Skip to main content

वो सुबह कभी तो आएगी...उम्मीद के दीयों को जला के रखें, खय्याम के सुरों में



लता मंगेशकर ने एक बार राज कपूर को एक तानपूरा भेंट किया था। ख़ैयाम के साथ हुई बैठक में राज कपूर ने वही तानपूरा ख़ैयाम की ओर बढ़ाते हुए कुछ सुनाने का आग्रह किया। ख़ैयाम ने उस नये तानपूरा के तारों को छेड़ते हुए राग पूरिया धनाश्री की एक बन्दिश सुनाई। राज कपूर ख़ैयाम की गायकी से प्रभावित हुए और उन्हें फिल्म के शीर्षक गीत की धुन बनाने को कहा। ख़ैयाम इस फिल्म का संगीत तैयार करने के लिए अत्यन्त उत्सुक थे। राज कपूर की सहमति मिल जाने के बाद उन्होने फिल्म के शीर्षक गीत की पाँच अलग- अलग धुनें बनाईं।

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 810/2011/250

‘ओल्ड इज़ गोल्ड’ पर जारी श्रृंखला ‘आधी हकीकत आधा फसाना’ की समापन कड़ी में कृष्णमोहन मिश्र और ‘प्लेबैक’ परिवार की ओर से आपका हार्दिक स्वागत है। इस श्रृंखला में हमने आपके लिए राज कपूर द्वारा निर्मित तीन फिल्मों और केवल अभिनीत सात फिल्मों के ऐसे गीतों को चुना, जिन पर या तो राज कपूर का प्रभाव था या उन गीतों से वे स्वयं प्रभावित हुए थे। गीतों को चुनते समय हमने इस बात का ध्यान भी रखा कि ये फिल्में राज कपूर के प्रारम्भिक एक दशक की हो और फिल्म ‘बरसात’ से लेकर ‘मेरा नाम जोकर’ तक की सर्वाधिक फिल्मों के संगीतकार शंकर-जयकिशन की न होकर अन्य संगीतकारों की हो। आज श्रृंखला की समापन कड़ी में हम एक ऐसे गीत पर चर्चा करेंगे, जिस पर राज कपूर की साम्यवादी विचारधारा का पूरा प्रभाव अंकित हुआ है।

कल के अंक में हमने देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और राज कपूर की समान विचारधारा पर चर्चा की थी। जिस प्रकार नेहरू जी तत्कालीन सोवियत रूस और चीन मे लोकप्रिय थे, ठीक उसी प्रकार राज कपूर और उनकी फिल्में इन देशों में लोकप्रिय थीं। १९५८ में निर्माता-निर्देशक रमेश सहगल की फिल्म ‘फिर सुबह होगी’ प्रदर्शित हुई थी। यह फिल्म रूसी उपन्यासकार फ़्योडोर दोस्तोएव्स्की की विश्वविख्यात कृति ‘क्राइम एण्ड पनिशमेंट’ पर आधारित थी। रमेश सहगल ने इस फिल्म में नायक की भूमिका के लिए राज कपूर को और गीतकार के रूप में साहिर लुधियानवी को शामिल कर चुके थे। राज कपूर फिल्म के कथानक से अत्यन्त प्रभावित हुए थे। फिल्म के संगीतकार का चयन अभी बाकी था। साहिर लुधियानवी ने एक दिन रमेश सहगल को संगीतकार ख़ैयाम का नाम सुझाया। रमेश सहगल को उम्मीद थी कि राज कपूर शंकर-जयकिशन के नाम का सुझाव देंगे, परन्तु उन्होने ऐसा नहीं किया। रमेश सहगल ने राज कपूर और ख़ैयाम की एक बैठक करा दी।

लता मंगेशकर ने एक बार राज कपूर को एक तानपूरा भेंट किया था। ख़ैयाम के साथ हुई बैठक में राज कपूर ने वही तानपूरा ख़ैयाम की ओर बढ़ाते हुए कुछ सुनाने का आग्रह किया। ख़ैयाम ने उस नये तानपूरा के तारों को छेड़ते हुए राग पूरिया धनाश्री की एक बन्दिश सुनाई। राज कपूर ख़ैयाम की गायकी से प्रभावित हुए और उन्हें फिल्म के शीर्षक गीत की धुन बनाने को कहा। ख़ैयाम इस फिल्म का संगीत तैयार करने के लिए अत्यन्त उत्सुक थे। राज कपूर की सहमति मिल जाने के बाद उन्होने फिल्म के शीर्षक गीत की पाँच अलग- अलग धुनें बनाईं। अगली बैठक में राज कपूर ने जब गीत की पाँचो धुनें सुनी तो वे ख़ैयाम की प्रतिभा से प्रभावित हुए और फिल्म के अन्य गीतों की धुनें बनाने की पूरी स्वतन्त्रता दे दी। इस प्रकार राज कपूर, ख़ैयाम, साहिर लुधियानवी और रमेश सहगल के अनूठे समागम से फिल्म ‘फिर सुबह होगी’ के सभी गीत बेहद लोकप्रिय हुए थे। फिल्म सफल नहीं हुई किन्तु श्रृंगार प्रधान गीतों के उस दौर में यथार्थवादी गीत एक नई ताजगी लेकर आए थे, अतः गीत खूब चले। (राज कपूर और खैयाम के भेंट प्रसंग को हमने पंकज राग की पुस्तक 'धुनों की यात्रा' से साभार उद्धृत किया है)

फिल्म ‘फिर सुबह होगी’ में ख़ैयाम ने राज कपूर पर फिल्माए गए गीतों को मुकेश से गवाया था। मुख्य शीर्षक गीत- ‘वो सुबह कभी तो आएगी...’ के दो संस्करण हैं, एक संस्करण में केवल मुकेश का और दूसरे में मुकेश के साथ आशा भोसले का स्वर है। मुकेश की आवाज़ में एक अन्य गीत ‘आसमाँ पे है खुदा, और ज़मीं पे हम...’ तत्कालीन फिल्मी गीतों की बनी छवि तोड़ने में सफल हुआ था। फिल्म-संगीत-प्रेमियों ने इस गीत के नयेपन को खूब सराहा था। फिल्म के अन्य गीत- ‘चीन-ओ-अरब हमारा...’, ‘फिर ना कीजे मेरी गुस्ताख़ निगाहों का गिला...’ आदि भी अपनी सहज धुनों के कारण खूब सराहे गए। आज की समापन कड़ी में हम आपको फिल्म के शीर्षक गीत का वह संस्करण सुनवाते हैं, जिसे मुकेश और आशा भोसले ने स्वर दिया था। लीजिए, साहिर लुधियानवी का गीत, ख़ैयाम का संगीत, मुकेश और आशा भोसले के युगल स्वरों से युक्त फिल्म ‘फिर सुबह होगी’ का यह गीत सुनिए, और मुझे आज यहीं विराम लेने की अनुमति दीजिए। महान फ़िल्मकार राज कपूर की ८७ वीं जयन्ती पर उन्हीं के १० गीतों की यह माला हमने उन्हीं की स्मृति में अर्पित किया है।



क्या आप जानते हैंमुकेश और आशा भोसले के स्वरों में फिल्म ‘फिर सुबह होगी’ का यह गीत राज कपूर और माला सिन्हा पर फिल्माया गया है। इस दृश्य में माला सिन्हा राज कपूर की बाहों में हैं और गीत के आरम्भ से अन्त तक दोनों इसी मुद्रा में रहते हैं।

पहचानें अगला गीत -आज विराम लेते हैं और सोचते हैं उन गीतों के बारे में जो इस महान फिल्मकार की फिल्मों ने हमें दिए.

पिछले अंक में - इंदु जी आखिरकार आप के हिस्से में एक शृंखला का ताज आ ही गया, इस बार प्लेबैक टीम को आपकी तरफ से पार्टी बनती है

खोज व आलेख-
कृष्णमोहन मिश्र



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें admin@radioplaybackindia.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें +91-9871123997 (सजीव सारथी) या +91-9878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Comments

Amit said…
बधाइयाँ इंदू जी.
इन्दु जी, श्रृंखला-विजय के लिए बहुत-बहुत बधाई! अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखिए और ‘ऐसिच....’ ही बनी रहिए।
थेंक्स कृष्ण भैया और अमित बाबु!
पार्टी जरूर बनती है जी.कौन दे रहा है? :P
मैं तो खाऊ हूँ हा हा हा
ऐसिच हूँ मैं तो सच्ची हा हा हा
raj kapoor साहब की पुरानी फिल्म्स मे बहुत ही खूबसूरत गाने थे.एक ....... 'महताब तेरा चेहरा जिस रोज से देखा है' बहुत ही पसंद है मुझे. उसमे शायद वायलिन का प्रयोग किया है.बीच बेच मे उस का प्रयोग....उफ़ ! जैसे भीतर तक चीर कर रख देता है.इस प्यारे से गाने को सुनकर जिसमे दर्द निराशा दूर दूर तक कहीं नही.फिर भी मेरे आंसू रोके नही रुकते.
क्यों?नही मालूम. बस
ऐसिच हूँ मैं तो
ठीक कहा आपने, इन्दु जी! 1962 की फिल्म ‘आशिक’ का यह गीत है। दोनों अंतरे शुरू होने से ठीक पहले आपको प्रभावित करने वाला संगीत का यह टुकड़ा वास्तव में आकर्षक है। चूँकि यह 1962 की फिल्म है और मुझे राज कपूर के पहले दशक की फिल्मों से ही गीतों को चुनना था, अतः इस गीत को नहीं शामिल कर पाया। आपकी फरमाइश मैंने नोट कर लिया है। भविष्य में अवसर मिलने पर यह गीत आपको अवश्य सुनवाएँगे।
AVADH said…
'वोह सुबह कभी तो आएगी" हमेशा से मेरा एक बेहद पसंदीदा गीत रहा है.
जब भी मैं इसे सुनता हूँ,(इस वक्त भी) हमेशा मेरे रोयें खड़े हो जाते हैं.
अवध लाल

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक