Skip to main content

बहाए चाँद ने आँसू ज़माना चांदनी समझा...हेमंत दा का गाया एक बेमिसाल गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 293

'ओल्ड इज़ गोल्ड' पर जारी है पराग सांकला जी के चुने हुए गीतों को सुनवाने का सिलसिला। गीता दत्त और राजकुमारी के बाद आज जिस गायक की एकल आवाज़ इस महफ़िल में गूँज रही है, उस आवाज़ को हम सब जानते हैं हेमंत कुमर के नाम से। हेमंत दा की एकल आवाज़ में इस महफ़िल में आप ने कई गानें सुनें हैं जैसे कि कोहरा, बीस साल बाद, सोलवाँ साल, काबुलीवाला, हरीशचन्द्र, अंजाम, और जाल फ़िल्मों के गानें। आज पराग जी ने हेमंत दा की आवाज़ में जिस गीत को चुना है, वह है १९५५ की फ़िल्म 'लगन' का - "बहाए चाँद ने आँसू ज़माना चांदनी समझा, किसी की दिल से हूक उठी तो कोई रागिनी समझा"। इस गीत के बोल जितने सुंदर है, जिसका श्रेय जाता है गीतकार राजेन्द्र कृष्ण को, उतना ही सुंदर है इसकी धुन। हेमन्त दा ही इस फ़िल्म के संगीतकार भी हैं। हेमन्त कुमार और राजेन्द्र कृष्ण ने एक साथ बहुत सारी फ़िल्मों में काम किया है और हर बार इन दोनों के संगम से उत्पन्न हुए हैं बेमिसाल नग़में। आज का प्रस्तुत गीत भी उन्ही में से एक है। चाँद और चांदनी पर असंख्य गीत और कविताएँ लिखी जा चुकी हैं और आज भी लिखे जा रहे हैं। लेकिन शायद ही किसी और ने चांदनी को चाँद के आँसू के रूप में प्रस्तुत किया होगा। बहुत ही मौलिक और रचनात्मक लेखन का उदाहरण प्रस्तुत किया है राजेन्द्र जी ने इस गीत में। गीत का मूल भाव तो यही है कि किसी की मुस्कुराहटों के पीछे भी कई दुख तक़लीफ़ें छुपी हो सकती हैं जिसे दुनिया नहीं देख पाती। अगर इस गीत को 'छाया गीत' में शामिल किया जाए तो शायद उसमें जो अगला गीत बजेगा वह होगा "तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो, क्या ग़म है जिसको छुपा रहे हो"। ख़ैर, ये तो बात की बात थी, आज हम बात करते हैं फ़िल्म 'लगन' की।

सन् १९५५ में हेमंत कुमार ने कुल चार फ़िल्मों में संगीत दिया था। ये फ़िल्में हैं 'बहू', 'बंदिश', 'भागवत महिमा', और 'लगन'। 'लगन' 'ओपी फ़िल्म्स' के बैनर तले बनी थी, जिसका निर्माण व निर्देशन किया था ओ. पी. दत्ता ने। सज्जन, नलिनी जयवंत और रणधीर इस फ़िल्म के मुख्य कलाकार रहे। आइए आज कुछ बातें करें राजेन्द्र कृष्ण साहब के बारे में। पिछली बार जब हमने उनका ज़िक्र किया था तो उनके शुरुआती दिनों के बारे में आपको बताया था कि किस तरह से वे फ़िल्म जगत में शामिल हुए थे और १९४९ में संगीतकार श्यामसुंदर के लिए उन्होने लिखे थे 'लाहोर' फ़िल्म के गानें जो बेहद मक़बूल हुए थे। लगभग उसी समय फ़िल्म 'बड़ी बहन' आयी जिसमें संगीतकार थे हुस्नलाल भगतराम। एक बार फिर राजेन्द्र जी के गीत संगीत रसिकों के होठों पर चढ़ गये। राजेन्द्र साहब तमिल भाषा के भी अच्छे जानकार थे। इसलिए मद्रास की नामचीन कंपनी 'एवीएम' के वे पहली पसंद बन गए, और 'एवीएम' के साथ साथ और भी कई तमिल फ़िल्म कंपनियों के साथ जुड़ गए। उस समय इन कंपनियों की लगभग सभी फ़िल्मों की पटकथा के अलावा इन फ़िल्मों में उन्होने गीत भी लिखे। राजेन्द्र कृष्ण ने कुछ १०० फ़िल्मों के पटकथा लिखे, और ३०० से अधिक फ़िल्मों में गानें लिखे। अपने समय के लगभग सभी नामचीन संगीतकारों के साथ उन्होने काम किया है। लेकिन सी. रामचन्द्र, मदन मोहन और हेमन्त कुमार के साथ उनकी ट्युनिंग् सब से बढ़िया जमी और इन संगीतकारों के लिये उन्होने लिखे अपने करीयर के बेहतरीन गानें। राजेन्द्र कृष्ण कुछ हद तक 'अंडर-रेटेड' ही रह गए। उनकी उतनी ज़्यादा चर्चा नहीं हुई जितनी कि साहिर, शैलेन्द्र, मजरूह जैसे गीतकारों की हुई, लेकिन अगर उनकी फ़िल्मोग्राफ़ी और म्युज़िकोग्राफी पर ध्यान दिया जाए तो पाएँगे कि एक से एक उत्कृष्ट गानें वो छोड़ गए हैं, जो किसी भी दृष्टि से इन दूसरे 'नामी' गीतकारों के मुक़ाबले कुछ कम नहीं थे। ख़ैर, आइए अब गीत सुना जाए...



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा अगला (अब तक के चार गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी (दो बार), स्वप्न मंजूषा जी, पूर्वी एस जी और पराग सांकला जी)"गेस्ट होस्ट".अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. अभिनेता शेखर के लिए तलत ने गाया है इसे.
२. संगीतकार वो हैं जिन्होंने तलत से उनका पहला गीत गवाया था.
३. मुखड़े में शब्द है -"जहर".

पिछली पहेली का परिणाम -
इंदु जी एक और सही जवाब, बधाई....आप यात्रा का आनंद लें और सकुशल लौटें....हम राह देखेंगें, ऐसा अपनों के साथ ही होता है न ?:)

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

indu puri said…
mohobbat turk ki maine ....jahar ye pi liya maine ''
film do raha (1952)
singer -talat mahmood
m.d. anil biswas
actor -shekhar,nalini jayawant,nimmi, k.n.singh
indu puri said…
answer ekdm sahi hai isme koi shq nahi jaldi me spelling mistake ho skti hai maafi ke laayak hai
kaho do poora gana likh bhejun ?
pr........ye kaam to PABLA BHAIYA HI BEHATAR KAR SKTE HAIN.
Veerji ! kahan hain aap ?

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया