रविवार, 18 अक्तूबर 2020

राग गान्धारी : SWARGOSHTHI – 484 : RAG GANDHARI




स्वरगोष्ठी – 484 में आज 

आसावरी थाट के राग – 6 : राग - गान्धारी 

प्रोफेसर बी.आर. देवधर से गान्धारी में रागदारी संगीत की रचना और के.एल. सहगल से गैरफिल्मी गीत सुनिए 





प्रोफेसर बी.आर. देवधर 


कुन्दनलाल सहगल 

“रेडियो प्लेबैक इण्डिया” के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “आसावरी थाट के राग” की छठी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में सात शुद्ध, चार कोमल और एक तीव्र अर्थात कुल बारह स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए इन बारह स्वरों में से कम से कम पाँच स्वरों का होना आवश्यक होता है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के बारह में से मुख्य सात स्वरों के क्रमानुसार समुदाय को थाट कहते हैं, जिससे राग उत्पन्न होते हों। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। वर्तमान समय में रागों के वर्गीकरण के लिए यही पद्धति प्रचलित है। भातखण्डे जी द्वारा प्रचलित ये दस थाट हैं; कल्याण, बिलावल, खमाज, भैरव, पूर्वी, मारवा, काफी, आसावरी, तोड़ी और भैरवी। सभी प्रचलित और अप्रचलित रागों को इन्हीं दस थाट के अन्तर्गत सम्मिलित किया गया है। भारतीय संगीत में थाट, स्वरों के उस समूह को कहते हैं जिससे रागों का वर्गीकरण किया जा सकता है। पन्द्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में 'राग तरंगिणी’ ग्रन्थ के लेखक लोचन कवि ने रागों के वर्गीकरण की परम्परागत 'ग्राम और मूर्छना प्रणाली’ का परिमार्जन कर मेल अथवा थाट प्रणाली की स्थापना की। लोचन कवि के अनुसार उस समय सोलह हज़ार राग प्रचलित थे। इनमें 36 मुख्य राग थे। सत्रहवीं शताब्दी में थाट के अन्तर्गत रागों का वर्गीकरण प्रचलित हो चुका था। थाट प्रणाली का उल्लेख सत्रहवीं शताब्दी के ‘संगीत पारिजात’ और ‘राग विबोध’ नामक ग्रन्थों में भी किया गया है। लोचन द्वारा प्रतिपादित थाट प्रणाली का प्रयोग लगभग तीन सौ वर्षों तक होता रहा। उन्नीसवीं शताब्दी के अन्तिम और बीसवीं शताब्दी के प्रारम्भिक दशकों में पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे ने भारतीय संगीत के बिखरे सूत्रों को न केवल संकलित किया बल्कि संगीत के कई सिद्धान्तों का परिमार्जन भी किया। भातखण्डे जी द्वारा निर्धारित दस थाट में से आठवाँ थाट आसावरी है। इस श्रृंखला में हम आसावरी थाट के रागों पर क्रमशः चर्चा कर रहे हैं। प्रत्येक थाट का एक आश्रय अथवा जनक राग होता है और शेष जन्य राग कहलाते हैं। आपके लिए इस श्रृंखला में हम आसावरी थाट के जनक और जन्य रागों पर चर्चा कर रहे हैं। श्रृंखला की छठी कड़ी में आज हमने आसावरी थाट के जन्य राग गान्धारी का चयन किया है। श्रृंखला की इस कड़ी में आज हम आपके लिए षाड़व-सम्पूर्ण जाति के राग गान्धारी का परिचय प्रस्तुत करेंगे। इसके साथ ही सुविख्यात संगीतज्ञ और शिक्षक प्रोफेसर बी.आर. देवधर के स्वरों में राग गान्धारी में निबद्ध एक रागदारी रचना प्रस्तुत कर रहे हैं। इस राग के स्वरों का प्रयोग करने वाला कोई भी फिल्मी गीत नहीं मिला। अतः गायक और अभनेता कुन्दनलाल सहगल की आवाज़ में एक गैरफ़िल्मी गीत सुनवा रहे हैं। इस गीत की रिकार्डिंग का उपयोग 1955 में प्रदर्शित फिल्म "अमर सहगल" में किया गया है। गीत के आरम्भ में राग आसावरी और बाद में राग गान्धारी परिलक्षित होता है। गीत सम्भवतः हज़रत अमीर खुसरो का लिखा हुआ है और स्वयं कुन्दनलाल सहगल द्वारा स्वरबद्ध किया यह गीत कुन्दनलाल सहगल के ही स्वर में प्रस्तुत किया गया है। 



राग गान्धारी की गणना आसावरी थाट के अन्तर्गत की जाती है। इस राग में गान्धार, धैवत और निषाद स्वर कोमल और दोनों ऋषभ स्वरों का प्रयोग किया जाता है। आरोह में गान्धार स्वर वर्जित होता है और अवरोह में सातो स्वर प्रयोग किये जाते हैं। इसलिए इस राग की जाति षाड़व-सम्पूर्ण होती है। राग गान्धारी का वादी स्वर धैवत और संवादी स्वर कोमल गान्धार माना जाता है। इस राग के गायन अथवा वादन का सर्वाधिक उपयुक्त समय दिन का तीसरा प्रहर होता है। यह एक कम प्रचलित राग है। धैवत स्वर और उत्तरांग प्रधान चलन होने से इस राग की प्रस्तुति में ओज, पुकार और जागृति का भाव उत्पन्न होता है। आरोह में जौनपुरी की छाया परिलक्षित होती है किन्तु भैरवी और आसावरी की स्वर संगतियों के प्रयोग से वह छाया तिरोहित भी हो जाती है। राग में ऋषभ, गान्धार, धैवत और निषाद स्वर कोमल प्रयोग किये जाने के कारण यह प्रश्न भी उठ सकता है कि इस राग को भैरवी थाट के अन्तर्गत क्यों न रखा जाय। स्वर की दृष्टि से भैरवी और आसावरी में केवल ऋषभ स्वर का अन्तर है। अतः इसे भैरवी और आसावरी दोनों थाट में रखा जा सकता है। परन्तु राग गान्धारी का चलन आसावरी जैसा होने के कारण इसे आसावरी थाट में रखना अधिक उपयुक्त है। अब हम आपको राग "गान्धारी" की तीनताल में निबद्ध एक दुर्लभ बन्दिश सुनवाते हैं, जिसे गत शताब्दी के सुप्रसिद्ध शास्त्रज्ञ प्रोफेसर बी.आर. देवधर ने प्रस्तुत किया है। 

राग गान्धारी : "जियरा लरजे मोरा..." : प्रोफेसर बी.आर. देवधर 

 

राग गान्धारी उत्तरांग प्रधान राग है। इसका चलन राग जौनपुरी की तरह मध्य सप्तक के उत्तरांग में तथा तार सप्तक में अधिक होता है, किन्तु पूर्वांग में दोनों ऋषभ के प्रयोग से यह राग स्पष्ट हो जाता है और समप्रकृति रागों से अलग हो जाता है। राग गान्धारी पर आधारित किसी फिल्मी गीत को खोजने का हमने काफी प्रयास किया, किन्तु हमें सफलता नहीं मिली। इस खोज को आगे बढ़ाने के लिए हमने अपने मित्र और "फिल्मी गीतों में राग" विषयक शोधकर्ता व "हिन्दी सिने राग इन्साक्लोपीडिया" के लेखक श्री के.एल. पाण्डेय से सम्पर्क किया। श्री पाण्डेय के अनुसार उन्हें राग गान्धारी पर आधारित एक भी फिल्मी गीत नहीं मिला। हाँ, गायक-अभिनेता कुन्दनलाल सहगल कि आवाज़ में एक गैर फिल्मी गीत अवश्य मिला है, जिसमें राग आसावरी और गान्धारी का मेल है। आज हम आपको यही गीत सुनवाते है। फिल्म संगीत के इतिहास के लेखक और शोधकर्ता सुजॉय चटर्जी और सहगल के जीवन पर आधारित 1955 में प्रदर्शित फिल्म "अमर सहगल" के अनुसार यह गीत कुन्दनलाल सहगल ने फिल्मी दुनियाँ में आने से पूर्व गाया था। इस गीत में राग आसावरी के साथ राग गान्धारी का प्रयोग हुआ है। गीतकार के नाम के विषय में श्री चटर्जी ने बताया कि अधिक सम्भावना अमीर खुसरो की है। वर्ष 1932 में यह गीत हिन्दुस्तान ग्रामोफोन कम्पनी ने रिकार्ड किया था। फिल्म "अमर सहगल" में इसी रिकार्ड का प्रयोग किया गया है। गीत के संगीतकार पर भी पर्याप्त मतभेद है। रिकार्ड पर संगीतकार के रूप में सहगल का नाम ही अंकित है, किन्तु कहीं-कहीं आर.सी. बोराल का नाम और कुछ इतिहासकारों के अनुसार अपरेश लाहिड़ी के नाम का अनुमान लगाया गया है। यदि किसी पाठक को इस गीत के विषय में कोई प्रामाणिक जानकारी हो तो कृपया हमें अवश्य सूचित करें। आप यह गैरफिल्मी गीत सुनिए और हमें आज की इस कड़ी को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए। 

राग गान्धारी और आसावरी : "झुलना झुलाओ री..." : स्वर - कुन्दनलाल सहगल : गैरफिल्मी गीत 




संगीत पहेली

"स्वरगोष्ठी" के 483वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक राग आधारित, गैरफिल्मी गीत का अंश सुनवा रहे हैं। गीत के इस अंश को सुन कर आपको दो अंक अर्जित करने के लिए निम्नलिखित तीन में से कम से कम दो प्रश्नों के सही उत्तर देना आवश्यक हैं। यदि आपको तीन में से केवल एक अथवा तीनों प्रश्नों का उत्तर ज्ञात हो तो भी आप प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। श्रृंखला के चौथे सत्र अर्थात अंक संख्या 490 की पहेली का उत्तर प्राप्त होने के बाद तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे उन्हें इस वर्ष के चतुर्थ सत्र का विजेता घोषित किया जाएगा। इसके साथ ही पूरे वर्ष के प्राप्तांकों की गणना के बाद वर्ष के अन्त में महाविजेताओं की घोषणा की जाएगी और उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा। 





1 - इस गीतांश को सुन कर बताइए कि इसमें किस राग का स्पर्श है? 

2 – इस गीत में प्रयोग किये गए ताल को पहचानिए और उसका नाम बताइए। 

3 – इस गीत में किस पार्श्वगायक के स्वर है? 

आप उपरोक्त तीन मे से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia9@gmail.com पर ही शनिवार 24 अक्तूबर, 2020 की मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। आपको यदि उपरोक्त तीन में से केवल एक प्रश्न का सही उत्तर ज्ञात हो तो भी आप पहेली प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते हैं, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर देने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। फेसबुक पर पहेली का उत्तर स्वीकार नहीं किया जाएगा। विजेताओं के नाम हम उनके शहर/ग्राम, प्रदेश और देश के नाम के साथ “स्वरगोष्ठी” के अंक संख्या 486 में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत, संगीत या कलाकार के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia9@gmail.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं। 


पिछली पहेली के सही उत्तर और विजेता

“स्वरगोष्ठी” के 482वें अंक में हमने आपको 1952 में प्रदर्शित फिल्म "बैजू बावरा" के एक गीत का अंश सुनवा कर आपसे तीन में से कम से कम दो सही उत्तरों की अपेक्षा की गई थी। इस गीत के आधार राग को पहचानने में हमारे अधिकतर प्रतिभागी सफल रहे। पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है; राग - देसी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है; ताल – तीनताल तथा तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है; स्वर – पण्डित दत्तात्रेय विष्णु पलुस्कर और उस्ताद अमीर खाँ। 

‘स्वरगोष्ठी’ की इस पहेली का सही उत्तर देने वाले हमारे विजेता हैं; अहमदाबाद, गुजरात से मुकेश लाडिया, वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, और शारीरिक अस्वस्थता के बावजूद हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी। उपरोक्त सभी प्रतिभागियों में से प्रत्येक को दो-दो अंक मिलते हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से आप सभी को हार्दिक बधाई। सभी प्रतिभागियों से अनुरोध है कि अपने पते के साथ कृपया अपना उत्तर ई-मेल से ही भेजा करें। इस पहेली प्रतियोगिता में हमारे नए प्रतिभागी भी हिस्सा ले सकते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि आपको पहेली के तीनों प्रश्नों के सही उत्तर ज्ञात हो। यदि आपको पहेली का कोई एक उत्तर भी ज्ञात हो तो भी आप इसमें भाग ले सकते हैं। 


संवाद

मित्रों, इन दिनों हम सब भारतवासी, प्रत्येक नागरिक को कोरोना वायरस से मुक्त करने के लिए प्रयत्नशील हैं। अब तक हम काफी हद तक हम सफल भी हुए हैं। संक्रमित होने वालों के स्वस्थ होने का प्रतिशत निरन्तर बढ़ रहा है। परन्तु अभी भी हमें पर्याप्त सतर्कता बरतनी है। विश्वास कीजिए, हमारे इस सतर्कता अभियान से कोरोना वायरस पराजित होगा। आप सब से अनुरोध है कि प्रत्येक स्थिति में चिकित्सकीय और शासकीय निर्देशों का पालन करें और अपने घर में सुरक्षित रहें। इस बीच शास्त्रीय संगीत का श्रवण करें और अनेक प्रकार के मानसिक और शारीरिक व्याधियों से स्वयं को मुक्त रखें। विद्वानों ने इसे “नाद योग पद्धति” कहा है। “स्वरगोष्ठी” की नई-पुरानी श्रृंखलाएँ सुने और पढ़ें। साथ ही अपनी प्रतिक्रिया से हमें अवगत भी कराएँ। 


अपनी बात

मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी हमारी श्रृंखला “आसावरी थाट के राग” की छठी कड़ी में आज आपने आसावरी थाट के जन्य राग गान्धारी का परिचय प्राप्त किया। राग के शास्त्रीय स्वरूप को समझने के लिए हमने आपको सुप्रसिद्ध संगीतविद प्रोफेसर बी.आर. देवधर के स्वरों में राग की एक बन्दिश सुनवाया। इसके साथ ही “स्वरगोष्ठी” की परम्परा के अनुसार हमने फिल्मी गीतों में राग गान्धारी के प्रयोग को खोजने का पर्याप्त प्रयास किया, परन्तु हमें ऐसा कोई भी गीत नहीं मिला। अन्ततः आज की कड़ी में हम आपको 1932 में रिकार्ड किया और कुन्दनलाल सहगल के स्वर में प्रस्तुत एक गैरफिल्मी गीत प्रस्तुत किया है। इस गीत में राग आसावरी के साथ राग गान्धारी का प्रयोग हुआ है। 

कुछ तकनीकी समस्या के कारण हम अपने फेसबुक के मित्र समूह पर “स्वरगोष्ठी” का लिंक साझा नहीं कर पा रहे हैं। सभी संगीत अनुरागियों से अनुरोध है कि हमारी वेबसाइट http://radioplaybackindia.com अथवा http://radioplaybackindia.blogspot.com पर क्लिक करके हमारे सभी साप्ताहिक स्तम्भों का अवलोकन करते रहें। “स्वरगोष्ठी” के वेब पेज के दाहिनी ओर निर्धारित स्थान पर अपना ई-मेल आईडी अंकित कर आप हमारे सभी पोस्ट के लिंक को नियमित रूप से अपने ई-मेल पर प्राप्त कर सकते है। “स्वरगोष्ठी” की पिछली कड़ियों के बारे में हमें अनेक पाठकों की प्रतिक्रिया लगातार मिल रही है। हमें विश्वास है कि हमारे अन्य पाठक भी “स्वरगोष्ठी” के प्रत्येक अंक का अवलोकन करते रहेंगे और अपनी प्रतिक्रिया हमें भेजते रहेंगे। आज के इस अंक अथवा श्रृंखला के बारे में यदि आपको कुछ कहना हो तो हमें अवश्य लिखें। यदि आपका कोई सुझाव या अनुरोध हो तो हमें swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia9@gmail.com पर अवश्य लिखिए। अगले अंक में रविवार को प्रातः सात बजे “स्वरगोष्ठी” के इसी मंच पर हम एक बार फिर संगीत के सभी अनुरागियों का स्वागत करेंगे। 


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  


रेडियो प्लेबैक इण्डिया 
राग गान्धारी : SWARGOSHTHI – 484 : RAG GANDHARI : 18 अक्तूबर, 2020
 


रविवार, 11 अक्तूबर 2020

राग देसी : SWARGOSHTHI – 483 : RAG DESI




स्वरगोष्ठी – 483 में आज 

आसावरी थाट के राग – 5 : राग देसी अथवा देसी तोड़ी 

उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ से राग देसी में ध्रुपद अंग का आलाप और उस्ताद अमीर खाँ व पण्डित डी.वी. पलुस्कर से फिल्मी गीत सुनिए 





उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ 

पं. डी.वी. पलुस्कर और उस्ताद अमीर खाँ 

“रेडियो प्लेबैक इण्डिया” के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “आसावरी थाट के राग” की पाँचवीं कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में सात शुद्ध, चार कोमल और एक तीव्र अर्थात कुल बारह स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए इन बारह स्वरों में से कम से कम पाँच स्वरों का होना आवश्यक होता है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के बारह में से मुख्य सात स्वरों के क्रमानुसार समुदाय को थाट कहते हैं, जिससे राग उत्पन्न होते हों। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। वर्तमान समय में रागों के वर्गीकरण के लिए यही पद्धति प्रचलित है। भातखण्डे जी द्वारा प्रचलित ये दस थाट हैं; कल्याण, बिलावल, खमाज, भैरव, पूर्वी, मारवा, काफी, आसावरी, तोड़ी और भैरवी। सभी प्रचलित और अप्रचलित रागों को इन्हीं दस थाट के अन्तर्गत सम्मिलित किया गया है। भारतीय संगीत में थाट, स्वरों के उस समूह को कहते हैं जिससे रागों का वर्गीकरण किया जा सकता है। पन्द्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में 'राग तरंगिणी’ ग्रन्थ के लेखक लोचन कवि ने रागों के वर्गीकरण की परम्परागत 'ग्राम और मूर्छना प्रणाली’ का परिमार्जन कर मेल अथवा थाट प्रणाली की स्थापना की। लोचन कवि के अनुसार उस समय सोलह हज़ार राग प्रचलित थे। इनमें 36 मुख्य राग थे। सत्रहवीं शताब्दी में थाट के अन्तर्गत रागों का वर्गीकरण प्रचलित हो चुका था। थाट प्रणाली का उल्लेख सत्रहवीं शताब्दी के ‘संगीत पारिजात’ और ‘राग विबोध’ नामक ग्रन्थों में भी किया गया है। लोचन द्वारा प्रतिपादित थाट प्रणाली का प्रयोग लगभग तीन सौ वर्षों तक होता रहा। उन्नीसवीं शताब्दी के अन्तिम और बीसवीं शताब्दी के प्रारम्भिक दशकों में पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे ने भारतीय संगीत के बिखरे सूत्रों को न केवल संकलित किया बल्कि संगीत के कई सिद्धान्तों का परिमार्जन भी किया। भातखण्डे जी द्वारा निर्धारित दस थाट में से आठवाँ थाट आसावरी है। इस श्रृंखला में हम आसावरी थाट के रागों पर क्रमशः चर्चा कर रहे हैं। प्रत्येक थाट का एक आश्रय अथवा जनक राग होता है और शेष जन्य राग कहलाते हैं। आपके लिए इस श्रृंखला में हम आसावरी थाट के जनक और जन्य रागों पर चर्चा कर रहे हैं। श्रृंखला की पाँचवीं कड़ी में आज हमने आसावरी थाट के जन्य राग देसी अथवा देसी तोड़ी का चयन किया है। श्रृंखला की इस कड़ी में आज हम आपके लिए औड़व-सम्पूर्ण जाति के राग देसी का परिचय प्रस्तुत करेंगे। इसके साथ ही सुविख्यात संगीतज्ञ उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ के स्वरों में राग देसी में निबद्ध ध्रुपद अंग का एक आलाप प्रस्तुत कर रहे हैं। इस राग के स्वरों का सर्वश्रेष्ठ प्रयोग फिल्म "बैजू बावरा" के एक गीत में किया गया है। दरअसल यह फिल्मी गीत राग देसी के विलम्बित और द्रुत खयाल का फिल्मी रूपान्तरण है। शकील बदायूनी का लिखा और नौशाद का स्वरबद्ध किया यह गीत तत्कालीन दो शीर्षस्थ शास्त्रीय गायकों; पण्डित दत्तात्रेय विष्णु पलुस्कर और उस्ताद अमीर खाँ के स्वर में प्रस्तुत किया गया है। गीत का आरम्भ विलम्बित लय में "तुम्हरे गुण गाउँ..." से होता है। कुछ ही मिनट बाद द्रुत लय में "आज गावत मन मेरो..." आरम्भ हो जाता है। परदे पर तानसेन के लिए उस्ताद अमीर खाँ ने और बैजू बावरा के लिए पण्डित दत्तात्रेय विष्णु पलुस्कर ने स्वर दिया है। 



राग देसी, आसावरी थाट का जन्य राग है। दिन के दूसरे प्रहर में गाये-बजाये जाने वाले इस राग को देसी के अलावा देसी तोड़ी अथवा देस तोड़ी भी कहते हैं। इसकी जाति औड़व-सम्पूर्ण होती है अर्थात आरोह में पाँच और अवरोह में सात स्वरों का प्रयोग होता है। इस राग का वादी स्वर पंचम और संवादी स्वर ऋषभ होता है। गान्धार, धैवत और निषाद स्वर कोमल होते है, जबकि धैवत और निषाद स्वर शुद्ध रूप में भी प्रयोग किया जाता है। इसमे शुद्ध धैवत के स्थान पर कोमल धैवत का प्रयोग किया जाता है, शेष सभी स्वर राग देस के समान ही प्रयोग किया जाता है। फिल्म ‘बैजू बावरा’ में इस राग का संक्षिप्त किन्तु अत्यन्त मुखर प्रयोग किया गया था। आइए, अब हम आपको इस राग का एक समृद्ध आलाप उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ के स्वरों में सुनवा रहे हैं। भारतीय संगीत के प्रचलित घरानों में जब भी आगरा घराने की चर्चा होगी तत्काल एक नाम जो हमारे सामने आता है, वह है, आफताब-ए-मौसिकी उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ का। पिछली शताब्दी के पूर्वार्द्ध के जिन संगीतज्ञों की गणना हम शिखर-पुरुष के रूप में करते हैं, उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ उन्ही में से एक थे। ध्रुपद-धमार, खयाल-तराना, ठुमरी-दादरा आदि सभी शैलियों की गायकी पर उन्हें कुशलता प्राप्त थी। प्रकृति ने उन्हें घन, मन्द्र और गम्भीर कण्ठ का उपहार तो दिया ही था, उनके शहद से मधुर स्वर श्रोताओं पर रस की वर्षा कर देते थे। फ़ैयाज़ खाँ का जन्म ‘आगरा रँगीले घराना’ के नाम से विख्यात ध्रुवपद गायकों के परिवार में हुआ था। दुर्भाग्य से फ़ैयाज़ खाँ के जन्म से लगभग तीन मास पूर्व ही उनके पिता सफदर हुसैन खाँ का इन्तकाल हो गया। जन्म से ही पितृ-विहीन बालक को उनके नाना गुलाम अब्बास खाँ ने अपना दत्तक पुत्र बना लिया और पालन-पोषण के साथ ही संगीत के शिक्षा की व्यवस्था भी की। यही बालक आगे चल कर आगरा घराने का प्रतिनिधि बना और भारतीय संगीत के अर्श पर आफताब बन कर चमका। फ़ैयाज़ खाँ की विधिवत संगीत शिक्षा उस्ताद ग़ुलाम अब्बास खाँ से आरम्भ हुई, जो फ़ैयाज़ खाँ के गुरु और नाना तो थे ही, गोद लेने के कारण पिता के पद पर भी प्रतिष्ठित हो चुके थे। फ़ैयाज़ खाँ के पिता का घराना ध्रुपदियों का था, अतः ध्रुवपद अंग की गायकी इन्हें संस्कारगत प्राप्त हुई। आगे चल कर फ़ैयाज़ खाँ ध्रुवपद के आलाप में इतने दक्ष हो गए थे कि संगीत समारोहों में उनके समृद्ध आलाप की फरमाइश हुआ करती थी। अब हम उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ के स्वरों में राग देसी का आलाप प्रस्तुत कर रहे हैं। आप यह रचना सुनिए। 

राग देसी : ध्रुपद अंग में आलाप : उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ 



अब हम आपको राग देसी का फिल्मी गीतों में एक उत्कृष्ट प्रयोग सुनवाते हैं। यह प्रयोग 1952 में प्रदर्शित फिल्म "बैजू बावरा" से लिया गया है, जिसके संगीतकार नौशाद थे। अपने संगीत निर्देशन के आरम्भिक दशक में नौशाद के गीतों की विशेषता थी कि इनमें अवधी लोक संगीत का मनोहारी प्रयोग किया गया था। इस पहले दशक के गीतों में जहाँ भी रागों का स्पर्श उन्होने किया, उनकी धुनें सुगम और गुनगुनाने लायक थीं। नौशाद की छठें दशक की फिल्मों में रागदारी संगीत का प्रभुत्व बढ़ता गया। अब हम वर्ष 1952 में प्रदर्शित फिल्म "बैजू बावरा" और उसके गीतों की चर्चा करते हैं, जिसमें नौशाद ने रागों के प्रति अपने अगाध श्रद्धा को सिद्ध किया और राग आधारित गीतों को संगीतबद्ध करने की अपनी क्षमता को उजागर किया। इस वर्ष प्रदर्शित फिल्म "बैजू बावरा" में नौशाद ने कई कालजयी गीतो की रचना की थी। फिल्म के गीतों के लिए उनके पास कई लोकप्रिय पार्श्वगायक और गायिकाओं की आवाज़ का साथ होने के बावजूद रागों का शुद्ध रूप में प्रस्तुत करने की ललक के कारण उन्होने उस समय के प्रख्यात शास्त्रीय गायक उस्ताद अमीर खाँ और पण्डित दत्तात्रेय विष्णु पलुस्कर को भी फिल्म का गीत गाने के लिए राजी किया। खाँ साहब और पण्डित पलुस्कर द्वारा प्रस्तुत राग देसी के स्वरों में जुगलबन्दी वाला गीत; तुम्हरे गुण गाउँ..." और "आज गावत मन मेरो..." तो फिल्म संगीत के इतिहास में एक अमर गीत बन चुका है। इसके अलावा उस्ताद अमीर खाँ ने अपने एकल स्वर में राग पूरिया धनाश्री में गीत; "तोरी जय जय करतार..." भी गाया था। अकबर के समकालीन कुछ ऐतिहासिक तथ्यों और कुछ दन्तकथाओं के मिश्रण से बनी 1952 की फिल्म "बैजू बावरा" थी। ऐतिहासिक कथानक और उच्चस्तर के संगीत से युक्त अपने समय की यह एक सफलतम फिल्म थी। इस फिल्म को आज छह दशक बाद भी केवल इसलिए याद किया जाता है कि इसका गीत-संगीत भारतीय संगीत के रागों पर केन्द्रित था। फिल्म के कथानक के अनुसार अकबर के समकालीन सन्त-संगीतज्ञ स्वामी हरिदास के शिष्य तानसेन सर्वश्रेष्ठ संगीतज्ञ थे। परन्तु उनके संगीत पर दरबारी प्रभाव आ चुका था। उन्हीं के समकालीन स्वामी हरिदास के ही शिष्य माने जाने वाले बैजू अथवा बैजनाथ थे, जिसके संगीत का आधार प्रकृति, दैवी आराधना और मानवीय संवेदनाओं से परिपूर्ण था। फिल्म के कथानक का निष्कर्ष यह था कि संगीत जब राज दरबार की दीवारों से घिर जाता है, तो उसका लक्ष्य अपने स्वामी की प्रशस्ति तक सीमित हो जाता है, जबकि मुक्त प्राकृतिक परिवेश में पनपने वाला संगीत ईश्वरीय शक्ति से परिपूर्ण होता है। राग देसी के स्वरों से पगा जो गीत आज हमारी चर्चा में है, उसका फिल्मांकन बादशाह अकबर के दरबार में किया गया था। तानसेन और बैजू बावरा के बीच एक सांगीतिक प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। अकबर बादशाह ने श्रेष्ठता के निर्णय के लिए यह शर्त रखी कि जिसके संगीत के असर से पत्थर पिघल जाएगा वही गायक सर्वश्रेष्ठ कहलाएगा। कहने की आवश्यकता नहीं कि इस प्रतियोगिता में तानसेन की तुलना में बैजू बावरा की श्रेष्ठता सिद्ध हुई थी। आज का गीत फिल्म के इसी प्रसंग में प्रस्तुत किया गया था। तीनताल में निबद्ध इस गीत में आपको विलम्बित और द्रुत, दोनों खयाल का आनन्द मिलेगा। इस गीत में अपने समय के दो दिग्गज गायक उस्ताद अमीर खाँ और पण्डित दत्तात्रेय विष्णु पलुस्कर (डी.वी. पलुस्कर) ने अपना स्वर दिया था। फिल्म के गीतकार शकील बदायूनी और संगीतकार नौशाद हैं। आप यह गीत सुनिए और हमें आज की इस कड़ी को यहीं विराम लेने की अनुमति दीजिए। 

राग देसी : "तुम्हरे गुण गाउँ..." और "आज गावत मन मेरो..." : पण्डित दत्तात्रेय विष्णु पलुस्कर और उस्ताद अमीर खाँ : फिल्म - बैजू बावरा 




संगीत पहेली

"स्वरगोष्ठी" के 483वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको एक राग आधारित, गैरफिल्मी गीत का अंश सुनवा रहे हैं। गीत के इस अंश को सुन कर आपको दो अंक अर्जित करने के लिए निम्नलिखित तीन में से कम से कम दो प्रश्नों के सही उत्तर देना आवश्यक हैं। यदि आपको तीन में से केवल एक अथवा तीनों प्रश्नों का उत्तर ज्ञात हो तो भी आप प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। श्रृंखला के चौथे सत्र अर्थात अंक संख्या 490 की पहेली का उत्तर प्राप्त होने के बाद तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे उन्हें इस वर्ष के चतुर्थ सत्र का विजेता घोषित किया जाएगा। इसके साथ ही पूरे वर्ष के प्राप्तांकों की गणना के बाद वर्ष के अन्त में महाविजेताओं की घोषणा की जाएगी और उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा। 





1 - इस गीतांश को सुन कर बताइए कि इसमें किस राग अथवा रागों  की छाया है? 

2 – इस गीत में प्रयोग किये गए ताल को पहचानिए और उसका नाम बताइए। 

3 – इस गीत में किस वरिष्ठ पार्श्वगायक और अभिनेता के स्वर है? 

आप उपरोक्त तीन मे से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia9@gmail.com पर ही शनिवार 17 अक्तूबर, 2020 की मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। आपको यदि उपरोक्त तीन में से केवल एक प्रश्न का सही उत्तर ज्ञात हो तो भी आप पहेली प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते हैं, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर देने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। फेसबुक पर पहेली का उत्तर स्वीकार नहीं किया जाएगा। विजेताओं के नाम हम उनके शहर/ग्राम, प्रदेश और देश के नाम के साथ “स्वरगोष्ठी” के अंक संख्या 485 में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत, संगीत या कलाकार के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia9@gmail.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं। 


पिछली पहेली के सही उत्तर और विजेता

“स्वरगोष्ठी” के 481वें अंक में हमने आपको 1968 में प्रदर्शित फिल्म "मेरे हुज़ूर" के एक गीत का अंश सुनवा कर आपसे तीन में से कम से कम दो सही उत्तरों की अपेक्षा की गई थी। इस गीत के आधार राग को पहचानने में हमारे अधिकतर प्रतिभागी सफल रहे। पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है; राग - दरबारी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है; ताल – तीनताल, कहरवा व अद्धा तीनताल तथा तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है; स्वर – मन्ना डे। 

‘स्वरगोष्ठी’ की इस पहेली का सही उत्तर देने वाले हमारे विजेता हैं; वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी, अहमदाबाद, गुजरात से मुकेश लाडिया, और शारीरिक अस्वस्थता के बावजूद हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी। उपरोक्त सभी प्रतिभागियों में से प्रत्येक को दो-दो अंक मिलते हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से आप सभी को हार्दिक बधाई। सभी प्रतिभागियों से अनुरोध है कि अपने पते के साथ कृपया अपना उत्तर ई-मेल से ही भेजा करें। इस पहेली प्रतियोगिता में हमारे नए प्रतिभागी भी हिस्सा ले सकते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि आपको पहेली के तीनों प्रश्नों के सही उत्तर ज्ञात हो। यदि आपको पहेली का कोई एक उत्तर भी ज्ञात हो तो भी आप इसमें भाग ले सकते हैं। 


संवाद

मित्रों, इन दिनों हम सब भारतवासी, प्रत्येक नागरिक को कोरोना वायरस से मुक्त करने के लिए प्रयत्नशील हैं। अब तक हम काफी हद तक हम सफल भी हुए हैं। संक्रमित होने वालों के स्वस्थ होने का प्रतिशत निरन्तर बढ़ रहा है। परन्तु अभी भी हमें पर्याप्त सतर्कता बरतनी है। विश्वास कीजिए, हमारे इस सतर्कता अभियान से कोरोना वायरस पराजित होगा। आप सब से अनुरोध है कि प्रत्येक स्थिति में चिकित्सकीय और शासकीय निर्देशों का पालन करें और अपने घर में सुरक्षित रहें। इस बीच शास्त्रीय संगीत का श्रवण करें और अनेक प्रकार के मानसिक और शारीरिक व्याधियों से स्वयं को मुक्त रखें। विद्वानों ने इसे “नाद योग पद्धति” कहा है। “स्वरगोष्ठी” की नई-पुरानी श्रृंखलाएँ सुने और पढ़ें। साथ ही अपनी प्रतिक्रिया से हमें अवगत भी कराएँ। 


अपनी बात

मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी हमारी श्रृंखला “आसावरी थाट के राग” की पाँचवीं कड़ी में आज आपने आसावरी थाट के जन्य राग देसी अथवा देसी तोड़ी का परिचय प्राप्त किया। राग के शास्त्रीय स्वरूप को समझने के लिए हमने आगरा घराने के सुविख्यात संगीतज्ञ उस्ताद फ़ैयाज़ खाँ के स्वरों में ध्रुपद अंग की एक आलाप रचना प्रस्तुत की। इसके साथ ही “स्वरगोष्ठी” की परम्परा के अनुसार आज की कड़ी में हमने आपको 1952 में प्रदर्शित फिल्म "बैजू बावरा" से पण्डित दत्तात्रेय विष्णु पलुस्कर और उस्ताद अमीर खाँ के युगल स्वर में राग आधारित गीत प्रस्तुत किया। फिल्म के गीतकार शकील बदायूनी और संगीतकार नौशाद हैं। गीत में विलम्बित और द्रुत खयाल की झलक है। 

कुछ तकनीकी समस्या के कारण हम अपने फेसबुक के मित्र समूह पर “स्वरगोष्ठी” का लिंक साझा नहीं कर पा रहे हैं। सभी संगीत अनुरागियों से अनुरोध है कि हमारी वेबसाइट http://radioplaybackindia.com अथवा http://radioplaybackindia.blogspot.com पर क्लिक करके हमारे सभी साप्ताहिक स्तम्भों का अवलोकन करते रहें। “स्वरगोष्ठी” के वेब पेज के दाहिनी ओर निर्धारित स्थान पर अपना ई-मेल आईडी अंकित कर आप हमारे सभी पोस्ट के लिंक को नियमित रूप से अपने ई-मेल पर प्राप्त कर सकते है। “स्वरगोष्ठी” की पिछली कड़ियों के बारे में हमें अनेक पाठकों की प्रतिक्रिया लगातार मिल रही है। हमें विश्वास है कि हमारे अन्य पाठक भी “स्वरगोष्ठी” के प्रत्येक अंक का अवलोकन करते रहेंगे और अपनी प्रतिक्रिया हमें भेजते रहेंगे। आज के इस अंक अथवा श्रृंखला के बारे में यदि आपको कुछ कहना हो तो हमें अवश्य लिखें। यदि आपका कोई सुझाव या अनुरोध हो तो हमें swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia9@gmail.com पर अवश्य लिखिए। अगले अंक में रविवार को प्रातः सात बजे “स्वरगोष्ठी” के इसी मंच पर हम एक बार फिर संगीत के सभी अनुरागियों का स्वागत करेंगे। 


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  


रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

राग देसी : SWARGOSHTHI – 483 : RAG DESI : 11 अक्तूबर, 2020 




रविवार, 4 अक्तूबर 2020

राग दरबारी : SWARGOSHTHI – 482 : RAG DARABARI





स्वरगोष्ठी – 482 में आज 

आसावरी थाट के राग – 4 : राग दरबारी अथवा दरबारी कान्हड़ा 

पण्डित जसराज से राग दरबारी में भक्ति रचना और मन्ना डे से फिल्मी गीत सुनिए 




पण्डित जसराज 

मन्ना डे 

“रेडियो प्लेबैक इण्डिया” के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “आसावरी थाट के राग” की चौथी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में सात शुद्ध, चार कोमल और एक तीव्र अर्थात कुल बारह स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए इन बारह स्वरों में से कम से कम पाँच स्वरों का होना आवश्यक होता है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के बारह में से मुख्य सात स्वरों के क्रमानुसार समुदाय को थाट कहते हैं, जिससे राग उत्पन्न होते हों। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। वर्तमान समय में रागों के वर्गीकरण के लिए यही पद्धति प्रचलित है। भातखण्डे जी द्वारा प्रचलित ये दस थाट हैं; कल्याण, बिलावल, खमाज, भैरव, पूर्वी, मारवा, काफी, आसावरी, तोड़ी और भैरवी। सभी प्रचलित और अप्रचलित रागों को इन्हीं दस थाट के अन्तर्गत सम्मिलित किया गया है। भारतीय संगीत में थाट, स्वरों के उस समूह को कहते हैं जिससे रागों का वर्गीकरण किया जा सकता है। पन्द्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में 'राग तरंगिणी’ ग्रन्थ के लेखक लोचन कवि ने रागों के वर्गीकरण की परम्परागत 'ग्राम और मूर्छना प्रणाली’ का परिमार्जन कर मेल अथवा थाट प्रणाली की स्थापना की। लोचन कवि के अनुसार उस समय सोलह हज़ार राग प्रचलित थे। इनमें 36 मुख्य राग थे। सत्रहवीं शताब्दी में थाट के अन्तर्गत रागों का वर्गीकरण प्रचलित हो चुका था। थाट प्रणाली का उल्लेख सत्रहवीं शताब्दी के ‘संगीत पारिजात’ और ‘राग विबोध’ नामक ग्रन्थों में भी किया गया है। लोचन द्वारा प्रतिपादित थाट प्रणाली का प्रयोग लगभग तीन सौ वर्षों तक होता रहा। उन्नीसवीं शताब्दी के अन्तिम और बीसवीं शताब्दी के प्रारम्भिक दशकों में पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे ने भारतीय संगीत के बिखरे सूत्रों को न केवल संकलित किया बल्कि संगीत के कई सिद्धान्तों का परिमार्जन भी किया। भातखण्डे जी द्वारा निर्धारित दस थाट में से आठवाँ थाट आसावरी है। इस श्रृंखला में हम आसावरी थाट के रागों पर क्रमशः चर्चा कर रहे हैं। प्रत्येक थाट का एक आश्रय अथवा जनक राग होता है और शेष जन्य राग कहलाते हैं। आपके लिए इस श्रृंखला में हम आसावरी थाट के जनक और जन्य रागों पर चर्चा कर रहे हैं। श्रृंखला की चौथी कड़ी में आज हमने आसावरी थाट के जन्य राग दरबारी अथवा दरबारी कान्हड़ा का चयन किया है। श्रृंखला की इस कड़ी में आज हम आपके लिए सम्पूर्ण-सम्पूर्ण जाति के राग दरबारी का परिचय प्रस्तुत करेंगे। इसके साथ ही सुविख्यात संगीतज्ञ पण्डित जसराज के स्वरों में राग दरबारी में निबद्ध एक शास्त्रीय भक्ति-रचना प्रस्तुत कर रहे हैं। इस राग के स्वरों का कई फिल्मी गीतों में उपयोग किया गया है। राग दरबारी के स्वरों में पिरोया एक फिल्मी गीत का भी हमने चयन किया है। आज की कड़ी में हम आपको 1968 में प्रदर्शित फिल्म "मेरे हुज़ूर" से हसरत जयपुरी का लिखा और शंकर जयकिशन का स्वरबद्ध किया गीत "झनक झनक तोरी बाजे पायलिया..." सुनवा रहे हैं, जिसे सुप्रसिद्ध पार्श्वगायक मन्ना डे ने स्वर दिया है। 




राग दरबारी का यह नामकरण अकबर के काल से प्रचलित हुआ। मध्यकालीन ग्रन्थों में राग का नाम दरबारी अथवा दरबारी कान्हड़ा नहीं मिलता। इसके स्थान पर कर्नाट या शुद्ध कर्नाट नाम से यह राग प्रचलित था। तानसेन, दरबार में अकबर के सम्मुख राग कर्नाट गाते थे, जो बादशाह और अन्य गुणी संगीत-प्रेमियों को खूब पसन्द आता था। राज दरबार का पसन्दीदा राग होने से धीरे-धीरे राग का नाम दरबारी अथवा दरबारी कान्हड़ा हो गया। प्राचीन नाम ‘कर्नाट’ परिवर्तित होकर ‘कान्हड़ा’ प्रचलित हो गया। सन् 1550 की राजस्थानी पेंटिंग में इस राग का उल्लेख मिलता है। वर्तमान में राग दरबारी कान्हड़ा आसावरी थाट का राग माना जाता है। इस राग में गान्धार, धैवत और निषाद स्वर सदा कोमल प्रयोग किया जाता है। शेष स्वर शुद्ध लगते हैं। राग की जाति वक्र सम्पूर्ण होती है। अर्थात इस राग में सभी सात स्वर प्रयोग होते हैं। राग का वादी स्वर ऋषभ और संवादी स्वर पंचम होता है। मध्यरात्रि के समय यह राग अधिक प्रभावी लगता है। गान्धार स्वर आरोह और अवरोह दोनों में तथा धैवत स्वर केवल अवरोह में वक्र प्रयोग किया जाता है। कुछ विद्वान अवरोह में धैवत को वर्जित करते हैं। तब राग की जाति सम्पूर्ण-षाडव हो जाती है। राग दरबारी का कोमल गान्धार अन्य सभी रागों के कोमल गान्धार से भिन्न होता है। राग का कोमल गान्धार स्वर अति कोमल होता है और आन्दोलित भी होता है। इस राग का चलन अधिकतर मन्द्र और मध्य सप्तक में किया जाता है। यह आलाप प्रधान राग है। इसमें विलम्बित आलाप और विलम्बित खयाल अत्यन्त प्रभावी लगते हैं। राग के यथार्थ स्वरूप को समझने के लिए और राग के भक्तिरस पक्ष को रेखांकित करने के लिए अब हम आपको विश्वविख्यात संगीतज्ञ पण्डित जसराज के स्वरों में शक्ति और बुद्धि की प्रतीक देवी दुर्गा की स्तुति सुनवाते हैं। 

राग दरबारी : ‘जय जय श्री दुर्गे...’ : पण्डित जसराज 


राग दरबारी के स्वरों में श्रृंगार और भक्ति रस खूब मुखर होता है। अब हम आपको सुप्रसिद्ध पार्श्वगायक मन्ना डे के स्वर श्रृंगार रस से परिपूर्ण एक फिल्मी गीत सुनवा रहे हैं। मन्ना डे को संगीत की प्रारम्भिक शिक्षा उनके चाचा कृष्णचन्द्र डे (के.सी. डे) से मिली, जो बंगाल की भक्ति संगीत शैलियों के सिद्ध गायक थे। इसके अलावा अपने विद्यार्थी जीवन में उस्ताद दबीर खाँ से खयाल, तराना और ठुमरी की शिक्षा भी प्राप्त हुई। 1940 में मन्ना डे अपने चाचा के साथ कोलकाता से मुम्बई आए। अपने चाचा के साथ-साथ खेमचन्द्र प्रकाश, शंकरराव व्यास, अनिल विश्वास, सचिनदेव बर्मन आदि के सहायक के रूप में कार्य किया। इस दौर में उन्होने कई फिल्मों में संगीत निर्देशन भी किया। फिल्म संगीत के क्षेत्र में स्वयं को स्थापित करने के प्रयासों के बीच मन्ना डे ने मुम्बई में उस्ताद अमान अली खाँ और उस्ताद अब्दुल रहमान खाँ से संगीत सीखना जारी रखा। मन्ना डे के स्वर में राग दरबारी पर आधारित आज का दूसरा गीत श्रृंगार रस प्रधान है। यह गीत हमने 1968 में प्रदर्शित फिल्म "मेरे हुज़ूर" से लिया है। इसके संगीतकार शंकर-जयकिशन और गीतकार हसरत जयपुरी हैं। फिल्मों में राग दरबारी पर आधारित श्रृंगार रस प्रधान गीतों की सूची में यह गीत सर्वोच्च स्थान पर रखे जाने योग्य है। तीनताल में निबद्ध इस गीत में मन्ना डे ने अन्तिम अन्तरे में सरगम तानों का प्रयोग कुशलता से किया है। आप यह गीत सुनिए और हमें आज की इस कड़ी को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए। 

राग दरबारी : "झनक झनक तोरी बाजे पायलिया..." : मन्ना डे : फिल्म - मेरे हुज़ूर 




संगीत पहेली

"स्वरगोष्ठी" के 482वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको वर्ष 1952 में प्रदर्शित एक फिल्म के राग आधारित गीत का अंश सुनवा रहे हैं। गीत के इस अंश को सुन कर आपको दो अंक अर्जित करने के लिए निम्नलिखित तीन में से कम से कम दो प्रश्नों के सही उत्तर देना आवश्यक हैं। यदि आपको तीन में से केवल एक अथवा तीनों प्रश्नों का उत्तर ज्ञात हो तो भी आप प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। श्रृंखला के चौथे सत्र अर्थात अंक संख्या 490 की पहेली का उत्तर प्राप्त होने के बाद तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे उन्हें इस वर्ष के चतुर्थ सत्र का विजेता घोषित किया जाएगा। इसके साथ ही पूरे वर्ष के प्राप्तांकों की गणना के बाद वर्ष के अन्त में महाविजेताओं की घोषणा की जाएगी और उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा। 





1 - इस गीतांश को सुन कर बताइए कि इसमें किस राग का स्पर्श है? 

2 – इस गीत में प्रयोग किये गए ताल को पहचानिए और उसका नाम बताइए। 

3 – इस गीत में किन वरिष्ठ गायकों के स्वर है? 

आप उपरोक्त तीन मे से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia9@gmail.com पर ही शनिवार 10 अक्तूबर, 2020 की मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। आपको यदि उपरोक्त तीन में से केवल एक प्रश्न का सही उत्तर ज्ञात हो तो भी आप पहेली प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते हैं, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर देने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। फेसबुक पर पहेली का उत्तर स्वीकार नहीं किया जाएगा। विजेताओं के नाम हम उनके शहर/ग्राम, प्रदेश और देश के नाम के साथ “स्वरगोष्ठी” के अंक संख्या 484 में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत, संगीत या कलाकार के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia9@gmail.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं। 


पिछली पहेली के सही उत्तर और विजेता

“स्वरगोष्ठी” के 480वें अंक में हमने आपको 1968 में प्रदर्शित फिल्म "दो कलियाँ" के एक गीत का अंश सुनवा कर आपसे तीन में से कम से कम दो सही उत्तरों की अपेक्षा की गई थी। इस गीत के आधार राग को पहचानने में हमारे अधिकतर प्रतिभागी सफल रहे। पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है; राग - जौनपुरी, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है; ताल – तीनताल व कहरवा तथा तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है; स्वर – आशा भोसले। 

‘स्वरगोष्ठी’ की इस पहेली का सही उत्तर देने वाले हमारे विजेता हैं; वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, अहमदाबाद, गुजरात से मुकेश लाडिया, चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी और शारीरिक अस्वस्थता के बावजूद हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी। उपरोक्त सभी प्रतिभागियों में से प्रत्येक को दो-दो अंक मिलते हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से आप सभी को हार्दिक बधाई। सभी प्रतिभागियों से अनुरोध है कि अपने पते के साथ कृपया अपना उत्तर ई-मेल से ही भेजा करें। इस पहेली प्रतियोगिता में हमारे नए प्रतिभागी भी हिस्सा ले सकते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि आपको पहेली के तीनों प्रश्नों के सही उत्तर ज्ञात हो। यदि आपको पहेली का कोई एक उत्तर भी ज्ञात हो तो भी आप इसमें भाग ले सकते हैं। 


संवाद

मित्रों, इन दिनों हम सब भारतवासी, प्रत्येक नागरिक को कोरोना वायरस से मुक्त करने के लिए प्रयत्नशील हैं। अब तक हम काफी हद तक हम सफल भी हुए हैं। संक्रमित होने वालों के स्वस्थ होने का प्रतिशत निरन्तर बढ़ रहा है। परन्तु अभी भी हमें पर्याप्त सतर्कता बरतनी है। विश्वास कीजिए, हमारे इस सतर्कता अभियान से कोरोना वायरस पराजित होगा। आप सब से अनुरोध है कि प्रत्येक स्थिति में चिकित्सकीय और शासकीय निर्देशों का पालन करें और अपने घर में सुरक्षित रहें। इस बीच शास्त्रीय संगीत का श्रवण करें और अनेक प्रकार के मानसिक और शारीरिक व्याधियों से स्वयं को मुक्त रखें। विद्वानों ने इसे “नाद योग पद्धति” कहा है। “स्वरगोष्ठी” की नई-पुरानी श्रृंखलाएँ सुने और पढ़ें। साथ ही अपनी प्रतिक्रिया से हमें अवगत भी कराएँ। 


अपनी बात

मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी हमारी श्रृंखला “आसावरी थाट के राग” की चौथी कड़ी में आज आपने आसावरी थाट के जन्य राग दरबारी अथवा दरबारी कान्हड़ा का परिचय प्राप्त किया। राग के शास्त्रीय स्वरूप को समझने के लिए हमने सुविख्यात संगीतज्ञ पण्डित जसराज के स्वरों में एक भक्ति रचना प्रस्तुत की। इसके साथ ही “स्वरगोष्ठी” की परम्परा के अनुसार आज की कड़ी में हमने आपको 1968 में प्रदर्शित फिल्म "मेरे हुज़ूर" से मन्ना डे के स्वर में शंकर जयकिशन का संगीतबद्ध किया और हसरत जयपुरी का लिखा एक गीत "झनक झनक तोरी बाजे पायलिया..." प्रस्तुत किया। 

कुछ तकनीकी समस्या के कारण हम अपने फेसबुक के मित्र समूह पर “स्वरगोष्ठी” का लिंक साझा नहीं कर पा रहे हैं। सभी संगीत अनुरागियों से अनुरोध है कि हमारी वेबसाइट http://radioplaybackindia.com अथवा http://radioplaybackindia.blogspot.com पर क्लिक करके हमारे सभी साप्ताहिक स्तम्भों का अवलोकन करते रहें। “स्वरगोष्ठी” के वेब पेज के दाहिनी ओर निर्धारित स्थान पर अपना ई-मेल आईडी अंकित कर आप हमारे सभी पोस्ट के लिंक को नियमित रूप से अपने ई-मेल पर प्राप्त कर सकते है। “स्वरगोष्ठी” की पिछली कड़ियों के बारे में हमें अनेक पाठकों की प्रतिक्रिया लगातार मिल रही है। हमें विश्वास है कि हमारे अन्य पाठक भी “स्वरगोष्ठी” के प्रत्येक अंक का अवलोकन करते रहेंगे और अपनी प्रतिक्रिया हमें भेजते रहेंगे। आज के इस अंक अथवा श्रृंखला के बारे में यदि आपको कुछ कहना हो तो हमें अवश्य लिखें। यदि आपका कोई सुझाव या अनुरोध हो तो हमें swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia9@gmail.com पर अवश्य लिखिए। अगले अंक में रविवार को प्रातः सात बजे “स्वरगोष्ठी” के इसी मंच पर हम एक बार फिर संगीत के सभी अनुरागियों का स्वागत करेंगे। 


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  


रेडियो प्लेबैक इण्डिया 
राग दरबारी : SWARGOSHTHI – 482 : RAG DARABARI : 4 अक्तूबर, 2020 


शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2020

फ़िल्मी प्रसंग - 2: "सपने ख़ुशी के सजाता चल..." - अलविदा अभिलाष जी!

  

फ़िल्मी प्रसंग - 2

अलविदा अभिलाष जी!

"सपने ख़ुशी के सजाता चल..." 



रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के नए साप्ताहिक स्तंभ ’फ़िल्मी प्रसंग’ में आप सभी का स्वागत है।  फ़िल्म एवम् फ़िल्म-संगीत निर्माण प्रक्रिया के दौरान घटने वाली रोचक घटनाओं व अन्य पहलुओं से सम्बन्धित दिलचस्प प्रसंग जिनके बारे में जान कर आश्चर्य भी होता है और रोमांच भी। फ़िल्म इतिहासकारों, रेडियो व टेलीविज़न कार्यक्रमों, कलाकारों व कलाकारों के परिवारजनों के सोशल मीडिया पोस्ट्स व उनसे साक्षात्कारों, विभिन्न फ़िल्मी पत्र-पत्रिकाओं जैसे विश्वसनीय माध्यमों से संकलित जानकारियों से सुसज्जित प्रसंग - फ़िल्मी प्रसंग!

28 सितम्बर 2020 को गीतकार अभिलाष का निधन हो गया। उनके गुज़र जाने के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर उन्हें जितना याद किया, काश उनके जीवित रहते समय किया होता तो शायद वे इस दुनिया को थोड़े सुकून के साथ छोड़ पाते! गीतकार विजय अकेला ने अपनी दिल की भड़ास निकालते हुए अपने फ़ेसबूक पृष्ठ पर लिखा, "शायरी से दुनिया को जितनी महब्बत होती है, शायरों से उतनी ही चिढ़! दुनिया शायरों को सहानुभूति तो देती है, उनका हक़ नहीं ! उनकी royalties नहीं ! शायर जब इलाज के अभाव में मरता है तो सभी कहते हैं -’अच्छा शायर था !’ मगर जीते जी उसके कलाम की चोरी की जाती है! मुफ़्त ही उससे महफ़िलें सजायी जाती हैं। शायर एक रंगीन चश्मा भी लगा के शेर कहे तो रंगीन चश्मा लगा के घूमने वालों की ego उस शायर से इतनी hurt हो जाती है कि वे उसका बहिष्कार करना शुरू कर देते हैं ! बड़े हॉस्पिटल में उसका इलाज चले तो समाज के सीने पे कटारी चल जाती है! यही है वो समाज जिसमें हम रहते हैं! बढ़िए आगे अभिलाष जी! हम भी आ ही रहे हैं! अभिलाष जी ने लिखा था "इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमज़ोर हो ना"। यह गीत प्रार्थना बना। सैंकड़ों स्कूलों में हर रोज़ गाया गया / जाता है! और तो और वर्तमान सरकार ने भी इस गीत को एक तरह से अपना Party Song बनाया, मगर royalties? कुछ भी नहीं! आज करोड़ों मोबाइल का caller tune है ये गीत! पर कितनों को पता होगा कि इसे अभिलाष जी ने लिखा है?"

अभिलाष जी को श्रद्धांजलि स्वरूप उनके लिखे "इतनी शक्ति हमें देना दाता" गीत के बजाय उनके किसी कमचर्चित या कमसुने-अनसुने गीत को चुनने का मन हो रहा है। हालांकि उनका लिखा मेरा अब तक का पसन्दीदा गीत फ़िल्म ’सावन को आने दो’ का "तेरे बिन सूना मोरे मन क मन्दिर आ रे आ रे आ" है, उनके लिखे गीतों पर नज़र डालते हुए एक ऐसा गीत हाथ लगा जिसे शायद बहुत कम ही लोगों ने सुना होगा और अब यही गीत सबसे अधिक दिल को छू रहा है। दिल को छूने का कारण शायद यह है कि इस गीत का एक एक शब्द जैसे अभिलाष जी के जीवन का उपहास कर रहा हो! "झूमता, मुस्कुराता चल, प्यार में गुनगुनाता चल, ओ मेरे मन, होके मगन, सपने ख़ुशी के सजाता चल"। यह 1970 के दशक में बनने वाली किसी अप्रदर्शित फ़िल्म का बताया जा रहा है। गीत गाया है मुकेश ने और संगीत दिया है असित गांगुली ने। गीत में मुकेश जी की आवाज़ और गीत के संगीत संयोजन को सुनते हुए यह 70 के दशक का ही गीत जान पड़ता है, पर एक आश्चर्य की बात है कि बहुत से जगहों पर इसे 1956 की फ़िल्म ’मौक़ा’ का बताया जा रहा है। पर अभिलाष जी की उम्र उस समय मात्र दस वर्ष की थी, इसलिए यह सम्भव नहीं कि उन्होंने यह गीत उस समय लिखा होगा। संयोग की बात यह है कि गीत में "मौक़ा" शब्द आता है, इसलिए संशय उत्पन्न हुआ कि क्या ’मौक़ा’ नामक किसी फ़िल्म के लिए ही यह गीत लिखा गया होगा! ख़ैर, जो भी है, इस गीत को आज सुनते हुए मन में जैसे अभिलाष जी के लिए एक दर्द सा महसूस होता है। पूरे गीत में आशाओं की धरती पर एक नई दुनिया बसाने, ख़ुशियों के सपने सजाने की बातें कही गई हैं, पर अभिलाष जी का अपना जीवन निराशाओं से ही घिरा रहा। तमाम निराशाओं के बीच उनके आशावादी गीतों का सफ़र जारी रहा। जिस तरह से इस अप्रदर्शित गीत में उन्होंने आशावादी विचारधारा रखी है, "इतनी शक्ति हमें देना दाता, मन का विश्वास कमज़ोर हो ना" में भी वही आशावाद दिखाई देता है।

झूमता मुस्कुराता चल
प्यार में गुनगुनाता चल
ओ मेरे मन, हो के मगन
सपने खुशी के सजाता चल

फूलों भरी ये डालियाँ
महकी महकी वादियाँ
कलियों का ये निखरा जोबन
नज़रों से तू चुराता चल
मौका मिला है सुनहरा
उठ गया ग़म का पहरा
आशाओं की धरती पर तू
दुनिया नई बसाता चल





आपकी राय

’फ़िल्मी प्रसंग’ स्तंभ का आज का यह अंक आपको कैसा लगा, हमें ज़रूर बताएँ नीचे टिप्पणी में या soojoi_india@yahoo.co.in के ईमेल पते पर पत्र लिख कर। 


शोध,आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

मंगलवार, 29 सितंबर 2020

ऑडियो: पूजाघर (कन्हैयालाल पाण्डेय)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने कन्हैयालाल पाण्डेय के स्वर में उन्हीं की कहानी माँ का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं कन्हैयालाल पाण्डेय की लघुकथा "पूजाघर", जिसे स्वर दिया है, कन्हैयालाल पाण्डेय ने।

इस रचना का कुल प्रसारण समय 3 मिनट 51 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

कन्हैयालाल पाण्डेय
4 नवम्बर, 1954 को हरदोई में जन्म। भारतीय रेल यातायात सेवा (सेवानिवृत्त)। हिन्दी में छह साहित्यिक तथा दो संगीत पुस्तकों का लेखन। साहित्य व संगीत के क्षेत्र में अनेक पुरस्कारों से सम्मानित

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"मैं आपकी स्थिति समझ रहा हूँ।"
(कन्हैयालाल पाण्डेय की "पूजाघर" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
पूजाघर mp3

#Ninteenth Story: Pujaghar; Author: Kanhayalal Pandey; Voice: Kanhayalal Pandey; Hindi Audio Book/2020/19.

रविवार, 27 सितंबर 2020

राग जौनपुरी : SWARGOSHTHI – 481 : RAG JAUNPURI





स्वरगोष्ठी – 481 में आज 

आसावरी थाट के राग – 3 : राग जौनपुरी

विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती से राग जौनपुरी में खयाल-रचना और आशा भोसले से फिल्मी गीत सुनिए 





आशा भोसले 


कौशिकी चक्रवर्ती 

“रेडियो प्लेबैक इण्डिया” के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी हमारी श्रृंखला “आसावरी थाट के राग” की तीसरी कड़ी में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में सात शुद्ध, चार कोमल और एक तीव्र अर्थात कुल बारह स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए इन बारह स्वरों में से कम से कम पाँच स्वरों का होना आवश्यक होता है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के बारह में से मुख्य सात स्वरों के क्रमानुसार समुदाय को थाट कहते हैं, जिससे राग उत्पन्न होते हों। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। वर्तमान समय में रागों के वर्गीकरण के लिए यही पद्धति प्रचलित है। भातखण्डे जी द्वारा प्रचलित ये दस थाट हैं; कल्याण, बिलावल, खमाज, भैरव, पूर्वी, मारवा, काफी, आसावरी, तोड़ी और भैरवी। सभी प्रचलित और अप्रचलित रागों को इन्हीं दस थाट के अन्तर्गत सम्मिलित किया गया है। भारतीय संगीत में थाट, स्वरों के उस समूह को कहते हैं जिससे रागों का वर्गीकरण किया जा सकता है। पन्द्रहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में 'राग तरंगिणी’ ग्रन्थ के लेखक लोचन कवि ने रागों के वर्गीकरण की परम्परागत 'ग्राम और मूर्छना प्रणाली’ का परिमार्जन कर मेल अथवा थाट प्रणाली की स्थापना की। लोचन कवि के अनुसार उस समय सोलह हज़ार राग प्रचलित थे। इनमें 36 मुख्य राग थे। सत्रहवीं शताब्दी में थाट के अन्तर्गत रागों का वर्गीकरण प्रचलित हो चुका था। थाट प्रणाली का उल्लेख सत्रहवीं शताब्दी के ‘संगीत पारिजात’ और ‘राग विबोध’ नामक ग्रन्थों में भी किया गया है। लोचन द्वारा प्रतिपादित थाट प्रणाली का प्रयोग लगभग तीन सौ वर्षों तक होता रहा। उन्नीसवीं शताब्दी के अन्तिम और बीसवीं शताब्दी के प्रारम्भिक दशकों में पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे ने भारतीय संगीत के बिखरे सूत्रों को न केवल संकलित किया बल्कि संगीत के कई सिद्धान्तों का परिमार्जन भी किया। भातखण्डे जी द्वारा निर्धारित दस थाट में से आठवाँ थाट आसावरी है। इस श्रृंखला में हम आसावरी थाट के रागों पर क्रमशः चर्चा कर रहे हैं। प्रत्येक थाट का एक आश्रय अथवा जनक राग होता है और शेष जन्य राग कहलाते हैं। आपके लिए इस श्रृंखला में हम आसावरी थाट के जनक और जन्य रागों पर चर्चा कर रहे हैं। श्रृंखला की तीसरी कड़ी में आज हमने आसावरी थाट के जन्य राग जौनपुरी का चयन किया है। श्रृंखला की इस कड़ी में आज हम आपके लिए षाड़व-सम्पूर्ण जाति के राग जौनपुरी का परिचय प्रस्तुत करेंगे। इसके साथ ही पटियाला गायकी में दक्ष सुविख्यात संगीत विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती के स्वरों में राग जौनपुरी में निबद्ध एक शास्त्रीय रचना का वीडियो प्रस्तुत कर रहे हैं। इस राग के स्वरों का कई फिल्मी गीतों में उपयोग किया गया है। राग अड़ाना के स्वरों पर आधारित एक फिल्मी गीत का भी हमने चयन किया है। आज की कड़ी में हम आपको 1968 में प्रदर्शित फिल्म "दो कलियाँ" से साहिर लुधियानवी का लिखा और रवि का स्वरबद्ध किया नृत्य-गीत "चितनन्दन आगे नाचूँगी..." सुनवा रहे हैं, जिसे सुप्रसिद्ध पार्श्वगायिका आशा भोसले ने स्वर दिया है। 



राग जौनपुरी आसावरी थाट का जन्य राग माना जाता है। इस राग में गान्धार, धैवत और निषाद स्वर कोमल लगाए जाते हैं। आरोह में गान्धार वर्जित होता है और अवरोह में सभी सात स्वर प्रयोग किये जाते हैं। इसीलिए राग जौनपुरी की जाति षाड़व-सम्पूर्ण होती है। इस राग का वादी स्वर धैवत और संवादी स्वर गान्धार होता है। राग जौनपुरी के गायन अथवा वादन का सर्वाधिक उपयुक्त समय दिन का दूसरा प्रहर माना जाता है। इस राग के आरोह में कभी-कभी कुछ विद्वान शुद्ध निषाद का प्रयोग करते हैं। परन्तु प्रचार में कोमल निषाद ही है। आरोह में कोमल निषाद के प्रयोग के कारण राग जौनपुरी, राग आसावरी से भिन्न हो जाता है। राग आसावरी से बचाने के लिए ऋषभ, मध्यम और पंचम स्वरों का प्रयोग बार-बार किया जाता है। यह उत्तरांगवादी राग है। अतः इसका चलन अधिकतर सप्तक के उत्तर अंग में और तार सप्तक में होती है। राग के शास्त्रीय स्वरूप को समझने के लिए अब हम आपको विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती के स्वर में एक खयाल रचना सुनवा रहे हैं, जिसके बोल हैं; "प्रभु मोहें भरोसा एक तिहारो..."। 

राग जौनपुरी : "प्रभु मोहें भरोसा एक तिहारो..." : विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती 



राग जौनपुरी के बारे में कुछ विद्वानों की धारणा है कि उत्तर प्रदेश के जौनपुर जनपद के सुल्तान हुसैन शर्क़ी ने राग की रचना की थी। इसीलिए राग का नामकरण जौनपुरी हुआ। राग जौनपुरी का समप्रकृति राग आसावरी होता है। इसीलिए कभी-कभी दोनों रागों को पहचानने में भ्रम हो जाता है। दोनों रागों में गान्धार, धैवत और निषाद स्वर कोमल लगते हैं, दोनों रागों में वादी स्वर धैवत और संवादी स्वर गान्धार होता है और दोनों रागों को दिन के दूसरे प्रहर में गाया या बजाया जाता है। अन्तर इन रागों की जाति में होता है। राग जौनपुरी षाड़व-सम्पूर्ण जाति का होता है, जबकि राग आसावरी औड़व-सम्पूर्ण जाति का होता है। कई फिल्मी गीत राग जौनपुरी पर आधारित रचे गए हैं। राग जौनपुरी पर आधारित इन गीतों में से एक गीत हमने चुना है। यह गीत 1968 में प्रदर्शित फिल्म "दो कलियाँ" से है। गीतकार साहिर लुधियानवी और संगीतकार रवि हैं। दरअसल यह गीत एक नृत्य-गीत है, जिसे तीनताल और कहरवाताल में निबद्ध किया गया है और इसे आशा भोसले ने स्वर दिया है। आप यह गीत सुनिए और हमें आज की इस कड़ी को यहीं विराम देने की अनुमति दीजिए और पहेली प्रतियोगिता में भाग लेना न भूलिए। 

राग जौनपुरी : "चितनन्दन आगे नाचूँगी..." : आशा भोसले : फिल्म - दो कलियाँ 




संगीत पहेली

"स्वरगोष्ठी" के 481वें अंक की संगीत पहेली में आज हम आपको वर्ष 1968 में प्रदर्शित एक फिल्म के राग आधारित गीत का अंश सुनवा रहे हैं। गीत के इस अंश को सुन कर आपको दो अंक अर्जित करने के लिए निम्नलिखित तीन में से कम से कम दो प्रश्नों के सही उत्तर देना आवश्यक हैं। यदि आपको तीन में से केवल एक अथवा तीनों प्रश्नों का उत्तर ज्ञात हो तो भी आप प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। श्रृंखला के चौथे सत्र अर्थात अंक संख्या 490 की पहेली का उत्तर प्राप्त होने के बाद तक जिस प्रतिभागी के सर्वाधिक अंक होंगे उन्हें इस वर्ष के चतुर्थ सत्र का विजेता घोषित किया जाएगा। इसके साथ ही पूरे वर्ष के प्राप्तांकों की गणना के बाद वर्ष के अन्त में महाविजेताओं की घोषणा की जाएगी और उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा। 





1 - इस गीतांश को सुन कर बताइए कि इसमें किस राग का आधार है? 

2 – इस गीत में प्रयोग किये गए ताल को पहचानिए और उसका नाम बताइए। 

3 – इस गीत में किस पार्श्वगायक के स्वर है? 

आप उपरोक्त तीन मे से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर केवल swargoshthi@gmail.com या radioplaybackindia9@gmail.com पर ही शनिवार 3 अक्तूबर, 2020 की मध्यरात्रि से पूर्व तक भेजें। आपको यदि उपरोक्त तीन में से केवल एक प्रश्न का सही उत्तर ज्ञात हो तो भी आप पहेली प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। COMMENTS में दिये गए उत्तर मान्य हो सकते हैं, किन्तु उसका प्रकाशन पहेली का उत्तर देने की अन्तिम तिथि के बाद किया जाएगा। फेसबुक पर पहेली का उत्तर स्वीकार नहीं किया जाएगा। विजेताओं के नाम हम उनके शहर/ग्राम, प्रदेश और देश के नाम के साथ “स्वरगोष्ठी” के अंक संख्या 483 में प्रकाशित करेंगे। इस अंक में प्रस्तुत गीत, संगीत या कलाकार के बारे में यदि आप कोई जानकारी या अपने किसी अनुभव को हम सबके बीच बाँटना चाहते हैं तो हम आपका इस संगोष्ठी में स्वागत करते हैं। आप पृष्ठ के नीचे दिये गए COMMENTS के माध्यम से तथा swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia9@gmail.com पर भी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर सकते हैं। 


पिछली पहेली के सही उत्तर और विजेता

“स्वरगोष्ठी” के 479 वें अंक में हमने आपको 1955 में प्रदर्शित फिल्म "झनक झनक पायल बाजे" के एक गीत का अंश सुनवा कर आपसे तीन में से कम से कम दो सही उत्तरों की अपेक्षा की गई थी। इस गीत के आधार राग को पहचानने में हमारे अधिकतर प्रतिभागी सफल रहे। पहेली के पहले प्रश्न का सही उत्तर है; राग - अड़ाना, दूसरे प्रश्न का सही उत्तर है; ताल – तीनताल तथा तीसरे प्रश्न का सही उत्तर है; स्वर – उस्ताद अमीर खाँ। 

‘स्वरगोष्ठी’ की इस पहेली का सही उत्तर देने वाले हमारे विजेता हैं; वोरहीज, न्यूजर्सी से डॉ. किरीट छाया, अहमदाबाद, गुजरात से मुकेश लाडिया, चेरीहिल, न्यूजर्सी से प्रफुल्ल पटेल, जबलपुर, मध्यप्रदेश से क्षिति तिवारी और शारीरिक अस्वस्थता के बावजूद हैदराबाद से डी. हरिणा माधवी। उपरोक्त सभी प्रतिभागियों में से प्रत्येक को दो-दो अंक मिलते हैं। ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ की ओर से आप सभी को हार्दिक बधाई। सभी प्रतिभागियों से अनुरोध है कि अपने पते के साथ कृपया अपना उत्तर ईमेल से ही भेजा करें। इस पहेली प्रतियोगिता में हमारे नए प्रतिभागी भी हिस्सा ले सकते हैं। यह आवश्यक नहीं है कि आपको पहेली के तीनों प्रश्नों के सही उत्तर ज्ञात हो। यदि आपको पहेली का कोई एक उत्तर भी ज्ञात हो तो भी आप इसमें भाग ले सकते हैं। 


संवाद

मित्रों, इन दिनों हम सब भारतवासी, प्रत्येक नागरिक को कोरोना वायरस से मुक्त करने के लिए प्रयत्नशील हैं। अब तक हम काफी हद तक हम सफल भी हुए हैं। संक्रमित होने वालों के स्वस्थ होने का प्रतिशत निरन्तर बढ़ रहा है। परन्तु अभी भी हमें पर्याप्त सतर्कता बरतनी है। विश्वास कीजिए, हमारे इस सतर्कता अभियान से कोरोना वायरस पराजित होगा। आप सब से अनुरोध है कि प्रत्येक स्थिति में चिकित्सकीय और शासकीय निर्देशों का पालन करें और अपने घर में सुरक्षित रहें। इस बीच शास्त्रीय संगीत का श्रवण करें और अनेक प्रकार के मानसिक और शारीरिक व्याधियों से स्वयं को मुक्त रखें। विद्वानों ने इसे “नाद योग पद्धति” कहा है। “स्वरगोष्ठी” की नई-पुरानी श्रृंखलाएँ सुने और पढ़ें। साथ ही अपनी प्रतिक्रिया से हमें अवगत भी कराएँ। 


अपनी बात

मित्रों, ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ पर जारी हमारी श्रृंखला “आसावरी थाट के राग” की तीसरी कड़ी में आज आपने आसावरी थाट के जन्य राग जौनपुरी का परिचय प्राप्त किया। राग के शास्त्रीय स्वरूप को समझने के लिए हमने विदुषी कौशिकी चक्रवर्ती के स्वरों में राग जौनपुरी की एक रागदारी रचना प्रस्तुत की। इसके साथ ही “स्वरगोष्ठी” की परम्परा के अनुसार आज की कड़ी में हमने आपको 1968 में प्रदर्शित फिल्म "दो कलियाँ" से आशा भोसले के स्वर में रवि का संगीतबद्ध किया और साहिर लुधियानवी का लिखा एक गीत "चितनन्दन आगे नाचूँगी..." प्रस्तुत किया। 

कुछ तकनीकी समस्या के कारण हम अपने फेसबुक के मित्र समूह पर “स्वरगोष्ठी” का लिंक साझा नहीं कर पा रहे हैं। सभी संगीत अनुरागियों से अनुरोध है कि हमारी वेबसाइट http://radioplaybackindia.com अथवा http://radioplaybackindia.blogspot.com पर क्लिक करके हमारे सभी साप्ताहिक स्तम्भों का अवलोकन करते रहें। “स्वरगोष्ठी” के वेब पेज के दाहिनी ओर निर्धारित स्थान पर अपना ई-मेल आईडी अंकित कर आप हमारे सभी पोस्ट के लिंक को नियमित रूप से अपने ई-मेल पर प्राप्त कर सकते है। “स्वरगोष्ठी” की पिछली कड़ियों के बारे में हमें अनेक पाठकों की प्रतिक्रिया लगातार मिल रही है। हमें विश्वास है कि हमारे अन्य पाठक भी “स्वरगोष्ठी” के प्रत्येक अंक का अवलोकन करते रहेंगे और अपनी प्रतिक्रिया हमें भेजते रहेंगे। आज के इस अंक अथवा श्रृंखला के बारे में यदि आपको कुछ कहना हो तो हमें अवश्य लिखें। यदि आपका कोई सुझाव या अनुरोध हो तो हमें swargoshthi@gmail.com अथवा radioplaybackindia9@gmail.com पर अवश्य लिखिए। अगले अंक में रविवार को प्रातः सात बजे “स्वरगोष्ठी” के इसी मंच पर हम एक बार फिर संगीत के सभी अनुरागियों का स्वागत करेंगे। 


प्रस्तुति : कृष्णमोहन मिश्र  

रेडियो प्लेबैक इण्डिया
 राग जौनपुरी : SWARGOSHTHI – 481 : RAG JAUNPURI : 27 सितम्बर, 2020 




मंगलवार, 22 सितंबर 2020

ऑडियो: माँ (कन्हैयालाल पाण्डेय)

'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछली बार आपने कन्हैयालाल पाण्डेय के स्वर में उन्हीं की कहानी धनी का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज हम लेकर आये हैं कन्हैयालाल पाण्डेय की लघुकथा "माँ", जिसे स्वर दिया है, कन्हैयालाल पाण्डेय ने।

इस रचना का कुल प्रसारण समय 3 मिनट 51 सेकण्ड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानी, उपन्यास, नाटक, धारावाहिक, प्रहसन, झलकी, एकांकी, या लघुकथा को स्वर देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें।

कन्हैयालाल पाण्डेय
4 नवम्बर, 1954 को हरदोई में जन्म। भारतीय रेल यातायात सेवा (सेवानिवृत्त)। हिन्दी में छह साहित्यिक तथा दो संगीत पुस्तकों का लेखन। साहित्य व संगीत के क्षेत्र में अनेक पुरस्कारों से सम्मानित

हर सप्ताह यहीं पर सुनिए एक नयी कहानी

"वहाँ नहीं जाना, अगर गये तो खैर नहीं।"
(कन्हैयालाल पाण्डेय की "माँ" से एक अंश)

नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाउनलोड कर लें:
माँ mp3

#Eighteenth Story: Maan; Author: Kanhayalal Pandey; Voice: Kanhayalal Pandey; Hindi Audio Book/2020/18.

सोमवार, 21 सितंबर 2020

फ़िल्मी प्रसंग - 1: धारावाहिक 'रामायण’ और फ़िल्म ’हिना’ का सम्बन्ध

 

फ़िल्मी प्रसंग - 1

रामायण... रामानन्द सागर... रवीन्द्र जैन... राज कपूर

धारावाहिक 'रामायण’ और फ़िल्म ’हिना’ का सम्बन्ध 



रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के नए साप्ताहिक स्तंभ ’फ़िल्मी प्रसंग’ में आप सभी का स्वागत है।  फ़िल्म एवम् फ़िल्म-संगीत निर्माण प्रक्रिया के दौरान घटने वाली रोचक घटनाओं व अन्य पहलुओं से सम्बन्धित दिलचस्प प्रसंग जिनके बारे में जान कर आश्चर्य भी होता है और रोमांच भी। फ़िल्म इतिहासकारों, रेडियो व टेलीविज़न कार्यक्रमों, कलाकारों व कलाकारों के परिवारजनों के सोशल मीडिया पोस्ट्स व उनसे साक्षात्कारों, विभिन्न फ़िल्मी पत्र-पत्रिकाओं जैसे विश्वसनीय माध्यमों से संकलित जानकारियों से सुसज्जित प्रसंग - फ़िल्मी प्रसंग!


इन दिनों दूरदर्शन पर ’रामायण’, ’महाभारत’, ’श्रीकृष्ण’ जैसे पुराने धारावाहिक अन्य सभी चैनलों को TRP में कांटे का टक्कर दे रहा है। ’रामायण' धारावाहिक के लिए रामानन्द सागर और अभिनेताओं की जितनी तारीफ़ें होती रही हैं, इसके गीतकार - संगीतकार रवीन्द्र जैन जी की तरफ़ शायद दर्शकों का उतना ध्यान नहीं गया। ’रामायण’ देखते हुए यह महसूस किया जा सकता है कि हर दृश्य या प्रसंग के लिए रवीन्द्र जैन जी ने गीत लिखे हैं। यह कोई आसान काम नहीं। पौराणिक विषयवस्तु पर गीत लिखने के लिए विषय पर गहन शोध आवश्यक है। इतने सारे गीतों की रचना करना पर्वत समान कार्य है। यह कोई विद्वान व्यक्ति ही कर सकता है। और इस कार्य को उन्होंने सिर्फ़ औपचारिकता के रूप में पूरा नहीं किया, बल्कि एक एक गीत सच में दिल को छू लेता है। यह कहना तनिक भी अतिशयोक्ति नहीं होगी कि किसी भी दृश्य के इम्पैक्ट को बढ़ाने में, अर्थात् दृश्य को और अधिक भावुक और प्रभावशाली बनाने में पार्श्व में चल रहे गीत का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।


जहाँ ’रामायण’ के ढेर सारे गीतों की रचना करना रवीन्द्र जैन जी के संगीत सफ़र का एक मील का पत्थर था, वहीं इस वजह से राज कपूर की तत्कालीन निर्माणाधीन फ़िल्म ’हिना’ का ऑफ़र उनके हाथ से जाते-जाते बचा। इस रोचक संस्मरण का उल्लेख रवीन्द्र जैन जी ने विविध भारती के ’उजाले उनकी यादों के’ कार्यक्रम में किया था। वरिष्ठ उद्घोषक अमरकान्त दुबे जी से लम्बी बातचीत के दौरान 27 दिसम्बर 2007 को प्रसारित इस श्रृंखला की नौवी कड़ी में रवीन्द्र जैन जी ने कहा - "फ़िल्म 'हिना' के साथ भी बड़ा मज़ेदार किस्सा हुआ। वो किस्सा आपको बयान करने से पहले मैं सागर साहब को प्रणाम करता हूँ, कल तक हमारे साथ थे, ’रामायण’ जो हमारा महाकाव्य, जिसको उन्होंने घर घर पहुँचाया, अपने नाम के अनुरूप, राम का आनन्द रामानन्द और उसका सागर, आनन्द का सागर, है ना! राम के आनन्द का सागर बहाने वाले, घर घर पहुँचाने वाले रामानन्द सागर, उनका यह धारावाहिक मैं कर रहा था। तो उनका एक गाना रिकॉर्ड करके उसी दिन फिर मैंने वो गाना सुनाया राज कपूर साहब को। और वो गाना था, सिचुएशन बहुत अजीब थी कि कैकेयी और भरत के बीच में था, भरत ने फिर कभी माँ नहीं बुलाया उनको, तो उनकी आपस में बातचीत हो रही थी कहीं, एक फ़कीर को हमने यह गाना दिया, बैकग्राउन्ड से गा रहा था, गाने का पहला मुखड़ा सुनाता हूँ... ओ मैया तैने का ठानी मन में, राम सिया भेज दे री बन में... ऐसा मैंने सुनाया राज साहब को और कहा कि आज मैंने यह गाना रिकॉर्ड किया है ’रामायण’ के लिए। तो उन्होंने कहा कि देख देख देख, तूने यह गाना सुनाया ना, मेरे रोंगटे खड़े हो गए, देख देख देख! यह तो मुझे बड़ा अच्छा लगा लेकिन अगले ही पल उन्होंने क्या कहा कि तू अब ’हिना’ नहीं कर सकता। मैंने सोचा कि मर गए, यह क्या हो गया! मेरे बड़ा मन में था कि ये इतना बड़ा प्रोजेक्ट मेरे हाथ से चला जाएगा। तो एक दिन मुझे इनका फ़ोन आया, जो राज साहब के यहाँ प्रोडक्शन देखते थे, उन्होंने कहा कि राज साहब ने कहा है कि उनके साथ श्रीनगर चलना है। तो फिर तबलेवाला मेरा, दिव्य, और मैं, दोनों गए श्रीनगर। कुछ नहीं साहब, कोई ज़िक्र नहीं फ़िल्म का। चलो आज यहाँ शिकारे में घूमो, यहाँ खाना खाओ, चलो ये करो वो करो, ये ही सब करते रहे। तो बाद में मुझे पता चला कि ये सारा काम राज साहब ने इसलिए किया ताकि मेरे दिमाग से ’रामायण’ को निकाल दे और ’हिना’ डाल दे। इसके लिए इन्होंने इतनी कोशिशें की, इतना खर्च किया कि मुझे कश्मीर ले गए, लोगों से मिलवाया, कास्ट के जो लोग थे, बनजारे, उनको बुलाया। तो ये सब प्रयत्न था उनका ’हिना’ के लिए।"

इससे साफ़ पता चलता है कि रवीन्द्र जैन जी जितने उद्यमी और ईमानदार गीतकार-संगीतकार थे, उतने ही ईमानदार राज कपूर भी थे अपनी फ़िल्म के प्रति। इन दोनों महान कलाकारों ने अपने अपने काम से ज़रा सा भी समझौता नहीं किया। और ’रामायण’ में रवीन्द्र जैन जी का जो अनमोल योगदान है, उतना ही लोकप्रिय रहा ’हिना’ फ़िल्म का गीत-संगीत भी। इन दोनों अद्भुत कलाकारों को सलाम!



आपकी राय

’फ़िल्मी प्रसंग’ स्तंभ का आज का यह अंक आपको कैसा लगा, हमें ज़रूर बताएँ नीचे टिप्पणी में या soojoi_india@yahoo.co.in के ईमेल पते पर पत्र लिख कर। 


शोध,आलेख व प्रस्तुति : सुजॉय चटर्जी 

रेडियो प्लेबैक इण्डिया 

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ