Skip to main content

सुनो कहानी: होली पर विशेष

होली के शुभ अवसर पर पंकज सुबीर की रोचक कहानी पलाश

'सुनो कहानी' इस स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं रोचक कहानियां, नई और पुरानी। पिछले सप्ताह आपने नीलम मिश्रा की आवाज़ में कुर्रत-उल-ऐन हैदर की रचना ''फोटोग्राफर'' का पॉडकास्ट सुना था। आवाज़ की ओर से आज होली के शुभ अवसर पर हम लेकर आये हैं पंकज सुबीर की रोचक कहानी "पलाश", जिसको स्वर दिया है अनुराग शर्मा ने। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। कहानी का कुल प्रसारण समय है: 18 मिनट।

यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं हमसे संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें।

'मेड़ पर पड़े हुए पेड़ के कटे हुए हिस्से पर बैठ कर फाल्गुनी पलाश के फूलों पर धीरे धीरे हाथ फेरने लगी, कितने मुलायम हैं ये फूल मखमल की तरह । एक एक रंग को खूबसूरती के साथ सजाया है प्रकृति ने इसकी पंखुरियों पर, बीच में ज़र्द पीले रंग का छींटा, फ़िर सिंदूरी और किनारों पर कहीं कहीं चटख़ लाल, संपूर्णता का एहसास लिये ।'
(पंकज सुबीर की "पलाश" से एक अंश)


नीचे के प्लेयर से सुनें.
(प्लेयर पर एक बार क्लिक करें, कंट्रोल सक्रिय करें फ़िर 'प्ले' पर क्लिक करें।)


यदि आप इस पॉडकास्ट को नहीं सुन पा रहे हैं तो नीचे दिये गये लिंकों से डाऊनलोड कर लें (ऑडियो फ़ाइल तीन अलग-अलग फ़ॉरमेट में है, अपनी सुविधानुसार कोई एक फ़ॉरमेट चुनें)
VBR MP364Kbps MP3Ogg Vorbis

#Twenty Eighth Story, Palash: Pankaj Subeer/Hindi Audio Book/2009/09. Voice: Anurag Sharma

Comments

वाह वाह मज़ा आ गया....होली पर बहुत शानदार प्रस्तुति....अनुराग जी बहुत दिनों बाद आपकी आवाज़ सुनने को मिली....पंकज जी जबरदस्त कहानी लगी. बधाई स्वीकारें.
Kahani sun ke achha laga...
shanno said…
अनुराग जी,
जितनी सुंदर कहानी उतनी ही सुन्दरता से आपने पढ़ा भी उसे. लेखक को भी बहुत बधाई. कहानी की शुरुआत एक खूबसूरत कविता सी लगी जिसमे होली के रंग बिखरे हैं. और समाप्ति भी एक कविता की तरह हुई. क्या खूब! और आपने आखिर में कुछ पंक्तियाँ गायीं भी. बड़ा अच्छा लगा.
बहुत ही सुंदर कहानी, कोमल भावनाओं से भरी, पूरा माहोल, परिवेश, पलाश और गाँव की पृष्टभूमि को फाल्गुनी के भोले अंदाज़ से सुंदर तरीके से बाँधा है, अंत तक कहानी में फाल्गुन की बहार और सुंदर कोमल भावनाओं एहसास बना रहता है. अनुराग जी ने बहोत ही मधुर और भावनात्मक पक्ष को बाखूबी से ताज़ा रखा है अपनी आवाज़ से, और कहानी तो क्या कहने, पंकज जी की बारे में कुछ कहना शायद सूरज को दीपक दिखाना ही होगा. आनंद आ गया
neelam said…
sajeevji ki baat ka samarthan karte hue ,aap sabhi ko holi ki subhkaamnaayen .
पंकज़ भाई की कहानी सुनकर मज़ा आ गया। पंकज भाई वाकई बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं। पंकज भाई को मेरा सलाम।
"अर्श" said…
गुरु जी को प्रणाम और अनुराग जी को स्वर देने के लिए बधाई ...
सुनते वक्त मन जैसे गुदगुदाने लगा था मन ही मन हस रहा था जो होठो पे मुज्स्कान लिए थोड़े देर तक रुक जाती रही...
ये तो बिश्वास है उनका पलाश पे और पलाश को उसे बचा के रखना है .... एक बिश्वास के अलावा बाकी सारी चीजे टूट के जुड़ जाती है ... ओहो क्या बात कही है गुरु देव न इस n जानते तो सभी है मगर इस बात से परिचय गुरु जी ने कराया...
पानी में धीरे धीरे पलाश अपना रंग छोड़ रहा था .... क्या बात है ... उफ्फ्फ्फ़ .....एक अद्भुत प्रेम कहानी पलाश और गुनी की जो मर्यादा में रहते हुए पुरे बाग़ को खुशबु से तर बतर करती रही...

देता रहा वो धुप में छाया गुलों से ही ..
उस पेड़ में पलाश के पत्ता कोई न था....
नतमस्तक हूँ गुरु जी के लेख पे ..


आभार
अर्श

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया