Showing posts with label raamlaal. Show all posts
Showing posts with label raamlaal. Show all posts

Friday, August 21, 2009

तकदीर का फ़साना जाकर किसे सुनाएँ...संगीतकार रामलाल का यह गीत दिल चीर कर निकल जाता है

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 179

भी परसों आप ने संगीतकार वी. बल्सारा का स्वरबद्ध किया हुआ फ़िल्म 'विद्यापति' का गीत सुना था। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' की महफ़िल अक्सर सज उठती है ऐसे ही कुछ कमचर्चित संगीतकार और गीतकारों के अविस्मरणीय गीत संगीत से। वी. बल्सारा के बाद आज भी हम एक ऐसे ही कमचर्चित संगीतकार की संगीत रचना लेकर उपस्थित हुए हैं। रामलाल चौधरी। संगीतकार रामलाल का ज़िक्र हमने इस शृंखला में कम से कम दो बार किया है, एक, फ़िल्म 'नवरंग' के गीत के वक़्त, जिसमें उन्होने शहनाई बजायी थी, और दूसरी बार फ़िल्म 'गीत गाया पत्थरों ने' के गीत में, जिसमें उनका संगीत था। उनके संगीत से सजी केवल दो ही फ़िल्मों ने सफलता की सुबह देखी, जिनमें से एक थी 'गीत गाया पत्थरों ने', और उनकी दूसरी मशहूर फ़िल्म थी 'सेहरा'। आज सुनिये इसी 'सेहरा' का एक बेहद मक़बूल गीत मोहम्मद रफ़ी की आवाज़ में - "तक़दीर का फ़साना जाकर किसे सुनायें, इस दिल में जल रही है अरमानों की चितायें". 'विद्यापति' और 'सेहरा' के इन दो गीतों में कम से कम तीन समानतायें हैं। पहला तो हम बता ही चुके हैं कि इनके संगीतकार बड़े ही कमचर्चित रहे हैं। दूसरा, इन दोनों गीतों में शहनाई का व्यापक इस्तेमाल हुआ है। और तीसरा ये दोनों गीत हम बजा रहे हैं 'ओल्ड इज़ गोल्ड पहेली प्रतियोगिता' के पहले विजेयता शरद तैलंग जी के अनुरोध पर। जी हाँ, शरद जी का ही भेजा हुआ यह गीत है और उनकी पसंद की दाद दिए बिना मैं नहीं रह सकता।

'सेहरा' सन्‍ १९६३ की फ़िल्म थी जिसका निर्माण किया था वी. शांताराम ने। कहानी और संवाद शम्स लखनवी के थे, जो कई फ़िल्मों में गीतकार के रूप में भी जाने गये। संध्या, प्रशांत, मुमताज़, उल्हास और ललिता पवार अभिनीत यह यादगार फ़िल्म अपने गीत संगीत की वजह से और भी ज़्यादा यादगार बन गया है। इस फ़िल्म में बाबुराव पेंढरकर और केशवराव दाते ने भी अभिनय किया था, जिनका परिचय शांताराम जी से उनके 'प्रभात स्टुडियोज़' के दिनों से था। गीतकार हसरत जयपुरी ने फ़िल्म के सभी गानें लिखे और बेशुमार तारिफ़ें बटोरीं। आज का प्रस्तुत गीत एक डबल वर्ज़न गीत है जिसे रफ़ी साहब और लता जी ने अलग अलग गाया है। इन दोनों गीतों का संगीत संयोजन एक दूसरे से बिल्कुल अलग है। आज हम सुनवा रहे हैं रफ़ी साहब वाला वर्ज़न। रफ़ी साहब ने प्रस्तुत गीत में जिस गायकी का परिचय दिया है, अपनी आवाज़ के ज़रिए जिस दर्द को उभारा है, इस गीत को सुनते हुए वो हमारे कलेजे को चीर कर रख देता है। "सासों में आज मेरे तूफ़ान उठ रहे हैं, शहनाइयों से कहदो कहीं और जाके गायें, मतवाले चाँद सूरज तेरा उठाये डोला, तुझको ख़ुशी की परियाँ घर तेरे लेके जायें, तुम तो रहो सलामत सेहरा तुम्हे मुबारक़, मेरा हर एक आँसू देने लगा दुवायें"। और रामलाल जी की क्या तारीफ़ करें, शहनाई में उनको महारथ तो हासिल थी ही, बस, फिर क्या था, शहनाई से बेहतर कौन सा साज़ होगा जो दर्द को संगीत के ज़रिए साकार कर सके। यह सोचकर दिल उदास हो जाता है कि ऐसे अनमोल गीतों के सर्जक को वो ख्याति नहीं मिली जिसके वो हक़दार थे। ऐसा लगा कि जैसे इस गीत के बोल उन्ही पर सच हो गये हों कि "तक़दीर का फ़साना जाकर किसे सुनायें"।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. यह गीत जिस वाक्य से शुरू होता है उस वाक्य से लिया गया था एक फिल्म का नाम जिसमें लक्ष्मीकांत प्यारेलाल का संगीत था.
२. इस फिल्म एक गीत ओल्ड इस गोल्ड पर आ चुका है जिसमें सावन के आने का जिक्र था.
३. इस क्लासिक गीत को लिखा था शैलेन्द्र ने.

पिछली पहेली का परिणाम -
वाह वाह मनु जी, ज़ोरदार तालियों के साथ ६ अंकों पर पहुचने की बधाई स्वीकार करें, पराग जी इस बार हिंट कुछ छुपे हुए थे, पर आखिरकार आपने गुत्ति सुलझा ही ली, पर बाज़ी मनु जी मार ले गए. आज एक महान शहनाई वादक की पुण्यतिथि है (देखिये बॉक्स). ऐसे में ओल्ड इस गोल्ड पर एक और महान शहनाई के उस्ताद को याद करना एक दिव्य संयोग ही है

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Sunday, May 31, 2009

तेरे ख्यालों में हम...तेरी ही बाहों में हम... डुबो देती है आशा अपनी आवाज़ में इस गीत के सुननेवालों को

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 97

दोस्तों, अभी कुछ दिन पहले हमने आपको वी.शांताराम की फ़िल्म 'नवरंग' का गीत सुनवाया था "तू छूपी है कहाँ, मैं तड़पता यहाँ" और बताया था कि इस गीत को रामलाल चौधरी की शहनाई के लिए भी याद किया जाता है। आज का 'ओल्ड इज़ गोल्ड' भी रामलाल के संगीत से जुड़ा हुआ है मगर बतौर शहनाई वादक नहीं बल्कि बतौर संगीतकार। रामलाल भले ही साज़िंदे और सहायक के रूप में ज़्यादा जाने जाते हैं, उन्होने दो-चार फ़िल्मों में संगीत भी दिया है, और उन्ही में से एक मशहूर फ़िल्म का एक गीत लेकर हम आज उपस्थित हुए हैं। इससे पहले कि आपको उस फ़िल्म और उस गीत के बारे में बतायें, रामलाल से जुड़ी कुछ बातें आपको बताना चाहेंगे। बतौर स्वतंत्र संगीतकार रामलाल को पहला मौका दिया था फ़िल्मकार पी. एल. संतोषी ने। साल था १९५० और फ़िल्म थी 'तांगावाला'। राज कपूर और वैजयंतीमाला अभिनीत इस फ़िल्म के कुल ६ गानें रामलाल बना चुके थे लेकिन दुर्भाग्यवश फ़िल्म आगे बनी नहीं। और रामलाल एक बार फिर फ़िल्म संगीत जगत में बतौर साज़िंदे बाँसुरी और शहनाई बजाने लगे। इसके बाद सन् १९५२ मे उनके हाथ एक बार फिर संगीतकार बनने का मौका लगा और बाल हरदीप की फ़िल्म 'हुस्नबानो' मे उन्होने संगीत दिया। और फिर उसके बाद आयी वी. शांताराम की ऐसी दो फ़िल्में जिन्होने यह साबित किया कि लोकप्रिय गीत बनाने में रामलाल भी उस दौर के दूसरे सफल संगीतकारों से कुछ कम नहीं थे। पहली फ़िल्म थी 'सेहरा' और दूसरी फ़िल्म थी 'गीत गाया पत्थरों ने'। और इसी दूसरी फ़िल्म का एक गीत आज आपको सुनवाया जा रहा है।

'गीत गाया पत्थरों ने' फ़िल्म आयी थी सन् १९६४ मे। इसमे शांतारामजी ने अपनी बेटी राजश्री को लौन्च किया था नवोदित नायक जीतेन्द्र के साथ। आज यह फ़िल्म याद की जाती है तो इसके गीत संगीत की वजह से। मुख्य रूप से आशा भोंसले और महेन्द्र कपूर की आवाज़ें सुनाई दी इस फ़िल्म के गीतों में ठीक 'नवरंग' के गीतों की तरह, लेकिन दो ख़ास आवाज़ें भी थीं इस फ़िल्म में। एक तो था सुविख्यात शास्त्रीय गायिका किशोरी अमोनकर की आवाज़ में फ़िल्म का शीर्षक गीत, और दो गीत थे गायक सी. एच. आत्मा की आवाज़ में। बहुत सालों के बाद आत्माजी की आवाज़ एक बार फिर से सुनाई दी और उनकी आवाज़ को सुनकर ऐसा लगा कि जैसे सहगल साहब भी फिर से वापस आ गए हों। बहरहाल आज हम 'गीत गाया पत्थरों ने' फ़िल्म का जो गीत चुना है उसे आशा भोंसले ने गाया है। "तेरे ख़यालों में हम तेरी ही बाहों में हम" एक उत्कृष्ट रचना है फ़िल्म संगीत इतिहास का, इसका श्रेय संगीतकार रामलाल और गायिका आशा भोंसले के साथ साथ गीतकार हसरत जयपुरी को भी जाता है। अफ़सोस की बात यह है कि इस फ़िल्म की कामयाबी के बावजूद रामलाल को किसी ने अपनी फ़िल्म में ख़ास संगीत देने का मौका नहीं दिया। उनके संगीत से सजी दो और फ़िल्में आयीं - 'नक़ाब-पोश' और 'नागलोक' जो नहीं चलीं। इसके बाद रामलाल ने ख़ुद फ़िल्मे बनाने की सोची। 'पन्ना पिक्चर्स' के बैनर तले उन्होने अपने सहभागी के साथ मिलकर 'त्यागी' नामक फ़िल्म का निर्माण शुरु किया, लेकिन उनके सहभागी ने बीच में ही उनका साथ छोड़ दिया जिससे उनको भारी नुकसान उठाना पड़ा। और इसके बाद किसी ने उन्हे फिर फ़िल्म बनाने का मौका ही नहीं दिया। तो दोस्तों, संगीतकार रामलाल की याद में प्रस्तुत है आज का 'ओल्ड इज़ गोल्ड'।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. नूरजहाँ की नशीली आवाज़ का जादू है ये गीत.
२. नौशाद साहब का संगीत है.
३. मुखड़े में शब्द है -"तराना".

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
शरद जी के लिए वाकई ये काफी आसान रहा होगा. मनु जी, और अवनीश जी का भी आभार. स्वप्न मंजूषा जी शायद पहली बार शामिल हुई कल और उन्होंने जवाब भी पूरे विवरण के साथ दिया. स्वागत है मंजूषा जी.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ