Skip to main content

बहुत दिया देने वाले ने तुझको, आँचल ही न समाये तो क्या कीजै...कह तो दिया सब कुछ शैलेन्द्र ने और हम क्या कहें...

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 284

फ़िल्म संगीत के ख़ज़ाने में ऐसे अनगिनत लोकप्रिय गानें हैं जिन्होने बहुत जल्द लोकप्रियता तो हासिल कर ली, लेकिन एक समय के पश्चात कहीं अंधेरे में खो से गए। लेकिन समय समय पर कुछ ऐसे भी गानें बनें हैं जो जीवन की मह्त्वपूर्ण पहलुओं से हमें अवगत करवाते है। जीवन दर्शन और हमारे अस्तित्व के पीछे जो छुपे राज़ और फ़लसफ़ा हैं, उन्हे उजागर किया गया है ऐसे गीतों के माध्यम से। और इस तरह के गीत कभी भी अंधेरे में गुम नहीं हो सकते, बल्कि ये तो हमेशा हमारे साथ चलते हैं हमारे मार्गदर्शक बनकर। ये गीत किसी स्थान काल या पात्र के लिए नहीं होते, बल्कि हर युग में हर इंसान के लिए उतने ही सार्थक और लाभदायक होते हैं। गीतकार शैलेन्द्र एक ऐसे गीतकार रहे हैं जिन्होने इस तरह के दार्शनिक गीतों में जैसे जान डाल दी है। उनके लिखे सीधे सरल और हल्के फुल्के गीतों में भी ग़ौर करें तो कोई ना कोई दर्शन सामने आ ही जाता है। और कुछ गानें तो हैं ही पूरी तरह से दार्शनिक। आज हमने एक ऐसा ही गाना चुना है जिसे सुनकर हम सोचने पर मजबूर हो जाते हैं कि हमारे पास जो कुछ भी है उनसे हम क्यों नहीं संतुष्ट रहते? क्यों हमेशा एक असंतुष्टी हमें घेरे रहती है? शैलेन्द्र की कलम से निकली यह बेशकीमती मोती है "बहुत दिया देने वाले ने तुझको, आँचल ही ना समाए तो क्या कीजे, बीत गए जैसे ये दिन रैना, बाकी भी कट जाए दुआ कीजे"। मुकेश की आवाज़ में, रोशन के संगीत में यह है फ़िल्म 'सूरत और सीरत' की रचना। "सजन रे झूठ मत बोलो" गीत की तरह शैलेन्द्र ने इस गीत को भी उपदेशों की मोतियों से जड़े हैं।

'सूरत और सीरत' सन् १९६२ की फ़िल्म थी जिसका निर्देशन किया था रजनीश बहल ने। फ़िल्म के मुख्य कलाकार थे धर्मेन्द्र और नूतन। इस प्रस्तुत गीत को सुनते हुए आपको याद आ गई होगी 'करण अर्जुन' फ़िल्म का गीत "ये बंधन तो प्यार का बंधन है, ये जनमों का संगम है"। और क्यों ना आए, राजेश रोशन ने अपने पिता की बनाई धुन पर ही तो इस गीत को बनाया था! आज के प्रस्तुत गीत के इंटर्ल्युड में बांसुरी पर बजाया गया जो पीस है, वही तो है 'करण अर्जुन' फ़िल्म के उस गीत के मुखड़े की धुन। है ना? जहाँ तक शैलेन्द्र जी के लिखे इस गीत का सवाल है, जैसा कि हमने पहले कहा है किस इस गीत से यही शिक्षा मिलती है कि संतुष्टी ही जीवन में सुखी होने का मंत्र है, एक अंतरे में वो लिखते हैं, "जो भी दे दे मालिक तू कर ले क़बूल, कभी कभी काँटों में भी खिलते हैं फूल, वहाँ देर भले है अंधेर नहीं, घबरा के युं गिला मत कीजे, बहुत दिया देने वाले ने तुझको, आँचल ही ना समाए तो क्या कीजे"। दोस्तों, विविध भारती पर १९६६ में रोशन जी तशरीफ़ लाए थे फ़ौजी भाइयों के लिए जयमाला कार्यक्रम पेश करने हेतु। उस कार्यक्रम में उन्होने 'सूरत और सीरत' फ़िल्म के इस प्रस्तुत गीत को बजाया तो नहीं था, लेकिन इस गीत का और शैलेन्द्र जी का ज़िक्र उन्होने कुछ इस तरह से किया था - "ज़िंदगी से संगीत प्रभावित होता है और संगीत से ज़िंदगी। बदलते वक़्त के साथ साथ संगीत भी बदल रहा है। अब एक घटना याद आ रही है। फ़िल्म 'सूरत और सीरत' में मैं म्युज़िक दे रहा था। उस समय मैं अपनी उल्झनों में परेशान सा रहता था। तो शैलेन्द्र ने मेरी परेशानी देख कर कहा कि भगवान आदमी को कितना कुछ देता है पर इंसान कभी उसका शुक्रगुज़ार नहीं होता। यह कहकर वो गुमसुम से हो गए और फिर कुछ देर बाद कहा कि भगवान ने इंसान को कितना कुछ दिया, पर आँचल ही में ना समाए तो क्या किया जाए। 'सूरत और सीरत' में भी ऐसा ही एक गाने का सिचुयशन बना था।" दोस्तों, और ज़्यादा कुछ ना कहते हुए आपको सुनवा रहे हैं शैलेन्द्र-रोशन की यह अमर रचना।



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा अगला (अब तक के चार गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी (दो बार), स्वप्न मंजूषा जी, पूर्वी एस जी और पराग सांकला जी)"गेस्ट होस्ट".अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. शैलन्द्र ने इस गीत में बच्चे के बहलाने के बहाने भी कुछ गूढ़ बातें कही हैं.
२. आवाज़ है किशोर कुमार की.
३. एक अंतरे की तीसरी पंक्ति में शब्द है -"पेड़".

पिछली पहेली का परिणाम -
इंदु जी, आपका भी जवाब नहीं, मुश्किल से मुश्किल सवाल का भी आसानी से जवाब लेकर हाज़िर हो जाती हैं ३२ अंक हुए आपके, हमें यकीं है कि आपको कडा मुकाबला मिलेगा हमारे ३०१ वें एपिसोड से जब हमारे धुरंधर एक बार फिर लड़ेंगें खिताब के लिए नए सिरे से....तब तक तो आप जमे रहिये निर्विवाद मैदान में.

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

AVADH said…
munna bada pyara.
ammi ka dulara.
AVADH said…
गीत है : " मुन्ना बड़ा प्यारा, अम्मी का दुलारा,
कोई कहे चाँद, कोई आँख का तारा.
एक दिन वोह मान से बोला,
ह्यून फूंकती है चूल्हा,
अम्मी क्यों न रोटियों का पेड़ हम लगा लें,
आम तोड़ें रोटी तोड़ें, रोटी आम खा लें
काहे करे रोज़ रोज़ तू यह झमेला.
AVADH said…
क्षमा करें दो जल्दी में दो ग़लतियाँ रह गयीं.
गीत है : " मुन्ना बड़ा प्यारा, अम्मी का दुलारा,
कोई कहे चाँद, कोई आँख का तारा.
एक दिन वोह माँ से बोला,
क्यूँ फूंकती है चूल्हा,
अम्मी क्यों न रोटियों का पेड़ हम लगा लें,
आम तोड़ें रोटी तोड़ें, रोटी आम खा लें
काहे करे रोज़ रोज़ तू यह झमेला.
indu puri said…
chaliye aaj koi to aaya
hm to birthday party me dhoom mcha rahe the pr mn kahin kahin
aawaz ke aas paas bhatk rahaa tha ,
mujhe to bs ek hi film ka pata tha jisme kisho aur shailendraji sath the ,aur bhi ho skti hai pr mujhe honestly door gagan ki chhanw me ka hi pata tha
yani yun bhi haarte hi , avdhji bdhai
AVADH said…
धन्यवाद इंदु जी. मुझे विश्वास है कि जन्मदिन समारोह के कारण से ही आप को आने में विलम्ब हुआ जिसकी वजह से आज मुझे मौका मिल पाया. वर्ना जीत तो आपकी ही निश्चित थी. खैर एक बार तो अपन भी " खलीफा" बन गए. :-))

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया