Skip to main content

जब जब फूल खिले तुझे याद किया हमने, देख अकेला हमें घेर लिया गम ने...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 21

दोस्तों, जब मैं कहता हूँ कि "जब जब फूल खिले" तो आपको क्या याद आता है? शशि कपूर और नंदा अभिनीत वो फिल्म, या फिर कश्मीर की वो डल झील, उसमें तैरते शिकारे, या फिर वो गीत "परदेसियों से ना अखियाँ मिलाना"? आप में से ज़्यादातर लोगों को शायद ऐसा ही कुछ ख्याल आता होगा! लेकिन आप में से कुछ ऐसे भी होंगे, जिनके ज़हन में झट से 1953 की फिल्म "शिकस्त" का वो गीत आया होगा जिसे लता मंगेशकर और तलत महमूद ने गाया था. जी हाँ, आप ठीक समझे, आज 'ओल्ड इस गोल्ड' में हम आपको सुनवा रहे हैं "जब जब फूल खिले तुझे याद किया हमने, देख अकेला हमें घेर लिया गम ने".

शिकस्त फिल्म बनी थी सन् 1953 में जिसका निर्देशन किया था रमेश सहगल ने. जी हाँ, यह वही रमेश सहगल हैं जिन्होने इससे पहले "शहीद" और "समाधी" जैसे फिल्मों का निर्देशन किया था. दिलीप कुमार और नलिनी जयवंत इस फिल्म में पर्दे पर नज़र आए. उन दिनों दिलीप साहब के लिए तलत महमूद पार्श्वगायन किया करते थे. बाद में मोहम्मद रफ़ी दिलीप कुमार की आवाज़ बने. अगर एकल गीतों की बात करें तो तलत साहब ने दिलीप साहब के लिए इस फिल्म में दो सुंदर गीत गाए - "सपनों की सुहानी दुनिया को आँखों में बसाना मुश्किल है" और "तूफान में घिरी हैं मेरी तक़दीर की राहें, रोती हैं मेरे हाल पे सावन की घटायें". लेकिन लता मंगेशकर के साथ गाया हुया उनका यह युगल गीत भी बहुत ख़ास है. शैलेंद्रा का लिखा और शंकर जयकिशन का संगीतबद्ध किया यह गाना आज भी उस ज़माने की याद दिलाते हैं जब फिल्म संगीत अपने पूरे शबाब पर था. इस गीत में साज़ों की अनर्थक भीड नहीं है. तबले और ढोलक के ठेके पर गीत को खडा किया गया है. तो सुनिए और उस सुनहरे दौर को याद कीजिए.



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाईये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. मदन मोहन और राजा मेहंदी अली खान का संगम.
२. लता की पुरकशिश आवाज़.
३. मुखड़े में शब्द है -"तबाही"

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम-
वाह मनु जी आपका तुक्का भी सही लगा....आज गाना सुन बहुत कुछ याद आया होगा आपको. तन्हा जी होली मना रहे हैं घर पर अभी आपका गुब्बारा उन तक पहुंचा नहीं होगा. वैसे आज की पहेली वाकई मुश्किल थी. इसलिए आपको तुक्के के भी बधाई.

लेकिन क़सीम अब्बासी भाई ने आवाज़ पर पहली बार शिरकत की और पहले का बिलकुल सही उत्तर दिया। क़सीम भी आगे भी आते रहें।

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवायेंगे, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


Comments

neelam said…
gana ,kahin jo humne daastan apni sunai ,aap kyoun roye ,tabaahi to humaare dil pe aayi ,aap kyoun roye .
bahut hi pyaara gana hai ,
manu said…
शानदार सिक्सर नीलम जी का,,,(अंग्रेजी में),,
लाजवाब गीत है,,,,

और सर , ये तुका लगाते लगाते मुझे शक सा होने लगा था के शायद ऐसा कोई गीत ही नहीं है,,,,धीरे धीरे ख्यालों में ही पका है,,,पर अब सुन कर उलझी उलझी सी धुन भी याद आ गयी,,,,
तलत की आवाज कहीं ना कहीं बस ही जाती है,,,चाहे हमें पता चले या ना पता चले,,,
यह तो मेरा मन पसंद गीत है. जो हमने दास्ताँ अपनी सुनाई, आप क्यों रोये?, तबाही जो हमारे दिल पे आई आप क्यों रोए? नीलम जी अव्वल रहीं...बधाई
neelam said…
aacharya ji v manu ji ,
wo kya hai ki
kabhi kabhi andhe ke haath bater lag hi jaati hai ,ye to aapki jarrranawaji hai janaab

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व