Rohan Kapoor लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Rohan Kapoor लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 21 जनवरी 2017

चित्रकथा - 3: महेन्द्र कपूर के गाए देश-भक्ति गीत


अंक - 3

महेन्द्र कपूर के गाए देश-भक्ति गीत


भारत की बात सुनाता हूँ...



'रेडियो प्लेबैक इण्डिया' के सभी श्रोता-पाठकों को सुजॉय चटर्जी का प्यार भरा नमस्कार। समूचे विश्व में मनोरंजन का सर्वाधिक लोकप्रिय माध्यम सिनेमा रहा है और भारत कोई व्यतिक्रम नहीं है। बीसवीं सदी के चौथे दशक से सवाक् फ़िल्मों की जो परम्परा शुरु हुई थी, वह आज तक जारी है और इसकी लोकप्रियता निरन्तर बढ़ती ही चली जा रही है। और हमारे यहाँ सिनेमा के साथ-साथ सिने-संगीत भी ताल से ताल मिला कर फलती-फूलती चली आई है। सिनेमा और सिने-संगीत, दोनो ही आज हमारी ज़िन्दगी के अभिन्न अंग बन चुके हैं। हमारी दिलचस्पी का आलम ऐसा है कि हम केवल फ़िल्में देख कर या गाने सुनने तक ही अपने आप को सीमित नहीं रखते, बल्कि फ़िल्म संबंधित हर तरह की जानकारियाँ बटोरने का प्रयत्न करते रहते हैं। इसी दिशा में आपके हमसफ़र बन कर हम आते हैं हर शनिवार ’चित्रकथा’ लेकर। ’चित्रकथा’ एक ऐसा स्तंभ है जिसमें बातें होंगी चित्रपट की और चित्रपट-संगीत की। फ़िल्म और फ़िल्म-संगीत से जुड़े विषयों से सुसज्जित इस पाठ्य स्तंभ के तीसरे अंक में आपका हार्दिक स्वागत है।  

आगामी 26 जनवरी को राष्ट्र अपना 68-वाँ गणतन्त्र दिवस मनाने जा रहा है। इस शुभवसपर पर हम आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ देते हैं। राष्ट्रीय पर्वों पर फ़िल्मी देश-भक्ति के गीतों का चलन शुरु से ही रहा है। और एक आवाज़ जिनके बिना ये पर्व अधूरे से लगते हैं, वह आवाज़ है गायक महेन्द्र कपूर की। उनकी बुलन्द पर सुरीली आवाज़ पाकर जैसे देश-भक्ति की रचनाएँ जीवन्त हो उठती थीं। आइए आज के इस विशेषांक में महेन्द्र कपूर के गाए फ़िल्मी देश भक्ति गीतों की चर्चा करें।




मारे देश के देशभक्तों और वीर सपूतों ने अपने अपने तरीकों से इस मातृभूमि की सेवा की है। और
इस राह में हमारे फ़िल्मी गीतकार, संगीतकार और गायकों का योगदान सराहनीय रहा है। गायकों की बात करें तो महेन्द्र कपूर ने अपनी बेशकीमती आवाज़ के माध्यम से देशभक्ति का अलख जगाया है जिसका प्रमाण समय-समय पर उनकी आवाज़ में हमें मिला है। भले सुनहरे दौर के शीर्षस्थ गायकों में सहगल, रफ़ी, तलत, किशोर, मुकेश और मन्ना डे के साथ महेन्द्र कपूर का नाम नहीं लिया गया, पर इसमें कोई संदेह नहीं कि देशभक्ति गीत गाने की कला में उनसे ज़्यादा पारदर्शी कोई नहीं। महेन्द्र कपूर की आवाज़ में देशभक्ति रस के गीत इतने जीवन्त, इतने प्रभावशाली लगते हैं कि वतन-परस्ती का जस्बा और बुलन्द हो जाता है। महेन्द्र कपूर की इसी ख़ूबी का कई संगीतकारों ने बख़ूबी इस्तमाल किया है जब जब उन्हें देशभक्ति के गीतों की ज़रूरत पड़ी अपनी फ़िल्मों में। इस देश पर शहीद होने वाले, इस देश की सेवा करने वाले और देशभक्ति की अग्नि प्रज्वलित करने वाले वतन परस्तों के पैग़ाम को आवाज़ तक पहुँचाने का महत्वपूर्ण काम करती आई है महेन्द्र कपूर की गाई हुई देशभक्ति की कालजयी रचनाएँ।

कुछ समय पहले जब मैंने महेन्द्र कपूर साहब के सुपुत्र रुहान (रोहन) कपूर से उनके पिता के बारे में
बातचीत की, तब उनसे मैंने यह सवाल किया था कि उन्हें कैसा लगता है जब 26 जनवरी और 15 अगस्त को पूरा देश उनके पिता के गाए देशभक्ति गीतों को सुनते हैं, गुनगुनाते हैं, गर्व से सीना चौड़ा हो जाता है और कभी कभी आँखें नम हो जाती हैं, तब उन्हें कैसा लगता है? इसके जवाब में रुहान जी ने कहा, "उनकी आवाज़ को सुनना तो हमेशा ही एक थ्रिलिंग् एक्स्पीरिएन्स रहता है, लेकिन ये दो दिन मेरे लिये बचपन से ही बहुत ख़ास दिन रहे हैं। उनकी जोशिली और बुलंद आवाज़ उनकी मातृभूमि के लिये उनके दिल में अगाध प्रेम और देशभक्ति की भावनाओं को उजागर करते हैं। और उनकी इसी ख़ासियत ने उन्हें 'वॉयस ऑफ़ इण्डिया' का ख़िताब दिलवाया था। वो एक सच्चे देशभक्त थे और मुझे नहीं लगता कि उनमें जितनी देशभक्ति की भावना थी, वो किसी और लीडर में होगी। He was a human par excellence! अगर मैं यह कहूँ कि वो मेरे सब से निकट के दोस्त थे तो ग़लत न होगा। I was more a friend to him than anybody on planet earth। हम दुनिया भर में साथ साथ शोज़ करने जाया करते थे और मेरे ख़याल से हमने एक साथ हज़ारों की संख्या में शोज़ किये होंगे। वो बहुत ही मिलनसार और इमानदार इंसान थे, जिनकी झलक उनके सभी रिश्तों में साफ़ मिलती थी।"

शोज़ की बात चल पड़ी है तो महेन्द्र कपूर ने ’विविध भारती’ के ’जयमाला’ कार्यक्रम में फ़ौजी जवानों को संबोधित करते हुए एक बार कहा था, "हम सब इस देश के निवासी हैं, हम सभी को यह देश बहुत प्यारा है। हमें इस पर मान है और होना भी चाहिए क्योंकि पूरी दुनिया में ऐसा देश और कहीं नहीं है। मैं जब भी बाहर यानी फ़ौरेन जाता हूँ, देश की यादें साथ लेकर जाता हूँ, और इस गाने से हर प्रोग्राम शुरु करता हूँ।" और यह गाना है फ़िल्म ’पूरब और पश्चिम’ का, "है प्रीत जहाँ की रीत सदा, मैं गीत वहाँ के गाता हूँ, भारत का रहने वाला हूँ, भारत की बात सुनाता हूँ"। इस फ़िल्म के इस सर्वाधिक लोकप्रिय गीत के अलावा महेन्द्र कपूर की आवाज़ से सजे दो और देशभक्ति गीत थे, "दुल्हन चली बहन चली तीन रंग की चोली" (लता के साथ) और "पूर्वा सुहानी आई रे" (लता और मनहर के साथ)।

भले हमने पहले ’पूरब और पश्चिम’ की बात कर ली, पर महेन्द्र कपूर, मनोज कुमार और देशभक्ति गीत की तिकड़ी की यह पहली फ़िल्म नहीं थी। इस तिकड़ी की पहली फ़िल्म थी 1965 की ’शहीद’ जिसमें मनोज कुमार ने शहीद भगत सिंह की भूमिका अदा की थी। महेन्द्र कपूर, मुकेश और राजेन्द्र मेहता का गाया "मेरा रंग दे बसन्ती चोला माय रंग दे" अत्यधिक लोकप्रिय हुआ था। बाद में समय समय पर इस गीत के कई संस्करण बने पर ’शहीद’ फ़िल्म के इस गीत का स्थान हमेशा शीर्षस्थ रहा। इसके दो वर्ष बाद मनोज कुमार लेकर आए अपनी अगली फ़िल्म ’उपकार’। इस गीत में महेन्द्र कपूर के गाए "मेरे देश की धरती सोना उगले" ने तो इतिहास रच डाला। इस गीत के लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। और फिर आया 1970 जब ’पूरब और पश्चिम’ प्रदर्शित हुई।

70 के दशक में भी मनोज कुमार और महेन्द्र कपूर की जोड़ी बरक़रार रही हालाँकि इस दशक में मनोज कुमार ने देशभक्ति की कोई फ़िल्म नहीं बनाई। 1970 की फ़िल्म ’होली आई रे’ में महेन्द्र कपूर का गाया
"चल चल रे राही चल रे" भले सीधे-सीधे देशभक्ति गीत ना हो, पर देश की उन्नति के लिए सही राह पर चलने का सीख ज़रूर देती है। इसी तरह से 1972 की फ़िल्म ’शोर’ में आंशिक रूप से देशभक्ति गीत "जीवन चलने का नाम, चलते रहो सुबह शाम" में मन्ना डे और श्यामा चित्तर के साथ महेन्द्र कपूर ने अपनी जोशिली आवाज़ मिलाई और इस गीत को एक सुमधुर अंजाम दिया। और फिर आया 1981 का साल और प्रादर्शित हुई ’क्रान्ति’। और एक बार फिर से मनोज कुमार और महेन्द्र कपूर ने देशभक्ति गीतों की परम्परा को आगे बढ़ाया। महेन्द्र कपूर की एकल आवाज़ में "अब के बरस तुझे धरती की रानी कर देंगे" ने सिद्ध किया कि 80 के दशक में भी उनसे बेहतर देशभक्ति गीत गाने वाला दूसरा कोई नहीं। इसी फ़िल्म में लता मंगेशकर, मन्ना डे, शैलेन्द्र सिंह और नितिन मुकेश के साथ "दिलवाले तेरा नाम क्या है, क्रान्ति क्रान्ति" गीत में महेन्द्र कपूर की आवाज़ की गूंज दिल को छू गई। ’क्रान्ति’ के बाद मनोज कुमार की देशभक्ति की फ़िल्में दर्शकों के दिलों को छू न सकी और फ़िल्में फ़्लॉप होती गईं। ऐसी ही एक फ़्लॉप फ़िल्म थी 1989 की ’क्लर्क’ जिसमें महेन्द्र कपूर के दो देशभक्ति गीत थे; पहला लता मंगेशकर के साथ "झूम झूम कर गाओ रे, आज पन्द्रह अगस्त है" तथा दूसरा गीत उनकी एकल आवाज़ में था "कदम कदम बढ़ाए जा, ख़ुशी के गीत गाएजा"। इस गीत को भी पहले कई कलाकारों ने गाया होगा, पर महेन्द्र कपूर की बुलन्द आवाज़ ने इस गीत के जस्बे को आसमाँ तक पहुँचा दिया।

महेन्द्र कपूर ने केवल मनोज कुमार ही की फ़िल्मों में देशभक्ति गीत गाए हैं ऐसी बात नहीं है। उपलब्ध जानकारी के अनुसार महेन्द्र कपूर का गाया पहला फ़िल्मी देशभक्ति गीत आया था 1959 की फ़िल्म ’नवरंग’ में। कहना ज़रूरी है कि ’सोहनी महिवाल’ के बाद ’नवरंग’ ही वह फ़िल्म थी जिसमें महेन्द्र कपूर के गाए गीतों ने उन्हें पहली-पहली बड़ी सफलता दिलाई थी। भरत व्यास के लिखे देशभक्ति गीत "ना राजा रहेगा, ना रानी रहेगी, यह दुनिया है फ़ानी फ़ानी रहेगी, ना जब एक भी ज़िन्दगानी रहेगी, तो माटी सबकी कहानी कहेगी" को गा कर महेन्द्र कपूर ने पहली बार देशभक्ति गीत की उनकी अपार क्षमता का नमूना प्रस्तुत किया था। इस गीत में छत्रपति शिवाजी और झांसी की रानी लक्ष्मीबाई जैसे वीरों का उल्लेख मिलता है। इस फ़िल्म के बाद 1963 की फ़िल्म ’कण कण में भगवान’ में महेन्द्र कपूर को देशभक्ति गीत गाने का मौका मिला। गीतकार एक बार फिर भरत व्यास। इनका लिखा और शिवराम कृष्ण का स्वरबद्ध किया यह गीत था "भारत भूमि महान है, तीर्थ इसके प्राण, चारों दिशा में चौमुख दीप से इसके चारों धाम है"। 

1965 में ’शहीद’ के अलावा एक और उल्लेखनीय फ़िल्म थी ’सिकन्दर-ए-आज़म’ जिसमें रफ़ी साहब का गाया "वो भारत देश है मेरा" सर्वश्रेष्ठ देशभक्ति गीतों में शामिल होने वाला गीत था। इसी फ़िल्म में महेन्द्र कपूर ने भी एक सुन्दर देशभक्ति गीत गाया "ऐ माँ, तेरे बच्चे कई करोड़..."। अगर रफ़ी साहब के गीत में भारत का गुणगान हुआ है तो राजेन्द्र कृष्ण के लिखे महेन्द्र कपूर के इस गीत में देश के लिए मर मिटने का जोश जगाया गया है। संगीतकार हंसराज बहल का इस गीत के लिए महेन्द्र कपूर की आवाज़ को चुनना उचित निर्णय था। हमारी महान संस्कृति ने हमारी इस धरती को दिए हैं अनगिनत ऐसी संताने जो इस देश पर मत मिट कर हमें भी इसी राह पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं। अपनी शौर्य और पराक्रम की गाथा से हमें देश पर अपना सर्वस्व न्योछावर करने की पाठ पढ़ाते हैं। और ऐसी ही महामानवों की अमर गाथा को अपनी आवाज़ से और ओजस्वी बना दिया है महेन्द्र कपूर ने। 1972 में एक देशभक्ति फ़िल्म बनी थी ’भारत के शहीद’ के शीर्षक से। देशभक्ति गीतों के गुरु प्रेम धवन को गीतकार-संगीतकार के रूप में लिया गया। इस फ़िल्म में यूं तो कई देशभक्ति गीत थे, पर सर्वाधिक लोकप्रिय गीत सिद्ध हुआ महेन्द्र कपूर का गाया "संभालो ऐ वतन वालों, वतन अपना संभालो"। इन्हीं की आवाज़ में इस फ़िल्म के दो और गीत थे "मोहनदास करमचन्द गांधी, परम पुजारी अहिंसा के" और "इधर सरहद पे बहता है लहू अपने जवानों का"। 1975 में युद्ध पर बनी फ़िल्म ’आक्रमण’ में आशा भोसले के साथ मिलकर महेन्द्र कपूर ने एक देशभक्ति क़व्वाली गाई जिसके बोल थे "पंजाबी गाएंगे, गुजराती गाएंगे, आज हम सब मिल कर क़व्वाली गाएंगे"। सीधे-सीधे देशभक्ति गीत ना होते हुए भी राष्ट्रीय एकता की भावना को बढ़ावा देता है यह गीत।

80 के दशक में महेन्द्र कपूर के कई देशभक्ति गीत सुनाई दिए। ’होली आई रे’, ’उपकार’ और ’पूरब और पश्चिम’ में कल्याणजी-आनन्दजी संगीतकार थे तो ’शोर’ और ’क्रान्ति’ में लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल। 80 के दशक में लक्ष्मी-प्यारे ने महेन्द्र कपूर से कई गीत गवाए। 1981 की ’क्रान्ति’ के बाद 1982 की फ़िल्म ’राजपूत’ में मनहर और हेमलता के साथ उनका गाया "सबने देश का नाम लिया, हमने दिल को थाम लिया" गीत था। 1985 की फ़िल्म ’सरफ़रोश’ में भी लक्ष्मी-प्यारे ने कपूर साहब से देशभक्ति गीत गवाए जिसके बोल थे "तन्दाना तन्दाना, याद रखना भूल ना जाना, वीर अमर शहीदों की यह क़ुरबानी, देश भक्त भगत सिंह की यह कहानी"। इस गीत में सुरेश वाडकर ने भी अपनी आवाज़ मिलाई। 1987 की फ़िल्म ’वतन के रखवाले’ में तो एल.पी. ने महेन्द्र कपूर से फ़िल्म का शीर्षक गीत ही गवा डाला, जिसके सुन्दर बोल थे "जिस धरती के अंग अंग पर रंग शहीदों ने डाले, उस धरती को दाग़ लगे ना देख वतन के रखवाले"। ये बोल थे मजरूह सुल्तानपुरी के।

एक और संगीतकार जिनके लिए महेन्द्र कपूर ने बहुत से गाए हैं, वो हैं रवि। फ़िल्म ’हमराज़’ में "ना मुंह छुपा के जियो और ना सर झुका के जियो" को देशभक्ति गीत तो नहीं कहा जा सकता, पर सर उठा कर जीने की सलाह ज़रूर दी गई है। आगे चल कर 80 के दशक में बी. आर. चोपड़ा की फ़िल्मों में रवि साहब के संगीत निर्देशन में महेन्द्र कपूर ने बहुत से गीत गाए जिनमें कुछ देशभक्ति गीत भी थे। 1984 की फ़िल्म ’आज की आवाज़’ में शीर्षक गीत सहित दो देशभक्ति गीत थे। शीर्षक गीत "आज की आवाज़ जाग ऐ इंसान" और दूसरा गीत था "रो रो कर कहता है हिमालय और गंगा का पानी, आज़ादी पा कर भी हमने क़दर ना इसकी जानी, भारत तो है आज़ाद हम आज़ाद कब कहलाएंगे, कभी रामराज के दिन अब आयेंगे कि ना आयेंगे"। गीतकार हसन कमाल। 1987 की फ़िल्म ’आवाम’ में भी रवि का संगीत था जिसमें हसन कमाल ने "रघुपति राघव राजा राम" गीत को आगे बढ़ाते हुए लिखा है "ऐ जननी ऐ हिन्दुस्तान तेरा है हम पर अहसान, तेरी ज़मीं पर जनम लिया जब मैं बढ़ी तब अपनी शान, तन मन धन तुझपे कुरबान कोटी कोटी है तुझको प्रणाम, रघुपति राघव राजा राम"। इस गीत को महेन्द्र कपूर और आशा भोसले ने गाया था।

बी. आर. चोपड़ा ने 1983 में ’मज़दूर’ शीर्षक से एक फ़िल्म बनाई थी जिसके संगीत के लिए राहुल देव बर्मन को साइन करवा कर सभी को आश्चर्यचकित कर दिया था। और पंचम ने भी चोपड़ा साहब की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए महेन्द्र कपूर के लिए तैयार किया एक देशभक्ति गीत। एक बार फिर हसन कमाल के लिखे इस गीत ने धूम मचाई। गीत के बोल थे "हम मेहनतकश इस दुनिया से जब अपना हिस्सा माँगेंगे, एक बाग़ नहीं एक खेत नहीं हम सारी दुनिया माँगेंगे..."। मज़दूरों की आवाज़ बन कर महेन्द्र कपूर की आवाज़ ऐसी गूंजी कि फ़िल्म के फ़्लॉप होने के बावजूद यह गीत रेडियो पर सालों तक देशभक्ति गीतों के कार्यक्रम में बजता रहा। 1984 में एक कमचर्चित फ़िल्म आई थी ’आज के शोले’ जिसमें सत्यम और कमलकान्त का संगीत था। इस फ़िल्म के शुरुआती सीन में ही महेन्द्र कपूर का गाया एक देशभक्ति गीत था जिसके बोल हैं "वतन की आबरू पर जान देने वाले जागे हैं, हमारे देश के बच्चे ज़माने भर से आगे हैं, लेके सर हथेली पर ये नन्ही नन्ही जाने, आज चली है दुनिया से ये ज़ुल्म का नाम मिटाने"।

इस तरह से महेन्द्र कपूर ने हर दौर के गीतकारों और संगीतकारों के लिए देशभक्ति गीत गाए। सी. रामचन्द्र, शिवराम कृष्ण, हंसराज बहल, प्रेम धवन, कल्याणजी-आनन्दजी, रवि, लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल, राहुल देव बर्मन, उत्तम-जगदीश के संगीत में महेन्द्र कपूर की बुलन्द आवाज़ ने भरत व्यास, प्रेम धवन, मजरूह, इन्दीवर, हसन कमाल, संतोष आनन्द जैसे गीतकारों की रचनाओं को अमर बना दिया। जब जब वतन की आन-बान और यशगाथा के वर्णन करने की बात आती थी किसी गीत में, तब तब महेन्द्र कपूर की आवाज़ जैसे और प्रखर हो उठती थी, और पूरे जोश के साथ निकल पड़ती थी उनकी ज़ुबान से।

आपकी बात

’चित्रकथा’ की पहली कड़ी को आप सभी ने सराहा, जिसके लिए हम आपके आभारी हैं। इस कड़ी की रेडरशिप 13 जनवरी तक 154 आयी है। हमारे एक पाठक श्री सुरजीत सिंह ने यह सुझाव दिया है कि क्यों ना इसे हिन्दी और अंग्रेज़ी, दोनों भाषाओं में प्रकाशित की जाए! सुरजीत जी, आपका सुझाव बहुत ही अच्छा है, लेकिन फ़िलहाल समयाभाव के कारण हम ऐसा कर पाने में असमर्थ हैं। भविष्य में अवकाश मिलने पर हम इस बारे में विचार कर सकते हैं, पर इस वक़्त ऐसा संभव नहीं, इसके लिए हमें खेद है।

आख़िरी बात

’चित्रकथा’ स्तंभ का आज का अंक आपको कैसा लगा, हमें ज़रूर बताएँ नीचे टिप्पणी में या soojoi_india@yahoo.co.in के ईमेल पते पर पत्र लिख कर। इस स्तंभ में आप किस तरह के लेख पढ़ना चाहते हैं, यह हम आपसे जानना चाहेंगे। आप अपने विचार, सुझाव और शिकायतें हमें निस्संकोच लिख भेज सकते हैं। साथ ही अगर आप अपना लेख इस स्तंभ में प्रकाशित करवाना चाहें तो इसी ईमेल पते पर हमसे सम्पर्क कर सकते हैं। सिनेमा और सिनेमा-संगीत से जुड़े किसी भी विषय पर लेख हम प्रकाशित करेंगे। आज बस इतना ही, अगले सप्ताह एक नए अंक के साथ इसी मंच पर आपकी और मेरी मुलाक़ात होगी। तब तक के लिए अपने इस दोस्त सुजॉय चटर्जी को अनुमति दीजिए, नमस्कार, आपका आज का दिन और आने वाला सप्ताह शुभ हो!


शोध,आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 
प्रस्तुति सहयोग : कृष्णमोहन मिश्र  


रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ