Skip to main content

रविवार सुबह की कॉफी और हिंदी सिनेमा में मुस्लिम समाज के चित्रण पर एक चर्चा

भारतीय फिल्म जगत में समय समय पर कई प्रकार के दौर आये हैं. और इन्ही विशेष दौर से मुड़ते हुए भारतीय सिनेमा भी चल्रता रहा कभी पथरीली सड़क की तरह कम बजट वाली फ़िल्में तो कभी गृहस्थी में फसे दांपत्य जीवन को निशाना बनाया गया, लेकिन हर दौर में जो भी फ़िल्में बनीं हर एक फिल्म किसी न किसी रूप से किसी न किसी संस्कृति से जुड़ीं रहीं. जैसे बैजू बावरा (१९५२) को लें तो इस फिल्म में नायक नायिका के बीच प्रेम कहानी के साथ साथ एतिहासिक पृष्ठभूमि, गुरु शिष्य के सम्बन्ध, संगीत की महिमा का गुणगान भी किया गया है. भारतीय फिल्मों में एक ख़ास समाज या धर्म को लेकर भी फ़िल्में बनती रहीं और कामयाब भी होती रहीं. भारत बेशक हिन्दू राष्ट्र है लेकिन यहाँ और धर्मों की गिनती कम नहीं है. अपनी भाषा शैली, संस्कृति और रीति रिवाजों से मुस्लिम समाज एक अलग ही पहचान रखता है. भारतीय सिनेमा भी इस समाज से अछूता नहीं रहा और समय समय पर इस समाज पर कभी इसकी भाषा शैली, संस्कृति और कभी रीति रिवाजों को लेकर फ़िल्में बनीं और समाज को एक नयी दिशा दी. सिनेमा जब से शुरू हुआ तब से ही निर्माताओं को इस समाज ने आकर्षित किया और इसकी शुरुआत ३० के दशक में ही शुरू हो गयी ४० के दशक में शाहजहाँ १९४६ और ५० एवं ६० के दशक में अनारकली (१९५३), मुमताज़ महल (१९५७), मुग़ल ए आज़म (१९६०), चौदहवीं का चाँद (१९६०), छोटे नवाब (१९६१), मेरे महबूब (१९६३), बेनजीर (१९६४), ग़ज़ल (१९६४), पालकी (१९६७), बहु बेगम (१९६७) आदि फ़िल्में बनीं. उस दौर में जो भी इस समाज को लेकर फ़िल्में आयीं ज्यादातर एतिहासिक ही थीं. इस प्रकार की फिल्मों में ख़ास संगीत और ख़ालिश इसी समाज की भाषा प्रयोग की जाती थी. फिल्मांकन और कलाकारों के हाव भाव से ही इनको पहचान लिया जाता है.

संगीत की द्रष्टि से देखा जाए तो इनका संगीत भी दिल को छू लेने वाला बनाया जाता था. जिसके माहिर नौशाद अली साहब थे. कौन भूल सकता है "ये जिंदगी उसी की है जो किसी का हो लिया (अनारकली १९५३), प्यार किया तो डरना क्या, जब प्यार किया तो डरना क्या, ये दिल की लगी कम क्या होगी (मुग़ल ए आज़म, १९६०), रंग और नूर की बारात किसे पेश करूँ (ग़ज़ल १९६४) हम इंतज़ार करेंगे क़यामत तक, खुदा करे के क़यामत हो और तू आये (बहु बेगम, १९६७) ये कुछ वो झलकियाँ थीं जो इस समाज के संगीत की छाप दिल ओ दिमाग पर छोडती है….

गीत : ये जिंदगी उसी की है जो किसी का हो गया - लता मंगेशकर - अनारकली -१९५३



थोडा आगे चलकर ७० और ८० के दशक में इस समाज की फिल्मों में कुछ बदलाव ज़रूर आये लेकिन भाषा शैली और संस्कृति अब भी वही रही. इस दशक ने इस समाज के परदे को हटाकर कोठो पर ला खड़ा किया. अब नवाब या सामंती स्वामी पान चबाते हुए अपना धन कोठो पर नाचने वाली तवायफों पर लुटाते नज़र आते हैं. उमराव जान (१९८२) और पाकीज़ा (१९७२) ने इस समाज की शकल ही बदलकर रख दी. लेकिन भाषा शैली और संस्कृति से इस दौर में कोई छेड़छाड़ नहीं की गयी. ७० के दशक से ही समानांतर सिनेमा की शुरुआत हुयी तो इससे ये समाज भी अछूता नहीं रहा और एलान (१९७१) और सलीम लंगड़े पर मत रो (१९९०) जैसी फ़िल्में आई. सलीम लंगड़े पर मत रो (१९९०) निम्न मध्य वर्गीय युवाओं की अच्छी समीक्षा करती है. गरम हवा (१९७३) उस दौर की एक और उत्तम फिल्मों की श्रेणी में खड़ी हो सकती है जो विभाजन के वक़्त लगे ज़ख्मों को कुरेदती है.

इस दौर की दो इसी समाज पर बनी फ़िल्में जो इस पूरे समाज की फिल्मों का प्रतिनिधित्व करती है एक निकाह (१९८२) और बाज़ार (१९८२). एक तरफ निकाह (१९८२) में जहाँ मुस्लिम समाज में प्रचलित तलाक शब्द पर वार किया गया है तो वहीँ दूसरी तरफ बाज़ार (१९८२) में एक नाबालिग लड़की को एक ज्यादा उम्र के व्यक्ति के साथ शादी की कहानी है. यहाँ हम बताते चलें कि उमराव जान १९०५ में मिर्ज़ा रुसवा नामक उपन्यास पर आधारित थी. ७० के दशक में कुछ फिल्मों में एक समाज के किरदार भी डाले गए और वो किरदार भी खूब चले यहाँ तक के फिल्म को नया मोड़ देने के लिए काफी थे. मुक़द्दर का सिकंदर (१९७८) में जोहरा बाई और शोले (१९७५) में रहीम चाचा इसके अच्छे उदाहरण हो सकते हैं. अलीगढ कट शेरवानी, मुंह में पान चबाते हुए, जुबां पर अल्लामा इकबाल या मिर्ज़ा ग़ालिब कि ग़ज़ल गुनगुनाते हुए एक अलग ही अंदाज़ में चलना तो बताने की ज़रुरत नहीं थी के ये किरदार किस समाज से ताल्लुक रखता है. घर कि औरतें या तो पारंपरिक बुर्के मैं या फिर भारी बर्कम लहंगा और घाघरा पहने नज़र आती हैं. बड़ी उमर की औरतें जैसे अम्मीजान नमाज़ में मशगूल होती हैं या फिर पान चबाते हुए घमंडी तरीके की चाल में जब दरवाजे का पर्दा उठाते हुए बाहर आती हैं तो दर्शक समझ जाते हैं कि ये वक़्त ग़ज़ल का आ पहुंचा है जो मुजरे की शक्ल में होगा.

गीत : चलते चलते यूंही कोई मिल गया था - लता मंगेशकर - पाकीज़ा - १९७२


८० के दशक का अंत होते होते और ९० के दशक कि शुरुआत में इस समाज कि फिल्मों का चेहरा पूरी तरह से बदल चुका था. अब जो किरदार पहले रहीम चाचा कि शकल में डाले जाते थे अब वो तस्कर बन चुके हैं.फिल्म अंगार (१९८०) को हम उदाहरण के लिए ले सकते हैं. जहाँ एक तरफ खालिश इस समाज के प्रति समर्पित फ़िल्में बनी तो वहीँ दूसरी तरफ हिन्दू मुस्लिम के मिलाने के लिए भी इस समाज कि फिल्मों का सहारा लिया गया. याद दिला दूं ६० के दशक का वो गीत 'तू हिन्दू बनेगा न मुसलमान बनेगा, इंसान कि औलाद है इंसान बनेगा' इसका अच्छा खाका खीचता है. इस प्रकार कि श्रेणी में ईमान धरम (१९७७), क्रांतिवीर (१९९४) आदि को ले सकते हैं. ९० से अब तक इस समाज का दूसरा रूप ही सामने आया है जिसे आतंकवाद का नाम दिया गया है. इस तर्ज़ पर भी अनगिनत फ़िल्में बनीं और बन रहीं है कुछ के नाम लें तो सरफ़रोश (१९९९), माँ तुझे सलाम , पुकार (२०००), फिजा (२०००), मिशन कश्मीर (२०००), के नाम लिए जा सकते हैं. छोटे छोटे घरों से गाँव बनता है, छोटे छोटे गाँवों से जिला और स्टेट बनकर देश बनता है. इसी प्रकार छोटे छोटे समाजों और संस्कृतियों से सम्पूर्ण भारतीय संस्कृति बनी हुई है. लेकिन इतना तो तय है के समाज कोई भी हो संस्कृति कोई भी हो, भारतीय समाज अपने आप में एक सम्पूर्ण समाज और संस्कृति है जिसमे न कुछ जोड़ा जा सकता है और न कुछ निकाला जा सकता है.

गीत : तू हिन्दू बनेगा न मुसलमान बनेगा इंसान की औलाद है इंसान बनेगा - मोहम्मद रफ़ी - धूल का फूल - १९५९


प्रस्तुति- मुवीन



"रविवार सुबह की कॉफी और कुछ दुर्लभ गीत" एक शृंखला है कुछ बेहद दुर्लभ गीतों के संकलन की. कुछ ऐसे गीत जो अमूमन कहीं सुनने को नहीं मिलते, या फिर ऐसे गीत जिन्हें पर्याप्त प्रचार नहीं मिल पाया और अच्छे होने के बावजूद एक बड़े श्रोता वर्ग तक वो नहीं पहुँच पाया. ये गीत नए भी हो सकते हैं और पुराने भी. आवाज़ के बहुत से ऐसे नियमित श्रोता हैं जो न सिर्फ संगीत प्रेमी हैं बल्कि उनके पास अपने पसंदीदा संगीत का एक विशाल खजाना भी उपलब्ध है. इस स्तम्भ के माध्यम से हम उनका परिचय आप सब से करवाते रहेंगें. और सुनवाते रहेंगें उनके संकलन के वो अनूठे गीत. यदि आपके पास भी हैं कुछ ऐसे अनमोल गीत और उन्हें आप अपने जैसे अन्य संगीत प्रेमियों के साथ बाँटना चाहते हैं, तो हमें लिखिए. यदि कोई ख़ास गीत ऐसा है जिसे आप ढूंढ रहे हैं तो उनकी फरमाईश भी यहाँ रख सकते हैं. हो सकता है किसी रसिक के पास वो गीत हो जिसे आप खोज रहे हों.

Comments

mehboob kii mehndi is another good movie in this category

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया