Skip to main content

जा जा रे जा बालमवा....सौतन के संग रात बितायी...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 29

'ओल्ड इस गोल्ड' की आज की कडी रंगी है शास्त्रीयता के रंग में. शंकर जयकिशन के संगीत की जब हम बात करते हैं तो मुख्यतः बहुत सारे साज़ और 'ऑर्केस्ट्रेशन' में लिपटे हुए गाने याद आते हैं. लेकिन उनकी कुछ फिल्में ऐसी भी हैं जिनका आधार ही शास्त्रिया संगीत है. और फिल्म "बसंत बहार" तो एक ऐसी फिल्म है जिसके लगभग सभी गाने शास्त्रिया संगीत की चादर ओढे हैं. ऐसे गीतों को आम जनता में लोकप्रिय बनाना आसान काम नहीं है. लेकिन एक अच्छा फिल्म संगीतकार वही है जो शास्त्रिया संगीत को भी ऐसा रूप दें जो आम जनता गुनगुना सके, गा सके. और यही गुण शंकर जयकिशन में भी था. बसंत बहार फिल्म यह साबित करती है कि शंकर जयकिशन केवल 'किंग ऑफ ऑर्केस्ट्रेशन' ही नहीं थे, बल्कि शास्त्रिया संगीत पर आधारित गीत रचने में भी उतने ही माहिर थे. बसंत बहार, मीया मल्हार, तोडि, पीलू, तिलक, भैरवी, और झिंझोटी जैसे रागों का असर इस फिल्म के गीतों में महसूस किया जा सकता है.

आज हमने इस फिल्म से जिस गीत को चुना है वो आधारित है राग झिंझोटी पर. इस राग पर कई मशहूर गीत बने हैं फिल्म संगीत के उस स्वर्ण युग में. इस राग की तकनीकी विशेषताएँ शायद आपको मालूम ना हो, लेकिन अगर मैं इस राग पर आधारित कुछ गीतों का उल्लेख करूँ तो इन गीतों को गुनगुनाकर शायद आप इस राग के मूल स्वरूप का अंदाज़ा लगा पाएँगे. राग झिंझोटी पर आधारित कुछ मशहूर गीत हैं "मेरे महबूब तुझे मेरी मोहब्बत की क़सम", "तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है", "घुँघरू की तरह बजता ही रहा हूँ मैं", "छुप गया कोई रे दूर से पुकार के", "जाऊं कहाँ बता ए दिल", "कोई हमदम ना रहा", "मोसे छल कीए जाए देखो सैयाँ बेईमान", "तुम मुझे यूँ भुला ना पायोगे", और ना जाने कितने ही ऐसे सदाबहार नग्में हैं जो इस राग पर आधारित हैं. तो इसी राग पर आधारित बसंत बहार फिल्म से एक गीत आज पेश है लता मंगेशकर की आवाज़ में, गीत लिखा है शैलेंद्रा ने. सुनिए.



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाईये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. ओपी नय्यर का संगीत, आशा की मधुर आवाज़.
२. इस फिल्म का नाम एक माह के नाम पर है, वो माह जिसमें होली आती है.
३. मुखड़े में शब्द युग्म है -"चोरी चोरी"

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
नीरज जी का सहारा लेकर मनु जी भी पार लग ही गए, नीरज जी मान गए आपको. नीलम जी दिए गए सभी सूत्रों पर ध्यान दिया कीजिये, आपने जो गाना दिया उसके संगीतकार लक्ष्मीकांत प्यारेलाल थे, फिल्म थी "दाग" और गीतकार थे साहिर लुधियानवीं. आचार्य जी हौंसला अफ़जाई के लिए धन्येवाद.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवायेंगे, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.




Comments

पिया पिया न लागे मोरा जिया आजा चोरी चोरी ये बैयाँ गोरी गोरी तरस रही हैं तेरे प्यार में film- फागुन
manu said…
ek dam sahi,,,,,
bhaarat bhooshan aur madhubaalaaa ki fagun,,,,

ek aur geet thaa isi me,,mera man pasand,,,,

"tum rooth ke mat jaanaa,
mujh ae kyaa shikwaa,,,,,

shaandaar sangeet thaa,,,,
Neeraj Rohilla said…
हम देर तक सोते क्या रहे पारूलजी और मनुजी ने बाजी मार ली। असल में हम केवल फ़िल्म तक ही पंहुच पाये थे, गीत नहीं याद आ रहा था।
parul jee ne sahee boojha hai. main anyatr vyast tha . yahan ab aa paya.. parul jee ko badhae.e

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया