Skip to main content

"आज बिरज में होरी रे रसिया...."- लीपिका भट्टाचार्य की आवाज़ में सुनिए "होरी" गीत

सभी पाठकों और श्रोताओं को होली की शुभकामनायें. आज होली के अवसर पर आवाज़ पर भी कुछ बहुत ख़ास है आपके लिए. इस शुभ दिन को हमने चुना है आपको एक उभरती हुई गायिका से मिलवाने के लिए जो आपको अपनी मधुर आवाज़ में "होरी" के रंगों से सराबोर करने वाली हैं.

गायिका और संगीत निर्देशिका लीपिका भट्टाचार्य लगभग तभी से युग्म के साथ जुडी हैं जब से हमने अपने पहले संगीतबद्ध गीत के साथ युग्म पर संगीत रचना की शुरुआत की थी. उन दिनों वो एक जिंगल का काम कर चुकी थी. पर चूँकि हमारा काम इन्टरनेट आधारित रहा तो इसमें अलग अलग दिशाओं में बैठे कलाकारों के दरमियाँ मेल बिठाने के मामले में अक्सर परेशानियाँ सामने आती रही. लीपिका भी इसी परेशानी में उलझी रही, इस बीच उन्होंने अपनी दो कृष्ण भजन की एल्बम का काम मुक्कमल कर दिया जिनके नाम थे -"चोरी चोरी माखन" और "हरे कृष्ण". इन सब व्यस्तताओं के बीच भी उनका आवाज़ से सम्पर्क निरंतर बना रहा. बीच में उनके आग्रह पर हमने शोभा महेन्द्रू जी का लिखा एक शिव भजन उन्हें भेजा था स्वरबद्ध करने के लिए पर बात बन नहीं पायी. अब ऐसी प्रतिभा की धनी गायिका को आपसे मिलवाने का होली से बेहतर मौका और क्या हो सकता था. तो आईये लीपिका के स्वरों और सुरों के रंग में रंग जाईये और डूब जाईये होली की मस्ती में. यदि आप होली नहीं भी खेलते तो हमारा दावा है लीपिका के इस "होरी" गीत को सुनने के बाद आपका भी मन मचल उठेगा रंग खेलने के लिए. लीजिये सुनिए -



इसके आगे है>>>>>होरी गीतों के मशहूर जनगायक पंडित छन्नूलाल मिश्रा के गीतों से सजी शैलेश भारतवासी की प्रस्तुति

होली मुबारक


Comments

मानसी said…
अच्छी आवाज़ के साथ सधी गायकी भी। लीपिका को बधाई व शुभकामनायें।
Bahut khubsurat aawaj, Gane ka bol to khubsurat hai hi.
लीपिका जी,

आपने इस गीत को बहुत अच्छी तरह से गाया है। आवाज़ में जो ऊर्जा दिखनी चाहिए, वह दिख रही है। हम तो आग्रह करेंगे कि इस रामनवमी पर भी अपनी कोई प्रस्तुति दें।

होली मुबारक़
L.Goswami said…
होली की बहुत शुभकामनायें.
शोभा said…
bahut sundar geet holi mubarak
shanno said…
लीपिका जी का गाया इस 'होरी' गीत को मैं आंखें बंद करके सुनती रही और होली का आनंद लेती रही. कल्पना-पटल पर होली खेलने का एक सुंदर चित्र खिंच गया और मैं दर्शक बन कर सबको होली खेलते और रंगों में सराबोर होते हुए देखती रही. और इतनी दूर बैठी हुई मैं होली का आनंद उठाती रही बिना रंगों में भीगे हुए.......इससे बेहतरीन और क्या हो सकता है. इतने सुंदर गीत के लिए अति धन्यबाद. सभी को होली की शुभकामनाएं
anitakumar said…
बहुत सुंदर गीत बना है,लिपिका जी को बधाई
'आज बिरज में' सुन हुआ, मन को अति आनद.

सदय गायिका पर रहे, राधे-आनंदकंद.

मधुर कंठ ध्वनि मोहती, ऊर्जा स्वर में खूब.

उच्चारण स्पष्ट हैं, सकीं भाव में डूब.

रमीं छंद में लीपिका, साध सकीं आलाप.

भाव गीत के सके हैं अंतर्मन में व्याप.

-sanjivsalil.blogspot.com
Aawaj ke mere sabhi sathiyon ko mera Namashkar aur holi ki bahut sari subhkamanaye.
Aap sabhi ko ye holi geet aachi lagi is ke liye danyawad.
Mere is geet ko aawaj me post karne aur aap sab tak pahuchane ke liye sajeev jee ko bahut bahut dhanyawad.
Leepikaa
इस सुन्दर होली गीत के लिये लीपिका जी को धन्यवाद और सम्पूर्ण हिन्द युग्म परिवार व इसमे पाठकों को होली की हार्दिक शुभकामनाएं।
होली के तमाम पुराने घिसे पिटे बारंबार चल चुके गीतों के बीच यह नए स्वर, नए संगीत का वर्जिन गान बहुत ही भाया. लिपिका (इनकी आवाज में तमाम संभावनाएं नजर आती हैं) व हिन्द युग्म दोनों का आभार.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया