swargoshthi 132 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
swargoshthi 132 लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 11 अगस्त 2013

वर्षा ऋतु के रंग : लोक-रस-रंग में भीगी कजरी के संग

स्वरगोष्ठी – 132में आज


कजरी गीतों का लोक स्वरूप

‘कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी...’

  
‘स्वरगोष्ठी’ के एक नए अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत प्रेमियों का मनभावन वर्षा ऋतु के परिवेश में एक बार फिर हार्दिक स्वागत करता हूँ। पिछले अंक से हमने वर्षा ऋतु की मनभावन गीत विधा कजरी पर लघु श्रृंखला ‘वर्षा ऋतु के रंग : कजरी के संग’ के माध्यम से एक चर्चा आरम्भ की थी। आज के अंक में हम उस चर्चा को आगे बढ़ाते हुए कजरी गीतों के मूल लोक स्वरूप को जानने का प्रयास करेंगे और कुछ पारम्परिक कजरियों का रसास्वादन भी करेंगे। कुछ फिल्मों में भी कजरी गीतों का प्रयोग किया गया है। आज के अंक में ऐसी ही एक मधुर फिल्मी कजरी का रसास्वादन करेंगे।

भारतीय लोक-संगीत के समृद्ध भण्डार में कुछ ऐसी संगीत शैलियाँ हैं, जिनका विस्तार क्षेत्रीयता की सीमा से बाहर निकल कर, राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर हुआ है। उत्तर प्रदेश के वाराणसी और मीरजापुर जनपद तथा उसके आसपास के पूरे पूर्वाञ्चल क्षेत्र में कजरी गीतों की बहुलता है। वर्षा ऋतु के परिवेश और इस मौसम में उपजने वाली मानवीय संवेदनाओं की अभियक्ति में कजरी गीत पूर्ण समर्थ लोक-शैली है। शास्त्रीय और उपशास्त्रीय संगीत के कलासाधकों द्वारा इस लोक-शैली को अपना लिये जाने से कजरी गीत आज राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर सुशोभित है।

उर्मिला श्रीवास्तव
कजरी की उत्पत्ति कब और कैसे हुई, यह कहना कठिन है, परन्तु यह तो निश्चित है कि मानव को जब स्वर और शब्द मिले होंगे और जब लोकजीवन को प्रकृति का कोमल स्पर्श मिला होगा, उसी समय से ये सब लोकगीत हमारे बीच हैं। प्राचीन काल से ही उत्तर प्रदेश का मीरजापुर जनपद माँ विंध्यवासिनी के शक्तिपीठ के रूप में आस्था का केन्द्र रहा है। अधिसंख्य प्राचीन कजरियों में शक्तिस्वरूपा देवी का ही गुणगान मिलता है। आज कजरी के वर्ण्य विषय काफी विस्तृत हैं, परन्तु कजरी गीतों के गायन का आरम्भ देवी गीत से ही होता है। हम भी अपनी आज की इस गोष्ठी का आरम्भ एक पारम्परिक देवी गीत से ही करते हैं। ऐसे गीतों में शक्तिस्वरूपा देवी माँ का लौकिक रूप में प्रस्तुतीकरण होता है। मीरजापुर की सुप्रसिद्ध लोक-गायिका उर्मिला श्रीवास्तव के स्वरों में यह देवी गीत प्रस्तुत है-


कजरी  देवी गीत : ‘बरखा की आइल बहार हो, मैया मोरी झूलें झुलनवा...’ : उर्मिला श्रीवास्तव



गिरिजा देवी
कजरी गीतों का गायन अधिकतर महिलाएँ करतीं हैं। इसे एकल और समूह में प्रस्तुत किया जाता है। समूह में प्रस्तुत की जाने वाली कजरी को ‘ढुनमुनियाँ कजरी’ कहते हैं। पुरुष वर्ग भी कजरी गायन करते हैं, किन्तु इनके मंच अलग होते हैं। वर्षा ऋतु में पूर्वाञ्चल के अनेक स्थानों पर कजरी के दंगल आयोजित होते है, जिनमें कजरी के विभिन्न अखाड़े दल के रूप में भाग लेते है। ऐसे आयोजनों में पुरुष गायक-वादकों के दो दल परस्पर सवाल-जवाब के रूप में कजरी गीत प्रस्तुत करते हैं। लोक-जीवन में प्रस्तुत की जाने वाली कजरियों के विषय वैविध्यपूर्ण होते हैं। कुछ कजरियों में सास और ननद के साथ नायिका की मीठी तकरार का वर्णन होता है, तो कुछ कजरियों में परदेश गए हुए नायक की याद में नायिका की विरह-व्यथा का चित्रण होता है। परन्तु वर्षाकालीन परिवेश का चित्रण सभी कजरियों में अनिवार्य रूप से मिलता है। अब हम आपको एक ऐसी पारम्परिक कजरी सुनवाते है, जिसमें वर्षाकालीन परिवेश का मोहक चित्रण किया गया है। इसे विश्वविख्यात गायिका विदुषी गिरिजा देवी और पं. रवि किचलू ने युगल रूप में प्रस्तुत किया है। भोजपुरी और अवधीभाषी क्षेत्रों में यह कजरी उपशास्त्रीय और लोक, दोनों स्वरूप में बेहद लोकप्रिय है।


कजरी : ‘बरसन लागी बदरिया रूम झूम के...’ : विदुषी गिरिजा देवी और रवि किचलू 



तृप्ति शाक्य
पारम्परिक कजरियों की धुनें और उनके टेक निर्धारित होते हैं। आमतौर पर कजरियाँ जैतसार, ढुनमुनियाँ, खेमटा, बनारसी और मीरजापुरी धुनों के नाम से पहचानी जाती हैं। कजरियों की पहचान उनके टेक के शब्दों से भी होती है। कजरी के टेक होते हैं- 'रामा', 'रे हरि', 'बलमू', 'साँवर गोरिया', 'ललना', 'ननदी' आदि। कजरी गीतों के विषय पारम्परिक भी होते हैं और अपने समकालीन लोकजीवन का दर्शन कराने वाले भी। ब्रिटिश शासनकाल में अनेक लोकगीतकारों ने ऐसी राष्ट्रवादी कजरियों की रचना की, जिनसे तत्कालीन ब्रिटिश सरकार भी भयभीत हुई थी। इस प्रकार के अनेक लोकगीतों को प्रतिबन्धित कर दिया गया था। इन लोकगीतों के रचनाकारों और गायकों को ब्रिटिश सरकार ने कठोर यातनाएँ भी दीं। परन्तु प्रतिबन्ध के बावजूद लोक-परम्पराएँ जन-जन तक पहुँचती रहीं। इन विषयों पर रची गईं अनेक कजरियों में बलिदानियों को नमन और महात्मा गाँधी के सिद्धांतों को रेखांकित किया गया। ऐसी ही एक कजरी की पंक्तियाँ देखें- "चरखा कातो, मानो गाँधी जी की बतियाँ, विपतिया कटि जइहें ननदी...”। कुछ कजरियों में अंग्रेजों की दमनकारी नीतियों पर प्रहार किया गया। ऐसी ही एक पारम्परिक कजरी की स्थायी की पंक्तियाँ हैं- “कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी...”। इन पंक्तियों में काले बादलों का घिरना, गुलामी के प्रतीक रूप में चित्रित हुआ है। इसके एक अन्तरे की पंक्तियाँ हैं- “केतनो लाठी गोली खइलें, केतनो डामन (अण्डमान का अपभ्रंस) फाँसी चढ़िले, केतनों पीसत होइहें जेहल (जेल) में चकरिया, बदरिया घेरि आइल ननदी...”। आजादी के बाद कजरी-गायकों ने इस अन्तरे को परिवर्तित कर दिया। अब हम आपको परिवर्तित अन्तरे के साथ वही कजरी सुनवाते हैं। इस गीत को तृप्ति शाक्य और साथियों ने स्वर दिया है।


कजरी पारम्परिक : ‘कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया...’ : तृप्ति शाक्य और साथी 



गीता दत्त
हिन्दी फिल्मों में कजरी गीतों का प्रयोग प्रायः कम हुआ है। कई गीतों में कजरी की धुनों का इस्तेमाल अवश्य हुआ है। परन्तु भोजपुरी फिल्मों में कुछ पारम्परिक कजरियों का प्रयोग अवश्य किया गया है। 1963 में प्रदर्शित भोजपुरी फिल्म 'बिदेशिया' में कजरी शैली का अत्यन्त मौलिक रूप प्रस्तुत किया गया है। ऊपर कजरी के जिन प्रकारों की चर्चा की गई, उनमें यह कजरी ‘ढुनमुनियाँ’ प्रकार की है। इस कजरी गीत की रचना अपने समय के सुप्रसिद्ध लोकगीतकार राममूर्ति चतुर्वेदी ने की थी और इसे संगीतबद्ध किया था एस.एन. त्रिपाठी ने। इस गीत को गायिका गीता दत्त और कौमुदी मजुमदार ने अपने स्वरों से फिल्मों में कजरी गायन को मौलिक स्वरूप दिया है। आप यह मनभावन कजरी सुनिए और मुझे इस अंक से यहीं विराम लेने की अनुमति दीजिए।



कजरी  फिल्म  बिदेशिया : ‘नीक सइयाँ बिन भवनवा नाहीं लागे सखिया...’ : गीतादत्त और कौमुदी मजुमदार




आज की पहेली 

‘स्वरगोष्ठी’ के 132वें अंक की पहेली में आज हम आपको एक राग-रचना का अंश सुनवा रहे है। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। 140वें अंक की समाप्ति तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला (सेगमेंट) का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 – कण्ठ संगीत के इस अंश को सुन कर पहचानिए कि यह रचना किस राग में निबद्ध है? 

2 – संगीत के इस अंश में किस ताल का प्रयोग किया गया है?

आप अपने उत्तर केवल radioplaybackindia@live.com या swargoshthi@gmail.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 134वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से अथवा radioplaybackindia@live.com या swargoshthi@gmail.com पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ के 130वें अंक की पहेली में हमने आपको उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ द्वारा शहनाई पर प्रस्तुत एक धुन का अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- कजरी धुन और दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- ताल दादरा तथा कहरवा। इस बार दोनों प्रश्नो के सही उत्तर एकमात्र प्रतिभागी जबलपुर से क्षिति तिवारी ने ही दिया है। लखनऊ के प्रकाश गोविन्द का दूसरा और जौनपुर के डॉ. पी.के. त्रिपाठी का पहला उत्तर ही सही था। तीनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक बधाई। इस परिणाम के साथ ही वर्ष 2013 की ‘स्वरगोष्ठी पहेली’ की तीसरी श्रृंखला (सेगमेंट) सम्पन्न हुई। इस श्रृंखला (सेगमेंट) में प्रथम तीन स्थान के प्रतियोगियों के प्राप्तांक इस प्रकार रहे-

1-क्षिति तिवारी, जबलपुर – 20 अंक

2-प्रकाश गोविन्द, लखनऊ – 19 अंक

3- डॉ. पी.के. त्रिपाठी, जौनपुर – 12 अंक


झरोखा अगले अंक का 


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी लघु श्रृंखला ‘वर्षा ऋतु के रंग : रसभरी कजरी के संग’ का यह समापन अंक था। आगामी अंक से हम एक नई श्रृंखला आरम्भ करेंगे। भारतीय संगीत का मूल स्वरूप भक्तिरस प्रधान है। आगामी अंकों में हम भारतीय संगीत के इसी स्वरूप पर चर्चा करेंगे। आप भी अपनी पसन्द के राग आधारित भक्ति संगीत की फरमाइश कर सकते हैं। अगले अंक में इस नई लघु श्रृंखला की पहली कड़ी के साथ रविवार को प्रातः 9 बजे हम ‘स्वरगोष्ठी’ के इसी मंच पर आप सभी संगीत-रसिकों की प्रतीक्षा करेंगे।


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र 

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ