Showing posts with label cindrella prakash. Show all posts
Showing posts with label cindrella prakash. Show all posts

Friday, May 25, 2012

"सत्य" कड़वा, संगीत मधुर - सिंड्रेला

आपने देखा उनके जीवन का सत्य, हम सुनायेंगें उनके ह्रदय का संगीत
दोस्तों, आपने इन्हें देखा, आमिर खान के लोकप्रिय टी वी शो "सत्यमेव जयते" में. शो का वो एपिसोड सिन्ड्रेला प्रकाश के व्यक्तिगत जीवन पर अधिक केंद्रित था, पर कहीं न कहीं एक झलक हमें सुनाई दी, उनकी ऊर्जा से भरी, और उम्मीद को रोशनी से संवरी आवाज़ की. तो हमने सोचा कि क्यों न उनके इस पक्ष से हम अपने श्रोताओं को परिचित करवायें. एक संक्षिप बातचीत के जरिये हम जानेगें सिन्ड्रेला के गायन और संगीत के बारे में, साथ ही सुनेंगें उनके गाये हुए कुछ गीत भी....

देखिये सिंड्रेला का एपिसोड सत्यमेव जयते पर

सजीव - सिन्ड्रेला, आपका बहुत बहुत स्वागत है रेडियो प्लेबैक इंडिया पर...

सिंड्रेला - शुक्रिया सजीव

सजीव - बात शुरुआत से करते हैं, संगीत से जुड़ाव कैसे हुआ ?

सिंड्रेला - संगीत परमेश्वर का दिया हुआ तोहफा है. मैं बचपन से ही गाती हूँ, मम्मी ने मुझे वोकल और वोइलिन की शिक्षा दिलवाई. इसके बाद मैंने गिटार भी सीखा, मेरा पूरा परिवार संगीत से जुड़ा हुआ है. पापा और मम्मी दोनों गाते थे. भाई पियानो में रूचि रखता है. संगीत से भी ज्यादा हम येशु से प्यार करते हैं, बस संगीत के माध्यम से उस प्यार को दर्शाते हैं.

सजीव - अच्छा तो गाते गाते कब ये महसूस हुआ कि अब आपको अपनी खुद की अल्बम कट करनी चाहिए ?

सिंड्रेला -  ५ साल की उम्र से ही मैं चर्च में तो कहीं कन्वेंशन या गोस्पल मीटिंग आदि में गाती रही हूँ. पर वास्तव में मैं जीसस के अलावा और किसी के लिए नहीं गा सकती हूँ. मैंने आजतक येशु के अलावा किसी और के लिए एक गाना भी नहीं लिखा है. बचपन से गाने के कारण बड़ी इच्छा थी कि एक अल्बम कट करूँ और प्रभु की कृपा से मेरा पहला अल्बम २०११ में बाहर आया...ठीक महफूज़ गीत के बनने के २ साल बाद....

सजीव - तो क्यों न यहाँ हम आपका पहला गीत "महफूज़" सुनते चलें....जो व्यक्तिगत रूप से भी मुझे बहुत अधिक पसंद है...

सिंड्रेला - जी जरूर

गीत - महफूज़ - गायिका - सिंड्रेला Song - Mahfooz / Singer - Cindrella Prakash


सजीव - दोस्तों हम आपको बता दें कि जिस प्रकार भक्ति गीतों की भजन संध्याएं होती है उसी प्रकार ईसा मसीह यानी प्रभु येशु (जीसस) की स्तुति में गाये जाने वाले गीतों को गोस्पल कहा जाता है और सिंड्रेला सोफ्ट रोक गोस्पल गीत गातीं हैं... सिंड्रेला ये बताएं कि येशु मसीह के प्रति आकर्षण तो स्वाभाविक था क्योंकि आप एक क्रिशचन परिवार में पली बढ़ी...मगर क्या यही इस आकर्षण की वजह थी या कोई और भी अनुभव रहा आपके जीवन में ?

सिंड्रेला - जब हम किसी से प्यार करते हैं तब कोई न कोई काम सिर्फ और सिर्फ उसी के लिए करना चाहते हैं, ठीक उसी वजह से मैं अपने जीसस के लिए गीत लिखना और गाना चाहती हूँ, सिर्फ उन्हीं के लिए. एक जीसस लविंग परिवार में पैदा हुई इसलिए बचपन से बाईबल पढते हुए बड़ी हुई हूँ. मेरी मम्मी ११ साल तक बीमार थी. हम लोग दिन भर मम्मी को अपनी मुश्किलों से लोहा लेते हुए देखते थे. ये सिर्फ येशु का अनुग्रह है कि मम्मी ११ साल तक जी भी पायी. उनके दोनों किडनियाँ नाकाम हो चुकी थी. जीसस के प्रति मेरा स्नेह बचपन की है. उनका मुस्कुराता चेहरा हमेशा आँखों के सामने रहता है. क्या किसी ऐसे इश्वर से प्रेम करना मुश्किल है जिसने हमसे इतना प्यार किया कि अपना जीवन ही हमें दे दिया. यही एहसास मुझे क्रोस (सलीब) की तरफ खीच लाया.

सजीव - वाह, यानी कि ये आपका पक्का फैसला है कि आप सिर्फ और सिर्फ गोस्पल ही गाना चाहती हैं ?

सिंड्रेला - जी हाँ, मैं सिर्फ और सिर्फ अपने येशु के लिए ही लिखना और गाना चाहती हूँ...

सजीव - चलिए एक विराम और लेते हैं आपके गीत "सुकून" को सुनकर

गीत - सुकून, गायन - सिंड्रेला Song - Sukoon / Singer - Cindrella Prakash


सजीव - सिंड्रेला, आपने महफूज़ गाने का एक विडियो भी बनाया. कैसे संभव हो पाया ये सब, और प्रोडक्शन, वितरण आदि आप कैसे कर पायीं ?

सिंड्रेला - जी मेरे ऐसे बहुत से दोस्त हैं जिन्होंने मेरे गानों के द्वारा आशीष पाया है. उन्होंने ही विडियो बनाया और अपलोड किया. महफूज़ की २००० प्रतियाँ बनी थी जो ३ महीने में भी खतम भी हो गयी. मेरी दूसरी अल्बम "महफूज़ वाणी" की ३००० प्रतियाँ बनी है. जिसका वितरण अभी प्रोसेस में है. मेरी दोनों अल्बम्स मुफ्त वितरण के लिए उपलब्ध है. सबसे बड़ी कीमत येशु ने सूली पर चढकर चूका दी है. मैं उससे अधिक कुछ भी कीमत नहीं मांग सकती हूँ.

मेरी दोनों अल्बम्स ने बहुत से लोगों को उम्मीदें दी है, उनके दिलों को छुआ है, अब वो कितने हैं ये तो न्याय के दिन ही पता चलेगा.

सजीव - आप एक जबरदस्त आवाज़ की मालकिन हैं...संगीत की दिशा में कुछ सपने ....

सिंड्रेला - मालकिन ? बिलकुल नहीं...मैं सिर्फ एक सेविका हूँ. येशु ने आवाज़ दी है और मैं उसका इस्तेमाल उन्हीं के लिए कर रही हूँ....मैं अपने आपको बस इसी रूप में देखना चाहती हूँ, लोगों की सेवा करना चाहती हूँ..बस

सजीव - नयी अल्बम "महफूज़ वाणी" के बारे में कुछ बताईये ?

सिंड्रेला - Mehfuz was acoustic But Mehfuz Vani is full throttle music. महफूज़ में ४ गाने थे पर महफूज़ वाणी में ८ गाने हैं, इस अल्बम में एक तमिल गीत भी है, जो मेरी मम्मी का सबसे पसंदीदा गीत था. उन्होंने ही मुझे सिखाया था...इन सभी गीतों में भी मैंने अपनी जिंदगी के कुछ हिस्सों को पेश किया है. अल्बम फ्री डाउनलोड के लिए नेट पर उपलब्ध है.




सजीव - वैसे तो हम जानते हैं कि आप फ़िल्मी गीतों में दिलचस्पी नहीं रखती हैं, पर कोई एक गायिका बॉलीवुड की जिनसे आपको कभी प्रेरणा मिली हो...


सिंड्रेला - जी मेरी प्रेरणा तो "पवित्र आत्मा" से है...वैसे मुझे श्रेया घोषाल और सुनिधि चौहान पसंद हैं...


सजीव - शुक्रिया सिंड्रेला, रेडियो प्लेबैक परिवार की और से तमाम शुभकामनाएँ आपको...


सिंड्रेला - शुक्रिया सजीव जी, और सभी श्रोताओं को भी नमस्कार....


सजीव - चलिए हम अपने श्रोताओं को छोड़ते हैं आपके गीत "ख्वाब" के साथ....


गीत - ख्वाब, गायिका - सिंड्रेला Song - Khwaab/ Singer - Cindrella Prakash   


विडियो ऑफ महफूज़

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ