mehandi hasan लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
mehandi hasan लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 11 मई 2009

गम साथ रह गए, मेरा साथी बिछड़ गया- खां साहब का दर्द और महफ़िल-ए-ज़र्द

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #१२

ज हम जिस हस्ती की बात करने जा रहे हैं,उन्हें गज़ल-गायकी के क्षेत्र में शहंशाह कहा जाता है, गज़ल-प्रेमियों ने उन्हें शहंशाह-ए-गज़ल की उपाधि दी है। यह तो सब को पता होगा कि ८० के दशक तक पाकिस्तान में गज़लों से लबरेज फिल्में बनती थीं। हरेक फिल्म में कम-से-कम ३-४ गज़लों को जरूर स्थान मिलता था। उस दौर में अदाकार भी कम थे तो फ़िल्मों में गाने वाले गुलूकार भी। इसलिए कुछ लोगों का यह मानना हो सकता है कि गज़लों में नयापन और वज़न की कमी रहती होगी। लेकिन जब आप उस दौर के गज़लों को सुनेंगे तो आपकी सारी शंकाएँ पल में छू हो जाएँगी। भले हीं कम फ़नकार थे लेकिन उन फ़नकारों की आवाज़ में जो जादू था, जो दम था, वो अब कम हीं सुनने को मिलता है। यूँ तो हमारी आज की ह्स्ती ने फ़िल्मों में बस १९५६ से लेकर १९८६ तक हीं गाया है, लेकिन उन गज़लों का आज भी कोई सानी नहीं है।उन गज़लों को न जाने कितनी हीं बार अलग-अलग एलबमों में "गोल्डन कलेक्शन" के नाम से रीलिज किया जा चुका है तो न जाने कितने हीं अन्य फ़नकारों ने उनपर अपना गला साफ़ किया है। इससे आप खुद हीं अंदाजा लगा सकते हैं कि वह हस्ती कितनी मकबूल है। उस हस्ती से जुड़ी एक मज़ेदार घटना है जो कला के कद्रदानों के दिल में कला का ओहदा साबित करती है। हमारे आज के फ़नकार जब नेपाल के राजदरबार में राजा "बिरेन्द्र बिक्रम शाह देव" के सामने "ज़िंदगी में तो सभी प्यार किया करते हैं" गज़ल पेश कर रहे थे, तो यकायक बीच की एक पंक्ति भूल गए। माहौल में कुछ खलबली मचती इससे पहले हीं राजा साहब खड़े हो गए हो और अगली पंक्ति गाने लगे|माहौल जस-का-तस हीं बना रहा...और गज़ल अपनी गति से बढती रही। किसी भी फ़नकार की ज़िंदगी में इससे बड़ी घटना क्या हो सकती है। इस फ़नकार को जनरल "अयूब खान" ने "तमगा-ए-इम्तियाज", जनरल "ज़िया-उल-हक़" ने "प्राइड औफ़ परफारमेंश" और जनरल "परवेज मु्शर्रफ़" ने "हिलाल-ए-इम्तियाज" से नवाजा है। अब आपके पास भी अवसर है, आप इन फ़नकार को पहचानें और अपनी मनपसंद उपाधि से नवाजें।

उम्मीद है अब तक पहचानने और नवाजने का काम हो चुका होगा...तो चलिए आगे बढते हैं। और अगर अब भी आपके मन में दो चार शंकाएँ हैं तो मैं हीं उस विशाल हस्ती के नाम से पर्दा हटाए देता हूँ। अपने पिता "उस्ताद अज़ीम खान" और अपने चाचा "उस्ताद इस्माईल खान" के शिष्य "खां साहब" उर्फ़ "मेंहदी हसन" साहब हीं हमारे आज के फ़नकार हैं। यूँ तो हिन्दुस्तान में "गुलाम अली" साहब का रूतबा ज्यादा है, लेकिन अगर वहाँ की बात करें जहाँ से ये सारे फ़नकार आते हैं (यानि कि पाकिस्तान) तो वहाँ मेंहदी हसन को पूजने वाले कहीं ज्यादा हैं। मुझे इसके दो कारण समझ आते हैं। एक कि मेंहदी हसन साहब ने ज्यादा गज़लें पाकिस्तानी फ़िल्मों के लिए हीं गाई हैं और दूसरा यह कि ८० के दशक के बाद खां साहब की तबियत बिगड़ती हीं चली गई और इस कारण संगीत से इनकी दूरी बढती गई। इन बातों को उठाने का मेरा मकसद यह नहीं है कि मैं "गुलाम अली" साहब की गायकी को कमतर साबित करना चाहता हूँ, दर-असल मैंने भी गुलाम अली साहब की गज़लॊं की तुलना में खां साहब की गज़लें कम हीं सुनी हैं और मैं जिस पीढी का हूँ, उस पीढी के ज्यादातर लोगों का यही हाल है, लेकिन अगर आप किसी भी पाकिस्तानी साईट या फोरम में चले जाएँ तो आपको इन दोनों गुलूकारों के रूतबा का अंदाजा लग जाएगा। यहाँ तक कि स्वर-कोकिला "लता मंगेशकर" ने भी खां साहब की आवाज़ को खुदा की आवाज कहा है। चलिए इस बात को हम यहीं छोड़ते हैं...क्योंकि हमें तो गज़ल से काम है और हम तो हर उस गुलूकार के प्रशंसक हैं, जिनकी आवाज़ में गज़ल ज़िंदा हो जाती है और यह तो इन दोनों हीं फ़नकारों के साथ होता है। अब लगे हाथ हम आज की गज़ल की ओर रुख करते हैं।

यूँ तो आज की गज़ल हमने "गोल्डन कलेक्शन: मेंहदी हसन" एलबम से ली है, लेकिन मैने जब इस गज़ल की जड़ों को ढूँढना शुरू किया तो कई सारे और भी एलबम मिलते गए, जिसमें इस गज़ल को शामिल किया गया था, यानी कि इनमें से कोई भी वह एलबम नहीं है जो दावा कर सके कि यह गज़ल इसी के लिए बनी थी। फिर ढूँढते-ढूँढते मैं १९६० की एक पाकिस्तानी फ़िल्म "अंजान" तक पहुँचा, जिसका विडियो मुझे यू-ट्युब पर भी मिल गया। चूँकि इससे पहले की किसी भी एलबम में यह गज़ल नहीं थी इसलिए मानना पड़ा कि यही ओरिजिनल गज़ल है। इस गज़ल को अपने संगीत से सजाया था "मंज़ूर असरफ़" ने और गज़लगो थे.....। इस गज़ल के गज़लगो कौन हैं, वह मैं लाख कोशिशों के बावजूद पता नहीं कर पाया, इसके लिए माफ़ी चाहूँगा। "गम साथ रह गए, मेरा साथी बिछड़ गया" - इससे बड़ा गम क्या हो सकता है कि गम को हरने वाला साथी हीं अब नहीं रहा, फिर कौन इन ज़ख्मों को भरेगा। जब साथी अपने पास था तो गमों में इतना माद्दा हीं कहाँ था कि मेरे पास भी भटक सके, लेकिन जब से मेरे साथी ने मुझसे मुँह फेरा है, मानो खुशियों ने हीं हमेशा के लिए खुदकुशी कर ली है। चलो मान भी लिया कि ये गम मेरी किस्मत में थे,लेकिन अब कौन बचा है जिसके कंधे पर सर रखकर इन सरचढे गमों का मातम करूँ?

गमों की इसी मनमानी को ध्यान में रखते हुए मैने कभी लिखा था:
गम नहीं कि गम यह मेरा हो गया है बेहया,
गम है ये कि गम जो बाँटे ना रहा वो मुस्तफ़ा।


गमों की तहरीर अगर लिखने चला तो न जाने कितने पन्ने काले हो जाएँगे फिर भी गमों का कला चिट्ठा नहीं खुलेगा, इसलिए अच्छा होगा कि हम खां साहब की आवाज़ में हीं गमों की कारस्तानी सुन लें:

गम साथ रह गए, मेरा साथी बिछड़ गया,
बर्बाद हो गई मेरी दुनिया, मैं चुप रहा।

अपनों ने गम दिए तो मुझे याद आ गया,
एक अजनबी जो गैर था और गम-गुसार था।

वो साथ था तो दुनिया के गम दिल से दूर थे,
खु्शियों को साथ लेकर न जाने कहाँ गया।

अब ज़िंदगी की कोई तमन्ना नहीं मुझे,
रौशन उसी के दम से था बुझता हुआ दीया।

दुनिया समझ रही है जुदा मुझसे हो गया,
नज़रों से दूर जाके भी दिल से न जा सका।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

कल शब् मुझे एक शख्स की __ ने चौंका दिया,
मैंने कहा तू कौन है, उसने कहा आवारगी...


आपके विकल्प हैं -
a} आवाज़ b) परछाई c) आहट d) पुकार.

इरशाद ....

पिछली महफ़िल के साथी-

पिछली महफिल का सही शब्द था "माँ" और सही शेर था -

भूखे बच्चों की तसल्ली के लिए,
माँ ने फिर पानी पकाया देर तक...

सबसे पहले सही जवाब देकर "शान-ए-महफिल" बने मनु जी, अविनाश जी, रचना जी सलिल जी, नीलम जी और शन्नो जी भी पीछे नहीं रही, माँ शब्द ने सबको भावुक कर दिया, कुछ पुराने गीत याद हो आये तो कुछ मुन्नवर राणा के इन शेरों ने महफिल में समां बाँधा ...

किसी के हिस्से मकान आया, किसी के हिस्से दूकान आई,
मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से माँ आयी....

और

"मुनव्वर" माँ के आगे इस तरह खुलकर नहीं रोना,
जहां बुनियाद हो,इतनी नमी अच्छी नहीं होती...

वाह ...इसी बहाने सबने एक बार फिर याद किया माँ को.....माँ दिवस की एक बार फिर बधाई...

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा



ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर सोमवार और गुरूवार दो अनमोल रचनाओं के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

गुरुवार, 9 अक्तूबर 2008

श्रोता भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा है महफ़िल की सफ़लता का.

आवाज पर आने वाले नियमित पाठक/श्रोता संजय पटेल की क़लमनिगारी से वाक़िफ़ है.
संजय भाई अपने अलहदा अंदाज़ से हमेशा कोई नई बात कहते हैं.मंच और लेखन की दुनिया में सतत काम करने वाला यह शख्स निराभिमानी ही नहीं संगीत में आकंठ डूबा एक ज़िन्दादिल इंसान है. अभी हाल ही में संजय पटेल ने अपने ब्लॉग
जोगलिखी संजय पटेल की पर श्रोताओं के हवाले से एक बहुत सुन्दर आलेख पोस्ट किया था. हमें लगा कि आवाज़ पर इस लेख का जारी होना बहुत ज़रूरी है. संजय भाई ने हमेशा की तरह सह्र्दयता से इजाज़त दी इसके लिये. एक सच्चे संगीतप्रेमी के लिये ये लेख एक दस्तावेज़ है और गाइड लाइन भी. कैसे एक श्रोता एक रसपूर्ण कार्यक्रम या कंसर्ट को बिगाड़ सकता है आइये देखते हैं.


बात थोड़ी लम्बी कह गया हूँ ; यदि दस से पन्द्रह मिनट का समय दे सकते हैं तो ही इसे पढ़ें.हाँ इस पोस्ट में व्यक्त किये गए दर्द को समझने के लिये एक संगीतप्रेमी का दिल होना ख़ास क्वॉलिफ़िकेशन है.

बीते तीस बरसों से तो मंच पर बतौर एक एंकर पर्सन काम कर ही रहा हूँ और उसके पहले भी संगीत की महफ़िलों में जाने का जुनून रहा ही है. सौभाग्याशाली हूँ कि पिता और दादा की बदौलत संगीत का भरापूरा माहौल घर-आँगन में ही मिलता रहा.अब जब से मैं ख़ुद एंकर या सांस्कतिक पत्रकार के रूप में सक्रिय हुआ तब से भाँति भाँति के कलाकारों और उससे भी ज़्यादा सुनने वालों से मिलने,बतियाने और विभिन्न कलाकारों और गायन/वादन की कला के बारे में समझने का अवसर मिल रहा है.संगीत विषय पर पढ़ता भी रहता हूँ सो अच्छा ख़ासा समय संगीत के इर्द-गिर्द चला जाता है या यूँ कहना बेहतर होगा कि मेरे इर्द-गिर्द संगीत होता है.मंच से परे भी कार्य-स्थल और निवास पर भी तक़रीबन पूरे दिन संगीत का संगसाथ बना रहता है.देश के कई कलाकारों से भी लगातार संपर्क में रहता हूँ सो तब भी संगीत की ही चर्चा होती रहती है. यहाँ तक जो बात मैने कही है उसे पढ़कर आपको लग रहा होगा कि मैं आत्ममुग्ध हो अपने को ही महिमामंडित कर रहा है.जी नहीं हुज़ूर नाचीज़ को इस तरह की कोई ग़लतफ़हमी नहीं है कि मैं कोई बड़ा कारनामा कर रहा हूँ ;मामला इतना भर है संगीत मुझे ऑक्सीजन देता है और मुझे इंसान बनाए रखता है. दर असल में कहना कुछ और चाहता हूँ

बहुतेरे अवसरों पर जिन संगीतप्रेमियों से मुलाक़ात होती है उनमें कुछ विशिष्ट प्रजाति के होते हैं.हाँ यह साफ़ करता चलूँ और स्वीकार कर लूँ कि संगीत बहुत सब्जेक्टिव टर्म है यानी तरह –तरह के लोग और तरह तरह् की पसंद.लेकिन अपनी पसंद से भी जो लोग किसी महफ़िल में आते हैं तो वहाँ भी एक विशिष्ट क़िस्म की अतृप्तता महसूस करते हैं.कहने को म्युज़िक सर्कल्स में ये लोग अपने आप को सुर-सुजान कहलवाना पसंद करते हैं लेकिन तबियत में विशिष्ट खसलत लिये हुए होते हैं.उदाहरण के लिये एक सज्जन हैं जो चाहे शायरी की महफ़िल में हों या संगीत की;हमेशा अपनी फ़रमाइश लेकर खड़े हो जाते हैं....एक आयटम ख़त्म हुई; कहेंगे...गिरिजाजी (विदूषी गिरिजा देवी)आज भैरवी ठुमरी के पहले एक चैती ज़रूर होना चाहिये ! ग़ज़ल की महफ़िल है तो जगजीतजी (जगजीत सिंह) आविष्कार फ़िल्म का आपका और चित्राजी वाला बाबुल मोरा सुना दीजिये न प्लीज़....प्रहलादसिंह टिपानिया ने अच्छा-भला माहौल बना रखा है कबीरपंथी गीतों का और आप श्रीमान खड़े हो गए...पेलाद दादा हलके गाड़ी हाँको रे रामगाड़ीवाला सुना दीजिये न ! कलापिनी कोमकली गा रही है जैजैवंती से समाँ बंध गया है और उन्होनें तानपूरे के तार भैरवी के लिये मिलाना शुरू किया ही है और आप जनाब नमूदार हुए हैं महफ़िल में और कहेंगे ...मैडम ! कुमारजी का झीनी झीनी झीनी रे चदरिया तो हुआ ही नहीं......कई बार तो कलाकार सहज होकर उनकी बात सुन लेता है लेकिन कई बार कार्यक्रम ऐसा बेमज़ा होता है कि फ़िर उसके सुरीले होने की आस बाक़ी ही नहीं रहती. तो ये तो हुए मुफ़्त के फ़रमाइशीलाल.जैसे कलाकार सिर्फ़ और सिर्फ़ इन्हें ही अपनी रचनाएँ सुनाने यहाँ आया है.

अब एक दूसरी ब्रीड ऐसी है जो थोड़ी सी सुरीली खसलत वाली है. इनका मामला कुछ यूँ है कि ये श्रीमान गाते हैं...ठीक ठाक ही गाते हैं लेकिन किसी और का गाया पसंद नहीं करते.जैसे पुराने गीतों के किसी कार्यक्रम में बैठे हैं;समझ लीजिये मुकेश या रफ़ी साहब की याद में कोई कार्यक्रम चल रहा है तो ये सभागार में ही अच्छा भला गा रहे गायक की मज़म्मत कर देंगे.यार ! खोया खोया चाँद में रफ़ी साहब वाला फ़ील नहीं आ रहा,नहीं नहीं; मुकेशजी ने सारंगा तेरी याद में ... ऐसे नहीं गाया है अब साहब बताइये रफ़ी और मुकेश वाला ही फ़ील कहाँ से आयेगा,वह तो इन दो महान कलाकारों के साथ ही चला गया न .बात यहीं ख़त्म हो जाती तो ठीक , श्रीमान सभागार में ही पास वाली सीट पर बैठी अपनी श्रीमती को खोया खोया चाँद गाकर सुना रहे हैं;गोया याद दिलाना चाहते हों कि ऐसा था रफ़ी/मुकेश की गायकी का फ़ील (?)पास वाले भी झेल रहे हैं इस (बे)सुरीलेपन को.

एक और ज़ात है इन सुर-सुजानों की , हमेशा किसी आर्टिस्ट को किसी दूसरे से कम्पेयर करेंगे यानी उसकी दूसरे से तुलना करेंगे. जैसे अभी पं.जसराज मेरे शहर में आए थे , लाइव शो था और सुनने वाले थे तक़रीबन दस हज़ार.जैसे ही पहली रचना ख़त्म की श्रीमान मेरे पास आ गए ; यार तुम कैसे झेल पा रहे हो इस शोर शराबे में पंडितजी का गायन (जनाब को मेरी तासीर मालूम नहीं कि मैं तो पण्डितजी जैसे महान कलाकार को सुनने नहीं; देखने के लिये भी भरे बाज़ार में चला जाऊँ) मैंने कहा क्यों ? क्या हुआ ? नहीं यार अपने यहाँ दस साल पहले शरद पूर्णिमा पर भीमसेन जी आए थे; याद है ? मैने कहाँ हाँ ! आहा हा हा...क्या रंग जमा था भिया (मेरे शहर में भैया को भिया कहते हैं) वह बात नहीं बना पाए हैं जसराज आज . क्या लचर गा रहे हैं . मैने उनसे बहस करना ठीक नहीं समझा और मशवरा दिया कि ये तो आजकल ऐसा ही गा रहे हैं,शहर में विख्यात गायक शान का लाइव शो भी चल रहा है , सुना है वहाँ काफ़ी रंग जम रहा है. भाई साहब बोले क्या बात कर रहे हो..जगह मिल जाएगी, मैने कहा हाँ शायद मिल ही जाए,आप एक बार ट्राय तो कीजिये....सुर सुजान चलते बने और मैने राहत की साँस ली.अब आप बताइये कितना ग़लत है किसी कलाकार की गायकी की किसी और से तुलना करना.सबका अपना अपना रंग है,घराना है,गुरूजन अलग अलग हैं,परम्पराएँ भी अलग. पर नहीं उनको तो जसराज जी में भीमसेन जी का रंग चाहिये.मज़ा ये है कि भीमसेन जी से पूछिये तो वे जसराजजी की तारीफ़ करेंगे और जसराज जी के सामने भीमसेनजी की चर्चा चलाइये तो वे कहेंगे भीमसेनजी की क्या बात है.

इसी स्टाइल में एक और गौत्र वाले साह्ब भी हैं . वे क्या करते हैं कि जैसे आज प्रभा अत्रे को सुन रहे हैं तो कहेंगे भाई साहब पिछले साल पुणे के सवाई गंधर्व में जो इन्होंने बागेश्री सुनाई थी वह बात आज सुनाई नहीं दे रही है.मैं सोचता हूँ कि ये ऐसी बेवकूफ़ी की बात क्यों कर रहे हैं .हर दिन अलग होता है, मूड अलग होता है , आख़िर कलाकार भी तो इंसान है.याद आ गई उस्ताद बिसमिल्ला ख़ाँ साहब से बरसों पहले स्पिक मैके की वह महफ़िल जब ख़ाँ साहब बोले थे राग, रसोई , पागड़ी(पगड़ी) कभी-कभी बन जाए. बाद में समझ में आया कि श्रीमान आपको बताना चाहते हैं कि पिछले साल भी ये भी सवाई गंधर्व समारोह सुनने पुणे गए थे.


आज ये आलेख लिखते लिखते मुझे मेहंदी हसन साहब की याद आ गई. बरसों पहले वे एक शो के लिये मेरे शहर में तशरीफ़ लाए थे .शो का समय था रात आठ बजे का. ख़ाँ साहब साढ़े छह बजे आ गए,साज़ मिलवा लिये यानी ट्यून करवा लिये,साउंड का बेलेंसिंग कर लिया और फ़ारिग़ हो गए तक़रीबन सात बजे.फ़िर मुझसे कहा कोई कमरा है ग्रीन रूम के पास ऐसा जो ख़ाली हो,मैने पूछा क्या थोड़ा आराम करेंगे ? बोले नहीं शो शुरू होने के पहले जब तक मुमकिन होगा ख़ामोश रहना चाहता हूँ.मैं उन्हें एक कमरे में ले गया.वहाँ दरवाज़ा भीतर से बंद कर बैठा ही था तो बाहर से किसी ने खटखट की.दरवाज़ा खोला तो सामने आयोजन से जुड़े एक शख़्स खड़े थे , बोले कमिश्नर साहब आए हैं मिलना चाहते हैं मेहंदी हसन साहब से.मैने कहा वे अब शो प्रारंभ होने तक बोलेंगे नहीं , आप उन्हें शो के बाद मिलवाने ले आइये मैं ज़िम्मेदारी लेता हूँ कि ख़ाँ साहब से मिलवा दूँगा.जनाब कहने लगे आप समझते नहीं हैं साहब उखड़ जाएंगे,मैने कहा कहाँ हैं साहब और कमिश्नर से मिलने चला. मैने उन्हें हक़ीक़त बताई; वे एक संजीदा इंसान थे,बोले नहीं मैं नहीं मिलना चाह रहा, मेरी बेटी को ऑटोग्राफ़ चाहिये था.मैने उनकी बेटी की ऑटोग्राफ़ बुक ली और आश्वस्त किया कि उनका काम हो जाएगा.वे तसल्ली से श्रोताओं में जाकर बैठ गये.कमरे में लौटा तो देखा उस्तादजी जैसे ध्यान मुद्रा में बैठे थे. आँखों से अश्रु बह रहे थे. ख़ाँ साहब की टाइमिंग देखिये ठीक पौने आठ बजे उन्होंने आँखें खोलीं और मेरी तरफ़ देख कर मुस्कुराए; कहने लगे चलें जनाब दुकान सजाएँ.मैंने कहा हाँ चलते हैं लेकिन ख़ाँ साहब ये पैतालिस मिनट की ये ख़ामोशी क्या थी. बोले भाई मेरे आज जो जो ग़ज़ले गाने का मन बनाया है उनके मुखड़ों से दुआ-सलाम कर रहा था.फ़िर मैने पूछा कि इस दौरान आँखें क्यों भींज गईं थी आपकी ?ख़ाँ साहब बोले हाँ भाई उस वक़्त ख़ुदा का शुक्रिया अदा कर रहा था कि परवरदिगार तू कितना रहमदिल है कि मुझ नाचीज़ से मौसीक़ी के ज़रिये अपनी ख़िदमत करवा रहा है.सोचिये मेहंदी हसन साहब जैसा बड़ा आर्टिस्ट भी अपने आप से गुफ़्तगू के रूप में थोड़ा सा होमवर्क करना चाहता है.ऐसे में कोई सिरफ़िरा श्रोता एक महान कलाकार का ये नाज़ुक वक़्त चुरा कर कितना बड़ा पाप कर सकता है.कहने की ज़रूरत नहीं कि वह रात मेहंदी हसन साहब की गायकी की एक आलातरीन रात थी.ऐसी जो कभी कभी गाई जाती है बड़े नसीब से सुनने को मिलती है.

मुझे लगता है कि श्रोता हर तरह से अपनी पसंद/नापसंद तय करने का अधिकार रखता है . बल्कि ये उसका हक़ है लेकिन सच्चा और खरा श्रोता सजग,संवेदनशील और सह्रदय होता है..वह जानता है न जाने कितने तप और रियाज़ के बाद कोई कलाकार अपनी प्रस्तुति को लेकर पूरी उम्मीद के साथ आपसे रूबरू होता है. आपकी थोड़ी सी भी नासमझी कलाकार के पूरे मूड को बिगाड़ सकती है. अब बताइये साहब कि संगीत की महफ़िल में कोई बड़बोला , फ़रमाइशीलाल अपनी कोई फ़रमाइश लेकर कलाकार को डिस्टर्ब कर दे तो क्या हो.या कोई फ़ैन ऑटोग्राफ़ लेने के लिये गायक को परेशान करे ये तो ठीक नहीं.ईमानदार श्रोता वह है जो रहमदिल होकर कलाकार की तपस्या का मान करे और सह्र्दय होकर उसकी कला को दाद देकर उसे नवाज़े; उसका हौसला बढ़ाए.

कभी ठंडे दिल से सोचियेगा कि क्या मै ठीक कह रहा हूँ.

संजय भाई के इस आलेख से प्रेरित होकर हमारे स्तंभकार दिलीप कवठेकर ने भी अपने ब्लॉग पर जो लिखा वह आप यहाँ पढ़ सकते हैं.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ