Skip to main content

देखती ही रहो आज दर्पण ना तुम, प्यार का यह महूरत निकल जाएगा...नीरज का लिखा एक प्रेम गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 89

यूँतो फ़िल्मी गीतकारों का एक अलग ही जहाँ है, उनकी अलग पहचान है, उनकी अलग अलग खासियत है, लेकिन फ़िल्म संगीत के इतिहास में अगर झाँका जाये तो हम पाते हैं कि समय समय पर कई साहित्य से जुड़े शायर और कवियों ने इस क्षेत्र में अपने हाथ आज़माये हैं। इन साहित्यकारों ने फ़िल्मों में बहुत कम काम किया है लेकिन जो भी किया है उसके लिए अच्छे फ़िल्म संगीत के चाहनेवाले उनके हमेशा क़द्रदान रहेंगे। इन्हे फ़िल्मी गीतों में पाना हमारा सौभाग्य है, फ़िल्म संगीत का सौभाग्य है। अगर हिंदी के साहित्यकारों की बात करें तो कवि प्रदीप, पंडित नरेन्द्र शर्मा, विरेन्द्र मिश्र, बाल कवि बैरागी, महादेवी वर्मा, गोपाल सिंह नेपाली, अमृता प्रीतम, और डा. हरिवंशराय बच्चन के साथ साथ कवि गोपालदास 'नीरज' जैसे साहित्यकारों के क़दम फ़िल्म जगत पर पड़े हैं। जी हाँ, कवि गोपाल दास 'नीरज', जिन्होने फ़िल्मों में नीरज के नाम से एक से एक 'हिट' गीत लिखे हैं। उन्होने सबसे ज़्यादा काम सचिन देव बर्मन के साथ किया है, जैसे कि शर्मिली, प्रेम पुजारी, गैम्बलर, तेरे मेरे सपने, आदि फ़िल्मों में। संगीतकार रोशन को साथ में लेकर उनके गीत सामने आये 'नयी उमर की नयी फ़सल' फ़िल्म में, और आज 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में हम आपको इसी फ़िल्म का एक गीत सुनवाने जा रहे हैं मुकेश की आवाज़ में।

'नयी उमर की नयी फ़सल' फ़िल्म आयी थी सन् १९६५ में जिसमें नायक थे राजीव और नायिका थीं तनुजा। कवि नीरज के काव्यात्मक रचनायें गीतों की शक्ल में इस फ़िल्म में गूँजे। "कारवाँ गुज़र गया, ग़ुबार देखते रहे" उनकी लिखी इस फ़िल्म की एक मशहूर रचना है जिसे आपने रफ़ी साहब की आवाज़ में कई कई बार सुना होगा। लेकिन मुकेश की आवाज़ में जिस गीत को आज हम सुनवा रहे हैं वह थोड़ा सा कम सुना सा गीत है, लेकिन अच्छे गीतों के क़द्रदानों को यह गीत बख़ूबी याद होगा। "देखती ही रहो आज दर्पण ना तुम, प्यार का यह महूरत निकल जाएगा" में भले ही साहित्य और कविता के मुक़ाबले फ़िल्मी रंग ज़्यादा है, लेकिन नीरज ने जहाँ तक संभव हुआ अपने काव्यात्मक ख्यालों को इस गाने मे पर उतारा। मसलन, एक अंतरे मे वो कहते हैं कि "सुर्ख़ होठों पे उफ़ ये हँसी मदभरी जैसे शबनम अंगारों की महमान हो, जादू बुनती हुई ये नशीली नज़र देख ले तो ख़ुदाई परेशान हो, मुस्कुराओ ना ऐसे चुराकर नज़र आईना देख कर सूरत मचल जाएगा"। तो लीजिए दोस्तों, साहित्य के उन सभी गीतकारों जिन्होने फ़िल्म संगीत में अपना अमूल्य योगदान दिया है, उन सभी को सलाम करते हुए सुनते हैं मुकेश की आवाज़ में रोशन का संगीत आज के 'ओल्ड इज़ गोल्ड' में। रोशन ने जब भी किसी गीत में संगीत दिया है तो उसमें इस्तेमाल किये गये साज़ों का चुनाव इस क़दर किया कि जो गायक गायिका की आवाज़ को पूरा समर्थन दे, और प्रस्तुत गीत भी उनके इसी अंदाज़ का एक मिसाल है।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. नीरज की कलम से ही निकला एक और शानदार गीत.
२. आवाज़ है किशोर कुमार की.
३. मुखड़े में शब्द है -"ग़ज़ल".

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
मनु जी आपका तुक्का इस बार सही नहीं बैठा, नीलम जी आप भी मनु जी के झांसे में आ गयी :) खैर विजेता रहे एक बार फिर, शरद तैलंग जी और रचना जी....आप दोनों को बहुत बहुत बधाई.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


Comments

manu said…
बेहद जल्दबाजी में एक और तुक्का...कल की तरह,,,

दिल आज शायर है गम आज नाघ्मा है,,,
शब् ये ग़जल है सनम....

नीलम जी,,,,,
देखा भाला ,जाँचा परखा सोचा समझा कीजिये,,,,
आप के ही कमेन्ट में,,,याशायद कहीं पढा था .......
::::::::::))))))))))
ओह हो....
मैंने सोचा कि मैं पहले हो जाऊँगा,,, कभी कभार तो मैं इस महफिल में आता हूँ... और इस तरह का सुलूक!!!
फिर भी...मनु जी का जवाब सही लगता है.. जल्दबाजी में शब्द ठीक से नहीं लिखे हैं.. अगर उसके नम्बर मुझे मिल जायें तो.. :-)
दिल आज शायर है, गम आज नगमा है...
शब से गज़ल है सनम...
गैरों के शे’रों को ओ सुनने वाले, हो इस तरफ़ भी करम..
आके ज़रा देख तो तेरी खातिर हम किस तरह से जिये...
ये गाना मेरे पसंदीदा गानों में से एक है...
ओह हो....
मैंने सोचा कि मैं पहले हो जाऊँगा,,, कभी कभार तो मैं इस महफिल में आता हूँ... और इस तरह का सुलूक!!!
फिर भी...मनु जी का जवाब सही लगता है.. जल्दबाजी में शब्द ठीक से नहीं लिखे हैं.. अगर उसके नम्बर मुझे मिल जायें तो.. :-)
दिल आज शायर है, गम आज नगमा है...
शब से गज़ल है सनम...
गैरों के शे’रों को ओ सुनने वाले, हो इस तरफ़ भी करम..
आके ज़रा देख तो तेरी खातिर हम किस तरह से जिये...
ये गाना मेरे पसंदीदा गानों में से एक है...
शोभा said…
वाह वाह बहुत प्यारा गीत सुनवाया। आभार।
ये प्यार कोई खिलौना नही है हर कोई ले जो खरीद
मेरी तरह ज़िन्दगी भर तडप लो फिर आना इसके करीब’ गीत तो यही है ।
neelam said…
bhaai waah ,
hum jo samajh rahe the wahi ,likha ab comment manu ji ke baad publish ho to isme kaise ye pata lagta hai ki hum kisi ke jhaanse me aa gaye ,sujooy da ya sajeev ji ek baar phir se bataana chaahenge ki humne comment publish kiya tha apne tukke par ,mukesh ka wahi gana hume yaad tha jo aapne sunvaaya wo to humne suna bhi nahi kabhi ,khair us gaane ke saamne to yah gaana hume jancha bhi nahi .

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व