर की "लाल स्कार्फ़ वाली लड़की" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
लाल स्कार्फ़ वाली लड़की mp3

#Thirty Second Story: Laal Scarf Vali Ladki; Author: Anulata Raj Nair; Voice: Sheetal Maheshwari; Hindi Audio Book/2019/32.

Tuesday, December 10, 2019

ऑडियो: एक मुलाकात प्याज़ से (अमित श्रीवास्तव)

'सुनो कहानी' इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने पूजा अनिल के स्वर में प्रियंका गुप्ता की हृदयस्पर्शी कथा "चांद" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं अमित कुमार श्रीवास्तव का व्यंग्य "एक मुलाकात प्याज़ से", जिसको स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

इस प्रस्तुति का कुल प्रसारण समय 5 मिनट 3 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


अमित श्रीवास्तव: मोतीलाल नेहरू इंजीनियरिंग कॉलेज, इलाहाबाद से बीई; सम्प्रति: विद्युत विभाग, लखनऊ में अधीक्षण अभियंता; अनेक लेख समाचार पत्रों में प्रकाशित, एक कविता संकलन प्रकाशित।

हर सप्ताह "बोलती कहानियाँ" पर सुनें एक नयी कहानी

"हम बचपन से एक दूसरे के बहुत करीब रहे थे,कभी हम दोनों के बीच कुछ छुपा नहीं था।"
(अमित श्रीवास्तव की कहानी "एक मुलाकात प्याज़ से" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें।
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
एक मुलाकात प्याज़ से MP3

#Thirty First Story, Ek Mulaqat Pyaz Se: Amit Kumar Srivastava /Hindi Audio Book/2019/31. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, October 1, 2019

ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ (असगर वजाहत)

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने पूजा अनिल के स्वर में गौतम राजर्षि की 'एक फ़ौजी की डायरी' का अंश सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं, असगर वजाहत की कथा ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

इस कहानी ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ का कुल प्रसारण समय 10 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


रात के वक्त़ रूहें अपने बाल-बच्चों से मिलने आती हैं।
 ~ असगर वजाहत

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

"सरला से मिलने कोई नहीं आया था।”
(असगर वजाहत की कथा "ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ " से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
ड्रेन में रहने वाली लड़कियाँ MP3

#Twenty Fourth Story, Drain Mein Rahne Wali Ladkiyan; Asghar Wajahat; Hindi Audio Book/2019/24. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, September 17, 2019

ऑडियो: व्यंग्य - आलोचना (शरद जोशी)

'सुनो कहानी' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा लिखित लघुकथा "बिग क्लाउड 2016" का पॉडकास्ट उन्हीं के स्वर में सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं शरद जोशी लिखित व्यंग्य "आलोचना", जिसको स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत व्यंग्य का गद्य "हिन्दी समय" पर उपलब्ध है। "आलोचना" का कुल प्रसारण समय 12 मिनट 41 सेकंड है। सुनिए और बताइये कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



लेखन मेरा निजी उद्देश्य है ... मैं इससे बचकर जा भी नहीं सकता।
~ पद्मश्री शरद जोशी (जन्म 21 मई 1931; उज्जैन)

हर शनिवार को आवाज़ पर सुनें एक नयी कहानी

"लेखक का साहित्य के विकास में महत्व है या नहीं है यह विवादास्पद विषय हो सकता है पर किसी साहित्यिक के विकास में किसी आलोचक का महत्व सर्वस्वीकृत है।"
(शरद जोशी के व्यंग्य "आलोचना" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
आलोचना MP3

#22nd Story, Alochana: Sharad Joshi/Hindi Audio Book/2019/22. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, September 3, 2019

लाल पीली लड़की (उषा किरण)

'सुनो कहानी' इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में हरिशंकर परसाई की व्यंग्य कथा "शर्म की बात पर ताली पीटना" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं उषा किरण की कथा "लाल पीली लड़की", जिसको स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

इस प्रस्तुति का कुल प्रसारण समय 21 मिनट 17 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


उषा किरण: जन्म: 7 सितम्बर 1957, नगीना (बिजनौर); शिक्षा: एम.ए., पी-एच.डी.; मेरठ कॉलेज में ललित-कला विभाग की अध्यक्षा। अनेक शहरों में चित्रकला प्रदर्शनियाँ। चार साझा संग्रह तथा प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में कहानी, कविता एवम् आलेख प्रकाशित।

हर सप्ताह "बोलती कहानियाँ" पर सुनें एक नयी कहानी

"उसने मुक्के मार-मारकर तकिये को धुन डाला।"
(उषा किरण की कहानी "लाल पीली लड़की" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें।
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
लाल पीली लड़की MP3

#Twenteeth Story, Lal Pili Ladki: Usha Kiran/Hindi Audio Book/2019/20. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, August 20, 2019

हरिशंकर परसाई: शर्म की बात पर ताली पीटना

'सुनो कहानी' इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में संतोष श्रीवास्तव की कथा "चित्रों की ज़ुबान" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं हरिशंकर परसाई का व्यंग्य "शर्म की बात पर ताली पीटना", जिसको स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

इस प्रस्तुति का कुल प्रसारण समय 10 मिनट 44 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। रचना का गद्य "हिंदी समय" पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

मेरी जन्म-तारीख 22 अगस्त 1924 छपती है। यह भूल है। तारीख ठीक है। सन् गलत है। सही सन् 1922 है। ।
 ~ हरिशंकर परसाई (22 अगस्त, 1922 - 10 अगस्त, 1995)

हर सप्ताह "बोलती कहानियाँ" पर सुनें एक नयी कहानी

"जितना लाइट और लाउडस्पीकर वालों को दोगे, कम से कम उतना मुझ गरीब शास्ता* को दे देना।"
(हरिशंकर परसाई की "शर्म की बात पर ताली पीटना" से एक अंश)
*शास्ता = शिक्षक, बौद्ध या जैन उपदेशक, गुरु

नीचे के प्लेयर से सुनें।
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
शर्म की बात पर ताली पीटना MP3

#Nineteenth Story, Purana Khiladi: Harishankar Parsai/Hindi Audio Book/2019/19. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, August 13, 2019

चित्रों की ज़ुबान (संतोष श्रीवास्तव)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी की आवाज़ में हरिशंकर परसाई का व्यंग्य 'पुराना खिलाड़ी" (उर्फ़ अपनी अपनी बीमारी)' का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं संतोष श्रीवास्तव की कथा 'चित्रों की ज़ुबान', शीतल माहेश्वरी के स्वर में।

कथा "चित्रों की ज़ुबान" का कुल प्रसारण समय 27 मिनट 17 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। इस कथा का गद्य अंतरराष्ट्रीय द्वैभाषिक मासिक सेतु पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


जबलपुर में जन्मी संतोष श्रीवास्तव हिंदी साहित्य का एक पहचाना हस्ताक्षर हैं। वे कालिदास पुरस्कार, महाराष्ट्र राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार, साहित्य शिरोमणि पुरस्कार, प्रियदर्शनी अकादमी पुरस्कार, महाराष्ट्र दलित साहित्य अकादमी पुरस्कार, बसंतराव नाईक लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड, कथाबिंब पुरस्कार, तथा कामलेश्वर स्मृति पुरस्कार सम्मान पा चुकी हैं।

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

फूल बनकर हम महकना जानते हैं। मुस्कुरा के ग़म भुलाना जानते हैं ...
(संतोष श्रीवास्तव की कथा 'चित्रों की ज़ुबान' से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
चित्रों की ज़ुबान MP3

#Eighteenth Story, Chitron Ki Zubaan: Santosh Shrivastav /Hindi Audio Book /2019/18. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, August 6, 2019

ऑडियो: पुराना खिलाड़ी (हरिशंकर परसाई)

'सुनो कहानी' इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने अनुराग शर्मा की आवाज़ में मधुदीप की लघुकथा "पुत्रमोह" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं हरिशंकर परसाई का व्यंग्य "पुराना खिलाड़ी" (उर्फ़ अपनी अपनी बीमारी), जिसको स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

इस प्रस्तुति का कुल प्रसारण समय 9 मिनट 39 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। रचना का गद्य "गद्यकोश" पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

मेरी जन्म-तारीख 22 अगस्त 1924 छपती है। यह भूल है। तारीख ठीक है। सन् गलत है। सही सन् 1922 है। ।
 ~ हरिशंकर परसाई (22 अगस्त, 1922 - 10 अगस्त, 1995)

हर सप्ताह "बोलती कहानियाँ" पर सुनें एक नयी कहानी

"हमें बैठते ही समझ में आ गया कि ये नहीं देंगे। वे भी ये समझ गये कि ये शायद टल जायेंगे।"
(हरिशंकर परसाई की "पुराना खिलाड़ी" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें।
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
पुराना खिलाड़ी MP3

#Seventeenth Story, Purana Khiladi: Harishankar Parsai/Hindi Audio Book/2019/17. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, July 23, 2019

ऑडियो: बर्थ नम्बर तीन (गौतम राजर्षि)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी  की आवाज़ में शिवम खरे की लघुकथा "गरीबी रेखा का कार्ड" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं कर्नल गौतम राजर्षि की मर्मस्पर्शी कहानी "बर्थ नम्बर तीन", शीतल माहेश्वरी के स्वर में।

"बर्थ नम्बर तीन" का कुल प्रसारण समय 11 मिनट 25 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। इस लघुकथा का टेक्स्ट पाल ले इक रोग नादाँ पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।



हवा जब किसी की कहानी कहे है
नये मौसमों की जुबानी कहे है
फ़साना लहर का जुड़ा है ज़मीं से
समुन्दर मगर आसमानी कहे है
गौतम राजर्षि

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

"चल बे! ज्यादा बन मत तू एक ही बात को बार-बार दुहरा कर"
(गौतम राजर्षि की "बर्थ नम्बर तीन" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
बर्थ नम्बर तीन MP3

#Fifteenth Story, Berth Number 3: Gautam Rajrishi/Hindi Audio Book/2019/15. Voices: 

Sheetal Maheshwari

Tuesday, July 9, 2019

गरीबी रेखा का कार्ड (शिवम् खरे)

रेडियो प्लेबैक इंडिया के साप्ताहिक स्तम्भ 'बोलती कहानियाँ' के अंतर्गत हम आपको सुनवाते हैं हिन्दी की नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने पूजा अनिल की आवाज़ में अनुराग शर्मा की लघुकथा "अंधा प्यार" का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं शिवम खरे की लघुकथा "गरीबी रेखा का कार्ड", शीतल माहेश्वरी के स्वर में।

"गरीबी रेखा का कार्ड" का कुल प्रसारण समय 2 मिनट 30 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। इस लघुकथा का टेक्स्ट भारत दर्शन पर उपलब्ध है।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।


शिवम् खरे (MTech) - पन्ना, मध्यप्रदेश में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था में अधीक्षक पद पर कार्यरत। बचपन से लिखने का शौक, एक हास्य-व्यंग्य संग्रह "मेरी दुस्साहस कृतियाँ" शीर्षक के नाम से प्रकाशित।

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी कहानी

"मालिक, आपई कुछ मदद करो प्रभु!"
(शिवम् खरे की "गरीबी रेखा का कार्ड" से एक अंश)



नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)

यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
गरीबी रेखा का कार्ड MP3

#Fourteenth Story, Andha Pyaar: Shivam Khare/Hindi Audio Book/2019/14. Voices: 

Sheetal Maheshwari

Tuesday, December 25, 2018

ऑडियो: पॉकेटमनी (राशि सिंह)

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने पूजा अनिल के स्वर में मनु बेतख़ल्लुस की लघुकथा "रंग" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है राशि सिंह की लघुकथा पॉकेटमनी, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा "पॉकेटमनी" का कुल प्रसारण समय 3 मिनट 5  सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं आदि को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

ज़िंदगी हमें उलझनों में उलझाकर अपने धीरे-धीरे गुज़रते जाने का एहसास भी नही होने देती।
~ राशि सिंह

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


"पॉकेट मनी" मान्या ने मासूमियत से कहा।"
(राशि सिंह की लघुकथा 'पॉकेटमनी' से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
पॉकेटमनी MP3

#31th Story, Pocket Money; Rashi Singh; Hindi Audio Book/2018/31. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, December 11, 2018

बोलती कहानियाँ: गाय (लघुकथा)

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में निरञ्जन धुळेकर की लघुकथा "छन्न" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है वीरेंद्र भाटिया की लघुकथा गाय, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा "गाय" का कुल प्रसारण समय 4 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं आदि को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

कोई पशु अपने साथी को नहीं खाता। जिसे खाता है उसे मालूम है कि मैं इसका भोजन बनूंगा। इधर नहीं मालूम। आदमी कब साथी को खा जाए साथी को नहीं मालूम।
~ वीरेंद्र भाटिया

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


"हाईवे पर फर्र फर्र आ जा रहे थे वाहन, हाईवे पार करती गाय ट्रक से टकरा गई।"
(वीरेंद्र भाटिया की लघुकथा 'गाय' से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
गाय MP3

#29th Story, Gaay; Virender Bhatia; Hindi Audio Book/2018/29. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, December 4, 2018

ऑडियो लघुकथा: छन्न

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में अर्चना तिवारी की लघुकथा "उड़नपरी" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है निरञ्जन धुळेकर की लघुकथा छन्न, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा "छन्न" का कुल प्रसारण समय 5 मिनट 11 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं आदि को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

प्यार इसीलिए करना चाहिए ताकि, पता चल जाए कि प्यार क्यों नही करना चाहिए!
~ निरञ्जन धुळेकर

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


"थकान से मैं कभी नही सोया ... कल खाना मिलेगा ये पता होता तो नींद मेरा भी पता ढूंढ ही लेती।"
(निरञ्जन धुळेकर की लघुकथा 'छन्न' से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
छन्न MP3

#28th Story, Chhann; Niranjan Dhulekar; Hindi Audio Book/2018/28. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, November 27, 2018

ऑडियो लघुकथा: उड़नपरी

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने पूजा अनिल के स्वर में सुधीर द्विवेदी की लघुकथा "जंग" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है अर्चना तिवारी की लघुकथा उड़नपरी, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा "उड़नपरी" का कुल प्रसारण समय 5 मिनट 21 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं आदि को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

हमने बच्चों को कच्ची मिट्टी ही समझ रखा है। जबकि वास्तविकता यह है कि सृष्टि ने पहले से ही हर बच्चे में रचनात्मकता भर कर हमें सौंपा है।
अर्चना तिवारी

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी


"ममा मैं सलवार-कुर्ता नहीं पहनूंगी, मुझे गर्मी लगती है।"
(अर्चना तिवारी की लघुकथा 'उड़नपरी' से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
उड़नपरी MP3

#27th Story, Udanpari; Arati Tiwari; Hindi Audio Book/2018/27. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, October 2, 2018

ऑडियो: ऋता शेखर मधु की लघुकथा ऊधम

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में अनूप शुक्ल का व्यंग्य "बस मुस्कुराते रहें" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है ऋता शेखर मधु की लघुकथा ऊधम, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा "ऊधम" का कुल प्रसारण समय 3 मिनट 9 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

अधिकार, एक ऐसा शब्द जो सुख, सुविधा और सहुलियत के दरवाजे खोलता है। कहते हैं जब मनुष्य अपना कर्तव्य करता है तो अधिकार खुद ब खुद मिल जाते हैं। समाज में रहने के लिए कर्तव्य और अधिकार, दोनों आवश्यक हैं।
ऋता शेखर मधु

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी



बन्दर शाम को यहाँ घूमते थे तो कितना अच्छा लगता था।
(ऋता शेखर मधु की लघुकथा "ऊधम" से एक अंश)  


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
ऊधम MP3

#21th Story, Oodham; Rita Shekhar Madhu; Hindi Audio Book/2018/21. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, September 25, 2018

ऑडियो: बस मुस्कुराते रहें (अनूप शुक्ल)

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में दीपक मशाल की लघुकथा "बेचैनी" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है अनूप शुक्ल का व्यंग्य बस मुस्कुराते रहें, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा "बस मुस्कुराते रहें" का कुल प्रसारण समय 5 मिनट 44 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

ई ससुर मोहब्बत भी एक बड़ा बवाल होता है,
मसला कौनौ नहीं सीधा, सब गोलमाल होता है।
 ~ अनूप शुक्ल

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

"अरे भाई कोई जबरदस्ती है। हम आपके कहने से मुस्करायेंगे? हम अपने आप मुस्करायेंगे- कीप स्माइलिंग का डोज लिये हैं।”
 (अनूप शुक्ल के व्यंग्य "बस मुस्कुराते रहें" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
बस मुस्कुराते रहें MP3

#20th Story, Bus Muskurate Rahen; Anup Shukla; Hindi Audio Book/2018/20. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, September 18, 2018

ऑडियो: रामनिवास मानव की लघुकथा परिचित

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में दीपक मशाल की लघुकथा बेचैनी" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है रामनिवास मानव की लघुकथा परिचित, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा "परिचित" का कुल प्रसारण समय 2 मिनट 26 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

डॉ. रामनिवास मानव
जन्म: 2 जुलाई 1954; तिगरा, महेन्द्रगढ़ (हरियाणा)। अब तक कुल बत्तीस पुस्तकें प्रकाशित। हरियाणा के समकालीन हिन्दी-साहित्य के प्रथम शोधार्थी तथा अधिकारी विद्वान।


हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

"बिना ख़ाना-पूर्ति किये हम सामान तुम्हें कैसे दे सकते हैं?”
 (रामनिवास मानव की लघुकथा "परिचित" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
परिचित MP3

#20th Story, Parichit; Ramnivas Manav; Hindi Audio Book/2018/20. Voice: Sheetal Maheshwari

Tuesday, September 11, 2018

बोलती कहानियाँ: बेचैनी (लघुकथा)

लोकप्रिय स्तम्भ "बोलती कहानियाँ" के अंतर्गत हम हर सप्ताह आपको सुनवाते रहे हैं नई, पुरानी, अनजान, प्रसिद्ध, मौलिक और अनूदित, यानि के हर प्रकार की कहानियाँ। पिछली बार आपने शीतल माहेश्वरी के स्वर में शरद जोशी के व्यंग्य रेल यात्रा" का वाचन सुना था।

आज प्रस्तुत है दीपक मशाल की लघुकथा बेचैनी, जिसे स्वर दिया है शीतल माहेश्वरी ने।

प्रस्तुत लघुकथा "बेचैनी" का कुल प्रसारण समय 2 मिनट 26 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिकों, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

कुछ बड़े लोगों से मिला था कभी,
तबसे कोई बड़ा नहीं लगता
इतनी बौनी है दुनिया कि कोई,
खड़ा हुआ भी खड़ा नहीं लगता
 ~ दीपक मशाल

हर सप्ताह यहीं पर सुनें एक नयी हिन्दी कहानी

"हाँ जी पहुँच गये हैं गेट पर।”
 (दीपक मशाल की लघुकथा "बेचैनी" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.


(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)
यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:
बेचैनी MP3

#19th Story, Bechaini; Dipak Mashal; Hindi Audio Book/2018/19. Voice: Sheetal Maheshwari

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ