Showing posts with label elbum. Show all posts
Showing posts with label elbum. Show all posts

Friday, October 25, 2013

एक आवाज़ जिसने गज़ल को दिए नए मायने

खमली आवाज़ की रूहानी महक और ग़ज़ल के बादशाह जगजीत सिंह को हमसे विदा हुए लगभग २ साल बीत चुके हैं, बीती १० तारिख को उनकी दूसरी बरसी के दिन, उनकी पत्नी चित्रा सिंह ने उनके करोड़ों मुरीदों को एक अनूठी संगीत सी डी का लाजवाब तोहफा दिया. "द वोईस बियोंड' के नाम से जारी इस नायब एल्बम में जगजीत के ७ अप्रकाशित ग़ज़लें सम्मिलित हैं, जी हाँ आपने सही पढ़ा -अप्रकाशित. शायद ये जगजीत की गाई ओरिजिनल ग़ज़लों का अंतिम संस्करण होगा, पर उनकी मृत्यु के पश्चात ऐसी कोई एल्बम नसीब होगी ऐसी उम्मीद भी आखिर किसे थी ? 

खुद चित्रा सिंह ने जो खुद भी एक बेमिसाल गज़ल गायिका रहीं हैं, ने इस एल्बम को श्रोताओं के लिए जारी किया यूनिवर्सल मुय्सिक के साथ मिलकर. जगजीत खुद में गज़ल की एक परंपरा हैं और उनकी जगह खुद उनके अलावा और कोई नहीं भर सकता. जगजीत की इस एल्बम में आप क्या क्या सुन सकते हैं आईये देखें. 

निदा फाजली के पारंपरिक अंदाज़ में लिखा गया एक भजन है. धडकन धडकन धड़क रहा है बस एक तेरो नाम ... जगजीत के स्वरों में इसे सुनते हुए आप खुद को ईश्वर के बेहद करीब पायेंगें. नन्हों की भोली बातों में उजली उजली धूप , गुंचा गुंचा चटक रहा है बस एक तेरो नाम  सुनकर जगजीत -निदा के एल्बम इनसाईट  की बरबस ही याद आ जाती है. 

अगली ग़ज़ल एक तेरे करीब आने से  को सुनकर लगता है कि शयद जगजीत के बेहद शुरूआती दिनों की गज़ल रही होगी जो किसी कारणवश प्रकाशित नहीं हो पायी. जाने क्यों बिजलियों को रंजिश है, सिर्फ मेरे ही आशियाने से , आग दिल की सुलगती रहने दो, और भड़केगी ये बुझाने से  अब यहाँ भड़केगी  जैसे शब्दों पे उनकी पकड़ को ध्यान से सुनिए...क्या कहें कमाल ....

अगली ग़ज़ल तो सरापा जगजीत की छाप लिए है. जिंदगी जैसी तम्मना थी नहीं कुछ कम है .... आगे के मिसरे सुनिए - घर की तामीर तस्सवुर ही में हो सकती है, अपने नक़्शे के मुताबिक ये ज़मीन कुछ कम है .... वाह क्या कहने शहरयार साहब. हैरत होती है कि ऐसे नायब हीरे कैसे अप्रकाशित रह गए होंगें. 

दाग दहलवी का लिखा रस्मे उल्फत सिखा गया कोई  सरल शब्दों में बहुत कुछ कहती है. जगजीत की गायिकी शब्दों को एक अलग ही मुकाम दे जाती है. विंटेज जगजीत का मखमली अंदाज़. वहीँ सईद राही की गज़ल खुदा के वास्ते  में किसी और ही दौर के जगजीत नज़र आते हैं. ये क्या कि खुदी हुए जा रहे हो पागल से, ज़रा सी देर तो रुख पे नकाब रहने दो.... वाह.

शायर नसीम काज़मी की एक बेहद खूबसूरत गज़ल है आशियाने की बात करते हो  वैसे चित्रा जी इन ग़ज़लों के साथ कुछ इन ग़ज़लों के बनने की बातें भी अगर बांटती तो सोने पे सुहागा हो जाता. हादसा था गुजर गया होगा , किसके जाने की बात करते हो  जैसे अशआर सुनकर बहुत कुछ महसूस होता है.

अंतिम गज़ल के शायर हैं गुलज़ार साहब. दर्द हल्का है  को सुनकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि इसे एल्बम कोई बात चले  के लिए पहले इसे चुना गया होगा, मगर बाद में सुझाव बदल दिया गया होगा, क्योंकि उस एल्बम की एक गज़ल में भी गुलज़ार खुद अपनी आवाज़ में इस गज़ल का एक मिसरा बोलते सुनाई दिए हैं आपके बाद भी हर घडी हमने, आपके साथ ही गुज़री है . वही गुलज़ार, वही जगजीत वही जादू....और क्या कहें.

दोस्तों ऐसा तोहफा हाथ से छोडना समझदारी बिलकुल नहीं होगी. ये एल्बम हर हाल में आपकी लाईब्रेरी का हिस्सा हो, हमारी सिफारिश तो यही रहेगी. चलते चलते एक बार फिर चित्रा सिंह का बहुत बहुत आभार जिन्होंने हम जैसे जगजीत प्रेमियों के लिए उनकी आवाज़ को एक बार फिर से जिंदा कर दिया इस खूबसूरत एल्बम का नजराना देकर. आप ओनलाईन भी इन ग़ज़लों का लुत्फ़ उठा सकते हैं नीचे दिए लिंकों में.

गाना डॉट कॉम
स्मैश हिट्स

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ