Skip to main content

ते की मैं झूठ बोलेया...पूछा राज कपूर ने समाज से, सलिल चौधरी की धुन में



पूरी फिल्म में नायक कुछ नहीं बोलता। केवल अन्त में वह कहता है- ‘मैं थका-हारा-प्यासा पानी पीने यहाँ चला आया, और सब लोग मुझे चोर समझ कर मेरे पीछे भागे, जैसे मैं कोई पागल कुत्ता हूँ। मैंने यहाँ हर तरह के लोग और चेहरे देखे। मुझ गँवार को तुमसे यही शिक्षा दी कि चोरी किये बिना कोई बड़ा आदमी नहीं बन सकता... क्या सचमुच चोरी किये बिना कोई बड़ा आदमी नहीं बन सकता?’


ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 807/2011/247

ल्पनाशील फ़िल्मकार राज कपूर के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में आयोजित श्रृंखला ‘आधी हक़ीक़त आधा फसाना’ की सातवीं कड़ी में, मैं कृष्णमोहन मिश्र, एक बार पुनः आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ। अपने फिल्म-जीवन में राज कपूर ने १८ फिल्मों का निर्माण किया था। फिल्म ‘हिना’ का अधूरा निर्माण कर वे स्वर्ग सिधार गए, जिसे बाद में उनके पुत्रों ने पूरा किया। इन सभी फिल्मों के कथानक सामाजिक यथार्थ की भूमि से जन्म लेते थे, किन्तु उनका ऊपरी स्वरूप फंतासी की तरह दिखता था। इन १८ फिल्मों में एक फिल्म ‘जागते रहो’ ऐसी है, जिसमें सामाजिक यथार्थ की मात्रा अधिक और फंतासी नाममात्र के लिए है। राज कपूर इस फिल्म के निर्माता और अभिनेता थे।

फिल्म ‘जागते रहो’ एक सफल बांग्ला नाटक ‘एक दिन रात्रे’ पर आधारित है, जिसमे एक रात की कहानी है। यह फिल्म महानगरीय सभ्यता के खोखलेपन को चित्रित करता है। फिल्म का निदेशन सुप्रसिद्ध रंगकर्मी-जोड़ी शम्भू मित्रा और अमित मैत्र ने किया था। फिल्म का नायक एक छोटे से गाँव से नौकरी की खोज में महानगर आया है। पूरा दिन भूखा-प्यासा, भटकता हुआ नायक एक बहुमंजिले भवन में पानी की तलाश में पहुँच जाता है। चौकीदार उसे चोर समझ कर शोर मचा देता है। घबरा कर वह खुद को छिपाने के लिए भवन की हर मंज़िल और हर फ्लैट में भटकता फिरता है। इन सभी फ्लैट में उसे तथाकथित सभ्य समाज का वास्तविक चेहरा दिखाई देता है। राज कपूर की यही एकमात्र फिल्म है, जिसमे अधिकतम हक़ीक़त है और नाममात्र का फसाना। राज कपूर ने इस गम्भीर कथ्य में भी मनोरंजन का प्रयास किया है। करारे व्यंग्य के बीच हास्य के क्षण भी हैं। पूरी फिल्म में नायक कुछ नहीं बोलता। केवल अन्त में वह कहता है- ‘मैं थका-हारा-प्यासा पानी पीने यहाँ चला आया, और सब लोग मुझे चोर समझ कर मेरे पीछे भागे, जैसे मैं कोई पागल कुत्ता हूँ। मैंने यहाँ हर तरह के लोग और चेहरे देखे। मुझ गँवार को तुमसे यही शिक्षा दी कि चोरी किये बिना कोई बड़ा आदमी नहीं बन सकता... क्या सचमुच चोरी किये बिना कोई बड़ा आदमी नहीं बन सकता?’ यह जलता हुआ प्रश्न राज कपूर ने देश के कर्णधारों से पूछा है। राज कपूर जैसे जागरूक फ़िल्मकार ने भावी भारतीय समाज का पूर्वानुमान १९५६ में ही कर लिया था।

फिल्म ‘जागते रहो’ के निर्माण की योजना बनाते समय राज कपूर के साथियों ने इस शुष्क विषय पर फिल्म न बनाने का सुझाव दिया, किन्तु उनके मस्तिष्क में यह विषय इतनी गहराई तक पैठ चुका था कि उन्होने उस सुझाव को दरकिनार कर दिया। फिल्म के अन्तिम दृश्य में प्यासा नायक अन्ततः एक बाग में पहुँचता है, जहाँ नरगिस पौधों को सींच रही थी। रात भर का प्यासा नायक उस युवती के हाथ से जी भर कर पानी पीकर तृप्त हो जाता है। यह प्यास एक व्यक्ति के रूप में और एक प्रेमी हृदय वाले राज कपूर की थी और फ़िल्मकार राज कपूर की भी थी। फिल्म ‘जागते रहो’ का एक विचित्र तथ्य यह भी है कि राज कपूर द्वारा निभाए गये चरित्र को पानी पिला कर तृप्त करने वाली नरगिस की राज कपूर के साथ यह अन्तिम फिल्म सिद्ध हुई।

फिल्म ‘जागते रहो’ का निर्माण आरम्भ होने से पहले शंकर-जयकिशन, राज कपूर की फिल्मों के स्थायी संगीतकार बन चुके थे। ‘बरसात’, ‘आवारा’, ‘श्री४२०’, ‘चोरी चोरी’ आदि के गीत अत्यन्त जनप्रिय हो चुके थे। इसके बावजूद ‘जागते रहो’ के लिए राज कपूर ने शंकर-जयकिशन के स्थान पर जनवादी विचारधारा के संगीतकार सलिल चौधरी को फिल्म के संगीत का दायित्व दिया। राज कपूर की दूरदृष्टि ने इस तथ्य को पहचान लिया था कि शंकर-जयकिशन के संगीत में आधी हक़ीक़त और आधा फसाना अभिव्यक्त होता है, जब कि सलिल चौधरी के संगीत से केवल हक़ीक़त। सलिल चौधरी ने फिल्म के कथानक के अनुरूप सूर्योदय के राग भैरव को केन्द्र में रख कर संगीत रचा। रात में होने वाले पाप को धोने और जनमानस में जागृति लाने के लिए भैरव के स्वरों से लिप्त गीत- ‘जागो मोहन प्यारे...’ की ही आवश्यकता थी। सलिल दा ने इस फिल्म में दर्शनिकता से परिपूर्ण गीत- ‘ज़िन्दगी ख्वाब है...’ की भी रचना की, जिसे अभिनेता मोतीलाल पर फिल्माया गया था। (यह दोनों गीत हम ‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ की पूर्व श्रृंखलाओं में सुनवा चुके हैं)। आज जो गीत हम आपको सुनवाने जा रहे हैं, उसमें सलिल चौधरी की लोक-संगीत-प्रतिभा उजागर होती है। पंजाब के लोक-संगीत-नृत्य शैली ‘भांगड़ा’ पर आधारित गीत- ‘ते की मैं झूठ बोलेया...’ आज आपके लिए उपहार है। इस गीत को मोहम्मद रफी और एस. बलबीर ने स्वर दिया है, गीतकार हैं प्रेम धवन और संगीतकार तो सलिल चौधरी हैं ही।



क्या आप जानते हैंफिल्म ‘जागते रहो’ के कथानक में घटित घटना की अवधि और फिल्म की अवधि लगभग समान है। रात्रि एक बज कर बीस मिनट से आरम्भ घटनाक्रम सूर्योदय से पूर्व ही समाप्त हो जाता है।

पहचानें अगला गीत -मन्ना डे बने राज कपूर की आवाज़ इस दार्शनिक रंग में रंगे गीत में जिसके मुखड़े में शब्द है - "भाग", गीतकार थे राजेंद्र कृष्ण
१. फिल्म का नाम बताएं - २ अंक
२. संगीतकार बताएं - ३ अंक


पिछले अंक में -इंदु जी तो आजकल सहवाग की तरह खेल रहीं है

खोज व आलेख-
कृष्णमोहन मिश्र



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें admin@radioplaybackindia.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें +91-9871123997 (सजीव सारथी) या +91-9878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

मेरी बचपन की सहेली शारदा आ गई थी आज.
थोड़ी देर पहले ही गये है.कहती है 'चाहे जिंदगी से कितना भी भागो तेरे दिल की आग नही बुझेगी'
लो जी यहाँ भागना कौन चाहता है.अभी तो आजके प्रश्न का उत्तर देना है.बेच बीच मे आकर देखा कोई आया या नही? कोई नही आया.हद है.मुनेदी पित्वाओ.गुमशुदा की तलाश के इश्तिहार लगाओ भई. 'सी. रामचंद्र जी' को लेते जाना रिपोर्ट लिखवाने.लिखवा देना पाबला जी,अवध जी,अमित जी,पद्म सिंग,राज जी और भी तो है न अपने कुछ जो बाहर रहते हैं,सब गायब है आज कल. उनका नाम भी लिखवा देना.ओके?
ढूंढ निकलवाना भई सबको तब तक मैं थोडा रेस्ट कर लूं.बच्चे गायब है :P चिन्ता तो हो रही है मुझे पर ......... चिंतित होती हूँ तो बहुत सोती हूँ.
क्या करूं?ऐसिच हूँ मैं तो
आश्चर्य! मेरा कमेन्ट कहाँ गया.चटपटे अंदाज़ मे मैंने बहुत कुछ लिखा था.फिर गया कहाँ? उत्तर भी एकदम सही लिखा था. पहेली के रूप मे शारदा फिल्म का नाम और गाना भी बता दिया था और संगीतकार का नाम उत्तर के तौर पर दिया था क्योंकि वो तीन नम्बर का था.उफ़ !
हे भगवान! आज दुबारा व्यूज़ दिए.शिकायत की फिर भी.........यहाँ नही दिख रहे.गये कहाँ? जरूर स्पैम मे होंगे. देखिये प्लीज़
Smart Indian said…
@ते की मैं झूठ बोलेया...
ग़ज़ब का गीत!

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया