Showing posts with label krishn dayal. Show all posts
Showing posts with label krishn dayal. Show all posts

Sunday, September 19, 2010

जुल्मी नैना बलम के मार गए....फिल्म असफल रही तो भुला दिया गया लता के ये दुर्लभ गीत भी

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 486/2010/186

ता मंगेशकर के गाए हुए १० बेहद दुर्लभ गीतों की इस शृंखला 'लता के दुर्लभ दस' में इन दिनों एक के बाद एक हम आपको साल १९५० के पाँच गीत सुनवा रहे हैं। पिछले हफ़्ते आपने 'छोटी भाभी' और 'अनमोल रतन' फ़िल्मों के गानें सुने थे। आइए इसी लड़ी को आगे बढ़ाते हुए आज सुनते हैं १९५० की फ़िल्म 'बावरा' का एक बड़ा ही दुर्लभ गीत। इस ख़ुशरंग गीत के बोल हैं "जुल्मी नैना बलम के मार गए, तुम जीते सजन हम हार गए"। श्री दुर्गा पिक्चर्स के बैनर तले इस फ़िल्म का निर्माण हुआ था जिसका निर्देशन किया था जी. राकेश ने। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे राज कपूर, निम्मी, ललिता पवार, के. एन. सिंह, हीरालाल, सुंदर और रतन कुमार। १९४९ में 'बरसात' की सफलता के बाद १९५० में राज कपूर ने आर. के फ़िल्म्स के बैनर तले तो कोई फ़िल्म नहीं बनाई लेकिन दूसरे फ़िल्मकारों की कई फ़िल्मों में नायक की भूमिका अदा की। 'बावरा' का ज़िक्र तो कर चुके हैं, बाक़ी की फ़िल्में थीं - किदार शर्मा की फ़िल्म 'बावरे नैन', जिसमें उनकी नायिका बनी गीता बाली; ए. आर. कारदार की फ़िल्म 'दास्तान' (सुरैया के साथ); फ़ाली मिस्त्री की फ़िल्म 'जान पहचान' (नरगिस के साथ); वी. एम. व्यास निर्देशित 'प्यार' जिसमें एक बार फिर नरगिस के साथ उनकी जोड़ी बनीं; तथा फ़िल्मिस्तान की पी. एल. संतोषी निर्देशित फ़िल्म 'सरगम' जिसमें राज साहब की नायिका थीं रेहाना। इन तमाम फ़िल्मों में शायद 'बावरा' ही सब से बुरी तरह से पिटने वाली फ़िल्म साबित हुई थी और शायद यही वजह रही होगी कि इस फ़िल्म के गानें नज़रंदाज़ हो गए, कहीं खो गए, जो आज कहीं से भी सुनाई नहीं देते। लेकिन लता जी के पुराने गानों के अनन्य भक्त अजय देशपाण्डेय जी के सहयोग से इस फ़िल्म का यह दुर्लभ गीत हम आप के साथ आज 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में बाँट पा रहे हैं। सही में अजय जी के प्रयासों ने 'ओल्ड इज़ गोल्ड' को चार चाँद लगा दिया है, जिसके लिए हम उनके तहे दिल से आभारी हैं।

'बावरा' के संगीतकार थे कृष्ण दयाल। फ़िल्म जगत के एक और कमचर्चित संगीतकार। 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में कृष्ण दयाल के संगीत में एक गीत हमने आपको सुनवाया था आशा भोसले के गाए युगल गीतों की शृंखला 'दस गायक और एक आपकी आशा' के तहत कड़ी नं-१९८ में। यह गीत था फ़िल्म 'लेख' का "ये काफ़िला है प्यार का चलता ही रहेगा"। 'लेख' १९४८-४९ की फ़िल्म थी, लेकिन यह कृष्ण दयाल की पहली फ़िल्म नहीं थी। सन् १९४७ में उन्होंने फ़िल्म 'ज़ंजीर' में संगीत दिया था जो नहीं चली। लेकिन 'लेख' के गानें चल पड़े थे। कुल १५ मधुर गीतों से सजी 'लेख' कृष्ण दयाल के करीयर की शायद सब से उल्लेखनीय फ़िल्म रही। ऐसा बहुत से संगीतकारों के साथ हुआ है कि किसी फ़िल्म की अपार कामयाबी के बावजूद उन्हें फिर कभी उस शानदार कामयाबी का नज़ारा देखने को नहीं मिला। कृष्ण दयाल भी एक ऐसे ही कमचर्चित संगीतकार थे। 'लेख' के बाद अगली फ़िल्म 'बावरा' में भी उन्होंने कुछ बहुत ही सुंदर कॊम्पोज़िशन्स हमें दिए। लता जी के गाए प्रस्तुत लोक शैली के अंदाज़ के गीत के अलावा इस फ़िल्म में एक और बेहद दुर्लभ गीत था, दुर्लभ इसलिए कि इसमें आवाज़ें थीं मोहम्मद रफ़ी, गीता रॊय और लता मंगेशकर की, और यह गीत था "शमा जलती है तो परवाने चले आते हैं"। गीता रॊय की आवाज़ में राग भैरवी पर आधारित गीत "मेरी दुनिया की शायद हर ख़ुशी कम होती जाती है" भी बड़ा ख़ूबसूरत गीत था; लेकिन अफ़सोस कि ये गानें व्यवसायिक रूप से नहीं चल पाए। चार साल बाद, १९५४ में कृष्ण दयाल के संगीत से सजी दो फ़िल्में आई थीं - 'मलिका सलोनी' और 'विजयगढ़'। इन फ़िल्मों के गानें भी नहीं चले और कृष्ण दयाल ने फ़िल्म संगीत संसार से किनारा कर लिया, और इस तरह से एक और कमचर्चित लेकिन अत्यंत प्रतिभाशाली संगीतकार का अस्त हो गया। तो लीजिए कृष्ण दयाल की सुरीली स्मृति में सुनिए लता मंगेशकर की कमसिन आवाज़ में फ़िल्म 'बावरा' का गीत। इस गीत को लिखा है रघुपत राय ने। इस गीत की तरह और इसके संगीतकार की तरह ही ये गीतकार भी आज भूले बिसरे बन चुके हैं। तो आइए इस विस्मृत गीतकार-संगीतकार जोड़ी की यह दुर्लभ रचना सुनते हैं।



क्या आप जानते हैं...
कि ६० के दशक में लता मंगेशकर के घर का कोई नौकर उनके खाने में कुछ मिलावट कर रहा था, जिसकी वजह से लता जी की तबीयत बहुत खराब हो गई थी और लम्बे समय तक वो नहीं गा सकीं। जैसे ही इस बात का पता चला कि उन्हे खाने के ज़रिए ज़हर दिया जा रहा है, उस दिन के बाद से उस नौकर का कहीं नामो निशान नहीं मिला।

विशेष सूचना:

लता जी के जनमदिन के उपलक्ष्य पर इस शृंखला के अलावा २५ सितंबर शनिवार को 'ईमेल के बहाने यादों के ख़ज़ानें' में होगा लता मंगेशकर विशेष। इस लता विशेषांक में आप लता जी को दे सकते हैं जनमदिन की शुभकामनाएँ बस एक ईमेल के बहाने। लता जी के प्रति अपने उदगार, या उनके गाए आपके पसंदीदा १० गीत, या फिर उनके गाए किसी गीत से जुड़ी आपकी कोई ख़ास याद, या उनके लिए आपकी शुभकामनाएँ, इनमें से जो भी आप चाहें एक ईमेल में लिख कर हमें २० सितंबर से पहले oig@hindyugm.com के पते पर भेज दें। हमें आपके ईमेल का इंतज़ार रहेगा।


अजय देशपांडे जी ने लता जी के दुर्लभ गीतों को संगृहीत करने के उद्देश्य से एक वेब साईट का निर्माण किया है, जरूर देखिये यहाँ.

पहेली प्रतियोगिता- अंदाज़ा लगाइए कि कल 'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर कौन सा गीत बजेगा निम्नलिखित चार सूत्रों के ज़रिए। लेकिन याद रहे एक आई डी से आप केवल एक ही प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं। जिस श्रोता के सबसे पहले १०० अंक पूरे होंगें उस के लिए होगा एक खास तोहफा :)

१. यह उस फ़िल्म का गीत है जिसके फ़िल्म के नाम के आगे अगर "दो" लगा दिया जाए तो उस फ़िल्म का नाम बनता है जिसमें एक गीत था जिसमें यार से यारी होने की बात कही गई है। कल के गीत की फ़िल्म का नाम बताएँ। २ अंक।
२. इस गीत को लिखा है विनोद कपूर ने, संगीतकार बताएँ। ४ अंक।
३. फ़िल्म के निर्देशक बताएँ। ३ अंक।
४. गीत के मुखड़े में शब्द है "पवन"। मुखड़ा बताएँ। १ अंक।

पिछली पहेली का परिणाम -
अंक सिर्फ प्रतिभा जी और किशोर जी को मिलेंगें...यानी की कनाडा टीम फिर बाज़ी मर गयी है....बधाई

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Thursday, September 10, 2009

ये काफिला है प्यार का चलता ही जायेगा....मुकेश और आशा ने किया था अपने श्रोताओं से वादा

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 198

युं तो आशा भोंसले और मुकेश ने अलग अलग असंख्य गीत गाए हैं, लेकिन जब इन दोनों के गाए हुए युगल गीतों की बात आती है तो हम बहुत ज़्यादा लोकप्रिय गीतों की फ़ेहरिस्त बनाने में असफल हो जाते हैं। हक़ीकत यह है कि मुकेश ने ज़्यादातर लता जी के साथ ही अपने मशहूर युगल गीत गाए हैं। लेकिन फिर भी आशा-मुकेश के कई युगल गीत हैं जो यादगार हैं। ख़ास कर राज कपूर की उन फ़िल्मों में जिनमें लता जी की आवाज़ मौजूद नहीं हैं, उनमें हमें आशा जी के साथ मुकेश के गाए गानें सुनने को मिले हैं, जैसे कि 'फिर सुबह होगी', 'मेरा नाम जोकर', वगेरह। राज कपूर कैम्प से बाहर निकलें तो आशा-मुकेश के जिन गीतों की याद झट से आती है, वे हैं 'एक बार मुस्कुरा दो' फ़िल्म के गानें और फ़िल्म 'तुम्हारी क़सम' का "हम दोनो मिल के काग़ज़ पे दिल के चिट्ठी लिखेंगे जवाब आएगा"। आज हमने जिस युगल गीत को चुना है वह इन में से कोई भी नहीं है। बल्कि हम जा रहे हैं बहुत पीछे की ओर, ४० के दशक के आख़िर में। १९४८ में हंसराज बहल के संगीत निर्देशन में फ़िल्म 'चुनरिया' से शुरुआत करने के बाद १९४९ में आशा भोंसले ने फ़िल्म 'लेख' में मुकेश के साथ एक युगल गीत गाया था। आज आप को सुनवा रहे हैं वही भूला बिसरा गीत जो आज फ़िल्म संगीत के धरोहर का एक अनमोल और दुर्लभ नग़मा बन गया है। कृष्ण दयाल के संगीत में यह गीत है "ये काफ़िला है प्यार का चलता ही जाएगा, जी भर के हँस ले गा ले ये दिन फिर न आएगा"। युं तो आशा जी को हिट गानें देकर मशहूर ओ.पी. नय्यर ने ही किया था, लेकिन आशा जी ने एक बार कहा था कि वो नय्यर साहब से भी ज़्यादा शुक्रगुज़ार हैं उन छोटे और कमचर्चित संगीतकारों के, जिन्होने उनके कठिन समय में उन्हे अपनी फ़िल्मों में गाने के सुयोग दिए, जिससे कि उनके घर का चूल्हा जलता रहा। दोस्तों, उन दिनों आशा जी अपने परिवार के खिलाफ़ जा कर शादी कर लेने की वजह से मंगेशकर परिवार से अलग हो गईं थीं, लेकिन उनका विवाहित जीवन भी जल्द ही दुखद बन गया था। कोख में पल रहे बच्चे की ख़ातिर उन्हे काम करना पड़ा, और इन्ही दिनों इन छोटे संगीतकारों और कम बजट की फ़िल्मों में उन्होने गानें गाए। तो फिर कैसे भूल सकती हैं आशा जी उन संगीतकारों को! अगर नय्यर और पंचम ने आशा को शोहरत की बुलंदियों तक पहुँचाया है, तो इन कमचर्चित संगीतकारों ने उन्हे दिया है भूख और गरीबी के दिनों में दो वक़्त की रोटी। अब आप ही यह तय कीजिए कि किन संगीतकारों का योगदान आशा जी के जीवन में बड़ा है।

फ़िल्म 'लेख' बनी थी सन् १९४९ में लिबर्टी आर्ट प्रोडक्शन्स के बैनर तले, जिसे निर्देशित किया था जी. राकेश ने। मोतीलाल, सुर‍य्या, सितारा देवी, और कुक्कू ने फ़िल्म में अभिनय किया था। सितारा देवी फ़िल्म में सुरय्या की माँ बनीं थीं, जिसमें उन्होने एक नृत्यांगना की भूमिका निभाई थी, जो अपना असली परिचय छुपाती है ताकि उसकी बेटी का किसी इज़्ज़तदार घराने में शादी हो सके। लेकिन नियती और हालात उन्हे अपनी ही बेटी की शादी के जल्से में नृत्य करने के लिए खींच लायी। यही थी 'लेख' की कहानी, भाग्य का लेख, नियती का लेख, जिसे कोई नहीं बदल सकता। इस फ़िल्म के गानें लिखे थे अमर खन्ना और क़मर जलालाबादी ने। प्रस्तुत गीत क़मर साहब का लिखा हुआ है। 'काफ़िला' शब्द का फ़िल्मी गीतों में प्रयोग उस ज़माने में बहुत ज़्यादा नहीं हुआ था और ना ही आज होता है। इस शब्द का सुंदर प्रयोग क़मर साहब ने इस दार्शनिक गीत में किया था। भले ही यह गीत आशा और मुकेश की आवाज़ों में है, लेकिन यह उन दोनों के शुरूआती दौर का गीत था, जिसमें उस ज़माने के गायकों के अंदाज़ का प्रभाव साफ़ झलकता है। इस गीत को सुनते हुए मुझे, पता नहीं क्यों, अचानक याद आया १९९९ की फ़िल्म 'सिलसिला है प्यार का' का शीर्षक गीत "ये सिलसिला है प्यार का ये चलता रहेगा"। तो लीजिए दोस्तों, कृष्ण दयाल के साथ साथ उस ज़माने के सभी कमचर्चित संगीतकारों को सलाम करते हुए, जिन्होने आशाजी को निरंतर गाने के अवसर दिए थे कठिनाइयों के उन दिनों में, सुनते हैं फ़िल्म 'लेख' से आशा और मुकेश का गाया यह युगल गीत।



गीत के बोल:
मुकेश: ये क़ाफ़िला है प्यार का चलता ही जाएगा
जी भर के हँस ले गा ले ये दिन फिर न आएगा
आशा: ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: इस क़ाफ़िले के साथ हँसी भी है अश्क़ भी
गाएगा कोई और कोई आँसू बहाएगा
आशा: इस क़ाफ़िले के साथ ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: राही गुज़र न जाएं मुहब्बत के दिन कहीं
आँखें तरस रही हैं कब आँखें मिलाएगा
आशा: राही गुज़र न जाएं ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...

मुकेश: ( इस क़ाफ़िले में ) \-२ वस्ल भी है और जुदाई भी
तू जो भी माँग लेगा तेरे पास आएगा
आशा: ( इस क़ाफ़िले में ) \-२ ...
ये क़ाफ़िला है प्यार ...


और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा तीसरा (पहले दो गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी और स्वप्न मंजूषा जी)"गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. अगले गीत में आशा के साथ निभायेंगें सी रामचंद्र.
२. गीतकार हैं कमर जलालाबादी.इसी फिल्म में आशा ने "ईना मीना डीका" की तर्ज पर एक मस्त गाना गाया था.
३. मुखड़े में शब्द है -"जॉनी".

पिछली पहेली का परिणाम -
पूर्वी जी २४ अंकों के साथ अब आप सबसे आगे निकल आई हैं, बधाई...हमें यकीं है पराग जी समय से जागेंगें अब :)

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ