Skip to main content

ये रहे सरताज गीत, लोकप्रिय गीत और शीर्ष 10 गीत

आज दिन है आवाज़ पर बहुप्रतीक्षित परिणामों का. आवाज़ पर नए संगीत का दूसरा सत्र जुलाई 2008 के प्रथम शुक्रवार से आरंभ हुआ था जो दिसम्बर के अंतिम शुक्रवार को संपन्न हुआ। इस दौरान कुल 27 नए गाने प्रसारित किये गए। संगीत के इस महाकुम्भ में कुल 47 नए संगीत कर्मियों ने अपने फन का जौहर दुनिया के सामने रखा, जिसमें 15 संगीतकार, 13 गीतकार, 24 गायक/गायिकाएँ, 2 संगीत सहायक शामिल हैं। इससे पहले अपने पहले सत्र के 10 गीतों को लेकर युग्म ने अपना प्रथम संगीत एल्बम "पहला सुर" फरवरी 2008 में जारी किया गया था। पर दूसरा सत्र हर लिहाज से बेहतर रहा; अपने पहले सत्र की तुलना में. पहले से अधिक संगीत कर्मी, पहले से अधिक रचनाएँ और तकनीकी स्तर पर भी लगभग हर गीत की गुणवत्ता इस सत्र के गीतों में बहुत बेहतर रही, इन सभी गीतों को श्रोताओं का भरपूर प्यार मिला, इन गीतों को हमने 5 संगीत विशेषज्ञों ने भी सुना, परखा, और दो चरण में सपन्न हुए इस प्रक्रिया में इन गीतों को अंक दिए गए, जिनके आधार पर निर्धारित किया गया कि एक सरताज गीत चुना जायेगा, और श्रेष्ठ 10 चुने हुए गीतों को हिंद युग्म अपने दूसरे संगीत एल्बम का हिस्सा बनाएगा। श्रोताओं की राय जानने के लिए एक पोल भी आयोजित हुआ, जिसमें कुल श्रोताओं ने अपनी राय रखी। श्रोताओं ने जिस गीत को सबसे अधिक पसंद किया उसे सत्र का सबसे लोकप्रिय गीत माना जायेगा. आज इन्हीं परिणामों की घोषणा करते हुए आवाज़ का संचालन दल बेहद गर्व और ख़ुशी अनुभव कर रहा है।

समीक्षक क्या कहते हैं?

हालांकि हमने अपने सभी समीक्षकों के नाम गुप्त रखे थे पर अंतिम समीक्षक जो कि देश के सबसे अनुभवी संगीत समीक्षकों में जाने जाते हैं, उनके कुछ विचार आप तक पहुँचाना जरूरी है, अजात शत्रु एक ऐसा नाम है जिससे संगीत से जुड़े सभी लोग अच्छी तरह से वाकिफ हैं, अपनी तमाम व्यस्तताओं के बीच भी उन्होंने हिंद युग्म के लिए इस कार्य को करने का बीड़ा उठाया, चूँकि वो इन्टरनेट से दूर हैं उन्होंने खुद इन पक्तियों के लेखक को फ़ोन कर बधाई दी और सत्र के गीतों कि मुक्तकंठ से प्रशंसा की। उन्होंने कहा -"इस संकलन की सबसे बड़ी उपलब्धि है, कविता-शायरी. "आवाज़ के पंखों पर...", "खुशमिजाज़ मिटटी पहले उदास थी...", तथा "ओ मुनिया मेरी गुड़िया संभल के चल..." जैसे गीत तो बेसाख्ता "वाह" कहा ले जाते हैं, मेलोडी के हिसाब से "ओ मुनिया" संकलन का सर्वोत्तम गीत है, यही वो धुन और संगीत्तना है जिस पर मेरी दो साल पूरी करती नातिन, एक अबोध बच्ची, थिरक उठी थी. गायक भी बेबाक है और खुलकर गाता है...". अजात शत्रु जी गायकों से अधिक संतुष्ट नज़र नहीं आये. उन्होंने कहा -" संकलन में एक दो गायकों की आवाज़ में बेस है, पर संवेदनशील गायन किसी का नहीं है, और न ही उनके गायन में कोई चौंकाने वाला तत्व है, 'अचानक' भी गायक से कुछ हो जाता है जो रिहर्सल के वक़्त नहीं था मगर रिकॉर्डिंग में पैदा हो जाता है. 'अचानक' का ये तत्व सभी में गायब है। फिर भी अपनी सीमा में उन्होंने प्रशंसनीय काम किया है"। हालाँकि उन्होंने यहाँ भी 'ओ मुनिया' के गायक की तारीफ की -"ओ मुनिया गीत का गायक ही इस आयोजन का पहला और अंतिम गायक है जिस पर किसी गायन, परंपरा या ज़माने का असर नहीं है वह सिर्फ अपने तौर पर गाता है..."। संगीतकारों को उन्होंने गायकों का चुनाव करने सम्बंधित ये सुझाव दिया -"सबसे पहले धुन पर ध्यान दें, फिर गायक का चुनाव करें, अच्छी शायरी भी मधुर धुन के बिना असर नहीं छोड़ती, अधिक से अधिक वह पढ़ने की चीज़ है. पर गाना प्रथमतः सिर्फ सुने जाने के लिए होता है। धुन की मेलोडी पर बहुत मेहनत करनी चाहिए, कहिये कि धुन ही सब कुछ है, जिस गीत पर बच्चा, पागल और गंवार थिरक उठे, वही अल्लाह का संगीत है"। अजात शत्रु जी ने और भी बहुत सी बातें कही, पर एक बात जो उन्होंने कही वो परिणामों की घोषणा करने से पहले हम भी कहना चाहेंगे- "कोई भी फैसला अंतिम या सम्पूर्ण नहीं होता। जो आज असफल वो कल संभवतः हीरो होंगे, हमारी नज़र में तो इस आयोजन में शामिल सभी कलाकार विजेता हैं। तो एक बार फिर सभी प्रतिभागियों को तहे दिल से ढेरों शुभकामनायें देते हुए सबसे पहले हम घोषणा कर रहे हैं सरताज गीत की।

सरताज़ गीत

सरताज गीत के रूप में टाई हुआ है दो गीतों को 40.5 अंक मिले हैं जो अधिकतम है। इस कारण हम इन दो गीतों को सामूहिक रूप से सरताज गीत घोषित करते हैं। मज़े की बात ये है कि इन दोनों गीतों या कहें गज़लों के गायक/संगीतकार एक ही हैं, जी हाँ आपने सही पहचाना- दूसरे सत्र की नायाब खोज - रफीक शेख. और ग़ज़लें हैं "जो शजर" और "सच बोलता है" जिनके शायर हैं क्रमशः दौर सैफी और अज़ीम नवाज़ राही। इसके अलावा इनकी टीम में एक संगीत संयोजक भी हैं- अविनाश। सभी 4 लोगों को बहुत बहुत बधाई। सरताज गीत को हिंद युग्म की तरफ से 6000 रुपए का नकद पुरस्कार दिया जायेगा. समीक्षकों के अंतिम अंक तालिका के अनुसार टॉप १० गीत जो चुने गए वो इस प्रकार हैं-

टॉप 10 गीत

1. जो शजर 40.5/50
2. सच बोलता है 40.5/50
3. चाँद का आंगन 40/50
4. वन अर्थ- हमारी एक सभ्यता 39.5/50
5. आखिरी बार बस 39/50
6. जीत के गीत 38/50
7. हुस्न 38/50
8. मुझे वक़्त दे 38/50
9. संगीत दिलों का उत्सव है 37.5/50
10. खुशमिजाज़ मिटटी 37.5/50
11. आवारदिल 37.5/50

चूँकि अंतिम 3 गीतों के अंक बराबर हैं इस कारण 10 के स्थान पर 11 गीतों को एल्बम में शामिल किया जायेगा. अन्य गीतों के कुछ इस प्रकार अंक मिले हैं -

12. चले जाना 36.5/50
13. जिस्म कमाने निकल गया है 35.5/50
14. चाँद नहीं विश्वास चाहिए 35/50
15. तेरे चेहरे पे 34/50
16. ओ साहिबा 34/50
17. सूरज चाँद और सितारे 33/50
18. तू रूबरू 33/50
19. मैं नदी 32/50
20. बढ़े चलो 31/50
21. बे इंतेहा 31/50
22. उड़ता परिंदा 31/50
23. ओ मुनिया 30/50
24. डरना झुकना 30/50
25. माहिया 28/50
26. राहतें सारी 27.5/50
27. मेरे सरकार 24/50

लोकप्रिय गीत

हिन्द-युग्म ने 2 मार्च से 28 मार्च 2009 के मध्य एक पोल का भी आयोजन किया, जिसके माध्यम से लोकप्रिय गीत (श्रोताओं की पसंद) जानने की कोशिश की गई। इस पिल पृष्ठ को अब तक 3165 बार देखा गया जो किसी भी हिन्द) वेबसाइट के किसी एक पेज इतनी बार इतने समय अंतराल में कभी नहीं देखा गया। कुल 1067 मत मिले जिसमें से 233 मत फॉल्स हैं। चूँकि 25 मार्च को संध्या 7 से 9 बजे के बीच हमारे पास मात्र 57 श्रोता आये और 'चाँद नहीं विश्वास चाहिए' को इतने ही समय में 290 मत मिल गये, जो कि सम्भव नहीं है, क्योंकि हम एक सिस्टम से एक मत मान रहे थे। हम 57 मत चाँद नहीं विश्वास चाहिए को दे रहे हैं।

'संगीत दिलों का उत्सव है' और 'मेरे सरकार' के बीच जबरदस्त टक्कर रही। जहाँ 'संगीत दिलों का उत्सव है' को 223 वोट मिले, वहीं 'मेरे सरकार' को 221 । 'चाँद नहीं विश्वास चाहिए' को अधिकतम 57 देने के बाद 177। इस तरह 'संगीत दिलों का उत्सव है' को हम लोकप्रिय गीत चुन रहे हैं। इस गीत के टीम को रु 4000 का नग़द इनाम दिया जायेगा। सुनिए लोकप्रिय गीत-



हिन्द-युग्म सरताज गीत, लोकप्रिय गीत और शीर्ष 10 गीतों का एल्बम भी निकालने की योजना बना चुका है। यह एल्बम जल्द ही किसी सार्वजनिक महोत्सव में ज़ारी किया जायेगा।

स्पॉनसर करें (प्रायोजक बनें)

हिन्द-युग्म अपने कलाकारों के साथ मिलकर बहुत से सांगैतिक कार्यक्रमों को आयोजित करने की योजना बना है, जिसके लिए हम स्पॉन्सर (Sponsorer) की तलाश कर रहे हैं। स्पान्सर को निम्नलिखित लाभ होगा-

1. हिन्द-युग्म डॉट कॉम नेटवर्क के सभी वेबसाइट की लाखों की ट्रैफिक।
2. छः महीने तक सभी नेटवर्क पर बैनर फ्लैश करने का अवसर
3. कार्यक्रमों (जैसे सिंगिंग शो, ग़ज़ल कंसर्ट इत्यादि) के माध्यम से जन समुदाय तक अपना बॉन्ड पहुँचाने का मौका।

अधिक जानकारी के लिए admin@radioplaybackindia.com पर ईमेल करें या 9873734046, 9871123997 पर फोन करें।

Comments

बहुत बढिया प्रयास है आपका ... बहुत बहुत शुभकामनाएं।
शोभा said…
बहुत मीठे गीत सुनवाने के लिए आभार।
विजेताओं को बधाईयां. आवाज़ का ये प्रयास सराहनीय है. आशा है, ऐसा निरंतर चलता रहेगा.

प्रस्तुत समीक्षक अजातशत्रु है, भूलवश आज़ाद शत्रु लिखा गया है. तृटि ठीक कर लें.

एक बार फ़िर से बधाईयां.
एक सार्थक प्रयास... शुभकामनायें....
विजेताओं को बधाई।
shivani said…
bahut dino baad awaaz par aayi hoon....awaaz ke nateejey dekhey...bahut khushi hui ki do sartaaj geet chuney gaye hain or top 11 geet bhi chuney gaye hain....main sartaaj geet,lokpriy geet or top 11 geeton ki team ko apni shubhkaamnayein dena chahti hoon....ye prayaas bahut hi prashansneey raha....bahut hi safal prayaas raha...bahut madhur,sundar geet ,gazal sunne ko miley...nayi pratibhaon ko jaan ne ka awsar mila...main vijetaaon ke sundar or ujwwal bhavishy ki kaamna karti hoon....dhanywaad....
yahaa aakar achchha laga , sngeet ki duniya sabhi ko achchhi lagti hai, mujhe bhi achchha lagaa.
- vijay
बहुत अच्छा प्रयास है. बहुत अच्छा लगा गीत सुन कर . बधाई हो !

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व