Showing posts with label Kai Po Che. Show all posts
Showing posts with label Kai Po Che. Show all posts

Sunday, February 24, 2013

दोस्ती के तागों में पिरोये नाज़ुक से ज़ज्बात -"काई पो छे"

प्लेबैक वाणी -35 - संगीत समीक्षा - काई पो छे


रूठे ख्वाबों को मना लेंगें,
कटी पतंगों को थामेगें,
सुलझा लेंगें उलझे रिश्तों का मांजा...
गिटार के पेचों से खुलता है ये गीत, सारंगी के मांजे में परवाज़ चढ़ाता है, और अमित के सुरों से जब उन्हीं के स्वर मिलते हैं तो एक सकारात्मक उर्जा का संचार होता है. स्वानंद के शब्दों में बात है रिश्तों की, दोस्ती की और जिंदगी को जीत की दहलीज तक पहुंचा देने वाले ज़ज्बे के. अमित त्रिवेदी ने दिया है श्रोताओं को एक बेशकीमती तोहफा इस गीत के माध्यम से, मुझे जो सबसे अधिक प्रभावित करती है वो है वाध्यों का उनका चुनाव, हर गीत को किन किन गहनों से सजाना है ये अमित बखूबी जानते हैं. मुझे यकीन है कि मेरी ही तरह बहुत से श्रोताओं को उनकी हर नई पेशकश का बेसब्री से इन्तेज़ार रहता है. 

आज हम जिक्र कर रहे हैं काई पो छे के संगीत की. उलझे रिश्तों को सुलझाते हुए आईये आगे बढते हैं अमित के संगीतबद्ध इस एल्बम में सजे अगले गीत की तरफ.
अगला गीत भी दोस्ती के इर्द गिर्द है, मिली नायर की आवाज़ में गजब की ताजगी है, जैसे शबनम के मोती हों सुनहरी धूप में लिपटे. यहाँ धूप का काम करती है अमित की सुरीली आवाज़. स्वानंद के शब्द खुल कर साँस लेते हैं अमित की धुनों में. गीत सोफ्ट रोक् अंदाज़ का है जहाँ बीच बीच में वाध्यों का भारीपन गीत को जरूरी उतार चढ़ाव देता है, बार बार सुने जाने लायक गीत, खास तौर पर अगर आप एक लंबी ड्राईव पर निकलें हों तो मूड को खुश्गवार बनाये रखेंगीं ये मीठी बोलियाँ.
आपको बताते चलें कि ये फिल्म चेतन भगत के लोकप्रिय उपन्यास द थ्री मिस्टेक्स ऑफ माई लाईफ पर आधारित है. एल्बम में कुल ३ ही गीत हैं, अंतिम गीत एक गरबा है जिसमें एक बार फिर वही दोस्ती, जिंदगी और सपनों की बातें ही उभर कर आती हैं. शुभारंभ में ढोल और शहनाई का सुन्दर इस्तेमाल हुआ है. ख्वाबों के बीज कच्ची जमीन पे हमको बोना हैआशा के मोती सांसों की माला में पिरोना है..स्वानंद के शब्द एक बार फिर गीत को गहराई देते हैं. श्रुति पाठक ने गरबे वाला हिस्सा अच्छे से निभाया है. एक दिलचस्प और खूबसूरत गीत.
काई पो छे एक छोटा मगर बेहद सुरीला कैप्सूल है संगीत प्रेमियों के लिए. अमित त्रिवेदी और स्वानंद एक बार फिर उम्मीदों पर खरा उतरे हैं, रेडियो प्लेबैक दे रहा है इस एल्बम को ४.६ की रेटिंग.  

यदि आप इस समीक्षा को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंक से डाऊनलोड कर लें:

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ