Skip to main content

कुहु कुहु बोले कोयलिया... चार रागों में गुंथा एक अनूठा गीत

ओल्ड इस गोल्ड शृंखला # 296

ल्ड इज़ गोल्ड' पर जारी है फ़रमाइशी गीतों का कारवाँ। पराग सांकला के बाद दूसरी बार बने पहेली प्रतियोगिता के विजेयता शरद तैलंग जी के पसंद के पाँच गानें आज से आप सुनेंगे बैक टू बैक इस महफ़िल में। शुरुआत हो रही है एक बड़े ही सुरीले गीत के साथ। यह एक बहुत ही ख़ास गीत है फ़िल्म संगीत के इतिहास का। ख़ास इसलिए कि इसके संगीतकार की पहचान ही है यह गीत, और इसलिए भी कि शास्त्रीय संगीत पर आधारित बनने वाले गीतों की श्रेणी में इस गीत को बहुत ऊँचा दर्जा दिया जाता है। हम आज बात कर रहे हैं १९५८ की फ़िल्म 'सुवर्ण सुंदरी' का गीत "कुहु कुहु बोले कोयलिया" की जिसके संगीतकार हैं आदिनारायण राव। लता जी और रफ़ी साहब की जुगलबंदी का शायद यह सब से बेहतरीन उदाहरण है। लता जी और रफ़ी साहब भले ही फ़िल्मी गायक रहे हों, लेकिन शास्त्रीय संगीत में भी उनकी पकड़ उतनी ही मज़बूत थी (है)। प्रस्तुत गीत की खासियत यह है कि यह गीत चार रागों पर आधारित है। गीत सोहनी राग से शुरु होकर बहार और जौनपुरी होते हुए यमन राग पर जाकर पूर्णता को प्राप्त करता है। भरत व्यास ने इस फ़िल्म के गानें लिखे थे। बसंत ऋतु की रंगीन छटा को संगीत के माध्यम से किस तरह से ना केवल कानोँ में बल्कि आँखों के सामने प्रस्तुत किया जा सकता है, यह भरत व्यास और आदिनारायण राव इस गीत के ज़रिए हमें समझा गए हैं। जिन चार रागों का ज़िक्र हमने किया, आइए अब आपको बताएँ कि गीत का कौन सा हिस्सा किस राग पर आधारित है।

सोहनी - कुहु कुहु बोले कोयलिया......
बहार - काहे घटा में बिजुरी चमके........
जौनपुरी - चन्द्रिका देख छाई........

यमन - सरस रात मन भाए प्रीयतमा........

१९५८ में दक्षिण के जिन संगीतकारों ने हिंदी फ़िल्मों में संगीत दिया था वो हैं जी. रामनाथन (सितमगर), एम. आर. सुदर्शनम (मतवाला), एस. राजेश्वर राव (अलादिन का चिराग़), टी. जी. लिंगप्पा (सुहाग) और आदिनारायण राव (सुवर्ण सुंदरी)। कहने की ज़रूरत नहीं कि इनमें से सुवर्ण सुंदरी का संगीत ही अमर हुआ। आदिनारायण राव का जन्म काकीनाड़ा में १९१५ में हुआ था। उन्हे शास्त्रीय संगीत की तालीम पत्रायणी सिताराम शास्त्री से प्राप्त की। माध्यमिक परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद १२ वर्ष की आयु में उन्होने एक संगीतकार और प्ले-राइटर के रूप में काम करना शुरु किया। वरिष्ठ फ़िल्मकार बी. वी. रामानंदन ने उन्हे उनका पहला फ़िल्मी ब्रेक दिया। यह फ़िल्म थी १९४६ की 'वरुधिनी'। १९४९ में आदिनारायण राव ने अक्किनेनी नागेश्वर राव और मेक-अप आर्टिस्ट के. गोपाल राव के साथ मिलकर 'अश्विनी पिक्चर्स' का गठन किया। १९५१ में उन्होने यह बैनर छोड़ दिया और अपनी निजी प्रोडक्शन कंपनी 'अंजली पिक्चर्स' की स्थापना की। उनके संगीत में अनारकली (तमिल, १९५५) और सुवर्ण सुंदरी (१९५८) ने उन्हे बेहद शोहरत दिलाई। सुवर्ण सुंदरी ही वह फ़िल्म है जिसकी वजह से आज भी लोग उन्हे याद करते हैं। इस फ़िल्म की नायिका थी आदिनारायण जी की पत्नी अंजली देवी (जिनके नाम पर उनका बैनर था), और साथ में थे नागेश्वर राव, बी. सरोजा देवी, श्यामा और कुमकुम। इन सब जानकारियों के बाद आइए अब इस मीठे सुरीले गीत का आनंद उठाया जाए। इस गीत को सुन कर आप बिल्कुल फ़्रेश हो जाएँगे ऐसा हमारा अनुमान है, सुनिए!



और अब बूझिये ये पहेली. अंदाजा लगाइये कि हमारा अगला "ओल्ड इस गोल्ड" गीत कौन सा है. हम आपको देंगे तीन सूत्र उस गीत से जुड़े. ये परीक्षा है आपके फ़िल्म संगीत ज्ञान की. याद रहे सबसे पहले सही जवाब देने वाले विजेता को मिलेंगें 2 अंक और 25 सही जवाबों के बाद आपको मिलेगा मौका अपनी पसंद के 5 गीतों को पेश करने का ओल्ड इस गोल्ड पर सुजॉय के साथ. देखते हैं कौन बनेगा हमारा अगला (अब तक के चार गेस्ट होस्ट बने हैं शरद तैलंग जी (दो बार), स्वप्न मंजूषा जी, पूर्वी एस जी और पराग सांकला जी)"गेस्ट होस्ट".अगले गीत के लिए आपके तीन सूत्र ये हैं-

१. राज कपूर अभिनीत फिल्म का है ये युगल गीत.
२. इस फिल्म के शीर्षक गीत के लिए शैलेन्द्र को फिल्म फेयर प्राप्त हुआ था.
३. एक अंतरा शुरू होता है इस शब्द से -"क्यों".

पिछली पहेली का परिणाम -
इंदु जी इस बार बहुत से क्लू देने पड़े आपको, पर जवाब आपका ही आया, तो बधाई स्वीकार करें

खोज व आलेख- सुजॉय चटर्जी


ओल्ड इस गोल्ड यानी जो पुराना है वो सोना है, ये कहावत किसी अन्य सन्दर्भ में सही हो या न हो, हिन्दी फ़िल्म संगीत के विषय में एकदम सटीक है. ये शृंखला एक कोशिश है उन अनमोल मोतियों को एक माला में पिरोने की. रोज शाम 6-7 के बीच आवाज़ पर हम आपको सुनवाते हैं, गुज़रे दिनों का एक चुनिंदा गीत और थोडी बहुत चर्चा भी करेंगे उस ख़ास गीत से जुड़ी हुई कुछ बातों की. यहाँ आपके होस्ट होंगे आवाज़ के बहुत पुराने साथी और संगीत सफर के हमसफ़र सुजॉय चटर्जी. तो रोज शाम अवश्य पधारें आवाज़ की इस महफिल में और सुनें कुछ बेमिसाल सदाबहार नग्में.

Comments

इस गीत के लिए धन्यवाद.
indu puri said…
filmANARI
SHAILENDRA WON F,F,AWARD FOR 'sb kuchh sikha hmne na sikhi hoshiya ri
answer kyo bekhabr yun khichi ja rhi main.......dil ki nazar se
singer- lata-mukesh
shehs PABLA BHAIYA BTAYENGE
indu puri said…
sujoy !
ittaaaaaaaa jhuuuuuuuth?
kewal ek klu diya tha tumne
ab paper itta kathin ho aur student 'bhaunt' buddhi ka ho to klu to dena hi padta hai na ,
schch ya jhooth ?
chlo is baat pr hans do.
o.k.
इस सुन्दर गीत के लिये धन्यवाद्

Popular posts from this blog

चित्रकथा - 71: हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2)

अंक - 71 हिन्दी फ़िल्मों में नाग-नागिन (भाग - 2) "मैं नागन तू सपेरा..."  रेडियो प्लेबैक इंडिया’ के साप्ताहिक स्तंभ ’चित्रकथा’ में आप सभी का स्वागत है। भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन शुरू से ही एक आकर्षक शैली (genre) रही है। सांपों को आधार बना कर लगभग सभी भारतीय भाषाओं में फ़िल्में बनी हैं। सिर्फ़ भारतीय ही क्यों, विदेशों में भी सांपों पर बनने वाली फ़िल्मों की संख्या कम नहीं है। जहाँ एक तरफ़ सांपों पर बनने वाली विदेशी फ़िल्मों को हॉरर श्रेणी में डाल दिया गया है, वहीं भारतीय फ़िल्मों में नाग-नागिन को कभी पौराणिक कहानियों के रूप में, कभी सस्पेन्स युक्त नाटकीय शैली में, तो कभी नागिन के बदले की भावना वाली कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है जिन्हें जनता ने ख़ूब पसन्द किया। हिन्दी फ़िल्मों के इतिहास के पहले दौर से ही इस शैली की शुरुआत हो गई थी। तब से लेकर पिछले दशक तक लगातार नाग-नागिन पर फ़िल्में बनती चली आई हैं। ’चित्रकथा’ के पिछले अंक में नाग-नागिन की कहानियों, पार्श्व या संदर्भ पर बनने वाली फ़िल्मों पर नज़र डालते हुए हम पहुँच गए थे 60 के दशक के अन्त तक।

बोलती कहानियाँ - मेले का ऊँट - बालमुकुन्द गुप्त

 'बोलती कहानियाँ' स्तम्भ के अंतर्गत हम आपको सुनवा रहे हैं प्रसिद्ध कहानियाँ। पिछले सप्ताह आपने  रीतेश खरे "सब्र जबलपुरी" की आवाज़ में निर्मल वर्मा की डायरी ' धुंध से उठती धुंध ' का अंश " क्या वे उन्हें भूल सकती हैं का पॉडकास्ट सुना था। आज हम आपकी सेवा में प्रस्तुत कर रहे हैं बालमुकुन्द गुप्त का व्यंग्य " मेले का ऊँट , जिसको स्वर दिया है अर्चना चावजी ने। इस प्रसारण का कुल समय 7 मिनट 33 सेकंड है। सुनें और बतायें कि हम अपने इस प्रयास में कितना सफल हुए हैं। यदि आप भी अपनी मनपसंद कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, धारावाहिको, प्रहसनों, झलकियों, एकांकियों, लघुकथाओं को अपनी आवाज़ देना चाहते हैं तो अधिक जानकारी के लिए कृपया admin@radioplaybackindia.com पर सम्पर्क करें। समझ इस बात को नादां जो तुम में कुछ भी गैरत हो, न कर उस काम को हरगिज कि जिसमें तुझको जिल्लत हो।  ~  "बालमुकुन्द गुप्त" (1865 - 1907) हर शुक्रवार को यहीं पर सुनें एक नयी कहानी न जाने आप घर से खाकर गये थे या नहीं ... ( बालमुकुन्द गुप्त की "मेले का ऊँट" से एक

कल्याण थाट के राग : SWARGOSHTHI – 214 : KALYAN THAAT

स्वरगोष्ठी – 214 में आज दस थाट, दस राग और दस गीत – 1 : कल्याण थाट राग यमन की बन्दिश- ‘ऐसो सुघर सुघरवा बालम...’  ‘रेडियो प्लेबैक इण्डिया’ के साप्ताहिक स्तम्भ ‘स्वरगोष्ठी’ के मंच पर आज से आरम्भ एक नई लघु श्रृंखला ‘दस थाट, दस राग और दस गीत’ के प्रथम अंक में मैं कृष्णमोहन मिश्र, आप सब संगीत-प्रेमियों का हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज से हम एक नई लघु श्रृंखला आरम्भ कर रहे हैं। भारतीय संगीत के अन्तर्गत आने वाले रागों का वर्गीकरण करने के लिए मेल अथवा थाट व्यवस्था है। भारतीय संगीत में 7 शुद्ध, 4 कोमल और 1 तीव्र, अर्थात कुल 12 स्वरों का प्रयोग होता है। एक राग की रचना के लिए उपरोक्त 12 स्वरों में से कम से कम 5 स्वरों का होना आवश्यक है। संगीत में थाट रागों के वर्गीकरण की पद्धति है। सप्तक के 12 स्वरों में से क्रमानुसार 7 मुख्य स्वरों के समुदाय को थाट कहते हैं। थाट को मेल भी कहा जाता है। दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति में 72 मेल प्रचलित हैं, जबकि उत्तर भारतीय संगीत पद्धति में 10 थाट का प्रयोग किया जाता है। इसका प्रचलन पण्डित विष्णु नारायण भातखण्डे जी ने प्रारम्भ किया