munni bai लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
munni bai लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 18 अप्रैल 2018

चित्रकथा - 64: हिन्दी फ़िल्मों के महिला गीतकार (भाग-2)

अंक - 64

हिन्दी फ़िल्मों के महिला गीतकार (भाग-2)

"प्यार है अमृत कलश अंबर तले..." 




’रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के सभी पाठकों को सुजॉय चटर्जी का सप्रेम नमस्कार! फ़िल्म जगत एक ऐसा उद्योग है जो पुरुष-प्रधान है। अभिनेत्रियों और पार्श्वगायिकाओं को कुछ देर के लिए अगर भूल जाएँ तो पायेंगे कि फ़िल्म निर्माण के हर विभाग में महिलाएँ पुरुषों की तुलना में ना के बराबर रही हैं। जहाँ तक फ़िल्मी गीतकारों और संगीतकारों का सवाल है, इन विधाओं में तो महिला कलाकारों की संख्या की गिनती उंगलियों पर की जा सकती है। आज ’चित्रकथा’ में हम एक शोधालेख लेकर आए हैं जिसमें हम बातें करेंगे हिन्दी फ़िल्म जगत के महिला गीतकारों की, और उनके द्वारा लिखे गए यादगार गीतों की। पिछले अंक में इस लेख का पहला भाग प्रस्तुत किया गया था, आज प्रस्तुत है इसका दूसरा भाग।


त्रुटि सुधार

’हिन्दी फ़िल्मों के महिला गीतकार’ लेख के पहले भाग में हमने जद्दन बाई को प्रथम महिला संगीतकार होने की बात कही थी, जो सही नहीं है। सही नाम है इशरत जहाँ। इशरत जहाँ ने 1934 की फ़िल्म ’अद्ल-ए-जहांगीर’ में संगीत दिया था और जद्दन बाई ने 1935 की फ़िल्म ’तलाश-ए-हक़’ में। इस ग़लती की तरफ़ हमारा ध्यान आकर्षित करने के लिए श्री शिशिर कृष्ण शर्मा जी को हम धन्यवाद देते हैं।



पिछले अंक में हमने जद्दन बाई, सरोज मोहिनी नय्यर, निरुपा रॉय, किरण कल्याणी, प्रभा ठाकुर, अमृता प्रीतम, गीतांजलि सिंह, आशा रानी और शबनम करवारी जैसे महिला गीतकारों की बातें की थी। पिछले अंक में शुरुआत जद्दन बाई से हुई थी। यह वह दौर था जब अधिकतर फ़िल्मी गीतों को ग्रामोफ़ोन रिकॉर्ड्स पर उतारे नहीं जाते थे। केवल फ़िल्म के परदे पर ही वो दिखाई व सुनाई देते। इसलिए शुरुआती कुछ वर्षों के बहुत से गीत उपलब्ध नहीं हैं। उस पर उस दौर के अधिकतर ग्रामोफ़ोन रिकॉर्ड्स के कवर पर गीतकार का नाम प्रकाशित नहीं किया गया। इन सब के चलते फ़िल्म संगीत के पहले दौर के गीतकारों के बारे में जानकारी अधूरी ही रह गई। इन्टरनेट के अज्ञात सूत्रों पर ध्यान दें तो महिला गीतकारों में मुन्नी बाई और मिस विमल का नाम दिखाई देता है। लेकिन उनके द्वारा लिखे किसी भी गीत की जानकारी नहीं मिल पायी है। अगर किसी पाठक के पास इन दो कलाकारों के लिखे गीतों की जानकारी हों तो टिप्पणी में अवश्य सूचित करें। 30 के दशक के आख़िर में भाग्यवती राम्या नामक गीतकार ने फ़िल्म ’अधूरी कहानी’ में दो गीत लिखे। वैसे इस फ़िल्म में बहुत से गाने थे जिन्हें जे. एस. कश्यप और प्यारेलाल संतोषी ने लिखे। ज्ञान दत्त के संगीत निर्देशन में भाग्यवती राम्या के लिखे दो गीत थे "मैं चटक मटक की चंदुरी..." और "शुभ घड़ी साहब घर आए जी आज..."। अफ़सोस की बात है कि इन्टरनेट पर फ़िल्म के बाकी सभी गीतों के गायकों की जानकारी दी गई है, केवल इन दो गीतों को छोड़ कर।

डोगरी भाषा की प्रथम आधुनिक कवयित्री पद्मा सचदेव ने हिंदी में भी काफ़ी काम किया है और आज वो एक प्रसिद्ध कवयित्री व उपन्यासकार के रूप में जानी जाती हैं। उनके कविता संग्रह ’मेरी कविता मेरे गीत’ के लिए उन्हें 1971 में ’साहित्य अकादमी पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया था। पद्मश्री, कबीर सम्मान व अन्य बहुत पुरस्कारों से सम्मानित पद्मा सचदेव ने कुछ हिन्दी फ़िल्मों के लिए गीत भी लिखे हैं। पहली बार उनका लिखा गीत 1973 की फ़िल्म ’प्रेम पर्बत’ में सुनाई दिया। वेद राही की इस फ़िल्म में संगीत जयदेव का था। हालांकि फ़िल्म का लोकप्रिय गीत था "ये दिल और उनकी निगाहों के साये" जिसे जाँ निसार अख़्तर ने लिखा था, पर पद्मा सचदेव का लिखा "मेरा छोटा सा घर बार मेरे अंगना में, छोटा सा चंदा छोटे-छोटे तारे, रात करे सिंगार मेरे अंगना में..." भी बेहद मधुर व कर्णप्रिय है। लोरी शैली में लिखा यह गीत जैसे एक आदर्श भारतीय नारी के दिल की पुकार है। एक महिला गीतकार से बेहतर इस तरह की रचना भला कौन लिख सकता है। इसके बाद 1978 में पद्मा सचदेव को फिर एक बार मौका मिला राजिन्दर सिंह बेदी निर्देशित फ़िल्म ’आखिन देखी’ में दो गीत लिखने का। फ़िल्म के कुल छह गीतों में शामिल थे एक पारम्परिक रचना, एक तुलसीदास रचना, एक कबीर की रचना, और एक गीत गीतकार राम मूर्ति चतुर्वेदी का लिखा हुआ। बाकी दो गीत पद्मा सचदेव के थे जिनमें से एक गीत फ़िल्म का सर्वाधिक लोकप्रिय गीत सिद्ध हुआ। मोहम्मद रफ़ी और सुलक्षणा पंडित की आवाज़ों में संगीतकार जे. कौशिक के संगीत में यह गीत "सोना रे तुझे कैसे मिलूं, कैसे कैसे मिलूं, अम्बुआ की बगिया झरना के नदिया कहाँ मिलूं, तुझे कैसे मिलूं..." आज भी आय दिन रेडियो पर फ़रमाइशी कार्यक्रमों में सुनाई दे जाता है। उनका लिखा दूसरा गीत सुलक्षणा पंडित की एकल आवाज़ में था - "जीने ना मरने दे हाय दैय्या रे, आफ़त जवानी सीने में धक धक करे हाय दैय्या रे, काफ़र जवानी जीने ना मरने दे..."। इसके बाद 1979 में पद्मा सचदेव ने गीतकार योगेश के साथ मिल कर फ़िल्म ’साहस’ के गीत लिखे जिन्हें स्वरबद्ध किया अमीन संगीत ने। भूपेन्द्र की आवाज़ में "नीला सजीला स अये आसमाँ, ख़्वाबों सी फैली हुई वादियाँ..." को एक कविता के रूप में लिखा गया है जिस पर प्रकृति की सुन्दरता पूरी तरह से हावी है। इसी तरह से दो और काव्यात्मक शैली में लिखे गीत हैं भूपेन्द्र और अनुराधा पौडवाल का गाया "अब तुम हो हमारे और हम भी तुम्हारे हैं, हमें जान से प्यारे मनमीत हमारे हैं..." और भूपेन्द्र व आशा भोसले का गाया "एक घर बनाएँ, सपने सजाएँ, हम यहाँ हम यहाँ, एक होके झूमें, एक होके गाएँ, हम यहाँ हम यहाँ...। दिलराज कौर की आवाज़ में "बाबूजी बाबूजी क्या लोगे, कुछ बोलो ना, ये दिल कब का तेरा हो गया है, बाबूजी बाबूजी क्या लोगे..." गीत को सुन कर ओ. पी. नय्यर के संगीत शैली की याद अ जाती है। एक उल्लेखनीय बात यह है कि 1981 में भी ’साहस’ शीर्षक से फ़िल्म आई थी जिसके संगीतकार थे बप्पी लाहिड़ी। संभवत: 1979 की ’साहस’ प्रदर्शित नहीं हो पायी थी और केवल गीतों को ही जारी कर दिया गया था। और इसी के साथ पद्मा सचदेव ने भी फ़िल्मी गीतकारिता से संयास लेकर अपना पूरा ध्यान साहित्य और काव्य पर लगा दिया। 

1976 में शबनम करवारी के साथ-साथ एक और महिला गीतकार के गीत सुनाई पड़े थे, ये हैं सई परांजपे। ये वो ही पद्मभूषण से सम्मानित सई परांजपे हैं जिनकी ’स्पर्श’, ’कथा’, ’चश्म-ए-बद्दूर’, ’दिशा’, ’पपीहा’ और ’साज़’ जैसी फ़िल्में दर्शकों के दिलों को छू गई थीं। इन सभी फ़िल्मों की वो निर्देशिका थीं। बतौर फ़िल्म निर्देशिका, उनकी पहली फ़िल्म थी ’जादू का शंख’ जो बनी थी 1975 में। इसके अगले ही साल आई फ़िल्म ’सिकंदर’ जो एक बाल-फ़िल्म थी। यह फ़िल्म चार बच्चों की कहानी थी जिन्हें एक कुत्ते के पिल्ले से प्यार हो जाता है। वो उन्हें घर ले आते हैं पर उनके अभिभावक इसकी अनुमति नहीं देते। फिर वो चार बच्चे किस तरह से छुप-छुप कर उसे पालते हैं, यही है इस फ़िल्म की कहानी। इस बाल-फ़िल्म के लिए सई परांजपे ने दो गीत लिखे थे जिन्हें स्वरबद्ध किया भास्कार चंदावरकर ने। सूदेश महाजन और सुरेश वाघ की आवाज़ों में "चार कलंदर एक मुचंदर हम सब का..." और विनीता जोगलेकर का गाया "हुण ला अच्छे बच्चे नहीं जागते..." सई परांजपे के लिखे फ़िल्म के दो गीत रहे। यह सच है कि इसके बाद सई परांजपे ने फिर कभी किसी फ़िल्म के लिए गीत नहीं लिखे जिस वजह से उनके लिखे ये दो फ़िल्मी बाल-गीत बहुत महत्वपूर्ण बन जाते हैं। इसमें कोई शक़ नहीं कि अगर उन्होंने सामाजिक फ़िल्मों के लिए भी गीत लिखे होते, वे बेहद अर्थपूर्ण ही होते। सई परांजपे के साथ जिस महिला गीतकार का नाम लिया जाना चाहिए, वो हैं इंदु जैन। इंदु जैन ने सई परांजपे की कई फ़िल्मों में गीत लिखे हैं। पहला गीत 1981 की फ़िल्म ’चश्म-ए-बद्दूर’ में लिखा था "कहाँ से आए बदरा, घुलता जाए कजरा...", जो आज एक सदाबहार नग़मा बन चुका है। राजमकल के संगीत में जेसुदास और हेमन्ती शुक्ला की गायी राग वृंदावनी सारंग पर आधारित इस रचना के शब्द इतने सुन्दर हैं कि इस गीत को जितनी बार भी सुनें, आनन्द की ही अनुभूति होती है। इस फ़िल्म के अन्य गीतों में एक और उल्लेखनीय गीत रहा है "काली घोड़ी द्वार खड़ी" जिसे भूपेन्द्र और सुलक्षणा पंडित ने गाया है। शास्त्रीयता के साथ साथ हास्य रस भी है इस गीत में। शैलेन्द्र सिंह और हेमन्ती शुक्ला का गाया "इस नदी को मेरा आइना मान लो, कि मोहब्बत का बहता नशा जान लो..." भी एक सुन्दर रचना है लेकिन ताज्जुब की बात है कि इस गीत को अब लोग भुला चुके हैं। इसके बाद 1983 की सई परांजपे की फ़िल्म ’कथा’ के गीत भी इंदु जैन ने ही लिखे। इस फ़िल्म में भी राजकमल का ही संगीत था। हास्य रस पर आधारित फ़िल्म में दो अनोखे गीत थे। अनोखे इस लिहाज़ से कि इन दोनों गीतों को कुल नौ गायकों ने गाया है। सुषमा श्रेष्ठ, हरिहरन, पिनाज़ मसानी, घन्श्याम वासवानी, प्रीति चावला, विराज उपध्याय, नरेन्द्र भंसाली, बद्री पवार और उषा रेगे के गाए ये दो गीत हैं "कौन आया कौन आया" और "क्या हुआ क्या हुआ"। इन दोनों गीतों में मध्यमवर्गीय परिवारों में दूसरों के जीवन और दिनचर्या के प्रति अत्यधिक कौतुहल को हास्य के माध्यम से साकार किया है इंदु जैन ने। फ़िल्म का तीसरा गीत किशोर कुमार की आवाज़ में है - "मैंने तुमसे कुछ नहीं मांगा..." जो अपने समय का हिट गीत रहा है। फ़िल्म का चौथा व अंतिम गीत "तुम सुंदर हो, तुम चंचल हो" में नायिका की ख़ूबसूरती का बेहद ख़ूबसूरती से वर्णन मिलता है। इस गीत को राजकमल, प्रीति सागर और विनी जोगलेकर ने गाया है। ख़ास बात यह भी है कि राजकमल वाला अंश भारतीय शैली में है जबकि प्रीति सागर वाला हिस्सा पश्चिमी रंग का है। गीत के तीसरे अंश में राजकमल और विनी जोगलेकर का एक साथ पश्चिमी नृत्य शैली पर गाया अंश इस गीत को एक अनोखा गीत बना दिया है। सई परांजपे की राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित 1984 की फ़िल्म ’स्पर्श’ के गीत भी इंदु जैन ने ही लिखे। कानु रॉय के संगीत में सुलक्षणा पंडित ने फ़िल्म के सभी तीन गाए। "खाली प्याला धुंधला दर्पण खाली खाली मन, बुझता सूरज जलता चन्दा पतझरी सावन..." में जैसे इंदु जैन ने मनमोहक काव्य की छटा बिखेर दी हों। इसी गीत का विस्तार है "प्याला छलका उजला दर्पण, जगमग मन आंगन..."। और तीसरे गीत के रूप में है बाल-गीत "गीतों की दुनिया में सरगम है हम, फूलों में ख़ुशबू के पर्चम है हम, चलते हैं कदमों में मंज़िल भरे, मुट्ठी में ख़ुशियों की पुंजी धरे, तूफ़ान भी आए कश्ती हैं हम, ताज़ी हवाओं के झोंके हैं हम..."। इस फ़िल्म के बाद इंदु जैन का लिखा कोई भी गीत फ़िल्मों में सुनने को नहीं मिला। यह आश्चर्य की ही बात है कि अब तक जितने भी महिला संगीतकारों की बात हमने की है, वो सभी दो चार फ़िल्मों के बाद फ़िल्मी गीतकारिता से संयास ले लिया। क्या वजह रही होंगी?

हिन्दी साहित्य में महादेवी वर्मा का नाम कौन नहीं जानता! छायावाद के चार लौहस्तंभों में एक हैं महादेवी वर्मा (अन्य तीन स्तंभ हैं सूर्यकांत त्रिपाठी ’निराला’, जयशंकर प्रसाद और सुमित्रानंदन पंत)। उनकी कालजयी काव्य कृतियों में ’यामा’ सर्वोपरि है। उनकी पशुभक्ति का मिसाल हमें ’नीलकंठ’ और ’गौरा’ जैसी सच्ची कहानियों में मिलता है। ’मेरे बचपन के दिन’, ’मधुर मधुर मेरे दीपक जल’ और ’गिल्लु’ सहित उनकी बहुत सी रचनाओं को विद्यालयों और विश्वविद्यालयों के हिन्दी पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है। महादेवी वर्मा के प्रशंसकों ने उन्हें ’आधुनिक युग की मीरा’ नाम से नवाज़ा है। पद्मभूषण, पद्मविभूषण, साहित्य अकादमी फ़ेलोशिप और ज्ञानपीठ जैसे उच्चस्तरीय पुरस्कारों से सम्मानित महादेवी वर्मा ने बस एक फ़िल्म में एक गीत लिखा है। 1986 की यह फ़िल्म थी ’त्रिकोण का चौथा कोण’ जिसका निर्माण व निर्देशन मधुसुदन ने किया था। जयदेव के संगीत से सजी इस फ़िल्म के चार गीतों में से दो गीत महादेवी वर्मा ने लिखे। इनमें से एक गीत है "प्यार है अमृत कलश अंबर तले, प्यार बाँटा जाए जितना बाँट ले..." जिसे शोभा जोशी ने गाया है। बहुत ही सुन्दर रचना और संयोग की बात यह है कि अमृता प्रीतम के लिखे गीत "अंबर की एक पाक सुराही" में भी उसी "अंबर" का उल्लेख है। महादेवी वर्मा का लिखा फ़िल्म का दूसरा गीत रिकॉर्ड तो हुआ था लेकिन फ़िल्माया नहीं गया। छाया गांगुली की आवाज़ में यह गीत है "कैसे उनको पाऊँ आली", जो एक कविता है। जितनी सुन्दरता से जयदेव ने इस सुंदर कविता को सुरों में पिरोया है, उतनी ही ख़ूबसूरती से छाया गांगुली ने इसे गाया है। दरसल इस गीत को पहले आशा भोसले ने एक ग़ैर-फ़िल्मी ऐल्बम के लिए गाया था जिसे जयदेव ने ही स्वरबद्ध किया था। ’त्रिकोण का चौथा कोण’ के निर्माण के समय जयदेव ने महादेवी वर्मा से इस गीत को इस फ़िल्म के लिए भी रिकॉर्ड करने की अनुमति माँगी। महादेवी वर्मा अपनी कविताओं को फ़िल्मों में इस्तमाल के लिए राज़ी नहीं होती थीं, लेकिन इस बार के लिए वो मान गईं। और इस तरह से फ़िल्म संगीत के धरोहर को उनकी इन दो रचनाओं ने समृद्ध किया। 

फ़िल्म ’त्रिकोण का चौथा कोण’ में महादेवी वर्मा के अलावा एक और महिला गीतकार ने एक गीत लिखा। माया गोविंद का लिखा यह गीत है "किया पिया पे क्या जादू"। छाया गांगुली की आवाज़ में "हौले हौले रस घोले बोले मुझसे जिया, किया पिया पे क्या जादू, पर मैंने क्या किया..." में "जिया", "पिया" और "किया" के सुंदर काव्यात्मक प्रयोग न इस गीत को फ़िल्म-संगीत के धरोहर का एक अनोखा गीत बना दिया है। वैसे माया गोविंद की लिखी यह पहली फ़िल्मी रचना नहीं है। कवयित्री, नर्तकी, स्टेज आर्टिस्ट, गायिका, फ़िल्म निर्माता और गीतकार माया गोविंद बहुमुखी प्रतिभा की धनी रही हैं। लखनऊ में जन्मीं माया गोविंद ने अपना पहला फ़िल्मी गीत सीरू दरयानानी की फ़िल्म ’कश्मकश’ के लिए लिखा जो 1973 की फ़िल्म थी। कल्याणजी-आनन्दजी के संगीत में यह फ़िल्म का शीर्षक गीत है "कश्मकश छोड़ दे, दिल से दिल जोड़ दे"। एक कामोत्तेजक गीत के रूप में यह गीत श्रोताओं के दिलों को छू नहीं सका। इसी साल लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के संगीत में फ़िल्म ’जलते बदन’ के सभी चार गीत लिखे माया गोविंद ने। इस फ़िल्म का लता-रफ़ी की युगल आवाज़ों में "वादा भूल ना जाना, हो जानेवाले लौट के आना" अपने ज़माने का मशहूर गीत रहा है, और इस तरह से इसे माया गोविंद का लिखा पहला हिट गीत माना जा सकता है। ’जलते बदन’ रामानन्द सागर की फ़िल्म थी। माया गोविंद की प्रतिभा को निर्माता-निर्देशक आत्मा राम ने भी सराहा, और उन्हें अपनी अगली फ़िल्म ’आरोप’ के गीत लिखने का मौका दिया। इस फ़िल्म में उनके लिखे दो गीत बहुत लोकप्रिय हुए। भूपेन हज़ारिका की धुन पर "नैनों में दर्पण है, दर्पण में कोई, देखूँ जिसे सुबह शाम" गीत को ख़ूब ख्याति मिली। फ़िल्म का एक अन्य गीत "जब से तूने बंसी बजाई रे, बैरन निन्दिया चुराई, मेरे ओ कन्हाई" भी एक बेहद कर्णप्रिय भक्ति रचना है। भूपेन हज़ारिका ने इसे असम के कीर्तन शैली में स्वरबद्ध किया है। इस फ़िल्म में माया गोविंद ने सभी आठ गीत लिखे थे। आत्मा राम ने 1975 में अपनी अगली फ़िल्म ’क़ैद’ के लिए भी माया गोविंद को ही गीतकार चुना और संगीत के लिए बनवाई नितिन-मंगेश की जोड़ी। इस फ़िल्म का किशोर कुमार और साथियों का गाया "ये तो ज़िन्दगी है, कभी ख़ुशी कभी ग़म..." बहुत हिट हुआ था। इसके बाद 1979 में सावन कुमार की फ़िल्म ’सावन को आने दो’ में कई गीतकारों ने गीत लिखे जैसे कि इंदीवर, गौहर कानपुरी, फ़ौक़ जामी, मदन भारती, पूरन कुमार ’होश’ और अभिलाष। एक गीत माया गोविंद ने भी लिखा था इस फ़िल्म में; सुलक्षणा पंडित और येसु दास की आवाज़ों में राजकमल के संगीत में दर्द भरा गीत "ये मत जानियो तुम बिछुड़े मोहे चैन, जैसे बन की लकड़ी सुलगती हो दिन रैन, कजरे की बाती असुवन के तेल में, आली मैं हार गई अँखियों के खेल में..." एक सुन्दर रचना है। 1980 में राजकमल और माया गोविंद की जोड़ी ने फ़िल्म ’पायल की झंकार’ के सभी गीत रचे जो ख़ूब पसन्द किए गए। 1982 में संगीतकार ख़य्याम के साथ काम करते हुए माया गोविंद ने फ़िल्म ’बावरी’ के सभी गीत लिखे जो बहुत पसन्द किए गए। "अब चराग़ों का कोई काम नहीं" (लता- येसु दास), "हे अम्बिके जगदम्बिके हे माँ" (आशा) और "मोरे नैनों में श्याम समाये" (लता) जैसे गीत फ़िल्म संगीत के बदलते मिज़ाज वाले दौर में सुरीले हवा के झोंकों की तरह आए। 1983 में राम लक्ष्मण के संगीत में ’हमसे है ज़माना’ फ़िल्म के लिए भी उन्होंने एक गीत लिखे। 1980 में ’एक बार कहो’ फ़िल्म में बप्पी लाहिड़ी के संगीत में माया गोविंद ने एक गीत लिखे। येसु दास की आवाज़ में यह गीत "चार दिन की ज़िन्दगी है, प्यार के ये दिन, दो गए तेरे मिलने से पहले, दो गए तेरे बिन..." अपने ज़माने की एक बेहद लोकप्रिय रचना है जिसे आज भी बड़े चाव से सुना जाता है। माया गोविंद और बप्पी लाहिड़ी का साथ आगे भी जारी रहा। 1986 की फ़िल्म ’झूठी’ में रबीन्द्र संगीत की छाया लिए लता-किशोर का "चंदा देखे चंदा, तो वो चंदा शरमाये" एक अत्यन्त कर्णप्रिय गीत है। 1993 में ’दलाल’ फ़िल्म में "गुटुर गुटुर" गीत ब्लॉकबस्टर सिद्ध हुआ, लेकिन विवादित भी रहा दोहरे अर्थ की वजह से। 90 और 2000 के दशकों में माया गोविंद के गीतों के स्तर में भारी गिरावट दिखाई दी। "गुटुर गुटुर" के विवाद के बाद फ़िल्म ’नाजायज़’ का "दरवाज़ा खुला छोड़ आई नींद के मारे", ’डिस्को डान्सर’ का "लौंडा बदनाम हुआ" और ’हम तुम्हारे हैं सनम" का "गले में लाल टाई" जैसे सस्ते गीत उनकी झोली से निकले। 2001 में संगीतकार भूपेन हज़ारिका ने बरसों बाद फिर एक बार माया गोविंद से गीत लिखवाए फ़िल्म ’दमन’ में। "सुन सुन गोरिया क्या बोले मेरा कंगना" असमीया लोक धुन पर आधारित सुन्दर रचना है जिसे माया गोविंद ने सुन्दर शब्दों से सजाया। माया गोविंद की लिखी इस दौर की कुछ और लोकप्रिय गीत हैं - "यार को मैंने मुझे यार ने सोने ना दिया" (शीशा), "आँखों में बसे हो तुम, तुम्हे दिल में छुपा लूंगा" (टक्कर), "टहरे हुए पानी में कंकर ना मार सांवरे" (दलाल), "मेरा पिया घर आया ओ राम जी" (याराना), "चुन लिया मैंने तुम्हें" (बेक़ाबू), "आएगी वो आएगी दौड़ी चली आएगी" (अनमोल), "प्यार कर दीदार कर जो चाहे करले, हल्ले हल्ले" (आर या पार), और "मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी" (शीर्षक गीत)। फ़िल्म संगीत के शुरुआती दौर से लेकर 90 के दशक तक जितने भी महिला गीतकार आए, उनमें सबसे अधिक गीत माया गोविंद ने ही लिखे।

यहाँ आकर पूरी होती है ’हिन्दी फ़िल्मों के महिला गीतकार’ लेख की दूसरी कड़ी। इस लेख का तीसरा व अंतिम भाग ’चित्रकथा’ के आने वाले अंक में प्रकाशित की जाएगी।

आख़िरी बात

’चित्रकथा’ स्तंभ का आज का अंक आपको कैसा लगा, हमें ज़रूर बताएँ नीचे टिप्पणी में या soojoi_india@yahoo.co.in के ईमेल पते पर पत्र लिख कर। इस स्तंभ में आप किस तरह के लेख पढ़ना चाहते हैं, यह हम आपसे जानना चाहेंगे। आप अपने विचार, सुझाव और शिकायतें हमें निस्संकोच लिख भेज सकते हैं। साथ ही अगर आप अपना लेख इस स्तंभ में प्रकाशित करवाना चाहें तो इसी ईमेल पते पर हमसे सम्पर्क कर सकते हैं। सिनेमा और सिनेमा-संगीत से जुड़े किसी भी विषय पर लेख हम प्रकाशित करेंगे। आज बस इतना ही, अगले सप्ताह एक नए अंक के साथ इसी मंच पर आपकी और मेरी मुलाक़ात होगी। तब तक के लिए अपने इस दोस्त सुजॉय चटर्जी को अनुमति दीजिए, नमस्कार, आपका आज का दिन और आने वाला सप्ताह शुभ हो!




शोध,आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 



रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ