Showing posts with label qamar jalalabaadi. Show all posts
Showing posts with label qamar jalalabaadi. Show all posts

Wednesday, April 18, 2012

"छलिया मेरा नाम..." - इस गीत पर भी चली थी सेन्सर बोर्ड की कैंची




सेन्सर बोर्ड की कैंची की धार आज कम ज़रूर हो गई है पर एक ज़माना था जब केवल फ़िल्मी दृश्यों पर ही नहीं बल्कि फ़िल्मी गीतों पर भी कैंची चलती थी। किसी गीत के ज़रिये समाज को कोई ग़लत संदेश न चला जाए, इस तरफ़ पूरा ध्यान रखा जाता था। चोरी, छल-कपट जैसे अनैतिक कार्यों को बढ़ावा देने वाले बोलों पर प्रतिबंध लगता था। फ़िल्म 'छलिया' के शीर्षक गीत के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। गायक मुकेश के अनन्य भक्त पंकज मुकेश के सहयोग से आज 'एक गीत सौ कहानियाँ' की १६-वीं कड़ी में इसी गीत की चर्चा...

एक गीत सौ कहानियाँ # 16

सम्प्रति "कैरेक्टर ढीला है", "भाग डी के बोस" और "बिट्टू सबकी लेगा" जैसे गीतों को सुन कर ऐसा लग रहा है जैसे सेन्सर बोर्ड ने अपनी आँखों के साथ-साथ अपने कानों पर भी ताला लगा लिया है। यह सच है कि समाज बदल चुका है, ५० साल पहले जिस बात को बुरा माना जाता था, आज वह ग्रहणयोग्य है, फिर भी सेन्सर बोर्ड के नरम रुख़ की वजह से आज न केवल हम अपने परिवार जनों के साथ बैठकर कोई फ़िल्म नहीं देख सकते, बल्कि अब तो आलम ऐसा है कि रेडियो पर फ़िल्मी गानें सुनने में भी शर्म महसूस होने लगी है। मुझे याद है "चोली के पीछे क्या है" और "कभी मेरे साथ कोई रात गुज़ार" गीतों के आने पर भी कुछ लोगों ने इसके ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई गई थी, पर सेन्सर बोर्ड के कानों में जूं तक नहीं रेंगी। ख़ैर, अब चलते हैं पुराने ज़माने में। ५० के दशक में गीता दत्त के गाए फ़िल्म 'आर-पार' के गीत "जाता कहाँ है दीवाने सबकुछ यहाँ है सनम, कुछ तेरे दिल में फ़ीफ़ी, कुछ तेरे दिल में फ़ीफ़ी" को फ़िल्म से हटवा दिया गया था, ऐसा कहा जाता है कि सेन्सर बोर्ड को "फ़ीफ़ी" शब्द से आपत्ति थी क्योंकि इसका अर्थ स्पष्ट नहीं था। इसी से अनुमान लगाया जा सकता है कि हम कहाँ से आज कहाँ आ पहुँचे हैं।

राज कपूर - नूतन अभिनीत फ़िल्म 'छलिया' १९६० की सुभाष देसाई निर्मित व मनमोहन देसाई निर्देशित फ़िल्म थी। इस फ़िल्म का शीर्षक गीत "छलिया मेरा नाम, छलिया मेरा नाम, हिन्दू मुसलिम सिख इसाई सबको मेरा सलाम" फ़िल्म-संगीत का एक सदाबहार नग़मा रहा है। कल्याणजी-आनन्दजी द्वारा स्वरबद्ध एवं क़मर जलालाबादी का लिखा यह गीत वास्तव में ऐसा नहीं लिखा गया था। इस गीत का मूल मुखड़ा था "छलिया मेरा नाम, छलना मेरा काम, हिन्दू मुसलिम सिख इसाई सबको मेरा सलाम"। अब सेन्सर बोर्ड को "छलना मेरा काम" में आपत्ति थी। बोर्ड के अनुसार यह ग़लत संदेश था समाज के लिए, युवा-पीढ़ी के लिए, और वह भी फ़िल्म के नायक की ज़ुबां से। इसलिए "छलना मेरा काम" की जगह "छलिया मेरा नाम" की पुनरोक्ति कर दी गई। यही नहीं गीत के अंतरों में भी फेर बदल किया गया है। सच तो यह है कि इस गीत के कुल तीन वर्ज़न बने थे। जो वर्ज़न ग्रामोफ़ोन रेकॉर्ड पर जारी हुआ और जो हमें सुनाई देता है, उसके बोल ये रहे:

छलिया मेरा नाम, छलिया मेरा नाम - २
हिंदू मुसलिम सिख इसाई सबको मेरा सलाम
छलिया मेरा नाम...

देखो लोगों ज़रा तो सोचो बनी कहानी कैसे?
कहीं पे ख़ुशियाँ कहीं पे ग़म है, क्यूं होता है ऐसे-२
वाह रे तेरे काम, कहीं सुबह से शाम
हिंदू मुसलिम....

रोक रहे हैं राहें मेरी नैना तीखे-तीखे,
हम तो ख़ाली बात के रसिया इश्क़ नहीं हम सीखे
जहाँ भी देखा काम, करता वहीं सलाम
हिंदू मुसलिम...

मैं हूँ ग़रीबों का शहज़ादा जो माँगू वो दे दूँ
शहज़ादे तलवार से खेलें मैं अश्क़ों से खेलूँ
मेहनत मेरा काम, देना उसका काम
हिंदू मुसलिम...


पंकज मुकेश के सौजन्य से इस गीत के मूल संस्करण का पता चल पाया है। ये रहा वह संस्करण...


छलिया मेरा नाम, छलना मेरा काम - २
हिंदू मुसलिम सिख इसाई सबको मेरा सलाम
छलिया मेरा नाम...

देखो लोगों ज़रा तो सोचो बनी कहानी कैसे?
तुमने मेरी रोटी छीनी, छीनी मैंने पैसे
सीखा तुम से काम, हुआ मैं बदनाम
हिंदू मुसलिम....

रोक रही हैं राहें मेरी नैना तीखे-तीखे
हम तो ख़ाली माल के रसिया इश्क़ नहीं हम सीखे
जहाँ भी देखा दाम, वहीं निकाला काम
हिंदू मुसलिम...

मैं हूँ गलियों का शहज़ादा जो चाहूँ वो ले लूँ
शहज़ादे तलवार से खेलें मैं कैंची से खेलूँ
मेहनत मेरा काम देना उसका काम
हिंदू मुसलिम...


उपर्युक्त संस्करण के पहले अंतरे को हटाकर कर भी गीत का एक और संसकरण कुछ ऐसा बना था...

छलिया मेरा नाम, छलना मेरा काम - २
हिंदू मुसलिम सिख इसाई सबको मेरा सलाम
छलिया मेरा नाम...

रोक रही हैं राहें मेरी नैना तीखे-तीखे
हम तो ख़ाली माल के रसिया इश्क़ नहीं हम सीखे
जहाँ भी देखा दाम, वहीं निकाला काम
हिंदू मुसलिम...

मैं हूँ गलियों का शहज़ादा जो चाहूँ वो ले लूँ
शहज़ादे तलवार से खेलें मैं कैंची से खेलूँ
मेहनत मेरा काम देना उसका काम
हिंदू मुसलिम...


इस तरह से हम देखते हैं जहाँ-जहाँ असामाजिक व अनैतिक कार्यों की बात की गई थी, उन्हें बदल दिया गया और जो गीत बाहर आया वह एक निहायती ख़ूबसूरत संस्करण था। इसके लिए पूरा श्रेय जाता है क़मर जलालाबादी साहब को। अब 'छलिया' से जुड़ी कुछ और रोचक बातें। राज कपूर अभिनीत फ़िल्मों में अधिकतर शंकर-जयकिशन का संगीत हुआ करता था। इस फ़िल्म के संगीतकार कल्याणजी-आननदजी ज़रूर थे पर गीतों के कम्पोज़िशन में शंकर-जयकिशन का स्टाइल साफ़ झलकता है। संगीतकार का चुनाव निर्माता-निर्देशक की पसन्द थी। विविध भारती के 'जयमाला' में कमर जलालाबादी ने व्यंग करते हुए कहा था, "डिरेक्टर मनमोहन देसाई की पहली फ़िल्म 'छलिया' अपने भाई सुभाष देसाई के लिए डिरेक्ट किया। सुभाष देसाई ने संगीतकार के लिए कल्याणजी-आनन्दजी का नाम चुना। सुभाष देसाई का नाम सुनते ही कल्याणजी भाग खड़े हुए। सुभाष देसाई ने उनका पीछा नहीं छोड़ा, उन्हें पकड़ कर उन्हें संगीतकार बनाकर ही दम लिया।" क़मर साहब ने यह क्यों कहा कि सुभाष देसाई का नाम सुनते ही कल्याणजी भाई भाग खड़े हुए, यह तो पता नहीं चल पाया, पर यह बात ज़रूर है कि देसाई भाइयों का गीतों पर दखलंदाज़ी रहती थी। फ़िल्म 'छलिया' में राज कपूर पर फ़िल्माये सभी गीत मुकेश के गाए हुए थे सिवाय एक गीत "गली गली सीता रोये आज मेरे देस में" के जिसे रफ़ी साहब से गवाया गया था। जब पंकज मुकेश ने आनन्दजी से यह पूछा कि क्या कारण था कि राज कपूर पर फ़िल्माये गए इस गीत को मुकेश से नहीं गवाया गया, तो आनन्दजी बोले कि कई बार प्रोड्युसर-डिरेक्टर की माँग को भी पूरा करना पड़ता है। और यह तो हम सभी जानते हैं कि मनमोहन देसाई रफ़ी साहब के बहुत बड़े फ़ैन थे। इस तरह से यह एक गीत रफ़ी साहब से न केवल गवाया गया बल्कि फ़िल्म के अन्त में साधारणत: फ़िल्म के शीर्षक गीत को बजाया जाता है जबकि इस फ़िल्म में रफ़ी साहब के गाए इस गीत को बजाया गया।

ख़ैर, आज का मुद्दा था फ़िल्मी गीतों के सेन्सरशिप का। 'छलिया' १९६० की बात थी, पर ७० के दशक के आते-आते सेन्सर बोर्ड ने सख़्ती कुछ कम कर दी। इसका उदाहरण है १९७५ की फ़िल्म 'चोरी मेरा काम' का शीर्षक गीत "कौन यहाँ पर चोर नहीं है सबका है यही काम, वो करते हैं चोरी चोरी, करूँ मैं खुल्ले आम, चोरी मेरा काम यारों"। रोचक बात यह है कि इस गीत के संगीतकार एक बार फिर कल्याणजी-आनन्दजी हैं। १९७२ की फ़िल्म 'बेइमान' के शीर्षक गीत में भी बेइमान की जयजयकार होती सुनाई दी है, और इसमें मुकेश की आवाज़ थी। और मज़ेदार बात इस फ़िल्म के लिए शंकर-जयकिशन को सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार भी दिया गया था। तो बात बस इतनी है कि समाज के बदलने के साथ-साथ, सामाजिक मूल्यों के बदलने के साथ-साथ, फ़िल्म सेन्सरशिप में भी बदलाव आए हैं, लेकिन जैसा शुरू में मैंने कहा था, उसी बात पे ज़ोर दे रहा हूँ कि कल कहीं ऐसा न हो कि फ़िल्मी गीत सुनने के लिए भी बड़े-बुज़ुर्गों से दूर अन्य अलग कमरे में जा कर बैठना पड़े।

"छलिया मेरा नाम" सुनने के लिए नीचे प्लेयर पर क्लिक करें।



तो दोस्तों, यह था आज का 'एक गीत सौ कहानियाँ'। कैसा लगा ज़रूर बताइएगा टिप्पणी में या आप मुझ तक पहुँच सकते हैं cine.paheli@yahoo.com के पते पर भी। इस स्तंभ के लिए अपनी राय, सुझाव, शिकायतें और फ़रमाइशें इसी ईमेल आइडी पर ज़रूर लिख भेजें। आज बस इतना ही, अगले बुधवार फिर किसी गीत से जुड़ी बातें लेकर मैं फिर हाज़िर हो‍ऊंगा, तब तक के लिए अपने इस ई-दोस्त सुजॉय चटर्जी को इजाज़त दीजिए, नमस्कार!


Tuesday, June 7, 2011

तारों की नगरी से चंदा ने एक दिन....आज सुर्रैया सुना ही है एक दर्द भरी कहानी

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 673/2011/113

'एक था गुल और एक थी बुलबुल' - कहानी भरे गीतों की इस लघु शृंखला की तीसरी कड़ी में आप सभी का हार्दिक स्वागत है। कुंदनलाल सहगल और शांता आप्टे के बाद आज कहानी सुनाने की बारी है सुरैया की। ३० के दशक से एक छलांग मार कर आज हम पहुँच गये हैं ५० के दशक में। साल १९५४ में एक फ़िल्म आयी थी 'वारिस', जिसका "राही मतवाले" गीत आप सब को याद ही होगा। इसी फ़िल्म में सुरैया की एकल आवाज़ में एक गीत है "तारों की नगरी से चंदा ने एक दिन धरती पे आने की ठानी"। कहिये प्लॉट कैसा है कहानी का? उतावले हो रहे होंगे न आप आगे की कहानी जानने के लिये। बस थोड़ा सा इंतज़ार कीजिये, अभी हम आते हैं कहानी पर, लेकिन उससे पहले इस गीत से जुड़ी कुछ बातें कहना चाहेंगे। "राही मतवाले" गीत इतना ज़्यादा लोकप्रिय हुआ था कि इस फ़िल्म के दूसरे गीतों की तरफ़ लोगों का ध्यान ज़रा कम ही गया है। आज का प्रस्तुत गीत तो बहुत लोगों नें सुना भी नहीं होगा। सुरैया पर ही फ़िल्माये गये इस गीत में पर्दे पर उसे और उसके बेटे को दिखाया जाता है। फ़िल्म की कहानी कुछ इस तरह की है कि एक रेल दुर्घटना में सुरैया अपने पति से बिछड़ जाती हैं। उस वक़्त वो गर्भवती थीं। बच्चे के जन्म के बाद वो अपने बच्चे को पालती-पोसती है, और इस तरह से कहानी में एक सिचुएशन रखा जाता है कि वो अपने बच्चे को सुलाने के लिये लोरी गा रही है, जिसके ज़रिये वो अपनी ही दुखभरी दास्तान कहती है।

क़मर जलालाबादी के लिखे इस गीत को चाहे आप लोरी कह लीजिये या कोई कहानी, बेहद ख़ूबसूरत गीत है। सुरैया इस गीत में अपने बच्चे को सुलाने के लिये लोरी गाती है, लेकिन गीत ख़त्म होते होते वह अपनी ही जीवन की दर्दीली कहानी सुना चुकी होती है। मानवीकरण अलंकार का सुंदर प्रयोग हुआ है, अपने पति के लिये "चांद" का इस्तमाल करती हैं। और अनिल बिस्वास नें भी अपने दूसरे सभी गीतों की तरह ही क्या मधुर संगीत दिया है इस गीत में भी। हमें पूरी उम्मीद है कि आप में से जिन श्रोताओं नें इस गीत को पहले नहीं सुना है, उनको आज पहली बार यह गीत सुनकर उतना ही आनंद आयेगा। गीत सुनने से पहले यह रही कहानी इस गीत की।

तारों की नगरी से चंदा ने एक दिन,
धरती पे आने की ठानी,
सुन मेरे मुन्ना कहानी।

चंदा नें पहने शबनम के गहने,
लहरों पे आयी रवानी।
कब से खड़ी थी व्याकुल चकोरी,
नैना बिछाये हुए!
धरती पे उतरा राजा गगन का,
चुपके से किरणों के रथ में।
आये पिया प्यारे, प्यासे के द्वारे,
फिर भी चकोरी ना जाने।
कहती थी दुनिया हो न सकेगा चंदा चकोरी का मेल,
पल भर में देखो रूठेगी निंदिया टूटेगा सपनों का खेल।
इतने में चंदा बढ़ कर यूं बोला,
मैं राजा तू मेरी रानी।
लेकिन ये दुनिया प्रेमी की बैरन हाये लगा दी नज़रिया,
आये थे जैसे वैसे ही एक दिन सजनी से बिछड़े सांवरिया।
अब तक खड़ी है पथ पर चकोरी, लेकर पिया की निशानी,
जब तक न वापस आयेगा चंदा, पूरी न होगी कहानी।




क्या आप जानते हैं...
कि अनिल बिस्वास स्वरबद्ध फ़िल्म 'राही' की मीना कपूर की गायी लोरी "चांद सो गया तारे सो गये" मेघालय राज्य के खासी जनजाती की एक लोकधुन पर आधारित है।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 4/शृंखला 18
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - बेहद आसान.
सवाल १ - किस सरोद वादक ने इस गीत में अपना योगदान दिया है - ३ अंक
सवाल २ - किस राग पर आधारित है ये गीत - २ अंक
सवाल ३ - गीतकार बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
प्रतीक जी बढ़िया खेल रहे हैं, अविनाश जी बीच बीच में चूक जाते हैं. अमित जी हमें थोडा समय दीजिए पिछली पहेली के संशय को दूर करने का

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Tuesday, December 21, 2010

भुला नहीं देना जी भुला नहीं देना, जमाना खराब है दगा नहीं देना....कुछ यही कहना है हमें भी

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 553/2010/253

३० और ४० के दशकों से एक एक मशहूर युगल गीत सुनने के बाद 'एक मैं और एक तू' शुंखला में आज हम क़दम रख रहे हैं ५० के दशक में। इस दशक में युगल गीतों की संख्या इतनी ज़्यादा बढ़ गई कि एक से बढ़कर एक युगल गीत बनें और अगले दशकों में भी यही ट्रेण्ड जारी रहा। अनिल बिस्वास, नौशाद, सी. रामचन्द्र, सचिन देव बर्मन, शंकर जयकिशन, रोशन, ओ. पी. नय्यर, हेमन्त कुमार, सलिल चौधरी जैसे संगीतकारों ने एक से एक नायाब युगल गीत हमें दिए। अब आप ही बतायें कि इस दशक का प्रतिनिधित्व करने के लिए हम इनमें से किस संगीतकार को चुनें। भई हमें तो समझ नहीं आ रहा। इसलिए हमने सोचा कि क्यों ना किसी कमचर्चित संगीतकार की बेहद चर्चित रचना को ही बनाया जाये ५० के दशक का प्रतिनिधि गीत! क्या ख़याल है? तो साहब आख़िरकार हमने चुना लता मंगेशकर और मोहम्मद रफ़ी का गाया फ़िल्म 'बारादरी' का एक बड़ा ही ख़ूबसूरत युगलगीत "भुला नहीं देना जी भुला नहीं देना, ज़माना ख़राब है दग़ा नहीं देना जी दग़ा नहीं देना"। संगीतकार हैं नौशाद नहीं, नाशाद। नाशाद का असली नाम था शौक़त अली। उनका जन्म १९२३ को दिल्ली में हुआ था। बहुत छोटे उम्र से वो अच्छी बांसुरी बजा लेते थे और समय के साथ साथ उस पर महारथ भी हासिल कर ली। संगीत के प्रति उनका लगाव उन्हें बम्बई खींच लाया, जहाँ पर उन्हें उस समय के मशहूर संगीतकार मास्टर ग़ुलाम हैदर और नौशाद अली के साथ बतौर साज़िंदा काम करने का मौका मिला। नाशाद के बारे में एक दिलचस्प बात यह है कि इस नाम को धारण करने से पहले उन्होंने कई अलग अलग नामों से फ़िल्मों में संगीत दिया है। और ऐसा उन्होंने १९४७ से ४९ के बीच किया था। 'दिलदार', 'पायल' और 'सुहागी' फ़िल्मों में उन्होंने शौकत दहल्वी के नाम से संगीत दिया तो 'जीने दो' में शौकत हुसैन के नाम से, 'टूटे तारे' में शौकत अली के नाम से तो 'आइए' में शौकत हैदरी का नाम पर्दे पर आया। और 'दादा' फ़िल्म में उनका नाम आया शौकत हुसैन हैदरी। इन फ़िल्मों के एक आध गानें चले भी होंगे, लेकिन उनकी तरफ़ किसी का ध्यान नहीं गया। आख़िरकार १९५३ में निर्देशक और गीतकार नक्शब जराचवी ने उनका नाम बदलकर नाशाद कर दिया, और यह नाम आख़िर तक उनके साथ बना रहा। नक्शब ने अपनी १९५३ की फ़िल्म 'नग़मा' के लिए नाशाद को संगीतकार चुना, जिसमें अशोक कुमार और नादिरा ने अभिनय किया था।

नाशाद के नाम से उन्हें पहली ज़बरदस्त कामयाबी मिली सन् १९५५ में जब उनके रचे गीत के. अमरनाथ की फ़िल्म 'बारादरी' में गूंजे और सर्वसाधारण से लेकर संगीत में रुचि रखने वाले रसिकों तक को बहुत लुभाये। ख़ास कर आज के प्रस्तुत गीत ने तो कमाल ही कर दिया था। अजीत और गीता बाली पर फ़िल्माया यह गीत १९५५ के सबसे लोकप्रिय युगल गीतों में शामिल हुआ। ख़ुमार बाराबंकवी ने 'बारादरी' के गानें लिखे थे। इसी फ़िल्म में लता-रफ़ी का एक और युगल गीत "मोहब्बत की बस इतनी दास्तान है, बहारें चार दिन की फिर ख़िज़ाँ है" को भी लोगों ने पसंद किया। तलत महमूद की आवाज़ में "तसवीर बनाता हूँ तसवीर नहीं बनती" को भी ज़बरदस्त लोकप्रियता हासिल हुई और आज भी तलत साहब के सब से लोकप्रिय गीतों में शुमार होता है। आगे चलकर यह गीत भी ज़रूर शामिल होगा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर। ख़ुमार साहब ने हो सकता है कि बहुत ज़्यादा फ़िल्मी गानें नहीं लिखे हों, लेकिन जितने भी लिखे बहुत ही सुंदर और अर्थपूर्ण लिखे। नाशाद और ख़ुमार का इसी साल १९५५ में एक बार फिर से साथ हुआ था फ़िल्म 'जवाब' में, जिसमें भी तलत साहब के गाये लोरी "सो जा तू मेरे राजदुलारे सो जा, चमके तेरी क़िस्मत के सितारे राजदुलारे सो जा" को लोगों ने पसंद किया। वापस आते हैं आज के गीत पर। मैंडोलीन का बड़ा ही ख़ूबसूरत और असरदार प्रयोग इस गीत में नाशाद ने किया है और बंदिश भी कितनी प्यारी है। तो आइए अब मैं आपके और इस सुमधुर गीत के बीच में से हट जाता हूँ, कल फिर मुलाक़ात होगी ६० के दशक में। नमस्कार!



क्या आप जानते हैं...
कि नाशाद १९६६ में पाक़िस्तान स्थानांतरित हो गये थे और वहाँ जाकर 'सालगिरह', 'ज़ीनत', 'नया रास्ता', 'रिश्ता है प्यार का', 'फिर सुबह होगी' जैसी कुछ पाक़िस्तानी फ़िल्मों में संगीत दिया था।

दोस्तों अब पहेली है आपके संगीत ज्ञान की कड़ी परीक्षा, आपने करना ये है कि नीचे दी गयी धुन को सुनना है और अंदाज़ा लगाना है उस अगले गीत का. गीत पहचान लेंगें तो आपके लिए नीचे दिए सवाल भी कुछ मुश्किल नहीं रहेंगें. नियम वही हैं कि एक आई डी से आप केवल एक प्रश्न का ही जवाब दे पायेंगें. हर १० अंकों की शृंखला का एक विजेता होगा, और जो १००० वें एपिसोड तक सबसे अधिक श्रृंखलाओं में विजय हासिल करेगा वो ही अंतिम महा विजेता माना जायेगा. और हाँ इस बार इस महाविजेता का पुरस्कार नकद राशि में होगा ....कितने ?....इसे रहस्य रहने दीजिए अभी के लिए :)

पहेली 4/शृंखला 06
गीत का ये हिस्सा सुनें-


अतिरिक्त सूत्र - किसी अन्य सूत्र की दरकार नहीं.

सवाल १ - आवाजें बताएं - १ अंक
सवाल २ - गीतकार कौन हैं - २ अंक
सवाल ३ - फिल्म का नाम बताएं - १ अंक

पिछली पहेली का परिणाम -
इंदु जी आप बिल्कुल सही हैं, शरद जी और श्याम जी का मुकाबला दिलचस्प है

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


इन्टरनेट पर अब तक की सबसे लंबी और सबसे सफल ये शृंखला पार कर चुकी है ५०० एपिसोडों लंबा सफर. इस सफर के कुछ यादगार पड़ावों को जानिये इस फ्लेशबैक एपिसोड में. हम ओल्ड इस गोल्ड के इस अनुभव को प्रिंट और ऑडियो फॉर्मेट में बदलकर अधिक से अधिक श्रोताओं तक पहुंचाना चाहते हैं. इस अभियान में आप रचनात्मक और आर्थिक सहयोग देकर हमारी मदद कर सकते हैं. पुराने, सुमधुर, गोल्ड गीतों के वो साथी जो इस मुहीम में हमारा साथ देना चाहें हमें oig@hindyugm.com पर संपर्क कर सकते हैं या कॉल करें 09871123997 (सजीव सारथी) या 09878034427 (सुजॉय चटर्जी) को

Wednesday, September 15, 2010

न जाना न जाना मेरे बाबू दफ़्तर न जाना....सुनिए लता का शरारती अंदाज़ इस दुर्लभ गीत में

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 484/2010/184

'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर इन दिनों आप सुन रहे हैं श्री अजय देशपाण्डेय जी के चुने हुए लता मंगेशकर के कुछ बेहद दुर्लभ गीतों पर केन्द्रित लघु शृंखला 'लता के दुर्लभ दस'। ये वो गानें हैं दोस्तों जिन्हें लता जी ने अपने पार्श्वगायन करीयर के शुरुआती सालों में गाया था। अभी तक हमने इस शृंखला में 'हीर रांझा' ('४८), 'मेरी कहानी' ('४८) और 'गर्ल्स स्कूल' ('४९) फ़िल्मों के गानें सुनें। आज हम क़दम रख रहे हैं साल १९५० में। आपको यह बता दें कि अगले पाँच अंकों तक हमारे क़दम जमे रहेंगे इसी साल १९५० में और एक के बाद एक हम सुनेंगे कुल पाँच दुर्लभ गीत जिन्हें लता जी ने अपनी कमसिन आवाज़ से सजाया था इस साल। आज के गीत में लता जी के जिस अंदाज़ का मज़ा आप लेंगे, वह है छेड़-छाड़ वाला अंदाज़। फ़िल्म 'छोटी भाभी' का यह गीत है "न जाना न जाना मेरे बाबू दफ़्तर न जाना"। फ़िल्मकार के बैनर तले निर्मित इस फ़िल्म के निर्देशक थे शांति कुमार। फ़िल्म में अभिनय किया करण दीवान, नरगिस, श्याम, कुलदीप कौर, गुलाब, श्यामा, सुरैया, याकूब और बेबी तबस्सुम ने। आपको याद दिलाना चाहेंगे कि इसके पिछले साल, १९४९ की मशहूर फ़िल्म 'लाहौर' में भी करण दीवान और नरगिस साथ में नज़र आए थे और जिस फ़िल्म में लता जी के गाए गानें काफ़ी मक़बूल हुए थे। कल पूछे गए पहेली के पहले प्रश्न में इसी फ़िल्म का उल्लेख था। ख़ैर, वापस आते हैं 'छोटी भाभी' पर। इस फ़िल्म में संगीत दिया था पंडित हुस्नलाल-भगतराम ने और गीत लिखे क़मर जलालाबादी नें। क़मर साहब और हुस्नलाल-भगतराम का उस दौर में अच्छी ट्युनिंग् जमी थी। 'प्यार की जीत' और 'बड़ी बहन' की कामयाबी के अलावा भी बहुत सारी फ़िल्मों में इन्होंने एक साथ काम किया था। साल १९५० में इस तिकड़ी ने 'मीना बज़ार', 'छोटी भाभी' और 'गौना' जैसी फ़िल्मों में गीत संगीत का पक्ष संभाला था।

दोस्तों, जब बात क़मर जलालाबादी और हुस्नलाल भगतराम की चल ही पड़ी है आज, तो क्यों ना अमीन सायानी को दिए क़मर साहब के उस इंटरव्यु पर झाँक कर देखें जिसमें क़मर साहब ने इस संगीतकार जोड़ी के बारे में अनमोल जानकारी दी थी।

अमीन सायानी: अच्छा क़मर भाई, अब हुस्नलाल-भगतराम के बारे में कुछ बताएँ।

क़मर जलालाबादी: पंडित हुस्नलाल भगतराम के साथ मैंने बहुत सी फ़िल्मों के गानें लिखे, जैसे 'चाँद', 'प्यार की जीत', 'बड़ी बहन', 'आदिल-ए-जहाँगिर', बहुत सी फ़िल्मों के गानें लिखे। इनको क्या आदत थी, दोनों भाइयों को, ये जब म्युज़िक पर बैठते थे तो पहले तो ख़ुद दो तीन लतीफ़े सुनाते थे, और ज़ोर ज़ोर से हँसते थे, दोनों। उसके बाद म्युज़िशियन्स से और शायर से दो तीन लतीफ़े सुनते थे, और ख़ूब ज़ोर ज़ोर से हँसते थे, दूर दूर तक उनके कहकहों की आवाज़ जाती थी। और उसके बाद कहते थे 'हाँ जी, बताइए क्या गाना लिखा है!'।

अमीन सायानी: अरे वाह!

क़मर जलालाबादी: ज़ाहिर है उस मूड में बड़े अच्छे गानें बन जाते थे।

अमीन सायानी: और क़मर भाई, जिन चार फ़िल्मों के नाम आपने लिए, उनमें तीन फ़िल्मों के गानें तो बेहद मक़बूल हुए, फ़िल्म 'चाँद' का मशहूर गाना "दो दिलों को ये दुनिया मिलने ही नहीं देती", और 'प्यार की जीत' का वह गीत "एक दिल के टूकड़े हज़ार हुए", जो कि मेरे ख़याल से मोहम्मद रफ़ी साहब के पहले पहले हिट गीतों में से एक था। अच्छा क़मर भाई, हुस्नलाल भगतराम दोनों भाई थे, बड़े ही ग़ज़ब के संगीतकार, लेकिन उनके बड़े भाई पंडित अमरनाथ भी बड़े महान संगीतकार रहे हैं, बड़ी प्यारी प्यारी तर्ज़ें उन्होंने दी। क्या आप ने अमरनाथ जी के लिए भी कोई गाना लिखा था?

क़मर जलालाबादी: जी हाँ, फ़िल्म 'मिर्ज़ा साहेबाँ' में मैंने गानें लिखे थे, नूरजहाँ ने गाए थे, जैसे "आजा अफ़साना जुदाई का सुनाएँ" वगेरह।

तो दोस्तों, लीजिए सुनिए क़मर जलालाबादी और हुस्नलाल भगतराम की तिकड़ी का यह भूला बिसरा हास्य रस और शरारती अंदाज़ वाला गाना लता जी की चंचल शोख़ आवाज़ में। अगर आप ने इस गीत को इससे पहले कभी सुना हो तो टिप्पणी या हमारे ईमेल पते पर ज़रूर लिखिएगा। नमस्कार!



क्या आप जानते हैं...
कि पंडित हुस्नलाल वायलिन के उस्ताद थे और उन्होंने यह फ़न पटियाला के उस्ताद बशीर ख़ाँ से सीखा था।

विशेष सूचना:

लता जी के जनमदिन के उपलक्ष्य पर इस शृंखला के अलावा २५ सितंबर शनिवार को 'ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ानें' में होगा लता मंगेशकर विशेष। इस लता विशेषांक में आप लता जी को दे सकते हैं जनमदिन की शुभकामनाएँ बस एक ईमेल के बहाने। लता जी के प्रति अपने उदगार, या उनके गाए आपके पसंदीदा १० गीत, या फिर उनके गाए किसी गीत से जुड़ी आपकी कोई ख़ास याद, या उनके लिए आपकी शुभकामनाएँ, इनमें से जो भी आप चाहें एक ईमेल में लिख कर हमें २० सितंबर से पहले oig@hindyugm.com के पते पर भेज दें। हमें आपके ईमेल का इंतज़ार रहेगा।


अजय देशपांडे जी ने लता जी के दुर्लभ गीतों को संगृहीत करने के उद्देश्य से एक वेब साईट का निर्माण किया है, जरूर देखिये यहाँ.

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. कल जो गीत बजेगा वह उस फ़िल्म का है जिस शीर्षक से 'एच.एम.वी सा रे गा मा' पुराने गानों की सीरीज़ निकालती रहती है। फ़िल्म का नाम बताएँ। १ अंक।
२. इस फ़िल्म के गीतकार वो हैं जिन्होंने १९४४ के उस ब्लॊकबस्टर फ़िल्म के भी गानें लिखे थे जिसका शीर्षक प्रस्तुत गीत के फ़िल्म के शीर्षक का दूसरा शब्द है। गीतकार बताएँ। ३ अंक।
३. संगीतकार वो हैं इस गीत के जिन्होंने १९४९ में लता और दो अन्य गायकों से अपने करीयर का सब से लोकप्रिय गीत गवाया था। संगीतकार बताएँ। ४ अंक।
४. गीत के मुखड़े में चाँद तारों का ज़िक्र है। पूरा मुखड़ा बताएँ। २ अंक।

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह क्या बात है, पवन जी को बहुत बधाई कई गलत जवाबों के बाद हमें सही जवाब मिला, और प्रतिभा जी भी एकदम सही रहीं...जी हाँ शरद जी, अवध जी अब लक्ष्य के बेहद करीब है, एक और सही जवाब देकर

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Wednesday, May 26, 2010

फिल्म में गीत लिखना एक अलग ही किस्म की चुनौती है जिसे बेहद सफलता पूर्वक निभाया बीते दौर के गीतकारों ने

ओल्ड इस गोल्ड /रिवाइवल # ३६

१९५५ में निर्माता निर्देशक ए. आर. कारदार ने किशोर कुमार और चांद उसमानी को लेकर बनायी फ़िल्म 'बाप रे बाप'। १९५२ तक नौशाद साहब ही कारदार साहब की फ़िल्मों में संगीत दे रहे थे। उसके बाद ग़ुलाम मोहम्मद, मदन मोहन और रोशन जैसे संगीतकार उनके साथ जुड़े। और 'बाप रे बाप' के लिए कारदार साहब ने चुना ओ.पी. नय्यर साहब को। और गीतकार चुना गया जाँनिसार अख़्तर को। जाँनिसार अख़्तर, जो जावेद अख़्तर साहब के पिता हैं, उन्होने नय्यर साहब के साथ कई फ़िल्मों में काम किया। जाँनिसार साहब ने भले ही बहुत सारी फ़िल्मों के लिए गानें लिखे, लेकिन उन्हे दूसरे गीतकारों की तुलना में कुछ कम ही याद किया जाता है। जाने क्यों! दोस्तों, अभी हाल में आइ.बी.एन-७ चैनल पर लता जी का एक इंटरव्यू लिया गया था और जावेद अख़्तर साहब उसमें लता जी से बातचीत कर रहे थे। तो जब जावेद साहब ने लता जी से पूछा कि कोई एक ऐसा गाना वो बताएँ जो सब से ज़्यादा उन्हे पसंद रहा है, तो पहले तो लता जी हिचकिचाई यह कहते हुए कि किसी एक गीत को चुनना नामुमकिन है। फिर भी जावेद साहब के ज़िद करने पर उन्होने युंही कह दिया कि फ़िल्म 'रज़िया सुल्तान' का गीत "ऐ दिल-ए-नादान" उन्हे बहुत पसंद है। लता जी उस वक़्त यह भूल गईं थीं कि इस गीत के गीतकार जाँनिसार अख़्तर हैं। लेकिन जब जावेद साहब ने कहा कि 'लता जी, मैंने आपको अपने पसंद का एक गीत चुनने को कहा, तो मैं बड़े फ़क्र के साथ यह कहता हूँ कि यह गीत मेरे वालिद साहब ने लिखा था'। यह सुनते ही लता जी चौंक उठीं और तालियों की गड़गड़ाहट से स्टुडियो गूंज उठा। दोस्तों, जाँनिसार साहब के स्तर का अहसास बस यही घटना करा देती है कि लता जी ने अपनी पसंद का केवल एक गीत चुना और वह उनका लिखा हुअ था। ख़ैर, अब हम आते हैं 'बाप रे बाप' पर। यह एक रोमांटिक कॊमेडी फ़िल्म थी। फ़िल्म में तमाम हास्य रस के गानें थे, लेकिन जो गीत सब से ज़्यादा लोकप्रिय हुआ, वह था "पिया पिया पिया मेरा जिया पुकारे, हम भी चलेंगे स‍इंया संग तुम्हारे"। इस गीत की लोकप्रियता इसकी गायकी, बोल, धुन और रीदम की वजह से तो है ही, लेकिन उससे भी ज़्यादा यह गीत इसलिए यादगार बन गया क्योंकि इस गीत में आशा जी से एक भूल हुई है। जी हाँ, एक ऐसी भूल जिसे सुधारा नहीं गया, बल्कि उस भूल को बड़ी ही चतुराई के साथ फ़िल्माया गया। लीजिए अपनी इस भूल के बारे में आशा जे से ही जानिए। "मैं किशोर दा के साथ एक गीत गा रही थी। ये वह गीत था "पिया पिया पिया"। रिहर्सल ख़त्म होने के बाद फ़ाइनल रोकोर्डिंग शुरू हुई। और मैंने ग़लती से किशोर दा के लाइन के उपर गा उठी। मैं बस 'हं' ऐसे गा उठी और तुरंत अपनी ग़लती का अहसास हो गया। किशोर मेरी तरफ़ देख कर अपने हाथ से मुझे इशारा किया कि मैं गाना जारी रखूँ। जैसे ही रिकार्डिंग् ख़त्म हुई, मैं नय्यर साहब से माफ़ी मांगी और गाना दोबारा रिकार्ड करने का अनुरोध भी किया क्योंकि वह एक बहुत बड़ी ग़लती मुझसे हो गई थी। मैं बीच में ही ग़लत जगह पर गाना शुरु कर दिया था। लेकिन किशोर दा ने मुझे आश्वस्त किया और कहा कि 'आप थोड़ा भी परेशान ना हों, मैं हूँ ना उस फ़िल्म में हीरो, मैं उस सीन में हीरोइन के मुंह पे हाथ रख दूँगा जब वो उस जगह पे गाने लगेगी।" और वाक़ई इसी तरह से इस गीत का फ़िल्मांकन हुआ। दोस्तों, आप में से बहुतों को यह मालूम होगा। जिन्हे पता नहीं था, वो अब बेक़रार हो रहे होंगे आशा जी की इस ग़लती को ढूंढ निकालने का। तो उन सब के लिए हम यह बता दें कि इसे आप गीत के दूसरे अंतरे में महसूस कर सकते हैं। और रही बात इस गीत के प्रस्तुत रिवाइव्ड वर्ज़न की, तो आप ख़ुद ही सुनिए कि क्या इसमें भी वही ग़लती, जो ग़लती हो कर भी फ़िल्मांकन की वजह से ग़लती नहीं रही, दोहराई गई है!

ओल्ड इस गोल्ड एक ऐसी शृंखला जिसने अंतरजाल पर ४०० शानदार एपिसोड पूरे कर एक नया रिकॉर्ड बनाया. हिंदी फिल्मों के ये सदाबहार ओल्ड गोल्ड नगमें जब भी रेडियो/ टेलीविज़न या फिर ओल्ड इस गोल्ड जैसे मंचों से आपके कानों तक पहुँचते हैं तो इनका जादू आपके दिलो जेहन पर चढ कर बोलने लगता है. आपका भी मन कर उठता है न कुछ गुनगुनाने को ?, कुछ लोग बाथरूम तक सीमित रह जाते हैं तो कुछ माईक उठा कर गाने की हिम्मत जुटा लेते हैं, गुजरे दिनों के उन महान फनकारों की कलात्मक ऊर्जा को स्वरांजली दे रहे हैं, आज के युग के कुछ अमेच्युर तो कुछ सधे हुए कलाकार. तो सुनिए आज का कवर संस्करण

गीत -पिया पिया...
कवर गायन -पारसमणी आचार्य और आज़म खान




ये कवर संस्करण आपको कैसा लगा ? अपनी राय टिप्पणियों के माध्यम से हम तक और इस युवा कलाकार तक अवश्य पहुंचाएं


पारसमणी आचार्य
मैं पारसमणी राजकोट गुजरात से हूँ, पापा पुलिस में थे और बहुत से वाध्य बजा लेते थे, उनमें से सितार मेरा पसंदीदा था. माँ भी HMV और AIR के लिए क्षेत्रीय भाषा में पार्श्वगायन करती थी, रेडियो पर मेरा गायन काफी छोटी उम्र से शुरू हो गया था. मैं खुशकिस्मत हूँ कि उस्ताद सुलतान खान साहब, बेगम अख्तर, रफ़ी साहब और पंडित रवि शंकर जी जैसे दिग्गजों को मैंने करीब से देखा और उनका आशीर्वाद पाया. गायन मेरा शौक तब भी था और अब भी है, रफ़ी साहब, लता मंगेशकर, सहगल साहब, बड़े गुलाम अली खान साहब और आशा भोसले मेरी सबसे पसंदीदा हैं
आज़म खान
रफ़ी साहब, किशोर कुमार, येसुदास, हरिहरन, सुरेश वाडेकर, सोनू निगम और उदित नारायण इनके पसंदीदा गायक हैं. आज़म फर्मवेयर इंजिनियर है अमेरिका में और गायन का विशेष शौक रखते हैं. इन्टरनेट पर बहुत से संगीत मंचों पर इनकी महफिलें सजती रहती हैं


विशेष सूचना -'ओल्ड इज़ गोल्ड' शृंखला के बारे में आप अपने विचार, अपने सुझाव, अपनी फ़रमाइशें, अपनी शिकायतें, टिप्पणी के अलावा 'ओल्ड इज़ गोल्ड' के नए ई-मेल पते oig@hindyugm.com पर ज़रूर लिख भेजें।

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड के ४०० शानदार एपिसोड आप सब के सहयोग और निरंतर मिलती प्रेरणा से संभव हुए. इस लंबे सफर में कुछ साथी व्यस्तता के चलते कभी साथ नहीं चल पाए तो कुछ हमसे जुड़े बहुत आगे चलकर. इन दिनों हम इन्हीं बीते ४०० एपिसोडों के कुछ चर्चित अंश आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं इस रीवायिवल सीरीस में, ताकि आप सब जो किन्हीं कारणों वश इस आयोजन के कुछ अंश मिस कर गए वो इस मिनी केप्सूल में उनका आनंद उठा सकें. नयी कड़ियों के साथ हम जल्द ही वापस लौटेंगें

Tuesday, January 19, 2010

तेरी राहों में खड़े हैं दिल थाम के...गीतकार कमर जलालाबादी को याद कीजिये स्वराजन्ली लता के स्वरों की देकर

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 319/2010/19

जनवरी २००३ को हम से बिछड़ गए थे फ़िल्म जगत के सुप्रसिद्ध गीतकार क़मर जलालाबादी और जैसे हर तरफ़ से उन्ही का लिखा हुआ गीत गूंज उठा कि "फिर तुम्हारी याद आई ऐ सनम, हम ना भूलेंगे तुम्हे अल्लाह क़सम"। आज 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में क़मर साहब को हमारी 'स्वरांजली'। क़मर जलालाबादी की ख़ूबी सिर्फ़ गीत लेखन तक ही सीमीत नहीं रही। वो एक आदरणीय शायर और इंसान थे। फ़िल्म जगत की चकाचौंध में रह कर भी वो एक सच्चे कर्मयोगी का जीवन जीते रहे। १९५० के दशक में कामयाबी की शिखर पर पहुँचने के बाद भी उनकी सादगी पर उसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संजीदगी उनके गीतों से छलक पड़ी। दोस्तो, क़मर साहब के साथ हुस्नलाल भगतराम और ओ. पी. नय्यर की अच्छी ट्युनिंग् जमी थी। बाद मे संगीतकार जोड़ी कल्याणजी आनंदजी के साथ तो एक लम्बी पारी उन्होने खेली और कई महत्वपूर्ण गानें इस जोड़ी के नाम किए। सन् १९६० में जिस फ़िल्म से क़मर साहब और कल्याणजी-आनंदजी की तिकड़ी बनी थी, वह फ़िल्म थी 'छलिया'। इस फ़िल्म के सभी गानें सुपर डुपर हिट हुए। उस समय शंकर जयकिशन और शैलेन्द्र-हसरत राज कपूर की फ़िल्मों का संगीत पक्ष संभालते थे। लेकिन इस फ़िल्म में इस नई तिकड़ी को मौका देना एक नया प्रयोग था जिसे इस तिकड़ी ने बख़ूबी निभाया। 'छलिया' के सफलता के बाद तो इस तिकड़ी ने बहुत सारे फ़िल्मों में एक साथ काम किया, जिनमें से महत्वपूर्ण नाम हैं पासपोर्ट, जोहर महमूद इन गोवा, हिमालय की गोद में, दिल ने पुकारा, उपकार, राज़, सुहाग रात, हसीना मान जाएगी, आंसू और मुस्कान, होली आई रे, घर घर की कहानी, प्रिया, सच्चा झूठा, पारस, जोहर महमूद इन हॊंग्‍कॊंग्, और एक हसीना दो दीवाने। लेकिन आज हमने जो गीत चुना है वह है फ़िल्म 'छलिया' से। लता जी की आवाज़ में एक बड़ा ही प्यारा सा गाना है "तेरी राहों में खड़े हैं दिल थाम के हाये, हम हैं दीवाने तेरे नाम के"। आमतौर पर इस तरह के गानें नायक गाता है नायिका के लिए, लेकिन इस गाने में नायिका ही नायक का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट करने में लगी हुई हैं।

'छलिया' फ़िल्म का निर्माण किया था सुभाष देसाई ने और निर्देशित किया मनमोहन देसाई साहब ने। राज कपूर और नूतन अभिनीत इस फ़िल्म का गीत संगीत पक्ष काफ़ी मज़बूत था। गीतों को उस ज़माने के राज कपूर - शंकर जयकिशन वाले अंदाज़ में बनाया गया था। इस फ़िल्म में लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल कल्याणजी-आनदजी के सहायक थे। फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कारों में उस साल इस फ़िल्म के लिए राज कपूर और नूतन का नाम मनोनीत हुआ था सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और अभिनेत्री के लिए, लेकिन ये पुरस्कार उन्हे नहीं मिले। अमीन सायानी द्वारा प्रस्तुत बिनाका गीतमाला के वार्षिक कार्यक्रम में कुल १५ गीतों में से इसी फ़िल्म के दो गीतों को शामिल किया गया, १३-वीं पायदान पर "डम डम डिगा डिगा" और ९-वीं पायदान पर "छलिया मेरा नाम"। आज जो गीत हम सुनने जा रहे हैं, वह भी उत्कृष्टता में किसी से कम नहीं है। लता जी का शुरुआती आलाप ही हमें एक अलग ही दुनिया में ले जाता है। ऒर्केस्ट्रेशन भी अच्छा है, दूसरे अंतरे के इंटर्ल्युड में सैक्सोफ़ोन का अच्छा इस्तमाल हुआ है। तो दोस्तों, गीत सुनिए, अरे हाँ, मैं तो भूल ही गया, आख़िर क़मर साहब ने भी तो इस गीत का ज़िक्र किया था १९७९ में उनके द्वारा प्रस्तुत 'जयमाला' कार्यक्रम में! "डिरेक्टर मनमोहन देसाई की पहली फ़िल्म 'छलिया' अपने भाई सुभाष देसाई के लिए डिरेक्ट कर रहे थे। सुभाष देसाई ने संगीतकार के लिए कल्याणजी-आनंदजी का नाम चुना। सुभाष देसाई का नाम सुनते ही कल्याणजी भाग खड़े हुए। सुभाष देसाई ने उनका पीछा नहीं छोड़ा, उन्हे पकड़ कर उन्हे फ़िल्म का संगीतकार बनाकर ही दम लिया। लीजिए फ़िल्म 'छलिया' का गीत सुनिए मेरा लिखा हुआ। हाल ही में शायर क़तिल शिफ़ाई ने इस गीत की तारीफ़ की, मैं उनके इस क़द्रदानी का शुक्रगुज़ार हूँ।"



चलिए अब बूझिये ये पहेली, और हमें बताईये कि कौन सा है ओल्ड इस गोल्ड का अगला गीत. हम रोज आपको देंगें ४ पंक्तियाँ और हर पंक्ति में कोई एक शब्द होगा जो होगा आपका सूत्र. यानी कुल चार शब्द आपको मिलेंगें जो अगले गीत के किसी एक अंतरे में इस्तेमाल हुए होंगें, जो शब्द बोल्ड दिख रहे हैं वो आपके सूत्र हैं बाकी शब्द बची हुई पंक्तियों में से चुनकर आपने पहेली सुलझानी है, और बूझना है वो अगला गीत. तो लीजिए ये रही आज की पंक्तियाँ-

पलक झपकने को जी न चाहे,
काश ये पल गुजरे न,
ठहरी है सुबह उफक के मोड़ पर,
सुहाना ये नज़ारा बिखरे न....

अतिरिक्त सूत्र - ९ जनवरी को ही इस मशहूर पार्श्वगायक की जयंती भी है

पिछली पहेली का परिणाम-
रोहित जी, बहुत बधाई बहुत दिनों बाद आपकी आमद हुई....२ अंक संभालिए....

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी
पहेली रचना -सजीव सारथी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Sunday, November 1, 2009

रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत (१९) फिल्म गीतकार शृंखला भाग १

जब फ़िल्मी गीतकारों की बात चलती है तो कुछ गिनती के नाम ही जेहन में आते हैं, पर दोस्तों ऐसे अनेकों गीतकार हैं, जिनके नाम समय के गर्द में कहीं खो से गए हैं, जिनके लिखे गीत तो हम आज भी शौक से सुनते हैं पर उनके नाम से अपरिचित हैं, और इसके विपरीत ऐसा भी है कि कुछ बेहद मशहूर गीतकारों के लिखे बेहद अनमोल से गीत भी उनके अन्य लोकप्रिय गीतों की लोकप्रियता में कहीं गुमसुम से खड़े मिलते हैं, फ़िल्मी दुनिया के गीतकारों पर "रविवार सुबह की कॉफी" में हम आज से एक संक्षिप्त चर्चा शुरू कर रहे हैं, इस शृंखला की परिकल्पना भी खुद हमारे नियमित श्रोता पराग सांकला जी ने की है, तो चलिए पराग जी के संग मिलने चलें सुनहरे दौर के कुछ मशहूर/गुमनाम गीतकारों से और सुनें उनके लिखे कुछ बेहद सुरीले/ सुमधुर गीत. हम आपको याद दिला दें कि पराग जी मरहूम गायिका गीत दत्त जी को समर्पित जालस्थल का संचालन करते हैं.


१) शैलेन्द्र

महान गीतकार शैलेन्द्र जी का असली नाम था "शंकर दास केसरीलाल शैलेन्द्र". उनका जन्म हुआ था सन् १९२३ में रावलपिन्डी (अब पाकिस्तान में). भारतीय रेलवे में वास मुंबई में सन् १९४७ में काम कर रहे थे. उनकी कविता "जलता है पंजाब " लोकप्रिय हुई और उसी दौरान उनकी मुलाक़ात राज कपूर से हुई. उसीके साथ उनका फ़िल्मी सफ़र शुरू हुआ फिल्म बरसात से ! शंकर जयकिशन की जोड़ी के साथ साथ शैलेंद्र ने सचिन देव बर्मन, सलिल चौधरी और कई संगीतकारों के साथ काम किया. उनके राज कपूर के लिए लिखे गए कई गीत लोकप्रिय है, मगर आज हम उनके एक दुर्लभ गीत के बारे में बात करेंगे. लीजिये उन्ही का लिखा हुआ यह अमर गीत जिसे गाया हैं मखमली आवाज़ के जादूगर तलत महमूद ने फिल्म पतिता (१९५३) के लिए. संगीत शंकर जयकिशन का है और गीत फिल्माया गया हैं देव आनंद पर. सुप्रसिद्ध अंगरेजी कवि पी बी शेल्ली ने लिखा था "Our sweetest songs are those that tell of saddest thoughts".शैलेन्द्र ने इसी बात को लेकर यह अजरामर गीत लिखा और जैसे कि पी बी शेल्ली के विचारों को एक नए आसमानी बुलंदी पर लेकर चले गए. गीतकार शैलेन्द्र पर विस्तार से भी पढें यहाँ.



विडियो देखें

२) इन्दीवर

बप्पी लाहिरी के साथ इन्दीवर के गाने सुननेवालों को शायद यह नहीं पता होगा की इन्दीवर (श्यामलाल राय) ने अपना पहला लोकप्रिय गीत (बड़े अरमानों से रखा हैं बलम तेरी कसम) लिखा था सन् १९५१ में फिल्म मल्हार के लिए. कहा जाता है की सन् १९४६ से १९५० तक उन्होंने काफी संघर्ष किया, मगर उसके बारे में कोई ख़ास जानकारी उपलब्ध नहीं है. रोशन के साथ इन्दीवर को जोड़ी बन गयी, मगर दूसरे लोकप्रिय संगीतकारों के साथ उन्हें गीत लिखने के मौके (खासकर पचास के दशक में) ज्यादा नहीं मिले. बाद में कल्यानजी - आनंद जी के साथ इन्दीवर की जोड़ी बन गयी. समय के साथ इन्दीवर ने समझौता कर लिया और फिर...

खैर, आज हम महान गायक मुकेश, संगीतकार रोशन और गीतकार इन्दीवर का एक सुमधुर गीत लेकर आये है जिसे परदे पर अभिनीत किया गया था संजीव कुमार (और साथ में मुकरी और ज़हीदा पर). फिल्म है अनोखी रात जो सन् १९६८ में आयी थी. यह फिल्म रोशन की आखरी फिल्म थी और इस फिल्म के प्रर्दशित होने से पहले ही उनका देहांत हुआ था.

इतना दार्शनिक और गहराई से भरपूर गीत शायद ही सुनने मिलता है.



विडियो देखें

३) असद भोपाली

असद भोपाली (असद खान) ऐसे गीतकार हैं जिन्हें लगभग ४० सालके संघर्ष के बाद बहुत बड़ी सफलता मिली. उनका लिखा हुआ एक साधारण सा गीत "कबूतर जा जा जा " जैसे के देश के हर युवक युवती के लिए प्रेमगीत बन गया. यह गीत था फिल्म मैंने प्यार किया (१९८९) का जिसे संगीतबद्ध किया था राम- लक्ष्मण ने.

असद भोपाली की पहली फिल्मों में से एक थी बहुत बड़े बजट की फिल्म अफसाना (१९५१) जिसमे थे अशोक कुमार, वीणा, जीवन, प्राण, कुलदीप कौर आदि. संगीत था उस ज़माने के लोकप्रिय हुस्नलाल भगतराम का. इसके गीत (और फिल्म भी) लोकप्रिय रहे मगर असद चोटी के संगीतकारोंके गुट में शामिल ना हो सके. सालों साल तक वो एन दत्ता, हंसराज बहल, रवि, सोनिक ओमी, उषा खन्ना, लक्ष्मीकांत प्यारेलाल आदि संगीतकारों के साथ करते रहे मगर वह कामयाबी हासिल न कर सके जो उन्हें फिल्म मैंने प्यार किया से मिली.

लीजिये फिल्म अफसाना (१९५१) का लता मंगेशकर का गाया हुआ यह गीत सुनिए जिसे असद भोपाली ने दिल की गहराईयों से लिखा है



विडियो देखें

४) कमर जलालाबादी

अमृतसर के पास एक छोटा सा गाँव हैं जिसका नाम है जलालाबाद , जहां पर जन्म हुआ था ओमप्रकाश (कमर जलालाबादी) का. महान फिल्मकार दल्सुखलाल पंचोली ने उन्हें पहला मौका दिया था फिल्म ज़मीनदार (१९४२) के लिए. उन्होंने चालीस और पचास के दशक में सदाबहार और सुरीले गीत लिखे. उन्होंने सचिन देव बर्मन के साथ उनकी पहली फिल्म एट डेज़ (१९४६) में भी काम किया. उस ज़माने के लगभग हर संगीतकार के साथ (नौशाद और शंकर जयकिशन के अलावा) उन्होंने गीत लिखे.

उनका लिखा हुआ "खुश हैं ज़माना आज पहली तारीख हैं"(फिल्म पहली तारीख १९५४) का गीत आज भी बिनाका गीतमाला पर महीने की पहली तारीख को बजता है. रिदम किंग ओ पी नय्यर के साथ भी उन्होंने "मेरा नाम चीन चीन चू" जैसे लोकप्रिय गीत लिखे.

लीजिये उनका लिखा हुआ रेलवे की तान पर थिरकता हुआ गीत "राही मतवाले" सुनिए. इसे गाया है तलत महमूद और सुरैय्या ने फिल्म वारिस (१९५४) के लिए. मज़े की बात है कि गीत फिल्माया भी गया था इन्ही दो कलाकारों पर.



विडियो देखें

५) किदार शर्मा

महान फिल्म निर्माता, निर्देशक और गीतकार किदार शर्मा की जीवनी "The one and lonely Kidar Sharma" हाल ही में प्रर्दशित हुई थी. जिस गीतकार ने सैंकडो सुरीले गीत लिखे उन्हें आज ज़माना भूल चूका है. कुंदन लाल सहगल की फिल्म "देवदास " के अजरामर गीत इन्ही के कलम से लिखे गए है. "बालम आये बसों मोरे मन में" और "दुःख के अब दीन बीतत नाही". उनके लिखे हुए लोकप्रिय गीत है इन फिल्मों मे : नील कमल (१९४७), बावरे नैन (१९५०), सुहाग रात (१९४८). फिल्म जोगन (१९५०) का निर्देशन भी किदार शर्मा का है.

आज की तारीख में किदार शर्मा को कोई अगर याद करता हैं तो इस बात के लिए की उन्होंने हिंदी फिल्म जगत को राज कपूर, मधुबाला, गीता बाली जैसे सितारे दिए. मुबारक बेग़म का गाया "कभी तनहाईयों में यूं हामारी याद आयेगी" भी इन्ही किदार शर्मा का लिखा हुआ है. इसे स्वरबद्ध किया स्नेहल भाटकर (बी वासुदेव) ने और फिल्माया गया हैं तनुजा पर. मुबारक बेग़म के अनुसार यह गीत अन्य लोकप्रिय गायिका गानेवाली थी मगर किसी कारणवश वह ना आ सकी और मुबारक बेग़म को इस गीत को गाने का मौका मिला. उन्होंने इस गीत के भावों को अपनी मीठी आवाज़ में पिरोकर इसे एक यादगार गीत बना दिया.



विडियो देखें

प्रस्तुति -पराग सांकला


"रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत" एक शृंखला है कुछ बेहद दुर्लभ गीतों के संकलन की. कुछ ऐसे गीत जो अमूमन कहीं सुनने को नहीं मिलते, या फिर ऐसे गीत जिन्हें पर्याप्त प्रचार नहीं मिल पाया और अच्छे होने के बावजूद एक बड़े श्रोता वर्ग तक वो नहीं पहुँच पाया. ये गीत नए भी हो सकते हैं और पुराने भी. आवाज़ के बहुत से ऐसे नियमित श्रोता हैं जो न सिर्फ संगीत प्रेमी हैं बल्कि उनके पास अपने पसंदीदा संगीत का एक विशाल खजाना भी उपलब्ध है. इस स्तम्भ के माध्यम से हम उनका परिचय आप सब से करवाते रहेंगें. और सुनवाते रहेंगें उनके संकलन के वो अनूठे गीत. यदि आपके पास भी हैं कुछ ऐसे अनमोल गीत और उन्हें आप अपने जैसे अन्य संगीत प्रेमियों के साथ बाँटना चाहते हैं, तो हमें लिखिए. यदि कोई ख़ास गीत ऐसा है जिसे आप ढूंढ रहे हैं तो उनकी फरमाईश भी यहाँ रख सकते हैं. हो सकता है किसी रसिक के पास वो गीत हो जिसे आप खोज रहे हों.

Thursday, September 10, 2009

ये काफिला है प्यार का चलता ही जायेगा....मुकेश और आशा ने किया था अपने श्रोताओं से वादा

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 198

युं तो आशा भोंसले और मुकेश ने अलग अलग असंख्य गीत गाए हैं, लेकिन जब इन दोनों के गाए हुए युगल गीतों की बात आती है तो हम बहुत ज़्यादा लोकप्रिय गीतों की फ़ेहरिस्त बनाने में असफल हो जाते हैं। हक़ीकत यह है कि मुकेश ने ज़्यादातर लता जी के साथ ही अपने मशहूर युगल गीत गाए हैं। लेकिन फिर भी आशा-मुकेश के कई युगल गीत हैं जो यादगार हैं। ख़ास कर राज कपूर की उन फ़िल्मों में जिनमें लता जी की आवाज़ मौजूद नहीं हैं, उनमें हमें आशा जी के साथ मुकेश के गाए गानें सुनने को मिले हैं, जैसे कि 'फिर सुबह होगी', 'मेरा नाम जोकर', वगेरह। राज कपूर कैम्प से बाहर निकलें तो आशा-मुकेश के जिन गीतों की याद झट से आती है, वे हैं 'एक बार मुस्कुरा दो' फ़िल्म के गानें और फ़िल्म 'तुम्हारी क़सम' का "हम दोनो मिल के काग़ज़ पे दिल के चिट्ठी लिखेंगे जवाब आएगा"। आज हमने जिस युगल गीत को चुना है वह इन में से कोई भी नहीं है। बल्कि हम जा रहे हैं बहुत पीछे की ओर, ४० के दशक के आख़िर में। १९४८ में हंसराज बहल के संगीत निर्देशन में फ़िल्म 'चुनरिया' से शुरुआत करने के बाद १९४९ में आशा भोंसले ने फ़िल्म 'लेख' में मुकेश के साथ एक युगल गीत गाया था। आज आप को सुनवा रहे हैं वही भूला बिसरा गीत जो आज फ़िल्म संगीत के धरोहर का एक अनमोल और दुर्लभ नग़मा बन गया है। कृष्ण दयाल के संगीत में यह गीत है "ये काफ़िला है प्यार का चलता ही जाएगा, जी भर के हँस ले गा ले ये दिन फिर न आएगा"। युं तो आशा जी को हिट गानें देकर मशहूर ओ.पी. नय्यर ने ही किया था, लेकिन आशा जी ने एक बार कहा था कि वो नय्यर साहब से भी ज़्यादा शुक्रगुज़ार हैं उन छोटे और कमचर्चित संगीतकारों के, जिन्होने उनके कठिन समय में उन्हे अपनी फ़िल्मों में गाने के सुयोग दिए, जिससे कि उनके घर का चूल्हा जलता रहा। दोस्तों, उन दिनों आशा जी अपने परिवार के खिलाफ़ जा कर शादी कर लेने की वजह से मंगेशकर परिवार से अलग हो गईं थीं, लेकिन उनका विवाहित जीवन भी जल्द ही दुखद बन गया था। कोख में पल रहे बच्चे की ख़ातिर उन्हे काम करना पड़ा, और इन्ही दिनों इन छोटे संगीतकारों और कम बजट की फ़िल्मों में उन्होने गानें गाए। तो फिर कैसे भूल सकती हैं आशा जी उन संगीतकारों को! अगर नय्यर और पंचम ने आशा को शोहरत की बुलंदियों तक पहुँचाया है, तो इन कमचर्चित संगीतकारों ने उन्हे दिया है भूख और गरीबी के दिनों में दो वक़्त की रोटी। अब आप ही यह तय कीजिए कि किन संगीतकारों का योगदान आशा जी के जीवन में बड़ा है।

फ़िल्म 'लेख' बनी थी सन् १९४९ में लिबर्टी आर्ट प्रोडक्शन्स के बैनर तले, जिसे निर्देशित किया था जी. राकेश ने। मोतीलाल, सुर‍य्या, सितारा देवी, और कुक्कू ने फ़िल्म में अभिनय किया था। सितारा देवी फ़िल्म में सुरय्या की माँ बनीं थीं, जिसमें उन्होने एक नृत्यांगना की भूमिका निभाई थी, जो अपना असली परिचय छुपाती है ताकि उसकी बेटी का किसी इज़्ज़तदार घराने में शादी हो सके। लेकिन नियती और हालात उन्हे अपनी ही बेटी की शादी के जल्से में नृत्य करने के लिए खींच लायी। यही थी 'लेख' की कहानी, भाग्य का लेख, नियती का लेख, जिसे कोई नहीं बदल सकता। इस फ़िल्म के गानें लिखे थे अमर खन्ना और क़मर जलालाबादी ने। प्रस्तुत गीत क़मर साहब का लिखा हुआ है। 'काफ़िला' शब्द का फ़िल्मी गीतों में प्रयोग उस ज़माने में बहुत ज़्यादा नहीं हुआ था और ना ही आज होता है। इस शब्द का सुंदर प्रयोग क़मर साहब ने इस दार्शनिक गीत में किया था। भले ही यह गीत आशा और मुकेश की आवाज़ों में है, लेकिन यह उन दोनों के शुरूआती दौर का गीत था, जिसमें उस ज़माने के गायकों के अंदाज़ का प्रभाव साफ़ झलकता है। इस गीत को सुनते हुए मुझे, पता नहीं क्यों, अचानक याद आया १९९९ की फ़िल्म 'सिलसिला है प्यार का' का शीर्षक गीत "ये सिलसिला है प्यार का ये चलता रहेगा"। तो लीजिए दोस्तों, कृष्ण दयाल के साथ साथ उस ज़माने के सभी कमचर्चित संगीतकारों को सलाम करते हुए, जिन्होने आशाजी को निरंतर गाने के अवसर दिए थे कठिनाइयों के उन दिनों में, सुनते हैं फ़िल्म 'लेख' से आशा और मुकेश का गाया यह युगल गीत।



गीत के बोल:
मुकेश: ये क़ाफ़िला है प्यार का चलता ही जाएगा
जी भर के हँस ले गा ले ये दिन फिर न आएगा
आशा: ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: इस क़ाफ़िले के साथ हँसी भी है अश्क़ भी
गाएगा कोई और कोई आँसू बहाएगा
आशा: इस क़ाफ़िले के साथ ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: राही गुज़र न जाएं मुहब्बत के दिन कहीं
आँखें तरस रही हैं कब आँखें मिलाएगा
आशा: राही गुज़र न जाएं ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: ( इस क़ाफ़िले में ) \-२ वस्ल भी है और जुदाई भी
तू जो भी माँग लेगा तेरे पास आएगा
आशा: ( इस क़ाफ़िले में ) \-२ ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...


और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. अगले गीत में आशा के साथ निभायेंगें सी रामचंद्र.
२. गीतकार हैं कमर जलालाबादी.इसी फिल्म में आशा ने "ईना मीना डीका" की तर्ज पर एक मस्त गाना गाया था.
३. मुखड़े में शब्द है -"जॉनी".

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी २४ अंकों के साथ अब आप सबसे आगे निकल आई हैं, बधाई...हमें यकीं है पराग जी समय से जागेंगें अब :)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Tuesday, September 8, 2009

मैं बांगाली छोरा करूँ प्यार को नामोश्काराम....बंगाल और मद्रास के बीच छिडी प्यार की जंग आशा और किशोर के मार्फ़त

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 196

क्या आप के ज़हन में है दोस्तों कि आज तारीख़ कौन सी है? आज है ८ सितंबर। और ८ सितंबर का दिन है हमारी, आपकी, हम सब की चहीती गायिका आशा भोंसले जी का जन्मदिन । आज ८ सितंबर २००९ को आशा जी मना रहीं हैं अपना ७८-वाँ जन्म दिवस। पिछले ६ दशकों से उनकी आवाज़ हमारी ज़िंदगियों में रस घोलती चली आ रही है। क्या बच्चे, क्या जवान, क्या बूढ़े, हर किसी के दिल पर छायी हुई है आशा जी की दिलकश आवाज़। यह वो आवाज़ है दोस्तों जिस पर समय का कोई असर नहीं है। आशा जी ने फ़िल्म संगीत के कई बदलते दौर देखे हैं, और हर दौर में उन्होने अपनी आवाज़ का जादू कुछ इस क़दर बिखेरा है कि हर दौर में उन्होंने सुनने वालों के दिलों पर राज किया है। मैं अपनी तरफ़ से, 'आवाज़' की तरफ़ से और पूरे 'हिंद युग्म' परिवार की तरफ़ से आशा जी को दे रहा हूँ ढेरों शुभकामनाएँ। आशा जी के जन्मदिवस को केन्द्र कर हम इन दिनों सुन रहे हैं उनके युगल गीतों की एक ख़ास लघु शृंखला '१० गायक और एक आपकी आशा'। क्योंकि आज आशा जी का बर्थडे है, तो क्यों न आज थोड़ी से मस्ती की जाए, थोड़े हँसी मज़ाक के साथ आज के 'ओल्ड इज़ गोल्ड' को एंजोय किया जाए! तो अगर ऐसा मज़ाहिया और चुलबुला सा युगल गीत चुनना हो तो किशोर कुमार से बेहतर और कौन सा गायक हो सकता है भला, और ओ.पी नय्यर से बेहतर संगीतकार! जी हाँ, आज बारी है किशोर दा की जिन्होने आशा जी के साथ अनगिनत गीत गाए हैं। दूसरे शब्दों में, आशा-किशोर की जोड़ी फ़िल्म संगीत के पार्श्वगायकों की जोड़ियों में एक बड़ा ही महत्वपूर्ण स्थान रखती है। युं तो इस जोड़ी ने ७० के दशक में सब से ज़्यादा धूम मचाई, लेकिन ५० और ६० के दशकों में भी कई कमाल के गानें इन दोनों ने साथ साथ गाए हैं। अगर ५० के दशक की बात करें तो एक ट्रेंड ऐसा चला था कि फ़िल्म के नायक हैं किशोर कुमार और फ़िल्म के संगीतकार ओ. पी. नय्यर। इन हास्य फ़िल्मों में किशोर कुमार और आशा भोंसले के गाए गानें हुआ करते थे। कुछ ऐसी फ़िल्मों के नाम गिनाएँ आप को? 'छम छमा छम', 'बाप रे बाप', 'भागम भाग', 'ढाके की मलमल', 'नया अंदाज़', 'कभी अंधेरा कभी उजाला', और 'रागिनी' ...। दोस्तों, 'रागिनी' में आशा-किशोर का एक ऐसा मज़ेदार युगल गीत है जिसे आज हम आप को सुनवा रहे हैं। बड़ा ही मज़ेदार गीत है, जिसमें नायक बंगाली और नायिका मद्रासी अन्दाज़ में अपने जज़्बात पेश करते हैं। "मैं बांगाली छोकरा करूँ प्यार को नोमोश्कारोम, मैं मद्रासी छोकरी मुझे तुमसे प्यारम"।

'रागिनी' १९५७ की फ़िल्म थी जो अशोक पिक्चर्स के बैनर तले रखन ने निर्देशित किया था। अशोक कुमार, किशोर कुमार, पदमिनी, जबीन और नज़िर हुसैन के अभिनय से सजी इस फ़िल्म के एक गीत में किशोर कुमार का प्लेबैक किया था मोहम्मद रफ़ी ने। 'फागुन' और 'हावड़ा ब्रिज' के बाद इस फ़िल्म में क़मर जलालाबादी और नय्यर साहब एक बार फिर साथ साथ काम किया और एक बार फिर कुछ सदा बहार नग़मों इज़ाद हुई। जैसे कि फ़िल्म के शीर्षक से ही प्रतीत होता है कि इस फ़िल्म के गीत संगीत में शास्त्रीयता का असर होगा, नय्यर साहब ने मशहूर शास्त्रीय गायक अमानत अली और फ़तेह अली से फ़िल्म में एक गीत गवाया था। शास्त्रीय संगीत पर आधारित एक गीत किशोर दा पर भी फ़िल्माना था जिसके लिए रफ़ी साहब को गवाया गया। गीत था "मन मोरा बावरा"। इसके साथ भी एक क़िस्सा जुड़ा हुआ है जो हम आप को तब बताएँगे जब यह गीत आप को सुनवाएँगे। फ़िल्हाल हम बात करते है आज के गीत की। तो साहब, यह गीत फ़िल्माया गया था किशोर दा और पदमिनी पर। एक बंगाली लड़का और एक दक्षिण भारतीय ल़ड़की एक दूसरे से प्यार करते हैं, गीत का मुद्दा यह है कि किशोर दा पदमिनी को यह समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि बंगाल और दक्षिण के रीति रिवाज़ों में बहुत फ़र्क है, लेकिन पदमिनी किशोर दा के हर संशय को दूर करती है तीन अंतरे वाले इस गीत में। गीत की ख़ास बात यह है कि इसमें नायक के बजाय नायिका प्रेम निवेदन कर रही है और वह भी खुले मैदान में नायक के पीछे भागते हुए। अगर इस तरह का गीत जिसमें प्रांतीय मुद्दे उठाए गए हैं अगर आज बनें तो हो सकता है कि सेंसर बोर्ड पास न करे, लेकिन उन दिनों इन सब बातों का बुरा नहीं माना जाता था। लेकिन जो भी है, यह गीत अनेकता में एकता का पैगाम तो ज़रूर देता है कि किस तरह से दो इंसान, जो बिल्कुल अलग संस्कृति से ताल्लुख़ रखते हैं, एक दूजे से आकर्षित हो सकते हैं। किशोर दा तो किशोर दा हैं, आशा जी ने भी अपनी गायकी और हरकतों में वही दक्षिण भारतीय अंदाज़ ले आयी हैं जिससे गीत और ज़्यादा प्रभावशाली और प्राकृतिक बन पड़ा है। तो सुनिए आशा-किशोर की जोड़ी की यह रोमांटिक कामेडी, और एक बार फिर से आशा जी को हम देते हैं जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. कल के गीत में आशा का साथ देंगें गायक के रूप में एस डी बतीश.
२. गीत को लिखा है सरस्वती कुमार दीपक ने. (इस बार जानकारी सही है :)
३. मुखड़े की पहली पंक्ति में शब्द है -"दुनिया".

पिछली पहेली का परिणाम -
कल यदि शरद जी होते तो झट जवाब मिल जाता....पर चूँकि उन पर अभी कुछ दिन और पहरा रहेगा....तो फायदा उठाया पहली बार दिलीप जी ने.....हमेशा लेट आने वाले दिलीप जी ने भी आखिरकार कमा ही लिए २ अंक...मुबारक हो जनाब :) आपकी टिपण्णी का यूं भी इंतज़ार रहता है क्योंकि कुछ न कुछ नया आप जोड़ ही देते हैं आलेख में...पाबला जी जल्दी से दुरुस्त हो जाएँ आपकी कमी खल रही है....

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Tuesday, June 2, 2009

ये कैसी अजब दास्ताँ हो गयी है...छुपाते छुपाते बयाँ हो गयी है...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 99

ल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में हमने सुनी थी नूरजहाँ की आवाज़। आज के 'ओल्ड इज़ गोल्ड' मे भी कल जैसी ही बात है क्यूंकि आज भी हम एक ऐसी 'सिंगिंग स्टार' की आवाज़ आप तक पहुँचा रहे हैं जो अपने ज़माने की सबसे महँगी अभिनेत्री हुआ करती थीं। ४० के दशक की इस मशहूर अदाकारा और गायिका का असर कुछ यूँ था कि उनकी एक झलक पाने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ती थी। एक बार इस अदाकारा की एक फ़िल्म का 'प्रिमीयर' का मौका था, सिनेमाघर के बाहर लोगों की ख़ासी भीड़ जमा हो गयी थी। तो जब ये अदाकारा अंदर जाने लगीं तो लोग उनसे हाथ मिलाने के लिए बेताब हो उठे। हालात बिगड़ते देख वहाँ पुलिस बुलायी गयी। भीड़ को सम्भालने के लिए लाठी-चार्ज भी करना पड़ा। इसके बाद से इस अदाकारा ने फ़िल्मों के 'प्रिमीयर' में जाना ही बंद कर दिया। इसी से इस अदाकारा के चाहनेवालों की दीवानगी का अंदाज़ा लगाया जा सकता है। अपनी ख़ूबसूरती, लाजवाब अभिनय और बेहद सुरीली आवाज़ वाली इस 'सिंगिंग स्टार' को हम और आप सुरैय्या के नाम से जानते हैं। ४० के दशक की इस लाजवाब 'सिंगिंग स्टार' ने दूसरी अभिनेत्रियों के लिए पार्श्व गायन करना गवारा नहीं किया। नतीजा यह हुआ कि ५० के दशक में एक से एक प्रतिभाशाली पार्श्वगायिकाओं के आ जाने से बहुत कम ऐसे फ़िल्मकार रह गये जो उनकी अदाकारी और आवाज़ को एक साथ प्रस्तुत करने में राज़ी होते। अगर सुरैय्या दूसरी अभिनेत्रियों के लिए गातीं तो उन्हे बहुत से गीत गाने के मौके मिलते, लेकिन उन्होने यह राह नहीं चुनी। और इस तरह से उनकी फ़िल्में और उनके गाने आने कम हो गये। अंतिम फ़िल्म जिसमें उनकी अदाकारी और गायिकी के जलवे उनके चाहनेवालों को देखने और सुनने को मिले वह फ़िल्म थी १९६३ की 'रुस्तम सोहराब'। प्रेम नाथ और मुमताज़ मुख्य भूमिकाओं में थे। फ़िल्म तो असफल रही लेकिन संगीतकार सज्जाद हुसैन के स्वरब्द्ध गीतों ने भूरी भूरी प्रसंशा बटोरी। इस फ़िल्म से आज सुनिए सुरैय्या का गाया और क़मर जलालाबादी का लिखा गीत "ये कैसी अजब दास्ताँ हो गयी है, छुपाते छुपाते बयाँ हो गयी है"।

सज्जाद साहब भी अपने उसूलों पर चलने वाले इंसान थे। उन्होने भी कभी किसी से कोई समझौता नहीं किया और इस वजह से उन्हे भी बहुत ज़्यादा फ़िल्में नहीं मिली। लेकिन जितने भी फ़िल्मों में उन्होने संगीत दिया वो सभी उच्च कोटी के थे जो उस ज़माने के सभी संगीतकार मानते थे। मैंडोलीन को फ़िल्म संगीत मे लाने का श्रेय भी सज्जाद साहब को ही जाता है। इस साज़ पर उन्होने बहुत से शोध किये और उनके बजाये इस साज़ के कई रिकार्ड्स भी निकले और आज उनके तीनों बेटे इस क्षेत्र में अपने पिता के काम को आगे बढ़ा रहे हैं। अपने अलग स्वभाव, अलग 'मूड' और कम काम करने के बावजूद सज्जाद साहब एक बेहतरीन संगीतकार माने गये। अपनी ७९ वर्ष की आयु मे उन्होने अपनी संगीत यात्रा के दौरान अनेक बेशकीमती गीतों के धरोहर तैयार किये जिसे आनेवाली पीढ़ी को सम्भालकर रखनी है और उनसे यह शिक्षा भी लेनी है कि मौलिकता ही किसी कलाकार की राह होनी चाहिए। आज क्यूंकि सुरैय्या और सज्जाद हुसैन दोनो का ज़िक्र चला है तो क्यों ना गीत सुनने से पहले आप यह भी जान लें कि सुरैय्या ने १९७१ में रिकार्ड की हुई विविध भारती के जयमाला कार्यक्रम में सज्जाद साहब के बारे में क्या कहा था! "संगीतकार सज्जाद हुसैन के तर्ज़ पर पहली बार मैने फ़िल्म '1857' में गाया था। मेरी ख़्वाहीश थी कि सज्जाद साहब के गीतों को गाने का और मौका मिले, इसी इंतज़ार मे एक ज़माना गुज़र गया, तब जाके फ़िल्म 'रुस्तम सोहराब' बनी और इसी मे है मेरा यह नग़मा।" तो दोस्तों, अब इस जानकारी के साथ कि इस गीत में मैंडोलीन' बजाया था सज्जाद साहब के बेटों ने, सुनिए यह दिल को छू लेनेवाला गीत जिसका असर आज भी वैसा ही बरक़रार है।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. ओल्ड इस गोल्ड का १०० वां एपिसोड समर्पित होगा नौशाद साहब, शकील बदायुनीं साहब और स्वर कोकिला लता मंगेशकर को.
२. चूँकि ये एक ग्रैंड एपिसोड है तो हमने फिल्म भी एक एतिहासिक चुनी है, जिसके जिक्र बिना हिंदी फिल्म का इतिहास भी अधूरा रहेगा.
३. एक अंतरा इस शब्द से शुरू होता है -"आज".

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
स्वप्ना मंजूषा जी शरद जी, मनु जी और रचना जी से पहले आकर बाज़ी मार गयी. बधाई. दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं कि कल हमारा एतिहासिक १०० वां एपिसोड होने वाला है. कल से पहेली का स्तर थोडा मुश्किल करेंगे, और जो सबसे पहले सही जवाब देगा उसे हर सही जवाब के २ अंक मिलेंगें. हर हफ्ते के अंत में हम स्कोरकार्ड देखते रहेंगे. जो विजेता सबसे पहले ५० अंकों का आंकडा छू लेगा, उसे हम मौका देंगे अपनी पसंद के ५ गीतों को ओल्ड इस गोल्ड में प्रस्तुत करने का और वो उन ५ एपिसोडों के लिए होंगें हमारे "गेस्ट होस्ट", प्रमुख होस्ट सुजॉय के साथ. तो तैयार हैं न आप सब ?

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


Tuesday, May 12, 2009

भूल जा सपने सुहाने भूल जा....रचने वाले हंसराज बहल को भूला दिया दुनिया ने...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 78

दोस्तों, फ़िल्म जगत में बहुत से ऐसे संगीतकार हुए हैं जिन्होने काम तो बहुत किया है लेकिन उनकी क़िस्मत ने उनका इतना साथ नहीं दिया कि वो भी शोहरत की बुलन्दियों को छू पाते। ऐसे ही एक संगीतकार रहे हैं हंसराज बहल। राजधानी, मिलन, मिस बाम्बे, चंगेज़ ख़ान, सावन, और सिकंदर-ए-आज़म उनकी कुछ चर्चित फ़िल्में रही हैं। गायिका आशा भोंसले ने अपना पहला हिन्दी फ़िल्मी गीत इन्ही के संगीत निर्देशन में १९४८ में फ़िल्म 'चुनरिया' के लिए गाया था। हंसराज बहल ने गायिका मधुबाला ज़वेरी को भी उनका पहला ब्रेक दिया था। हंसराज बहल के छोटे भाई गुलशन बहल के साथ मिलकर वो निर्माता भी बने और अपने बैनर का नाम रखा अपने पिता निहाल चन्द्र के नाम पर, एन. सी. फ़िल्म्स। इस बैनर के तले पहली फ़िल्म बनी थी 'लाल परी' और आगे चलकर कुछ २० के आसपास फ़िल्में इन दोनो भाइयों ने बनाये और इन सभी फ़िल्मों में हंसराज का संगीत था। इसी बैनर के तले बनी थी १९५६ की फ़िल्म 'राजधानी' जिसका एक बड़ा ही मशहूर गीत आज हम आपके लिए लेकर आए हैं 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल में। "भूल जा सपने सुहाने भूल जा" तलत महमूद और लता मंगेशकर के गाये युगल गीतों में एक ख़ास जगह रखता है।

फ़िल्म 'राजधानी' के मुख्य कलाकार थे सुनिल दत्त और निम्मी और इस फ़िल्म का निर्देशन किया था नरेश सहगल ने। प्रस्तुत गीत में सुनिल दत्त को जेल के बंधनों में जकड़े हुए दिखाया गया है, जो ज़िन्दगी से निराश होकर अपने सारे सपनों को भुला देने की बात करता है। उधर दूसरी तरफ़ उनकी प्रेमिका (निम्मी) भी अपने प्रेमी से मिलने को बेचैन होकर पुकार उठती है "कैसे तुझको भुलाऊं साजना"। तूफ़ानी रात का दृश्य है, नदी में उफ़ान आया हुआ है, ऐसे में निम्मी भटकती हुई अपने प्रेमी की तलाश में पहाड़ों, नदी-नालों से होते हुए अपनी जान हथेली पे लेकर भागती चली जाती है। "आयी लहरों का सीना सनम चीर के, जीतना है तुझे तक़दीर से", क़मर जलालाबादी के ऐसे बोल हैं इस गीत में सजे। दर्दभरे सदाबहार युगल गीतों की श्रेणी में इस गीत का शुमार होता है और आज भी इस गीत का वही असर क़ायम है। सुनिए लता-तलत का गाया "भूल जा सपने सुहाने भूल जा"। इस गीत के संगीत सयोजन पर भी ग़ौर कीजिएगा, स्थान, काल, पात्र और गीत के बोलों को एक साथ लेकर चलता है इस गीत का 'और्केस्ट्रेशन'।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. आनंद बख्शी और एल पी की जोड़ी का शायद सबसे पहला गीत.
२. ये सुपरहिट गीत किशोर के जबरदस्त हिट्स में से एक है.
३. एक अंतरे की अंतिम पंक्ति में शब्द है -"वहशत".

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम-
कल की पहेली के साथ ही एक और नयी विजेता हमें मिल गयी हैं....रचना जी बहुत बहुत बधाई...एक मुश्किल गीत को सही पहचाना आपने. नीलम जी आपने तो खुद ही लिख दिया कि आपका जवाब गलत क्यों है, और मनु जी ने भी स्पष्ट कर दिया. पराग जी काफी जबर्दस्त जानकार हमें मिले हैं, आपकी जानकारियों से सभी लाभान्वित होते हैं. मनु जी और पी एन साहब आप दोनों का ही नहीं ये गीत ढेरों संगीतप्रेमियों का पसंदीदा गीत है. आपको पसंद आये और इसी बहाने कुछ बीती यादें ताज़ी हो जाए यही हमारा उद्देश्य है.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


Monday, April 6, 2009

मुखड़े पे गेसू आ गए आधे इधर आधे उधर...किशोर कुमार की मीठी शिकायत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 44

दोस्तों, कुछ दिन पहले 'ओल्ड इस गोल्ड' में हमने आपको किशोर कुमार का गाया और सी रामचंद्र का संगीतबद्ध किया हुआ फिल्म "आशा" का मशहूर गीत सुनवाया था "ईना मीना डीका". यह गीत किशोर और सी रामचंद्र की जोडी का शायद सबसे लोकप्रिय गीत रहा है. यूँ तो इस गायक - संगीतकार की जोडी ने साथ साथ बहुत ज़्यादा काम नहीं किया, लेकिन एक और ऐसी फिल्म है जिसमें इन दोनो ने अपने अपने हुनर के जलवे दिखाए, और वो फिल्म है "पायल की झंकार". आज 'ओल्ड इस गोल्ड' में एक बार फिर से किशोर कुमार और सी रामचंद्र को सलाम करते हुए आप की खिदमत में हम लेकर आए हैं पायल की झंकार फिल्म का एक बडा ही अनूठा सा गीत जिसे आपने बहुत दिनों से शायद सुना नहीं होगा. क़मर जलालाबादी ने इस गीत को लिखा था. सन 1966 में बनी फिल्म "पायल की झंकार" के मुख्य कलाकार थे किशोर कुमार, राजश्री और ज्योति लक्ष्मी. इसी शीर्षक से राजश्री प्रोडक्शन ने 1980 में एक फिल्म बनाई थी, और 1980 की इस फिल्म में गायिका अलका याग्निक ने अपना पहला हिन्दी फिल्मी गीत गाया था.

बहरहाल 1980 से हम वापस आते हैं 1966 की फिल्म "पायल की झंकार" पे. "मुखड़े पे गेसू आ गये आधे इधर आधे उधर". इस गीत को सुनते हुए आप यह महसूस करेंगे कि यूँ तो शास्त्रीय संगीत को आधार मानकर इस गीत को बनाया गया है लेकिन 'इंटरल्यूड म्यूज़िक' में एक पाश्चात्य रंग भी है. और अंतरे में फिर से वही शास्त्रीय रंग वापस आ जाता है. कुल मिलाकर इस गीत का संगीत संयोजन कमाल का है. क़मर साहब ने भी इस गीत में अपने शब्दों से जान डाल दी है, वो लिखते हैं "आज हमने रूप देखा चाँदनी के भेस में, एक परदेसी बेचारा लुट गया परदेस में, दिल के दुश्मन आ गये आधे इधर आधे उधर". नायिका के चेहरे की खूबसूरती को छुपाने वाले गेसुओं से शिकायत की गयी है इस गीत में लेकिन बडे ही खूबसूरत अंदाज़ में. इस गीत के लिए ज़्यादा कुछ कहने के बजाए यही बेहतर होगा कि इस गाने को सुना जाए और इसका आनंद उठाया जाए.



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाईये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. शैलेन्द्र, आशा भोंसले, मोहम्मद रफी और शंकर जयकिशन की टीम.
२. पेरिस में शाम बिताते शम्मी कपूर और शर्मीला टैगोर.
३. अंतरे में पंक्ति है - "नींद तो अब तलक जाके लौटी नहीं..."

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
नीरज जी इकलौते विजेता रहे इस बार. मुश्किल था पर आपने क्या खूब पकडा. मज़ा आ गया. गले लग कर बधाई. शोभा जी, नीलम जी, राज भाटिया जी और शन्नो जी, आप सब ने गीत का आनंद लिया जानकार ख़ुशी हुई. मनु जी कोई बात नहीं आज कोशिश कीजिये, और किशोर कुमार का ये गाना कैसा लगा ये भी बताईयेगा.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवायेंगे, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.




Sunday, March 22, 2009

पिया पिया न लागे मोरा जिया...आजा चोरी चोरी....

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 30

दोस्तों, कुछ गीत ऐसे होते हैं जो केवल एक मुख्य साज़ पर आधारित होते हैं. उदाहरण के तौर पर कश्मीर की कली का गाना "है दुनिया उसी की ज़माना उसी का" केवल 'सेक्साफोन' पर आधारित है. इस गीत के संगीतकार थे ओपी नय्यर. नय्यर साहब ने ऐसे ही कुछ और गीतों में भी सिर्फ़ एक मुख्य साज़ का इस्तेमाल किया है. उनके संगीत की खासियत भी यही थी की वो '7-पीस ऑर्केस्ट्रा' से उपर नहीं जाते थे. इसी तरह का एक गीत था फिल्म "फागुन" में जिसमें केवल बाँसुरी का मुख्य रूप से इस्तेमाल हुआ. फिल्म फागुन के सभी गीतों में बाँसुरी सुनाई पड्ती है जिन्हे बजाया था उस ज़माने के मशहूर बाँसुरी वादक सुमंत राज ने. तो आज 'ओल्ड इस गोल्ड' में आप सुनने जा रहे हैं फिल्म फागुन का वही गीत जिसमें है सुमंत राज की मधुर बाँसुरी की तानें, ओपी नय्यर का दिलकश संगीत, और आशा भोंसले की मनमोहक आवाज़.

और अब इस फिल्म के गीत संगीत से जुडी कुछ बातें हो जाए? यह फिल्म बनी थी सन 1958 में. बिभूति मित्रा द्वारा निर्मित एवं निर्देशित इस फिल्म में भारत भूषण और मधुबाला ने मुख्य किरदार निभाए. इस फिल्म के कहानीकार, संवाद-लेखक और पट्कथा-लेखक थे क़मर जलालाबादी साहब. लेकिन बिभूति मित्रा चाहते थे कि ओपी नय्यर मजरूह सुल्तानपुरी से इस फिल्म के गाने लिखवाए. नय्यर साहब ने उन्हे समझाया कि क्योंकि कहानी और संवाद क़मर साहब ने लिखा है, तो उनसे बेहतर इस फिल्म के गाने और कोई दूसरा नहीं लिख सकता. तब जाकर क़मर साहब से गुज़ारिश की गयी और उन्होने गीत लेखन का भी ज़िम्मा अपने उपर ले लिया. और इस ज़िम्मे को कितनी सफलता से उन्होने निभाया यह शायद किसी को बताने की ज़रूरत नहीं है. क़मर साहब पूरे 11 के 11 गीत लिखकर ले आए और नय्यर साहब को सौंप गये. गाने हाथ में आते ही नय्यर साहब ने केवल दो घंटे में पूरे 11 के 11 गीत स्वरबद्ध कर डाले. लेकिन नय्यर साहब भी कुछ कम नहीं थे. उन्होने निर्माता महोदय से कहा कि उन्हे गाने स्वरबद्ध करने में 1 महीना चाहिए. वो उन्हे एक एक महीने बाद बुलाते और एक एक करके गाना थमाते जाते. और इस तरह से हर गीत पर वाह वाही लूटते. नय्यर साहब का यह मानना था कि अगर वो सभी के सभी गीत एक साथ उन्हे दे देते तो शायद वो उन गीतों का सही मूल्यांकन नहीं कर पाते. तो ऐसे थे हमारे ओपी नय्यर साहब. तो पेश है फिल्म फागुन से "पिया पिया ना लागे मोरा जिया".



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाईये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. १९५९ में बनी इस सुपर हिट फिल्म में थे सुनील दत्त और नूतन.
२. सीनियर बर्मन का संगीत और उन्हीं की दिव्य आवाज़.
३. पहला अंतरा शुरू होता है "होता तू..." से

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
पहली बार पहेली का जवाब देने आयी पारुल ने शतक जमा दिया, और इस बार मनु जी और नीरज जी से पहले ही बाज़ी भी मार ली. बहुत बहुत बधाई...गाना वाकई बहुत प्यारा है, आशा है आप सब ने इसका आनंद लिया होगा, मनु जी सही कहा, इस फिल्म के सभी गीत लाजवाब हैं.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवायेंगे, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.




Sunday, February 22, 2009

डम डम डिगा डिगा...मौसम भीगा भीगा

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 03

"ओल्ड इस गोल्ड" की शृंखला में आज का गीत है फिल्म छलिया से. दोस्तों, एक 'टीम' बनी थी राज कपूर, मुकेश, शैलेन्द्र, हसरत जयपुरी और शंकर जयकिशन की. 50 के दशक में इस 'टीम' ने एक से एक बेहतरीन 'म्यूज़िकल' फिल्में हमें दी. मुकेश की आवाज़ राज कपूर पर कुछ ऐसी जमी कि इन दोनो को एक दूसरे से जुदा करना नामुमकिन सा हो गया. सन 1960 में जब सुभाष देसाई ने फिल्म छलिया बनाने की सोची तो उन्होने अपने भाई मनमोहन देसाई को पहली बार निर्देशन का मौका दिया. फिल्म का मुख्य किरदार राज कपूर को ध्यान में रखकर लिखा गया. इस तरह से मुकेश को गायक चुन लिया गया. लेकिन गीत संगीत का भार शैलेन्द्र - हसरत और शंकर जयकिशन के बजाय सौंपा गया क़मर जलालाबादी और कल्याणजी आनांदजी को. लेकिन इस फिल्म के गीतों को सुनकर ऐसा लगता है की जैसे वही पुरानी 'टीम' ने बनाए हैं इस फिल्म के गीत. कल्याणजी आनांदजी ने उसी अंदाज़ को ध्यान में रखकर इसके गाने 'कंपोज़' किए. और आगे चलकर कल्याणजी आनंदजी के संगीत निर्देशन में ही मुकेश ने अपने 'करियर' के सबसे ज़्यादा गाने गाए जिनमें से ज़्यादातर मक़बूल भी हुए.

फिल्म छलिया के जिस गीत का ज़िक्र आज हो रहा है, वो है "डम डम डिगा डिगा, मौसम भीगा भीगा". यूँ तो जब मुकेश और कल्याणजी आनंदजी के 'कॉम्बिनेशन' की बात आती है तो हमारे ज़हन में कुछ संजीदे, जीवन दर्शन से ओत-प्रोत, या फिर दर्द भरे नगमें उभरकर सामने आते हैं. लेकिन यह एक ऐसा गीत है जिसमें है भरपूर मस्ती, एक संग्रामकता कि इसे जो भी सुन लेता है वो खुद बा खुद थिरकने लगता है. मुकेश ने इस गाने में यह साबित कर दिया कि वो इस तरह के मस्ती वाले गीतों में भी उतने ही पारदर्शी हैं जितने की संजीदे गीतों में. और एक बात इस गाने से जुडी हुई. अगर आप अंताक्षरी खेलने के शौकीन हैं तो आप ने यह ज़रूर महसूस किया होगा की अंताक्षरी में जब भी 'दा' अक्षर से गीत गाने की बारी आती है तो सबसे पहले यही गीत झट से ज़ुबान पर आ जाता है. यही तो है इस गीत की ख़ासीयत. तो सुनिए यह गीत और झूम जाइए बिन पीए. लेकिन याद रहे, कहीं गिर ना जाना.



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाईये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. १९७० में आई इस फ़िल्म में संजीव कुमार की प्रमुख भूमिका थी.
२. इस महान संगीतकार को इस फ़िल्म के लिए राष्टीय पुरस्कार मिला था.
३. लता मंगेशकर की डेट्स न मिल पाने के कारण फिल्मांकन के लिए संगीतकार ने इस गीत को अपनी आवाज़ में रिकॉर्ड किया था. बाद में इसे लता ने भी गाया.

कुछ याद आया...?

कल की पहेली का सही जवाब दिया एक बार फ़िर मनु जी ने. आप को बधाई.

प्रस्तुति - सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सदर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवायेंगे, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ