Skip to main content

जिंदगी ख्वाब है....राज कपूर ने जिसे जिया एक सिल्वर स्क्रीन ख्वाब की तरह

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 103

'राज कपूर विशेष' जारी है 'ओल्ड इज़ गोल्ड' मे। दोस्तों, कल हमारा अंक ख़त्म हुआ था मुकेशजी की बातों से जिनमें वो बता रहे थे राज कपूर के बारे मे। वहीं से बात को आगे बढ़ाते हुए सुनते हैं कि मुकेश ने आगे क्या कहा था अमीन सायानी को दिये उस पुराने साक्षात्कार मे - "अमीन भाई, एक दिन हम रणजीत स्टूडियो मे बैठे थे। हज़रत के पास एक टूटी-फूटी फ़ोर्ड गाड़ी हुआ करती थी उन दिनों। तो उसमे बिठाया हमें और ले गये बहुत दूर एक जगह। वहाँ ले जाकर अपना फ़ैसला सुनाया कि 'हम एक फ़िल्म 'आग' बनाना चाहते हैं'। तो कुछ 'सीन्स‍' भी सुनाये। 'सीन्स' तो पसंद आये ही थे मगर मुझे जो ज़्यादा बात पसंद आयी, वह थी कि जिस जोश के संग वो बनाना चाहते थे 'आग' को।" लेकिन 'आग' बनाते समय राज कपूर को काफ़ी तक़लीफ़ों का सामना करना पड़ा था, इस सवाल पर मुकेश कहते हैं - "काफ़ी तकलीफ़ें, अमीन भाई कोई अंदाज़ा नहीं लगा सकता। पैसे की तकलीफ़ें, डेटों की तकलीफ़ें, यानी कि फ़िल्म बनाते समय जो जो तकलीफ़ें आ सकती हैं एक 'प्रोड्युसर' को। वह इम्तिहान था राज कपूर का। फ़िल्म बन भी गयी तो कोई ख़रीदार नहीं। ख़रीदार आये तो हमारा मज़ाक उड़ाया करे। एक ने तो यहाँ तक भी कहा कि 'राज साहब, अगर 'आग' आप ने बनायी है तो अपना थियटर भी बना लीजिये, ताकी आग लगे तो आप ही के थियटर मे लगे।' और आग की जलन मिटाने के लिए फिर 'बरसात' बनी। 'आग' के फ़ेल हो जाने के बावजूद राज कपूर पास हो गये। देखिये कैसे, ये बहुत बड़े 'फ़ाइनन्सर' यु. वी, पुरी, वो आये, और तमाम बिज़नस की ज़िम्मेदारी अपने उपर ले ली, 'डिस्ट्रिब्युशन' की, 'फ़ाइनन्स' की, और राज कपूर के उपर यह ज़िम्मेदारी डाल दी कि 'तुम एक अच्छा युनिट बनाओ और एक बेहरतरीन फ़िल्म बनाओ'। राज लग गये साहब, अब देखिये, फ़िल्म का युनिट बनाने के लिए फ़िल्म लेखक के साथ हर एक 'वर्कर' का तार मिलना चाहिए, यानी सुर मिलना चाहिए। देखिए कैसे कैसे आदमी उन्होने चुने, लेखन के लिए ख़्वाजा अहमद अब्बास, रामानंद सागर, इंदर राज आनंद, शैलेन्द्र, हसरत जयपुरी, 'फ़ोटोग्राफी' मे जल मिस्त्री, राधू परमारकर, तरु दत्त, 'आर्ट डिरेक्‍शन' मे आचरेकर, 'साउंड रिकॉर्डिंग‍' मे अल्लाउद्दिन, और 'लास्ट बट नौट द लीस्ट' 'म्युज़िक' मे शंकर जयकिशन और लता मंगेशकर।" तो दोस्तों, यूं बनी थी राज कपूर की टीम जिसका एक महत्वपूर्ण स्तम्भ ख़ुद मुकेश भी थी।

आज जो गीत हम राज साहब को समर्पित कर रहे हैं वह है आर.के बैनर के तले राज कपूर द्वारा निर्मित १९५६ की फ़िल्म 'जागते रहो' का। मुकेश की आवाज़ है और एक बार फिर शैलेन्द्र ने इस गीत मे भी ज़िंदगी के सच्चे रंग भरे हैं। इस फ़िल्म मे राज कपूर, प्रदीप कुमार, सुमित्रा देवी, स्मृति बिस्वास, सुलोचना और पहाड़ी सान्याल मुख्य कलाकार थे। फ़िल्म की आख़री सीन मे नरगिस नज़र आयीं थीं अतिथि कलाकार के रूप मे। आपको यह बता दें कि इसी साल यानी कि १९५६ मे ही प्रदर्शित फ़िल्म 'चोरी चोरी' में राज कपूर और नरगिस की जोड़ी आख़री बार नज़र आयी थी। शोम्भु मित्रा और अमित मित्रा निर्देशित 'जागते रहो' के लेखक थे ख़्वाजा अहमद अब्बास। फ़िल्म मे संगीत, जी नहीं, शंकर जयकिशन का नहीं था, बल्कि संगीत था सलिल चौधरी का, और शैलेन्द्र के साथ साथ प्रेम धवन ने भी फ़िल्म मे गाने लिखे थे। इस फ़िल्म को १९५७ मे चेकोस्लोवाकिया के कारलोवी वारी इंटरनैशनल फ़िल्म महोत्सव मे 'क्रीस्टल ग्लोब ग्रांड प्रिक्स' का ख़िताब हासिल हुआ था। तो लीजिए सुनिए 'ज़िंदगी ख़्वाब है'।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें २ अंक और २५ सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के ५ गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा पहला "गेस्ट होस्ट". अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं -

१. पद्मिनी पर फिल्माया गया है ये गीत.
२. राज कपूर की एक और सफल फिल्म.
३. दूसरा अंतरा शुरू होता है इन शब्दों से -"याद कर"

कुछ याद आया...?

पिछली पहेली का परिणाम -
कमाल हो गया. पराग जी ने गलत जवाब दिया और मज़े की बात कि बाकी सब भी उनकी हाँ में हाँ मिला गए. "बॉबी" राज कपूर द्वारा निर्मित और निर्देशित फिल्म है और यहाँ इस शृंखला में हम राज कपूर पर फिल्माए गए गीतों की बात कर रहे हैं. अफ़सोस किसी को भी इस क्लासिक फिल्म की याद नहीं आई और सलिल चौधरी को भी भूला दिया. पराग जी नकारात्मक मार्किंग नहीं है इसलिए आप बच गए :) स्कोर अब भी वही है. आज के लिए सभी को शुभकामनायें.

खोज और आलेख- सुजॉय चटर्जी



ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम ६-७ के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.


Comments

याद कर तूने कहा था प्यार से संसार है
हम जो हारे दिल की बाज़ी ये तेरी ही हर है ।
ऒ बसंती पवन पागल न जा रे न जा ..
फ़िल्म जिस देश में गंगा बहती है
राज कपूर निर्देशित फिल्म" जिस देश में गंगा बहती है" डाकुओं की पृष्ठ भूमि पर बनी ये फिल्म मील का पत्थर है...इस गीत को जबलपुर के पास भेडा घाट पर फिल्माया गया था...संगीत: शंकर जयकिशन.

याद कर तूने कहा था प्यार से संसार है
हम जो हारे दिल की बाज़ी ये तेरी ही हार है...
ओ बसंती पवन पागल ना जा रे ना जा रोको कोई...
नीरज
Shamikh Faraz said…
sharad ji ko badhai.
sangeeta sethi said…
जैसे ही पहेली देखी मन गुनगुनाने लगा
याद कर तूने कहा था प्यार से संसार है
हम जो हारे दिल की बाज़ी ये तेरी ही हार है
ओ बसंती पवन पागल
न जा रे न जा रोको कोई
पर पोस्ट द कमेन्ट तक आते आते देखा कि शरद जी और नीरज जी बाज़ी ले गए है | दोनों को बधाई
manu said…
पराग जी,,
हम जो हाते दिल की बाजी,,,,,,,,,
ये तेरी ही हार है.......

:)
Parag said…
सुजॉय जी

पिछली पहेली के सूत्र संदिग्ध थे क्यों की कही भी यह नहीं लिखा था की फिल्म राज साहब की अभिनीत होनी चाहिए. चलो खैर कोई बात नहीं

शरद जी आप को बहुत बधाईयाँ.

मनु जी काफी दिनोंसे आप से कोई बातचीत नहीं हुई. उम्मीद हैं जल्दी ही ख़त लिखूंगा.

पराग
Parag said…
सुजॉय जी

और एक बात, जिंदगी ख्वाब हैं मोतीलाल साहब पर फिल्माया गया था, न की राज साहब पर!

:D

पराग
Manju Gupta said…
याद कर तूने कहा था प्यार से संसार है
mere vichar se yeh gana hai.


Manju Gupta.

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया