Skip to main content

पूरी दुनिया को अपने ताल पर नचाने वाले इन गीतों के साथ मनाईये क्रिसमस और नववर्ष की खुशियाँ

दोस्तों कल है २५ दिसम्बर यानी प्रभु ईसा मसीह का जन्मदिन, जिसे पूरी दुनिया में क्रिसमस के रूप में मनाया जाता है. दूसरी तरफ वर्ष समाप्ति का भी समय है, नववर्ष के स्वागत का भी उल्लास है, ऐसे में हर कोई रोजमर्रा के ताम झाम से कुछ हद छुटकारा पाकर थोड़ी बहुत मस्ती और एन्जॉय करने के बहाने तलाश रहा है. आवाज़ तो हर हाल में आपका मीत ठहरा, तो हमने सोचा कि इन खुशियों भरी पार्टियों में आपके लिए कुछ ऐसे गीत चुन कर बजाये जाएँ, जो किसी देश, प्रदेश या भाषा की दीवारें लांग कर पूरी दुनिया पर कुछ ऐसे छा गए कि पीढ़ियों पीढयों तक लोग उन धुनों पर थिरकते पाए गए. कहते हैं संगीत की कोई भाषा नहीं होती, हमें यकीं है कि इन गीतों के शब्द आपको समझ आये या न आयें, इन्हें सुनकर आपका भी मन झूमने को कर उठेगा.

भारतीय मूल के अपेचे इंडियन सुदूर दक्षिण अमेरिका के निवासी जरूर हैं पर उनकी रगों में दौड़ता भारतीय संगीत ही आखिरकार उनकी पहचान बना. छोटे बाल, हलकी मूछें, कानों में कुंडल, रेग्गे और भांगड़ा का उपयुक्त मिश्रण और अप्पेचे बन गए अंतर्राष्ट्रीय सितारे, अपने एक गीत "चोक देयर" से, ९० के दशक में आया ये विडियो ARRANGED MARRIAGE के नाम से भी जाना जाता है, और उस दौर के लोगों को याद होगा इनमें भारतीय नृत्य करती एक महिला भी थी थी जो अप्पेचे के साथ थिरकी थीं, वाह क्या धूम मचाई थी इस जबरदस्त गीत ने, चलिए आप भी सुनकर देखें-

CHOK THERE (APPECHHE INDIAN)


डेनमार्क की इस गायिका ने रातों रात शोहरत की बुलंदियों को छु लिया अपने जबरदस्त गीत SATURDAY NIGHT से. इस महिला बैंड की मुखिया थी विग्फील्ड के नाम से मशहूर नान, जो एक सफल मॉडल भी थी. इस गीत का भी विडियो सनसनीखेज था. शायद ही किसी वीकेंड पार्टी में इस गीत को बजाया न जाता हो, तब भी और आज भी....लीजिये आप भी झूमिये.

SATURDAY NIGHT (WHIGHFIELD)


दुनिया भर में २० लाख से भी अधिक बिका ये गीत. पीटर आंद्रे ने इसे बनाया ऑस्ट्रेलिया में बैठकर, और इस गीत के बाद उन्हें दुनिया की बड़ी सेलेब्रिटियों में गिना जाने लगा, जी हाँ आपने सही पहचाना, मैं "मिस्टीरीयस गर्ल" की ही बात कर रहा हूँ, अब इस 'रहस्मयी लड़की' का रहस्य तो मोनोलिसा की मुस्कान की तरह रहस्य ही रहा पर गीत ने पूरी दुनिया में जबरदस्त धूम मचाई, सुनिए -

MYSTERIOUS GIRL (PETER ANDRE)


पार्टी गीतों का जिक्र छिड़े और इनकी चर्चा न हो संभव ही नहीं. होलैंड के इस ग्रुप ने पार्टी के दीवानों को एक से बढ़कर एक हिट गीत दिए. पर जो गीत भारत में सबसे अधिक चला वो है "ब्राज़ील", किसी भी देश के नाम पर बना ये शायद सबसे सफल गीत होगा, कहते हैं इस गीत ने ब्राज़ील के पर्यटन को जबदस्त बूम दिया. वेंगाबोय्स मुझे पता नहीं बोयस का ग्रुप था या इसमें लड़कियां भी थी, पर हाँ इनके गीतों का नशा आज भी सर चढ़ कर बोलता है, इसमें कोई शक नहीं, तो सुनिए और जम कर थिरकिये आज.

BRAZIL (VENGABOYS)


इस फनकार का जन्मदिन आज ही के दिन यानी २४ दिसम्बर १९७१ को हुआ, यानी आज रिकी मार्टिन नाम का ये फोनोमिना मना रहा है अपना जन्मदिन, लातिन अमेरिका में जन्में इस गायक/संगीतकार का गाया फ्रेंच (शायद) गीत. उ दोस थ्रेस...जिसका मतलब शायद एक दो तीन होता है, (याद कीजिये तेज़ाब का सुपर हिट गीत, उसके भी शब्द इसी गिनती से शुरू होते हैं), उसके बाद मार्टिन क्या बोलते हैं, कुछ समझ नहीं आता, पर संगीत ऐसा हो तो समझने की दरकार भी क्या है, वैसे इस गीत का एक अंग्रेजी संस्करण भी बना था जिसे FIFA में एंथम के रूप में इस्तेमाल किया गया था. ग्रेमी अवार्ड से सम्मानित रिकी मार्टिन को जन्मदिन की शुभकामनायें देते हुए आईये सुनें ये मस्त गीत

U DES TRES (RICKY MARTIN)


पेडर पेटरसन ने निर्देशित किया था इस गीत के विडियो को, YOU TUBE पर सबसे अधिक देखे गए विडियो का खिताब हासिल है, "एकुआ" के नाम से मशहूर इस बैंड का रचा ये गीत "बार्बी गर्ल" दुनिया भर में खूब सराहा गया, बच्चों में ये आज भी ख़ासा लोकप्रिय है. बुलाकर देखिये अपने नन्हें मुन्नों को कंप्यूटर के आगे और बजाइए ये गीत, देखिये जरूर खुश हो जायेगें...

BARBIE GIRL (AQUA)


इस्लामिक देश अल्जेरिया में जन्में गायक खालिद ने तमाम मुश्किलातों को दरकिनार कर विश्व संगीत में अपनी ख़ास पहचान बनायीं, नब्बे के दशक में आया इनका गीत "दीदी" भारत में इतना मशहूर हुआ कि जितना उन दिनों का कोई फ़िल्मी गीत भी नहीं हुआ था, जाहिर है बहुत से नकली संस्करण भी बने इस बेमिसाल गीत के, व्यक्तिगत तौर पर भी ये मुझे बहुत प्रिय है, इससे मेरी बचपन की ढेरों यादें जो जुडी हैं, अगर आपने पहले इसे नहीं सुना हो तो जरूर सुनिए, अजब सा सम्मोहन है इस संगीत में, और सेक्सोफोन का नशा कुछ ऐसा कि इंसान डूब सा जाता है-

DIDI (KHALID)


और अब अंत में एक ताज़ा तरीन गीत, जिसने वर्ल्ड वाईड हिट होने का खिताब अपने सर किया, मुझे गर्व है कि उसके रचेता मेरी मिटटी के सपूत जनाब ए आर रहमान साहब हैं, गीत को पहचानने का कोई इनाम नहीं मिलेगा, जी हाँ, गुलज़ार के लिखे जय हो के इस नारे ने दुनिया को हिला कर रख दिया, चलिए अब इस वर्ष के साथ साथ इस दशक को भी अलविदा कहने का समय करीब है, तो मिल कर एक सुर में क्यों न बोलें - जय हो हिंदी की, हिंदुस्तान की और हर हिन्दुस्तानी की...

JAI HO (A R RAHMAN/GULZAAR)


एक आलेख में सभी हिट गीतों को शामिल करना मुमकिन नहीं है, कुछ गीत जो झट से जेहन में आये उन्हें इस प्रस्तुति में शामिल कर लिया, वक़्त ने मौका दिया तो अगले साल इन्हीं समय के दौरान कुछ और ऐसे ही दुनिया भर में धूम मचाने वाले गीतों कि लड़ी बनाकर आपके लिए लायेगें हम....तब तक इस फेस्टिवल समय की खुशियों का आनंद लीजिये, झूमिये और नाचिये....

Comments

archana said…
"MERRY CHRISTMAS" And many-many THANKS 4
पूरी दुनिया को अपने ताल पर नचाने वाले इन गीतों के लिए .....!!!!!
archana said…
"MERRY CHRISTMAS" And many-many THANKS 4
पूरी दुनिया को अपने ताल पर नचाने वाले इन गीतों के लिए .....!!!!!
Mery Chrismas !!!
& Thanks for all wonderful work done throughout year!!

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बिलावल थाट के राग : SWARGOSHTHI – 215 : BILAWAL THAAT

स्वरगोष्ठी – 215 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 2 : बिलावल थाट 'तेरे सुर और मेरे गीत दोनों मिल कर बनेगी प्रीत...'   ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर जारी नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के दूसरे अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। इस लघु श्रृंखला में हम आपसे भारतीय संगीत के रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था पर चर्चा कर रहे हैं। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया था। व

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक