asha bhosle लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
asha bhosle लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 28 जनवरी 2017

चित्रकथा - 4: आशा के बाद ओ. पी. नय्यर की पार्श्वगायिकाएँ


अंक - 4

आशा के बाद ओ. पी. नय्यर की पार्श्वगायिकाएँ


हम कैसे बतायें तक़दीर ने हमको ऐसा मारा..



'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। समूचे विश्व में मनोरंजन का सर्वाधिक लोकप्रिय माध्यम सिनेमा रहा है और भारत कोई व्यतिक्रम नहीं है। बीसवीं सदी के चौथे दशक से सवाक् फ़िल्मों की जो परम्परा शुरु हुई थी, वह आज तक जारी है और इसकी लोकप्रियता निरन्तर बढ़ती ही चली जा रही है। और हमारे यहाँ सिनेमा के साथ-साथ सिने-संगीत भी ताल से ताल मिला कर फलती-फूलती चली आई है। सिनेमा और सिने-संगीत, दोनो ही आज हमारी ज़िन्दगी के अभिन्न अंग बन चुके हैं। हमारी दिलचस्पी का आलम ऐसा है कि हम केवल फ़िल्में देख कर या गाने सुनने तक ही अपने आप को सीमित नहीं रखते, बल्कि फ़िल्म संबंधित हर तरह की जानकारियाँ बटोरने का प्रयत्न करते रहते हैं। इसी दिशा में आपके हमसफ़र बन कर हम आते हैं हर शनिवार ’चित्रकथा’ लेकर। ’चित्रकथा’ एक ऐसा स्तंभ है जिसमें बातें होंगी चित्रपट की और चित्रपट-संगीत की। फ़िल्म और फ़िल्म-संगीत से जुड़े विषयों से सुसज्जित इस पाठ्य स्तंभ के तीसरे अंक में आपका हार्दिक स्वागत है।  

ओ. पी. नय्यर एक ऐसे संगीतकार थे जो शुरु से लेकर अन्त तक अपने उसूलों पर चले, और किसी के भी लिए उन्होंने अपना सर नीचे नहीं झुकाया, फिर चाहे उनकी हाथ से फ़िल्म चली जाए या गायक-गायिकाएँ मुंह मोड़ ले। करीयर के शुरुआती दिनों में ही एक ग़लतफ़हमी की वजह से लता मंगेशकर के साथ जो अन-बन हुई थी, उसके चलते नय्यर साहब ने कभी लता जी के साथ सुलह नहीं किया। और अपने करीयर के अन्तिम चरण में अपनी चहेती गायिका आशा भोसले से भी उन्होंने सारे संबंध तोड़ दिए। आइए आज हम नज़र डाले उन पार्श्वगायिकाओं पर जिनकी आवाज़ का ओ. पी. नय्यर ने अपने गीतों में इस्तमाल किया आशा भोसले से संबंध समाप्त होने के बाद।



संगीतकार ओ. पी. नय्यर की शख़्सियत के बारे में हम सभी जानते हैं। जब दूसरे सभी संगीतकार लता
मंगेशकर से अपने गीत गवाने के लिए व्याकुल थे, तब उन्होंने यह ऐलान कर दिया कि वो लता से कभी नहीं गवाएँगे। राजकुमारी, शम्शाद बेगम और गीता दत्त से अपनी शुरुआती फ़िल्मों के गीत गवाने के बाद नय्यर साहब को मिली आशा भोसले। आशा जी और नय्यर साहब की जोड़ी कमाल की जोड़ी बनी। एक से एक सुपर-डुपर हिट गीत बनते चले गए। लेकिन यह जोड़ी भी टिक नहीं सकी। 70 के दशक के आते आते संगीतकारों की नई पीढ़ी ने फ़िल्म-संगीत जगत में तहल्का मचाना शुरु कर दिया था। कल्याणजी-आनन्दजी, लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल और राहुल देव बर्मन सर्वोच्च शिखर पर पहुँच चुके थे। ऐसे में शंकर जयकिशन, ओ. पी. नय्यर, रवि, चित्रगुप्त आदि संगीतकारों का करीअर ढलान पर आ गया। उधर ओ. पी. नय्यर और आशा भोसले के बीच भी अन-बन शुरु हुई। और कहा जाता है कि जब एक दिन नय्यर साहब ने आशा जी की बेटी वर्षा पर हाथ उठाने की हिमाकत की, उस दिन आशा ने ओ. पी. नय्यर के साथ किसी भी तरह के संबंध में पूर्ण-विराम लगा दिया। उन दिनों ’प्राण जाए पर वचन ना जाए’ फ़िल्म रिलीज़ होने ही वाली थी और इसका "चैन से हमको कभी आपने जीने ना दिया" गीत बेहद लोकप्रिय होने लगा था। ऐसे में आशा जी ने निर्माता-निर्देशक से कह कर इस गीत को फ़िल्म से हटवा दिया। और जब इसी फ़िल्म के लिए नय्यर साहब को इस वर्ष का फ़िल्मफ़ेअर पुरस्कार मिला, तब घर लौटते वक़्त गाड़ी का शीशा उतार कर यह पुरस्कार उन्होंने बाहर फेंक दिया। नय्यर और आशा का रिश्ता हमेशा-हमेशा के लिए ख़त्म हो गया।

इस घटना के समय नय्यर और आशा एक और फ़िल्म में साथ में काम कर रहे थे। फ़िल्म थी ’टैक्सी
Krishna Kalle
ड्राइवर’। 1973 में प्रदर्शित इस फ़िल्म में तब तक आशा भोसले की आवाज़ में कई गीत रेकॉर्ड हो चुके थे, बस एक गीत रेकॉर्ड होना बाक़ी था। आशा जी से संबंध समाप्त होने के बाद यह आख़िरी गीत नय्यर साहब ने कृष्णा कल्ले से गवाने का निर्णय लिया। गीत के बोल थे "प्यार करते हो यार, करके डरते हो यार"। गीत क्लब-कैबरे जौनर का गीत है। यूं तो कृष्णा कल्ले ने इस गीत को बहुत अच्छा गाया है, पर आशा-नय्यर का वह जादू नहीं चल पाया। कुछ-कुछ इसी तरह के भाव पर आधारित आशा-नय्यर का एक मास्टरपीस गीत रहा है फ़िल्म ’मेरे सनम’ का "ये है रेशमी ज़ुल्फ़ों का अन्धेरा ना घबराइए"। वह असर नय्यर साहब ’टैक्सी ड्राइवर’ के इस गीत में पैदा नहीं कर सके। गायिका कृष्णा कल्ले ने 60 और 70 के दशकों में बहुत से फ़िल्मी गीत गाए, पर उनमें से अधिकतर कम बजट की फ़िल्मों के गीत होने की वजह से ज़्यादा चल नहीं पाए। रफ़ी साहब के साथ उनका गाया 1967 की फ़िल्म ’राज़’ का गीत "सोचता हूँ के तुम्हें मैंने कहीं देखा है" काफ़ी लोकप्रिय हुआ था। मराठी और कन्नड़ फ़िल्मों में भी उन्होंने कई गीत गाए हैं।


’टैक्सी ड्राइवर’ के बाद ओ. पी. नय्यर के संगीत से सजी अगली फ़िल्म आई ’ख़ून का बदला ख़ून’। 1978
Vani Jayram
की इस फ़िल्म में नय्यर साहब ने एक नहीं बल्कि तीन-तीन गायिकाओं को मौक़ा दिया अपने गीतों को गाने का। ये थीं वाणी जयराम, उत्तरा केलकर और पुष्पा पगधरे। वाणी जयराम का करीअर हिन्दी फ़िल्मों में 1971 में शुरु हुआ जब वसन्त देसाई के संगीत में फ़िल्म ’गुड्डी’ में दो गीत गा कर वो रातों रात मशहूर हो गईं। फिर नौशाद साहब ने उन्हें अपनी 1972 की फ़िल्म ’पाक़ीज़ा’ में "मोरा साजन" और 1977 की फ़िल्म ’आइना’ में आशा भोसले के साथ एक युगल गीत में गवाया। और 1978 में ओ. पी. नय्यर ने उन्हें ’ख़ून का बदला ख़ून’ की मुख्य गायिका के रूप में प्रस्तुत किया और उनसे एक या दो नहीं बल्कि फ़िल्म के सभी आठ गीत गवाए। रफ़ी साहब के साथ गाया "एजी होगा क्या आगे जनाब देखना, अभी तो सवाल है जवाब देखना" क़व्वाली शैली का गीत है जिसमें नय्यर साहब का हस्ताक्षर ऑरकेस्ट्रेशन इन्टरल्युड में साफ़ सुनाई देता है, पर गीत को 70 के दशक के स्टाइल में ढालने की कोशिश की गई है। वाणी जयराम के गाए चार और गीत हैं इस फ़िल्म में; "बड़ा दुख द‍इबे पवन पुरवैया" और "प्यार भरा कजरा अखियों में डालके" मुजरा शैली के गीत हैं। "तुमको दीवाना मेरी जान बनाने के लिए, एक बस एक मोहब्बत की नज़र काफ़ी है" एक क्लब नंबर है। "ज़ुल्फ़ लहराई तो सावन का महीना आ गया" में नय्यर साहब की वही 60 के दशक के गीतों की छाया नज़र आई, पर कुल मिला कर इस फ़िल्म में वाणी जयराम की आवाज़ वह कमाल नहीं दिखा सकी जो ’गुड्डी’ में दिखाई थी। गीतों में वह दम नहीं था कि उस दौर के सुपरहिट फ़िल्मों के सुपरहिट गीतों से टक्कर ले पाते।


’ख़ून का बदला ख़ून’ में वाणी जयराम के साथ दो और गायिकाओं की आवाज़ें भी गूंजी। इनमें से एक थीं
Uttara Kelkar
उत्तरा केलकर। इन्होंने हिन्दी फ़िल्मों में बहुत ज़्यादा तो नहीं गाईं, पर मराठी संगीत जगत में इनका नाम हुआ। कहना आवश्यक है कि हिन्दी फ़िल्म जगत में उत्तरा केलकर को पहला अवसर ओ. पी. नय्यर ने ही दिया था ’ख़ून का बदला ख़ून’ में। इस फ़िल्म के तीन गीतों में इनकी आवाज़ सुनाई दी - "घर अपना बंगाल और बम्बई...", "हम यतीमों के जैसा भी संसार..." और "प्यार भरा कजरा अखियों में..."। लेकिन ये तीनों गीत उनकी एकल आवाज़ में नहीं थे, बल्कि वाणी जयराम इनमें मुख्य गायिका थीं, और साथ में थीं पुष्पा पगधरे। इन गीतों ने उत्तरा केलकर को कोई प्रसिद्धी तो नहीं दिलाई, पर हिन्दी फ़िल्म जगत में उनका खाता खुल गया। उन्हें हिन्दी में दूसरा मौका मिला सात साल बाद, 1985 की फ़िल्म ’टारज़न’ में जिसमें बप्पी लाहिड़ी ने उनसे गवाए "मेरे पास आओगे" और "तमाशा बनके आए हैं" जैसे हिट गीत। 1987 में ’डान्स डान्स’ का "आ गया आ गया हलवा आ गया" गीत भी सुपरहिट रहा। ’माँ कसम’, ’अधिकार’, ’सूर्या’, ’पुलिस और मुजरिम’, और ’इनसानियत के देवता’ जैसी फ़िल्मों में उनके गाए गीत नाकामयाब रहे। ओ. पी. नय्यर ने भी फिर कभी उत्तरा केलकर से अपने गीत नहीं गवाए।


वाणी जयराम और उत्तरा केलकर के अलावा ’ख़ून का बदला ख़ून’ में नय्यर साहब ने पुष्पा पगधरे को
Pushpa Pagdhare
भी गाने का मौक़ा दिया था। "घर अपना बंगाल और बम्बई" और "प्यार भरा कजरा अखियों में डाल के" में इन्होंने अपनी आवाज़ मिलाई थी। वैसे यह पुष्पा पगधरे की पहली फ़िल्म नहीं थी। इससे एक साल पहले 1977 में संगीतकार एस. एन. त्रिपाठी ने धार्मिक फ़िल्म ’जय गणेश’ में इन्हें गाने का अवसर दिया था। आशा भोसले, मन्ना डे और महेन्द्र कपूर जैसे सीनियर गायकों के साथ इनकी भी आवाज़ इस ऐल्बम में सुनाई दी थी। 1978 में ही एक और फ़िल्म में पुष्पा की आवाज़ सुनाई दी, यह फ़िल्म थी ’चोर का भाई चोर’। डी. एस. रेउबेन के संगीत में इस फ़िल्म के गाने नहीं चले। इस तीनों फ़िल्मों के पिट जाने की वजह से पुष्पा पगधरे की आवाज़ लोगों तक नहीं पहुँच सकी और पुष्पा गुमनामी में ही रह गईं। ओ. पी. नय्यर ने एक बार फिर उन्हें मौका दिया अपनी अगली ही फ़िल्म ’बिन माँ के बच्चे’ में जो प्रदर्शित हुई थी 1979 में। इस फ़िल्म के कुल छह गीतों में तीन रफ़ी साहब के एकल, दो पुष्पा पगधरे के एकल और एक रफ़ी-पुष्पा डुएट थे। रफ़ी साहब के साथ गाया गीत एक होली गीत था जिसके बोल थे "होली आई रे आई रे होली आई रे, दिल झूम रहे मस्ती में लिए लाखों रंग बहार के"। बदलते दौर में भी अपनी शैली को बरकरार रखने की कोशिश में नाकाम रहे नय्यर साहब और यह होली गीत कोई कमाल नहीं दिखा सकी। पुष्पा पगधरे की एकल गीतों में पहला गीत था "अपनी भी एक दिन ऐसी मोटर कार होगी" और दूसरा गीत था "जो रात को जल्दी सोये और सुबह को जल्दी जागे"। इन गीतों में नय्यर साहब का स्टाइल बरकरार था और एस. एच. बिहारी के लिखे सुन्दर बोलों के होने के बावजूद ये गाने नहीं चले। एक तो दौर बदल चुका था, 80 के दशक में 60 के दशक का स्टाइल भला कैसे हिट होता! और शायद आशा भोसले की आवाज़ होती तो बात कुछ और होती, क्या पता! 1986 की फ़िल्म ’अंकुष’ में "इतनी शक्ति हमें देना दाता" गा कर पुष्पा पगधरे को पहली बार हिन्दी फ़िल्म जगत में ख्याति हासिल हुई। इस फ़िल्म के संगीतकार थे कुलदीप सिंह। ओ. पी. नय्यर ने अपने जीवन की अन्तिम फ़िल्म, 1995 की ’मुक़द्दर की बात’ में एक बार फिर से पुष्पा पगधरे को गवाया था।


1979 में ओ. पी. नय्यर के संगीत निर्देशन में एक और फ़िल्म आई ’हीरा मोती’। इस फ़िल्म में भी रफ़ी
Dilraj Kaur
साहब पुरुष गायक थे, साथ में मन्ना डे भी। पर गायिका के रूप में इस बार उन्होंने चुना दिलराज कौर की आवाज़। शत्रुघन सिन्हा और रीना रॉय पर फ़िल्माया रफ़ी-दिलराज डुएट "होंठ हैं तेरे दो लाल हीरे" पंजाबी शैली का नृत्य गीत है जिसमें दिलराज कौर आशा भोसले के अंदाज़ में गाने की कोशिश करती हैं और कुछ हद तक सफल भी हुई हैं। फ़िल्म अगर चलती तो शायद यह गीत भी चल पड़ता, पर अफ़सोस की बात कि फ़िल्म के ना चलने से इस गीत पर किसी का ध्यान नहीं गया। इस फ़िल्म में एक ख़ूबसूरत क़व्वाली भी थी रफ़ी साहब, मन्ना दा और दिलराज कौर की आवाज़ों में - "ज़िन्दगी लेकर हथेली पर दीवाने आ गए, तीर खाने के लिए बन कर निशाने आ गए"। इस गीत में भी दिलराज कौर का वही आशा वाली अंदाज़ साफ़ महसूस की जा सकती है। शत्रुघन सिन्हा, डैनी और बिन्दू पर फ़िल्माई हुई यह क़व्वाली उस ज़माने में काफ़ी हिट हुई थी। इस फ़िल्म में दिलराज कौर की आवाज़ में तीन एकल गीत भी थे। "तुम ख़ुद को देखते हो सदा अपनी नज़र से" सुन कर नय्यर साहब के कितने ही पुराने गीत याद आ जाते हैं। इस गीत की धुन से मिलती जुलती धुनों का उन्होंने कई बार अपने गीतों में प्रयोग किया है। "यही वह जगह है" गीत से भी इस गीत की ख़ास समानता है। "सौ साल जियो तुम जान मेरी तुम्हें मेरी उमरिया लग जाए" एक हल्का फुल्का जनमदिन गीत है जिसमें हिट होने के सभी गुण थे, बस बदक़िस्मती यही थी कि फ़िल्म पिट गई। अन्तिम गीत "मैं तुझको मौत दे दूँ या आज़ाद कर दूँ, तुझे नई ज़िन्दगी दे दूँ या बरबाद कर दूँ" भी एक सुन्दर रचना है जिसमें मध्य एशियाई संगीत की छाया मिलती है, और गीत के बोलों में ’मेरा गाँव मेरा देश’ के प्रसिद्ध गीत "मार दिया जाए के छोड़ दिया जाए" से समानता मिलती है।


इन चन्द फ़िल्मों में संगीत देने के बाद ओ. पी. नय्यर को यह बात समझ आ गई कि लता मंगेशकर या
S Janaki
आशा भोसले को लिए बग़ैर उन्हें किसी बड़ी फ़िल्म में संगीत देने का अवसर मिलना असंभव है। लता के साथ काम करने का सवाल ही नहीं था और आशा से वो किनारा कर चुके थे, अत: इस इंडस्ट्री से संयास लेना ही उन्होंने उचित समझा। नय्यर साहब अपने मर्ज़ी के मालिक थे, वो किसी के शर्तों पर काम नहीं करते थे, अपने उसूलों के लिए वो अपने परिवार से भी अलग हो गए। 80 के दशक के अन्त तक उन्हें आर्थिक परेशानियों ने भी घेर लिया और ना चाहते हुए भी उन्हें एक बार फिर से इस फ़िल्म जगत में क़दम रखना पड़ा। साल था 1992 और फ़िल्म थी ’मंगनी’। बी. आर. इशारा निर्देशित यह फ़िल्म एक कम बजट की फ़िल्म थी। पार्श्वगायिका के रूप में लिया गया दक्षिण की मशहूर गायिका एस. जानकी को, गायक बने एस. पी. बालसुब्रह्मण्यम। और गीतकार थे क़मर जलालाबादी जिनके साथ नय्यर साहब ने पुराने ज़माने में बहुत काम किया है। लेकिन बात बन नहीं पायी। एस. जानकी की गाई "मैं तो मर के भी तेरी रहूंगी" एक बेहद कर्णप्रिय रचना है जिसे नय्यर साहब ने शास्त्रीय संगीत पर आधारित किया है। एस. जानकी की आवाज़ और अन्दाज़ में आशा जी की झलक मिलती है। इस गीत के इन्टरल्युड में भी उन्होंने कुछ ऐसी आलाप ली हैं जो बिल्कुल आशा-नय्यर के गीतों की याद दिला जाती हैं। नय्यर साहब ने एक साक्षात्कार में यह कहा है कि अगर एस. जानकी विदेश में जाकर नहीं बस जातीं तो उनसे बेहतर गाने वाली पूरे हिन्दुस्तान में नहीं थीं। उन्होंने यहाँ तक कहा कि अगर वो मुंबई में गातीं तो वो शीर्ष की गायिका होतीं। इस फ़िल्म का एक अन्य गीत है "हम कैसे बतायें तक़दीर ने हमको ऐसा मारा" जो नय्यर साहब के जाने-पहचाने तालों पर आधारित है। नय्यर साहब के गीतों की ख़ासियत यह है कि हर गीत में वो अपना हस्ताक्षर छोड़ जाते थे और यह गीत भी एक ऐसा ही गीत है जिसे सुन कर कोई भी बता सकता है कि यह नय्यर साहब का कम्पोज़िशन है।


1992 में ही ओ. पी. नय्यर के संगीत से सजी एक और फ़िल्म आई जिसके गीतों ने ख़ूब लोकप्रियता
Kavita
हासिल की। यह फ़िल्म थी ’निश्चय’। भप्पी सोनी निर्मित इस फ़िल्म में सलमान ख़ान और करिश्मा कपूर के होने की वजह से फ़िल्म लोगों तक पहुँची, और ओ. पी. नय्यर ने भी यह सिद्ध किया कि 90 के दशक में भी उनके संगीत का जादू बरक़रार है। इस फ़िल्म में सलमान की आवाज़ बने अमित कुमार और करिश्मा की आवाज़ बनी कविता कृष्णमूर्ती। इस फ़िल्म में कविता की एकल आवाज़ में "छुट्टी कर दी मेरी" के अलावा अमित-कविता के चार युगल गीत थे - "किसी हसीन यार की तलाश है", "सुन मेरे सजना सुन रे", "नई सुराही ताज़ा पानी पी ले तू जानी" और "देखो देखो तुम हो गया मैं गुम"। ये सभी के सभी गीत बेहद कामयाब रहे और ऐसा लगा जैसे फ़िल्म-संगीत का सुनहरा दौर वापस आ गया है। जब यही बात किसी ने एक साक्षात्कार में नय्यर से कही तो ’निश्चय’ के गीतों की लोकप्रियता से साफ़ इनकार करते हुए नय्यर साहब ने कहा,
"देखिए, इन दो पिक्चरों ने यह बता दिया कि नय्यर साहब, आप जो बनाते हो वो आज चलेगा नहीं, और जो आज बन रहा है वो मैं बना नहीं सकता। तो ग्रेस किस चीज़ में है? विस्डम ऐण्ड ग्रेस? कि आप विथड्रॉ कर लीजिए! बहुत कैसेट बिका था, बहुत बहुत बिका म्युज़िक, पिक्चर रिलीज़ होते ही दोनों ठप्प। तो म्युज़िक भी गया साथ में, पिक्चरों का जनाज़ा निकला और म्युज़िक का भी। उस वक़्त मुझे पैसों की सख़्त ज़रूरत थी, तो मुझे वो तस्वीरें लेनी पड़ी। बेगर्स कान्ट बी चूज़र्स; ज़रूरतमन्द आदमी तो यह नहीं देखेगा कि सब्जेक्ट क्या क्या है, जब ज़रूरतमन्द नहीं था, तब भी नहीं पूछता था मैं कि सबजेक्ट क्या है, कहानी क्या है, कुछ नहीं। मेरा एक ही सब्जेक्ट और एक ही कहानी थी कि रुपया कितना है!"



Ranjana Joglekar
’निश्चय’ के बाद 1994 में एक और फ़िल्म आई ’ज़िद’ जिसमें नय्यर साहब का संगीत एक बार फिर हिट हुआ, पर फ़िल्म के बुरी तरह पिट जाने से फ़िल्म के साथ-साथ फ़िल्म के गीतों का भी जनाज़ा निकल गया। इस फ़िल्म में नय्यर साहब ने कविता कृष्णमूर्ति के अलावा दो और गायिकायों से गीत गवाए। ये गायिकाएँ थीं रंजना जोगलेकर और माधुरी जोगलेकर। मोहम्मद अज़ीज़ और रंजना जोगलेकर की युगल आवाज़ों में "तुझे प्यार कर लूँ यह जी चाहता है" को बेहद सुन्दर तरीके से स्वरबद्ध किया है जिसमें तबले का आकर्षक प्रयोग किया गया है। कविता कृष्णमूर्ति की आवाज़ में "कोरी गगरिया मीठा पानी" में कोई नई या ख़ास बात नहीं लगी। उपर से हाल ही में फ़िल्म ’निश्चय’ में "नई सुराही ताज़ा पानी" लोग सुन चुके थे। कविता, रंजना और माधुरी जोगलेकर, इन तीनों ने एक साथ आवाज़ें मिलाई "ख़ून-ए-जिगर से हो लिख देंगे हम तो पहला पहला
Madhuri Joglekar
सलाम सँवरिया के नाम"। इस गीत में तीनों गायिकाएँ पूरा गीत साथ में गाती हैं, इसलिए तीनों आवाज़ों का कॉनट्रस्ट बाहर नहीं आया। अगर तीनों गायिकाएँ बारी-बारी गातीं तो शायद कुछ और बात बनती। कुल मिला कर ’ज़िद’ के गाने सुन्दर और कर्णप्रिय होने के बावजूद फ़िल्म के ना चलने से इनकी तरफ़ लोगों ने ज़्यादा ध्यान नहीं दिया। 
और 1995 में ओ. पी. नय्यर के संगीत में ढल कर अन्तिम फ़िल्म लौन्च हुई ’मुक़द्दर की बात’ पर यह फ़िल्म प्रदर्शित नहीं हो सकी। इस फ़िल्म के गाने महेन्द्र कपूर और पुष्पा पगधरे ने गाए। "सोने में सुगन्ध मिलाई गई, तब तेरी काया बनाई गई" एक बेहद सुन्दर युगल गीत है, जो बोल, संगीत और गायन की दृष्टि से उत्तर रचना है। एक और युगल गीत है "क्या यह मुमकिन है हम दोनों मिला करें हर बार, बार बार दुनिया में किसी को कब मिलता है प्यार"। इन गीतों को सुन कर यह बात मन में उठती है कि क्या नय्यर साहब ने ही महेन्द्र कपूर को सबसे ज़्यादा अच्छे गाने दिए हैं! इसी फ़िल्म की एक अन्य सुन्दर रचना है "कैसे ये तारों भरी रात खिली सजना" जो पुष्पा पगधरे की एकल आवाज़ में शास्त्रीय राग में ढल कर बेहद सुन्दर बन पड़ी है। पुष्पा जी की आवाज़ में एक और एकल गीत है "पिया तेरा प्यार मैं तो माँग में सजाऊंगी, जग सारा देखेगा मैं तेरी बन जाऊँगी" जिसमें पंजाबी रंग है और साथ ही इन्टरल्युड में सितार पर शास्त्रीय रंग भी है।

ओ. पी. नय्यर 81 वर्ष की आयु में 28 जनवरी 2007 को इस फ़ानी दुनिया से चले गए। अपने उसूलों के पक्के नय्यर साहब ने कभी अपना सर नहीं झुकाया, फिर चाहे उनके गीत लता और आशा न गाए, उन्होंने कभी किसी के साथ कोई समझौता नहीं किया या किसी के दबाव में नहीं आए। आशा भोसले से अलग होने के बाद उनके गाने कृष्णा कल्ले, वाणी जयराम, पुष्पा पगधरे, उत्तरा केलकर, दिलराज कौर, एस. जानकी, कविता कृष्णामूर्ति, रंजना जोगलेकर और माधुरी जोगलेकर जैसी गायिकाओं ने गाए। गाने सभी उत्कृष्ट बने लेकिन फ़िल्मों के ना चलने से ये गाने भी ठंडे बस्ते में चले गए। 

आपकी बात

’चित्रकथा’ के पिछले अंक में गणतन्त्र दिवस विशेषांक में महेन्द्र कपूर के गाए देशभक्ति फ़िल्मी गीतों पर लेख आप सब ने पसन्द किया, हमें बहुत प्रसन्नता हुई। आँकड़ों के अनुसार इस लेख को करीब 162 पाठकों ने पढ़ा है। ’चित्रकथा’ के पिछले तीन अंकों का अब तक का मिला-जुला रीडरशिप है 580, आप सभी के इस स्नेह और सहयोगिता के लिए हम आपके अत्यन्त आभारी हैं और आशा करते हैं कि भविष्य में यूं ही आप अपना साथ बनाए रखेंगे।

आख़िरी बात

’चित्रकथा’ स्तंभ का आज का अंक आपको कैसा लगा, हमें ज़रूर बताएँ नीचे टिप्पणी में या soojoi_india@yahoo.co.in के ईमेल पते पर पत्र लिख कर। इस स्तंभ में आप किस तरह के लेख पढ़ना चाहते हैं, यह हम आपसे जानना चाहेंगे। आप अपने विचार, सुझाव और शिकायतें हमें निस्संकोच लिख भेज सकते हैं। साथ ही अगर आप अपना लेख इस स्तंभ में प्रकाशित करवाना चाहें तो इसी ईमेल पते पर हमसे सम्पर्क कर सकते हैं। सिनेमा और सिनेमा-संगीत से जुड़े किसी भी विषय पर लेख हम प्रकाशित करेंगे। आज बस इतना ही, अगले सप्ताह एक नए अंक के साथ इसी मंच पर आपकी और मेरी मुलाक़ात होगी। तब तक के लिए अपने इस दोस्त सुजॉय चटर्जी को अनुमति दीजिए, नमस्कार, आपका आज का दिन और आने वाला सप्ताह शुभ हो!


शोध,आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 
प्रस्तुति सहयोग : कृष्णमोहन मिश्र  


रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

गुरुवार, 10 नवंबर 2016

अपने पडो़सी दिल से भीनी-भीनी भोर की माँग कर बैठे गोटेदार गुलज़ार साहब, आशा जी एवं राग तोड़ी वाले पंचम दा



कहकशाँ - 23
गुलज़ार, पंचम और आशा ’दिल पड़ोसी है’ में  
"भीनी भीनी भोर आई..."



’रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के सभी दोस्तों को हमारा सलाम! दोस्तों, शेर-ओ-शायरी, नज़्मों, नगमों, ग़ज़लों, क़व्वालियों की रवायत सदियों की है। हर दौर में शायरों ने, गुलुकारों ने, क़व्वालों ने इस अदबी रवायत को बरकरार रखने की पूरी कोशिशें की हैं। और यही वजह है कि आज हमारे पास एक बेश-कीमती ख़ज़ाना है इन सुरीले फ़नकारों के फ़न का। यह वह कहकशाँ है जिसके सितारों की चमक कभी फ़ीकी नहीं पड़ती और ता-उम्र इनकी रोशनी इस दुनिया के लोगों के दिल-ओ-दिमाग़ को सुकून पहुँचाती चली आ रही है। पर वक्त की रफ़्तार के साथ बहुत से ऐसे नगीने मिट्टी-तले दब जाते हैं। बेशक़ उनका हक़ बनता है कि हम उन्हें जानें, पहचानें और हमारा भी हक़ बनता है कि हम उन नगीनों से नावाकिफ़ नहीं रहें। बस इसी फ़ायदे के लिए इस ख़ज़ाने में से हम चुन कर लाएँगे आपके लिए कुछ कीमती नगीने हर हफ़्ते और बताएँगे कुछ दिलचस्प बातें इन फ़नकारों के बारे में। तो पेश-ए-ख़िदमत है नगमों, नज़्मों, ग़ज़लों और क़व्वालियों की एक अदबी महफ़िल, कहकशाँ। आज पेश है गुलज़ार, राहुल देव बर्मन और आशा भोसले की तिकड़ी के सुरीले संगम से निकला एक नगमा 'दिल पड़ोसी है’ ऐल्बम से।



गुलज़ार और पंचम - ये दो नाम दो होते हुए भी एक से लगते हैं और जब भी इन दोनों का नाम साथ में आता है तो सुनने वालों को मालूम हो जाता है कि कुछ नया कुछ अलबेला पक के आने वाला है बाहर। अभी-अभी पतीला खुलेगा और कोई मीठी-सी नज़्म छलकते हुए हमारे कानों तक पहुँच जाएगी। ये दोनों फ़नकार एक-दूसरे के पूरक-से हो चले थे। कैसी भी घुमावदार सोच हो, किसी भी मोड़ पर बिन कहे मुड़ने वाले मिसरे हों या फिर किसी अखबार की सुर्खियाँ ही क्यों न हो, गुलज़ार के हरेक शब्द-नुमा ईंट का जवाब पंचम अपने सुरों के पत्थर (अजीब उपमा है.. यूँ होना तो फूल चाहिए, लेकिन मुहावरा बनाने वाले ने हमारे पास कम ही विकल्प छोड़े हैं) से दिया करते थे। और जवाब ऐसा कि "साँप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे"; गुलज़ार के शब्द जहाँ शिखर पर ही मौजूद रहे, वहीं उसी के इर्द-गिर्द पंचम अपनी पताका भी लहरा आएँ, तभी तो दोनों की जोड़ी आजतक प्यार और गुमान से याद की जाती है। 

लेकिन यह जोड़ी ज़्यादा दिनों तक रह नहीं पाई। गुलज़ार को राह में अकेले छोड़कर पंचम दूसरी दुनिया में निकल लिए। पंचम के गुज़रने का असर गुलज़ार पर किस हद तक पड़ा, इसका अंदाज़ा पंचम की याद में लिखे गुलज़ार के इस नज़्म से लगाया जा सकता है:

याद है बारिशों का दिन, पंचम 

याद है जब पहाड़ी के नीचे वादी में 
धुंध से झांककर निकलती हुई 
रेल की पटरियां गुज़रती थीं 
धुंध में ऐसे लग रहे थे हम 
जैसे दो पौधे पास बैठे हों 
हम बहुत देर तक वहां बैठे 
उस मुसाफिर का जिक्र करते रहे 
जिसको आना था पिछली शब, लेकिन 
उसकी आमद का वक्‍त टलता रहा 
देर तक पटरियों पर बैठे हुए 
रेल का इंतज़ार करते रहे 
रेल आई ना उसका वक्‍त हुआ 
और तुम, यूं ही दो क़दम चलकर 
धुंध पर पांव रखके चल भी दिए 

मैं अकेला हूं धुंध में 'पंचम'...

पंचम की क्षति अपूर्णीय है, जितना गुलज़ार के लिए उतना ही संगीत के अन्य साधकों के लिए भी। मैंने जब यह "आलेख" लिखना शुरू किया था तो यह सोचा नहीं था कि मेरी लेखनी पंचम को याद करने में डूब जाएगी, लेकिन भावनाओं का वह सैलाब बह निकला कि न मैं खुद को रोक पाया, न अपनी लेखनी को। बात जब गुलज़ार और पंचम की हो रही है तो क्यों न आज अपनी महफ़िल को इन्हीं दोनों की एक नज़्म से सजाया जाए। 

हम आज की नज़्म तक पहुँचें, इससे पहले एक और फ़नकार से आपका परिचय कराना लाजिमी हो जाता है, मुआफ़ कीजिएगा, फ़नकार नहीं.. फ़नकारा। इन फ़नकारा के बिना गुलज़ार-पंचम की जोड़ी में उतनी जान नहीं, जो कि इनकी तिकड़ी में है। यह फ़नकारा कोई और नहीं, बल्कि पंचम दा की अर्धांगिनी आशा भोसले जी हैं, जिन्हें सारी दुनिया आशा ताई के नाम से पुकारती है। गुलज़ार साहब, पंचम दा और आशा ताई की तिकड़ी ने फिल्मों में एक से बढ़ कर एक गीत दिए हैं। चंद नाम यहाँ पेश किए देता हूँ: --'क़तरा क़तरा‍ मिलती है', 'मेरा कुछ सामान', 'आंकी चली बांकी चली', 'आऊंगी एक दिन आज जाऊं', 'बड़ी देर से मेघा बरसा', 'बेचारा दिल क्‍या करे', 'छोटी सी कहानी से', ’घर जाएगी तर जाएगी’, ’ये साये हैं ये दुनिया है’... यह फेहरिश्त और भी बहुत लंबी है, लेकिन मेरे हिसाब से इतने उदाहरण ही काफी हैं। 

न सिर्फ़ फिल्मों में बल्कि इनकी तिकड़ी का कमाल "एलबमों" में भी नज़र आता है। "एलबमों" की बात करने पर जिस एलबम की याद सबसे पहले आती है, वह है "दिल पड़ोसी है"। इस एलबम को आशा ताई के जन्मदिन पर यानि कि ८ सितम्बर को १९८७ में रीलिज किया गया था। इसमें में कुल चौदह गाने हैं। आज आपको हम इस एलबम से "भीनी भीनी भोर आई" सुनवाने जा रहे हैं। अगली कड़ी में हम एलबम के बाकी गानों से रूबरू होंगे। इस गाने के बारे में हम कुछ कहें, इससे अच्छा होगा कि क्यों न इसके कारीगरों से ही इसके बनने की कहानी सुन लें। "संगीत सरिता" कार्यक्रम के अंतर्गत "मेरी संगीत यात्रा" लेकर आ रहे हैं "गुलज़ार साहब, पंचम दा एवं आशा ताई"..

पंचम दा: आशा जी, आपको याद है कोई गीत जो आपने काफ़ी मेहनत से गाया होगा?

आशा जी: हाँ, एक गीत आपने राग तोड़ी में बनाया था। वैसे तोड़ी में "धा" से पंचम लगाना चाहिए, पर फिल्मी गीत में अगर पूरा का पूरा राग वैसे हीं रख दिया जाए तो उस राग पर आधारित सभी गीत एक जैसे हीं लगेंगे। थोड़ी-बहुत चेंज करके अगर गीतों को ढाला जाए तो एक नयापन भी आता है और सुनने में भी अच्छा लगता है।

गुलज़ार साहब: हाँ सही बात है, अगर "क्लासिकल म्युज़िक" को मिसाल बनाकर कोई फिल्म बन रही है तब अलग बात है।

पंचम दा: गुलज़ार, आप को याद है "भीनी भीनी भोर".. "दिल पड़ोसी है" एलबम का ये पहला गाना रखा था हमने?

आशा जी: गुलज़ार भाई, आपने इस गाने में "गोटा" शब्द का बहुत खूबसूरत इस्तेमाल किया था।

गुलज़ार साहब: सोने की चमक की "उपमा" हमारे फिल्मी गीतों में काफ़ी पाई जाती है, कभी आग से, कभी धूप से। लेकिन हर चीज़ जो चमकती है वह सोना नहीं होती (तीनों हँसते हैं), हमारे यहाँ शादी में गोटेदार चुनरी देखने को मिलती है, तो उसी से मैंने यह लिया था।

आशा जी: लेकिन आपने तो बादल को गोटा लगाया था ना?

गुलज़ार साहब: मुझे लगता था कि गोटे की जो चुनरी है वो बहुत हीं खूबसूरत है। आशा जी, आपने कहा कि पंचम ने तोड़ी का "चलन" बदला, मुझे तो हमेशा हीं इसके चाल-चलने पर शक़ रहा है (तीनों ठहाका लगाते हैं), आपने कहा कि इन्होंने अपना चलन बदला! (हँसी ज़ारी है)

पंचम दा: यह सुबह का गाना था, इसमें हमने मुर्गियों की आवाज़ डाली थी, बहुत सारे "साउंड इफ़ेक्ट्स" थे कि जिससे सुबह का "वातावरण" सामने आए, एक आदत हो चुकी थी, अब आप इसे चलन कहिये, ऐसे कोई राग बन जाता हओ, "मूड" बन जाता है।

तो आपने देखा कि माहौल कितना खुशगवार हो जाता था, जब ये तीनों एक जगह आ जुटते थे। जब बातचीत इतनी सुरीली है तो संगीत के बारे में क्या कहा जाए! चलिए तो फिर हम भी राग तोड़ी में मुर्गिर्यों की बांग के बीच गुलज़ार साहब के "गोटे" का मज़ा लेते हैं और इस तिकड़ी को फिर से याद करते हैं (वैसे अगली कड़ी भी इसी तिकड़ी और इसी एलबम को समर्पित है):

भीनी भीनी भोर आई
भीनी भीनी भोर आई
रूप रूप पर छिडके सोना
स्वर्ण कलश चमकाती आई
भीनी भीनी भोर आई...

माथे सुनहरी टीका लगाये
पात पात पर गोटा लगाये
गोटा लगाई
सात रंग की जाई आई
भीनी भीनी भोर आई...

ओस धुले मुख पोछे सारे
आँगन लेप गई उजियारे
उजियारे उजियारे
सा रे ग मा धा नि
जागो जगर की बेला आई
भीनी भीनी भोर आई...

भीनी भीनी भोर आई
रूप रूप पर छिडके सोना
रूप रूप पर छिडके सोना
स्वर्ण कलश चमकाती आई
भीनी भीनी भोर आई
भीनी भीनी भोर आई


’कहकशाँ’ की आज की यह पेशकश आपको कैसी लगी, ज़रूर बताइएगा नीचे ’टिप्पणी’ पे जाकर। या आप हमें ई-मेल के ज़रिए भी अपनी राय बता सकते हैं। हमारा ई-मेल पता है soojoi_india@yahoo.co.in. 'कहकशाँ’ के लिए अगर आप कोई लेख लिखना चाहते हैं, तो इसी ई-मेल पते पर हम से सम्पर्क करें। आज बस इतना ही, अगले जुमे-रात को फिर हमारी और आपकी मुलाक़ात होगी इस कहकशाँ में, तब तक के लिए ख़ुदा-हाफ़िज़!


खोज और आलेख : विश्वदीपक ’तन्हा’
प्रस्तुति सहयोग : कृष्णमोहन मिश्र 
प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

गुरुवार, 8 अगस्त 2013

कातिल आँखों वाले दिलबर को रिझाती आशा की आवाज़

खरा सोना गीत - यार बादशाह यार दिलरुबा
स्वर  - दीप्ती सक्सेना
प्रस्तुति  - संज्ञा टंडन
स्क्रिप्ट - सुजॉय चट्टरजी



रविवार, 24 मार्च 2013

विविध संगीत शैलियों में राग-रस-रंग से परिपूर्ण होली



स्वरगोष्ठी – 113 में आज 
होली अंक
‘चोरी चोरी मारत हो कुमकुम...’ : संगीत की विविध शैलियों में होली


भारतीय पर्वों में होली एक ऐसा पर्व है, जिसमें संगीत-नृत्य की प्रमुख भूमिका होती है। जनसामान्य अपने उल्लास की अभिव्यक्ति के लिए मुख्य रूप से देशज संगीत का सहारा लेता है। इस अवसर पर विविध संगीत शैलियों के माध्यम से भी होली की उमंग को प्रस्तुत करने की परम्परा है। इन सभी भारतीय संगीत शैलियों में होली की रचनाएँ प्रमुख रूप से उपलब्ध हैं। आज के अंक में हम आपके लिए कुछ संगीत शैलियों में रंगोत्सव के कुछ चुने हुए गीतों पर चर्चा करेंगे। 


न्द्रधनुषी रंगों में भींगे तन-मन लिये ‘स्वरगोष्ठी’ के अपने समस्त पाठकों-श्रोताओं का, मैं कृष्णमोहन मिश्र एक बार पुनः अबीर-गुलाल के साथ स्वागत और अभिनन्दन करता हूँ। होली, उल्लास, उत्साह और मस्ती का प्रतीक-पर्व होता है। इस अनूठे परिवेश का चित्रण भारतीय संगीत की सभी शैलियों में मिलता है। रंगोत्सव के उल्लासपूर्ण परिवेश में आज हम आपसे ध्रुवपद संगीत शैली के अभिन्न अंग ‘धमार’ की चर्चा करेंगे। इसके साथ ही खयाल शैली के अन्तर्गत राग काफी की ठुमरी शैली के अन्तर्गत होरी की और होली के रस-रंगों से भीगी फिल्मी ठुमरी पर भी चर्चा करेंगे।

भारतीय संगीत की प्राचीन और शास्त्र-सम्मत शैली है- ध्रुवपद। इस शैली के अन्तर्गत धमार गायकी तो पूरी तरह रंगों के पर्व होली पर ही केन्द्रित रहती है। धमार एक प्रकार की गायकी भी है और एक ताल विशेष का नाम भी है। यह पखावज पर बजने वाला 14 मात्रा का ताल है, जिसकी संगति धमार गायन में होती है। धमार की रचनाओं में अधिकतर राधा-कृष्ण की होली का वर्णन मिलता है। कुछ धमार रचनाओं में फाल्गुनी परिवेश का चित्रण भी होता है। गम्भीर प्रवृत्ति के रागों की अपेक्षा चंचल प्रवृत्ति के रागों में धमार की प्रस्तुतियाँ मन को अधिक लुभातीं हैं। आज हम आपको धमार गायकी के माध्यम से रंगोत्सव का एक अलग रंग दिखाने का प्रयास करेंगे। ध्रुवपद-धमार गायकी के एक विख्यात युगल गायक हैं- गुंडेचा बन्धु (रमाकान्त और उमाकान्त गुंडेचा), जिन्हें देश-विदेश में भरपूर यश प्राप्त हुआ है। इनकी संगीत-शिक्षा उस्ताद जिया फरीदउद्दीन डागर और विख्यात रुद्रवीणा वादक उस्ताद जिया मोहिउद्दीन डागर द्वारा हुई है। ध्रुवपद के ‘डागुरवाणी’ गायन में दीक्षित इन कलासाधकों से ‘स्वरगोष्ठी’ के होली अंक के लिए हमने एक धमार अपने पाठकों-श्रोताओं को सुनवाने का अनुरोध किया था। हमारे अनुरोध का मान रखते हुए रमाकान्त गुंडेचा ने हमें तत्काल राग केदार का यह मनमोहक धमार, आपको सुनवाने के लिए उपलब्ध कराया। गुंडेचा बन्धु के प्रति आभार व्यक्त करते हुए, राग केदार का यह धमार पस्तुत है, जिसके बोल हैं- 'चोरी चोरी मारत हो कुमकुम, सम्मुख हो क्यों न खेलो होरी...'। 

धमार- राग केदार : ‘चोरी चोरी मारत हो कुमकुम...’ : स्वर – गुंडेचा बन्धु 


हमारे संगीत का एक अत्यन्त मनमोहक राग है- काफी। इस राग में होली विषयक रचनाएँ खूब मुखर हो जाती हैं। आइए, अब थोड़ी चर्चा राग काफी की संरचना पर करते हैं। राग काफी, काफी थाट का आश्रय राग है और इसकी जाति है सम्पूर्ण-सम्पूर्ण, अर्थात आरोह-अवरोह में सात-सात स्वर प्रयोग किए जाते हैं। आरोह में सा रे ग(कोमल) म प ध नि(कोमल) सां तथा अवरोह में सां नि(कोमल) ध प म ग(कोमल) रे सा स्वरों का प्रयोग किया जाता है। इस राग का वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर षडज होता है। कभी-कभी वादी कोमल गान्धार और संवादी कोमल निषाद का प्रयोग भी मिलता है। दक्षिण भारतीय संगीत का राग खरहरप्रिय राग काफी के समतुल्य राग है। ग्वालियर परम्परा की गायकी में दक्ष, युवा गायिका विदुषी मीता पण्डित ने राग काफी में एक होरी रचना का बड़ा ही मनमोहक गायन प्रस्तुत किया है। इस रचना में राम और सीता के होली खेलने का प्रसंग है। आम तौर पर विभिन्न संगीत शैलियों में राधा-कृष्ण की होली का उल्लेख मिलता है, किन्तु इस प्रस्तुति में राम-सीता की होली का प्रसंग है। विदुषी मीता पण्डित के स्वरों में सुनिए, राग काफी की यह होरी।

राग काफी होरी : ‘राम-सिया फाग मचावत...’ : विदुषी मीता पण्डित 


राग काफी, ध्रुवपद और खयाल की अपेक्षा उपशास्त्रीय संगीत में अधिक प्रयोग किया जाता है। ठुमरियों में प्रायः दोनों गान्धार और दोनों धैवत का प्रयोग भी मिलता है। टप्पा गायन में शुद्ध गान्धार और शुद्ध निषाद का प्रयोग वक्र गति से किया जाता है। इस राग का गायन-वादन रात्रि के दूसरे प्रहर में किए जाने की परम्परा है, किन्तु फाल्गुन मास में इसे किसी भी समय गाया-बजाया जा सकता है। उपशास्त्रीय संगीत में होली गीतों का सौन्दर्य खूब निखरता है। ठुमरी-दादरा, विशेष रूप से पूरब अंग की ठुमरियों में होली का मोहक चित्रण मिलता है। उपशास्त्रीय संगीत की वरिष्ठ गायिका विदुषी गिरिजा देवी की गायी अनेक होरी हैं, जिनमे राग काफी के साथ-साथ होली के परिवेश का आनन्द भी प्राप्त होता है। बोल-बनाव से गिरिजा देवी जी गीत के शब्दों में अनूठा भाव भर देतीं हैं। आम तौर पर होली गीतों में ब्रज की होली का जीवन्त चित्रण होता है। अब हम आपको विदुषी गिरिजा देवी के स्वरों में जो काफी होरी सुनवा रहे हैं, उसमें ब्रज की होली का अत्यन्त भावपूर्ण चित्रण है। लीजिए, आप भी सुनिए, यह मनमोहक काफी होरी-

राग मिश्र काफी होरी : ‘तुम तो करत बरजोरी...’ : विदुषी गिरिजा देवी


यूँतो राग काफी में होली की रचनाएँ खूब मुखर होती हैं, परन्तु कुछ अन्य राग भी हैं जिनमें रंगों के इस पर्व के परिवेश का अनूठा चित्रण मिलता है। उप-शास्त्रीय रचनाओं में प्रायः होली का चित्रण राग देस, खमाज, तिलंग, पीलू आदि में भी मिलता है। आज की इस सतरंगी गोष्ठी का समापन हम एक फिल्मी ठुमरी गीत से करेंगे। 1996 में एक संगीतप्रधान फिल्म, ‘सरदारी बेगम’ का प्रदर्शन हुआ था। इस फिल्म में ठुमरी अंग में कई गीत शामिल थे। इन्हीं में से एक ठुमरी गीत में होली के परिवेश को चित्रित करता एक अत्यन्त मोहक गीत भी था। संगीतकार वनराज भाटिया ने गीतकार जावेद अख्तर के शब्दों को राग पीलू के स्वरों की चाशनी में डुबो कर और ठुमरी अंग से अलंकृत कर फिल्म में प्रस्तुत किया था। इस गीत में होली के उमंग और उल्लास के साथ-साथ सौम्य भाव भी परिलक्षित होता है। गायिका आशा भोसले के स्वरों में आप यह फिल्मी ठुमरी गीत सुनिए और अनुभव कीजिये कि राग पीलू में भी होली के रंग किस प्रकार निखरते है? 


राग पीलू : फिल्म – सरदारी बेगम : ‘मोरे कान्हा जो आए पलट के...’ : आशा भोसले



आज की पहेली

‘स्वरगोष्ठी’ की 113वीं संगीत पहेली में हम आपको एक राग-संगीत का अंश सुनवा रहे है। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ‘स्वरगोष्ठी’ के 120वें अंक तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला का विजेता घोषित किया जाएगा।


1 - संगीत के इस अंश को सुन कर पहचानिए कि यह रचना किस राग पर आधारित है?

2 – गायक की आवाज़ को पहचानिए और उनका नाम बताइए।

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के 115वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia@live.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं।


पिछली पहेली के विजेता

‘स्वरगोष्ठी’ के 111वें अंक में हमने आपको फिल्म ‘गूँज उठी शहनाई’ से उस्ताद अमीर खाँ के गायन और उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ के शहनाईवादन की जुगलबन्दी से युक्त रागमाला गीत का आरम्भिक भाग सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग भटियार और दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- शहनाई। दोनों प्रश्नो के सही उत्तर जबलपुर की क्षिति तिवारी और जौनपुर के डॉ. पी.के. त्रिपाठी ने दिया है। दोनों प्रतिभागियों को ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से हार्दिक शुभकामनाएँ।


झरोखा अगले अंक का


मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की इस वर्ष की समय-सारिणी के अनुसार माह के पाँचवें रविवार की ‘स्वरगोष्ठी’ का अंक हमारे किसी अतिथि लेखक द्वारा प्रस्तुत किया जाना निश्चित किया गया था। अगला रविवार मार्च माह का पाँचवाँ रविवार है। इस अंक को प्रस्तुत करने के लिए हमने वरिष्ठ संगीतज्ञ पण्डित श्रीकुमार मिश्र से अनुरोध किया था, जिसे उन्होने स्वीकार कर लिया है। अगले अंक में मिश्र जी एक ही स्वर से निर्मित विविध रागों पर चर्चा करेंगे। आप भी हमारे आगामी अंकों के लिए भारतीय शास्त्रीय संगीत से जुड़े नये विषयों, रागों और अपनी प्रिय रचनाओं की फरमाइश कर सकते हैं। हम आपके सुझावों और फरमाइशों को पूरा सम्मान देंगे। अगले अंक में रविवार को प्रातः 9-30 बजे ‘स्वरगोष्ठी’ के इस मंच पर आप सभी संगीत-रसिकों की हमें प्रतीक्षा रहेगी। 


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र 


रविवार, 2 दिसंबर 2012

स्वरगोष्ठी में आज : ठुमरी- ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’


'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' की पहली वर्षगाँठ पर सभी पाठकों-श्रोताओं का हार्दिक अभिनन्दन   


स्वरगोष्ठी-९८  में आज 

फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी –९ 

श्रृंगार रस से परिपूर्ण ठुमरी ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’



फिल्मों में शामिल की गई पारम्परिक ठुमरियों पर केन्द्रित ‘स्वरगोष्ठी’ की लघु श्रृंखला ‘फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ के एक नए अंक में, मैं कृष्णमोहन मिश्र आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। मित्रों, आज का यह अंक जारी श्रृंखला की ९वीं कड़ी है और आज की इस कड़ी में हम आपको पहले राग पीलू की ठुमरी ‘गोरी तोरे नैन, काजर बिन कारे... ’ का पारम्परिक स्वरूप, और फिर इसी ठुमरी का फिल्मी स्वरूप प्रस्तुत करेंगे। इसके अलावा इस अंक में एकल तथा युगल ठुमरी गायन की परम्परा के बारे में आपके साथ चर्चा करेंगे। 


ज पीलू की यह ठुमरी ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ हम आपको सबसे पहले गायिका इकबाल बानो की आवाज़ में सुनवाते हैं। इकबाल बनो का जन्म १९३५ में दिल्ली के एक सामान्य परिवार में हुआ था। बचपन में ही उनकी प्रतिभा को पहचान कर दिल्ली के उस्ताद चाँद खाँ ने उन्हें रागदारी संगीत का प्रशिक्षण देना आरम्भ किया। कुछ वर्षों की संगीत-शिक्षा के दौरान उस्ताद ने अनुभव किया कि इकबाल बानो के स्वरों में भाव और रस के अभिव्यक्ति की अनूठी क्षमता है। उस्ताद ने उन्हें ठुमरी, दादरा और गजल गायन की ओर प्रेरित और प्रशिक्षित किया। मात्र १४ वर्ष की आयु में इकबाल बानो ने दिल्ली रेडियो से शास्त्रीय और उप-शास्त्रीय गायन आरम्भ कर दिया था। वर्ष १९५० में उन्हें देश की प्रख्यात गायिकाओं में शुमार कर लिया गया था। १९५२ में १७ वर्ष की आयु में उनका विवाह पाकिस्तान के एक समृद्ध परिवार में हुआ और उन्होने मुल्तान शहर को अपना नया ठिकाना बनाया। पाकिस्तान के संगीत-प्रेमियों ने इकबाल बानो को सर-आँखों पर बैठाया। शीघ्र ही वह रेडियो पाकिस्तान की नियमित गायिका बन गईं। यही नहीं उन्होने अनेक फिल्मों में पार्श्वगायन भी किया। १९८५ में उन्हें फैज अहमद ‘फैज’ की नज़मों पर विशेष शोध और गायन के लिए विश्वस्तर पर सम्मान प्राप्त हुआ था। २१ अप्रैल, २००९ को लाहौर में उनका निधन हो गया। इस अप्रतिम गायिका के स्वरों में ही है, आज की ठुमरी, लीजिए प्रस्तुत है।

पीलू ठुमरी : ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ विदुषी इकबाल बानो



आम तौर पर मंच पर एकल ठुमरी गायन की ही परम्परा है। युगल ठुमरी गायन का उदाहरण कभी-कभी उस समय परिलक्षित होता है, जब युगल खयाल गायक खयाल के बाद अन्त में ठुमरी गाते है। इसके अलावा नृत्य के कार्यक्रम में भाव अंग के अन्तर्गत दो नर्तक या नृत्यांगना मंच पर जब भाव-प्रदर्शन करते हैं। बीसवीं शताब्दी के मध्यकाल में संगीत के मंच पर जिन युगल गायकों का वर्चस्व था उनमें शामचौरासी घराने के उस्ताद नज़ाकत अली (१९२०-१९८४) और सलामत अली (१९३४-२००१) बन्धुओं का नाम शीर्ष पर था। देश के विभाजन के बाद ये दोनों भाई पाकिस्तान के प्रमुख युगल गायक के रूप में प्रतिष्ठित हुए। इन्हीं के दो छोटे भाई अख्तर अली और ज़ाकिर अली हैं, जिनका ठुमरी-दादरा गायन संगीत के मंचों पर बेहद लोकप्रिय हुआ। आइए, अब हम आपको उस्ताद अख्तर अली और ज़ाकिर अली खाँ की आवाज़ में राग पीलू की यही ठुमरी- 'गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...' सुनवाते हैं।

पीलू ठुमरी : ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ उस्ताद अख्तर अली और ज़ाकिर अली खाँ



१९६४ में अजीत और माला सिन्हा अभिनीत फिल्म ‘मैं सुहागन हूँ’ प्रदर्शित हुई थी। इस फिल्म का संगीत फिल्मों के एक कम चर्चित संगीतकार लच्छीराम तँवर ने तैयार किया था। लच्छीराम की स्वतंत्र रूप से प्रथम संगीत निर्देशित १९४७ की फिल्म थी ‘आरसी’। इस पहली फिल्म का संगीत अत्यन्त लोकप्रिय भी हुआ, किन्तु १९४७ से १९६४ के बीच उन्हें साधारण स्तर की फिल्मों के प्रस्ताव ही मिले। इसके बावजूद उनकी प्रत्येक फिल्मों के एक-दो गीतों ने लोकप्रियता के मानक गढ़े। १९६४ की फिल्म ‘मैं सुहागन हूँ’ उनकी अन्तिम फिल्म थी। इस फिल्म में लच्छीराम ने इस परम्परागत ठुमरी को आशा भोसले और मोहम्मद रफ़ी के स्वरों में प्रस्तुत किया। फिल्मों में प्रयोग की गई ठुमरियों में सम्भवतः पहली बार युगल स्वरों में किसी ठुमरी को शामिल किया गया था। फिल्म में नायक-नायिका अजीत और माला सिन्हा हैं, परन्तु इस ठुमरी को फिल्म के सह-कलाकारों, सम्भवतः केवल कुमार और निशी पर फिल्माया गया है। ठुमरी के अन्त में अभिनेत्री द्वारा तीनताल में कथक के तत्कार और टुकड़े भी प्रस्तुत किये गए हैं। मूलतः यह ठुमरी राग पीलू की है। परन्तु लच्छीराम ने इसे राग देस के स्वरों में बाँधा है। आशा भोसले और मोहम्मद रफ़ी ने गायन में राग देस के स्वरों को बड़े आकर्षक ढंग से निखारा है। रफ़ी ने इस गीत को सपाट स्वरों में गाया है किन्तु आशा भोसले ने स्वरों में मुरकियाँ देकर और बोलों में भाव उत्पन्न कर ठुमरी को आकर्षक रूप दे दिया है। आइए सुनते हैं, श्रृंगार रस से ओतप्रोत राग देस में यह फिल्मी ठुमरी। आप इस ठुमरी का रसास्वादन करें और मुझे आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।

फिल्म ‘मैं सुहागन हूँ’ : देस ठुमरी : ‘गोरी तोरे नैन काजर बिन कारे...’ : आशा भोसले और मोहम्मद रफी



आज की पहेली

आज की संगीत पहेली में हम आपको एक पंजाब अंग के सुविख्यात गायक के स्वर में एक पारम्परिक ठुमरी का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। पहेली के सौवें अंक तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला का विजेता घोषित किया जाएगा।


१- यह ठुमरी किस विख्यात गायक की आवाज़ में है?

२- आपने अभी जिस पारम्परिक ठुमरी का अंश सुना है, इसी ठुमरी का प्रयोग आठवें दशक की एक फिल्म में किया गया था। क्या आप उस फिल्म में शामिल ठुमरी के राग का नाम हमें बता सकते हैं?

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के १०० वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं। हमसे सीधे सम्पर्क के लिए swargoshthi@gmail.com पर अपना सन्देश भेज सकते हैं।

पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ के ९६वें अंक की पहेली में हमने आपको रसूलन बाई के स्वरों में भैरवी की पारम्परिक ठुमरी ‘जा मैं तोसे नाहीं बोलूँ...’ का एक अंश सुनवा कर आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- राग ‘भैरवी’ और दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- फिल्म ‘सौतेला भाई’। दोनों प्रश्नों के सही उत्तर जबलपुर से क्षिति तिवारी, लखनऊ से प्रकाश गोविन्द और जौनपुर, उत्तर प्रदेश से डॉ. पी.के. त्रिपाठी ने दिया है। तीनों प्रतिभागियों को रेडियो प्लेबैक इण्डिया की ओर से हार्दिक बधाई।

झरोखा अगले अंक का



मित्रों, ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी लघु श्रृंखला ‘फिल्मों के आँगन में ठुमकती पारम्परिक ठुमरी’ की शुरुआत हमने १९३६ की फिल्म ‘देवदास’ में शामिल पारम्परिक ठुमरी ‘पिया बिन नाहीं आवत चैन....’ से किया था। अब हम आ पहुँचे हैं, इस श्रृंखला के समापन की दिशा में। अन्तिम दो अंकों में हम आठवें दशक की फिल्मों में शामिल ठुमरियों पर चर्चा करेंगे। अगले अंक में हम आपके लिए एक और मनमोहक पारम्परिक ठुमरी लेकर उपस्थित होंगे। अगले रविवार को प्रातः ९-३० पर हमारी इस सुरीली गोष्ठी में आप अपनी उपस्थिति अवश्य दर्ज़ कराइएगा। अब हमें आज के इस अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।

कृष्णमोहन मिश्र


रविवार, 2 सितंबर 2012

आशा भोसले : ८०वें जन्मदिवस पर एक स्वरांजलि



स्वरगोष्ठी – ८६ में आज

फिल्म संगीत को विविध शैलियों से सजाने वाली कोकिलकंठी गायिका

संगीत के क्षेत्र में ऐसा उदाहरण बहुत कम मिलता है, जब किसी कलाकार ने मात्र अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए लीक से अलग हट कर एक ऐसा मार्ग चुना हो, जो तत्कालीन देश, काल और परिवेश से कुछ भिन्न प्रतीत होता है। परन्तु आगे चल कर वही कार्य एक मानक के रूप में स्थापित हो जाता है। फिल्म संगीत के क्षेत्र में आशा भोसले इसकी जीती-जागती मिसाल हैं। आगामी ८सितम्बर को विश्वविख्यात पार्श्वगायिका आशा भोसले का ८०वाँ जन्मदिवस है। इस अवसर के लिए आज की ‘स्वरगोष्ठी’ में हमने उनके गाये कुछ राग आधारित गीतों का चयन किया है। ये गीत उनकी बहुआयामी गायकी को सिद्ध करने के लिए पर्याप्त हैं।

आज की चर्चित पार्श्वगायिका आशा भोसले का जन्म ८सितम्बर, १९३३ को महाराष्ट्र के सांगली में मराठी रंगमंच के सुप्रसिद्ध अभिनेता और गायक दीनानाथ मंगेशकर के घर दूसरी पुत्री के रूप में हुआ था। दीनानाथ जी की बड़ी पुत्री और आशा भोसले की बड़ी बहन विश्वविख्यात लता मंगेशकर हैं, जिनका जन्म २८सितम्बर, १९२९ को हुआ था। दोनों बहनों की प्रारम्भिक संगीत-शिक्षा अपने पिता से ही प्राप्त हुई। अभी लता की आयु मात्र १३ और आशा की ९ वर्ष थी, तभी इनके पिता का देहान्त हो गया। अब परिवार के भरण-पोषण का दायित्व इन दोनों बहनों पर आ गया। अपनी बड़ी बहन लता के साथ आशा भी फिल्मों में अभिनय और गायन करने लगीं। आशा भोसले (तब मंगेशकर) को १९४३ में मराठी फिल्म ‘माझा वाल’ में संगीतकार दत्ता डावजेकर ने गायन का अवसर दिया। इस फिल्म के एक गीत- ‘चला चला नव बाला...’ को उन्होने अकेले आशा से ही नहीं, बल्कि चारो मंगेशकर बहनों से गवाया। भारतीय फिल्म संगीत के इतिहास में यह गीत चारो मंगेशकर बहनों द्वारा गाये जाने के कारण तो दर्ज़ है ही, आशा भोसले के गाये पहले गीत के रूप में भी हमेशा याद रखा जाएगा। मात्र दस वर्ष की आयु में फिल्मों में पदार्पण तो हो गया, किन्तु आगे का मार्ग इतना सरल नहीं था।

आशा जी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर हमारी यह चर्चा जारी रहेगी, इस बीच आज की आशा भोसले की गायन क्षमता का एक कम चर्चित पक्ष आपके सम्मुख रखना चाहता हूँ। विश्वविख्यात सरोद-वादक उस्ताद अली अकबर खाँ ने १९९५ में आशा जी को कैलीफोर्निया बुलवाया। खाँ साहब ने सरोद-वादन और गायन की जुगलबन्दी पर एक रिकार्ड बनाने की योजना बनाई थी। इस रिकार्ड में ११ विभिन्न रागों की बन्दिशों को शामिल किया गया था। आशा जी के लिए यह सम्मान की बात थी कि खाँ साहब ने इस कार्य के लिए उन्हें आमंत्रित किया। बाद में इस जुगलबन्दी का यह रिकार्ड सर्वत्र प्रशंसित हुआ और ग्रेमी पुरस्कार के लिए नामांकित भी हुआ। आइए, अब हम इसी रिकार्ड से उस्ताद अली अकबर खाँ के सरोद-वादन और आशा भोसले के गायन की जुगलबन्दी से सुसज्जित राग मियाँ की मल्हार का तराना सुनते हैं। यह तराना तीनताल में निबद्ध है।

राग मियाँ की मल्हार : सरोद-गायन जुगलबन्दी : उस्ताद अली अकबर खाँ और आशा भोसले



१९४८ में संगीतकार हंसराज बहल के निर्देशन में आशा भोसले को पहली बार हिन्दी फिल्म ‘चुनरिया’ का गीत ‘सावन आया आया रे...’ गाने का अवसर मिला। यह गीत उन्होने ज़ोहरा बाई और गीता राय के साथ गाया था। आशा जी से एकल गीत गवाने का श्रेय भी हंसराज बहल को ही दिया जाएगा, जिन्होने १९४९ में फिल्म ‘रात की रानी’ का गीत- ‘हैं मौज में अपने बेगाने, दो चार इधर दो चार उधर...’ गाने का अवसर दिया। १९५० के दशक में उन्हें ए.आर. कुरेशी (विख्यात तबला वादक उस्ताद अल्लारक्खा खाँ), सज्जाद हुसेन, गुलाम मोहम्मद आदि के संगीत निर्देशन में कुछ फिल्में मिली, किन्तु इनमें से अधिकतर फिल्में चली नहीं। इसी बीच आशा जी ने अपने परिवारवालों की इच्छा के विरुद्ध जाकर मात्र १६ वर्ष की आयु में अपने ३१ वर्षीय प्रेमी गणपत राव भोसले से विवाह कर लिया। यह विवाह सफल नहीं रहा और लगभग एक दशक के कलहपूर्ण वैवाहिक जीवन का १९६० में सम्बन्ध-विच्छेद हो गया। इसके साथ ही तत्कालीन पार्श्वगायिकाओं के बीच स्वयं को स्थापित करने का संघर्ष भी जारी था।

आशा जी की संघर्षपूर्ण संगीत-यात्रा को यहाँ पर थोड़ा विराम देकर आइए, सुनते है, उनकी प्रतिभा का अतुलनीय उदाहरण। १९८७ में गीतकार गुलजार, संगीतकार राहुलदेव बर्मन और गायिका आशा भोसले की प्रतिभाओं के मेल से एक अनूठा अल्बम ‘दिल पड़ोसी है’ जारी हुआ था। इस अल्बम का एक गीत ‘भीनी भीनी भोर आई...’ आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। यह रचना राग मियाँ की तोड़ी, तीनताल में बाँधी गई है।

राग मियाँ की तोड़ी : ‘भीनी भीनी भोर आई...’ : स्वर - आशा भोसले



छठे दशक के आरम्भ में पार्श्वगायन के क्षेत्र में गीता दत्त, शमशाद बेगम और लता मंगेशकर का वर्चस्व था। इन गायिकाओं के बीच अपनी पहचान बनाने के लिए आशा भोसले को हर कदम पर परीक्षा के दौर से गुजरना पड़ा। इस दौरान उन्होने १९५२ में दिलीप कुमार अभिनीत फिल्म ‘संगदिल’, १९५३ में विमल राय निर्देशित फिल्म ‘परिणीता’ और १९५४ में राज कपूर की फिल्म ‘बूट पालिश’ के गीतों को अपेक्षाकृत बेहतर गाया था, किन्तु उनकी प्रतिभा को सही पहचान तब मिली जब संगीतकार ओ.पी. नैयर ने १९५६ की फिल्म ‘सी.आई.डी.’ में उन्हें गाने का अवसर दिया। इस फिल्म का एक गीत ‘लेके पहला पहला प्यार...’ आशा भोसले ने मोहम्मद रफी और शमशाद बेगम के साथ मिल कर गाया था। उन दिनों यह गीत गली-गली में गूँजा था। इसी के बाद १९५७ में ओ.पी. नैयर के संगीत से सजी बी.आर. चोपड़ा की फिल्म ‘नया दौर’ में भी आशा भोसले को गाने अवसर मिला। इस फिल्म के प्रदर्शित होते ही आशा भोसले की पहचान प्रथम श्रेणी की गायिकाओं में होने लगी। फिल्म ‘नया दौर’ में आशा भोसले ने मोहम्मद रफी के साथ ‘उड़े जब जब जुल्फें तेरी...’, ‘साथी हाथ बढ़ाना...’, ‘माँग के साथ तुम्हारा...’ तथा शमशाद बेगम के साथ ‘रेशमी सलवार कुर्ता जाली का...’ जैसे लोकप्रिय गीत गाये थे।

आशा भोसले की संगीत-यात्रा की इस संक्षिप्त गाथा को एक बार फिर विराम देकर अब हम आपको उनका गाया एक ऐसा गीत प्रस्तुत कर रहे हैं, जिसे उनके अनुज हृदयनाथ मंगेशकर ने फिल्म ‘लेकिन’ के लिए संगीतबद्ध किया है। १९९१ में प्रदर्शित इस फिल्म के गीत गुलजार ने रचे और इस गीत को हृदयनाथ मंगेशकर ने राग विलासखानी तोड़ी के सुरों से सजाया है। गीत के आरम्भ में आलाप और अन्त में तराना गायन में सुप्रसिद्ध शास्त्रीय गायक सत्यशील देशपाण्डे का स्वर है।

राग विलासखानी तोड़ी : फिल्म लेकिन : ‘झूठे नैना बोलें साँची बतियाँ...’ : आशा भोसले और सत्यशील देशपाण्डे



आशा भोसले के जीवन में चार फिल्मों का महत्त्व ‘मील के पत्थर’ के रूप में है। ये फिल्में हैं- नया दौर- १९५७, तीसरी मंज़िल- १९६६, उमराव जान- १९८१ और रँगीला- १९९५। इन फिल्मों के संगीतकार ओ.पी. नैयर, राहुलदेव बर्मन, ख़ैयाम और ए.आर. रहमान के संगीतबद्ध गीतों को गाकर उन्होने फिल्म संगीत के अलग-अलग युगों और शैलियों का प्रतिनिधित्व किया। राहुलदेव बर्मन से तो आगे चल कर १९८० में उन्होने दूसरा विवाह किया और उसे अन्त तक निभाया। संगीतकार रवि के अनेक गीतों को आशा भोसले ने अपना स्वर देकर कालजयी बना दिया। १९५५ की फिल्म ‘वचन’ का गीत- ‘चन्दा मामा दूर के...’ तो आज भी श्रेष्ठ बाल-गीत के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा रवि के संगीत निर्देशन में आशा जी ने घराना, दिल्ली का ठग, गृहस्थी, फूल और पत्थर, काजल आदि फिल्मों में अत्यन्त लोकप्रिय गीतों को स्वर दिया। आइए, अब हम रवि का संगीतबद्ध किया, आशा जी का गाया, फिल्म काजल का भक्ति-गीत- ‘तोरा मन दर्पण कहलाए...’ सुनते हैं। १९६५ में प्रदर्शित इस फिल्म में संगीतकार रवि ने राग दरबारी कान्हड़ा पर आधारित स्वरों में गीत को पिरोया था। तीनताल में निबद्ध इस गीत के भक्ति-रस का आप आस्वादन कीजिए और आशा जी को उनके ८०वें जन्मदिवस पर रेडियो प्लेबैक इण्डिया की ओर से हार्दिक शुभकामनाएँ अर्पित करते हुए मुझे ‘स्वरगोष्ठी’ के आज के अंक को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए।

राग दरबारी कान्हड़ा : फिल्म काजल : ‘तोरा मन दर्पण कहलाए...’ : आशा भोसले



आज की पहेली

आज की ‘संगीत-पहेली’ में हम आपको कण्ठ संगीत की एक रचना का अंश सुनवा रहे हैं। इसे सुन कर आपको दो प्रश्नों के उत्तर देने हैं। ९०वें अंक तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे, उन्हें इस श्रृंखला का विजेता घोषित किया जाएगा।


१_ संगीत की यह रचना किस राग में निबद्ध है?

२_ ताल की पहचान कीजिए और हमे ताल का नाम भी बताइए।

आप अपने उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com पर ही शनिवार मध्यरात्रि तक भेजें। comments में दिये गए उत्तर मान्य नहीं होंगे। विजेता का नाम हम ‘स्वरगोष्ठी’ के ८८वें अंक में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत-संगीत, राग, अथवा कलासाधक के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए comments के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं। हमसे सीधे सम्पर्क के लिए swargoshthi@gmail.com पर अपना सन्देश भेज सकते हैं।

पिछली पहेली के विजेता


‘स्वरगोष्ठी’ के ८४वें अंक की पहेली में हमने आपको सितार-वादक उस्ताद विलायत खान को एक मंच प्रदर्शन के दौरान एक बन्दिश गाते हुए सुनवाया था और आपसे दो प्रश्न पूछे थे। पहले प्रश्न का सही उत्तर है- सितार वादक उस्ताद विलायत खाँ और दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है- राग हमीर। दोनों प्रश्नों के सही उत्तर लखनऊ के प्रकाश गोविन्द, जबलपुर की क्षिति तिवारी और मीरजापुर (उ.प्र.) के डॉ. पी.के. त्रिपाठी ने दिया है। इन्हें मिलते हैं २-२ अंक। तीनों प्रतिभागियों को रेडियो प्लेबैक इण्डिया की ओर से हार्दिक बधाई।

झरोखा अगले अंक का

मित्रों, ‘स्वरगोष्ठी’ के अगले अंक में रागदारी संगीत की विख्यात विदुषी डॉ. प्रभा अत्रे का हम जन्मदिवस मनाएँगे और उन्हीं का संगीत सुन कर अपनी शुभकामनाएँ अर्पित करेंगे। आप सब संगीत-प्रेमी इस अनुष्ठान में सादर आमंत्रित हैं। अगले रविवार को प्रातः ९-३० बजे आयोजित आपकी अपनी इस गोष्ठी में आप हमारे सहभागी बनिए। हमें आपकी प्रतीक्षा रहेगी।

कृष्णमोहन मिश्र

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ