Skip to main content

आता है तेरा नाम मेरे नाम से पहले..."निकाह" और "तलाक" के बीच उलझी एक फ़नकारा

महफ़िल-ए-ग़ज़ल #२१

वैसे देखें तो पहेलियाँ महफ़िल-ए-गज़ल की पहचान बन गई हैं, और इन पहेलियों के कारण हीं हम और आप एक दूसरे से इस तरह जुड़ पाते हैं। लेकिन आज मैं "गज़ल से गुमशुदा शब्द पहचानो" वाली पहेली की बात नहीं कर रहा,बल्कि मैं उस पहेली की बात कर रहा हूँ, जो "फ़नकार" की शिनाख्त करने के लिए अमूमन पहले पैराग्राफ़ में पूछी जाती है|उसी पहेली को एक नए अंदाज में मैं अभी पेश करने जा रहा हूँ। पहेली पूछने से पहले यह बता दूँ कि हम आज जिनकी बात कर रहे हैं, वो एक "फ़नकारा" हैं,एक गज़ल गायिका और हिंदी फ़िल्मों से उनका गहरा ताल्लुक है। पहेली यह है कि नीचे दिए गए दो कथनों (उन्हीं के क़ोट्स) से उन फ़नकारा की शिनाख्त करें:

१.मैं जब नई-नई गायिका हुई थी तो बहुत सारे लोग मुझे मोहतरमा नूरजहाँ की बेटी समझते थे।हम दोनों ने हीं क्लासिकल म्युज़िक में तालीम ली हैं और ऐसी आवाज़ें बाकी की आवाज़ों से ज्यादा खुली हुई होती हैं। मेरी आवाज़ की पिच और क्वालिटी उनकी आवाज़ से बहुत ज्यादा मिलती है। शायद यही कारण है कि लोगों द्वारा हमारे बीच यह रिश्ता करार दिया गया था।

२. मेरी बेटी "ज़ाहरा" की म्युजिक एलबम कुछ हीं दिनों में रिलीज होने वाली है और उसे हिंदी फ़िल्मों में काम करने के कई सारे आफ़र भी मिले हैं। मेरी दादी अनवरी बेगम पारो, दादा रफ़ीक़ गज़नवी, अम्मी ज़रिना और खुद मेरा फ़िल्मों से गहरा नाता रहा है और मेरे लिए खुशी की बात है कि मेरी अगली पीढी भी इसी क्षेत्र में भविष्य आजमाने जा रही है।


तो ये रहे आपके लिए दो सुराग, बूझिये और हमें सुझाईये कि हम किनकी बात कर रहे हैं। वैसे आप ईमानदारी बरतेंगे ,इसका मुझे यकीन है, नहीं तो उन फ़नकारा के नाम की जानकारी इस आलेख के शीर्षक में हीं है।

बात तब की है, जब राज कपूर साहब अपने शहजादे "ऋषि कपूर" और "नीतू सिंह" की शादी के अवसर पर लंदन में एक रिसेप्शन की तैयारी कर रहे थे। इस रिसेप्शन में उन्होंने अपनी चचेरी बहन "ज़रिना" को भी न्योता दिया था। रिसेप्शन में कई सारे जानेमाने निर्देशकों की मंडली मौजूद थी, जिनमें "बी० आर० चोपड़ा" भी एक थे। संयोग की बात यह है कि चोपड़ा साहब ने कुछ हीं दिनों पहले "ज़ीनत अमान" को लेकर "इंसाफ़ की तराज़ू" पूरी की थी और अपनी अगली फ़िल्म के लिए उन्हें किसी मुसलमान नायिका की तलाश थी। यूँ तो "ज़ीनत" भी मुसलमान हीं हैं, लेकिन चोपड़ा साहब के अनुसार उनमें एक शहरीपन झलकता है,जिस कारण वो "नीलोफ़र" के किरदार में सही नहीं रहेंगी। उसी दौरान राज कपूर साहब भी "हिना" बनाने की जुगत में थे और उन्हें भी ऐसी हीं किसी मुसलमान नायिका की तलाश थी,जिन्हें वो "पाकिस्तान" का वाशिंदा दिखा सकें। तो उसी महफ़िल में बातों हीं बातों में राज साहब को अपनी बहन "ज़रिना" की बेटी के बारे में पता चला, जो न सिर्फ़ अच्छा गाती थी, बल्कि अच्छी दिखती भी थी। राज साहब ने अपने दिल की बात "ज़रिना" को बता दी। लेकिन "हिना" बनती , उससे पहले हीं राज साहब की नज़र "ज़ेबा बख्तियार" पर गई और उन्होंने "ज़ेबा" को अपने फ़िल्म के लिए साईन कर लिया। वैसे बदकिस्मती देखिए कि "राज" साहब "हिना" को अपने जीते-जी पूरा भी नहीं कर पाए और फिल्म की बागडोर "रणधीर कपूर" को संभालनी पड़ी। वैसे राज साहब और हिना की बातें आने से पहले हीं देव आनंद साहब ने इन फ़नकारा को लेकर फ़िल्म बनाने की योजना बना डाली थी,लेकिन जैसे हीं उन्हें यह पता चला कि इनकी माँ "ज़रिना" और "राज कपूर" भाई-बहन हैं और राज कपूर इन्हें लेकर "हिना" बनाने वाले हैं तो देव आनंद साहब पीछे हट गए। नियति का यह खेल देखिए कि "हिना" बनी लेकिन इन्हें लेकर नहीं। राज साहब जब इन्हें "हिना" में ले न सके तो उन्होंने "बी० आर० चोपड़ा" पर दवाब डालना शुरू कर दिया ताकि चोपड़ा साहब अपनी आने वाली फ़िल्म "तलाक तलाक तलाक" में इन्हें साईन कर लें। आखिरकार हुआ यही और फ़िल्म उद्योग को मिला एक नया चेहरा । इस फ़िल्म के रीलिज होने से पहले हीं इसके गाने खासे चर्चित हो गए। फ़िल्म अपने नाम के कारण समय पर रीलिज़ न हो सकी और इसके रीलिज की अनुमति तभी मिली जब इसका नाम बदलकर "निकाह" कर दिया गया। "निकाह" सुनने के बाद तो आपको पता चल हीं गया होगा कि हम किनकी बात कर रहे हैं।

"निकाह" बनने से पहले हीं "सलमा आग़ा" जी ने अपनी बहन "सबीना" के साथ मिलकर "एबीबीए एंड आग़ा" नाम से अपनी म्युज़िक एलबम रीलिज की थी। आपकी जानकारी के लिये यह बता दें कि "एबीबीए" एक स्वीडिश पौप म्युज़िक ग्रुप है, जो १९७८ में अपने वजूद में आया था। यूँ तो यह एक ग्रुप का नाम है,लेकिन यह ग्रुप इतना मकबूल हो गया कि आजकल इसे एक संगीत की एक विधा(ज़ौनर) के रूप में स्वीकार कर लिया गया है। "एबीबीए" की खासियत यह है कि इसमें सीधे-सादे बोल और लुभावने और लोकप्रिय संगीत तो होते हीं है,साथ हीं साथ अलग-अलग हार्मोनी में गायिकाओं की आवाज़ की ओवरडबिंग की जाती है,जिसे "वाल औफ़ साउंड" भी कहा जाता है। तो हाँ जब संगीतकारों ने उस एलबम में "सलमा आग़ा" की आवाज़ को सुना तो उन्होंने "निकाह" के गानों को उनसे हीं गवाने का फ़ैसला कर लिया। वैसे एक इंटरव्यू में "चोपड़ा" साहब ने कहा था कि उस फ़िल्म का सबस मशहूर गाना "दिल के अरमां" किसी और गायिका की आवाज़ में रिकार्ड होने वाला था। लेकिन इस बात से "आग़ा" बेहद नाराज़ हो गईं। उनका मानना था कि लोग इस बात को स्वीकार नहीं करेंगे कि मैं एक गायिका होकर भी अपने गाने को नहीं गा रही। आखिरकार "चोपड़ा" साहब को "आग़ा" की जिद्द के आगे झुकना पड़ा और आगे क्या हुआ यह कहने की कोई जरूरत नहीं है। "सलमा आग़ा" के बारे में और भी बहुत सारी बातें कहने की हैं,लेकिन आलेख की लंबाई इज़ाज़त नहीं दे रही,इसलिए बाकी बातें किसी अगले आलेख में। अब हम आज की गज़ल की ओर रूख करते हैं। "वीनस रिकार्ड्स एंड टेप्स" ने १९९८ में "हुस्न" नाम की एक एलबम रीलिज की थी, जिसमें कुल मिलाकर नौ गज़लें थी। संयोग देखिए कि आज की गज़ल को छोड़कर बाकी सारी गज़लों के गज़लगो के नाम की जानकारी मुझे मिल गई, बस यही गज़ल है,जिसे किसने लिखा है मुझे नहीं पता। हाँ संगीत किसका है, यह मुझे पता है। इस गज़ल में संगीत दिया है "बौबी एम०" ने।

तो चलिए हम और आप मिलकर आनंद लेते हैं इस गज़ल का।कहने की ज़रूरत नहीं है कि इस गज़ल में पाश्चात्य वाद्ययंत्रों का भरपूर प्रयोग हुआ है।वैसे जिसने भी बोल लिखे हैं,उसने बड़ा हीं उम्दा काम किया है। हाँ अगर आपको उस शायर की जानकारी है तो हमें इत्तेला ज़रूर कीजिएगा।:

क्या कुछ न कहा था दिल-ए-नाकाम से पहले,
वाकिफ़ थे मोहब्बत के हम अंजाम से पहले।

काटी हैं मोहब्बत में तो हर तरह की रातें,
दिल आज धड़कने लगा क्यों शाम से पहले।

अफ़साना किसी तरह मुकम्मल नहीं होता,
आता है तेरा नाम मेरे नाम से पहले।

नाकामि-ए-उल्फ़त हमें जीने नहीं देगी,
मरना भी नहीं है तेरे पैगाम से पहले।




चलिए अब आपकी बारी है महफ़िल में रंग ज़माने की. एक शेर हम आपकी नज़र रखेंगे. उस शेर में कोई एक शब्द गायब होगा जिसके नीचे एक रिक्त स्थान बना होगा. हम आपको चार विकल्प देंगे आपने बताना है कि उन चारों में से सही शब्द कौन सा है. साथ ही पेश करना होगा एक ऐसा शेर जिसके किसी भी एक मिसरे में वही खास शब्द आता हो. सही शब्द वाले शेर ही शामिल किये जायेंगें, तो जेहन पे जोर डालिए और बूझिये ये पहेली -

कहकहा ___ का बरताव बदल देता है,
हंसने वाले तुझे आंसू नज़र आये कैसे...

आपके विकल्प हैं -
a) चेहरे, b) बात, c) शख्स, d) आँख

इरशाद ....

पिछली महफ़िल के साथी-
पिछली महफिल का सही शब्द था -"लकीरों" और सही शेर कुछ यूं था -

मेरे इन हाथों की चाहो तो तलाशी ले लो,
मेरे इन हाथों में लकीरों के सिवा कुछ भी नहीं....

सबसे पहले सही जवाब दिया शरद तैलंग जी ने एक बार फिर साथ में अर्ज किया ये शेर भी -

हाथों की लकीरों का भी विश्वास क्य़ा करें
जो खुद उलझ रहीं हैं उनसे आस क्य़ा करें

वाह...
कुलदीप अंजुम जी ने फरमाया -

कहीं मुझसे जुदा न कर दे उसे कोई लकीर,
इस वजह से वो हाथ मेरा देखता न था..

क्या बात है...
सुमित जी भी कूद पड़े महफ़िल में -

जिन के हाथो मे लकीर नही होती,
जरूरी तो नही उनकी तकदीर नही होती ?

सही बात सुमित जी...
मंजू जी, शमिख फ़राज़ जी, मनु जी , तपन जी आप सभी का भी आभार, शोभा जी पीनाज़ की और भी ग़ज़लें आपको ज़रूर सुन्वएंगें, बने रहिये आवाज़ के साथ.

प्रस्तुति - विश्व दीपक तन्हा



ग़ज़लों, नग्मों, कव्वालियों और गैर फ़िल्मी गीतों का एक ऐसा विशाल खजाना है जो फ़िल्मी गीतों की चमक दमक में कहीं दबा दबा सा ही रहता है. "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" श्रृंखला एक कोशिश है इसी छुपे खजाने से कुछ मोती चुन कर आपकी नज़र करने की. हम हाज़िर होंगे हर सोमवार और गुरूवार दो अनमोल रचनाओं के साथ, और इस महफिल में अपने मुक्तलिफ़ अंदाज़ में आपके मुखातिब होंगे कवि गीतकार और शायर विश्व दीपक "तन्हा". साथ ही हिस्सा लीजिये एक अनोखे खेल में और आप भी बन सकते हैं -"शान-ए-महफिल". हम उम्मीद करते हैं कि "महफ़िल-ए-ग़ज़ल" का ये आयोजन आपको अवश्य भायेगा.

Comments

मेरे इन हाथों मे लकीरों खै सिव कुछ भी नहिन सही जवाब है आज का गीत भी बहुत अछ्ह लगा आभार्
पहेली तो रही ही नहीं तन्हा भाई..
आपने ही जवाब दे दिया.. :-)
तपन भाई!
पहेली बस एक पैराग्राफ़ के लिए थी। अगले पैराग्राफ़ में तो उसका जवाब देना हीं था, नहीं तो आलेख अधूरा हो जाता ना और मैं लिखता किस पर।

वैसे भी मैं हर बार ऐसी हीं पहेली पूछता हूँ, जिसका जवाब अगले पैराग्राफ़ में दे दूँ। पढने वाले के लिए यही होता है कि वह एक पैराग्राफ़ के बाद रूके , कुछ देर सोचे फिर आगे पढना शुरू कर दे :)

वैसे आपने नीचे वाली पहेली का जवाब नहीं दिया,थोड़ा उस पर भी दिमाग दौड़ाईये।

निर्मला जी!
शायद आपने पहेली को सही से नहीं समझा। जो शेर दिया गया है, उसमें से आपको "गुमशुदा" शब्द की तलाश करनी है,दिए गए विकल्पों में से। फिर उस शब्द पर कोई एक शेर दागना है।

-विश्व दीपक
सही शब्द है ’आँख’
शे’र अर्ज़ है :
कभी आँखों से अश्कों का खज़ाना कम नहीं होता
तभी तो हर खुशी, हर ग़म में हम उसको लुटाते हैं
(स्वरचित)
ऒर
अश्क आँखॊं में कैद रह न सके
दिल की हालत की मुखबरी कर ली
जि़न्दगी को सँवारने के लिए
हमने बरबाद जि़न्दगी कर ली (स्वरचित)
कहकहा ___ का बरताव बदल देता है,
हंसने वाले तुझे आंसू नज़र आये कैसे...
जवाब है "चहेरे"

लिजिये एक और शेर अर्ज़ है,
'तेरे चहेरे में वो जादु है, बिन डोर ख़ींचा आता हुं।
जाना होता है और कहीं, तेरी और चला आता हुं।
'अदा' said…
कहकहा ___ का बरताव बदल देता है,
हंसने वाले तुझे आंसू नज़र आये कैसे

सही शब्द है ’आँख’

अब शेर मुलाहिजा फरमायें :
आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा
वक़्त का क्या है गुज़रता है गुज़र जायेगा
sumit said…
कहकहा ___ का बरताव बदल देता है,
हंसने वाले तुझे आंसू नज़र आये कैसे...

जवाब आँख और ये इस गज़ल का शे'र है
अपने चेहरे से जो जाहिर है छुपाए कैसे,
तेरी मर्जी के मुताबिक नजर आये कैसे?
ये गजल जगजीत सिंह जी की आवाज मे है, ये मेरे पास मोबाईल मे भी store है

अब आँख शब्द से शे'र
आँख से दूर ना हो दिल से उतर जाएगा,
वक्त का क्या है गुजरता है गुजर जाएगा।
sumit said…
ये शे'र तो पहले ही आ चुका है दूसरा शे'र
अगर आँखे मेरी पुरनम नही है
तो तुम ये ना समझना गम नही है

पुरनम शब्द का अर्थ पूरी तरह नमी मे डूबा होना होता है क्या?
Shamikh Faraz said…
कहकहा ___ का बरताव बदल देता है,
हंसने वाले तुझे आंसू नज़र आये कैसे

सही शब्द है ’आँख’
पहले मुझे लगा की शायद चेहरे लफ्ज़ होना चाहिए लेकिन शेर के हिसाब से आँख आता हैं
Ashish said…
आज का शब्द है आँख और शायर है वसीम बरेलवी,
उन्ही के दो शेर और महफ़िल की नज़र कर रहा हूँ


1. क्या दुःख है, समंदर को बता भी नहीं सकता
आँसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता

2. कहाँ तक आँख रोएगी कहाँ तक किसका ग़म होगा
मेरे जैसा यहाँ कोई न कोई रोज़ कम होगा


---आशीष
pooja said…
तन्हा जी ,

बहुत बढ़िया जानकारी उपलब्ध कराई है आपने, जब निकाह फिल्म आई थी, तब सिर्फ सलमा आगा के ही गीत बजते रहते थे, एक लम्बे अरसे बाद उनकी आवाज़ सुनना सुखद रहा. धन्यवाद.
rachana said…
दीपक जी क्या मेरा जवाब गलत था आप ने कुछ कहा नही .
रचना
rachana said…
आँखों से बह के ख्वाब तेरी हथेली सजा गए
लिखा है गैर का नाम वहां चुपके से बता गए

शायद अब सब कुछ सही हो
सादर
रचना

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया