Skip to main content

मेरा सुंदर सपना बीत गया....दर्द की पराकाष्ठा है गीता दत्त के इस गीत में

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 67

ज का 'ओल्ड इज़ गोल्ड' सुनकर आपका मन विकल हो उठेगा ऐसा हमारा ख्याल है, क्योंकि आज का गीत गीता राय की वेदना भरी आवाज़ में है और जब जब गीताजी ऐसे दर्दभरे गीत गाती थी तब जैसे अपने कलेजे को ग़म के समन्दर में डूबोकर रख देती थी। उनके गले से दर्द कुछ इस तरह से बाहर निकलकर आता था कि सुननेवाले को उसमें अपने दर्द की झलक मिलती थी। गीताजी के गाये इस तरह के बहुत सारे गानें हैं, लेकिन आज हमने जिस गीत को चुना है वह है फ़िल्म 'दो भाई' से "मेरा सुंदर सपना बीत गया"। यह गीताजी की पहली लोकप्रिय फ़िल्मी रचना थी। इससे पहले उन्होने संगीतकार हनुमान प्रसाद के लिये कुछ गीत गाये ज़रूर थे लेकिन उन्हे उतनी कामयाबी नहीं मिली। सचिन देव बर्मन के धुनो को पाकर जैसे गीताजी की आवाज़ खुलकर सामने आयी फ़िल्म 'दो भाई' में। यह फ़िल्म आयी थी सन् १९४७ में फ़िल्मिस्तान के बैनर तले और उस वक़्त गीताजी की उम्र थी केवल १६ वर्ष। और इसी फ़िल्म से गीतकार राजा मेहेन्दी अली ख़ान का भी फ़िल्म जगत में पदार्पण हुआ। इसी फ़िल्म में गीता राय का गाया एक और मशहूर गीत था "याद करोगे याद करोगे इक दिन हमको याद करोगे, तड़पोगे फ़रियाद करोगे"। ये दोनो ही गीत गीताजी के जीवन की दास्ताँ को बयाँ करते हैं। १६ वर्ष की आयु में जब उन्होने ये गीत गाये थे तब शायद ही उन्हे इस बात का अंदाज़ा रहा होगा कि आगे चलकर उन्हे अपनी निजी ज़िन्दगी में भी यही गीत गाना पड़ेगा कि "मैं प्रेम में सब कुछ हार गयी, बेदर्द ज़माना जीत गया".

जब भी मैं गीताजी के बारे में कुछ कहने या लिखने की कोशिश करता हूँ तो दिल बहुत उदास सा हो जाता है। इसलिए मैं यहाँ पर वो पंक्तियाँ पेश कर रहा हूँ जिन्हे हर मन्दिर सिंह 'हमराज़' ने अपनी पत्रिका 'रेडियो न्यूज़' में गीताजी के निधन पर श्रद्धांजली स्वरूप लिखा था सन् १९७२ में - "हृदय की पूरी गहराई तक को छू लेने वाले गीतों को 'गीता' ने इतने दर्द में डूब कर गाये हैं कि सुनते समय लगता है सचमुच कोई फ़रियाद कर रहा हो। कई बार गीत सुनते समय यूँ एहसास होता है कि जैसे दर्दीले गीतों को स्वर प्रदान करनेवाले शायद स्वयं भी न जान पाते हों कि उनके स्वरों का लोगों पर कितना गहरा असर होता होगा! यही स्वर, जो समय की रफ़्तार के साथ पीछे धकेल दिये जाते हैं, दूसरे लोगों की ज़िन्दगी में इस क़दर समा जाते हैं कि जीवन पर्यान्त पीछा नहीं छोड़ते। स्वप्न लोक में ले जाने वाली एक और नशीली आवाज़ दिव्यलोक में गुम हो गयी। नशीली आवाज़ की मल्लिका गीता दत्त नहीं रहीं - एक ऐसी आवाज़ जो लोगों को दीवाना कर देती थी। एक सुहानी सर्द सुबह में 'रेडियो सीलोन' से यह गीत मानो सदा देता है - "याद करोगे याद करोगे इक दिन हमको याद करोगे, तड़पोगे फ़रियाद करोगे", और फिर मानो स्वयं ही कह रही हो - "मेरा सुंदर सपना बीत गया, मैं प्रेम में सब कुछ हार गयी, बेदर्द ज़माना जीत गया"।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. सी रामचंद्र और भारत व्यास की जोड़ी का एक अमर गीत.
२. मन्ना डे और आशा की आवाजें. गीत के बीट्स कमाल के हैं, साउंड का थ्रो और अद्भुत है शहनाई का स्वर.
३. "ये नज़रें दीवानी थी खोयी हुई...." दूसरे अंतरे की पहली पंक्ति है...

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
एक और नए विजेता मिले हैं पराग संकला के रूप में. नीलम जी आपको भी बधाई...संगीता जी आपका भी आभार...
देर से ही सही भरत पंडया भी सही उत्तर के साथ पधारे। शायद भरत जी के यहाँ समय का अंतर है...

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


Comments

Parag said…
हरमिंदर सिंह हमराज़ की गीता जी को अर्पित श्रद्धांजलि प्रस्तुत करने के लिए बहुत धन्यवाद. साठ साल के बाद भी यह गीत सुननेवाले के दिल को छू लेता हैं. गौर करने के बात यह भी हैं की जब यह गीत जब रिकॉर्ड हुआ था तब १६ साल की गीता रॉय को अपनी मातृभाषा बंगाली के अलावा कोई भी अन्य भाषा आती नहीं थी.

मन्ना डे साहब को जनम दिन की लाख शुभकामनाएं. आज की पहेली का जवाब हैं उनका और आशा जी गाया गीत "तू छुपी हैं कहाँ" जो फिल्म नवरंग के लिए बनाया गया था.

पराग सांकला
manu said…
तू छुपी है कहाँ,,,,
मैं तडपता यहाँ,,,,

बेहद ...बेहद शानदार गीत,,,,
संध्या और महिपाल की खूबसूरत अदाकारी ,,
shanno said…
बहुत ही सुंदर दर्दीला गीत. लाजबाब!
भाई! डर की पराकाष्ठा लिखें...परीकाष्ठा तो मैंने कभी नहीं सुना.
गीता जी की आवाज़ मर्मस्पर्शी है.
मन्नाडे जी को नमन.
नवरंग तो देखी है पर गीत को समझ नहीं सका.
Bharat Pandya said…
paheli ka jawab..Thus time I am just guessing
kari kari andhayari thi rat /////Navrang

as soon as I receive email I post answar.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया