गुरुवार, 28 मई 2009

लोकगीतों में वतन वाले सुनें नाम मेरा

पिछले हफ़्ते हमने आपको अब्बास रज़ा अल्वी द्वारा संगीतबद्ध गोपालदास नीरज का एक गीत सुनवाया था। आज एक बार फिर से हम इन्हीं की एक संगीतबद्ध प्रस्तुति लेकर आये हैं। इस गीत को लिखा है स्वर्गीय सागर खयामी ने। गाया है सिडनी की गायिक शानाज़ हैदर ने। अब्बास के दोनों गीत इनके 'दूरियाँ' एल्बम के हिस्सा हैं। अब्बास ने यह एल्बम भारत के गरीब बच्चों की मदद के लिए कम्पोज किया था।

2 टिप्‍पणियां:

सजीव सारथी ने कहा…

waah good song again

शैलेश भारतवासी ने कहा…

गायिका शानाज़ हैदर की आवाज़ बहुत मधुर है और गीत के बोल के तो क्या कहने।
ओवरऑल अल्वी जी को बधाइयाँ।

The Radio Playback Originals (Click on the covers to reach out the Albums)



Popular Posts सर्वप्रिय रचनाएँ