ae jindagi लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ae jindagi लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 5 अगस्त 2008

मैं इस जमीं पे भटकता रहा हूँ सदियों तक...गुलजार

जब रंजना भाटिया "रंजू" ,रूबरू हुई गुलज़ार की कलम के तिलिस्म से ...

मैं जब छांव छांव चला था अपना बदन बचा कर
कि रूह को एक खूबसूरत जिस्म दे दूँ
न कोई सिलवट .न दाग कोई
न धूप झुलसे, न चोट खाएं
न जख्म छुए, न दर्द पहुंचे
बस एक कोरी कंवारी सुबह का जिस्म पहना दूँ, रूह को मैं

मगर तपी जब दोपहर दर्दों की, दर्द की धूप से
जो गुजरा
तो रूह को छांव मिल गई है .

अजीब है दर्द और तस्कीं [शान्ति ] का साँझा रिश्ता
मिलेगी छांव तो बस कहीं धूप में मिलेगी ...


जिस शख्स को शान्ति तुष्टि भी धूप में नज़र आती है उसकी लिखी एक एक पंक्ति, एक एक लफ्ज़ के, साए से हो कर जब दिल गुजरता है, तो यकीनन् इस शख्स से प्यार करने लगता है सुबह की ताजगी हो, रात की चांदनी हो, सांझ की झुरमुट हो या सूरज का ताप, उन्हें खूबसूरती से अपने लफ्जों में पिरो कर किसी भी रंग में रंगने का हुनर तो बस गुलजार साहब को ही आता है। मुहावरों के नये प्रयोग अपने आप खुलने लगते हैं उनकी कलम से। बात चाहे रस की हो या गंध की, उनके पास जा कर सभी अपना वजूद भूल कर उनके हो जाते हैं और उनकी लेखनी में रचबस जाते है। यादों और सच को वे एक नया रूप दे देते है। उदासी की बात चलती है तो बीहड़ों में उतर जाते हैं, बर्फीली पहाडियों में रम जाते हैं। रिश्तों की बात हो वे जुलाहे से भी साझा हो जाते हैं। दिल में उठने वाले तूफान, आवेग, सुख, दुख, इच्छाएं, अनुभूतियां सब उनकी लेखनी से चल कर ऐसे आ जाते हैं जैसे कि वे हमारे पास की ही बातें हो।


तुम्हारे गम की डली उठा कर
जुबान पर रख ली हैं मैंने
वह कतरा कतरा पिघल रही है
मैं कतरा कतरा ही जी रहा हूँ
पिघल पिघल कर गले से उतरेगी ,आखरी बूंद दर्द की जब
मैं साँस की आखरी गिरह को भी खोल दूंगा ----

जब हम गुलजार साहब के गाने सुनते हैं तो .एहसास होता है की यह तो हमारे आस पास के लफ्ज़ हैं पर अक्सर कई गीतों में गुलज़ार साब ने ऐसे शब्दों का प्रयोग किया है जो श्रोता को चकित कर देते हैं.जैसे की उन्होने कोई जाल बुना हो और हम उसमें बहुत आसानी से फँस जाते हैं. दो अलग अलग शब्द जिनका साउंड बिल्कुल एक तरह होता है और वो प्रयोग भी इस तरह किए जा सकते हैं की कुछ अच्छा ही अर्थ निकले गीत का...गुलज़ार साब ने अक्सर ही ऐसा किया है.इसे हम गुलज़ार का तिलिस्म भी कह सकते हैं.

मरासिम एलबम की एक ग़ज़ल है -

“हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते.....”

इस ग़ज़ल में एक शेर है-
“शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा
जाने वालों के लिए दिल नहीं थोड़ा करते”


कितना आसान है दूसरे मिसरे में थोड़ा को तोड़ा सुन लेना.और उसका मतलब भी बिल्कुल सटीक बैठता है. मगर यही जादू है गुलज़ार साब की कलम का. साउंड का कमाल.

आर डी बर्मन और गुलजार की जोड़ी के कमाल को कौन नही जानता..."मेरा कुछ सामान..." गाना जब गुलज़ार ने RD के सामने रखा तो पढ़कर बोले - अच्छे संवाद हैं...पर गुलज़ार जानते थे कि RD को किस तरह समझाना है कि ये संवाद नही बल्कि गीत है जिसे वो स्वरबद्ध करना चाहता थे अपनी नई फ़िल्म "इजाज़त" के लिए, लगभग दो महीने बाद मौका देखकर उन्होंने इसी गीत को फ़िर रखा RD के सामने और इस बार आशा जी भी साथ थी, बर्मन साब कहने लगे "भाई एक दिन तुम अखबार की ख़बर उठा लाओगे और कहोगे कि लो इसे कम्पोज करो..." पर तभी आशा जी ने गीत के बोल पढ़े और कुछ गुनगुनाने लगी, बस RD को गाने का मर्म मिल गया और एक कालजयी गीत बना. गुलज़ार और आशा दोनों ने इस गीत के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार जीता. (जाने पंचम दा कैसे पीछे छूट गए)..एक सौ सोलह चाँद की रातें...एक तुम्हारे कांधे का तिल....वाह क्या बात है....गुलज़ार साब की.

जरा याद कीजिये घर का वह गाना ..."आप की आँखों में" ..इस से ज्यादा रोमांटिक गाना मेरे ख्याल से कोई नही हो सकता है इस में गाये किशोर दा की वह पंक्ति जैसे दिल की तारों को हिला देती है .."लब खिले तो मोंगरे के फूल खिलते हैं कहीं ..." और फ़िर लो पिच पर यह "आपकी आंखों में क्या साहिल भी मिलते हैं कहीं .....आपकी खामोशियाँ भी आपकी आवाज़ है ..." और लता जी की एक मधुर सी हलकी हँसी के साथ "आपकी बदमाशियों के यह नए अंदाज़ है ...".का कहना जो जादू जगा देता है वह कमाल सिर्फ़ गुलजार ही कर सकते हैं अपने लफ्जों से .....

ज़िंदगी के हर रंग को छुआ है उन्होंने अपनी कही नज्मों में, गीतों में ...कुदरत के दिए हर रंग को उन्होंने इस तरह अपनी कलम से कागज में उतारा है, जो हर किसी को अपना और दिल के करीब लगता है, इतना कुदरत से जुडाव बहुत कम रचना कार कर पाये हैं, फिल्मों में भी, और साहित्य में भी .

मैं कायनात में ,सय्यारों में भटकता था
धुएँ में धूल में उलझी हुई किरण की तरह
मैं इस जमीं पे भटकता रहा हूँ सदियों तक
गिरा है वक्त से कट कर जो लम्हा .उसकी तरह
वतन मिला तो गली के लिए भटकता रहा
गली में घर का निशाँ तलाश करता रहा बरसों
तुम्हारी रूह में अब ,जिस्म में भटकता हूँ

लबों से चूम लो आंखो से थाम लो मुझको
तुम्हारी कोख से जनमू तो फ़िर पनाह मिले ..

फ़िर मिलूंगी आपसे दोस्तों, गुलज़ार साहब के कुछ और अहसास लेकर तब तक आनंद लें उनके लिखे इस लाजवाब गीत का, संगीत इलयाराजा का है.



- रंजना भाटिया
( हिंद युग्म )

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ