Showing posts with label online release of book. Show all posts
Showing posts with label online release of book. Show all posts

Tuesday, May 17, 2011

सजीव सारथी के काव्य संग्रह "एक पल की उम्र लेकर" का ऑनलाइन विमोचन और लघु फिल्म "नौ महीने" का प्रीमियर

सजीव सारथी हिंद युग्म से २००७ में जुड़े थे बतौर कवि. युग्म की स्थायी सदस्यता मिलने के बाद वो लगातार १ साल तक निरंतर कविताओं के माध्यम से पाठकों से जुड़े रहे. २००७ के अंतिम महीनों में अल्बम "पहला सुर" पर उन्होंने काम शुरू किया जो इन्टरनेट पर संगीत को नए सिरे से प्रस्तुत करने की दिशा में एक अहम कदम साबित हुआ. २००८ में रीलिस हुई अल्बम "पहला सुर" संगीत के एक नए युग की शुरुआत लेकर आया. बहुत से नए संगीत कर्मियों ने हिंद युग्म से जुड़ने की इच्छा जाहिर की और यहीं जरुरत महसूस हुई एक नए घटक "आवाज़" के शुभारंभ की. जुलाई २००८ में शुरू हुए आवाज़ ने कुछ ऐसे काम कर दिखाए जिन्हें बड़ी बड़ी संगीत कम्पनियाँ भी अपने बैनर पर करते हिचकते हैं. सजीव ने सुजॉय, अनुराग शर्मा, विश्व दीपक तन्हा, सुमित और रश्मि प्रभा जैसे कार्यकर्ताओं के दम पर आवाज़ का एक बड़ा कुनबा तैयार किया. इसी बीच सजीव का रचना कर्म भी निरंतर जारी रहा. एक गीतकार के रूप में भी और कविता के माध्यम से भी. उनके रेडियो साक्षात्कारों को सुनने के बाद केरल के एक प्रकाशक ने उनकी कविताओं का संग्रह निकालने की पेशकश की. २०११ अप्रैल में इस संग्रह की पहली प्रति उनके हाथ आई. प्रथम संस्करण में इस पुस्तक की ५००० प्रतियाँ छपी जा रही है, आवाज़ पर आज इसी पुस्तक का ऑनलाइन विमोचन है. आपने नीचे दिए गए चित्र जहाँ "फीता काटें" लिखा है वहाँ खटका लगाना है और करना है इस कविता संग्रह "एक पल की उम्र लेकर" का विधिवत विमोचन.



धन्येवाद

इस संग्रह की अधिकतर कविताओं में सजीव का शहर दिल्ली एक अहम किरदार के रूप में मौजूद दिखाई देता है. तो विचार हुआ कि क्यों न जन साधारण को समर्पित ये कवितायें दिल्ली के कुछ एतिहासिक स्थानों पर आम लोगों के हाथों भी विमोचित की जाए. नीचे के स्लाईड शो में इसी विमोचन की कुछ तस्वीरें हैं, देखिये...



आम तौर पर आवाज़ पर हुए सभी पुस्तक विमोचनों में हम प्रस्तुत पुस्तक की कविताओं को विभिन्न आवाजों में पेश करते आये हैं. पर चूँकि सजीव विविधता में विश्वास रखते हैं तो हमने सोचा कि क्यों न यहाँ भी कुछ नया किया जाए. इसलिए हमने पुस्तक की कुछ कविताओं को एक लघु फिल्म के माध्यम से पेश करने की योजना बनायीं जिसे नाम दिया है "द अवेकनिंग सीरिस" का, इस शृंखला की पहली कड़ी के रूप में एक लघु फिल्म "दोहराव" हम पेश कर चुके हैं. आज पुस्तक के इस विधिवत विमोचन के साथ हम पेश कर रहे हैं इस कड़ी की दूसरी पेशकश - "नौ महीने". सजीव की इस कविता को स्वर दिया है जाने माने आर जे प्रदीप शर्मा जी ने, वीडियो को सम्पादित किया है आधारशिला फिल्म्स के लिए जॉय कुमार ने, संगीत है ऋषि एस का और पब्लिशिंग पार्टनर हैं हेवन्ली बेबी बुक्स, कोच्ची, जिनके माध्यम से ये पुस्तक बाज़ार में आज उपलब्ध हो पायी है.



आपकी राय और सुझावों का हमें इंतज़ार रहेगा. इस ऑनलाइन विमोचन में शामिल होने के लिए धन्येवाद.

Saturday, October 17, 2009

एक ऑडियो-वीडियो पुस्तक अमृता-इमरोज़ के नाम

रश्मि प्रभा
अमृता-इमरोज़ के प्रेम-सम्बन्धों को अमृता की कविताओं और इमरोज़ की पेंटिंगों के माध्यम से देखने वालों ने जितना महसूसा है, वह उन्हें भावातिरेक से उपजी यूटोपिया पर पहुँचा देता है, जहाँ जिस्मानी आकर्षण का ज़ादू भी आध्यात्मिक प्यार की डगर की तरह दिखता है। अमृता की कविताओं के रसज्ञ कविताओं को पढ़कर न तो अपनी बेचैनी ज़ाहिर कर पाते हैं और न किसी तरह का सुकूँन महसूस कर पाते हैं। उन्हें लगता है कि घर की दीवारें, हवा, पानी मौसम, दिन-रात सब तरफ अमृता-इमरोज़ के किस्सों के साये हैं।

प्यार के रुहानी सफर की प्रसंशक यदि कोई महिला हो और वह भी कवि हृदयी, तो यह लगभग तयशुदा बात है कि अमृता की नज्मों में वह खुद को उतारने लगती है। अमृता-इमरोज के सम्बंधों में उसे हर तरह के आदर्श प्रेम संबंधों की छाया दिखती है। अमृता की हर अभिव्यक्ति उसे अपनी कहानी लगती है और इमरोज़ की पेंटिंगों से भी कोई न कोई आत्मिक सम्बंध जोड़ लेती है।

इसी तरह की एक अति सम्वेदनशील कवयित्री रश्मि प्रभा की आडियो-पुस्तक का विमोचन आज हम अपने श्रोताओं के हाथों करा रहे हैं। रश्मि प्रभा की कविताओं के इस संग्रह (कुछ उनके नाम) की ख़ास बात यही है कि इसकी हर कविता अमृता और इमरोज़ को समर्पित है। इनकी कविताओं में प्रेम का विहान है, सुबह है, दोपहर, शाम और रात है और इसके बाद शुरू होती प्रेम की अनंत यात्रा के संकेत हैं।

रश्मि की दृष्टि में अमृता के जीवन के किसी भी आयाम का हर सफहा इमरोज़ के नाम है। इमरोज़ अमृता का बिस्तर भी है, भोजन भी है, खुदा भी है, आदि भी है और अंत भी।

मेरा मानना है कि अमृता की कविताएँ प्रेम की जो दुनिया बनाती हैं, लगभग उसी दुनिया का विस्तार प्रस्तुत ऑडियो-बुक की नज़्मों में हमें मिलता है।

--शैलेश भारतवासी


कविता-प्रेमियो,

आज आप इसी ऑडियो-किताब का लोकार्पण अपने हाथों कीजिए। माउस को कैची समझकर नीचे दिख रहे एलबम का फीता काटिए॰॰॰



हमने अमृता-इमरोज़ को और अधिक समझने के लिए अमृता की कविताओं और इमरोज़ की पेंटिंगों को नज़दीक से महसूसने वालीं रंजना भाटिया और जेन्नी शबनम से संपर्क किया। रंजना भाटिया एक प्रसिद्ध ब्लॉगर हैं और 'अमृता प्रीतम की याद में' नाम से एक ब्लॉग चलाती हैं। जेन्नी शबनम इमरोज़ से अक्सर मिलती रहती हैं और इमरोज़-अमृता के रुहानी सफर की चश्मदीद भी हैं, शायद जेन्नी इमरोज़ की पेंटिंगों के संदेशों को बहुत अच्छे से समझती हैं। तो पढ़िए इन दोनों के विचार॰॰॰


जेन्नी शबनम
अमृता जी और इमरोज़ जी मेरे साहित्य सफ़र के प्रेरणा-स्रोत हैं। इमरोज़ जी की वजह से आज यहाँ मैं अपनी रचनाएँ सार्वजनिक रूप से प्रेषित करने का साहस कर सकी हूँ। मेरी ये चंद पँक्तियाँ जो कभी मैं उनके बारे में लिखी थी और सबसे पहले इमरोज़ जी को सुनाई थी-

बहुत तलाशी हूँ,
कोई और अमृता नहीं मिलती,
न कोई और इमरोज़ मिलता।
एक युग में,
एक ही अमृता-इमरोज़ होते,
कोई दूसरा नहीं होता।
प्यार, दोस्ती, नाते, रिश्ते,
सारे बंधनों से परे,
दो रूहानी हमसफ़र...
अमृता और इमरोज़।


-----जेन्नी शबनम
रंजना भाटिया
हर बार अमृता जी के लिखे को पढ़ना एक नया अनुभव दे जाता है ..और एक नई सोच ..वह एक ऐसी शख्सियत थी जिन्होंने ज़िंदगी अपनी शर्तों पर जी ..एक किताब में उनके बारे में लिखा है कि हीर के समय से या उस से पहले भी वेदों-उपनिषदों के समय से गार्गी से लेकर अब तक कई औरतों ने अपनी मर्जी से जीने और ढंग से जीने की जरुरत तो की पर कभी उनकी जरुरत को परवान नहीं चढ़ने दिया गया और अंत दुखदायी ही हुआ! आज की औरत का सपना जो अपने ढंग से जीने का है वह उसको अमृता-इमरोज़ के सपने सा देखती है ..ऐसा नहीं है कि अमृता अपनी परम्पराओं से जुड़ी नहीं थीं ..वह भी कभी-कभी विद्रोह से घबरा कर हाथों की लकीरों और जन्म के लेखो जोखों में रिश्ते तलाशने लगती थीं, और जिस समय उनका इमरोज़ से मिलना हुआ उस वक्त समाज ऐसी बातों को बहुत सख्ती से भी लेता था ..पर अमृता ने उसको जी के दिखाया ..

वह ख़ुद में ही एक बहुत बड़ी लीजेंड हैं और बंटवारे के बाद आधी सदी की नुमाइन्दा शायरा और इमरोज़ जो पहले इन्द्रजीत के नाम से जाने जाते थे, उनका और अमृता का रिश्ता नज्म और इमेज का रिश्ता था। अमृता की नज़में पेंटिंग्स की तरह खुशनुमा हैं, फिर चाहे वह दर्द में लिखी हों या खुशी और प्रेम में वह और इमरोज़ की पेंटिंग्स मिल ही जाती है एक दूजे से !!

मुझे उनकी लिखी इस पर एक कविता याद आई ..

तुम्हें ख़ुद से जब लिया लपेट
बदन हो गए ख्यालों की भेंट
लिपट गए थे अंग वह ऐसे
माला के वो फूल हों जैसे
रूह की वेदी पर थे अर्पित
तुम और मैं अग्नि को समर्पित
यूँ होंठो पर फिसले नाम
घटा एक फिर धर्मानुष्ठान
बन गए हम पवित्र स्रोत
था वह तेरा मेरा नाम
धर्म विधि तो आई बाद !!


अमृता जी ने समाज और दुनिया की परवाह किए बिना अपनी ज़िंदगी जी। उनमें इतनी शक्ति थी की वह अकेली अपनी राह चल सकें। उन्होंने अपनी धारदार लेखनी से अपन समय की सामजिक धाराओं को एक नई दिशा दी थी!!बहुत कुछ है उनके बारे में लिखने को ....पर जितना लिखा जाए उतना काम है ...

अभी उन्हीं की लिखी एक सुंदर कविता से अपनी बात को विराम देती हूँ ..

मेरे शहर ने जब तेरे कदम छुए
सितारों की मुट्ठियाँ भरकर
आसमान ने निछावर कर दीं

दिल के घाट पर मेला जुड़ा,
ज्यूँ रातें रेशम की परियाँ
पाँत बाँध कर आईं......

जब मैं तेरा गीत लिखने लगी
काग़ज़ के ऊपर उभर आयीं
केसर की लकीरें

सूरज ने आज मेहंदी घोली
हथेलियों पर रंग गयी,
हमारी दोनो की तकदीरें


--रंजना भाटिया


कवयित्री की ही आवाज़ में सुनिए सम्पूर्ण पुस्तक-


आवाज़ की इंजीनियर खुश्बू ने पूरी पुस्तक का चित्रों से भरा एक वीडियो बनाया है। आशा है यह भी आपको पसंद आयेगा।

Saturday, March 14, 2009

अपने हाथों कीजिए कहानी-संग्रह 'डर' (नवलेखन पुरस्कार से सम्मानित) का विमोचन

जैसाकि आपने १२ मार्च को ख़बरों में पढ़ा था कि १४ मार्च २००९ को सुबह ११ बजे हिन्दी भवन, आईटीवो, नई दिल्ली में दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के हाथों १३ नई साहित्यिक कृतियों का विमोचन होगा। इन १३ पुस्तकों में हिन्द-युग्म के कहानीकार विमल चंद्र पाण्डेय का प्रथम कहानी-संग्रह 'डर' भी शामिल है। उल्लेखनीय है भारत की सर्वोच्च साहित्यिक संस्था भारतीय ज्ञानपीठ द्वारा हर वर्ष दो लेखकों की कृतियों (एक गद्य तथा दूसरा पद्य में) को नवलेखन पुरस्कार दिया जाता है, जिसमें रु २५,००० ना नग़द इनाम और उस संग्रह का प्रकाशन शामिल है। वर्ष २००८ के गद्य का नवलेखन पुरस्कार विमल चंद्र पाण्डेय को उनके पहले कहानी-संग्रह 'डर' के लिए दिया गया है।

आज सुबह ११ बजे इस पुस्तक का विमोचन भी होगा, इसी कार्यक्रम में विमल चंद्र पाण्डेय का कथापाठ भी होगा। अभी कुछ महीने पहले से हमने राकेश खण्डेलवाल के पहले कविता (गीत)-संग्रह 'अंधेरी रात का सूरज' का पॉडकास्ट और ऑनलाइन विमोचन कर हिन्दी पुस्तकों के विमोचन करने की परम्परा को नया रूप दिया है। अनुराग शर्मा तथा अन्य ५ कवियों के पहले कविता-संग्रह 'पतझड़ सावन बसंत बहार' की कविताओं को रचनाकार की ही आवाज़ में रिकॉर्ड कर पॉडकास्ट कवि सम्मेलन में जोड़कर विमोचन को और व्यापक किया था। हमारे ऑनलाइन विमोचन की ख़ास बात यह है कि इसमें हर पाठक व श्रोता अपने हाथों पुस्तक का विमोचन करता है, माउस रूपी कैंची से ग्राफिक्स रूपी फीते को काटकर।

आज हम इस कड़ी में एक और नया पृष्ठ जोड़ रहे हैं, जिसके तहत विमल चंद्र पाण्डेय के प्रथम कथा-संग्रह 'डर' का ऑनलाइन व पॉडकास्ट विमोचन आपके हाथों करवा रहे हैं। नीचे के ग्राफिक्स से आप सारी बात समझ जायेंगे।

'डर' कहानी-संग्रह की सभी कहानियाँ पढ़ने के लिए यहाँ जायें।

हम इस विमोचन में संग्रह की रचना/रचनाओं का पॉडकास्ट भी प्रसारित करते हैं। 'डर' कहानी-संग्रह से सुनिए कहानी 'स्वेटर' का पॉडकास्ट। कहानी में आवाज़ें हैं शोभा महेन्द्रू और शिवानी सिंह की। कहानी को आप यहाँ पढ़ भी सकते हैं।

(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)




यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)

VBR MP3 64Kbps MP3 Ogg Vorbis


आज हिन्द-युग्म के शैलेश भारतवासी विमोचन को रिकॉर्ड करने की भी कोशिश करेंगे। जिसमें विमल चंद्र पाण्डेय का कथापाठ भी होगा।

आपको याद दिला दें कि इन तेरह किताबों में हिन्द-युग्म के यूनिग़ज़लप्रशिक्षक पंकज सुबीर के पहले कहानी-संग्रह 'ईस्ट इंडिया कम्पनी' का विमोचन भी शामिल हैं। इस कहानी-संग्रह का विमोचन करने के लिए तथा अनुराग शर्मा की आवाज़ में इस कहानी-संग्रह की शीर्षक कहानी का कथापाठ सुनने के लिए यहाँ जायें।।



Saturday, October 11, 2008

अँधेरी रात का सूरज - राकेश खंडेलवाल के बहुप्रतीक्षित काव्य संग्रह का ऑनलाइन विमोचन

कौन हूँ मैं, ये मैं भी नहीं जानता, आईने का कोई अक्स बतलायेगा असलियत क्या मेरी, मैं नहीं मानता..."

अपने ब्लॉग गीत कलश पर ये परिचय लिखने वाले राकेश खंडेलवाल जी ख़ुद को जाने या न जाने पर समस्त ब्लॉग्गिंग जगत उन्हें उनकी उत्कृष्ट कविताओं के माध्यम से जानता भी है और पहचानता भी है. आज उनकी प्रतीक्षित पुस्तक "अँधेरी रात का सूरज" का लोकार्पण है. चूँकि राकेश जी का प्रवास अमेरिका में है तो औपचारिक विमोचन आज राजधानी मंदिर औडीटोरियम में, वर्जीनिया और वाशिंगटन हिन्दी समिति द्वारा शाम ६.३० बजे डा० सत्यपाल आनंद (उर्दू,हिन्दी,पंजाबी और अंग्रेजी के विश्व प्रसिद्ध लेखक व कवि ), कनाडा से समीर लाल, न्यू जर्सी से अनूप एवं रजनी भार्गव, राले (नार्थ केरोलाइना) से डा० सुधा ढींगरा, न्यू जर्सी से ही सुरेन्द्र तिवारी, फिलाडेल्फिया से घनश्याम गुप्ता की उपस्थिति में होना है, जहाँ स्थानीय कवि एवं साहित्यकारों में श्री गुलशन मधुर ( भारत में विविध भारती के उद्घोषक रहे हैं ) मधु माहेश्वरी, डा० विशाखा ठाकर, बीना टोडी, रेखा मैत्र, डा० सुमन वरदान, डा० नरेन्द्र टंडन भी उपस्तिथ रहेंगे ऐसी सम्भावना है.

उधर सीहोर में पुस्तक के प्रकाशक, शिवना प्रकाशन ने जो आयोजन रखा है उसमें अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों की जानी मानी कवियित्री मोनिका हठीला के हाथों विमोचन होगा । वहीं हिंदी की मनीषी विद्वान तथा प्रोफेसर डॉ श्रीमती पुष्पा दुबे "अंधेरी रात का सूरज" पर अपनी विशेष टिप्‍पणी करेंगीं । इस आयोजन में शहर के सभी कवि साहित्यकार तथा पत्रकार उपस्थित रहेंगें.

अब अगर आप वॉशिंगटन नही जा सकते और सीहोर पहुँचाना भी आपके लिए मुश्किल हो तो क्या करें ? घबराईये नही, हिंद युग्म आवाज़ आज अपने इस अनूठे प्रयास के माध्यम से न सिर्फ़ आपको इस आयोजन से जोड़े रखेगा बल्कि आज आप इस पुस्तक की पहली झलक पाने वाले पहले पाठक/श्रोता होंगे. हमारा मानना है कि आवाज़ पर पधारने वाला हर अतिथि हमारे लिए विशेष है, इसीलिए हम चाहेंगे कि यह पुस्तक जो कि पाठकों के लिए बनी है, ख़ुद पाठकों के हाथों से इसका विमोचन हो.

तो दोस्तों बस एक क्लिक से करें राकेश जी के काव्य संग्रह का विमोचन -



स्वागत करें श्री राकेश खंडेलवाल जी का, कि वो कहें कुछ 'अपनी बात' -

कभी कभी अपनी बात कहना बहुत मुश्किल हो जाता है। समझ में नहीं आता कहाँ से शुरू किया जाये। ऐसा ही कुछ मुझे लग रहा है । क्या बात करूँ और कहां से प्रारंभ करूँ ?

लिखने की आदत जो भारत में रहते हुए निरन्तर प्रगति करती रही थी, अमेरिका आने के पश्चात व्यस्त जीवन में मंद गति से चलती रही। वाशिंगटन क्षेत्र में हिन्दी साहित्य प्रेमियों के बढ़ते हुए समूह ने इसे थोड़ा विस्तार दिया। एक घटना जिसने मुझे इस दिशा में तीव्र गति से बढ़ने को प्रेरित किया वह था मेरा श्री अनूप भार्गव से परिचय। फिलाडेल्फिया में रहने वाले माननीय घनश्याम गुप्ता जी एक अच्छे कवि और मित्र हैं। उनके बुलावे पर सन 1998 में फिलाडेल्फिया के कवि सम्मेलन में अनूपजी से हुआ परिचय प्रगाढ़ मित्रता में परिवर्तित हो गया । उनके तकनीकी ज्ञान ने जून 2003 में ईकविता समूह की रूपरेखा बनाई और प्रारंभ से ही मुझे इससे जुड़ने का सौभाग्य प्राप्त हुआ और कलम फिर प्रवाहित होती चली गई।

उन्हीं के सहयोग से सन 2005 में अपना ब्लाग गीतकलश शुरू किया । इस यात्रा के दौरान कई कवि मित्रों और साहित्यकारों का सान्निध्य प्राप्त हुआ जिनके उल्लेख के बिना मेरी बात अधूरी रह जायेगी। टोरांटो में रहने वाल समीर लाल जी से परिचय तो ब्लाग और फोन के माध्यम से था पर व्यक्तिगत तौर पर पहली बार उनसे मुलाकात बंफेलो (न्यूयार्क) में सितम्बर 2006 के कवि सम्मेलन में हुई। उनके विशेष प्रेम ने गीतकलश का रूप निखारा। पंकज सुबीर जी की सह्रदयता और निश्छलता उनके अतुलित ज्ञान को सम्मानित करती है और उनकी बातें निरन्तर लेखन की प्रेरणा होती हैं।

कई नाम ऐसे हैं जिनका उल्लेख इसलिये आवश्यक है कि उनके सहयोग के बिना यह रचनायें पुस्तक का रूप नहीं ले पातीं। सियेटल में रह रहे लोकप्रिय कवि अभिनव शुक्ल, विवेचनात्मक कवि श्री रिपुदमन पचौरी, श्री घनश्याम गुप्ता, परम आदरणीय श्री कुँअर बेचैनजी, महाकवि आदरणीय श्री गुलाब खंडेलवाल जी और माँ शारदा की वीणा को रंगों की तूलिका में परिवर्तित करने वाले कुशल चितेरे श्री विजेन्द्र विज इन सभी मित्रों एवं स्नेही जनों का अनुग्रह मेरा प्रेरणा स्रोत रहा है ।

मेरी कलम से जो भी लिखा गया, मैं इसे अपना योगदान नहीं मानता । मैंने सदैव कहा है-

काव्य का व्याकरण मैंने जाना नहीं
शब्द कांगा पे ही उतरते गये
भावनाओं की गंगा उमड़ती रही
छंद के शिल्प खुद ही सँवरते गये।

आपके हाथों में यह शब्द समन्वय है,आपको कितना पसन्द आया, यह जानने की आकाँक्षा रहेगी।

-राकेश खण्डेलवाल

पुस्तक की प्रस्तावना लिखते हुए कवि कुंवर बैचैन कहते हैं कि कविवर राकेश खण्डेलवाल के गीत सुसंस्कृत भाषा और संस्कृति के संवाहक हैं -

शब्द कोश के एक पृष्ठ पर अनेक शब्द यूँ ही उदास पड़े हुए थे । उन्हीं में एक शब्द कुछ ज्यादा ही उदास था ।इन शब्दों की उदासी से होती हुई जब एक कवि की नार इस अमुक शब्द पर पड़ी, वह जो अधिक उदास था, तो वह वहीं ठहरी रही ।
कवि ने उस शब्द से पूछा- ''भाई, तुम तो गीत हो, फिर इतने उदास क्यों हो ?''
शब्द कोश के पन्ने पर बैठे हुए ही गीत ने भरे मन से कहा- ''कविवर अगर मैं दुखी न होऊँ तो फिर क्या करूँ ? आज के कवि मेरी ओर ध्यान ही नहीं देते । कुछों को छोड़कर, जो ध्यान देते भी हैं, वो मुझे मेरे व्यक्तित्व के अनुसार लोक-जीवन के मंच पर नहीं लाते । मेरे जो मान-दण्ड हैं, जो मानक हैं उनकी उपेक्षा करते हैं और कुछ भी कहने लग जाते हैं ।''
''नहीं यह तो सच नहीं है । तुम्हें तो प्रत्येक युग में कवियों ने अपना कंठहार बनाया है । लोक जीवन से लेकर साहित्यिक मंचों तक तुम्हारा ही बोलबाला रहा है । तुम लोक में लोक गीत बनकर छाये रहे हो । सजी हुई दुल्हनों और बालिकाओं की ढोलक की थाप पर तुम खूब थिरके हो । खेतों में धान बोती सुकुमारियों और फस्लों को काटती मजदूरिनों को भी तुम रिझाते रहे हो । यहीं नहीं, तुम तो बड़े बड़े शिष्ट-विशिष्ट साहित्यकारों की लेखनी को भी अपना आशीष देते रहे हो । चाहे संस्कृत के कवि जयदेव हों, चाहे मैथिल कोकिल विद्यापति, चाहे ब्रज भाषा-शिरोमणि सूर हों या अवधि सम्राट तुलसी सभी को तुम्हारा स्नेह मिला है और उन्होंने तुम्हारा आदर किया है । ...फिर तुम इतने दुखी क्यों हो ?'' कवि ने कहा ।
''ये तो तुम ठीक ही कहते हो कविवर, किन्तु क्या तुमने लोगों से यह कहते हुए नहीं सुना कि गीत तो मर गया है'' गीत ने प्रश्न किया ।
''हाँ, सुना तो है, किन्तु क्या गीत कभी मर सकता है, कभी मरा है, वह तो अमर है । निराला, प्रसाद, महादेवी, बच्चन से लेकर आज तक क्या तुम जीवित नहीं हो । यह कहने वाले कि गीत मर गया है, अब कहने लगे हैं कि गीत तो अमर है ।''
कवि ने प्रतिप्रश्न करते हुए गीत से पूछा- ''क्या तुमने राकेश खण्डेलवाल का नाम सुना है ?''
''सुना तो है, लेकिन वे तो सात समुन्दर पार के देश अमेरिका में रहते हैं ?''
''हाँ, वे रहते भले ही अमेरिका में हों, किन्तु उनकी भाव-भूमि भारतीय ही है । उनमें भारत की मिट्टी की ही सुगंध है जो उनके गीतों के शब्द-पुष्पों में भीतर तक समाई हुई है । सुगंध ही नहीं वरन् इन शब्द-पुष्पों का रूप रंग भी भारतीय ही है । उनमें जो रस है वह भी कन्हैया द्वारा रचाई जाने वाली रास का प्रेम रस है, जिसमें शृँगार है, तन्मयता है, नशा है, उमंग है, लय है, नाद है, उन्मुक्तता है, निश्चिंतता है, योग है और सहयोग भी ।''
इस पर गीत कवि से सम्मोहित होते हुए बोला- ''कविवर फिर राकेश खण्डेलवाल के गीतों पर कोई चर्चा करो न ।''
कवि प्रसन्न हुआ और इस प्रकार व्याख्या करनी प्रारम्भ की । आइये आप भी कवि द्वारा बताई गईं उन विशेषताओं का आनंद लीजिये जो कविवर राकेश खण्डेलवाल के गीतों में सहज रूप में मिल जाती हैं.....

यों राकेश जी ने आधुनिक यथार्थ को भी अपनी कविता का विषय बनाया है और उसे बड़ी ही बारींकी से चित्रित भी किया है किन्तु राकेश जी मूलत: प्रेम के कवि हैं । उनके गीतों का प्राण यदि है तो वह प्रेम ही है । प्रेम का आत्मालाप-अभिव्यक्ति, आशा-निराशा, संयोग-वियोग, प्रशंसा-उपालम्भ, दुख-सुख, रूठना-मनाना, पूजा-अर्चन और सौन्दर्य-वर्णन सभी का चित्रण पूरे मनोयोग और सहजता के साथ कवि ने किया है ।

प्रेम में प्रेम का उपासक अपने प्रिय को रिझाने के लिये क्या नहीं करता । उसका भरसक प्रयास यही रहता है कि वह सब कुछ ऐसा करे जो प्रिय उसकी ओर ध्यान दे । ध्यान देना ही कांफी नहीं है, वरन् उस पर रीझ भी जाए । किन्तु प्रिय है कि उसका पाषाण हृदय पिघलता ही नहीं । प्रिय को रिझाने के लिये उसने क्या नहीं किया । सैकड़ों गीतों की रचना करके उसकी आराधना की, मगर प्रिय है कि उसकी ओर उसका ध्यान ही नहीं देता । ऐसी निष्ठुरता ऐसा पाहनपन भी कैसा-

आह न बोले, वाह न बोले
मन में है कुछ चाह न बोले
जिस पग पर चलते मेरे पग
कैसी है वह राह न बोले
फिर भी आराध्य, हृदय के पाषाणी, इतना बतला दो
कितने गीत और लिखने हैं ?
कितने गीत और लिखने हैं, लिखे सुबह से शाम हो गई ।
थकी लेखनी लिखते लिखते, स्याही सभी तमाम हो गई ॥


यह वह प्रेमी है जिसने अपने गीतों के शब्दों में गुलाब, गुलमोहर और चंदन की सुगंध भरी, नदिया-ताल-सरोवर के जल का कलकल नाद लिया, कोयल की कुहुक को समोया, अंधियारी रात में भी प्रिय के लिये चांदनी के चित्र बनाये, अर्चना की थाली में साधारण दीप नहीं, वरन् सितारों के दीप सजाए, एक एक पल प्रिय के नाम का जाप करने में लगा दिया और वह भी इस विश्वास के साथ कि कवि के गीतों को अपने प्रिय से ही स्वर मिलते हैं, आवारा भावों को शब्दों का अनुशासन मिलता है, छंदबध्दता मिलती है । प्रिय को आराध्य और स्वयं को आराधक मान कर हर तरह से उसकी उपासना की, किन्तु जैसे उपासक का व्रत खंडित हो गया हो या निष्ठा निष्काम हो गई हो ऐसा प्रतीत हुआ-

किन्तु उपासक के खंडित व्रत जैसा तप रह गया अधूरा
और अस्मिता दीपक की लौ में जलकर गुमनाम हो गई
बन आराधक मैंने अपनी निष्ठा भागीरथी बनाई
लगा तुम्हारे मंदिर की देहरी पर वह निष्काम हो गई


लेकिन प्रेम कभी थकता नहीं । यदि वह सच्चा है तो कभी निराश भी नहीं होता । प्रेम करना ही प्रेम को पाना है । प्रेम के प्रस्थान बिन्दु पर विश्वास ही प्रेम के चरमोत्कर्ष पर पहुँचना है । प्रिय का अनुग्रह, उसकी अनुकम्पा पान ही प्रेमी का लक्ष्य है । प्रिय यदि एक प्रकार से खुश नहीं होता तो दूसरी कोई युक्ति निकालता है किन्तु अंतत: प्रिय की अनुकम्पा पा ही लेता है-

अनुभूति को अहसासों को, बार बार पिंजरे में डाला
एक अर्थ से भरा नहीं मन, अर्थ दूसरा और निकाला ,
आदि-अंत में, धूप-छांव में, केवल किया तुम्हें ही वर्णित
अपने सार संकल्पों में मीत तुम्हें ही सदा सँभाला
मिली तुम्हारे अनुग्रह की अनुकम्पा शायद इसीलिये तो
सावन की काली मावस्या, दोपहरी की घाम हो गई ।....


यह बात सच है कि अब प्रेमी को अपने प्रिय की कृपा प्राप्त हो गई है किन्तु ऐसा भी समय आया था जब प्रेम के आराधक ने पत्थरों को भी सिंदूर में रंग दिया था, बरगदों के नीचे बैठकर मन्नतें मांगी थीं, शाम को घी के दीपक जलाए थे, घंटियां बजाईं थीं, शंख से जल चढ़ाया था, शास्त्रों में लिखे मंत्रों का उच्चारण किया था, एकादशी का उपवास रखा था, पूर्णिमा को नारायणी का पाठ किया था, रामायण-भागवत-गीता सभी को पढ़ा, वेद-श्रुतियाँ-ऋचाओं और उपनिषदों में भी उलझा रहा, किन्तु धुंध के बादल छंटे ही नहीं थे, और न भाग्य की रेखा ही बदली थी, किन्तु आंखिरकार प्रिय के ंकदमों को प्रेमी की ओर मुडना ही पड़ा । ..और जैसे ही प्रिय के पग इधर को उठे वैसे ही-

यों लगा मुस्कुराने लगी हर दिशा
छंद की पालकी में विचरने लगे
भाव मन की उमड़ती हुई आस के ।


इतना ही नहीं, वरन् प्रिय के स्वागत में प्रिय के पाँवों को चूमने के लिये डालियों से फूल स्वयं ही झरने लगे, डालियाँ प्रिय के साथ झूलने को आतुर हो उठीं, पुरवाई के झौंके उँगली थाम कर चल पड़े, हरी दूब पंजों पर उचक उचक कर उसे देखने लगी, उपवन में कलियाँ खिल उठीं, पत्तों पर रंग आने लगा, भंवरे उल्लास के गीत गाने लगे, सोया हुआ बसंत जाग गया, धूप प्रिय की राह में अल्पना सजाने लगी, कोंपलें अपनी पलकें मलने लगीं, ताल में शतदल कमल खिल उठे, गुलमोहर अपने नयनों में नवीन सपने सजाने लगा। यही नहीं वरन् बड़े-बड़े संन्यासियों ने भी अपने पारम्परिक गेरुए परिधान को त्याग दिया और वे भी प्रिय के रंग में रंग गए-

भूलकर अपने पारम्परिक वेश को
आपके रंग में सब रंगे रह गए
जिन पे दूजा न चढ़ पाया कोई कभी
सारे परिधान थे जो भी संन्यास के


गीत के प्रधान गुणों में आत्मभिव्यक्ति और आत्म निवेदन का विशेष महत्व है । गीत एक प्रकार से प्रेमी द्वारा प्रिय को लिखे प्रेम पत्र होते हैं जिनमें हृदय के समस्त संवेगों को शब्दों के माध्यम से व्यक्त किया जाता है । यह बात अलगी रही कि होठों पर लगे संकोच के ताले बहुत दिनों बाद खुलते हैं और गाहे-ब-गाहे मौन रह जाना पड़ता है-

एक तुम्हारा प्रश् अधूरा
दूजे उत्तर जटिल बहुत था
तीजे रुंधे कंठ की वाणी
इसीलिये मैं मौन रह गया


गीत अनुभूतियों का आईना है । तरह तरह की अनुभूतियाँ होती रहती हैं, गीतकार उन्हीं को शब्द देता है । ...और अनुभूतियाँ अनन्त हैं, असीम हैं । गीतकार की इच्छा होती है कि वह कुछ ऐसा लिखे जो अद्वितीय हो । उससे पहले वैसा और नयी शैली में न कहा गया हो प्रेम के उस रूप को गीत का विषय बनाए जो बिल्कुल नया नवेला हो । ऐसी प्रीत जिसका जिक्र इतिहास में अब तक न हुआ हो । राकेश जी कहते हैं-

बहुत दिनों से सोच रहा हूं कोई गीत लिखूं
इतिहासों में मिले न जैसी ऐसी प्रीत लिखूं


कवि की चाहत है कि वह ऐसी प्रीत के बारे में कुछ कहे जिसमें भुजपाशों की सिहरन का कोई अर्थ न हो, थरथराते हुए अधर ही सारी कहानी को कह दें, प्रीति करने की वह रीति हो जिसके अनगिन और नये आयाम हों । उसकी कामना है वह चातक और पपीहे का मनमीत बनकर गीत लिखे । वैसे भी गीत और प्रीत का अमर संबंध है ।

-डॉ. कुँअर बेचैन

पुस्तक का कवर design किया है देश के ख्‍यात चित्रकार श्री विजेंद्र विज जी का जिन्‍होंने गहरे हरे रंग पर अपनी पेंटिंग से वो जादू रचा विजेंद्र विज जी ने जो चित्र आवरण के लिये चयन किया वो पुस्‍तक के शीर्षक को पूरी तरह से व्‍यक्‍त करता है । तिस पर ये कि उन्‍होंने जा रंग संयोजन किया है वो भी अद्भुत है । ऐसा लगता है कि अभी रंग बोल उठेंगें और राकेश जी के गीतों को गुनगुनाने लगेंगें.

अब आते हैं कविताओं पर. यूँ तो बहुत मुश्किल है हमारे लिए कि हम इस अदभुत कविता संग्रह में से मात्र कुछ कवितायें चुनें, पर फ़िर भी हमने पंकज सुबीर जी जिनका कि आज जन्मदिन भी है, की मदद से कुछ रचनाएँ चुनीं और साथ माँगा गजब के संगीत प्रेमी और सर से लेकर पांव तक कला में डूबे श्री संजय पटेल भाई का. संजय भाई आवाज़ के श्रोताओं के लिए और हिन्दी चिट्टाजगत के लिए एक जाना माना नाम है, यूँ तो सालों से बतौर उद्घोषक उन्होंने बहुत नाम कमाया है, पर बहुत कम लोगों ने उनकी जादू भरी आवाज़ सुनी होगी क्योंकि वो एक ऐसे शख्स हैं जो औरों की तारीफों में अपनी तारीफ करना भूल जाते हैं...आज आवाज़ की टीम गर्व के साथ उनकी आवाज़ को पहली बार इन्टरनेट पर प्रस्तुत कर रही है, राकेश जी की कविताओं को उन्होंने जिस अंदाज़ में पेश किया है वो साबित करता है कि वो कितने अच्छे काव्य मर्मज्ञ भी हैं... सुनें और आनंद लें -


चरखे का तकवा....



हम गीतों के गलियारों में ...



एक दीपक वही....



साँझा बाती के दीपक की...



मोनिका हठीला अखिल भारतीय कवियित्री हैं ‍कच्छ भुज की रहने वाली हैं । किसी कवि सम्‍मेलन से रायपूर से लौट रहीं थीं सीहोर में अपने मायके में रुकीं तो पंकज जी उनका अधिकार पूर्वक समय लिया । पेश है उनकी मधुर आवाज़ में राकेश जी के कुछ मुक्तक और कवितायें.



इन्टरनेट पर पहली बार मुखरित हो रही है पंकज सुबीर जी की आवाज़ भी आज इस शुभ अवसर पर साथ में हैं श्री रमेश हठीला जिन्होंने एक कविता गाई है वे मंच के स्थापित कवि रहे हैं पर अभी संन्यास ले चुके हैं । इनकी आवाजों में कुछ मुक्‍तक और गीत राकेश जी के हैं ।



हमारी ये प्रस्तुति आपको कैसी लगी, हमें अवश्य बतायें....पुस्तक की प्रति पाने के लिए संपर्क करें-

अँधेरी रात का सूरज : (काव्य-संग्रह)

राकेश खण्डेलवाल

1713 Wilcox Lane, Silver Spring

MD 20906-5945, USA

+2028777919

rakeshkhandelwal1k@gmail.com,

http://geetkalash.blogspot.com

मूल्य : मात्र 350 रुपये, 25$ US

प्रथम संस्करण : अक्टूबर 2008

प्रकाशक : शिवना प्रकाशन

Shivna Prakashan, P.C.Lab, Shop 3,4,5 Samrat Complex Basement,

Opp. New Bus Stand, Sehore, M.P. 466001, India +91-9977855399

www.subeer.com/prakashan.html

ग्राफिक एफ्फेक्ट्स - प्रशेन

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ